Poetry Types Khilauna

Safar Mein Dhup To Hogi Jo Chal Sako To Chalo

Safar mein dhup to hogi jo chal sako to chalo,
Sabhi hain bhid mein tum bhi nikal sako to chalo.

Kisi ke waste rahen kahan badalti hain,
Tum apne aap ko khud hi badal sako to chalo.

Yahan kisi ko koi rasta nahi deta,
Mujhe gira ke agar tum sambhal sako to chalo.

Kahin nahi koi suraj dhuan dhuan hai faza,
Khud apne aap se bahar nikal sako to chalo.

Yahi hai zindagi kuch khwab chand ummiden,
Inhin khilaunon se tum bhi bahal sako to chalo. !!

सफ़र में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो,
सभी हैं भीड़ में तुम भी निकल सको तो चलो !

किसी के वास्ते राहें कहाँ बदलती हैं,
तुम अपने आप को ख़ुद ही बदल सको तो चलो !

यहाँ किसी को कोई रास्ता नहीं देता,
मुझे गिरा के अगर तुम सँभल सको तो चलो !

कहीं नहीं कोई सूरज धुआँ धुआँ है फ़ज़ा,
ख़ुद अपने आप से बाहर निकल सको तो चलो !

यही है ज़िंदगी कुछ ख़्वाब चंद उम्मीदें,
इन्हीं खिलौनों से तुम भी बहल सको तो चलो !!

-Nida Fazli Ghazal / Safar Shayari

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bachche बच्चे)

1.
Farishte aa ke unke jism par khushboo lagate hain,
Wo bachche rail ke dibbe mein jo jhaadu lagaate hain.

फ़रिश्ते आ के उनके जिस्म पर ख़ुशबू लगाते हैं,
वो बच्चे रेल के डिब्बे में जो झाड़ू लगाते हैं !

2.
Humakte khelte bachchon ki shaitaani nahi jati,
Magar phir bhi humare ghar ki veeraani nahi jati.

हुमकते खेलते बच्चों की शैतानी नहीं जाती,
मगर फिर भी हमारे घर की वीरानी नहीं जाती !

3.
Apne mustkbil ki chaadar par rafu karte huye,
Maszidon mein dekhiye bachche waju karte huye.

अपने मुस्तक़्बिल की चादर पर रफ़ू करते हुए,
मस्जिदों में देखिये बच्चे वज़ू करते हुए !

4.
Mujhe is shehar ki sab ladkiyaan aadaab karti hain,
Main bachchon ki kalaai ke liye raakhi banata hun.

मुझे इस शहर की सब लड़कियाँ आदाब करती हैं,
मैं बच्चों की कलाई के लिए राखी बनाता हूँ !

5.
Ghar ka bhojh uthane wale bachche ki taqdeer na punchh,
Bachpan ghar se baahar nikala aur khilauna tut gaya.

घर का बोझ उठाने वाले बच्चे की तक़दीर न पूछ,
बचपन घर से बाहर निकला और खिलौना टूट गया !

6.
Jo ashq gunge the wo arje-haal karne lage,
Humare bachche humin par sawal karne lage.

जो अश्क गूँगे थे वो अर्ज़े-हाल करने लगे,
हमारे बच्चे हमीं पर सवाल करने लगे !

7.
Jab ek waakya bachpan ka humko yaad aaya,
Hum un parindo ko phir se gharon mein chhod aaye.

जब एक वाक़्या बचपन का हमको याद आया,
हम उन परिंदों को फिर से घरों में छोड़ आए !

8.
Bhare sheharon mein kurbaani ka mausam jab se aaya hai,
Mere bachche kabhi holi mein pichkaari nahi late.

भरे शहरों में क़ुर्बानी का मौसम जबसे आया है,
मेरे बच्चे कभी होली में पिचकारी नहीं लाते !

