Thursday , September 24 2020

Poetry Types Khauf

Subah Se Shaam Hui Aur Hiran Mujhko Chhalawe Deta..

Subah Se Shaam Hui Aur Hiran Mujhko Chhalawe Deta.. Gulzar Nazm !

Subah se shaam hui aur hiran mujhko chhalawe deta
Sare jangal mein pareshan kiye ghum raha hai ab tak
Uski gardan ke bahut pas se guzre hain kai tir mere
Wo bhi ab utna hi hushyar hai jitna main hun
Ek jhalak de ke jo gum hota hai wo pedon mein
Main wahan pahunchun to tile pe kabhi chashme ke us par nazar aata hai
Wo nazar rakhta hai mujh par
Main use aankh se ojhal nahi hone deta

Kaun daudaye hue hai kisko
Kaun ab kis ka shikari hai pata hi nahi chalta

Subah utra tha main jangal mein
To socha tha ki us shokh hiran ko
Neze ki nok pe parcham ki tarah tan ke main shehar mein dakhil hunga
Din magar dhalne laga hai
Dil mein ek khauf sa ab baith raha hai
Ki bil-akhir ye hiran hi
Mujhe singon par uthaye hue ek ghaar mein dakhil hoga. !! -Gulzar Nazm

सुबह से शाम हुई और हिरन मुझ को छलावे देता
सारे जंगल में परेशान किए घूम रहा है अब तक
उसकी गर्दन के बहुत पास से गुज़रे हैं कई तीर मेरे
वो भी अब उतना ही हुश्यार है जितना मैं हूँ
एक झलक दे के जो गुम होता है वो पेड़ों में
मैं वहाँ पहुँचूँ तो टीले पे कभी चश्मे के उस पार नज़र आता है
वो नज़र रखता है मुझ पर
मैं उसे आँख से ओझल नहीं होने देता

कौन दौड़ाए हुए है किसको
कौन अब किस का शिकारी है पता ही नहीं चलता

सुबह उतरा था मैं जंगल में
तो सोचा था कि उस शोख़ हिरन को
नेज़े की नोक पे परचम की तरह तान के मैं शहर में दाख़िल हूँगा
दिन मगर ढलने लगा है
दिल में एक ख़ौफ़ सा अब बैठ रहा है
कि बिल-आख़िर ये हिरन ही
मुझे सींगों पर उठाए हुए एक ग़ार में दाख़िल होगा !! -गुलज़ार नज़्म

 

Sisakti Rut Ko Mahakta Gulab Kar Dunga..

Sisakti Rut Ko Mahakta Gulab Kar Dunga.. Rahat Indori Shayari !

Sisakti Rut Ko Mahakta Gulab Kar Dunga

Sisakti rut ko mahakta gulab kar dunga,
Main is bahaar mein sab ka hisaab kar dunga.

Hazaar pardon mein khud ko chhupa ke baith magar,
Tujhe kabhi na kabhi be-naqaab kar dunga.

Mujhe yaqeen hai ki mehfil ki raushni hun main,
Unhein ye khauf ki mehfil kharaab kar dunga.

Mujhe gilaas ke andar hi qaid rakh warna,
Main sare shehar ka pani sharaab kar dunga.

Main intezaar mein hun tu koi sawal to kar,
Yaqeen rakh main tujhe lajawaab kar dunga.

Mahajanon se kaho thoda intezaar karen,
Sharaab-khane se aa kar hisaab kar dunga. !!

सिसकती रुत को महकता गुलाब कर दूँगा,
मैं इस बहार में सब का हिसाब कर दूँगा !

हज़ार पर्दों में ख़ुद को छुपा के बैठ मगर,
तुझे कभी न कभी बे-नक़ाब कर दूँगा !

मुझे यक़ीन है कि महफ़िल की रौशनी हूँ मैं,
उन्हें ये ख़ौफ़ कि महफ़िल ख़राब कर दूँगा !

मुझे गिलास के अंदर ही क़ैद रख वर्ना,
मैं सारे शहर का पानी शराब कर दूँगा !

मैं इंतज़ार में हूँ तू कोई सवाल तो कर,
यक़ीन रख मैं तुझे ला-जवाब कर दूँगा !

