Tuesday , March 9 2021

Poetry Types Husan

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

इश्क़, वफा और ईमान का मिश्रण ही नहीं है, बेवफ़ाई के किरदार भी प्रेम कहानियों में कई मोड़ देते है। उर्दू और हिंदी शायरी अग़र मोहब्बत के हर्फों से फटी पड़ी है तो बेवफ़ाई की मौजूदगी को भी शायरों ने नज़र अंदाज नहीं किया है। दोस्तों आज का यह पोस्ट खास उन दोस्तों के लिए जिन्हे वफ़ा के बदले बेवफाई मिली हैं। प्यार के बदले सिर्फ और सिर्फ रुस्वाई मिली हैं।

Bewafa Shayari In Hindi

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line का यह कलेक्शन आपको जरूर पसंद आएगा इसमें मिलेगा Bewafa Shayari In Hindi ! Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend ! Bewafa Poetry In Hindi ! Bewafa Poetry SMS ! Bewafa Poetry In Urdu 2 Lines ! Bewafa Shayari Status ! Hindi Shayari Bewafa Sanam ! Dard Bhari Bewafa Shayari ! Bewafa Quotes ! Bewafa Shayari Images जो आपके दर्द को ज्यादा कम तो नहीं कर सकता लेकिन आराम जरूर देगा ।

 

पेश है “बेवफा शायरी” पर शायरों के अल्फ़ाज़ हिंदी में…

 

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

 

Kuch to majburiyan rahi hongi,
Yun koi bewafa nahi hota.

कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी,
यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता !

 

Tum ne kiya na yaad kabhi bhul kar humein,
Hum ne tumhari yaad mein sab kuch bhula diya.

तुम ने किया न याद कभी भूल कर हमें,
हम ने तुम्हारी याद में सब कुछ भुला दिया !

 

Hum se kya ho saka mohabbat mein,
Khair tum ne to bewafai ki.

हम से क्या हो सका मोहब्बत में,
ख़ैर तुम ने तो बेवफ़ाई की !

 

Ek ajab haal hai ki ab us ko,
Yaad karna bhi bewafai hai.

एक अजब हाल है कि अब उस को,
याद करना भी बेवफ़ाई है !

 

Kaam aa saki na apni wafayein to kya karein,
Us bewafa ko bhul na jayein to kya karein.

काम आ सकीं ना अपनी वफ़ाएं तो क्या करें,
उस बेवफा को भूल ना जाएं तो क्या करें !

 

Dil bhi gustakh ho chala tha bahut,
Shukr hai ki yaar hi bewafa nikla.

दिल भी गुस्ताख हो चला था बहुत,
शुक्र है की यार ही बेवफा निकला !

 

Sirf ek hi baat sikhi in husan walon se humne,
Haseen jis ki jitni adaa hai woh utna hi bewafa hai.

सिर्फ एक ही बात सीखी इन हुस्न वालों से हमने​​,
हसीन जिसकी जितनी अदा है वो उतना ही बेवफा है !

 

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

Band kar dena khuli aankhon ko meri aa ke tum,
Aks tera dekh kar kah de na koi bewafa.

बंद कर देना खुली आँखों को मेरी आ के तुम,
अक्स तेरा देख कर कह दे न कोई बेवफा !

 

Is kadr musalsal thi shidatein judaai ki,
Aaj pahli bar us se maine bewafai ki.

इस क़दर मुसलसल थीं शिद्दतें जुदाई की,
आज पहली बार उस से मैं ने बेवफ़ाई की !

 

Mil hi jayega koi na koi tut ke chahne wala,
Ab shehar ka shehar to bewafa ho nahi sakta.

मिल ही जाएगा कोई ना कोई टूट के चाहने वाला,
अब शहर का शहर तो बेवफा हो नहीं सकता !

 

Roye kuch is tarah se mere jism se lipat ke,
Aisa laga ke jaise kabhi bewafa na the wo.

रोये कुछ इस तरह से मेरे जिस्म से लिपट के,
ऐसा लगा के जैसे कभी बेवफा न थे वो !

 

Bewafa Shayari Status

Chala tha zikr zamane ki bewafai ka,
Sau aa gaya hai tumhara khayal waise hi.

चला था ज़िक्र ज़माने की बेवफ़ाई का,
सो आ गया है तुम्हारा ख़याल वैसे ही !

 

Mohabbat ka natija duniya mein humne bura dekha,
Jinhe dava tha wafa ka unhen bhi humne bewafa dekha.

मोहब्बत का नतीजा दुनिया में हमने बुरा देखा,
जिन्हें दावा था वफ़ा का उन्हें भी हमने बेवफा देखा !

 

Tera khayal dil se mitaya nahi abhi,
Bewafa maine tujhko bhulaya nahi abhi.

तेरा ख्याल दिल से मिटाया नहीं अभी,
बेवफा मैंने तुझको भुलाया नहीं अभी !

 

Aashiqi mein bahut zaruri hai,
Bewafai kabhi kabhi karna.

आशिक़ी में बहुत ज़रूरी है,
बेवफ़ाई कभी कभी करना !

 

Dard Bhari Bewafa Shayari

Rushwa kyu karte ho tum ishq ko aye duniya walo,
Mehboob tumhara bewafa hai to ishq ka kya gunah.

रुशवा क्यों करते हो तुम इश्क़ को ए दुनिया वालो,
मेहबूब तुम्हारा बेवफा है तो इश्क़ का क्या गनाह !

 

Woh mili bhi to kya mili ban ke bewafa mili,
Itane to mere gunah na the jitni mujhe saza mili.

वो मिली भी तो क्या मिली बन के बेवफा मिली,
इतने तो मेरे गुनाह ना थे जितनी मुझे सजा मिली !

 

Khuda nee puchha kya saza dun us bewafa ko,
Dil ne kaha mohabbat ho jaye use bhi.

खुदा ने पूछा क्या सज़ा दूँ उस बेवफ़ा को,
दिल ने कहा मोहब्बत हो जाए उसे भी !

 

Bewafaon ki is duniya mein sanbhalkar chalna,
Yhan mohabbat se bhi barbaad kar dete hain log.

बेवफाओं की इस दुनियां में संभलकर चलना,
यहाँ मुहब्बत से भी बर्बाद कर देते हैं लोग !

 

Bewafai pe teri jo hai fida,
Kahar hota jo ba-wafa hota.

बेवफ़ाई पे तेरी जी है फ़िदा,
क़हर होता जो बा-वफ़ा होता !

 

Kisi ka ruth jana aur achanak bewafa hona,
Mohabbat mein yehi lamha qayamat ki nishani hai.

