Poetry Types Khuda

Ab Ke Hum Bichhde To Shayad Kabhi Khwabon Mein Milen..

Ab ke hum bichhde to shayad kabhi khwabon mein milen,
Jis tarah sukhe hue phool kitabon mein milen

Dhundh ujde hue logon mein wafa ke moti,
Ye khazane tujhe mumkin hai kharabon mein milen,

Gham-e-duniya bhi gham-e-yar mein shamil kar lo,
Nashsha badhta hai sharaben jo sharabon mein milen.

Tu khuda hai na mera ishq farishton jaisa,
Donon insan hain to kyun itne hijabon mein milen.

Aaj hum dar pe khinche gaye jin baaton par,
Kya ajab kal wo zamane ko nisabon mein milen.

Ab na wo main na wo tu hai na wo mazi hai “Faraz“,
Jaise do shakhs tamanna ke sarabon mein milen. !!

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें,
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें !

ढूँढ उजड़े हुए लोगों में वफ़ा के मोती,
ये ख़ज़ाने तुझे मुमकिन है ख़राबों में मिलें !

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो,
नश्शा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें !

तू ख़ुदा है न मेरा इश्क़ फ़रिश्तों जैसा,
दोनों इंसाँ हैं तो क्यूँ इतने हिजाबों में मिलें !

आज हम दार पे खींचे गए जिन बातों पर,
क्या अजब कल वो ज़माने को निसाबों में मिलें !

अब न वो मैं न वो तू है न वो माज़ी है “फ़राज़“,
जैसे दो शख़्स तमन्ना के सराबों में मिलें !!

 

Kashti Chala Raha Hai Magar Kis Ada Ke Sath..

Kashti chala raha hai magar kis ada ke sath,
Hum bhi na dub jayen kahin na-khuda ke sath.

Dil ki talab padi hai to aaya hai yaad ab,
Wo to chala gaya tha kisi dilruba ke sath.

Jab se chali hai Adam-o-yazdan ki dastan,
Har ba-wafa ka rabt hai ek bewafa ke sath.

Mehman mezban hi ko bahka ke le uda,
Khushbu-e-gul bhi ghum rahi hai saba ke sath.

Pir-e-mughan se hum ko koi bair to nahi,
Thoda sa ikhtilaf hai mard-e-khuda ke sath.

Shaikh aur bahisht kitne tajjub ki baat hai,
Ya-rab ye zulm khuld ki aab-o-hawa ke sath.

Padhta namaz main bhi hun par ittifaq se,
Uthta hun nisf raat ko dil ki sada ke sath.

Mahshar ka khair kuchh bhi natija ho aye “Adam“,
Kuchh guftugu to khul ke karenge khuda ke sath. !!

कश्ती चला रहा है मगर किस अदा के साथ,
हम भी न डूब जाएँ कहीं ना-ख़ुदा के साथ !

दिल की तलब पड़ी है तो आया है याद अब,
वो तो चला गया था किसी दिलरुबा के साथ !

जब से चली है अदम-ओ-यज़्दाँ की दास्ताँ,
हर बा-वफ़ा का रब्त है एक बेवफ़ा के साथ !

मेहमान मेज़बाँ ही को बहका के ले उड़ा,
ख़ुश्बू-ए-गुल भी घूम रही है सबा के साथ !

पीर-ए-मुग़ाँ से हम को कोई बैर तो नहीं,
थोड़ा सा इख़्तिलाफ़ है मर्द-ए-ख़ुदा के साथ !

शैख़ और बहिश्त कितने तअ’ज्जुब की बात है,
या-रब ये ज़ुल्म ख़ुल्द की आब-ओ-हवा के साथ !

पढ़ता नमाज़ मैं भी हूँ पर इत्तिफ़ाक़ से,
उठता हूँ निस्फ़ रात को दिल की सदा के साथ !

महशर का ख़ैर कुछ भी नतीजा हो ऐ “अदम“,
कुछ गुफ़्तुगू तो खुल के करेंगे ख़ुदा के साथ !!

 

Aagahi Mein Ek Khala Maujud Hai..

Aagahi mein ek khala maujud hai,
Is ka matlab hai khuda maujud hai.

Hai yaqinan kuch magar wazh nahi,
Aap ki aankhon mein kya maujud hai.

Baankpan mein aur koi shayy nahi,
Sadgi ki inteha maujud hai.