महाजनों से कहो थोड़ा इंतज़ार करें,
शराब-ख़ाने से आ कर हिसाब कर दूँगा !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

Unhe Nigah Hai Apne Jamal Hi Ki Taraf

Unhe nigah hai apne jamal hi ki taraf – A Ghazal By Akbar Allahabadi

Unhe nigah hai apne jamal hi ki taraf,
Nazar utha ke nahi dekhte kisi ki taraf.

Tawajjoh apni ho kya fann-e-shairi ki taraf,
Nazar har ek ki jati hai aib hi ki taraf.

Likha hua hai jo rona mere muqaddar mein,
Khayal tak nahi jata kabhi hansi ki taraf.

Tumhaara saya bhi jo log dekh lete hain,
Wo aankh utha ke nahi dekhte pari ki taraf.

Bala mein phansta hai dil muft jaan jati hai,
Khuda kisi ko na le jaye us gali ki taraf.

Kabhi jo hoti hai takrar ghair se hum se,
To dil se hote ho dar-parda tum usi ki taraf.

Nigah padti hai un par tamam mehfil ki,
Wo aankh utha ke nahi dekhte kisi ki taraf.

Nigah us but-e-khud-bin ki hai mere dil par,
Na aaine ki taraf hai na aarsi ki taraf.

Qubul kijiye lillah tohfa-e-dil ko,
Nazar na kijiye is ki shikastagi ki taraf.

Yahi nazar hai jo ab qatil-e-zamana hui,
Yahi nazar hai ki uthti na thi kisi ki taraf.

Gharib-khana mein lillah do-ghadi baitho,
Bahut dinon mein tum aaye ho is gali ki taraf.

Zara si der hi ho jayegi to kya hoga,
Ghadi ghadi na uthao nazar ghadi ki taraf.

Jo ghar mein puchhe koi khauf kya hai kah dena,
Chale gaye the tahalte hue kisi ki taraf.

Hazar jalwa-e-husn-e-butan ho aye “Akbar“,
Tum apna dhyan lagaye raho usi ki taraf. !!

Unhe nigah hai apne jamal hi ki taraf In Hindi Language

उन्हें निगाह है अपने जमाल ही की तरफ़,
नज़र उठा के नहीं देखते किसी की तरफ़ !

तवज्जोह अपनी हो क्या फ़न्न-ए-शाइरी की तरफ़,
नज़र हर एक की जाती है ऐब ही की तरफ़ !

लिखा हुआ है जो रोना मेरे मुक़द्दर में,
ख़याल तक नहीं जाता कभी हँसी की तरफ़ !

तुम्हारा साया भी जो लोग देख लेते हैं,
वो आँख उठा के नहीं देखते परी की तरफ़ !

बला में फँसता है दिल मुफ़्त जान जाती है,
ख़ुदा किसी को न ले जाए उस गली की तरफ़ !

कभी जो होती है तकरार ग़ैर से हम से,
तो दिल से होते हो दर-पर्दा तुम उसी की तरफ़ !

निगाह पड़ती है उन पर तमाम महफ़िल की,
वो आँख उठा के नहीं देखते किसी की तरफ़ !

निगाह उस बुत-ए-ख़ुद-बीं की है मेरे दिल पर,
न आइने की तरफ़ है न आरसी की तरफ़ !

क़ुबूल कीजिए लिल्लाह तोहफ़ा-ए-दिल को,
नज़र न कीजिए इस की शिकस्तगी की तरफ़ !

यही नज़र है जो अब क़ातिल-ए-ज़माना हुई,
यही नज़र है कि उठती न थी किसी की तरफ़ !

ग़रीब-ख़ाना में लिल्लाह दो-घड़ी बैठो,
बहुत दिनों में तुम आए हो इस गली की तरफ़ !

ज़रा सी देर ही हो जाएगी तो क्या होगा,
घड़ी घड़ी न उठाओ नज़र घड़ी की तरफ़ !

जो घर में पूछे कोई ख़ौफ़ क्या है कह देना,
चले गए थे टहलते हुए किसी की तरफ़ !

हज़ार जल्वा-ए-हुस्न-ए-बुताँ हो ऐ “अकबर“,
तुम अपना ध्यान लगाए रहो उसी की तरफ़ !!