किसी का रूठ जाना और अचानक बेवफा होना,
मोहब्बत में यही लम्हा क़यामत की निशानी है !

 

Fir se niklenge talash-e-zindagi mein,
Dua karna is baar koi bewafa na mile.

फिर से निकलेंगे तलाश-ए-ज़िन्दगी में,
दुआ करना इस बार कोई बेवफा न मिले !

 

Itni mushkil bhi na thi raah meri mohabbat ki,
Kuch zamana khilaaf hua kuch woh bewafa huye.

इतनी मुश्किल भी न थी राह मेरी मोहब्बत की,
कुछ ज़माना खिलाफ हुआ कुछ वो बेवफा हुए !

 

Hindi Shayari Bewafa Sanam

Suno ek baar mohabbat karni hai tumse,
Lekin is baar bewafai hum karenge.

सुनो एक बार और मोहब्बत करनी है तुमसे,
लेकिन इस बार बेवफाई हम करेंगे !

 

Uski bewafai pe bhi fida hoti hai jaan apni,
Agar us mein wafa hoti to kya hota khuda jane.

उसकी बेवफाई पे भी फ़िदा होती है जान अपनी,
अगर उसमे वफ़ा होती तो क्या होता खुदा जाने !

 

Meri mohabbat sachchi hai is liye teri yaad aati hai,
Agar teri bewafai sachchi hai to ab yaad mat aana.

मेरी मोहब्बत सच्ची है इसलिए तेरी याद आती है,
अगर तेरी बेवफाई सच्ची है तो अब याद मत आना !

 

Jab tak na lage bewafai ki thhokar dost,
Har kisi ko apni pasand par naaz hota hai.

जब तक न लगे बेवफ़ाई की ठोकर दोस्त,
हर किसी को अपनी पसंद पर नाज़ होता है !

 

Meri aankho se behne wala ye awara sa aansoo,
Punchh raha hai palkon se teri bewafai ki wajah.

मेरी आँखों से बहने वाला ये आवारा सा आसूँ,
पूंछ रहा है पलकों से तेरी बेवफाई की वजह !

 

Tujhe hai mashq-e-sitam ka malaal waise hi,
Humari jaan hain jaan par wabaal waise hi.

तुझे है मशक-ए-सितम का मलाल वैसे ही,
हमारी जान थी, जान पर वबाल वैसे ही !

 

Na koi majburi hai na to lachari hai,
Bewafai uski paidayshi bimari hai.

न कोई मज़बूरी है न तो लाचारी है,
बेवफाई उसकी पैदायशी बीमारी है !

 

Dil bhi toda to saliqe se na toda tum ne,
Bewafai ke bhi aadab hua karte hain.

दिल भी तोड़ा तो सलीक़े से न तोड़ा तुम ने,
बेवफ़ाई के भी आदाब हुआ करते हैं !

 

Bewafa Quotes

Mohabbat se bhari koi ghazal use pasand Nnhi,
Bewafai ke har sher pe wo daad diya karte hain.

मोहब्बत से भरी कोई गजल उसे पसंद नहीं,
बेवफाई के हर शेर पे वो दाद दिया करते हैं !

 

Har bhul teri maaf ki teri har khata ko Bhula diya,
Gham hai ki mere pyar ka tu ne bewafai sila diya.

हर भूल तेरी माफ़ की तेरी हर खता को भुला दिया,
गम है कि मेरे प्यार का तूने बेवफाई सिला दिया !

 

Mere fan ko tarasha hai sabhi ke nek iraadon ne,
Kisi ki bewafai ne kisi ke jhuthhe wadon ne.

मेरे फन को तराशा है सभी के नेक इरादों ने,
किसी की बेवफाई ने किसी के झूठे वादों ने !

 

Hum use yaad bahut aayenge,
Jab use bhi koi thukrayega.

हम उसे याद बहुत आएँगे,
जब उसे भी कोई ठुकराएगा !

Udh gayi yun wafa zamane se,
Kabhi goya kisi mein thi hi nahi.

उड़ गई यूँ वफ़ा ज़माने से,
कभी गोया किसी में थी ही नहीं !

 

Mere baad wafa ka dhokha aur kisi se mat karna,
Gaali degi duniya tujh ko sar mera jhuk jayega.

मेरे बाद वफ़ा का धोखा और किसी से मत करना,
गाली देगी दुनिया तुझ को सर मेरा झुक जाएगा !

 

Bewafa Poetry In Hindi

Tum kisi ke bhi ho nahi sakte,
Tum ko apna bana ke dekh liya.

तुम किसी के भी हो नहीं सकते,
तुम को अपना बना के देख लिया !

 

Ye kya ki tum ne jafa se bhi haath khinch liya,
Meri wafaon ka kuch to sila diya hota !

ये क्या कि तुम ने जफ़ा से भी हाथ खींच लिया,
मेरी वफ़ाओं का कुछ तो सिला दिया होता !

 

Wafa ki khair manata hun bewafai mein bhi,
Main us ki qaid mein hun qaid se rihai mein bhi.

वफ़ा की ख़ैर मनाता हूँ बेवफ़ाई में भी,
मैं उस की क़ैद में हूँ क़ैद से रिहाई में भी !

 

Hum ne to khud ko bhi mita dala,
Tum ne to sirf bewafai ki.

हम ने तो ख़ुद को भी मिटा डाला,
तुम ने तो सिर्फ़ बेवफ़ाई की !

 

Gila likhun main agar teri bewafai ka,
Lahu mein gark safina ho aasnai ka.

गिला लिखूँ मैं अगर तेरी बेवफ़ाई का,
लहू में ग़र्क़ सफ़ीना हो आश्नाई का !

 

Jo mila us ne bewafai ki,
Kuch ajab rang hai zamane ka

जो मिला उस ने बेवफ़ाई की,
कुछ अजब रंग है ज़माने का !

 

Umeed un se wafa ki to khair kije,
Jafa bhi karte nahi wo kabhi jafa ki trah.

उमीद उन से वफ़ा की तो ख़ैर क्या कीजे,
जफ़ा भी करते नहीं वो कभी जफ़ा की तरह !

 

Tum jafa par bhi to nahi qayem,
Hum wafa umar bhar karein kyun kar.

तुम जफ़ा पर भी तो नहीं क़ाएम,
हम वफ़ा उम्र भर करें क्यूँ-कर !

 

Bewafa Shayari / Poetry / Status / Quotes / Sms

 

Hum Ne Kati Hain Teri Yaad Mein Raaten Aksar..

