Tuesday , August 3 2021

Poetry Types Lab

Char Tinke Utha Ke Jangal Se..

Char Tinke Utha Ke Jangal Se.. { Khana-Ba-Dosh – Gulzar Nazm } !

Char tinke utha ke jangal se
Ek baali anaj ki le kar
Chand qatre bilakte ashkon ke
Chand faqe bujhe hue lab par
Mutthi bhar apni qabr ki mitti
Mutthi bhar aarzuon ka gara
Ek tamir ki, liye hasrat
Tera khana-ba-dosh be-chaara
Shehar mein dar-ba-dar bhatakta hai

Tera kandha mile to sar tekun. !! -Gulzar Nazm

चार तिनके उठा के जंगल से
एक बाली अनाज की ले कर
चंद क़तरे बिलकते अश्कों के
चंद फ़ाक़े बुझे हुए लब पर
मुट्ठी भर अपनी क़ब्र की मिट्टी
मुट्ठी भर आरज़ूओं का गारा
एक तामीर की, लिए हसरत
तेरा ख़ाना-ब-दोश बे-चारा
शहर में दर-ब-दर भटकता है

तेरा कांधा मिले तो सर टेकूँ !! -गुलज़ार नज़्म

 

Do Sondhe Sondhe Se Jism jis waqt..

Do Sondhe Sondhe Se Jism jis waqt.. Be-Khudi – Gulzar Nazm !

Do sondhe sondhe se jism jis waqt
Ek mutthi mein so rahe the
Labon ki maddham tawil sargoshiyon mein sansen ulajh gayi thin
Munde hue sahilon pe jaise kahin bahut dur
Thanda sawan baras raha tha
Bas ek ruh hi jagti thi
Bata tu us waqt main kahan tha ?
Bata tu us waqt tu kahan thi ?? -Gulzar Nazm

दो सौंधे सौंधे से जिस्म जिस वक़्त
एक मुट्ठी में सो रहे थे
लबों की मद्धम तवील सरगोशियों में साँसें उलझ गई थीं
मुँदे हुए साहिलों पे जैसे कहीं बहुत दूर
ठंडा सावन बरस रहा था
बस एक रूह ही जागती थी
बता तू उस वक़्त मैं कहाँ था ?
बता तू उस वक़्त तू कहाँ थी ?? -गुलज़ार नज़्म

 

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen..

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen.. Gulzar Poetry !

Zikr aaye to mere lab se duaen niklen,
Shama jalti hai to lazim hai shuaen niklen.

Waqt ki zarb se kat jate hain sab ke sine,
Chaand ka chhalka utar jaye to qashen niklen.

Dafn ho jayen ki zarkhez zameen lagti hai,
Kal isi mitti se shayad meri shakhen niklen.

Chand ummiden nichodi thin to aahen tapkin,
Dil ko pighlaen to ho sakta hai sansen niklen.

Gaar ke munh pe rakha rahne do sang-e-khurshid,
Gaar mein haath na dalo kahin raaten niklen. !! -Gulzar Poetry

ज़िक्र आए तो मेरे लब से दुआएँ निकलें,
शमा जलती है तो लाज़िम है शुआएँ निकलें !

वक़्त की ज़र्ब से कट जाते हैं सब के सीने,
चाँद का छलका उतर जाए तो क़ाशें निकलें !

दफ़्न हो जाएँ कि ज़रख़ेज़ ज़मीं लगती है,
कल इसी मिट्टी से शायद मेरी शाख़ें निकलें !

चंद उम्मीदें निचोड़ी थीं तो आहें टपकीं,
दिल को पिघलाएँ तो हो सकता है साँसें निकलें !

ग़ार के मुँह पे रखा रहने दो संग-ए-ख़ुर्शीद,
ग़ार में हाथ न डालो कहीं रातें निकलें !! -गुलज़ार कविता

 

Bol Ki Lab Aazad Hain Tere..

Bol Ki Lab Aazad Hain Tere.. Faiz Ahmad Faiz Nazm !