 

Jab Bachpan Tha Toh Jawaani Ek Khwaab Tha..

Jab Bachpan Tha Toh Jawaani Ek Khwaab Tha – Heart Touching Poetry !

Jab Bachpan Tha Toh Jawaani Ek Khwaab Tha

Jab Bachpan Tha..
Toh Jawaani Ek Khwaab Tha..
Jab Jawaan Huye..
Toh Bachpan Ek Zamana Tha..

Jab Ghar Mein Rahte The..
Aazadi Achchi Lagti Thi..
Aaj Aazadi Hai..
Phir Bhi Ghar Jane Ki Jaldi Rehti Hai..

Kabhi Hotel Mein Jana..
Pizza, Burger Khaana Pasand Tha..
Aaj Ghar Per Aana..
Aur Maa Ke Haath Ka Khaana Pasand Hai..

School Mein Jinke Saath Jhagarte The..
Aaj Unko Hi Internet Pe Talaashte Hain..

Khushi Kis Mein Hoti Hai..
Ye Pata Ab Chala Hai..
Bachpan Kya tha..
Iska Ehsaas Ab Hua Hai..

Kash Tabdil Kar Sakte Hum Zindagi Ke Kuch Saal..
Kash Ji Sakte Hum..
Zindagi Bharpur Phir Ek Baar..

Jab Apne Shirt Mein Haath Chupate The..
Aur Logon Se Kehte Phirte The..
Dekho..
Maine Apne Haath Jaadu Se Ghayab Kar Diye..

Jab Humare Paas..
Chaar Rangon Se Likhne Wali Ek Qalam Hua Karti Thi..
Aur Hum Sab Ke Button Ko..
Ek Saath Dabane Ki Koshish Kiya Karte The..

Jab Hum Darwaze Ke Piche Chupte The..
Taaki Agar Koi Aaye..
Toh Usse Daraa Sakein..

Jab Aankh Bandh Karke Sone Ka Drama Karte The..
Taaki Koi Humein God Mein Utha Ke..
Bistar Tak Pohncha De..

Socha Karte The..
Ke Ye Chaand Humari Cycle Ke Piche Piche..
Kyun Chal Raha hai..

Wall Switch Ko Darmiyan Mein Atkane Ki..
Koshish Kiya Karte The..

Phal Ke Beej Ko Is Khauf Se Nahi Khate The..
Ke Kahin Humare Pait Mein Darakht Na Ugg Jaye..

Saal Girah Sirf Is Wajah Se Manate The..
Taaki Dhaer Sare Tohfen Milen..

Fridge Aahista Se Bandh Kar Ke..
Ye Janne Ki Koshish Karte The..
Ke Uski Roshni Kab Bandh Hoti Hai..

Sach..
Bachpan Mein Sochte The..
Hum Bade Kyon Nahi Ho rahe..
Aur Ab Sochte Hain..
Hum Bade Kyon Ho Gaye..

Jab Bachpan Tha..
Toh Jawaani Ek Khwaab Tha..
Jab Jawaan Huye..
Toh Bachpan Ek Zamana Tha.. !!

Jab Bachpan Tha Toh Jawaani Ek Khwaab Tha – Heart Touching Poetry In Hindi Language !

जब बचपन था..
तो जवानी एक ख्वाब था..
जब जवान हुए..
तो बचपन एक ज़माना था..

जब घर में रहते थे..
आज़ादी अच्छी लगती थी..
आज आज़ादी है..
फिर भी घर जाने की जल्दी रहती है..

कभी होटल में जाना..
पिज़्ज़ा, बर्गर खाना पसंद था..
आज घर पर आना..
और माँ के हाथ का खाना पसंद है..

स्कूल में जिनके साथ झगड़ते थे..
आज उनको ही इंटरनेट पे तलाशते हैं..

खुशी किस में होती है..
ये पता अब चला है..
बचपन क्या था..
इसका एहसास अब हुआ है..

काश तब्दील कर सकते हम ज़िंदगी के कुछ साल..
काश जी सकते हम..
ज़िन्दगी भरपूर फिर एक बार..