Hum Ne Kati Hain Teri Yaad Mein Raaten Aksar.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Hum ne kati hain teri yaad mein raaten aksar,
Dil se guzri hain sitaron ki baraaten aksar.

Aur to kaun hai jo mujh ko tasalli deta,
Haath rakh deti hain dil par teri baaten aksar.

Husn shaista-e-tahzib-e-alam hai shayed,
Gham-zada lagti hain kyun chandni raaten aksar.

Haal kahna hai kisi se to mukhatab hai koi,
Kitni dilchasp hua karti hain baaten aksar.

Ishq rahzan na sahi ishq ke hathon phir bhi,
Hum ne lutti hui dekhi hain baraten aksar.

Hum se ek bar bhi jita hai na jitega koi,
Wo to hum jaan ke kha lete hain maten aksar.

Un se puchho kabhi chehre bhi padhe hain tum ne,
Jo kitabon ki kiya karte hain baaten aksar.

Hum ne un tund-hawaon mein jalaye hain charagh,
Jin hawaon ne ulat di hain bisaten aksar. !!

हम ने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर.. “जान निसार अख्तर” कविता हिंदी में !

हम ने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर,
दिल से गुज़री हैं सितारों की बरातें अक्सर !

और तो कौन है जो मुझ को तसल्ली देता,
हाथ रख देती हैं दिल पर तेरी बातें अक्सर !

हुस्न शाइस्ता-ए-तहज़ीब-ए-अलम है शायद,
ग़म-ज़दा लगती हैं क्यूँ चाँदनी रातें अक्सर !

हाल कहना है किसी से तो मुख़ातब है कोई,
कितनी दिलचस्प हुआ करती हैं बातें अक्सर !

इश्क़ रहज़न न सही इश्क़ के हाथों फिर भी,
हम ने लुटती हुई देखी हैं बरातें अक्सर !

हम से एक बार भी जीता है न जीतेगा कोई,
वो तो हम जान के खा लेते हैं मातें अक्सर !

उन से पूछो कभी चेहरे भी पढ़े हैं तुम ने,
जो किताबों की किया करते हैं बातें अक्सर !

हम ने उन तुंद-हवाओं में जलाए हैं चराग़,
जिन हवाओं ने उलट दी हैं बिसातें अक्सर !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Kahan Wo Ab Lutf-E-Bahami Hai Mohabbaton Mein Bahut Kami Hai

Kahan wo ab lutf-e-bahami hai mohabbaton mein bahut kami hai,
Chali hai kaisi hawa ilahi ki har tabiat mein barhami hai.

Meri wafa mein hai kya tazalzul meri itaat mein kya kami hai,
Ye kyun nigahen phiri hain mujh se mizaj mein kyun ye barhami hai.

Wahi hai fazl-e-khuda se ab tak taraqqi-e-kar-e-husn o ulfat,
Na wo hain mashq-e-sitam mein qasir na khun-e-dil ki yahan kami hai.

Ajib jalwe hain hosh dushman ki wahm ke bhi qadam ruke hain,
Ajib manzar hain hairat-afza nazar jahan thi wahin thami hai.

Na koi takrim-e-bahami hai na pyar baqi hai ab dilon mein,
Ye sirf tahrir mein dear sir hai ya janab-e-mukarrami hai.

Kahan ke muslim kahan ke hindu bhulai hain sab ne agli rasmen,
Aqide sab ke hain tin-terah na gyarahwin hai na ashtami hai.

Nazar meri aur hi taraf hai hazar rang-e-zamana badle,
Hazar baaten banaye naseh jami hai dil mein jo kuch jami hai.

Agarche main rind-e-mohtaram hun magar ise shaikh se na puchho,
Ki un ke aage to is zamane mein sari duniya jahannami hai. !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Aisa Bana Diya Tujhe Qudrat Khuda Ki Hai..

Aisa bana diya tujhe qudrat khuda ki hai,
Kis husan ka hai husan ada kis ada ki hai.

Chashm-e-siyah-e-yaar se sazish haya ki hai,
Laila ke sath mein ye saheli bala ki hai.

Taswir kyun dikhayen tumhein naam kyun batayen,
Laye hain hum kahin se kisi bewafa ki hai.

Andaz mujh se aur hain dushman se aur dhang,
Pahchan mujh ko apni parai qaza ki hai.

Maghrur kyun hain aap jawani par is qadar,
Ye mere naam ki hai ye meri dua ki hai.

Dushman ke ghar se chal ke dikha do juda juda,
Ye bankpan ki chaal ye naz-o-ada ki hai.

Rah rah ke le rahi hai mere dil mein chutkiyan,
Phisli hui girah tere band-e-qaba ki hai.

Gardan mudi nigah ladi baat kuchh na ki,
Shokhi to khair aap ki tamkin bala ki hai.

Hoti hai roz baada-kashon ki dua qubul,
Aye mohtasib ye shan-e-karimi khuda ki hai.

Jitne gile the un ke wo sab dil se dhul gaye,
Jhepi hui nigah talafi jafa ki hai.

Chhupta hai khun bhi kahin mutthi to kholiye,
Rangat yahi hina ki yahi bu hina ki hai.

Kah do ki be-wazu na chhuye us ko mohtasib,
Botal mein band ruh kisi parsa ki hai.

Main imtihan de ke unhen kyun na mar gaya,
Ab ghair se bhi un ko tamanna wafa ki hai.

Dekho to ja ke hazrat-e-‘Bekhud’ na hun kahin,
Dawat sharab-khane mein ek parsa ki hai. !!

ऐसा बना दिया तुझे क़ुदरत ख़ुदा की है,
किस हुस्न का है हुस्न अदा किस अदा की है !

चश्म-ए-सियाह-ए-यार से साज़िश हया की है,
लैला के साथ में ये सहेली बला की है !

तस्वीर क्यूँ दिखाएँ तुम्हें नाम क्यूँ बताएँ,
लाए हैं हम कहीं से किसी बेवफ़ा की है !

अंदाज़ मुझ से और हैं दुश्मन से और ढंग,
पहचान मुझ को अपनी पराई क़ज़ा की है !

मग़रूर क्यूँ हैं आप जवानी पर इस क़दर,
ये मेरे नाम की है ये मेरी दुआ की है !

दुश्मन के घर से चल के दिखा दो जुदा जुदा,
ये बाँकपन की चाल ये नाज़-ओ-अदा की है !

रह रह के ले रही है मिरे दिल में चुटकियाँ,
फिसली हुई गिरह तिरे बंद-ए-क़बा की है !

गर्दन मुड़ी निगाह लड़ी बात कुछ न की,
शोख़ी तो ख़ैर आप की तम्कीं बला की है !

