Poetry Types Khwab

Zara Si Baat Pe Har Rasm Tod Aaya Tha..

Zara Si Baat Pe Har Rasm Tod Aaya Tha.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Zara si baat pe har rasm tod aaya tha,
Dil-e-tabah ne bhi kya mizaj paya tha.

Guzar gaya hai koi lamha-e-sharar ki tarah,
Abhi to main use pahchan bhi na paya tha.

Muaf kar na saki meri zindagi mujh ko,
Wo ek lamha ki main tujh se tang aaya tha.

Shagufta phool simat kar kali bane jaise,
Kuch is kamal se tu ne badan churaya tha.

Pata nahi ki mere baad un pe kya guzri,
Main chand khwab zamane mein chhod aaya tha. !!

ज़रा सी बात पे हर रस्म तोड़ आया था.. “जान निसार अख्तर” कविता हिंदी में !

ज़रा सी बात पे हर रस्म तोड़ आया था,
दिल-ए-तबाह ने भी क्या मिज़ाज पाया था !

गुज़र गया है कोई लम्हा-ए-शरर की तरह,
अभी तो मैं उसे पहचान भी न पाया था !

मुआफ़ कर न सकी मेरी ज़िंदगी मुझ को,
वो एक लम्हा कि मैं तुझ से तंग आया था !

शगुफ़्ता फूल सिमट कर कली बने जैसे,
कुछ इस कमाल से तू ने बदन चुराया था !

पता नहीं कि मेरे बाद उन पे क्या गुज़री,
मैं चंद ख़्वाब ज़माने में छोड़ आया था !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Zulfen Seena Naaf Kamar..

Zulfen Seena Naaf Kamar.. Jan Nisar Akhtar Poetry

Zulfen seena naaf kamar,
Ek nadi mein kitne bhanwar,

Sadiyon sadiyon mera safar,
Manzil manzil rahguzar.

Kitna mushkil kitna kathin,
Jine se jine ka hunar.

Ganw mein aa kar shehar base,
Ganw bichaare jayen kidhar.

Phunkne wale socha bhi,
Phailegi ye aag kidhar.

Lakh tarah se naam tera,
Baitha likkhun kaghaz par.

Chhote chhote zehan ke log,
Hum se un ki baat na kar,

Pet pe patthar bandh na le,
Haath mein sajte hain patthar.

Raat ke pichhe raat chale,
Khwab hua har khwab-e-sahar,

Shab bhar to aawara phire,
Laut chalen ab apne ghar. !!

Zulfen Seena Naaf Kamar.. Jan Nisar Akhtar Poetry In Hindi Language

ज़ुल्फ़ें सीना नाफ़ कमर,
एक नदी में कितने भँवर !

सदियों सदियों मेरा सफ़र,
मंज़िल मंज़िल राहगुज़र !

कितना मुश्किल कितना कठिन,
जीने से जीने का हुनर !

गाँव में आ कर शहर बसे,
गाँव बिचारे जाएँ किधर !

फूँकने वाले सोचा भी,
फैलेगी ये आग किधर !

लाख तरह से नाम तेरा,
बैठा लिक्खूँ काग़ज़ पर !

छोटे छोटे ज़ेहन के लोग,
हम से उन की बात न कर !

पेट पे पत्थर बाँध न ले,
हाथ में सजते हैं पत्थर !

रात के पीछे रात चले,
ख़्वाब हुआ हर ख़्वाब-ए-सहर !

शब भर तो आवारा फिरे,
लौट चलें अब अपने घर !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Dasht-E-Ghurbat Hai Alalat Bhi Hai Tanhai Bhi

Dasht-e-ghurbat hai alalat bhi hai tanhai bhi,
Aur un sab pe fuzun baadiya-paimai bhi.

Khwab-e-rahat hai kahan nind bhi aati nahi ab,
Bas uchat jaane ko aayi jo kabhi aayi bhi.

Yaad hai mujh ko wo be-fikri o aaghaz-e-shabab,
Sukhan-arai bhi thi anjuman-arai bhi.

Nigah-e-shauq-o-tamanna ki wo dilkash thi kamand,
Jis se ho jate the ram aahu-e-sahrai bhi.

Hum sanam-khana jahan karte the apna qaim,
Phir khade hote the wan hur ke shaidai bhi.

Ab na wo umar na wo log na wo lail o nahaar,
Bujh gayi taba kabhi josh pe gar aayi bhi.

Ab to shubhe bhi mujhe dew nazar aate hain,
Us zamane mein pari-zad thi ruswai bhi.

Kaam ki baat jo kahni ho wo kah lo “Akbar“,
Dam mein chhin jayegi ye taqat-e-goyai bhi. !!

