Tuesday , August 3 2021

Poetry Types Mitti

Char Tinke Utha Ke Jangal Se..

Char Tinke Utha Ke Jangal Se.. { Khana-Ba-Dosh – Gulzar Nazm } !

Char tinke utha ke jangal se
Ek baali anaj ki le kar
Chand qatre bilakte ashkon ke
Chand faqe bujhe hue lab par
Mutthi bhar apni qabr ki mitti
Mutthi bhar aarzuon ka gara
Ek tamir ki, liye hasrat
Tera khana-ba-dosh be-chaara
Shehar mein dar-ba-dar bhatakta hai

Tera kandha mile to sar tekun. !! -Gulzar Nazm

चार तिनके उठा के जंगल से
एक बाली अनाज की ले कर
चंद क़तरे बिलकते अश्कों के
चंद फ़ाक़े बुझे हुए लब पर
मुट्ठी भर अपनी क़ब्र की मिट्टी
मुट्ठी भर आरज़ूओं का गारा
एक तामीर की, लिए हसरत
तेरा ख़ाना-ब-दोश बे-चारा
शहर में दर-ब-दर भटकता है

तेरा कांधा मिले तो सर टेकूँ !! -गुलज़ार नज़्म

 

Pompiye Dafan Tha Sadiyon Se Jahan..

Pompiye Dafan Tha Sadiyon Se Jahan.. { Pompiye – Gulzar Nazm } !

Pompiye dafan tha sadiyon se jahan
Ek tahzib thi poshida wahan
Shehar khoda to tawarikh ke tukde nikle.

Dheron pathraaye hue waqt ke safhon ko ulat kar dekha
Ek bhooli hui tahzib ke purze se bichhe the har-su
Munjamid laave mein akde hue insanon ke guchchhe the wahan
Aag aur laave se ghabra ke jo lipte honge.

Wahi matke, wahi handi, wahi tute piyale
Honth tute hue, latki hui mitti ki zabanen har-su
Bhukh us waqt bhi thi, pyas bhi thi, pet bhi tha.

Hukmaranon ke mahal, un ki fasilen, sikke
Raij-ul-waqt jo hathiyar the aur un ke daste
Bediyan pattharon ki, aahani, pairon ke kade
Aur ghulamon ko jahan bandh ke rakhte the
Wo pinjre bhi bahut se nikle.

Ek tahzib yahan dafan hai aur us ke qarib
Ek tahzib rawaan hai,
Jo mere waqt ki hai.

Hukmaran bhi hain, mahal bhi hain, faslen bhi hain
Jel-khane bhi hain aur gas ke chamber bhi hain
Hiroshima pe kitaben bhi saja rakhi hain
Bediyan aahani hathkadiyan bhi steel ki hain
Aur ghulamon ko bhi aazadi hai, bandha nahi jaata.

Meri tahzib ne kitni taraqqi kar li hai. !! -Gulzar Nazm

पोम्पिये दफ़्न था सदियों से जहाँ
एक तहज़ीब थी पोशीदा वहाँ
शहर खोदा तो तवारीख़ के टुकड़े निकले

ढेरों पथराए हुए वक़्त के सफ़्हों को उलट कर देखा
एक भूली हुई तहज़ीब के पुर्ज़े से बिछे थे हर-सू
मुंजमिद लावे में अकड़े हुए इंसानों के गुच्छे थे वहाँ
आग और लावे से घबरा के जो लिपटे होंगे

वही मटके, वही हांडी, वही टूटे प्याले
होंट टूटे हुए, लटकी हुई मिट्टी की ज़बानें हर-सू
भूख उस वक़्त भी थी, प्यास भी थी, पेट भी था

हुक्मरानों के महल, उन की फ़सीलें, सिक्के
राइज-उल-वक़्त जो हथियार थे और उन के दस्ते
बेड़ियाँ पत्थरों की, आहनी, पैरों के कड़े
और ग़ुलामों को जहाँ बाँध के रखते थे
वो पिंजरे भी बहुत से निकले

एक तहज़ीब यहाँ दफ़्न है और उस के क़रीब
एक तहज़ीब रवाँ है,
जो मेरे वक़्त की है

हुक्मराँ भी हैं, महल भी हैं, फ़सलें भी हैं
जेल-ख़ाने भी हैं और गैस के चेम्बर भी हैं
हीरोशीमा पे किताबें भी सजा रक्खी हैं
बेड़ियाँ आहनी हथकड़ियाँ भी स्टील की हैं
और ग़ुलामों को भी आज़ादी है, बाँधा नहीं जाता

मेरी तहज़ीब ने अब कितनी तरक़्क़ी की है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Ruh Dekhi Hai Kabhi..