Hai mukammal baadshahi ki dalil,
Ghar mein gar ek boriya maujud hai.

Shauqiya koi nahi hota ghalat,
Is mein kuchh teri raza maujud hai.

Is liye tanha hun main garm-e safar,
Qafile mein rahnuma maujud hai.

Har mohabbat ki bina hai chashni,
Har lagan mein muddaa maujud hai.

Har jagah, har shehar, har iqlim mein
Dhoom hai us ki jo na-maujud hai.

Jis se chhupna chahta hun main “Adam“,
Wo sitamgar ja-ba-ja maujud hai. !!

आगाही में एक खला मौजूद है,
इस का मतलब है खुदा मौजूद है !

है यक़ीनन कुछ मगर वज़ह नहीं,
आप की आँखों में क्या मौजूद है !

बांकपन में और कोई श्रेय नहीं,
सादगी की इन्तहा मौजूद है !

है मुकम्मल बादशाही की दलील,
घर में गर एक बुढ़िया मौजूद है !

शौक़िया कोई नहीं होता ग़लत,
इस में कुछ तेरी रज़ा मौजूद है !

इस लिए तनहा हूँ मैं गर्म-ए सफर,
काफिले में रहनुमा मौजूद है !

हर मोहब्बत की बिना है चाश्नी,
हर लगन में मुद्दा मौजूद है !

हर जगह, हर शहर, हर इक़लीम में,
धूम है उस की जो न-मौजूद है !

जिस से छुपना चाहता हूँ मैं “अदम“,
वो सितमगर जा-बा-जा मौजूद है !!

 

Suna Karo Meri Jaan In Se Un Se Afsaane

Suna karo meri jaan in se un se afsaane,
Sab ajnabi hain yahan kaun kis ko pehchane.

Yahan se jald guzar jao qafile walo,
Hain meri pyas ke phunke hue ye virane.

Meri junun-e-parastish se tang aa gaye log,
Suna hai band kiye ja rahe hain but-khane.

Jahan se pichhle pehar koi tishna-kaam utha,
Wahin pe tode hain yaron ne aaj paimane.

Bahar aaye to mera salam keh dena,
Mujhe to aaj talab kar liya hai sahra ne.

Hua hai hukm ki “kaifi” ko sangsar karo,
Masih baithe hain chhup ke kahan khuda jaane. !!

सुना करो मेरी जान इन से उन से अफ़्साने,
सब अजनबी हैं यहाँ कौन किस को पहचाने !

यहाँ से जल्द गुज़र जाओ क़ाफ़िले वालो,
हैं मेरी प्यास के फूँके हुए ये वीराने !

मेरी जुनून-ए-परस्तिश से तंग आ गए लोग,
सुना है बंद किए जा रहे हैं बुत-ख़ाने !

जहाँ से पिछले पहर कोई तिश्ना-काम उठा,
वहीं पे तोड़े हैं यारों ने आज पैमाने !

बहार आए तो मेरा सलाम कह देना,
मुझे तो आज तलब कर लिया है सहरा ने !

हुआ है हुक्म कि “कैफ़ी” को संगसार करो,
मसीह बैठे हैं छुप के कहाँ ख़ुदा जाने !!

 

Hath Aa Kar Laga Gaya Koi..

Hath aa kar laga gaya koi,
Mera chhappar utha gaya koi.

Lag gaya ek masheen mein main bhi,
Shehar mein le ke aa gaya koi.

Main khada tha ki peeth par meri,
Ishtihaar ek laga gaya koi.

Ye sadi dhoop ko tarasti hai,
Jaise sooraj ko kha gaya koi.

Aisi mehangaai hai ki chehra bhi,
Bech ke apna kha gaya koi.

Ab woh armaan hain na woh sapne,
Sab kabootar uda gaya koi.

Woh gaye jab se aisa lagta hai,
Chhota mota khuda gaya koi.

Mera bachpan bhi saath le gaya,
Gaaon se jab bhi aa gaya koi. !!

हाथ आ कर लगा गया कोई,
मेरा छप्पर उठा गया कोई !

लग गया एक मशीन में मैं भी,
शहर में ले के आ गया कोई !

मैं खड़ा था कि पीठ पर मेरी,
इश्तिहार एक लगा गया कोई !

ये सदी धूप को तरसती है,
जैसे सूरज को खा गया कोई !

ऐसी महँगाई है कि चेहरा भी,
बेच के अपना खा गया कोई !