 

Khayal Usi Ki Taraf Bar Bar Jata Hai

Khayal usi ki taraf bar bar jata hai,
Mere safar ki thakan kaun utar jata hai.

Ye us ka apna tariqa hai dan karne ka,
Wo jis se shart lagata hai haar jata hai.

Ye khel meri samajh mein kabhi nahi aaya,
Main jeet jata hun bazi wo mar jata hai.

Main apni nind dawaon se qarz leta hun,
Ye qarz khwab mein koi utar jata hai.

Nasha bhi hota hai halka sa zahar mein shamil,
Wo jab bhi milta hai ek dank mar jata hai.

Main sab ke waste karta hun kuch na kuch “Nazmi”,
Jahan jahan bhi mera ikhtiyar jata hai. !!

ख़याल उसी की तरफ़ बार बार जाता है,
मेरे सफ़र की थकन कौन उतार जाता है !

ये उस का अपना तरीक़ा है दान करने का,
वो जिस से शर्त लगाता है हार जाता है !

ये खेल मेरी समझ में कभी नहीं आया,
मैं जीत जाता हूँ बाज़ी वो मार जाता है !

मैं अपनी नींद दवाओं से क़र्ज़ लेता हूँ,
ये क़र्ज़ ख़्वाब में कोई उतार जाता है !

नशा भी होता है हल्का सा ज़हर में शामिल,
वो जब भी मिलता है एक डंक मार जाता है !

मैं सब के वास्ते करता हूँ कुछ न कुछ “नज़मी”,
जहाँ जहाँ भी मेरा इख़्तियार जाता है !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

 

Safar Mein Dhup To Hogi Jo Chal Sako To Chalo

Safar mein dhup to hogi jo chal sako to chalo,
Sabhi hain bhid mein tum bhi nikal sako to chalo.

Kisi ke waste rahen kahan badalti hain,
Tum apne aap ko khud hi badal sako to chalo.

Yahan kisi ko koi rasta nahi deta,
Mujhe gira ke agar tum sambhal sako to chalo.

Kahin nahi koi suraj dhuan dhuan hai faza,
Khud apne aap se bahar nikal sako to chalo.

Yahi hai zindagi kuch khwab chand ummiden,
Inhin khilaunon se tum bhi bahal sako to chalo. !!

सफ़र में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो,
सभी हैं भीड़ में तुम भी निकल सको तो चलो !

किसी के वास्ते राहें कहाँ बदलती हैं,
तुम अपने आप को ख़ुद ही बदल सको तो चलो !

यहाँ किसी को कोई रास्ता नहीं देता,
मुझे गिरा के अगर तुम सँभल सको तो चलो !

कहीं नहीं कोई सूरज धुआँ धुआँ है फ़ज़ा,
ख़ुद अपने आप से बाहर निकल सको तो चलो !

यही है ज़िंदगी कुछ ख़्वाब चंद उम्मीदें,
इन्हीं खिलौनों से तुम भी बहल सको तो चलो !!

-Nida Fazli Ghazal / Safar Shayari

 

Benaam Sa Ye Dard Thahar Kyun Nahi Jata

Benaam sa ye dard thahar kyun nahi jata,
Jo bit gaya hai wo guzar kyun nahi jata.

Sab kuch to hai kya dhundhti rahti hain nigahen,
Kya baat hai main waqt pe ghar kyun nahi jata.

Wo ek hi chehra to nahi sare jahan mein,
Jo dur hai wo dil se utar kyun nahi jata.

Main apni hi uljhi hui rahon ka tamasha,
Jate hain jidhar sab main udhar kyun nahi jata.

Wo khwab jo barson se na chehra na badan hai,
Wo khwab hawaon mein bikhar kyun nahi jata. !!

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता,
जो बीत गया है वो गुज़र क्यूँ नहीं जाता !

सब कुछ तो है क्या ढूँढती रहती हैं निगाहें,
क्या बात है मैं वक़्त पे घर क्यूँ नहीं जाता !

वो एक ही चेहरा तो नहीं सारे जहाँ में,
जो दूर है वो दिल से उतर क्यूँ नहीं जाता !

मैं अपनी ही उलझी हुई राहों का तमाशा,
जाते हैं जिधर सब मैं उधर क्यूँ नहीं जाता !

वो ख़्वाब जो बरसों से न चेहरा न बदन है,
वो ख़्वाब हवाओं में बिखर क्यूँ नहीं जाता !!

-Nida Fazli Sad Poetry/Ghazal

 

Gaye Mausam Mein Jo Khilte The Gulabon Ki Tarah..

Gaye mausam mein jo khilte the gulabon ki tarah,
Dil pe utrenge wahi khwab azabon ki tarah.

