Poetry Types Khak

Aa Ki Meri Jaan Ko Qarar Nahi Hai

Aa ki meri jaan ko qarar nahi hai,
Taqat-e-bedad-e-intizar nahi hai.

Dete hain jannat hayat-e-dahr ke badle,
Nashsha ba-andaza-e-khumar nahi hai.

Girya nikale hai teri bazm se mujh ko,
Haye ki rone pe ikhtiyar nahi hai.

Hum se abas hai guman-e-ranjish-e-khatir,
Khak mein ushshaq ki ghubar nahi hai.

Dil se utha lutf-e-jalwa-ha-e-maani,
Ghair-e-gul aaina-e-bahaar nahi hai.

Qatl ka mere kiya hai ahd to bare,
Waye agar ahd ustuwar nahi hai.

Tu ne kasam mai-kashi ki khai hai “Ghalib“,
Teri kasam ka kuch aitbaar nahi hai. !!

आ कि मेरी जान को क़रार नहीं है,
ताक़त-ए-बेदाद-ए-इंतिज़ार नहीं है !

देते हैं जन्नत हयात-ए-दहर के बदले,
नश्शा ब-अंदाज़ा-ए-ख़ुमार नहीं है !

गिर्या निकाले है तेरी बज़्म से मुझ को,
हाए कि रोने पे इख़्तियार नहीं है !

हम से अबस है गुमान-ए-रंजिश-ए-ख़ातिर,
ख़ाक में उश्शाक़ की ग़ुबार नहीं है !

दिल से उठा लुत्फ़-ए-जल्वा-हा-ए-मआनी,
ग़ैर-ए-गुल आईना-ए-बहार नहीं है !

क़त्ल का मेरे किया है अहद तो बारे,
वाए अगर अहद उस्तुवार नहीं है !

तू ने क़सम मय-कशी की खाई है “ग़ालिब“,
तेरी क़सम का कुछ ऐतबार नहीं है !!

 

Ab Bhala Chhod Ke Ghar Kya Karte..

Ab bhala chhod ke ghar kya karte,
Sham ke waqt safar kya karte.

Teri masrufiyaten jante hain,
Apne aane ki khabar kya karte.

Jab sitare hi nahi mil paye,
Le ke hum shams-o-qamar kya karte.

Wo musafir hi khuli dhup ka tha,
Saye phaila ke shajar kya karte.

Khak hi awwal o aakhir thahri,
Kar ke zarre ko guhar kya karte.

Rae pahle se bana li tu ne,
Dil mein ab hum tere ghar kya karte.

Ishq ne sare saliqe bakhshe,
Husn se kasb-e-hunar kya karte. !!

अब भला छोड़ के घर क्या करते,
शाम के वक़्त सफ़र क्या करते !

तेरी मसरूफ़ियतें जानते हैं,
अपने आने की ख़बर क्या करते !

जब सितारे ही नहीं मिल पाए,
ले के हम शम्स-ओ-क़मर क्या करते !

वो मुसाफ़िर ही खुली धूप का था,
साए फैला के शजर क्या करते !

ख़ाक ही अव्वल ओ आख़िर ठहरी,
कर के ज़र्रे को गुहर क्या करते !

राय पहले से बना ली तू ने,
दिल में अब हम तेरे घर क्या करते !

इश्क़ ने सारे सलीक़े बख़्शे,
हुस्न से कस्ब-ए-हुनर क्या करते !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Sada Hai Fikr-E-Taraqqi Buland-Binon Ko

Sada hai fikr-e-taraqqi buland-binon ko,
Hum aasman se laye hain in zaminon ko.

Padhen durud na kyun dekh kar hasinon ko,
Khayal-e-sanat-e-sane hai pak-binon ko.

Kamal-e-faqr bhi shayan hai pak-binon ko,
Ye khak takht hai hum boriya-nashinon ko.

Lahad mein soye hain chhoda hai shah-nashinon ko,
Qaza kahan se kahan le gayi makinon ko.

Ye jhurriyan nahin hathon pe zoaf-e-piri ne,
Chuna hai jama-e-asli ki aastinon ko.

Laga raha hun mazamin-e-nau ke phir ambar,
Khabar karo mere khirman ke khosha-chinon ko.

Bhala taraddud-e-beja se un mein kya hasil,
Utha chuke hain zamindar jin zaminon ko.

Unhin ko aaj nahin baithne ki ja milti,
Muaf karte the jo log kal zaminon ko.

