Tuesday , August 3 2021

Poetry Types Khayal

Yun Sada Dete Hue Tere Khayal Aate Hain..

Yun Sada Dete Hue Tere Khayal Aate Hain.. Rahat Indori Shayari !

Yun sada dete hue tere khayal aate hain,
Jaise kabe ki khuli chhat pe bilal aate hain.

Roz hum ashkon se dho aate hain diwar-e-haram,
Pagdiyan roz farishton ki uchhaal aate hain.

Haath abhi pichhe bandhe rahte hain chup rahte hain,
Dekhna ye hai tujhe kitne kamal aate hain.

Chaand sooraj meri chaukhat pe kai sadiyon se,
Roz likkhe hue chehre pe sawal aate hain.

Be-hisi muda-dili raqs sharaben naghme,
Bas isi rah se qaumon pe zawal aate hain. !!

यूँ सदा देते हुए तेरे ख़याल आते हैं,
जैसे काबे की खुली छत पे बिलाल आते हैं !

रोज़ हम अश्कों से धो आते हैं दीवार-ए-हरम,
पगड़ियाँ रोज़ फ़रिश्तों की उछाल आते हैं !

हाथ अभी पीछे बंधे रहते हैं चुप रहते हैं,
देखना ये है तुझे कितने कमाल आते हैं !

चाँद सूरज मेरी चौखट पे कई सदियों से,
रोज़ लिक्खे हुए चेहरे पे सवाल आते हैं !

बे-हिसी मुर्दा-दिली रक़्स शराबें नग़्मे,
बस इसी राह से क़ौमों पे ज़वाल आते हैं !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Uthi Nigah To Apne Hi Ru-Ba-Ru Hum The..

Uthi Nigah To Apne Hi Ru-Ba-Ru Hum The.. Rahat Indori Shayari !

Uthi nigah to apne hi ru-ba-ru hum the,
Zameen aaina-khana thi chaar-su hum the.

Dinon ke baad achanak tumhara dhyan aaya,
Khuda ka shukr ki us waqt ba-wazu hum the.

Wo aaina to nahi tha par aaine sa tha,
Wo hum nahi the magar yar hu-ba-hu hum the.

Zameen pe ladte hue aasman ke narghe mein,
Kabhi kabhi koi dushman kabhu kabhu hum the.

Hamara zikr bhi ab jurm ho gaya hai wahan,
Dinon ki baat hai mehfil ki aabru hum the.

Khayal tha ki ye pathraw rok den chal kar,
Jo hosh aaya to dekha lahu lahu hum the. !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Baithe Baithe Koi Khayal Aaya..

Baithe Baithe Koi Khayal Aaya.. Rahat Indori Shayari !

Baithe Baithe Koi Khayal Aaya

Baithe baithe koi khayal aaya,
Zinda rahne ka phir sawaal aaya.

Kaun dariyaon ka hisaab rakhe,
Nekiyaan nekiyon mein dal aaya.

Zindagi kis tarah guzaari jaaye,
Zindagi bhar na ye kamal aaya.

Jhooth bola hai koi aaina warna,
Patthar mein kaise baal aaya.

Wo jo do gaz zameen thi mere naam,
Aasmaan ki taraf uchhaal aaya.

Kyun ye sailaab sa hai aankhon mein,
Muskuraya tha main khayaal aaya. !!

बैठे बैठे कोई ख़याल आया,
ज़िंदा रहने का फिर सवाल आया !

कौन दरियाओं का हिसाब रखे,
नेकियाँ नेकियों में डाल आया !

ज़िंदगी किस तरह गुज़ारी जाये,
ज़िंदगी भर न ये कमाल आया !

झूठ बोला है कोई आईना वर्ना,
पत्थर में कैसे बाल आया !

वो जो दो-गज़ ज़मीं थी मेरे नाम,
आसमाँ की तरफ़ उछाल आया !

क्यूँ ये सैलाब सा है आँखों में,
मुस्कुराए था मैं ख़याल आया !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

Achchha Hai Un Se Koi Taqaza Kiya Na Jaye..