Bol Ke Lab Aazad Hain Tere

Bol ki lab aazad hain tere
Bol zaban ab tak teri hai

Tera sutwan jism hai tera
Bol ki jaan ab tak teri hai

Dekh ki aahangar ki dukan mein
Tund hain shoale surkh hai aahan
Khulne lage quflon ke dahane
Phaila har ek zanjir ka daman

Bol ye thoda waqt bahut hai
Jism-o-zaban ki maut se pahle

Bol ki sach zinda hai ab tak
Bol jo kuch kahna hai kah le. !!

Faiz Ahmad Faiz Nazm

 

बोल कि लब आज़ाद हैं तेरे
बोल ज़बाँ अब तक तेरी है

तेरा सुतवाँ जिस्म है तेरा
बोल कि जाँ अब तक् तेरी है

देख के आहंगर की दुकाँ में
तुंद हैं शोले सुर्ख़ है आहन
खुलने लगे क़ुफ़्फ़लों के दहाने
फैला हर एक ज़न्जीर का दामन

बोल ये थोड़ा वक़्त बहोत है
जिस्म-ओ-ज़बाँ की मौत से पहले

बोल कि सच ज़िंदा है अब तक
बोल जो कुछ कहने है कह ले !!

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ नज़्म

 

Ghair Len Mahfil Mein Bose Jaam Ke

Ghair len mahfil mein bose jaam ke,
Hum rahen yun tishna-lab paigham ke.

Khastagi ka tum se kya shikwa ki ye,
Hathkande hain charkh-e-nili-fam ke.

Khat likhenge garche matlab kuch na ho,
Hum to aashiq hain tumhare naam ke.

Raat pi zamzam pe mai aur subh-dam,
Dhoe dhabbe jama-e-ehram ke.

Dil ko aankhon ne phansaya kya magar,
Ye bhi halqe hain tumhare dam ke.

Shah ke hai ghusl-e-sehhat ki khabar,
Dekhiye kab din phiren hammam ke.

Ishq ne “Ghalib” nikamma kar diya,
Warna hum bhi aadmi the kaam ke. !!

ग़ैर लें महफ़िल में बोसे जाम के,
हम रहें यूँ तिश्ना-लब पैग़ाम के !

ख़स्तगी का तुम से क्या शिकवा कि ये,
हथकण्डे हैं चर्ख़-ए-नीली-फ़ाम के !

ख़त लिखेंगे गरचे मतलब कुछ न हो,
हम तो आशिक़ हैं तुम्हारे नाम के !

रात पी ज़मज़म पे मय और सुब्ह-दम,
धोए धब्बे जामा-ए-एहराम के !

दिल को आँखों ने फँसाया क्या मगर,
ये भी हल्क़े हैं तुम्हारे दाम के !

शाह के है ग़ुस्ल-ए-सेह्हत की ख़बर,
देखिए कब दिन फिरें हम्माम के !

इश्क़ ने “ग़ालिब” निकम्मा कर दिया,
वर्ना हम भी आदमी थे काम के !!

 

Bahut Pani Barasta Hai To Mitti Baith Jaati Hai

Bahut pani barasta hai to mitti baith jaati hai,
Na roya kar bahut rone se chhaati baith jaati hai.

Yhi mousam tha jab nange badan chhat par tahalte the,
Yhi mousam hai ab sine mein sardi baith jaati hai.

Chalo mana ki shahanai mohabbat ki nishani hai,
Magar wo shakhs jiski aake beti baith jaati hai.

Bade-budhe kuven mein nekiyan kyon phenk aate hain?
Kuven mein chhup ke aakhir kyon ye neki baith jaati hai.

Naqaab ulte huye gulshan se wo jab bhi gujarta hai,
Samjh ke phool uske lab pe titali baith jaati hai.

Siyaast nafraton ka zakhm bharne hi nahi deti ,
Jahan bharne pe aata hai to makkhi baith jaati hai.

Wo dushman hi sahi aawaaz de usko mohabbat se,
Saliqe se bitha kar dekh haddi baith jaati hai. !!