Ye zairon ko milin sarfaraaziyan warna,
Kahan nasib ki chumen malak jabinon ko.

Sajaya hum ne mazamin ke taza phoolon se,
Basa diya hai in ujdi hui zaminon ko.

Lahad bhi dekhiye in mein nasib ho ki na ho,
Ki khak chhan ke paya hai jin zaminon ko.

Zawal-e-taqat o mu-e-sapid o zof-e-basar,
Inhin se paye bashar maut ke qarinon ko.

Nahin khabar unhen mitti mein apne milne ki,
Zamin mein gaad ke baithe hain jo dafinon ko.

Khabar nahin unhen kya badobast-e-pukhta ki,
Jo ghasb karne lage ghair ki zaminon ko.

Jahan se uth gaye jo log phir nahin milte,
Kahan se dhund ke ab layen ham-nashinon ko.

Nazar mein phirti hai wo tirgi o tanhai,
Lahad ki khak hai surma maal-bainon ko.

Khayal-e-khatir-e-ahbab chahiye har dam,
“Anees” thes na lag jaye aabginon ko. !!

सदा है फ़िक्र-ए-तरक़्क़ी बुलंद-बीनों को,
हम आसमान से लाए हैं इन ज़मीनों को !

पढ़ें दुरूद न क्यूँ देख कर हसीनों को,
ख़याल-ए-सनअत-ए-साने है पाक-बीनों को !

कमाल-ए-फ़क़्र भी शायाँ है पाक-बीनों को,
ये ख़ाक तख़्त है हम बोरिया-नशीनों को !

लहद में सोए हैं छोड़ा है शह-नशीनों को,
क़ज़ा कहाँ से कहाँ ले गई मकीनों को !

ये झुर्रियाँ नहीं हाथों पे ज़ोफ़-ए-पीरी ने,
चुना है जामा-ए-असली की आस्तीनों को !

लगा रहा हूँ मज़ामीन-ए-नौ के फिर अम्बार,
ख़बर करो मिरे ख़िर्मन के ख़ोशा-चीनों को !

भला तरद्दुद-ए-बेजा से उन में क्या हासिल,
उठा चुके हैं ज़मींदार जिन ज़मीनों को !

उन्हीं को आज नहीं बैठने की जा मिलती,
मुआ’फ़ करते थे जो लोग कल ज़मीनों को !

ये ज़ाएरों को मिलीं सरफ़राज़ियाँ वर्ना,
कहाँ नसीब कि चूमें मलक जबीनों को !

सजाया हम ने मज़ामीं के ताज़ा फूलों से,
बसा दिया है इन उजड़ी हुई ज़मीनों को !

लहद भी देखिए इन में नसीब हो कि न हो,
कि ख़ाक छान के पाया है जिन ज़मीनों को !

ज़वाल-ए-ताक़त ओ मू-ए-सपीद ओ ज़ोफ़-ए-बसर,
इन्हीं से पाए बशर मौत के क़रीनों को !

नहीं ख़बर उन्हें मिट्टी में अपने मिलने की,
ज़मीं में गाड़ के बैठे हैं जो दफ़ीनों को !

ख़बर नहीं उन्हें क्या बंदोबस्त-ए-पुख़्ता की,
जो ग़स्ब करने लगे ग़ैर की ज़मीनों को !

जहाँ से उठ गए जो लोग फिर नहीं मिलते,
कहाँ से ढूँड के अब लाएँ हम-नशीनों को !

नज़र में फिरती है वो तीरगी ओ तन्हाई,
लहद की ख़ाक है सुर्मा मआल-बीनों को !

ख़याल-ए-ख़ातिर-ए-अहबाब चाहिए हर दम,
“अनीस” ठेस न लग जाए आबगीनों को !! -Mir Anees Ghazal

 

De Mohabbat To Mohabbat Mein Asar Paida Kar..

De mohabbat to mohabbat mein asar paida kar,
Jo idhar dil mein hai ya rab wo udhar paida kar.

Dud-e-dil ishq mein itna to asar paida kar,
Sar kate shama ki manind to sar paida kar.

Phir hamara dil-e-gum-gashta bhi mil jayega,
Pahle tu apna dahan apni kamar paida kar.

Kaam lene hain mohabbat mein bahut se ya rab,
Aur dil de hamein ek aur jigar paida kar.

Tham zara aye adam-abaad ke jane wale,
Rah ke duniya mein abhi zad-e-safar paida kar.