जब अपने शर्ट में हाथ छुपाते थे..
और लोगों से कहते फिरते थे..
देखो..
मैंने अपने हाथ जादू से गायब कर दिए..

जब हमारे पास..
चार रंगों से लिखने वाली एक क़लाम हुआ करती थी..
और हम सब के बटन को..
एक साथ दबाने की कोशिश किया करते थे..

जब हम दरवाज़े के पीछे छुपते थे..
ताकि अगर कोई आये..
तो उससे डरा सकें..

जब आँख बंद करके सोने का ड्रामा करते थे..
ताकि कोई हमें गोद में उठा के..
बिस्तर तक पोहंचा दे..

सोचा करते थे..
के ये चाँद हमारी साइकिल के पीछे पीछे..
क्यों चल रहा है..

वाल स्विच को दरमियाँ में अटकने की..
कोशिश किया करते थे..

फल के बीज को इस खौफ से नहीं खाते थे..
के कहीं हमारे पेट में दरख्त न उग्ग जाये..

साल गिरह सिर्फ इस वजह से मनाते थे..
ताकि ढेर सारे तोहफे मिले..

फ्रिज आहिस्ता से बांध कर के..
ये जानने की कोशिश करते थे..
के उसकी रौशनी कब बांध होती है..

सच..
बचपन में सोचते थे..
हम बड़े क्यों नहीं हो रहे..
और अब सोचते हैं..
हम बड़े क्यों हो गए..

जब बचपन था..
तो जवानी एक ख्वाब था..
जब जवान हुए..
तो बचपन एक ज़माना था.. !!

Childhood Memories / बचपन की यादें शायरी

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

Har Ek Baat Pe Kehte Ho Tum Ki Tu Kya Hai

Har ek baat pe kehte ho tum ki tu kya hai,
Tumhin kaho ki ye andaz-e-guftugu kya hai.

Na shoale mein ye karishma na barq mein ye ada,
Koi batao ki wo shokh-e-tund-khu kya hai.

Ye rashk hai ki wo hota hai ham-sukhan tum se,
Wagarna khauf-e-bad-amozi-e-adu kya hai.

Chipak raha hai badan par lahu se pairahan,
Hamare jaib ko ab hajat-e-rafu kya hai.

Jala hai jism jahan dil bhi jal gaya hoga,
Kuredte ho jo ab rakh justuju kya hai.

Ragon mein daudte phirne ke hum nahi qail,
Jab aankh hi se na tapka to phir lahu kya hai.

Wo chiz jis ke liye hum ko ho bahisht aziz,
Siwae baada-e-gulfam-e-mushk-bu kya hai.

Piyun sharaab agar khum bhi dekh lun do-chaar,
Ye shisha o qadah o kuza o subu kya hai.

Rahi na taqat-e-guftar aur agar ho bhi,
To kis umid pe kahiye ki aarzu kya hai.

Hua hai shah ka musahib phire hai itraata,
Wagarna shahr mein “Ghalib” ki aabru kya hai. !!

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है,
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तुगू क्या है !

न शोले में ये करिश्मा न बर्क़ में ये अदा,
कोई बताओ कि वो शोख़-ए-तुंद-ख़ू क्या है !

ये रश्क है कि वो होता है हम-सुख़न तुम से,
वगर्ना ख़ौफ़-ए-बद-आमोज़ी-ए-अदू क्या है !

चिपक रहा है बदन पर लहू से पैराहन,
हमारे जैब को अब हाजत-ए-रफ़ू क्या है !

जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा,
कुरेदते हो जो अब राख जुस्तुजू क्या है !

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल,
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है !

वो चीज़ जिस के लिए हम को हो बहिश्त अज़ीज़,
सिवाए बादा-ए-गुलफ़ाम-ए-मुश्क-बू क्या है !

पियूँ शराब अगर ख़ुम भी देख लूँ दो-चार,
ये शीशा ओ क़दह ओ कूज़ा ओ सुबू क्या है !

रही न ताक़त-ए-गुफ़्तार और अगर हो भी,
तो किस उमीद पे कहिए कि आरज़ू क्या है !

हुआ है शह का मुसाहिब फिरे है इतराता,
वगर्ना शहर में “ग़ालिब” की आबरू क्या है !!