Achchha Hai Un Se Koi Taqaza Kiya Na Jaye.. Jan Nisar Akhtar Poetry

Achchha hai un se koi taqaza kiya na jaye,
Apni nazar mein aap ko ruswa kiya na jaye.

Hum hain tera khayal hai tera jamal hai,
Ek pal bhi apne aap ko tanha kiya na jaye.

Uthne ko uth to jayen teri anjuman se hum,
Par teri anjuman ko bhi suna kiya na jaye.

Un ki rawish juda hai hamari rawish juda,
Hum se to baat baat pe jhagda kiya na jaye.

Har-chand aitbar mein dhokhe bhi hain magar,
Ye to nahi kisi pe bharosa kiya na jaye.

Lahja bana ke baat karen un ke samne,
Hum se to is tarah ka tamasha kiya na jaye.

Inam ho khitab ho waise mile kahan,
Jab tak sifarishon ko ikattha kiya na jaye.

Is waqt hum se puchh na gham rozgar ke,
Hum se har ek ghunt ko kadwa kiya na jaye. !!

अच्छा है उन से कोई तक़ाज़ा किया न जाए,
अपनी नज़र में आप को रुस्वा किया न जाए !

हम हैं तेरा ख़याल है तेरा जमाल है,
एक पल भी अपने आप को तन्हा किया न जाए !

उठने को उठ तो जाएँ तेरी अंजुमन से हम,
पर तेरी अंजुमन को भी सूना किया न जाए !

उन की रविश जुदा है हमारी रविश जुदा,
हम से तो बात बात पे झगड़ा किया न जाए !

हर-चंद ऐतबार में धोखे भी हैं मगर,
ये तो नहीं किसी पे भरोसा किया न जाए !

लहजा बना के बात करें उन के सामने,
हम से तो इस तरह का तमाशा किया न जाए !

ईनाम हो ख़िताब हो वैसे मिले कहाँ,
जब तक सिफ़ारिशों को इकट्ठा किया न जाए !

इस वक़्त हम से पूछ न ग़म रोज़गार के,
हम से हर एक घूँट को कड़वा किया न जाए !!

-Jan Nisar Akhtar Ghazals / Poetry

 

Hum Se Bhaga Na Karo Dur Ghazalon Ki Tarah..

Hum Se Bhaga Na Karo Dur Ghazalon Ki Tarah..  Jan Nisar Akhtar Poetry

Hum se bhaga na karo dur ghazalon ki tarah,
Hum ne chaha hai tumhein chahne walon ki tarah.

Khud-ba-khud nind si aankhon mein ghuli jati hai,
Mahki mahki hai shab-e-gham tere baalon ki tarah.

Tere bin raat ke hathon pe ye taron ke ayagh,
Khub-surat hain magar zahar ke pyalon ki tarah.

Aur kya is se ziyaada koi narmi bartun,
Dil ke zakhmon ko chhua hai tere galon ki tarah.

Gungunate hue aur aa kabhi un sinon mein,
Teri khatir jo mahakte hain shiwalon ki tarah.

Teri zulfen teri aankhen tere abru tere lab,
Ab bhi mashhur hain duniya mein misalon ki tarah.

Hum se mayus na ho aye shab-e-dauran ki abhi,
Dil mein kuch dard chamakte hain ujalon ki tarah.

Mujh se nazren to milao ki hazaron chehre,
Meri aankhon mein sulagte hain sawalon ki tarah.

Aur to mujh ko mila kya meri mehnat ka sila,
Chand sikke hain mere hath mein chhaalon ki tarah.

Justuju ne kisi manzil pe thaharne na diya,
Hum bhatakte rahe aawara khayalon ki tarah.

Zindagi jis ko tera pyar mila wo jaane,
Hum to nakaam rahe chahne walon ki tarah. !!

Hum Se Bhaga Na Karo Dur Ghazalon Ki Tarah..  Jan Nisar Akhtar Poetry In Hindi Language

हम से भागा न करो दूर ग़ज़ालों की तरह,
हम ने चाहा है तुम्हें चाहने वालों की तरह !