बहुत पानी बरसता है तो मिट्टी बैठ जाती है,
न रोया कर बहुत रोने से छाती बैठ जाती है !

यही मौसम था जब नंगे बदन छत पर टहलते थे,
यही मौसम है अब सीने में सर्दी बैठ जाती है !

चलो माना कि शहनाई मोहब्बत की निशानी है,
मगर वो शख्स जिसकी आ के बेटी बैठ जाती है !

बड़े-बूढ़े कुएँ में नेकियाँ क्यों फेंक आते हैं ?
कुएं में छुप के क्यों आखिर ये नेकी बैठ जाती है !

नक़ाब उलटे हुए गुलशन से वो जब भी गुज़रता है,
समझ के फूल उसके लब पे तितली बैठ जाती है !

सियासत नफ़रतों का ज़ख्म भरने ही नहीं देती,
जहाँ भरने पे आता है तो मक्खी बैठ जाती है !

वो दुश्मन ही सही आवाज़ दे उसको मोहब्बत से,
सलीक़े से बिठा कर देख हड्डी बैठ जाती है !!

Munawwar Rana All Poetry, Ghazal, Ishq Shayari & Nazms Collection

 

Apni Ruswai Tere Naam Ka Charcha Dekhun..

Apni ruswai tere naam ka charcha dekhun,
Ek zara sher kahun aur main kya kya dekhun.

Nind aa jaye to kya mahfilen barpa dekhun,
Aankh khul jaye to tanhai ka sahra dekhun.

Sham bhi ho gayi dhundla gain aankhen bhi meri,
Bhulne wale main kab tak tera rasta dekhun.

Ek ek kar ke mujhe chhod gayi sab sakhiyan,
Aaj main khud ko teri yaad mein tanha dekhun.

Kash sandal se meri mang ujale aa kar,
Itne ghairon mein wahi hath jo apna dekhun.

Tu mera kuch nahi lagta hai magar jaan-e-hayat,
Jaane kyun tere liye dil ko dhdakna dekhun.

Band kar ke meri aankhen wo shararat se hanse,
Bujhe jaane ka main har roz tamasha dekhun.

Sab ziden us ki main puri karun har baat sunun,
Ek bachche ki tarah se use hansta dekhun.

Mujh pe chha jaye wo barsat ki khushbu ki tarah,
Ang ang apna isi rut mein mahakta dekhun.

Phool ki tarah mere jism ka har lab khul jaye,
Pankhudi pankhudi un honton ka saya dekhun.

Main ne jis lamhe ko puja hai use bas ek bar,
Khwab ban kar teri aankhon mein utarta dekhun.

Tu meri tarah se yakta hai magar mere habib,
Ji mein aata hai koi aur bhi tujh sa dekhun.

Tut jayen ki pighal jayen mere kachche ghade,
Tujh ko main dekhun ki ye aag ka dariya dekhun. !!

अपनी रुस्वाई तेरे नाम का चर्चा देखूँ,
एक ज़रा शेर कहूँ और मैं क्या क्या देखूँ !

नींद आ जाए तो क्या महफ़िलें बरपा देखूँ,
आँख खुल जाए तो तन्हाई का सहरा देखूँ !

शाम भी हो गई धुँदला गईं आँखें भी मेरी,
भूलने वाले मैं कब तक तेरा रस्ता देखूँ !

एक एक कर के मुझे छोड़ गईं सब सखियाँ,
आज मैं ख़ुद को तेरी याद में तन्हा देखूँ !

काश संदल से मेरी माँग उजाले आ कर,
इतने ग़ैरों में वही हाथ जो अपना देखूँ !

तू मेरा कुछ नहीं लगता है मगर जान-ए-हयात,
जाने क्यूँ तेरे लिए दिल को धड़कना देखूँ !

बंद कर के मेरी आँखें वो शरारत से हँसे,
बूझे जाने का मैं हर रोज़ तमाशा देखूँ !

सब ज़िदें उस की मैं पूरी करूँ हर बात सुनूँ,
एक बच्चे की तरह से उसे हँसता देखूँ !