अब वो अरमान हैं न वो सपने,
सब कबूतर उड़ा गया कोई !

वो गए जब से ऐसा लगता है,
छोटा मोटा ख़ुदा गया कोई !

मेरा बचपन भी साथ ले आया,
गाँव से जब भी आ गया कोई !!

-Kaifi Azmi Ghazal / Poetry

 

Patthar Ke Khuda Wahan Bhi Paaye..

Patthar ke khuda wahan bhi paaye,
Hum chaand se aaj laut aaye.

Deewaren to har taraf khadi hain,
Kya ho gaye meharaban saaye.

Jungal ki hawayen aa rahi hain,
Kaghaz ka ye shehar ud na jaye.

Laila ne naya janam liya hai,
Hai qais koi jo dil lagaye.

Hai aaj zameen ka ghusl-e-sehat,
Jis dil mein ho jitna khoon laaye.

Sehra sehra lahoo ke kheme,
Phir pyaase lab-e-furaat aaye. !!

पत्थर के ख़ुदा वहाँ भी पाए,
हम चाँद से आज लौट आए !

दीवारें तो हर तरफ़ खड़ी हैं,
क्या हो गए मेहरबान साए

जंगल की हवाएँ आ रही हैं,
काग़ज़ का ये शहर उड़ न जाए !

लैला ने नया जनम लिया है,
है क़ैस कोई जो दिल लगाए !

है आज ज़मीं का ग़ुस्ल-ए-सेह्हत,
जिस दिल में हो जितना ख़ून लाए !

सहरा-सहरा लहू के खे़मे,
फिर प्यासे लब-ए-फ़ुरात आए !!

-Kaifi Azmi Ghazal / Poetry

 

Hai Ajab Haal Ye Zamane Ka..

Hai ajab haal ye zamane ka,
Yaad bhi taur hai bhulane ka.

Pasand aaya bahut hamein pesha,
Khud hi apne gharon ko dhane ka.

Kash humko bhi ho nasib kabhi,
Aish-e-daftar mein gungunane ka.

Aasman hai khamoshi-e-jawed,
Main bhi ab lab nahi hilane ka.

Jaan kya ab tera piyala-e-naf,
Nashsha mujh ko nahi pilane ka.

Shauq hai is dil-e-darinda ko,
Aap ke honth kat khane ka.

Itna nadim hua hun khud se ki main,
Ab nahi khud ko aazmane ka.

Kya kahun jaan ko bachane main,
Jaun” khatra hai jaan jaane ka.

Ye jahan “Jaun” ek jahannum hai,
Yan khuda bhi nahi hai aane ka.

Zindagi ek fan hai lamhon ko,
Apne andaz se ganwane ka. !!

है अजब हाल ये ज़माने का,
याद भी तौर है भुलाने का !

पसंद आया बहुत हमें पेशा,
ख़ुद ही अपने घरों को ढाने का !

काश हमको भी हो नसीब कभी,
ऐश-ए-दफ़्तर में गुनगुनाने का !

आसमाँ है ख़मोशी-ए-जावेद,
मैं भी अब लब नहीं हिलाने का !

जान क्या अब तेरा पियाला-ए-नाफ़,
नश्शा मुझ को नहीं पिलाने का !

शौक़ है इस दिल-ए-दरिंदा को,
आप के होंठ काट खाने का !

इतना नादिम हुआ हूँ ख़ुद से कि मैं,
अब नहीं ख़ुद को आज़माने का !

क्या कहूँ जान को बचाने मैं,
जॉन” ख़तरा है जान जाने का !

ये जहाँ “जॉन” एक जहन्नुम है,
यहाँ ख़ुदा भी नहीं है आने का !

ज़िंदगी एक फ़न है लम्हों को,
अपने अंदाज़ से गँवाने का !!

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bhai भाई)

1.
Main itani bebasi mein qaid-e-dushman mein nahi marta,
Agar mera bhi ek Bhai ladkpan mein nahi marta.

मैं इतनी बेबसी में क़ैद-ए-दुश्मन में नहीं मरता,
अगर मेरा भी एक भाई लड़कपन में नहीं मरता !

2.
Kanton se bach gaya tha magar phool chubh gaya,
Mere badan mein Bhai ka trishool chubh gaya.

काँटों से बच गया था मगर फूल चुभ गया,
मेरे बदन में भाई का त्रिशूल चुभ गया !