Jhut jab bolte hain wo to dua hoti hai,
Ya ilahi meri baaton mein asar paida kar.

Aaina dekhna is husan pe aasan nahin,
Pesh-tar aankh meri meri nazar paida kar.

Subh-e-furqat to qayamat ki sahar hai ya rab,
Apne bandon ke liye aur sahar paida kar.

Mujh ko rota hua dekhen to jhulas jayen raqib,
Aag pani mein bhi aye soz-e-jigar paida kar.

Mit ke bhi duri-e-gulshan nahin bhati ya rab,
Apni qudrat se meri khak mein par paida kar.

Shikwa-e-dard-e-judai pe wo farmate hain,
Ranj sahne ko hamara sa jigar paida kar.

Din nikalne ko hai rahat se guzar jane de,
Ruth kar tu na qayamat ki sahar paida kar.

Hum ne dekha hai ki mil jate hain ladne wale,
Sulh ki khu bhi to aye bani-e-shar paida kar.

Mujh se ghar aane ke wade par bigad kar bole,
Kah diya ghair ke dil mein abhi ghar paida kar.

Mujh se kahti hai kadak kar ye kaman qatil ki,
Tir ban jaye nishana wo jigar paida kar.

Kya qayamat mein bhi parda na uthayega rukh se,
Ab to meri shab-e-yalda ki sahar paida kar.

Dekhna khel nahin jalwa-e-didar tera,
Pahle musa sa koi ahl-e-nazar paida kar.

Dil mein bhi milta hai wo kaba bhi us ka hai maqam,
Rah nazdik ki aye azm-e-safar paida kar.

Zof ka hukm ye hai hont na hilne payen,
Dil ye kahta hai ki nale mein asar paida kar.

Nale ‘Bekhud’ ke qayamat hain tujhe yaad rahe,
Zulm karna hai to patthar ka jigar paida kar. !!

दे मोहब्बत तो मोहब्बत में असर पैदा कर,
जो इधर दिल में है या रब वो उधर पैदा कर !

दूद-ए-दिल इश्क़ में इतना तो असर पैदा कर,
सर कटे शम्अ की मानिंद तो सर पैदा कर !

फिर हमारा दिल-ए-गुम-गश्ता भी मिल जाएगा,
पहले तू अपना दहन अपनी कमर पैदा कर !

काम लेने हैं मोहब्बत में बहुत से या रब,
और दिल दे हमें इक और जिगर पैदा कर !

थम ज़रा ऐ अदम-आबाद के जाने वाले,
रह के दुनिया में अभी ज़ाद-ए-सफ़र पैदा कर !

झूट जब बोलते हैं वो तो दुआ होती है,
या इलाही मिरी बातों में असर पैदा कर !

आईना देखना इस हुस्न पे आसान नहीं,
पेश-तर आँख मिरी मेरी नज़र पैदा कर !

सुब्ह-ए-फ़ुर्क़त तो क़यामत की सहर है या रब,
अपने बंदों के लिए और सहर पैदा कर !

मुझ को रोता हुआ देखें तो झुलस जाएँ रक़ीब,
आग पानी में भी ऐ सोज़-ए-जिगर पैदा कर !

मिट के भी दूरी-ए-गुलशन नहीं भाती या रब,
अपनी क़ुदरत से मिरी ख़ाक में पर पैदा कर !

शिकवा-ए-दर्द-ए-जुदाई पे वो फ़रमाते हैं,
रंज सहने को हमारा सा जिगर पैदा कर !

दिन निकलने को है राहत से गुज़र जाने दे,
रूठ कर तू न क़यामत की सहर पैदा कर !

हम ने देखा है कि मिल जाते हैं लड़ने वाले,
सुल्ह की ख़ू भी तो ऐ बानी-ए-शर पैदा कर !

मुझ से घर आने के वादे पर बिगड़ कर बोले,
कह दिया ग़ैर के दिल में अभी घर पैदा कर !

मुझ से कहती है कड़क कर ये कमाँ क़ातिल की,
तीर बन जाए निशाना वो जिगर पैदा कर !

क्या क़यामत में भी पर्दा न उठेगा रुख़ से,
अब तो मेरी शब-ए-यलदा की सहर पैदा कर !

देखना खेल नहीं जल्वा-ए-दीदार तिरा,
पहले मूसा सा कोई अहल-ए-नज़र पैदा कर !

दिल में भी मिलता है वो काबा भी उस का है मक़ाम,
राह नज़दीक की ऐ अज़्म-ए-सफ़र पैदा कर !