मुझ पे छा जाए वो बरसात की ख़ुश्बू की तरह,
अंग अंग अपना इसी रुत में महकता देखूँ !

फूल की तरह मेरे जिस्म का हर लब खुल जाए,
पंखुड़ी पंखुड़ी उन होंटों का साया देखूँ !

मैं ने जिस लम्हे को पूजा है उसे बस एक बार,
ख़्वाब बन कर तेरी आँखों में उतरता देखूँ !

तू मेरी तरह से यकता है मगर मेरे हबीब,
जी में आता है कोई और भी तुझ सा देखूँ !

टूट जाएँ कि पिघल जाएँ मेरे कच्चे घड़े,
तुझ को मैं देखूँ कि ये आग का दरिया देखूँ !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Lab Pe Pabandi To Hai Ehsas Par Pahra To Hai

Lab pe pabandi to hai ehsas par pahra to hai,
Phir bhi ahl-e-dil ko ahwal-e-bashar kahna to hai.

Khun-e-ada se na ho khun-e-shahidan hi se ho,
Kuch na kuch is daur mein rang-e-chaman nikhra to hai.

Apni ghairat bech dalen apna maslak chhod den,
Rahnumaon mein bhi kuch logon ka ye mansha to hai.

Hai jinhen sab se ziyada dawa-e-hubbul-watan,
Aaj un ki wajh se hubb-e-watan ruswa to hai.

Bujh rahe hain ek ek kar ke aqidon ke diye,
Is andhere ka bhi lekin samna karna to hai.

Jhuth kyun bolen farogh-e-maslahat ke naam par,
Zindagi pyari sahi lekin hamein marna to hai. !!

लब पे पाबंदी तो है एहसास पर पहरा तो है,
फिर भी अहल-ए-दिल को अहवाल-ए-बशर कहना तो है !

ख़ून-ए-आदा से न हो ख़ून-ए-शहीदाँ ही से हो,
कुछ न कुछ इस दौर में रंग-ए-चमन निखरा तो है !

अपनी ग़ैरत बेच डालें अपना मस्लक छोड़ दें,
रहनुमाओं में भी कुछ लोगों का ये मंशा तो है !

है जिन्हें सब से ज़ियादा दावा-ए-हुब्बुल-वतन,
आज उन की वज्ह से हुब्ब-ए-वतन रुस्वा तो है !

बुझ रहे हैं एक एक कर के अक़ीदों के दिए,
इस अँधेरे का भी लेकिन सामना करना तो है !

झूठ क्यूँ बोलें फ़रोग़-ए-मस्लहत के नाम पर,
ज़िंदगी प्यारी सही लेकिन हमें मरना तो है !!

Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Saqi Sharab La Ki Tabiat Udas Hai..

Saqi sharab la ki tabiat udas hai,
Mutrib rubab utha ki tabiat udas hai.

Ruk ruk ke saz chhed ki dil mutmain nahi,
Tham tham ke mai pila ki tabiat udas hai.

Chubhti hai qalb o jaan mein sitaron ki raushni,
Aye chand dub ja ki tabiat udas hai.

Mujh se nazar na pher ki barham hai zindagi,
Mujh se nazar mila ki tabiat udas hai.

Shayad tere labon ki chatak se ho ji bahaal,
Aye dost muskura ki tabiat udas hai.

Hai husn ka fusun bhi ilaj-e-fasurdagi,
Rukh se naqab utha ki tabiat udas hai.

Main ne kabhi ye zid to nahi ki par aaj shab,
Aye mah-jabin na ja ki tabiat udas hai.

Imshab gurez-o-ram ka nahi hai koi mahal,
Aaghosh mein dar aa ki tabiat udas hai.

Kaifiyyat-e-sukut se badhta hai aur gham,
Kissa koi suna ki tabiat udas hai.

Yunhi durust hogi tabiat teri “Adam”,
Kam-bakht bhul ja ki tabiat udas hai.

Tauba to kar chuka hun magar phir bhi aye “Adam“,
Thoda sa zahr la ki tabiat udas hai. !!

साक़ी शराब ला कि तबीअत उदास है,
मुतरिब रुबाब उठा कि तबीअत उदास है !