 

Ek Parinda Abhi Udaan Me Hai..

Ek parinda abhi udaan me hai,
Tir har shakhs ki kaman mein hai.

Jis ko dekho wahi hai chup chup sa,
Jaise har shakhs imtihan mein hai.

Kho chuke hum yakin jaisi shai,
Tu abhi tak kisi guman mein hai.

Zindagi sang-dil sahi lekin,
Aaina bhi isi chatan mein hai.

Sar-bulandi nasib ho kaise,
Sar-nigun hai ki sayeban mein hai.

Khauf hi khauf jagte sote,
Koi aaseb is makan mein hai.

Aasra dil ko ek umid ka hai,
Ye hawa kab se baadban mein hai.

Khud ko paya na umar bhar hum ne,
Kaun hai jo hamare dhyan mein hai. !!

एक परिंदा अभी उड़ान में है,
तीर हर शख़्स की कमान में है !

जिस को देखो वही है चुप चुप सा,
जैसे हर शख़्स इम्तिहान में है !

खो चुके हम यक़ीन जैसी शय,
तू अभी तक किसी गुमान में है !

ज़िंदगी संग-दिल सही लेकिन,
आईना भी इसी चटान में है !

सर-बुलंदी नसीब हो कैसे,
सर-निगूँ है कि साएबान में है !

ख़ौफ़ ही ख़ौफ़ जागते सोते,
कोई आसेब इस मकान में है !

आसरा दिल को एक उमीद का है,
ये हवा कब से बादबान में है !

ख़ुद को पाया न उम्र भर हम ने,
कौन है जो हमारे ध्यान में है !!

Amir Qazalbash All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Kitne Hi Ped Khauf-E-Khizan Se Ujad Gaye..

Kitne hi ped khauf-e-khizan se ujad gaye,
Kuchh barg-e-sabz waqt se pahle hi jhad gaye.

Kuchh aadhiyan bhi apnī muavin safar mein thi,
Thak kar padav dala to kheme ukhad gaye.

Ab ke meri shikast mein un ka bhi haath hai,
Woh tir jo kaman ke panje mein gad gaye.

Suljhi thi gutthiyan meri danist mein magar,
Hasil ye hai ki zakhmon ke tanke ukhad gaye.

Nirwan kya bas ab to aman ki talash hai,
Tahzib phailne lagi jangal sukad gaye.

Is band ghar mein kaise kahun kya tilism hai,
Khole the jitne qufl woh honthon pe pad gaye.

Be-saltanat hui hain kayi unchi gardanen,
Bahar saron ke dast-e-tasallut se dhad gaye. !!

कितने ही पेड़ ख़ौफ़-ए-ख़िज़ाँ से उजड़ गए,
कुछ बर्ग-ए-सब्ज़ वक़्त से पहले ही झड़ गए !

कुछ आँधियाँ भी अपनी मुआविन सफ़र में थीं,
थक कर पड़ाव डाला तो ख़ेमे उखड़ गए !

अब के मेरी शिकस्त में उन का भी हाथ है,
वो तीर जो कमान के पंजे में गड़ गए !

सुलझी थीं गुत्थियाँ मेरी दानिस्त में मगर,
हासिल ये है कि ज़ख़्मों के टाँके उखड़ गए !

निरवान क्या बस अब तो अमाँ की तलाश है,
तहज़ीब फैलने लगी जंगल सुकड़ गए !

इस बंद घर में कैसे कहूँ क्या तिलिस्म है,
खोले थे जितने क़ुफ़्ल वो होंटों पे पड़ गए !

बे-सल्तनत हुई हैं कई ऊँची गर्दनें,
बाहर सरों के दस्त-ए-तसल्लुत से धड़ गए !!

-Aanis Moin Ghazal / Poetry

 

Ajib Khauf Musallat Tha Kal Haweli Par..

Ajib khauf musallat tha kal haweli par,
Lahu charagh jalati rahi hatheli par.

Sunega kaun magar ehtijaj khushbu ka,
Ki sanp zahar chhidakta raha chameli par.

Shab-e-firaq meri aankh ko thakan se bacha,
Ki nind war na kar de teri saheli par.