ज़ोफ़ का हुक्म ये है होंट न हिलने पाएँ,
दिल ये कहता है कि नाले में असर पैदा कर !

नाले ‘बेख़ुद’ के क़यामत हैं तुझे याद रहे,
ज़ुल्म करना है तो पत्थर का जिगर पैदा कर !! -Bekhud Dehlvi Ghazal

 

Chamakte Lafz Sitaron Se Chhin Laye Hain..

Chamakte lafz sitaron se chhin laye hain,
Hum aasman se ghazal ki zamin laye hain.

Woh aur honge jo khanjar chhupa ke laate hain,
Hum apne sath phati aastin laye hain.

Hamari baat ki gehrayi khak samjhenge,
Jo parbaton ke liye khurdbin laye hain.

Hanso na hum pe ki hum badnasib banjare,
Saron pe rakh ke watan ki zamin laye hain.

Mere qabile ke bachchon ke khel bhi hain ajib,
Kisi sipahi ki talwar chhin laye hain. !!

चमकते लफ्ज़ सितारों से छीन लाए हैं,
हम आसमाँ से ग़ज़ल की ज़मीन लाए हैं !

वो और होंगे जो खंजर छुपा के लाते हैं,
हम अपने साथ फटी आस्तीन लाए हैं !

हमारी बात की गहराई ख़ाक समझेंगे,
जो पर्बतों के लिए खुर्दबीन लाए हैं !

हँसो न हम पे कि हर बद-नसीब बंजारे,
सरों पे रख के वतन की ज़मीन लाए हैं !

मेरे क़बीले के बच्चों के खेल भी हैं अजीब,
किसी सिपाही की तलवार छीन लाए हैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Ab Ke Barish Mein To Ye Kar-E-Ziyan Hona Hi Tha..

Ab ke barish mein to ye kar-e-ziyan hona hi tha,
Apni kachchi bastiyon ko be-nishan hona hi tha.

Kis ke bas mein tha hawa ki wahshaton ko rokna,
Barg-e-gul ko khak shoale ko dhuan hona hi tha.

Jab koi samt-e-safar tai thi na hadd-e-rahguzar,
Aye mere rah-rau safar to raegan hona hi tha.

Mujh ko rukna tha use jaana tha agle mod tak,
Faisla ye us ke mere darmiyan hona hi tha.

Chand ko chalna tha bahti sipiyon ke sath-sath,
Moajiza ye bhi tah-e-ab-e-rawan hona hi tha.

Main naye chehron pe kahta tha nayi ghazlein sada,
Meri is aadat se us ko bad-guman hona hi tha.

Shehar se bahar ki virani basana thi mujhe,
Apni tanhai pe kuchh to mehrban hona hi tha.

Apni aankhen dafn karna thi ghubar-e-khak mein,
Ye sitam bhi hum pe zer-e-asman hona hi tha.

Be-sada basti ki rasmein thi yahi “Mohsin” mere,
Main zaban rakhta tha mujh ko be-zaban hona hi tha. !!

अब के बारिश में तो ये कार-ए-ज़ियाँ होना ही था,
अपनी कच्ची बस्तियों को बे-निशाँ होना ही था !

किस के बस में था हवा की वहशतों को रोकना,
बर्ग-ए-गुल को ख़ाक शोले को धुआँ होना ही था !

जब कोई सम्त-ए-सफ़र तय थी न हद्द-ए-रहगुज़र,
ऐ मेरे रह-रौ सफ़र तो राएगाँ होना ही था !

मुझ को रुकना था उसे जाना था अगले मोड़ तक,
फ़ैसला ये उस के मेरे दरमियाँ होना ही था !

चाँद को चलना था बहती सीपियों के साथ-साथ,
मोजिज़ा ये भी तह-ए-आब-ए-रवाँ होना ही था !

मैं नए चेहरों पे कहता था नई ग़ज़लें सदा,
मेरी इस आदत से उस को बद-गुमाँ होना ही था !

शहर से बाहर की वीरानी बसाना थी मुझे,
अपनी तन्हाई पे कुछ तो मेहरबाँ होना ही था !

अपनी आँखें दफ़्न करना थीं ग़ुबार-ए-ख़ाक में,
ये सितम भी हम पे ज़ेर-ए-आसमाँ होना ही था !

बे-सदा बस्ती की रस्में थीं यही “मोहसिन” मेरे,
मैं ज़बाँ रखता था मुझ को बे-ज़बाँ होना ही था !!