Rakh ke dher pe ab raat basar karni hai,
Jal chuke hain mere kheme mere khwabon ki tarah.

Saat-e-did ki aariz hain gulabi ab tak,
Awwalin lamhon ke gulnar hijabon ki tarah.

Wo samundar hai to phir ruh ko shadab kare,
Tishnagi kyun mujhe deta hai sharaabon ki tarah.

Ghair-mumkin hai tere ghar ke gulabon ka shumar,
Mere riste hue zakhmon ke hisabon ki tarah.

Yaad to hongi wo baaten tujhe ab bhi lekin,
Shelf mein rakkhi hui band kitabon ki tarah.

Kaun jaane ki naye sal mein tu kis ko padhe,
Tera mear badalta hai nisabon ki tarah.

Shokh ho jati hai ab bhi teri aankhon ki chamak,
Gahe gahe tere dilchasp jawabon ki tarah.

Hijr ki shab meri tanhai pe dastak degi,
Teri khush-bu mere khoye hue khwabon ki tarah. !!

गए मौसम में जो खिलते थे गुलाबों की तरह,
दिल पे उतरेंगे वही ख़्वाब अज़ाबों की तरह !

राख के ढेर पे अब रात बसर करनी है,
जल चुके हैं मेरे ख़ेमे मेरे ख़्वाबों की तरह !

साअत-ए-दीद कि आरिज़ हैं गुलाबी अब तक,
अव्वलीं लम्हों के गुलनार हिजाबों की तरह !

वो समुंदर है तो फिर रूह को शादाब करे,
तिश्नगी क्यूं मुझे देता है शराबों की तरह !

ग़ैर-मुमकिन है तेरे घर के गुलाबों का शुमार,
मेरे रिश्ते हुए ज़ख़्मों के हिसाबों की तरह !

याद तो होंगी वो बातें तुझे अब भी लेकिन,
शेल्फ़ में रक्खी हुई बंद किताबों की तरह !

कौन जाने कि नए साल में तू किस को पढ़े,
तेरा मेआर बदलता है निसाबों की तरह !

शोख़ हो जाती है अब भी तेरी आंखों की चमक,
गाहे गाहे तेरे दिलचस्प जवाबों की तरह !

हिज्र की शब मेरी तन्हाई पे दस्तक देगी,
तेरी ख़ुश-बू मेरे खोए हुए ख़्वाबों की तरह !!

Parveen Shakir Ghazal

 

Apni Ruswai Tere Naam Ka Charcha Dekhun..

Apni ruswai tere naam ka charcha dekhun,
Ek zara sher kahun aur main kya kya dekhun.

Nind aa jaye to kya mahfilen barpa dekhun,
Aankh khul jaye to tanhai ka sahra dekhun.

Sham bhi ho gayi dhundla gain aankhen bhi meri,
Bhulne wale main kab tak tera rasta dekhun.

Ek ek kar ke mujhe chhod gayi sab sakhiyan,
Aaj main khud ko teri yaad mein tanha dekhun.

Kash sandal se meri mang ujale aa kar,
Itne ghairon mein wahi hath jo apna dekhun.

Tu mera kuch nahi lagta hai magar jaan-e-hayat,
Jaane kyun tere liye dil ko dhdakna dekhun.

Band kar ke meri aankhen wo shararat se hanse,
Bujhe jaane ka main har roz tamasha dekhun.

Sab ziden us ki main puri karun har baat sunun,
Ek bachche ki tarah se use hansta dekhun.

Mujh pe chha jaye wo barsat ki khushbu ki tarah,
Ang ang apna isi rut mein mahakta dekhun.

Phool ki tarah mere jism ka har lab khul jaye,
Pankhudi pankhudi un honton ka saya dekhun.

Main ne jis lamhe ko puja hai use bas ek bar,
Khwab ban kar teri aankhon mein utarta dekhun.

Tu meri tarah se yakta hai magar mere habib,
Ji mein aata hai koi aur bhi tujh sa dekhun.

Tut jayen ki pighal jayen mere kachche ghade,
Tujh ko main dekhun ki ye aag ka dariya dekhun. !!

अपनी रुस्वाई तेरे नाम का चर्चा देखूँ,
एक ज़रा शेर कहूँ और मैं क्या क्या देखूँ !

नींद आ जाए तो क्या महफ़िलें बरपा देखूँ,
आँख खुल जाए तो तन्हाई का सहरा देखूँ !

शाम भी हो गई धुँदला गईं आँखें भी मेरी,
भूलने वाले मैं कब तक तेरा रस्ता देखूँ !

एक एक कर के मुझे छोड़ गईं सब सखियाँ,
आज मैं ख़ुद को तेरी याद में तन्हा देखूँ !

