Tuesday , August 3 2021

Poetry Types Khazane

Hoton Pe Mohabbat Ke Fasane Nahi Aate..

Hoton pe mohabbat ke fasane nahi aate

 

Hoton pe mohabbat ke fasane nahi aate,
Sahil pe samandar ke khazane nahi aate.

Palken bhi chamk uthti hain sote mein humaari,
Aankhon ko abhi khawab chhupane nahi aate.

Dil ujadi huyi ek saraye ki tarah hai,
Ab log yahan raat jagane nahi aate.

Udne do parindon ko abhi shokh hawa mein,
Phir laut ke bachpan ke zamane nahi aate.

Is shehar ke badal teri zulfon ki tarah hain,
Ye aag lagate hain bujhane nahi aate.

Kya soch ke aaye ho mohabbat ki gali mein,
Jab naaz hasino ke uthaane nahi aate.

Ahbab bhi Ghairon ki ada seekh gaye hain,
Aate hain magar dil ko dukhane nahi aate. !!

होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते,
साहिल पे समंदर के ख़ज़ाने नहीं आते !

पलके भी चमक उठती हैं सोते में हमारी,
आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते !

दिल उजडी हुई एक सराय की तरह है,
अब लोग यहां रात बिताने नहीं आते !

उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में,
फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते !

इस शहर के बादल तेरी जुल्फ़ों की तरह है,
ये आग लगाते है बुझाने नहीं आते !

क्या सोचकर आए हो मुहब्बत की गली में,
जब नाज़ हसीनों के उठाने नहीं आते !

अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये है,
आते है मगर दिल को दुखाने नहीं आते !! -Bashir Badr Ghazal

 

Ab Ke Hum Bichhde To Shayad Kabhi Khwabon Mein Milen..

Ab ke hum bichhde to shayad kabhi khwabon mein milen,
Jis tarah sukhe hue phool kitabon mein milen

Dhundh ujde hue logon mein wafa ke moti,
Ye khazane tujhe mumkin hai kharabon mein milen,

Gham-e-duniya bhi gham-e-yar mein shamil kar lo,
Nashsha badhta hai sharaben jo sharabon mein milen.

Tu khuda hai na mera ishq farishton jaisa,
Donon insan hain to kyun itne hijabon mein milen.

Aaj hum dar pe khinche gaye jin baaton par,
Kya ajab kal wo zamane ko nisabon mein milen.

Ab na wo main na wo tu hai na wo mazi hai “Faraz“,
Jaise do shakhs tamanna ke sarabon mein milen. !!

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें,
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें !

ढूँढ उजड़े हुए लोगों में वफ़ा के मोती,
ये ख़ज़ाने तुझे मुमकिन है ख़राबों में मिलें !

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो,
नश्शा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें !

तू ख़ुदा है न मेरा इश्क़ फ़रिश्तों जैसा,
दोनों इंसाँ हैं तो क्यूँ इतने हिजाबों में मिलें !

आज हम दार पे खींचे गए जिन बातों पर,
क्या अजब कल वो ज़माने को निसाबों में मिलें !

अब न वो मैं न वो तू है न वो माज़ी है “फ़राज़“,
जैसे दो शख़्स तमन्ना के सराबों में मिलें !!

 

Wo Baaten Teri Wo Fasane Tere..

Wo baaten teri wo fasane tere,
Shagufta shagufta bahane tere.

Bas ek dagh-e-sajda meri kayenat,
Babinen teri aastane tere.

Mazalim tere aafiyat-afrin,
Marasim suhane suhane tere.

Faqiron ki jholi na hogi tahi,
Hain bharpur jab tak khazane tere.

Dilon ko jarahat ka lutf aa gaya,
Lage hain kuchh aise nishane tere.

Asiron ki daulat asiri ka gham,
Naye dam tere purane tere.

Bas ek zakhm-e-nazzara hissa mera,
Bahaaren teri aashiyane tere.

Faqiron ka jamghat ghadi-do-ghadi,
Sharaben teri baada-khane tere.

Zamir-e-sadaf mein kiran ka maqam,
Anokhe anokhe thikane tere.

Bahaar o khizan kam-nigahon ke wahm,
Bure ya bhale sab zamane tere.

Adam” bhi hai tera hikayat-kada,
Kahan tak gaye hain fasane tere. !!

वो बातें तेरी वो फ़साने तेरे,
शगुफ़्ता शगुफ़्ता बहाने तेरे !

बस एक दाग़-ए-सज्दा मेरी काएनात,
जबीनें तेरी आस्ताने तेरे !

मज़ालिम तेरे आफ़ियत-आफ़रीं,
मरासिम सुहाने सुहाने तेरे !

फ़क़ीरों की झोली न होगी तही,
हैं भरपूर जब तक ख़ज़ाने तेरे !

दिलों को जराहत का लुत्फ़ आ गया,
लगे हैं कुछ ऐसे निशाने तेरे !

असीरों की दौलत असीरी का ग़म,
नए दाम तेरे पुराने तेरे !

बस एक ज़ख़्म-ए-नज़्ज़ारा हिस्सा मेरा,
बहारें तेरी आशियाने तेरे !

फ़क़ीरों का जमघट घड़ी-दो-घड़ी,
शराबें तेरी बादा-ख़ाने तेरे !

ज़मीर-ए-सदफ़ में किरन का मक़ाम,
अनोखे अनोखे ठिकाने तेरे !

बहार ओ ख़िज़ाँ कम-निगाहों के वहम,
बुरे या भले सब ज़माने तेरे !

अदम” भी है तेरा हिकायत-कदा,
कहाँ तक गए हैं फ़साने तेरे !!

 

Hawayen Tez Thin Ye To Faqat Bahane The..

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the,
Safine yun bhi kinare pe kab lagane the.

Khayal aata hai rah-rah ke laut jaane ka,
Safar se pahle humein apne ghar jalane the.

Guman tha ki samajh lenge mausamon ka mizaj,
Khuli jo aankh to zad pe sabhi thikane the.

Humein bhi aaj hi karna tha intezaar us ka,
Use bhi aaj hi sab wade bhul jaane the.

Talash jin ko hamesha buzurg karte rahe,
Na jaane kaun si duniya mein wo khazane the.

Chalan tha sab ke ghamon mein sharik rahne ka,
Ajib din the ajab sar-phire zamane the. !!

हवाएँ तेज़ थीं ये तो फ़क़त बहाने थे,
सफ़ीने यूँ भी किनारे पे कब लगाने थे !

ख़याल आता है रह-रह के लौट जाने का,
सफ़र से पहले हमें अपने घर जलाने थे !

गुमान था कि समझ लेंगे मौसमों का मिज़ाज,
खुली जो आँख तो ज़द पे सभी ठिकाने थे !

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का,
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे !

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे !

चलन था सब के ग़मों में शरीक रहने का,
अजीब दिन थे अजब सर-फिरे ज़माने थे !!

-Aashufta Changezi Ghazal / Poetry