 

Umar Guzregi Imtihan Mein Kya..

Umar guzregi imtihan mein kya,
Dagh hi denge mujhko dan mein kya.

Meri har baat be-asar hi rahi,
Naqs hai kuchh mere bayan mein kya.

Mujhko to koi tokta bhi nahi,
Yahi hota hai khandan mein kya.

Apni mahrumiyan chhupate hain,
Hum gharibon ki aan-ban mein kya.

Khud ko jana juda zamane se,
Aa gaya tha mere guman mein kya.

Sham hi se dukan-e-did hai band,
Nahi nuqsan tak dukaan mein kya.

Aye mere subh-o-sham-e-dil ki shafaq,
Tu nahati hai ab bhi ban mein kya.

Bolte kyun nahi mere haq mein,
Aable pad gaye zaban mein kya.

Khamoshi kah rahi hai kan mein kya,
Aa raha hai mere guman mein kya.

Dil ki aate hain jis ko dhyan bahut,
Khud bhi aata hai apne dhyan mein kya.

Wo mile to ye puchhna hai mujhe,
Ab bhi hun main teri aman mein kya.

Yun jo takta hai aasman ko tu,
Koi rahta hai aasman mein kya.

Hai nasim-e-bahaar gard-alud,
Khak udti hai us makan mein kya.

Ye mujhe chain kyun nahi padta,
Ek hi shakhs tha jahan mein kya. !!

उम्र गुज़रेगी इम्तिहान में क्या,
दाग़ ही देंगे मुझको दान में क्या !

मेरी हर बात बे-असर ही रही,
नक़्स है कुछ मेरे बयान में क्या !

मुझको तो कोई टोकता भी नहीं,
यही होता है ख़ानदान में क्या !

अपनी महरूमियाँ छुपाते हैं,
हम ग़रीबों की आन-बान में क्या !

ख़ुद को जाना जुदा ज़माने से,
आ गया था मेरे गुमान में क्या !

शाम ही से दुकान-ए-दीद है बंद,
नहीं नुक़सान तक दुकान में क्या !

ऐ मेरे सुब्ह-ओ-शाम-ए-दिल की शफ़क़,
तू नहाती है अब भी बान में क्या !

बोलते क्यूँ नहीं मेरे हक़ में,
आबले पड़ गए ज़बान में क्या !

ख़ामुशी कह रही है कान में क्या,
आ रहा है मेरे गुमान में क्या !

दिल कि आते हैं जिस को ध्यान बहुत,
ख़ुद भी आता है अपने ध्यान में क्या !

वो मिले तो ये पूछना है मुझे,
अब भी हूँ मैं तेरी अमान में क्या !

यूँ जो तकता है आसमान को तू,
कोई रहता है आसमान में क्या !

है नसीम-ए-बहार गर्द-आलूद,
ख़ाक उड़ती है उस मकान में क्या !

ये मुझे चैन क्यूँ नहीं पड़ता,
एक ही शख़्स था जहान में क्या !!

-Jaun Elia Ghazal / Poetry

 

Intezamat Naye Sire Se Sambhale Jayen..

Intezamat naye sire se sambhale jayen,
Jitane kamzarf hain mehfil se nikale jayen.

Mera ghar aag ki lapaton mein chupa hai lekin,
Jab maza hai tere angan mein ujale jayen.

Gham salamat hai to pite hi rahenge lekin,
Pehale maikhane ki halat sambhali jayen.

Khaali waqton mein kahin baith ke rolen yaron,
Fursaten hain to samandar hi khangale jayen.

Khak mein yun na mila zabt ki tauhin na kar,
Ye wo aansoo hain jo duniya ko baha le jayen.

Hum bhi pyase hain ye ehasas to ho saaqi ko,
Khaali shishe hi hawaon mein uchale jayen.

Aao shahr mein naye dost banayen “Rahat“,
Astinon mein chalo saanp hi paale jayen. !!

इन्तेज़ामात नए सिरे से संभाले जाएँ,
जितने कमजर्फ हैं महफ़िल से निकाले जाएँ !

मेरा घर आग की लपटों में छुपा हैं लेकिन,
जब मज़ा हैं तेरे आँगन में उजाला जाएँ !

गम सलामत हैं तो पीते ही रहेंगे लेकिन,
पहले मयखाने की हालात तो संभाली जाए !