होती है रोज़ बादा-कशों की दुआ क़ुबूल,
ऐ मोहतसिब ये शान-ए-करीमी ख़ुदा की है !

जितने गिले थे उन के वो सब दिल से धुल गए,
झेपी हुई निगाह तलाफ़ी जफ़ा की है !

छुपता है ख़ून भी कहीं मुट्ठी तो खोलिए,
रंगत यही हिना की यही बू हिना की है !

कह दो कि बे-वज़ू न छुए उस को मोहतसिब,
बोतल में बंद रूह किसी पारसा की है !

मैं इम्तिहान दे के उन्हें क्यूँ न मर गया,
अब ग़ैर से भी उन को तमन्ना वफ़ा की है !

देखो तो जा के हज़रत-ए-‘बेख़ुद’ न हूँ कहीं,
दावत शराब-ख़ाने में इक पारसा की है !! -Bekhud Dehlvi Ghazal

 

Wo Jo Tere Faqir Hote Hain..

Wo jo tere faqir hote hain,
Aadmi be-nazir hote hain.

Dekhne wala ek nahi milta,
Aankh wale kasir hote hain.

Jin ko daulat haqir lagti hai,
Uff ! wo kitne amir hote hain.

Jin ko kudrat ne husan bakhsha ho,
Kudratan kuchh sharir hote hain.

Zindagi ke hasin tarkash mein,
Kitne be-rahm tir hote hain.

Wo parinde jo aankh rakhte hain,
Sab se pahle asir hote hain.

Phool daman mein chand rakh lije,
Raste mein faqir hote hain.

Hai khushi bhi ajib shai lekin,
Gham bade dil-pazir hote hain.

Aye “Adam” ehtiyat logon se,
Log munkir-nakir hote hain. !!

वो जो तेरे फ़क़ीर होते हैं,
आदमी बे-नज़ीर होते हैं !

देखने वाला एक नहीं मिलता,
आँख वाले कसीर होते हैं

जिन को दौलत हक़ीर लगती है,
उफ़ ! वो कितने अमीर होते हैं !

जिन को क़ुदरत ने हुस्न बख़्शा हो,
क़ुदरतन कुछ शरीर होते हैं !

ज़िंदगी के हसीन तरकश में,
कितने बे-रहम तीर होते हैं !

वो परिंदे जो आँख रखते हैं,
सब से पहले असीर होते हैं !

फूल दामन में चंद रख लीजे,
रास्ते में फ़क़ीर होते हैं !

है ख़ुशी भी अजीब शय लेकिन,
ग़म बड़े दिल-पज़ीर होते हैं !

ऐ “अदम” एहतियात लोगों से,
लोग मुनकिर-नकीर होते हैं !!

 

Aashiq Samajh Rahe Hain Mujhe Dil Lagi Se Aap..

Aashiq samajh rahe hain mujhe dil lagi se aap,
Waqif nahi abhi mere dil ki lagi se aap.

Dil bhi kabhi mila ke mile hain kisi se aap,
Milne ko roz milte hain yun to sabhi se aap.

Sab ko jawab degi nazar hasb-e-muddaa,
Sun lije sab ki baat na kije kisi se aap.

Marna mera ilaj to be-shak hai soch lun,
Ye dosti se kahte hain ya dushmani se aap.

Hoga juda ye hath na gardan se wasl mein,
Darta hun ud na jayen kahin nazuki se aap.

Zahid khuda gawah hai hote falak par aaj,
Lete khuda ka naam agar aashiqi se aap.

Ab ghurne se fayeda bazm-e-raqib mein,
Dil par chhuri to pher chuke be-rukhi se aap.

Dushman ka zikr kya hai jawab us ka dijiye,
Raste mein kal mile the kisi aadmi se aap.

Shohrat hai mujh se husan ki is ka mujhe hai rashk,
Hote hain mustafiz meri zindagi se aap.

Dil to nahi kisi ka tujhe todte hain hum,
Pahle chaman mein puchh len itna kali se aap.

Main bewafa hun ghair nihayat wafa shiar,
Mera salam lije milein ab usi se aap.

Aadhi to intezar hi mein shab guzar gayi,
Us par ye turra so bhi rahenge abhi se aap.

Badla ye rup aap ne kya bazm-e-ghair mein,
Ab tak meri nigah mein hain ajnabi se aap.

Parde mein dosti ke sitam kis qadar huye,
Main kya bataun puchhiye ye apne ji se aap.

Ai shaikh aadmi ke bhi darje hain mukhtalif,
Insan hain zarur magar wajibi se aap.

Mujh se salah li na ijazat talab huyi,
Be-wajh ruth baithe hain apni khushi se aap.

Bekhud” yahi to umar hai aish o nashat ki,
Dil mein na apne tauba ki thanen abhi se aap. !!

आशिक़ समझ रहे हैं मुझे दिल लगी से आप,
वाक़िफ़ नहीं अभी मिरे दिल की लगी से आप !

दिल भी कभी मिला के मिले हैं किसी से आप,
मिलने को रोज़ मिलते हैं यूँ तो सभी से आप !

सब को जवाब देगी नज़र हस्ब-ए-मुद्दआ,
सुन लीजे सब की बात न कीजे किसी से आप !

मरना मिरा इलाज तो बे-शक है सोच लूँ,
ये दोस्ती से कहते हैं या दुश्मनी से आप !

होगा जुदा ये हाथ न गर्दन से वस्ल में,
डरता हूँ उड़ न जाएँ कहीं नाज़ुकी से आप !

ज़ाहिद ख़ुदा गवाह है होते फ़लक पर आज,
लेते ख़ुदा का नाम अगर आशिक़ी से आप !

अब घूरने से फ़ाएदा बज़्म-ए-रक़ीब में,
दिल पर छुरी तो फेर चुके बे-रुख़ी से आप !

दुश्मन का ज़िक्र क्या है जवाब उस का दीजिए,
रस्ते में कल मिले थे किसी आदमी से आप !

शोहरत है मुझ से हुस्न की इस का मुझे है रश्क,
होते हैं मुस्तफ़ीज़ मिरी ज़िंदगी से आप !

दिल तो नहीं किसी का तुझे तोड़ते हैं हम,
पहले चमन में पूछ लें इतना कली से आप !

मैं बेवफ़ा हूँ ग़ैर निहायत वफ़ा शिआर,
मेरा सलाम लीजे मिलें अब उसी से आप !

आधी तो इंतिज़ार ही में शब गुज़र गई,
उस पर ये तुर्रा सो भी रहेंगे अभी से आप !