रुक रुक के साज़ छेड़ कि दिल मुतमइन नहीं,
थम थम के मय पिला कि तबीअत उदास है !

चुभती है क़ल्ब ओ जाँ में सितारों की रौशनी,
ऐ चाँद डूब जा कि तबीअत उदास है !

मुझ से नज़र न फेर कि बरहम है ज़िंदगी,
मुझ से नज़र मिला कि तबीअत उदास है !

शायद तेरे लबों की चटक से हो जी बहाल,
ऐ दोस्त मुस्कुरा कि तबीअत उदास है !

है हुस्न का फ़ुसूँ भी इलाज-ए-फ़सुर्दगी,
रुख़ से नक़ाब उठा कि तबीअत उदास है !

मैं ने कभी ये ज़िद तो नहीं की पर आज शब,
ऐ मह-जबीं न जा कि तबीअत उदास है !

इमशब गुरेज़-ओ-रम का नहीं है कोई महल,
आग़ोश में दर आ कि तबीअत उदास है !

कैफ़िय्यत-ए-सुकूत से बढ़ता है और ग़म,
क़िस्सा कोई सुना कि तबीअत उदास है !

यूँही दुरुस्त होगी तबीअत तेरी “अदम”,
कम-बख़्त भूल जा कि तबीअत उदास है !

तौबा तो कर चुका हूँ मगर फिर भी ऐ “अदम“,
थोड़ा सा ज़हर ला कि तबीअत उदास है !!

 

Tu Mera Hai..

Tu mera hai,
Tere man mein chhupe hue sab dukh mere hain,
Teri aankh ke aansu mere,
Tere labon pe nachne wali ye masum hansi bhi meri..

Tu mera hai,
Har wo jhonka,
Jis ke lams ko,
Apne jism pe tu ne bhi mahsus kiya hai..

Pahle mere hathon ko,
Chhu kar guzra tha,
Tere ghar ke darwaze par,
Dastak dene wala..

Har wo lamha jis mein,
Tujh ko apni tanhai ka,
Shiddat se ehsas hua tha,
Pahle mere ghar aaya tha..

Tu mera hai,
Tera mazi bhi mera tha,
Aane wali har saat bhi meri hogi,
Tere tapte aariz ki dopahar hai meri..

Sham ki tarah gahre gahre ye palkon saye hain mere,
Tere siyah baalon ki shab se dhup ki surat,
Wo subhen jo kal jagengi,
Meri hongi..

Tu mera hai,
Lekin tere sapnon mein bhi aate hue ye dar lagta hai,
Mujh se kahin tu puchh na baithe,
Kyun aaye ho,
Mera tum se kya nata hai.. !!

तू मेरा है,
तेरे मन में छुपे हुए सब दुख मेरे हैं,
तेरी आँख के आँसू मेरे,
तेरे लबों पे नाचने वाली ये मासूम हँसी भी मेरी..

तू मेरा है,
हर वो झोंका,
जिस के लम्स को,
अपने जिस्म पे तू ने भी महसूस किया है..

पहले मेरे हाथों को,
छू कर गुज़रा था,
तेरे घर के दरवाज़े पर,
दस्तक देने वाला..

हर वो लम्हा जिस में,
तुझ को अपनी तन्हाई का,
शिद्दत से एहसास हुआ था,
पहले मेरे घर आया था..

तू मेरा है,
तेरा माज़ी भी मेरा था,
आने वाली हर साअत भी मेरी होगी,
तेरे तपते आरिज़ की दोपहर है मेरी..

शाम की तरह गहरे गहरे ये पलकों साए हैं मेरे,
तेरे सियाह बालों की शब से धूप की सूरत,
वो सुब्हें जो कल जागेंगी,
मेरी होंगी..

तू मेरा है ,
लेकिन तेरे सपनों में भी आते हुए ये डर लगता है,
मुझ से कहीं तू पूछ न बैठे,
क्यूँ आए हो,
मेरा तुम से क्या नाता है.. !!

-Aanis Moin Nazm