9.
Maszid ki chataai pe ye sote hue bachche,
In bachchon ko dekho kabhi resham nahi dekha.

मस्जिद की चटाई पे ये सोते हुए बच्चे,
इन बच्चों को देखो, कभी रेशम नहीं देखा !

10.
Bhukh se behaal bachche to nahi roye magar,
Ghar ka chulha muflisi ki chugliyaan khane laga.

भूख से बेहाल बच्चे तो नहीं रोये मगर,
घर का चूल्हा मुफ़लिसी की चुग़लियाँ खाने लगा !

11.
Talwaar to kya meri nazar tak nahi uththi,
Us shakhs ke bachche ki taraf dekh liya tha.

तलवार तो क्या मेरी नज़र तक नहीं उठ्ठी,
उस शख़्स के बच्चों की तरफ़ देख लिया था !

12.
Ret par khelte bachchon ko abhi kya maalum,
Koi sailaab gharaunda nahi rehane deta.

रेत पर खेलते बच्चों को अभी क्या मालूम,
कोई सैलाब घरौंदा नहीं रहने देता !

13.
Dhuaan baadal nahi hota ki bachpan daud padta hai,
Khushi se kaun bachcha karkhane tak pahunchta hai.

धुआँ बादल नहीं होता कि बचपन दौड़ पड़ता है,
ख़ुशी से कौन बच्चा कारखाने तक पहुँचता है !

14.
Main chahun to mithaai ki dukane khol sakta hun,
Magar bachpan humesha ramdane tak phunchata hai.

मैं चाहूँ तो मिठाई की दुकानें खोल सकता हूँ,
मगर बचपन हमेशा रामदाने तक पहुँचता है !

15.
Hawa ke rukh pe rehane do ye chalana sikh jayega,
Ki bachcha ladkhadayega to chalana sikh jayega.

हवा के रुख़ पे रहने दो ये चलना सीख जाएगा,
कि बच्चा लड़खड़ाएगा तो चलना सीख जाएगा !

16.
Ek sulgate shehar mein bachcha mila hansta hua,
Sehame-sehame-se charagon ke ujale ki tarah.

इक सुलगते शहर में बच्चा मिला हँसता हुआ,
सहमे-सहमे-से चराग़ों के उजाले की तरह !

17.
Maine Ek muddat se maszid nahi dekhi magar,
Ek bachche ka ajan dena bahut achcha laga.

मैंने इक मुद्दत से मस्जिद नहीं देखी मगर,
एक बच्चे का अज़ाँ देना बहुत अच्छा लगा !

18.
Inhen apni jarurat ke thikaane yaad rehate hain,
Kahan par hai khilauno ki dukan bachche samjhte hain.

इन्हें अपनी ज़रूरत के ठिकाने याद रहते हैं,
कहाँ पर है खिलौनों की दुकाँ बच्चे समझते हैं !

19.
Zamaana ho gaya dange mein is ghar ko jale lekin,
Kisi bachche ke rone ki sadaayein roz aati hain.

ज़माना हो गया दंगे में इस घर को जले लेकिन,
किसी बच्चे के रोने की सदाएँ रोज़ आती हैं !

 

Sabke Kahne Se Iraada Nahi Badla Jata..

1.
Sabke kahne se iraada nahi badla jata,
Har saheli se dupatta nahi badla jata.

सबके कहने से इरादा नहीं बदला जाता,
हर सहेली से दुपट्टा नहीं बदला जाता !

2.
Kam se kam bachchon ki honthon ki hansi ki khatir,
Ayse mitti mein milana ki khilauna ho jaun.

कम से कम बच्चों के होंठों की हँसी की ख़ातिर,
ऐसे मिट्टी में मिलाना कि खिलौना हो जाऊँ !

3.
Kasam deta hai bachchon ki bahane se bulata hai,
Dhuan chimani ka humko karkhane se bulata hai.

क़सम देता है बच्चों की बहाने से बुलाता है,
धुआँ चिमनी का हमको कारख़ाने से बुलाता है !