बदला ये रूप आप ने क्या बज़्म-ए-ग़ैर में,
अब तक मिरी निगाह में हैं अजनबी से आप !

पर्दे में दोस्ती के सितम किस क़दर हुए,
मैं क्या बताऊँ पूछिए ये अपने जी से आप !

ऐ शैख़ आदमी के भी दर्जे हैं मुख़्तलिफ़,
इंसान हैं ज़रूर मगर वाजिबी से आप !

मुझ से सलाह ली न इजाज़त तलब हुई,
बे-वजह रूठ बैठे हैं अपनी ख़ुशी से आप !

बेख़ुद” यही तो उम्र है ऐश ओ नशात की,
दिल में न अपने तौबा की ठानें अभी से आप !!

 

Famous Two Line Poetry Of Aziz Lakhnavi

Famous Two Line Poetry Of Aziz Lakhnavi

Paida wo baat kar ki tujhe roye dusare,
Rona khud ye apne haal pe ye zaar zaar kya.

पैदा वो बात कर कि तुझे रोएँ दूसरे,
रोना खुद अपने हाल पे ये जार जार क्या !

Tumne cheda to kuchh khule hum bhi,
Baat par baat yaad aati hai.

तुम ने छेड़ा तो कुछ खुले हम भी,
बात पर बात याद आती है !

Zaban dil ki haqiqat ko kya bayan karti,
Kisi ka haal kisi se kaha nahi jata.

जबान दिल की हकीकत को क्या बयां करती,
किसी का हाल किसी से कहा नहीं जाता !

Unko sote huye dekha tha dame-subah kabhi,
Kya bataun jo in aankhon ne sama dekha tha.

उनको सोते हुए देखा था दमे-सुबह कभी,
क्या बताऊं जो इन आंखों ने समां देखा था !

Apne markaz ki taraf maaial-e-parwaz tha husan
Bhulta hi nahi aalam tiri angadaai ka.

अपने मरकज़ की तरफ माइल-ए-परवाज़ था हुस्न,
भूलता ही नहीं आलम तिरी अंगड़ाई का !

Itana to soch zalim jauro-jafa se pahale,
Yah rasm dosti ki duniya se uth jayegi.

इतना तो सोच जालिम जौरो-जफा से पहले,
यह रस्म दोस्ती की दुनिया से उठ जायेगी !

Hamesha tinke hi chunte gujar gayi apni,
Magar chaman mein kahi aashiyan bana na sake.

हमेशा तिनके ही चुनते गुजर गई अपनी,
मगर चमन में कहीं आशियाँ बना ना सके !

Ek majboor ki tamnna kya,
Roz jeeti hai, roz marti hai.

एक मजबूर की तमन्ना क्या,
रोज जीती है, रोज मरती है !

Kafas mein ji nahi lagta hai. aah phir bhi mera,
Yah janta hun ki tinka bhi aashiyan mein nahi.

कफस में जी नहीं लगता है, आह फिर भी मेरा,
यह जानता हूँ कि तिनका भी आशियाँ में नहीं !

Sitam hai lash par us bewafa ka yah kehana,
Ki aane ka bhi na kisi ne intezaar kiya.

सितम है लाश पर उस बेवफा का यह कहना,
कि आने का भी न किसी ने इंतज़ार किया !

Khuda ka kaam hai yun marizon ko shifa dena,
Munasib ho to ek din hathon se apne dawa dena.

खुदा का काम है यूँ तो मरीजों को शिफा देना,
मुनासिब हो तो इक दिन हाथों से अपने दवा देना !

Bhala zabat ki bhi koi inteha hai,
Kahan tak tabiyat ko apni sambhale.

भला जब्त की भी कोई इन्तहा है,
कहाँ तक तबियत को अपनी संभाले !

Jhoothe wadon par thi apni zindagi,
Ab to yah bhi aasara jata raha.

झूठे वादों पर थी अपनी जिन्दगी,
अब तो यह भी आसरा जाता रहा !

Suroore-shab ki nahi subah ka khumar hun main,
Nikal chuki hai jo gulshan se wah bahar hun main.

सुरूरे-शब की नहीं सुबह का खुमार हूँ मैं,
निकल चुकी है जो गुलशन से वह बहार हूँ मैं !

Dil samjhata tha ki khalwat mein wo tanha honge,
Maine parda jo uthaya to kayamat nikali.

दिल समझता था कि ख़ल्वत में वो तन्हा होंगे,
मैंने पर्दा जो उठाया तो क़यामत निकली !

Khud chale aao ya bula bhejo,
Raat akele basar nahi hoti.

ख़ुद चले आओ या बुला भेजो,
रात अकेले बसर नहीं होती !

Aaina chhod ke dekha kiye surat meri,
Dil-e-muztar ne mire un ko sanwarne na diya.

आईना छोड़ के देखा किए सूरत मेरी,
दिल-ए-मुज़्तर ने मिरे उन को सँवरने न दिया !

Hijr ki raat katne waale,
Kya karega agar sahar na huyi.

हिज्र की रात काटने वाले,
क्या करेगा अगर सहर न हुई !

Hai dil mein josh-e-hasrat rukte nahi hain aansoo,
Risti huyi surahi tuuta hua subu hun.

है दिल में जोश-ए-हसरत रुकते नहीं हैं आँसू,
रिसती हुई सुराही टूटा हुआ सुबू हूँ !

Azīz” munh se wo apne naqab to ulten,
Karenge jabr agar dil pe ikhtiyar raha.

अज़ीज़” मुँह से वो अपने नक़ाब तो उलटें,
करेंगे जब्र अगर दिल पे इख़्तियार रहा !

Be-piye waaiz ko meri raaye mein,
Masjid-e-jama mein jaana hi na tha.

बे-पिए वाइ’ज़ को मेरी राय में,
मस्जिद-ए-जामा में जाना ही न था !

Usi ko hashr kahte hain jahan duniya ho fariyadi,
Yahi ai mir-e-divan-e-jaza kya teri mahfil hai.

उसी को हश्र कहते हैं जहाँ दुनिया हो फ़रियादी,
यही ऐ मीर-ए-दीवान-ए-जज़ा क्या तेरी महफ़िल है !

Lutf-e-bahar kuchh nahi go hai wahi bahar,
Dil hi ujad gaya ki zamana ujad gaya.

लुत्फ़-ए-बहार कुछ नहीं गो है वही बहार,
दिल ही उजड़ गया कि ज़माना उजड़ गया !

Itna bhi bar-e-khatir-e-gulshan na ho koi,
Tuti wo shakh jis pe mira ashiyana tha.