3.
Aye khuda thodi karam farmaai hona chahiye,
Itani Behane hai to phir ek Bhai hona chahiye.

ऐ ख़ुदा थोड़ी करम फ़रमाई होना चाहिए,
इतनी बहनें हैं तो फिर एक भाई होना चाहिए !

4.
Baap ki daulat se yun dono ne hissa le liya,
Bhai ne dastaar le lee maine juta le liya.

बाप की दौलत से यूँ दोनों ने हिस्सा ले लिया,
भाई ने दस्तार ले ली मैंने जूता ले लिया !

5.
Nihatha dekh kar mujhko ladaai karta hai,
Jo kaam usne kiya hai wo Bhai karta hai.

निहत्था देख कर मुझको लड़ाई करता है,
जो काम उसने किया है वो भाई करता है !

6.
Yahi tha ghar jahan mil-jul ke sab ek sath rehate the,
Yahi hai ghar alag Bhai ki aftaari nikalti hai.

यही था घर जहाँ मिल-जुल के सब एक साथ रहते थे,
यही है घर अलग भाई की अफ़्तारी निकलती है !

7.
Wah apne ghar mein raushan saari shmayein ginata rehta hai,
Akela Bhai khamoshi se Behane ginta rehata hai.

वह अपने घर में रौशन सारी शमएँ गिनता रहता है,
अकेला भाई ख़ामोशी से बहनें गिनता रहता है !

8.
Main apne Bhaiyon ke sath jab ghar se bahar nikalata hun,
Mujhe Yusuf ke jani dushmano ki yaad aati hai.

मैं अपने भाइयों के साथ जब बाहर निकलता हूँ,
मुझे यूसुफ़ के जानी दुश्मनों की याद आती है !

9.
Mere Bhai wahan paani se roza kholte honge,
Hata lo saamne se mujhse aftaari nahi hogi.

मेरे भाई वहाँ पानी से रोज़ा खोलते होंगे,
हटा लो सामने से मुझसे अफ़्तारी नहीं होगी !

10.
Jahan par gin ke roti Bhaiyon ko bhai dete ho,
Sabhi chizein wahin dekhi magar barkat nahi dekhi.

जहाँ पर गिन के रोटी भाइयों को भाई देते हों,
सभी चीज़ें वहाँ देखीं मगर बरकत नहीं देखी !

11.
Raat dekha hai bahaaron pe khizaan ko hanste,
Koi tohafaa mujhe shayad mera Bhai dega.

रात देखा है बहारों पे खिज़ाँ को हँसते,
कोई तोहफ़ा मुझे शायद मेरा भाई देगा !

12.
Tumhein aye Bhaiyon yun chhodna achcha nahi lekin,
Humein ab shaam se pehale thikaana dhund lena hai.

तुम्हें ऐ भाइयो यूँ छोड़ना अच्छा नहीं लेकिन,
हमें अब शाम से पहले ठिकाना ढूँढ लेना है !

13.
Gham se Lakshman ki tarah Bhai ka rishta hai mera,
Mujhko jangal mein akela nahi rehane deta.

ग़म से लछमन की तरह भाई का रिश्ता है मेरा,
मुझको जंगल में अकेला नहीं रहने देता !

14.
Jo log kam ho to kaandha jaroor de dena,
Sarhaane aake magar Bhai-Bhai na kehana.

जो लोग कम हों तो काँधा ज़रूर दे देना,
सरहाने आके मगर भाई-भाई मत कहना !

15.
Mohabbat ka ye jajba khuda ki den hai Bhai,
To mere raaste se kyun ye duniya hat nahi jati.

मोहब्बत का ये जज़्बा ख़ुदा की देन है भाई,
तो मेरे रास्ते से क्यूँ ये दुनिया हट नहीं जाती !

16.
Ye kurbe-qyaamat hai lahu kaisa “Munawwar”,
Paani bhi tujhe tera biraadar nahi dega.

ये कुर्बे-क़यामत है लहू कैसा “मुनव्वर”,
पानी भी तुझे तेरा बिरादर नहीं देगा !

17.
Aapne khul ke mohabbat nahi ki hai humse,
Aapn Bhai nahi kehate hai Miyaan kehate hain.

आपने खुल के मोहब्बत नहीं की है हमसे,
आप भाई नहीं कहते हैं मियाँ कहते हैं !

 

Koi Anees Koi Aashna Nahi Rakhte..

Koi anees koi aashna nahi rakhte,
Kisi ki aas baghair az khuda nahi rakhte.