खाली वक्तों में कहीं बैठ के रोलें यारों,
फुरसतें हैं तो समंदर ही खंगाले जाए !

खाक में यु ना मिला ज़ब्त की तौहीन ना कर,
ये वो आसूं हैं जो दुनिया को बहा ले जाएँ !

हम भी प्यासे हैं ये अहसास तो हो साकी को,
खाली शीशे ही हवाओं में उछाले जाए !

आओ शहर में नए दोस्त बनाएं “राहत”,
आस्तीनों में चलो साँप ही पाले जाए !!

 

Bimar Ko Maraz Ki Dawa Deni Chahiye..

Bimar ko maraz ki dawa deni chahiye,
Main pina chahta hun pila deni chahiye.

Allah barkaton se nawazega ishq mein,
Hai jitni punji pas laga deni chahiye.

Dil bhi kisi faqir ke hujre se kam nahi,
Duniya yahin pe la ke chhupa deni chahiye.

Main khud bhi karna chahta hun apna samna,
Tujh ko bhi ab naqab utha deni chahiye.

Main phool hun to phool ko gul-dan ho nasib,
Main aag hun to aag bujha deni chahiye.

Main taj hun to taj ko sar par sajayen log,
Main khak hun to khak uda deni chahiye.

Main jabr hun to jabr ki taid band ho,
Main sabr hun to mujh ko dua deni chahiye.

Main khwab hun to khwab se chaunkaiye mujhe,
Main nind hun to nind uda deni chahiye.

Sach baat kaun hai jo sar-e-am kah sake,
Main kah raha hun mujh ko saza deni chahiye. !!

बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए,
मैं पीना चाहता हूँ पिला देनी चाहिए !

अल्लाह बरकतों से नवाज़ेगा इश्क़ में,
है जितनी पूँजी पास लगा देनी चाहिए !

दिल भी किसी फ़क़ीर के हुजरे से कम नहीं,
दुनिया यहीं पे ला के छुपा देनी चाहिए !

मैं ख़ुद भी करना चाहता हूँ अपना सामना,
तुझ को भी अब नक़ाब उठा देनी चाहिए !

मैं फूल हूँ तो फूल को गुल-दान हो नसीब,
मैं आग हूँ तो आग बुझा देनी चाहिए !

मैं ताज हूँ तो ताज को सर पर सजाएँ लोग,
मैं ख़ाक हूँ तो ख़ाक उड़ा देनी चाहिए !

मैं जब्र हूँ तो जब्र की ताईद बंद हो,
मैं सब्र हूँ तो मुझ को दुआ देनी चाहिए !

मैं ख़्वाब हूँ तो ख़्वाब से चौंकाइए मुझे,
मैं नींद हूँ तो नींद उड़ा देनी चाहिए !

सच बात कौन है जो सर-ए-आम कह सके,
मैं कह रहा हूँ मुझ को सज़ा देनी चाहिए !!

-Rahat Indori Ghazal / Poetry

 

Main To Jhonka Hun Hawaon Ka Uda Le Jaunga..

Main to jhonka hun hawaon ka uda le jaunga,
Jagti rahna tujhe tujh se chura le jaunga.

Ho ke qadmon pe nichhawar phool ne but se kaha,
Khak mein mil kar bhi main khushbu bacha le jaunga.

Kaun si shai mujh ko pahunchayegi tere shehar tak,
Ye pata to tab chalega jab pata le jaunga.

Koshishen mujh ko mitane ki bhale hon kaamyab,
Mitte mitte bhi main mitne ka maza le jaunga.

Shohraten jin ki wajh se dost dushman ho gaye,
Sab yahin rah jayengi main sath kya le jaunga. !!

मैं तो झोंका हूँ हवाओं का उड़ा ले जाऊँगा,
जागती रहना तुझे तुझ से चुरा ले जाऊँगा !

हो के क़दमों पे निछावर फूल ने बुत से कहा,
ख़ाक में मिल कर भी मैं ख़ुशबू बचा ले जाऊँगा !

कौन सी शय मुझ को पहुँचाएगी तेरे शहर तक,
ये पता तो तब चलेगा जब पता ले जाऊँगा !

कोशिशें मुझ को मिटाने की भले हों कामयाब,
मिटते मिटते भी मैं मिटने का मज़ा ले जाऊँगा !

शोहरतें, जिन की वज्ह से दोस्त दुश्मन हो गए,
सब यहीं रह जाएँगी मैं साथ क्या ले जाऊँगा !!

-Kumar Vishwas Poem