इतना भी बार-ए-ख़ातिर-ए-गुलशन न हो कोई,
टूटी वो शाख़ जिस पे मिरा आशियाना था !

Batao aise marizon ka hai ilaaj koi,
Ki jin se haal bhi apna bayan nahi hota.

बताओ ऐसे मरीज़ों का है इलाज कोई,
कि जिन से हाल भी अपना बयाँ नहीं होता !

Be-khudi kucha-e-janan mein liye jaati hai,
Dekhiye kaun mujhe meri khabar deta hai.

बे-ख़ुदी कूचा-ए-जानाँ में लिए जाती है,
देखिए कौन मुझे मेरी ख़बर देता है !

Haaye kya chiiz thi jawani bhi,
Ab to din raat yaad aati hai.

हाए क्या चीज़ थी जवानी भी,
अब तो दिन रात याद आती है !

Maana ki bazm-e-husn ke adab hain bahut,
Jab dil pe ikhtiyar na ho kya kare koi.

माना कि बज़्म-ए-हुस्न के आदाब हैं बहुत,
जब दिल पे इख़्तियार न हो क्या करे कोई !

Naza ka waqt hai baitha hai sirhane koi,
Waqt ab wo hai ki marna hamein manzur nahi.

नज़्अ’ का वक़्त है बैठा है सिरहाने कोई,
वक़्त अब वो है कि मरना हमें मंज़ूर नहीं !

Qatal aur mujh se sakht-jan ka qatal,
Tegh dekho zara kamar dekho.

क़त्ल और मुझ से सख़्त-जाँ का क़त्ल,
तेग़ देखो ज़रा कमर देखो !

Jab se zulfon ka pada hai is mein aks,
Dil mira tuta hua aaina hai.

जब से ज़ुल्फ़ों का पड़ा है इस में अक्स,
दिल मिरा टूटा हुआ आईना है !

Dil nahi jab to khaak hai duniya,
Asal jo chiiz thi wahi na rahi.

दिल नहीं जब तो ख़ाक है दुनिया,
असल जो चीज़ थी वही न रही !

Tumhen hanste hue dekha hai jab se,
Mujhe rone ki aadat ho gayi hai.

तुम्हें हँसते हुए देखा है जब से,
मुझे रोने की आदत हो गई है !

Tamam anjuman-e-waz ho gayi barham,
Liye hue koi yun saghar-e-sharab aaya.

तमाम अंजुमन-ए-वाज़ हो गई बरहम,
लिए हुए कोई यूँ साग़र-ए-शराब आया !

Musibat thi hamare hi liye kyun,
Ye maana ham jiye lekin jiye kyun ?

मुसीबत थी हमारे ही लिए क्यूँ,
ये माना हम जिए लेकिन जिए क्यूँ ?

Tah mein dariya-e-mohabbat ke thi kya chiiz “Azīz”,
Jo koi dub gaya us ko ubharne na diya.

तह में दरिया-ए-मोहब्बत के थी क्या चीज़ “अज़ीज़”,
जो कोई डूब गया उस को उभरने न दिया !

Dil ki aludgi-e-zakhm badhi jaati hai,
Saans leta hun to ab khun ki bu aati hai.

दिल की आलूदगी-ए-ज़ख़्म बढ़ी जाती है,
साँस लेता हूँ तो अब ख़ून की बू आती है !

Phuut nikla zahr saare jism mein,
Jab kabhi aansoo hamare tham gaye.

फूट निकला ज़हर सारे जिस्म में,
जब कभी आँसू हमारे थम गए !

Udasi ab kisi ka rang jamne hi nahi deti,
Kahan tak phool barsaye koi gor-e-ghariban par.

उदासी अब किसी का रंग जमने ही नहीं देती,
कहाँ तक फूल बरसाए कोई गोर-ए-ग़रीबाँ पर !

Shisha-e-dil ko yun na uthao,
Dekho haath se chhota hota.

शीशा-ए-दिल को यूँ न उठाओ,
देखो हाथ से छोटा होता !

 

Famous Two Line Poetry Of Asghar Gondvi

Famous Two Line Poetry Of Asghar Gondvi

Chala jaata hun hansta khelta mauj-e-havadis se,
Agar aasaniyan hon zindagi dushwaar ho jaaye.

चला जाता हूँ हँसता खेलता मौज-ए-हवादिस से,
अगर आसानियाँ हों ज़िंदगी दुश्वार हो जाए !

Aks kis cheez ka aaina-e-hairat mein nahi,
Teri surat mein hai kya jo meri surat mein nahi.

अक्स किस चीज़ का आईना-ए-हैरत में नहीं,
तेरी सूरत में है क्या जो मेरी सूरत में नहीं !

Zahid ne mira hasil-e-iman nahi dekha,
Ruḳh par tiri zulfon ko pareshan nahi dekha.

ज़ाहिद ने मिरा हासिल-ए-ईमाँ नहीं देखा,
रुख़ पर तिरी ज़ुल्फ़ों को परेशाँ नहीं देखा !

Yahan to umar guzari hai mauj-e-talaatum mein,
Wo koi aur honge sair-e-saahil dekhne wale.

यहाँ तो उम्र गुजरी है मौजे- तलातुम में,
वो कोई और होंगे सैरे-साहिल देखने वाले !

Yun muskuraye jaan si kaliyon mein pad gayi,
Yun lab-kusha hue ki gulistan bana diya.

यूँ मुस्कुराए जान सी कलियों में पड़ गई,
यूँ लब-कुशा हुए कि गुलिस्ताँ बना दिया !

Ek aisi bhi tajalli aaj mai-ḳhane mein hai,
Lutf peene mein nahi hai balki kho jaane mein hai.

एक ऐसी भी तजल्ली आज मय-ख़ाने में है,
लुत्फ़ पीने में नहीं है बल्कि खो जाने में है !

Bulbulo-gul pe jo guzari humko us se kya garaz,
Hum to gulshan mein fakat rang-e-chaman dekha kiye.

बुलबुलो-गुल पै जो गुजरी हमको उससे क्या गरज,
हम तो गुलशन में फकत रंगे-चमन देखा किए !

Ik ada, ik hijab, ik shokhi,
Nichi nazron mein kya nahi hota.

इक अदा, इक हिजाब, इक शोख़ी,
नीची नज़रों में क्या नहीं होता !

Pahli nazar bhi aap ki uff kis bala ki thi,
Hum aaj tak wo chot hain dil par liye hue.

पहली नज़र भी आप की उफ़ किस बला की थी,
हम आज तक वो चोट हैं दिल पर लिए हुए !

Bana leta hai mauj-e-ḳhun-e-dil se ik chaman apna,
Wo paband-e-qafas jo fitratan azad hota hai.

बना लेता है मौज-ए-ख़ून-ए-दिल से इक चमन अपना,
वो पाबंद-ए-क़फ़स जो फ़ितरतन आज़ाद होता है !

Dastan un ki adaon ki hai rangin lekin,
Is mein kuchh ḳhun-e-tamanna bhi hai shamil apna.

दास्ताँ उन की अदाओं की है रंगीं लेकिन,
इस में कुछ ख़ून-ए-तमन्ना भी है शामिल अपना !

Sunta hun bade ghaur se afsana-e-hasti,
Kuchh khwab hai kuchh asl hai kuchh tarz-e-ada hai.

सुनता हूँ बड़े ग़ौर से अफ़्साना-ए-हस्ती,
कुछ ख़्वाब है कुछ अस्ल है कुछ तर्ज़-ए-अदा है !

Jina bhi aa gaya mujhe marna bhi aa gaya,
Pahchanne laga hun tumhari nazar ko main.

जीना भी आ गया मुझे मरना भी आ गया,
पहचानने लगा हूँ तुम्हारी नज़र को मैं !

Aalam se be-khabar bhi hun aalam mein bhi hun main,
Saaqi ne is maqam ko asan bana diya.

आलम से बे-ख़बर भी हूँ आलम में भी हूँ मैं,
साक़ी ने इस मक़ाम को आसाँ बना दिया !

Mujhse jo chahiye wo dars-e-basirat lije,
Main khud awaz hun meri koi awaz nahi.

मुझसे जो चाहिए वो दर्स-ए-बसीरत लीजे,
मैं ख़ुद आवाज़ हूँ मेरी कोई आवाज़ नहीं !

Zulf thi jo bikhar gayi rukh tha ki jo nikhar gaya,
Haaye wo shaam ab kahan haaye wo ab sahar kahan.

ज़ुल्फ़ थी जो बिखर गई रुख़ था कि जो निखर गया,
हाए वो शाम अब कहाँ हाए वो अब सहर कहाँ !

Main kya kahun kahan hai mohabbat kahan nahi,
Rag rag mein daudi phirti hai nashtar liye hue.

मैं क्या कहूँ कहाँ है मोहब्बत कहाँ नहीं,
रग रग में दौड़ी फिरती है नश्तर लिए हुए !

Allah-re chashm-e-yar ki mojiz-bayaniyan,
Har ik ko hai guman ki mukhatab hamin rahe.

अल्लाह-रे चश्म-ए-यार की मोजिज़-बयानियाँ,
हर इक को है गुमाँ कि मुख़ातब हमीं रहे !

Sau baar tira daman hathon mein mire aaya,
Jab aankh khulī dekha apna hī gareban tha.

सौ बार तिरा दामन हाथों में मिरे आया,
जब आँख खुली देखा अपना ही गरेबाँ था !

Nahi dair o haram se kaam ham ulfat ke bande hain,
Wahi kaaba hai apna aarzu dil ki jahan nikle.

नहीं दैर ओ हरम से काम हम उल्फ़त के बंदे हैं,
वही काबा है अपना आरज़ू दिल की जहाँ निकले !

Asghar” ghazal mein chahiye wo mauj-e-zindagi,
Jo husan hai buton mein jo masti sharab mein.

असग़र” ग़ज़ल में चाहिए वो मौज-ए-ज़िंदगी,
जो हुस्न है बुतों में जो मस्ती शराब में !

Niyaz-e-ishq ko samjha hai kya ai waaiz-e-nadan,
Hazaaron ban gaye kaabe jabin maine jahan rakh di.

नियाज़-ए-इश्क़ को समझा है क्या ऐ वाइज़-ए-नादाँ,
हज़ारों बन गए काबे जबीं मैंने जहाँ रख दी !

Log marte bhi hain jite bhi hain betab bhi hain,
Kaun sa sehr tiri chashm-e-inayat mein nahi.

लोग मरते भी हैं जीते भी हैं बेताब भी हैं,
कौन सा सेहर तिरी चश्म-ए-इनायत में नहीं !

Rind jo zarf utha len wahi saghar ban jaye,
Jis jagah baith ke pi len wahi mai-khana bane.

रिंद जो ज़र्फ़ उठा लें वही साग़र बन जाए,
जिस जगह बैठ के पी लें वही मय-ख़ाना बने !

Ye bhi fareb se hain kuchh dard ashiqī ke,
Ham mar ke kya karenge kya kar liya hai jī ke.

ये भी फ़रेब से हैं कुछ दर्द आशिक़ी के,
हम मर के क्या करेंगे क्या कर लिया है जी के !

Hal kar liya majaz haqiqat ke raaz ko,
Payi hai maine khwab kī tabir khwab mein.

हल कर लिया मजाज़ हक़ीक़त के राज़ को,
पाई है मैंने ख़्वाब की ताबीर ख़्वाब में !

Ishq ki betabiyon par husan ko rahm aa gaya,
Jab nigah-e-shauq tadpi parda-e-mahmil na tha.

इश्क़ की बेताबियों पर हुस्न को रहम आ गया,
जब निगाह-ए-शौक़ तड़पी पर्दा-ए-महमिल न था !

Ishvon ki hai na us nigah-e-fitna-za ki hai,
Saari khata mire dil-e-shorish-ada ki hai.

इश्वों की है न उस निगह-ए-फ़ित्ना-ज़ा की है,
सारी ख़ता मिरे दिल-ए-शोरिश-अदा की है !

Kuchh milte hain ab pukhtagi-e-ishq ke asar,
Nalon mein rasaai hai na aahon mein asar hai.

कुछ मिलते हैं अब पुख़्तगी-ए-इश्क़ के आसार,
नालों में रसाई है न आहों में असर है !

Kya mastiyan chaman mein hain josh-e-bahar se,
Har shakh-e-gul hai haath mein saghar liye hue.

क्या मस्तियाँ चमन में हैं जोश-ए-बहार से,
हर शाख़-ए-गुल है हाथ में साग़र लिए हुए !

Ye astan-e-yar hai sehn-e-haram nahi,
Jab rakh diya hai sar to uthana na chahiye.

ये आस्तान-ए-यार है सेहन-ए-हरम नहीं,
जब रख दिया है सर तो उठाना न चाहिए !

Ham us nigah-e-naz ko samjhe the neshtar,
Tumne to muskura ke rag-e-jan bana diya.