ख़ुद-ब-ख़ुद नींद सी आँखों में घुली जाती है,
महकी महकी है शब-ए-ग़म तेरे बालों की तरह !

तेरे बिन रात के हाथों पे ये तारों के अयाग़,
ख़ूब-सूरत हैं मगर ज़हर के प्यालों की तरह !

और क्या इस से ज़ियादा कोई नरमी बरतूँ,
दिल के ज़ख़्मों को छुआ है तेरे गालों की तरह !

गुनगुनाते हुए और आ कभी उन सीनों में,
तेरी ख़ातिर जो महकते हैं शिवालों की तरह !

तेरी ज़ुल्फ़ें तेरी आँखें तेरे अबरू तेरे लब,
अब भी मशहूर हैं दुनिया में मिसालों की तरह !

हम से मायूस न हो ऐ शब-ए-दौराँ कि अभी,
दिल में कुछ दर्द चमकते हैं उजालों की तरह !

मुझ से नज़रें तो मिलाओ कि हज़ारों चेहरे,
मेरी आँखों में सुलगते हैं सवालों की तरह !

और तो मुझ को मिला क्या मेरी मेहनत का सिला,
चंद सिक्के हैं मेरे हाथ में छालों की तरह !

जुस्तुजू ने किसी मंज़िल पे ठहरने न दिया,
हम भटकते रहे आवारा ख़यालों की तरह !

ज़िंदगी जिस को तेरा प्यार मिला वो जाने,
हम तो नाकाम रहे चाहने वालों की तरह !!

-Jan Nisar Akhtar Ghazal / Urdu Poetry

 

Halqe Nahi Hain Zulf Ke Halqe Hain Jal Ke

Halqe nahi hain zulf ke halqe hain jal ke,
Han aye nigah-e-shauq zara dekh-bhaal ke.

Pahunche hain ta-kamar jo tere gesu-e-rasa,
Mani ye hain kamar bhi barabar hai baal ke.

Bos-o-kanar-o-wasl-e-hasinan hai khub shaghl,
Kamtar buzurg honge khilaf is khayal ke.

Qamat se tere sane-e-qudrat ne aye hasin,
Dikhla diya hai hashr ko sanche mein dhaal ke.

Shan-e-dimagh ishq ke jalwe se ye badhi,
Rakhta hai hosh bhi qadam apne sambhaal ke.

Zinat muqaddama hai musibat ka dahr mein,
Sab shama ko jalate hain sanche mein dhaal ke.

Hasti ke haq ke samne kya asl-e-in-o-an,
Putle ye sab hain aap ke wahm-o-khayal ke.

Talwar le ke uthta hai har talib-e-farogh,
Daur-e-falak mein hain ye ishaare hilal ke.

Pechida zindagi ke karo tum muqaddame,
Dikhla hi degi maut natija nikal ke. !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Khayal Usi Ki Taraf Bar Bar Jata Hai

Khayal usi ki taraf bar bar jata hai,
Mere safar ki thakan kaun utar jata hai.

Ye us ka apna tariqa hai dan karne ka,
Wo jis se shart lagata hai haar jata hai.

Ye khel meri samajh mein kabhi nahi aaya,
Main jeet jata hun bazi wo mar jata hai.

Main apni nind dawaon se qarz leta hun,
Ye qarz khwab mein koi utar jata hai.

Nasha bhi hota hai halka sa zahar mein shamil,
Wo jab bhi milta hai ek dank mar jata hai.

Main sab ke waste karta hun kuch na kuch “Nazmi”,
Jahan jahan bhi mera ikhtiyar jata hai. !!

ख़याल उसी की तरफ़ बार बार जाता है,
मेरे सफ़र की थकन कौन उतार जाता है !

ये उस का अपना तरीक़ा है दान करने का,
वो जिस से शर्त लगाता है हार जाता है !

ये खेल मेरी समझ में कभी नहीं आया,
मैं जीत जाता हूँ बाज़ी वो मार जाता है !