Wo bewafa tha to phir itna mehrban kyun tha,
Bichhad ke us se main sochun usi paheli par.

Jala na ghar ka andhera charagh se “Mohsin“,
Sitam na kar meri jaan apne yar beli par. !!

अजीब ख़ौफ़ मुसल्लत था कल हवेली पर,
लहु चराग़ जलाती रही हथेली पर !

सुनेगा कौन मगर एहतिजाज ख़ुश्बू का,
कि साँप ज़हर छिड़कता रहा चमेली पर !

शब-ए-फ़िराक़ मेरी आँख को थकन से बचा,
कि नींद वार न कर दे तेरी सहेली पर !

वो बेवफ़ा था तो फिर इतना मेहरबाँ क्यूँ था,
बिछड़ के उस से मैं सोचूँ उसी पहेली पर !

जला न घर का अँधेरा चराग़ से “मोहसिन“,
सितम न कर मेरी जाँ अपने यार बेली पर !!

 

Be-Khayali Mein Yunhi Bas Ek Irada Kar Liya..

Be-khayali mein yunhi bas ek irada kar liya,
Apne dil ke shauq ko had se ziyada kar liya.

Jante the donon hum us ko nibha sakte nahi,
Usne wada kar liya maine bhi wada kar liya.

Ghair se nafrat jo pa li kharch khud par ho gayi,
Jitne hum the hum ne khud ko us se aadha kar liya.

Sham ke rangon mein rakh kar saf pani ka gilas,
Aab-e-sada ko harif-e-rang-e-baada kar liya.

Hijraton ka khauf tha ya pur-kashish kohna maqam,
Kya tha jis ko hum ne khud diwar-e-jada kar liya.

Ek aisa shakhs banta ja raha hun main “Munir“,
Jis ne khud par band husn-o jam-o-baada kar liya. !!

बे-ख़याली में यूँही बस इक इरादा कर लिया,
अपने दिल के शौक़ को हद से ज़ियादा कर लिया !

जानते थे दोनों हम उस को निभा सकते नहीं,
उसने वादा कर लिया मैंने भी वादा कर लिया !

ग़ैर से नफ़रत जो पा ली ख़र्च ख़ुद पर हो गई,
जितने हम थे हम ने ख़ुद को उस से आधा कर लिया !

शाम के रंगों में रख कर साफ़ पानी का गिलास,
आब-ए-सादा को हरीफ़-ए-रंग-ए-बादा कर लिया !

हिजरतों का ख़ौफ़ था या पुर-कशिश कोहना मक़ाम,
क्या था जिस को हम ने ख़ुद दीवार-ए-जादा कर लिया !

एक ऐसा शख़्स बनता जा रहा हूँ मैं “मुनीर“,
जिस ने ख़ुद पर बंद हुस्न-ओ-जाम-ओ-बादा कर लिया !!

Aa Gayi Yaad Sham Dhalte Hi..

Aa gayi yaad sham dhalte hi,
Bujh gaya dil charagh jalte hi.

Khul gaye shahr-e-gham ke darwaze,
Ek zara si hawa ke chalte hi.

Kaun tha tu ki phir na dekha tujhe,
Mit gaya khwab aankh malte hi.

Khauf aata hai apne hi ghar se,
Mah-e-shab-tab ke nikalte hi.

Tu bhi jaise badal sa jata hai,
Aks-e-diwar ke badalte hi.

Khoon sa lag gaya hai hathon mein,
Chadh gaya zahr gul masalte hi. !!

आ गई याद शाम ढलते ही,
बुझ गया दिल चराग़ जलते ही !

खुल गए शहर-ए-ग़म के दरवाज़े,
इक ज़रा सी हवा के चलते ही !

कौन था तू कि फिर न देखा तुझे,
मिट गया ख़्वाब आँख मलते ही !

ख़ौफ़ आता है अपने ही घर से,
माह-ए-शब-ताब के निकलते ही !

तू भी जैसे बदल सा जाता है,
अक्स-ए-दीवार के बदलते ही !

ख़ून सा लग गया है हाथों में,
चढ़ गया ज़हर गुल मसलते ही !!

-Munir Niazi Ghazal / Poetry