Tuesday , August 3 2021

Poetry Types Kinare

Ret Ki Tarah Kinaron Pe Hain Darne Wale

Ret ki tarah kinaron pe hain darne wale,
Mauj-dar-mauj gaye par utarne wale.

Aaj kanton se gareban chhudayen to sahi,
Lala-o-gul pe kabhi panv na dharne wale.

Rup se chhab se phaban se koi aagah nahi,
Naqsh-kar-e-lab-o-ariz hain sanwarne wale.

Koi jine ka saliqa ho to main bhi jaanun,
Maut aasan hai mar jate hain marne wale.

Mere jine ka ye uslub pata deta hai,
Ki abhi ishq mein kuch kaam hain karne wale. !!

रेत की तरह किनारों पे हैं डरने वाले,
मौज-दर-मौज गए पार उतरने वाले !

आज काँटों से गरेबान छुड़ाएँ तो सही,
लाला-ओ-गुल पे कभी पाँव न धरने वाले !

रूप से छब से फबन से कोई आगाह नहीं,
नक़्श-कार-ए-लब-ओ-आरिज़ हैं सँवरने वाले !

कोई जीने का सलीक़ा हो तो मैं भी जानूँ,
मौत आसान है मर जाते हैं मरने वाले !

मेरे जीने का ये उस्लूब पता देता है,
कि अभी इश्क़ में कुछ काम हैं करने वाले !!

Abid Ali Abid All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Hawayen Tez Thin Ye To Faqat Bahane The..

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the,
Safine yun bhi kinare pe kab lagane the.

Khayal aata hai rah-rah ke laut jaane ka,
Safar se pahle humein apne ghar jalane the.

Guman tha ki samajh lenge mausamon ka mizaj,
Khuli jo aankh to zad pe sabhi thikane the.

Humein bhi aaj hi karna tha intezaar us ka,
Use bhi aaj hi sab wade bhul jaane the.

Talash jin ko hamesha buzurg karte rahe,
Na jaane kaun si duniya mein wo khazane the.

Chalan tha sab ke ghamon mein sharik rahne ka,
Ajib din the ajab sar-phire zamane the. !!

हवाएँ तेज़ थीं ये तो फ़क़त बहाने थे,
सफ़ीने यूँ भी किनारे पे कब लगाने थे !

ख़याल आता है रह-रह के लौट जाने का,
सफ़र से पहले हमें अपने घर जलाने थे !

गुमान था कि समझ लेंगे मौसमों का मिज़ाज,
खुली जो आँख तो ज़द पे सभी ठिकाने थे !

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का,
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे !

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे !

चलन था सब के ग़मों में शरीक रहने का,
अजीब दिन थे अजब सर-फिरे ज़माने थे !!

-Aashufta Changezi Ghazal / Poetry