4.
Bachche bhi gareebi ko samjhane lage shayad,
Ab jaag bhi jate hain to sahari nahi khate.

बच्चे भी ग़रीबी को समझने लगे शायद,
अब जाग भी जाते हैं तो सहरी नहीं खाते !

5.
Inhein firka parasti mat sikha dena ki ye bachche,
Zameen se choom kar titali ke tute par uthate hain.

इन्हें फ़िरक़ा-परस्ती मत सिखा देना कि ये बच्चे,
ज़मी से चूम कर तितली के टूटे पर उठाते हैं !

6.
Bichhadte waqt bhi chehara nahi utarta hai,
Yhaan saron se dupatta nahi utarta hai.

बिछड़ते वक़्त भी चेहरा नहीं उतरता है,
यहाँ सरों से दुपट्टा नहीं उतरता है !

7.
Kaano mein koi phool bhi hans kar nahi phana,
Usne bhi bichhad kar kabhi jewar nahi phana.

कानों में कोई फूल भी हँस कर नहीं पहना,
उसने भी बिछड़ कर कभी ज़ेवर नहीं पहना !

8.
Mohabbat bhi ajeeb shay hai koi pardesh mein roye,
To fauran hath ki ek-aadh chudi tut jati hai.

मोहब्बत भी अजब शय है कोई परदेस में रोये,
तो फ़ौरन हाथ की एक-आध चूड़ी टूट जाती है !

9.
Bade sheharon mein rahkar bhi barabar yaad karta tha,
Main ek chhote se station ka manzar yaad karta tha.

बड़े शहरों में रहकर भी बराबर याद करता था,
मैं एक छोटे से स्टेशन का मंज़र याद करता था !

10.
Kisko fursat us mehfil mein gham ki kahani padhne ki,
Suni kalaai dekh ke lekin chudi wala tut gaya.

किसको फ़ुर्सत उस महफ़िल में ग़म की कहानी पढ़ने की,
सूनी कलाई देख के लेकिन चूड़ी वाला टूट गया !

11.
Mujhe bulata hai maqtal main kis tarah jaun,
Ki meri god se bachcha nahi utarta hai.

मुझे बुलाता है मक़्तल मैं किस तरह जाऊँ,
कि मेरी गोद से बच्चा नहीं उतरता है !

12.
Kahin koi kalaai ek chudi ko tarsati hai,
Kahin kangan ke jhatke se kalaai tut jati hai.

कहीं कोई कलाई एक चूड़ी को तरसती है,
कहीं कंगन के झटके से कलाई टूट जाती है !

13.
Us waqt bhi aksar tujhe hum dhundne nikale,
Jis dhoop mein majdur bhi chhat par nahi jate.

उस वक़्त भी अक्सर तुझे हम ढूँढने निकले,
जिस धूप में मज़दूर भी छत पर नहीं जाते !

14.
Sharm aati hai majduri batate hue humko,
Itane mein to bachchon ka gubara nahi milta.

शर्म आती है मज़दूरी बताते हुए हमको,
इतने में तो बच्चों का ग़ुबारा नहीं मिलता !

15.
Hum ne baazar mein dekhe hain ghrelu chehare,
Muflisi tujhse bade log bhi dab jate hain.

हमने बाज़ार में देखे हैं घरेलू चेहरे,
मुफ़्लिसी तुझसे बड़े लोग भी दब जाते हैं !

16.
Bhatkti hai hawas din-raat sone ki dukaano mein,
Gareebi kaan chhidwaati hai tinka daal deti hai.

भटकती है हवस दिन-रात सोने की दुकानों में,
ग़रीबी कान छिदवाती है तिनका डाल देती है !