काश संदल से मेरी माँग उजाले आ कर,
इतने ग़ैरों में वही हाथ जो अपना देखूँ !

तू मेरा कुछ नहीं लगता है मगर जान-ए-हयात,
जाने क्यूँ तेरे लिए दिल को धड़कना देखूँ !

बंद कर के मेरी आँखें वो शरारत से हँसे,
बूझे जाने का मैं हर रोज़ तमाशा देखूँ !

सब ज़िदें उस की मैं पूरी करूँ हर बात सुनूँ,
एक बच्चे की तरह से उसे हँसता देखूँ !

मुझ पे छा जाए वो बरसात की ख़ुश्बू की तरह,
अंग अंग अपना इसी रुत में महकता देखूँ !

फूल की तरह मेरे जिस्म का हर लब खुल जाए,
पंखुड़ी पंखुड़ी उन होंटों का साया देखूँ !

मैं ने जिस लम्हे को पूजा है उसे बस एक बार,
ख़्वाब बन कर तेरी आँखों में उतरता देखूँ !

तू मेरी तरह से यकता है मगर मेरे हबीब,
जी में आता है कोई और भी तुझ सा देखूँ !

टूट जाएँ कि पिघल जाएँ मेरे कच्चे घड़े,
तुझ को मैं देखूँ कि ये आग का दरिया देखूँ !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Aks-E-Khushbu Hun Bikharne Se Na Roke Koi..

Aks-e-khushbu hun bikharne se na roke koi,
Aur bikhar jaun to mujh ko na samete koi.

Kanp uthti hun main ye soch ke tanhai mein,
Mere chehre pe tera naam na padh le koi.

Jis tarah khwab mere ho gaye reza reza,
Us tarah se na kabhi tut ke bikhre koi.

Main to us din se hirasan hun ki jab hukm mile,
Khushk phulon ko kitabon mein na rakkhe koi.

Ab to is rah se wo shakhs guzarta bhi nahi,
Ab kis ummid pe darwaze se jhanke koi.

Koi aahat koi aawaz koi chap nahi,
Dil ki galiyan badi sunsan hain aaye koi. !!

अक्स-ए-ख़ुशबू हूँ बिखरने से न रोके कोई,
और बिखर जाऊँ तो मुझ को न समेटे कोई !

काँप उठती हूँ मैं ये सोच के तन्हाई में,
मेरे चेहरे पे तेरा नाम न पढ़ ले कोई !

जिस तरह ख़्वाब मेरे हो गए रेज़ा रेज़ा,
उस तरह से न कभी टूट के बिखरे कोई !

मैं तो उस दिन से हिरासाँ हूँ कि जब हुक्म मिले,
ख़ुश्क फूलों को किताबों में न रक्खे कोई !

अब तो इस राह से वो शख़्स गुज़रता भी नहीं,
अब किस उम्मीद पे दरवाज़े से झाँके कोई !

कोई आहट कोई आवाज़ कोई चाप नहीं,
दिल की गलियाँ बड़ी सुनसान हैं आए कोई !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Andar Ka Zahar Chum Liya Dhul Ke Aa Gaye..

Andar ka zahar chum liya dhul ke aa gaye,
Kitne sharif log the sab khul ke aa gaye.

Sooraj se jang jitne nikle the bewaquf,
Sare sipahi mom ke the ghul ke aa gaye.

Masjid mein dur dur koi dusra na tha,
Hum aaj apne aap se mil-jul ke aa gaye.

Nindon se jang hoti rahegi tamam umar,
Aankhon mein band khwab agar khul ke aa gaye,

Sooraj ne apni shakl bhi dekhi thi pahli bar,
Aaine ko maze bhi taqabul ke aa gaye,

Anjaane saye phirne lage hain idhar udhar,
Mausam hamare shehar mein kabul ke aa gaye. !!

अंदर का ज़हर चूम लिया धुल के आ गए,
कितने शरीफ़ लोग थे सब खुल के आ गए !

सूरज से जंग जीतने निकले थे बेवक़ूफ़,
सारे सिपाही मोम के थे घुल के आ गए !

मस्जिद में दूर दूर कोई दूसरा न था,
हम आज अपने आप से मिल-जुल के आ गए !

नींदों से जंग होती रहेगी तमाम उम्र,
आँखों में बंद ख़्वाब अगर खुल के आ गए !

सूरज ने अपनी शक्ल भी देखी थी पहली बार,
आईने को मज़े भी तक़ाबुल के आ गए !

अनजाने साए फिरने लगे हैं इधर-उधर,
मौसम हमारे शहर में काबुल के आ गए !! -Rahat Indori Ghazal