मैं अपनी नींद दवाओं से क़र्ज़ लेता हूँ,
ये क़र्ज़ ख़्वाब में कोई उतार जाता है !

नशा भी होता है हल्का सा ज़हर में शामिल,
वो जब भी मिलता है एक डंक मार जाता है !

मैं सब के वास्ते करता हूँ कुछ न कुछ “नज़मी”,
जहाँ जहाँ भी मेरा इख़्तियार जाता है !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

 

Muddat Hui Hai Yaar Ko Mehman Kiye Hue

Muddat hui hai yaar ko mehman kiye hue,
Josh-e-qadah se bazm charaghan kiye hue.

Karta hun jama phir jigar-e-lakht-lakht ko,
Arsa hua hai dawat-e-mizhgan kiye hue.

Phir waz-e-ehtiyat se rukne laga hai dam,
Barson hue hain chaak gareban kiye hue.

Phir garm-nala-ha-e-sharar-bar hai nafas,
Muddat hui hai sair-e-charaghan kiye hue.

Phir pursish-e-jarahat-e-dil ko chala hai ishq,
Saman-e-sad-hazar namak-dan kiye hue.

Phir bhar raha hun khama-e-mizhgan ba-khun-e-dil,
Saz-e-chaman taraazi-e-daman kiye hue.

Baham-digar hue hain dil o dida phir raqib,
Nazzara o khayal ka saman kiye hue.

Dil phir tawaf-e-ku-e-malamat ko jaye hai,
Pindar ka sanam-kada viran kiye hue.

Phir shauq kar raha hai kharidar ki talab,
Arz-e-mata-e-aql-o-dil-o-jaan kiye hue.

Daude hai phir har ek gul-o-lala par khayal,
Sad-gulistan nigah ka saman kiye hue.

Phir chahta hun nama-e-dildar kholna,
Jaan nazr-e-dil-farebi-e-unwan kiye hue.

Mange hai phir kisi ko lab-e-baam par hawas,
Zulf-e-siyah rukh pe pareshan kiye hue.

Chahe hai phir kisi ko muqabil mein aarzu,
Surme se tez dashna-e-mizhgan kiye hue.

Ek nau-bahaar-e-naz ko take hai phir nigah,
Chehra farogh-e-mai se gulistan kiye hue.

Phir ji mein hai ki dar pe kisi ke pade rahen,
Sar zer-bar-e-minnat-e-darban kiye hue.

Ji dhundta hai phir wahi fursat ki raat din,
Baithe rahen tasawwur-e-jaanan kiye hue.

Ghalib” hamein na chhed ki phir josh-e-ashk se,
Baithe hain hum tahayya-e-tufan kiye hue. !!

मुद्दत हुई है यार को मेहमाँ किए हुए,
जोश-ए-क़दह से बज़्म चराग़ाँ किए हुए !

करता हूँ जमा फिर जिगर-ए-लख़्त-लख़्त को,
अर्सा हुआ है दावत-ए-मिज़्गाँ किए हुए !

फिर वज़-ए-एहतियात से रुकने लगा है दम,
बरसों हुए हैं चाक गरेबाँ किए हुए !

फिर गर्म-नाला-हा-ए-शरर-बार है नफ़स,
मुद्दत हुई है सैर-ए-चराग़ाँ किए हुए !

फिर पुर्सिश-ए-जराहत-ए-दिल को चला है इश्क़,
सामान-ए-सद-हज़ार नमक-दाँ किए हुए !

फिर भर रहा हूँ ख़ामा-ए-मिज़्गाँ ब-ख़ून-ए-दिल,
साज़-ए-चमन तराज़ी-ए-दामाँ किए हुए !

बाहम-दिगर हुए हैं दिल ओ दीदा फिर रक़ीब,
नज़्ज़ारा ओ ख़याल का सामाँ किए हुए !

दिल फिर तवाफ़-ए-कू-ए-मलामत को जाए है,
पिंदार का सनम-कदा वीराँ किए हुए !

