Tuesday , August 3 2021

Poetry Types Intezaar

Kahin To Gard Ude Ya Kahin Ghubar Dikhe..

Kahin To Gard Ude Ya Kahin Ghubar Dikhe.. Gulzar Poetry !

Kahin to gard ude ya kahin ghubar dikhe,
Kahin se aata hua koi shahsawar dikhe.

Khafa thi shakh se shayad ki jab hawa guzri,
Zameen pe girte hue phool be-shumar dikhe.

Rawan hain phir bhi ruke hain wahin pe sadiyon se,
Bade udaas lage jab bhi aabshaar dikhe.

Kabhi to chaunk ke dekhe koi hamari taraf,
Kisi ki aankh mein hum ko bhi intezaar dikhe.

Koi tilismi sifat thi jo is hujum mein wo,
Hue jo aankh se ojhal to bar bar dikhe. !! -Gulzar Poetry

कहीं तो गर्द उड़े या कहीं ग़ुबार दिखे,
कहीं से आता हुआ कोई शहसवार दिखे !

ख़फ़ा थी शाख़ से शायद कि जब हवा गुज़री,
ज़मीं पे गिरते हुए फूल बे-शुमार दिखे !

रवाँ हैं फिर भी रुके हैं वहीं पे सदियों से,
बड़े उदास लगे जब भी आबशार दिखे !

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ़,
किसी की आँख में हम को भी इंतिज़ार दिखे !

कोई तिलिस्मी सिफ़त थी जो इस हुजूम में वो,
हुए जो आँख से ओझल तो बार बार दिखे !! -गुलज़ार कविता

 

Sabr Har Bar Ikhtiyar Kiya..

Sabr Har Bar Ikhtiyar Kiya.. Gulzar Poetry !

Sabr har bar ikhtiyar kiya,
Hum se hota nahi hazar kiya.

Aadatan tum ne kar diye wade,
Aadatan hum ne aitbaar kiya.

Hum ne aksar tumhaari rahon mein,
Ruk kar apna hi intezaar kiya.

Phir na mangenge zindagi ya rab,
Ye gunah hum ne ek bar kiya. !! -Gulzar Poetry

सब्र हर बार इख़्तियार किया,
हम से होता नहीं हज़ार किया !

आदतन तुम ने कर दिए वादे,
आदतन हम ने ऐतबार किया !

हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में,
रुक कर अपना ही इंतज़ार किया !

फिर न माँगेंगे ज़िंदगी या रब,
ये गुनाह हम ने एक बार किया !! -गुलज़ार कविता

 

Main Rozgaar Ke Silsile Mein..

Main Rozgaar Ke Silsile Mein.. Gulzar’s Nazm !

Main Rozgaar Ke Silsile Mein

Main rozgaar ke silsile mein
Kabhi kabhi uske shehar jata hun
To guzarta hun us gali se..

Wo neem taariq si gali
Aur usike nukkad pe unghata sa purana khambha
Usi ke niche tamam shab intezaar karke
Main chhod aaya tha shehar uska..

Bahot hi khasta si roshni ki chhadi ko teke
Wo khambha ab bhi wahi khada hai..

Phitur hai ye magar
Main khambhe ke paas jakar
Nazar bachake mohalle walon ki
Puch leta hun aaj bhi ye..

Wo mere jaane ke bad bhi aayi to nahi thi
Wo aayi thi kya.. ??

मैं रोजगार के सिलसिले में
कभी कभी उसके शहर जाता हूँ
तो गुज़रता हूँ उस गली से..

वो नीम तारीक सी गली
और उसी के नुक्कड़ पे ऊंघता सा पुराना खम्भा
उसी के नीचे तमाम सब इंतज़ार कर के
मैं छोड़ आया था शहर उसका..

बहुत ही खस्ता सी रौशनी की छड़ी को टेके
वो खम्बा अब भी वही खड़ा है..

फितूर है ये मगर
मैं खम्बे के पास जा कर
नज़र बचा के मोहल्ले वालों की
पूछ लेता हूँ आज भी ये..

वो मेरे जाने के बाद भी आई तो नहीं थी
वो आई थी क्या.. ??

– Gulzar Poetry / Ghazal / Shayari / Nazm

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

Ye Khak Zade Jo Rahte Hain Bezaban Pade..

Ye Khak Zade Jo Rahte Hain Bezaban Pade.. Rahat Indori Shayari !

Ye khak zade jo rahte hain bezaban pade,
Ishaara kar den to sooraj zameen pe aan pade.

Sukut-e-zist ko aamada-e-baghawat kar,
Lahu uchhaal ki kuch zindagi mein jaan pade.