Ruh Dekhi Hai Kabhi.. Gulzar Nazm !

Ruh dekhi hai ?
Kabhi ruh ko mahsus kiya hai ?
Jagte jite hue dudhiya kohre se lipat kar
Sans lete hue us kohre ko mahsus kiya hai ?

Ya shikare mein kisi jhil pe jab raat basar ho
Aur pani ke chhpakon mein baja karti hain tullian
Subkiyan leti hawaon ke bhi bain sune hain ?

Chaudhwin-raat ke barfab se ek chaand ko jab
Dher se saye pakadne ke liye bhagte hain
Tum ne sahil pe khade girje ki diwar se lag kar
Apni gahnati hui kokh ko mahsus kiya hai ?

Jism sau bar jale tab bhi wahi mitti hai
Ruh ek bar jalegi to wo kundan hogi
Ruh dekhi hai, kabhi ruh ko mahsus kiya hai ?? -Gulzar Nazm

रूह देखी है ?
कभी रूह को महसूस किया है ?
जागते जीते हुए दूधिया कोहरे से लिपट कर
साँस लेते हुए उस कोहरे को महसूस किया है ?

या शिकारे में किसी झील पे जब रात बसर हो
और पानी के छपाकों में बजा करती हैं टुल्लियाँ
सुबकियाँ लेती हवाओं के भी बैन सुने हैं ?

चौदहवीं-रात के बर्फ़ाब से इक चाँद को जब
ढेर से साए पकड़ने के लिए भागते हैं
तुम ने साहिल पे खड़े गिरजे की दीवार से लग कर
अपनी गहनाती हुई कोख को महसूस किया है ?

जिस्म सौ बार जले तब भी वही मिट्टी है
रूह इक बार जलेगी तो वो कुंदन होगी
रूह देखी है, कभी रूह को महसूस किया है ?? -गुलज़ार नज़्म

 

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen..

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen.. Gulzar Poetry !

Zikr aaye to mere lab se duaen niklen,
Shama jalti hai to lazim hai shuaen niklen.

Waqt ki zarb se kat jate hain sab ke sine,
Chaand ka chhalka utar jaye to qashen niklen.

Dafn ho jayen ki zarkhez zameen lagti hai,
Kal isi mitti se shayad meri shakhen niklen.

Chand ummiden nichodi thin to aahen tapkin,
Dil ko pighlaen to ho sakta hai sansen niklen.

Gaar ke munh pe rakha rahne do sang-e-khurshid,
Gaar mein haath na dalo kahin raaten niklen. !! -Gulzar Poetry

ज़िक्र आए तो मेरे लब से दुआएँ निकलें,
शमा जलती है तो लाज़िम है शुआएँ निकलें !

वक़्त की ज़र्ब से कट जाते हैं सब के सीने,
चाँद का छलका उतर जाए तो क़ाशें निकलें !

दफ़्न हो जाएँ कि ज़रख़ेज़ ज़मीं लगती है,
कल इसी मिट्टी से शायद मेरी शाख़ें निकलें !

चंद उम्मीदें निचोड़ी थीं तो आहें टपकीं,
दिल को पिघलाएँ तो हो सकता है साँसें निकलें !

ग़ार के मुँह पे रखा रहने दो संग-ए-ख़ुर्शीद,
ग़ार में हाथ न डालो कहीं रातें निकलें !! -गुलज़ार कविता

 

Ruke Ruke Se Qadam Ruk Ke Bar Bar Chale..

Ruke Ruke Se Qadam Ruk Ke Bar Bar Chale.. Gulzar Poetry !

Ruke ruke se Qadam ruk ke bar bar chale,
Qarar de ke tere dar se be-qarar chale.

Uthaye phirte the ehsan jism ka jaan par,
Chale jahan se to ye pairahan utar chale.

Na jane kaun si mitti watan ki mitti thi,
Nazar mein dhul jigar mein liye ghubar chale.

Sahar na aayi kai bar nind se jage,
Thi raat raat ki ye zindagi guzar chale.

Mili hai shama se ye rasm-e-ashiqi hum ko,
Gunah haath pe le kar gunahgar chale. !! -Gulzar Poetry

रुके रुके से क़दम रुक के बार बार चले,
क़रार दे के तेरे दर से बे-क़रार चले !

उठाए फिरते थे एहसान जिस्म का जाँ पर,
चले जहाँ से तो ये पैरहन उतार चले !

न जाने कौन सी मिट्टी वतन की मिट्टी थी,
नज़र में धूल जिगर में लिए ग़ुबार चले !

सहर न आई कई बार नींद से जागे,
थी रात रात की ये ज़िंदगी गुज़ार चले !

मिली है शमा से ये रस्म-ए-आशिक़ी हम को,
गुनाह हाथ पे ले कर गुनाहगार चले !! -गुलज़ार कविता

 

Phool Ne Tahni Se Udne Ki Koshish Ki..

Phool Ne Tahni Se Udne Ki Koshish Ki.. Gulzar Poetry !

Phool ne tahni se udne ki koshish ki,
Ek tair ka dil rakhne ki koshish ki.

Kal phir chaand ka khanjar ghonp ke sine mein,
Raat ne meri jaan lene ki koshish ki.

Koi na koi rahbar rasta kat gaya,
Jab bhi apni rah chalne ki koshish ki.

Kitni lambi khamoshi se guzra hun,
Un se kitna kuch kahne ki koshish ki.

Ek hi khwaab ne sari raat jagaya hai,
Main ne har karwat sone ki koshish ki.

Ek sitara jaldi jaldi dub gaya,
Main ne jab tare ginne ki koshish ki.

Naam mera tha aur pata apne ghar ka,
Us ne mujh ko khat likhne ki koshish ki.

Ek dhuen ka marghola sa nikla hai,
Mitti mein jab dil bone ki koshish ki. !! -Gulzar Poetry

फूल ने टहनी से उड़ने की कोशिश की,
एक ताइर का दिल रखने की कोशिश की !

कल फिर चाँद का ख़ंजर घोंप के सीने में,
रात ने मेरी जाँ लेने की कोशिश की !

कोई न कोई रहबर रस्ता काट गया,
जब भी अपनी रह चलने की कोशिश की !

कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ,
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की !

एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है,
मैं ने हर करवट सोने की कोशिश की !

एक सितारा जल्दी जल्दी डूब गया,
मैं ने जब तारे गिनने की कोशिश की !

नाम मेरा था और पता अपने घर का,
उस ने मुझ को ख़त लिखने की कोशिश की !

एक धुएँ का मर्ग़ोला सा निकला है,
मिट्टी में जब दिल बोने की कोशिश की !! -गुलज़ार कविता

 

Sawal Ghar Nahi Buniyad Par Uthaya Hai..

Sawal Ghar Nahi Buniyad Par Uthaya Hai.. Rahat Indori Shayari !

Sawal ghar nahi buniyad par uthaya hai,
Hamare panv ki mitti ne sar uthaya hai.

Hamesha sar pe rahi ek chatan rishton ki,
Ye bojh wo hai jise umar bhar uthaya hai.

Meri ghulail ke patthar ka kaar nama tha,
Magar ye kaun hai jis ne samar uthaya hai.

Yahi zameen mein dabayega ek din hum ko,
Ye aasman jise dosh par uthaya hai.

Bulandiyon ko pata chal gaya ki phir main ne,
Hawa ka tuta hua ek par uthaya hai.

Maha bali se baghawat bahut zaruri hai,
Qadam ye hum ne soch samajh kar uthaya hai. !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Tumhare Naam Par Main Ne Har Aafat Sar Pe Rakkhi Thi..

Tumhare Naam Par Main Ne Har Aafat Sar Pe Rakkhi Thi.. Rahat Indori Shayari !

Tumhare naam par main ne har aafat sar pe rakkhi thi,
Nazar shoalon pe rakkhi thi zaban patthar pe rakkhi thi.

Hamare khwaab to sheharon ki sadkon par bhatakte the,
Tumhari yaad thi jo raat bhar bistar pe rakkhi thi.

Main apna azm le kar manzilon ki samt nikla tha,
Mashaqqat haath pe rakkhi thi qismat ghar pe rakkhi thi.

Inhin sanson ke chakkar ne hamein wo din dikhaye the,
Hamare panv ki mitti hamare sar pe rakkhi thi.

Shehar tak tum jo aa jate to manzar dekh sakte the,
Diye palkon pe rakkhe the shikan bistar pe rakkhi thi. !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Khushi Hai Sab Ko Ki Operation Mein Khub Nishtar Ye Chal Raha Hai

Khushi hai sab ko ki operation mein khub nishtar ye chal raha hai,
Kisi ko is ki khabar nahi hai mariz ka dam nikal raha hai.