फिर शौक़ कर रहा है ख़रीदार की तलब,
अर्ज़-ए-मता-ए-अक़्ल-ओ-दिल-ओ-जाँ किए हुए !

दौड़े है फिर हर एक गुल-ओ-लाला पर ख़याल,
सद-गुलिस्ताँ निगाह का सामाँ किए हुए !

फिर चाहता हूँ नामा-ए-दिलदार खोलना,
जाँ नज़्र-ए-दिल-फ़रेबी-ए-उनवाँ किए हुए !

माँगे है फिर किसी को लब-ए-बाम पर हवस,
ज़ुल्फ़-ए-सियाह रुख़ पे परेशाँ किए हुए !

चाहे है फिर किसी को मुक़ाबिल में आरज़ू,
सुरमे से तेज़ दश्ना-ए-मिज़्गाँ किए हुए !

इक नौ-बहार-ए-नाज़ को ताके है फिर निगाह,
चेहरा फ़रोग़-ए-मय से गुलिस्ताँ किए हुए !

फिर जी में है कि दर पे किसी के पड़े रहें,
सर ज़ेर-बार-ए-मिन्नत-ए-दरबाँ किए हुए !

जी ढूँडता है फिर वही फ़ुर्सत कि रात दिन,
बैठे रहें तसव्वुर-ए-जानाँ किए हुए !

ग़ालिब” हमें न छेड़ कि फिर जोश-ए-अश्क से,
बैठे हैं हम तहय्या-ए-तूफ़ाँ किए हुए !!

 

Kuch To Hawa Bhi Sard Thi Kuch Tha Tera Khayal Bhi..

Kuch to hawa bhi sard thi kuch tha tera khayal bhi,
Dil ko khushi ke sath sath hota raha malal bhi.

Baat wo aadhi raat ki raat wo pure chaand ki,
Chaand bhi ain chait ka us pe tera jamal bhi.

Sab se nazar bacha ke wo mujh ko kuch aise dekhta,
Ek dafa to ruk gai gardish-e-mah-o-sal bhi.

Dil to chamak sakega kya phir bhi tarash ke dekh len,
Shisha-giran-e-shahr ke hath ka ye kamal bhi.

Us ko na pa sake the jab dil ka ajib haal tha,
Ab jo palat ke dekhiye baat thi kuch muhaal bhi.

Meri talab tha ek shakhs wo jo nahin mila to phir,
Hath dua se yun gira bhul gaya sawal bhi.

Us ki sukhan-taraaziyan mere liye bhi dhaal thi,
Us ki hansi mein chhup gaya apne ghamon ka haal bhi.

Gah qarib-e-shah-rag gah baid-e-wahm-o-khwab,
Us ki rafaqaton mein raat hijr bhi tha visal bhi.

Us ke hi bazuon mein aur us ko hi sochte rahe,
Jism ki khwahishon pe the ruh ke aur jal bhi.

Sham ki na-samajh hawa puch rahi hai ek pata,
Mauj-e-hawa-e-ku-e-yar kuch to mera khayal bhi. !!

कुछ तो हवा भी सर्द थी कुछ था तेरा ख़याल भी,
दिल को ख़ुशी के साथ साथ होता रहा मलाल भी !

बात वो आधी रात की रात वो पूरे चाँद की,
चाँद भी ऐन चैत का उस पे तेरा जमाल भी !

सब से नज़र बचा के वो मुझ को कुछ ऐसे देखता,
एक दफ़ा तो रुक गई गर्दिश-ए-माह-ओ-साल भी !

दिल तो चमक सकेगा क्या फिर भी तराश के देख लें,
शीशा-गिरान-ए-शहर के हाथ का ये कमाल भी !

उस को न पा सके थे जब दिल का अजीब हाल था,
अब जो पलट के देखिए बात थी कुछ मुहाल भी !

मेरी तलब था एक शख़्स वो जो नहीं मिला तो फिर,
हाथ दुआ से यूँ गिरा भूल गया सवाल भी !