Hamare shehar ki binaiyon pe rote hain,
Tamam shehar ke manzar lahu luhan pade.

Uthe hain haath mere hurmat-e-zameen ke liye,
Maza jab aaye ki ab panv aasman pade.

Kisi makin ki aamad ke intezaar mein hain,
Mere mohalle mein khali kai makan pade. !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Sisakti Rut Ko Mahakta Gulab Kar Dunga..

Sisakti Rut Ko Mahakta Gulab Kar Dunga.. Rahat Indori Shayari !

Sisakti Rut Ko Mahakta Gulab Kar Dunga

Sisakti rut ko mahakta gulab kar dunga,
Main is bahaar mein sab ka hisaab kar dunga.

Hazaar pardon mein khud ko chhupa ke baith magar,
Tujhe kabhi na kabhi be-naqaab kar dunga.

Mujhe yaqeen hai ki mehfil ki raushni hun main,
Unhein ye khauf ki mehfil kharaab kar dunga.

Mujhe gilaas ke andar hi qaid rakh warna,
Main sare shehar ka pani sharaab kar dunga.

Main intezaar mein hun tu koi sawal to kar,
Yaqeen rakh main tujhe lajawaab kar dunga.

Mahajanon se kaho thoda intezaar karen,
Sharaab-khane se aa kar hisaab kar dunga. !!

सिसकती रुत को महकता गुलाब कर दूँगा,
मैं इस बहार में सब का हिसाब कर दूँगा !

हज़ार पर्दों में ख़ुद को छुपा के बैठ मगर,
तुझे कभी न कभी बे-नक़ाब कर दूँगा !

मुझे यक़ीन है कि महफ़िल की रौशनी हूँ मैं,
उन्हें ये ख़ौफ़ कि महफ़िल ख़राब कर दूँगा !

मुझे गिलास के अंदर ही क़ैद रख वर्ना,
मैं सारे शहर का पानी शराब कर दूँगा !

मैं इंतज़ार में हूँ तू कोई सवाल तो कर,
यक़ीन रख मैं तुझे ला-जवाब कर दूँगा !

महाजनों से कहो थोड़ा इंतज़ार करें,
शराब-ख़ाने से आ कर हिसाब कर दूँगा !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

Mere Junoon Ka Natija Zarur Niklega..

Mere junoon ka natija zarur niklega,
Isi siyah samundar se nur niklega.

Gira diya hai to sahil pe intezaar na kar,
Agar wo dub gaya hai to dur niklega.

Usi ka shahr wahi muddai wahi munsif,
Hamein yakin tha hamara kusoor niklega.

Yakin na aaye to ek baat puchh kar dekho,
Jo hans raha hai wo zakhmon se chur niklega.

Us aastin se ashkon ko pochhne wale,
Us aastin se khanjar zarur niklega. !!

मेरे जुनूँ का नतीजा ज़रूर निकलेगा,
इसी सियाह समुंदर से नूर निकलेगा !

गिरा दिया है तो साहिल पे इंतिज़ार न कर,
अगर वो डूब गया है तो दूर निकलेगा !

उसी का शहर वही मुद्दई वही मुंसिफ़,
हमें यक़ीं था हमारा क़ुसूर निकलेगा !

यक़ीं न आए तो एक बात पूछ कर देखो,
जो हँस रहा है वो ज़ख़्मों से चूर निकलेगा !

उस आस्तीन से अश्कों को पोछने वाले,
उस आस्तीन से ख़ंजर ज़रूर निकलेगा !!

Amir Qazalbash All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Bewafa Two Lines Shayari In Hindi

Bewafa Two Lines Shayari In Hindi

Ek hi khawab ne sari raat jagaya hai,
Maine har karvat sone ki koshish ki.
एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है,
मैंने हर करवट सोने की कोशिश की !
– गुलज़ार

Raat bajati thi dur shahnai,
Roya pikar bahut sharaab koi.
रात बजती थी दूर शहनाई,
रोया पीकर बहुत शराब कोई !
– जावेद अख़्तर

Aaj us ne hans ke yun pucha mizaj,
Umarbhar ke ranz-o-gham yaad aa gaye.
आज उस ने हंस के यूं पूछा मिज़ाज,
उम्र भर के रंज-ओ-ग़म याद आ गए !
– एहसान दानिश

Ab to kuch bhi yaad nahi hai,
Hum ne tum ko chaha hoga.
अब तो कुछ भी याद नहीं है,
हम ने तुम को चाहा होगा !
– मज़हर इमाम

Ishq mein kon bata skata hai,
Kis ne kis se sach bola hai.
इश्क़ में कौन बता सकता है,
किस ने किस से सच बोला है !
– अहमद मुश्ताक़