हम उस निगाह-ए-नाज़ को समझे थे नेश्तर,
तुमने तो मुस्कुरा के रग-ए-जाँ बना दिया !

Har ik jagah tiri barq-e-nigah daud gayi,
Gharaz ye hai ki kisi cheez ko qarar na ho.

हर इक जगह तिरी बर्क़-ए-निगाह दौड़ गई,
ग़रज़ ये है कि किसी चीज़ को क़रार न हो !

Wo shorishen nizam-e-jahan jin ke dam se hai,
Jab mukhtasar kiya unhen insan bana diya.

वो शोरिशें निज़ाम-ए-जहाँ जिन के दम से है,
जब मुख़्तसर किया उन्हें इंसाँ बना दिया !

Chhut jaye agar daman-e-kaunain to kya gham,
Lekin na chhute haath se daman-e-mohammad.

छुट जाए अगर दामन-ए-कौनैन तो क्या ग़म,
लेकिन न छुटे हाथ से दामान-ए-मोहम्मद !

Asghar” harim-e-ishq mein hasti hi jurm hai,
Rakhna kabhi na paanv yahan sar liye hue.

असग़र” हरीम-ए-इश्क़ में हस्ती ही जुर्म है,
रखना कभी न पाँव यहाँ सर लिए हुए !

Maail-e-sher-o-ghazal phir hai tabiat “asghar”,
Abhi kuchh aur muqaddar mein hai ruswa hona.

माइल-ए-शेर-ओ-ग़ज़ल फिर है तबीअत “असग़र”,
अभी कुछ और मुक़द्दर में है रुस्वा होना !

Yahan kotahi-e-zauq-e-amal hai khud giraftari,
Jahan baazu simatte hain wahin sayyad hota hai.

यहाँ कोताही-ए-ज़ौक़-ए-अमल है ख़ुद गिरफ़्तारी,
जहाँ बाज़ू सिमटते हैं वहीं सय्याद होता है !

Bistar-e-khak pe baitha hun na masti hai na hosh,
Zarre sab sakit-o-samit hain sitare khamosh.

बिस्तर-ए-ख़ाक पे बैठा हूँ न मस्ती है न होश,
ज़र्रे सब साकित-ओ-सामित हैं सितारे ख़ामोश !

Kya kya hain dard-e-ishq ki fitna-taraziyan,
Ham iltifat-e-khas se bhi bad-guman rahe.

क्या क्या हैं दर्द-ए-इश्क़ की फ़ित्ना-तराज़ियाँ,
हम इल्तिफ़ात-ए-ख़ास से भी बद-गुमाँ रहे !

Alam-e-rozgar ko asan bana diya,
Jo gham hua use gham-e-janan bana diya.

आलाम-ए-रोज़गार को आसाँ बना दिया,
जो ग़म हुआ उसे ग़म-ए-जानाँ बना दिया !

Mujhko khabar rahi na rukh-e-be-naqab ki,
Hai khud numud husan mein shan-e-hijab ki.

मुझको ख़बर रही न रुख़-ए-बे-नक़ाब की,
है ख़ुद नुमूद हुस्न में शान-ए-हिजाब की !

Wahin se ishq ne bhi shorishen udaai hain,
Jahan se tune liye ḳhanda-ha-e-zer-e-labi.

वहीं से इश्क़ ने भी शोरिशें उड़ाई हैं,
जहाँ से तूने लिए ख़ंदा-हा-ए-ज़ेर-ए-लबी !

Wo naghma bulbul-e-rangin-nava ik baar ho jaye,
Kali ki aankh khul jaye chaman bedar ho jaye.

वो नग़्मा बुलबुल-ए-रंगीं-नवा इक बार हो जाए,
कली की आँख खुल जाए चमन बेदार हो जाए !

Asghar” se mile lekin “asghar” ko nahi dekha,
Ashaar mein sunte hain kuchh kuchh wo numayan hai.

असग़र” से मिले लेकिन “असग़र” को नहीं देखा,
अशआर में सुनते हैं कुछ कुछ वो नुमायाँ है !

Main kamyab-e-did bhi mahrum-e-did bhi,
Jalwon ke izhdiham ne hairan bana diya.

मैं कामयाब-ए-दीद भी महरूम-ए-दीद भी,
जल्वों के इज़दिहाम ने हैराँ बना दिया !

Miri wahshat pe bahs-araaiyan achchhi nahi zahid,
Bahut se bandh rakkhe hain gareban maine daman mein.

मिरी वहशत पे बहस-आराइयाँ अच्छी नहीं ज़ाहिद,
बहुत से बाँध रक्खे हैं गरेबाँ मैंने दामन में !

Be-mahaba ho agar husan to wo baat kahan,
Chhup ke jis shaan se hota hai numayan koi.

बे-महाबा हो अगर हुस्न तो वो बात कहाँ,
छुप के जिस शान से होता है नुमायाँ कोई !

Qahr hai thodi si bhi ghaflat tariq-e-ishq mein,
Aankh jhapki qais ki aur samne mahmil na tha.

क़हर है थोड़ी सी भी ग़फ़लत तरीक़-ए-इश्क़ में,
आँख झपकी क़ैस की और सामने महमिल न था !

Ariz-e-nazuk pe unke rang sa kuchh aa gaya,
In gulon ko chhed kar hamne gulistan kar diya.

आरिज़-ए-नाज़ुक पे उनके रंग सा कुछ आ गया,
इन गुलों को छेड़ कर हमने गुलिस्ताँ कर दिया !

Lazzat-e-sajda-ha-e-shauq na puchh,
Haye wo ittisal-e-naz-o-niyaz.

लज़्ज़त-ए-सज्दा-हा-ए-शौक़ न पूछ,
हाए वो इत्तिसाल-ए-नाज़-ओ-नियाज़ !

Us jalva-gah-e-husan mein chhaya hai har taraf,
Aisa hijab chashm-e-tamasha kahen jise.

उस जल्वा-गाह-ए-हुस्न में छाया है हर तरफ़,
ऐसा हिजाब चश्म-ए-तमाशा कहें जिसे !

Ai shaikh wo basit haqiqat hai kufr ki,
Kuchh qaid-e-rasm ne jise iman bana diya.

ऐ शैख़ वो बसीत हक़ीक़त है कुफ़्र की,
कुछ क़ैद-ए-रस्म ने जिसे ईमाँ बना दिया !

Rudad-e-chaman sunta hun is tarah qafas mein,
Jaise kabhi ankhon se gulistan nahi dekha.

रूदाद-ए-चमन सुनता हूँ इस तरह क़फ़स में,
जैसे कभी आँखों से गुलिस्ताँ नहीं देखा !