Fana isi rang par hai qaim falak wahi chaal chal raha hai,
Shikasta o muntashir hai wo kal jo aaj sanche mein dhal raha hai.

Ye dekhte ho jo kasa-e-sar ghurur-e-ghaflat se kal tha mamlu,
Yahi badan naz se pala tha jo aaj mitti mein gal raha hai.

Samajh ho jis ki baligh samjhe nazar ho jis ki wasia dekhe,
Abhi yahan khak bhi udegi jahan ye qulzum ubal raha hai.

Kahan ka sharqi kahan ka gharbi tamam dukh sukh hai ye masawi,
Yahan bhi ek ba-murad khush hai wahan bhi ek gham se jal raha hai.

Uruj-e-qaumi zawal-e-qaumi khuda ki qudrat ke hain karishme,
Hamesha radd-o-badal ke andar ye amr political raha hai.

Maza hai speech ka dinner mein khabar ye chhapti hai pioneer mein,
Falak ki gardish ke sath hi sath kaam yaron ka chal raha hai. !!

ख़ुशी है सब को कि ऑपरेशन में ख़ूब निश्तर ये चल रहा है,
किसी को इस की ख़बर नहीं है मरीज़ का दम निकल रहा है !

फ़ना इसी रंग पर है क़ाइम फ़लक वही चाल चल रहा है,
शिकस्ता ओ मुंतशिर है वो कल जो आज साँचे में ढल रहा है !

ये देखते हो जो कासा-ए-सर ग़ुरूर-ए-ग़फ़लत से कल था ममलू,
यही बदन नाज़ से पला था जो आज मिट्टी में गल रहा है !

समझ हो जिस की बलीग़ समझे नज़र हो जिस की वसीअ देखे,
अभी यहाँ ख़ाक भी उड़ेगी जहाँ ये क़ुल्ज़ुम उबल रहा है !

कहाँ का शर्क़ी कहाँ का ग़र्बी तमाम दुख सुख है ये मसावी,
यहाँ भी इक बा-मुराद ख़ुश है वहाँ भी इक ग़म से जल रहा है !

उरूज-ए-क़ौमी ज़वाल-ए-क़ौमी ख़ुदा की क़ुदरत के हैं करिश्मे,
हमेशा रद्द-ओ-बदल के अंदर ये अम्र पोलिटिकल रहा है !

मज़ा है स्पीच का डिनर में ख़बर ये छपती है पाइनियर में,
फ़लक की गर्दिश के साथ ही साथ काम यारों का चल रहा है !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Ye Aane Wala Zamana Hamein Batayega..

Ye aane wala zamana hamein batayega,
Wo ghar banayega apna ki ghar basayega.

Main sare shehar mein badnaam hun khabar hai mujhe,
Wo mere naam se kya fayeda uthayega.

Phir us ke baad ujale kharidne honge,
Zara si der mein sooraj to dub jayega.

Hai sair-gah ye kachchi munder sanpon ki,
Yahan se kaise koi rasta banega.

Sunai deti nahi ghar ke shor mein dastak,
Main jaanta hun jo aayega laut jayega.

Main soch bhi nahi sakta tha un udanon mein,
Wo apne ganv ki mitti ko bhul jayega.

Hazaron rog to pale hue ho tum “Nazmi“,
Bachane wala kahan tak tumhein bachayega. !!

ये आने वाला ज़माना हमें बताएगा,
वो घर बनाएगा अपना कि घर बसाएगा !

मैं सारे शहर में बदनाम हूँ ख़बर है मुझे,
वो मेरे नाम से क्या फ़ाएदा उठाएगा !

फिर उस के बाद उजाले ख़रीदने होंगे,
ज़रा सी देर में सूरज तो डूब जाएगा !

है सैर-गाह ये कच्ची मुंडेर साँपों की,
यहाँ से कैसे कोई रास्ता बनाएगा !

सुनाई देती नहीं घर के शोर में दस्तक,
मैं जानता हूँ जो आएगा लौट जाएगा !

मैं सोच भी नहीं सकता था उन उड़ानों में,
वो अपने गाँव की मिट्टी को भूल जाएगा !

हज़ारों रोग तो पाले हुए हो तुम “नज़मी“,
बचाने वाला कहाँ तक तुम्हें बचाएगा !!