Aarzoo wasl ki rakhati hai pareshan kya-kya,
Kya batanun ki mere dil mein hai arman kya-kya.
आरज़ू वस्ल की रखती है परेशां क्या क्या,
क्या बताऊं कि मेरे दिल में है अरमां क्या क्या !
– अख़्तर शीरानी

Jaan-lewa thi khawahishen warna,
Wasl se intezaar achcha tha.
जान-लेवा थीं ख़्वाहिशें वर्ना,
वस्ल से इंतिज़ार अच्छा था !
– जौन एलिया

Aadtan tumne kar liye wade,
Aur aadtan humne aitbaar kar liya.
आदतन तुमने कर लिए वादे,
और आदतन हमनें ऐतबार कर लिया !
– गुलज़ार

Kuch to majburiyan rahi hongi,
Yun koi bewafa nahi hota.
कुछ तो मजबूरियां रही होंगी,
यूं कोई बेवफ़ा नहीं होता !
– बशीर बद्र

Kaam aa saki n apni wafayein to kya karein,
Us bewafa ko bhul n janyein to kya karein.
काम आ सकीं न अपनी वफ़ाएं तो क्या करें,
उस बेवफ़ा को भूल न जाएं तो क्या करें !
– अख़्तर शीरानी

Is kadar musalsal thi shiddtein judai ki,
Aaj pahli bar us se maine bewafai ki.
इस क़द्र मुसलसल थीं शिद्दतें जुदाई की,
आज पहली बार उस से मैंने बेवफ़ाई की !
– अहमद फ़राज़

Ajab chiraagh hun din-raat jalta rahta hun,
Main thak gaya hun hawa se kaho bujhaye mujhe.
अजब चराग़ हूं दिन-रात जलता रहता हूं,
मैं थक गया हूं हवा से कहो बुझाए मुझे !
– बशीर बद्र

Aakhiri bar aah kar li hai,
Maine khud se nibah kar li hai.
आख़िरी बार आह कर ली है,
मैं ने ख़ुद से निबाह कर ली है !
– जौन एलिया

 

Pyar Shabdon Ka Mohtaz Nahi Hota

Pyar shabdon ka mohtaz nahi hota
Dil mein har kisi ke raaz nahi hota
Kyun intezaar karte hai sabhi valentine day ka
Kya saal ka har din pyar ka haqdaar nahi hota ?

प्यार शब्दों का मोहताज नही होता
दिल में हर किसी के राज़ नही होता
क्यों इंतज़ार करते है सभी वैलेंटाइन डे का
क्या साल का हर दिन प्यार का हक़दार नही होता?

Happy Valentine’s Day

 

Bite Saal Ke Baad Fir Se Rose Day Aaya Hai

Bite Saal Ke Baad Fir Se Rose Day Aaya Hai

Bite saal ke baad fir se Rose Day aaya hai
Meri aankho me sirf tera hi suroor chaya hai
Zara tum aakar toh dekho ek baar
Tumhare intezaar me pure ghar ko sajaya hai !!

बीते साल के बाद फिर से Rose Day आया है
मेरी आँखों में सिर्फ तेरा ही सुरूर छाया है
जरा तुम आकर तो देखो एक बार
तुम्हारे इंतज़ार में पुरे घर को सजाया है !!

Wish you a very Happy Rose Day

Hawayen Tez Thin Ye To Faqat Bahane The..

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the,
Safine yun bhi kinare pe kab lagane the.

Khayal aata hai rah-rah ke laut jaane ka,
Safar se pahle humein apne ghar jalane the.

Guman tha ki samajh lenge mausamon ka mizaj,
Khuli jo aankh to zad pe sabhi thikane the.

Humein bhi aaj hi karna tha intezaar us ka,
Use bhi aaj hi sab wade bhul jaane the.

Talash jin ko hamesha buzurg karte rahe,
Na jaane kaun si duniya mein wo khazane the.

Chalan tha sab ke ghamon mein sharik rahne ka,
Ajib din the ajab sar-phire zamane the. !!

हवाएँ तेज़ थीं ये तो फ़क़त बहाने थे,
सफ़ीने यूँ भी किनारे पे कब लगाने थे !

ख़याल आता है रह-रह के लौट जाने का,
सफ़र से पहले हमें अपने घर जलाने थे !

गुमान था कि समझ लेंगे मौसमों का मिज़ाज,
खुली जो आँख तो ज़द पे सभी ठिकाने थे !

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का,
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे !

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे !

चलन था सब के ग़मों में शरीक रहने का,
अजीब दिन थे अजब सर-फिरे ज़माने थे !!

-Aashufta Changezi Ghazal / Poetry