Kisi ko kya ho dilon ki shikastagi ki khabar,
Ki tutne mein ye shishe sada nahi rakhte.

Faqir dost jo ho hum ko sarfaraaz kare,
Kuch aur farsh ba-juz boriya nahi rakhte.

Musafiro shab-e-awwal bahut hai tera-o- tar,
Charagh-e-qabr abhi se jala nahi rakhte.

Wo log kaun se hain ai khuda-e-kaun-o-makan,
Sukhan se kan ko jo aashna nahi rakhte.

Musafiran-e-adam ka pata mile kyunkar,
Wo yun gaye ki kahin naqsh-e-pa nahi rakhte.

Tap-e-darun gham-e-furqat waram-e-payada-rawi,
Maraz to itne hain aur kuch dawa nahi rakhte.

Khulega haal unhen jab ki aankh band hui,
Jo log ulfat-e-mushkil-kusha nahi rakhte.

Jahan ki lazzat-o-khwahish se hai bashar ka khamir,
Wo kaun hain ki jo hirs-o-hawa nahi rakhte.

Anees” bech ke jaan apni hind se niklo,
Jo tosha-e-safar-e-karbala nahi rakhte. !!

कोई अनीस कोई आश्ना नहीं रखते,
किसी की आस बग़ैर अज़ ख़ुदा नहीं रखते !

किसी को क्या हो दिलों की शिकस्तगी की ख़बर,
कि टूटने में ये शीशे सदा नहीं रखते !

फ़क़ीर दोस्त जो हो हम को सरफ़राज़ करे,
कुछ और फ़र्श ब-जुज़ बोरिया नहीं रखते !

मुसाफ़िरो शब-ए-अव्वल बहुत है तेरा-ओ-तार,
चराग़-ए-क़ब्र अभी से जला नहीं रखते !

वो लोग कौन से हैं ऐ ख़ुदा-ए-कौन-ओ-मकाँ,
सुख़न से कान को जो आश्ना नहीं रखते !

मुसाफ़िरान-ए-अदम का पता मिले क्यूँकर,
वो यूँ गए कि कहीं नक़्श-ए-पा नहीं रखते !

तप-ए-दरूँ ग़म-ए-फ़ुर्क़त वरम-ए-पयादा-रवी,
मरज़ तो इतने हैं और कुछ दवा नहीं रखते !

खुलेगा हाल उन्हें जब कि आँख बंद हुई,
जो लोग उल्फ़त-ए-मुश्किल-कुशा नहीं रखते !

जहाँ की लज़्ज़त-ओ-ख़्वाहिश से है बशर का ख़मीर,
वो कौन हैं कि जो हिर्स-ओ-हवा नहीं रखते !

अनीस” बेच के जाँ अपनी हिन्द से निकलो,
जो तोशा-ए-सफ़र-ए-कर्बला नहीं रखते !!

Mera Ji Hai Jab Tak Teri Justaju Hai..

Mera ji hai jab tak teri justaju hai,
Zaban jab talak hai yahi guftagu hai.

Khuda jaane kya hoga anjam is ka,
Main be-sabr itna hun wo tund-khu hai.

Tamana teri hai agar hai tamana,
Teri aarzu hai agar aarzu hai.

Kiya sair sab hum ne gulzar-e-duniya,
Gul-e-dosti mein ajab rang-o-bu hai.

Ghanimat hai ye did wa did-e-yaran,
Jahan aankh mund gayi na main hun na tu hai.

Nazar mere dil ki padi “Dard” kis par,
Jidhar dekhta hun wahi ru-ba-ru hai. !!

मेरा जी है जब तक तेरी जुस्तुजू है,
ज़बाँ जब तलक है यही गुफ़्तुगू है !

ख़ुदा जाने क्या होगा अंजाम इस का,
मैं बे-सब्र इतना हूँ वो तुंद-ख़ू है !

तमन्ना तेरी है अगर है तमन्ना,
तेरी आरज़ू है अगर आरज़ू है !

किया सैर सब हम ने गुलज़ार-ए-दुनिया,
गुल-ए-दोस्ती में अजब रंग-ओ-बू है !

गनीमत है ये दीद व दीद-ए-याराँ,
जहाँ आँख मुँद गई न मैं हूँ न तू है !

नज़र मेरे दिल की पड़ी “दर्द” किस पर,
जिधर देखता हूँ वही रू-ब-रू है !!