17.
Ameere-shahar ka riste mein koi kuch nahi lagta,
Gareebi chand ko bhi apna mama maan leti hai.

अमीरे-शहर का रिश्ते में कोई कुछ नहीं लगता,
ग़रीबी चाँद को भी अपना मामा मान लेती है !

18.
To kya majburiyan bejaan chizein bhi samjhati hain,
Gale se jab utarta hai to jewar kuch nahi kehata.

तो क्या मजबूरियाँ बेजान चीज़ें भी समझती हैं,
गले से जब उतरता है तो ज़ेवर कुछ नहीं कहता !

19.
Kahin bhi chhod ke apni zameen nahi jate,
Humein bulati hai duniya humin nahi jate.

कहीं भी छोड़ के अपनी ज़मीं नहीं जाते,
हमें बुलाती है दुनिया हमीं नहीं जाते !

20.
Zameen banjar bhi ho jaye to chahat kam nahi hoti,
Kahin koi watan se bhi mohabbat chhod sakta hai.

ज़मीं बंजर भी हो जाए तो चाहत कम नहीं होती,
कहीं कोई वतन से भी मुहब्बत छोड़ सकता है !

21.
Jarurat roz hizrat ke liye aawaz deti hai,
Mohabbat chhod ke hindustan jane nahi deti.

ज़रूरत रोज़ हिजरत के लिए आवाज़ देती है,
मुहब्बत छोड़कर हिंदुस्तान जाने नहीं देती !

22.
Paida yahin hua hun yahin par marunga main,
Wo aur log the jo Karachi chale gaye.

पैदा यहीं हुआ हूँ यहीं पर मरूँगा मैं,
वो और लोग थे जो कराची चले गये !

23.
Main marunga to yahin dafan kiya jaunga,
Meri mitti bhi Karachi nahi jane wali.

मैं मरूँगा तो यहीं दफ़्न किया जाऊँगा,
मेरी मिट्टी भी कराची नहीं जाने वाली !

24.
Watan ki raah mein deni padegi jaan agar,
Khuda ne chaha to sabit kadam hi niklenge.

वतन की राह में देनी पड़ेगी जान अगर,
ख़ुदा ने चाहा तो साबित क़दम ही निकलेंगे !

25.
Watan se dur bhi ya rab wahan pe dam nikale,
Jahan se mulk ki sarhad dikhaai dene lage.

वतन से दूर भी या रब वहाँ पे दम निकले,
जहाँ से मुल्क की सरहद दिखाई देने लगे !

Deep Tha Ya Taara Kya Jaane..

Deep tha ya taara kya jaane,
Dil mein kyon dooba kya jaane.

Gul par kya kuch beet gayi hai,
Albela jhonka kya jaane.

Aas ki maili chaadar odhe,
Woh bhi tha mujh sa kya jaane.

Reet bhi apni rutt bhi apni,
Dil rasm-e-duniya kya jaane.

Ungli thaam ke chalne wala,
Nagri ka rasta kya jaane.

Kitne mod abhi baaki hain,
Tum jaano saaya kya jaane.

Kaun khilauna toot gaya hai,
Baalak be-parwa kya jaane.

Mamta ott dahakte sooraj,
Aankhon ka taara kya jaane !!

दीप था या तारा क्या जाने,
दिल में क्यूँ डूबा क्या जाने !

गुल पर क्या कुछ बीत गई है,
अलबेला झोंका क्या जाने !

आस की मैली चादर ओढ़े,
वो भी था मुझ सा क्या जाने !

रीत भी अपनी रुत भी अपनी,
दिल रस्म-ए-दुनिया क्या जाने !

उँगली थाम के चलने वाला,
नगरी का रस्ता क्या जाने !

कितने मोड़ अभी बाक़ी हैं,
तुम जानो साया क्या जाने !

कौन खिलौना टूट गया है,
बालक बे-परवा क्या जाने !

ममता ओट दहकते सूरज,
आँखों का तारा क्या जाने !!

-Ada Jafri Ghazal / Poetry