उस की सुख़न-तराज़ियाँ मेरे लिए भी ढाल थीं,
उस की हँसी में छुप गया अपने ग़मों का हाल भी !

गाह क़रीब-ए-शाह-रग गाह बईद-ए-वहम-ओ-ख़्वाब,
उस की रफ़ाक़तों में रात हिज्र भी था विसाल भी !

उस के ही बाज़ुओं में और उस को ही सोचते रहे,
जिस्म की ख़्वाहिशों पे थे रूह के और जाल भी !

शाम की ना-समझ हवा पूछ रही है एक पता,
मौज-ए-हवा-ए-कू-ए-यार कुछ तो मिरा ख़याल भी !! -Parveen Shakir Ghazal

 

Kabhi Kabhi Mere Dil Mein Khayal Aata Hai..

Kabhi kabhi mere dil mein khayal aata hai…

Ki zindagi teri zulfon ki narm chhanw mein
Guzarne pati to shadab ho bhi sakti thi
Ye tirgi jo meri zist ka muqaddar hai
Teri nazar ki shuaon mein kho bhi sakti thi..

Ajab na tha ki main begana-e-alam ho kar
Tere jamal ki ranaiyon mein kho rahta
Tera gudaz-badan teri nim-baz aankhen
Inhi hasin fasanon mein mahw ho rahta..

Pukartin mujhe jab talkhiyan zamane ki
Tere labon se halawat ke ghunt pi leta
Hayat chikhti phirti barahna sar aur main
Ghaneri zulfon ke saye mein chhup ke ji leta..

Magar ye ho na saka aur ab ye aalam hai
Ki tu nahin tera gham teri justuju bhi nahin
Guzar rahi hai kuchh is tarah zindagi jaise
Ise kisi ke sahaare ki aarzoo bhi nahin..

Zamane bhar ke dukhon ko laga chuka hun gale
Guzar raha hun kuchh an-jaani rahguzaron se
Muhib saye meri samt badhte aate hain
Hayat o maut ke pur-haul kharzaron se..

Na koi jada-e-manzil na raushni ka suragh
Bhatak rahi hai khalaon mein zindagi meri
Inhi khalaon mein rah jaunga kabhi kho kar
Main janta hun meri ham-nafas magar yunhi..

Kabhi kabhi mere dil mein khayal aata hai…

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है…

कि ज़िंदगी तेरी ज़ुल्फ़ों की नर्म छाँव में
गुज़रने पाती तो शादाब हो भी सकती थी
ये तीरगी जो मेरी ज़ीस्त का मुक़द्दर है
तेरी नज़र की शुआ’ओं में खो भी सकती थी..

अजब न था कि मैं बेगाना-ए-अलम हो कर
तेरे जमाल की रानाइयों में खो रहता
तेरा गुदाज़-बदन तेरी नीम-बाज़ आँखें
इन्ही हसीन फ़सानों में महव हो रहता..

पुकारतीं मुझे जब तल्ख़ियाँ ज़माने की
तेरे लबों से हलावत के घूँट पी लेता
हयात चीख़ती फिरती बरहना सर और मैं
घनेरी ज़ुल्फ़ों के साए में छुप के जी लेता..

मगर ये हो न सका और अब ये आलम है
कि तू नहीं तेरा ग़म तेरी जुस्तुजू भी नहीं
गुज़र रही है कुछ इस तरह ज़िंदगी जैसे
इसे किसी के सहारे की आरज़ू भी नहीं..

ज़माने भर के दुखों को लगा चुका हूँ गले
गुज़र रहा हूँ कुछ अन-जानी रहगुज़ारों से
मुहीब साए मेरी सम्त बढ़ते आते हैं
हयात ओ मौत के पुर-हौल ख़ारज़ारों से..

न कोई जादा-ए-मंज़िल न रौशनी का सुराग़
भटक रही है ख़लाओं में ज़िंदगी मेरी
इन्ही ख़लाओं में रह जाऊँगा कभी खो कर
मैं जानता हूँ मेरी हम-नफ़स मगर यूँही..

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है…

Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection