Monday , September 28 2020

Poetry Types Hawa

Faza Ye Budhi Lagti Hai..

Faza Ye Budhi Lagti Hai.. { Faza – Gulzar Nazm } !

Faza ye budhi lagti hai
Purana lagta hai makan
Samundaron ke paniyon se nil ab utar chuka
Hawa ke jhonke chhute hain to khurdure se lagte hain
Bujhe hue bahut se tukde aaftab ke
Jo girte hain zameen ki taraf to aisa lagta hai
Ki dant girne lag gaye hain buddhe aasman ke

Faza ye budhi lagti hai
Purana lagta hai makan. !! -Gulzar Nazm

फ़ज़ा ये बूढ़ी लगती है
पुराना लगता है मकाँ
समुंदरों के पानियों से नील अब उतर चुका
हवा के झोंके छूते हैं तो खुरदुरे से लगते हैं
बुझे हुए बहुत से टुकड़े आफ़्ताब के
जो गिरते हैं ज़मीन की तरफ़ तो ऐसा लगता है
कि दाँत गिरने लग गए हैं बुड्ढे आसमान के

फ़ज़ा ये बूढ़ी लगती है
पुराना लगता है मकाँ !! -गुलज़ार नज़्म

 

Siddharth Ki Ek Raat..

Siddharth Ki Ek Raat.. Gulzar Nazm !

Koi patta bhi nahi hilta, na pardon mein hai jumbish
Phir bhi kanon mein bahut tez hawaon ki sada hai

Kitne unche hain ye mehrab mahal ke
Aur mehrabon se uncha wo sitaron se bhara thaal falak ka
Kitna chhota hai mera qad
Farsh par jaise kisi harf se ek nuqta gira ho
Sainkadon samton mein bhatka hua man thahre zara
Dil dhadakta hai to bas daudti tapon ki sada aati hai

Raushni band bhi kar dene se kya hoga andhera ?
Sirf aankhen hi nahi dekh sakengi ye chaugarda, main agar kanon mein kuch thuns bhi lun
Raushni chinta ki to zehn se ab bujh nahi sakti
Khud-kashi ek andhera hai, upaye to nahi
Khidkiyan sari khuli hain to hawa kyun nahi aati ?
Niche sardi hai bahut aur hawa tund hai shayad
Dur darwaze ke bahar khade wo santari donon
Shaam se aag mein bas sukhi hui tahniyon ko jhonk rahe hain

Meri aankhon se wo sukha hua dhancha nahi girta
Jism hi jism to tha, ruh kahan thi us mein
Kodh tha us ko tap-e-diq tha ? na jaane kya tha ?
Ya budhapa hi tha shayad
Pisliyan sukhe hue kekaron ke shakhche jaise
Rath pe jate hue dekha tha
Chatanon se udhar
Apni lathi pe gire ped ki manind khada tha

Phir yaka-yak ye hua
Sarthi rok nahi paya tha munh-zor samay ki tapen
Rath ke pahiye ke tale dekha tadap kar ise thanda hote
Khud-kashi thi ? wo samarpan tha ? wo durghatna thi ?
Kya tha ?

Sabz shadab darakhton ke wajud
Apne mausam mein to bin mange bhi phal dete hain
Sukh jate hain to sab kat ke
Is aag mein hi jhonk diye jate hain

Jaise darwaze pe aamal ke wo donon farishte
Shaam se aag mein bas
Sukhi hui tahniyon ko jhonk rahe hain. !! -Gulzar Nazm

कोई पत्ता भी नहीं हिलता, न पर्दों में है जुम्बिश
फिर भी कानों में बहुत तेज़ हवाओं की सदा है

कितने ऊँचे हैं ये मेहराब महल के
और मेहराबों से ऊँचा वो सितारों से भरा थाल फ़लक का
कितना छोटा है मेरा क़द
फ़र्श पर जैसे किसी हर्फ़ से इक नुक़्ता गिरा हो
सैंकड़ों सम्तों में भटका हआ मन ठहरे ज़रा
दिल धड़कता है तो बस दौड़ती टापों की सदा आती है

रौशनी बंद भी कर देने से क्या होगा अंधेरा ?
सिर्फ़ आँखें ही नहीं देख सकेंगी ये चौगर्दा, मैं अगर कानों में कुछ ठूंस भी लूँ
रौशनी चिंता की तो ज़ेहन से अब बुझ नहीं सकती
ख़ुद-कशी एक अंधेरा है, उपाए तो नहीं
खिड़कियाँ सारी खुली हैं तो हवा क्यूँ नहीं आती ?
नीचे सर्दी है बहुत और हवा तुंद है शायद
दूर दरवाज़े के बाहर खड़े वो संतरी दोनों
शाम से आग में बस सूखी हुई टहनियों को झोंक रहे हैं

मेरी आँखों से वो सूखा हुआ ढाँचा नहीं गिरता
जिस्म ही जिस्म तो था, रूह कहाँ थी उस में
कोढ़ था उस को तप-ए-दिक़ था ? न जाने क्या था ?
या बुढ़ापा ही था शायद
पिसलियाँ सूखे हुए केकरों के शाख़चे जैसे
रथ पे जाते हुए देखा था
चटानों से उधर
अपनी लाठी पे गिरे पेड़ की मानिंद खड़ा था

फिर यका-यक ये हुआ
सारथी, रोक नहीं पाया था, मुँह-ज़ोर समय की टापें
रथ के पहिए के तले देखा तड़प कर इसे ठंडा होते
ख़ुद-कशी थी ? वो समर्पण था ? वो दुर्घटना थी ?
क्या था ?

सब्ज़ शादाब दरख़्तों के वजूद
अपने मौसम में तो बिन माँगे भी फल देते हैं
सूख जाते हैं तो सब काट के
इस आग में ही झोंक दिए जाते हैं

जैसे दरवाज़े पे आमाल के वो दोनों फ़रिश्ते
शाम से आग में बस
सूखी हुई टहनियों को झोंक रहे हैं !! -गुलज़ार नज़्म

 

Ruh Dekhi Hai Kabhi..

Ruh Dekhi Hai Kabhi.. Gulzar Nazm !

Ruh dekhi hai ?
Kabhi ruh ko mahsus kiya hai ?
Jagte jite hue dudhiya kohre se lipat kar
Sans lete hue us kohre ko mahsus kiya hai ?

Ya shikare mein kisi jhil pe jab raat basar ho
Aur pani ke chhpakon mein baja karti hain tullian
Subkiyan leti hawaon ke bhi bain sune hain ?

Chaudhwin-raat ke barfab se ek chaand ko jab
Dher se saye pakadne ke liye bhagte hain
Tum ne sahil pe khade girje ki diwar se lag kar
Apni gahnati hui kokh ko mahsus kiya hai ?

Jism sau bar jale tab bhi wahi mitti hai
Ruh ek bar jalegi to wo kundan hogi
Ruh dekhi hai, kabhi ruh ko mahsus kiya hai ?? -Gulzar Nazm

रूह देखी है ?
कभी रूह को महसूस किया है ?
जागते जीते हुए दूधिया कोहरे से लिपट कर
साँस लेते हुए उस कोहरे को महसूस किया है ?

या शिकारे में किसी झील पे जब रात बसर हो
और पानी के छपाकों में बजा करती हैं टुल्लियाँ
सुबकियाँ लेती हवाओं के भी बैन सुने हैं ?

चौदहवीं-रात के बर्फ़ाब से इक चाँद को जब
ढेर से साए पकड़ने के लिए भागते हैं
तुम ने साहिल पे खड़े गिरजे की दीवार से लग कर
अपनी गहनाती हुई कोख को महसूस किया है ?

जिस्म सौ बार जले तब भी वही मिट्टी है
रूह इक बार जलेगी तो वो कुंदन होगी
रूह देखी है, कभी रूह को महसूस किया है ?? -गुलज़ार नज़्म

 

Ped Ke Patton Mein Halchal Hai Khabar-Dar Se Hain..

Ped Ke Patton Mein Halchal Hai Khabar-Dar Se Hain.. Gulzar Poetry !

Ped ke patton mein halchal hai khabar-dar se hain,
Shaam se tez hawa chalne ke aasar se hain.

Nakhuda dekh raha hai ki main girdab mein hun,
Aur jo pul pe khade log hain akhbaar se hain.

Chadhte sailab mein sahil ne to munh dhanp liya,
Log pani ka kafan lene ko tayyar se hain.

Kal tawarikh mein dafnaye gaye the jo log,
Un ke saye abhi darwazon pe bedar se hain.

Waqt ke tir to sine pe sambhaale hum ne,
Aur jo nil pade hain teri guftar se hain.

Ruh se chhile hue jism jahan bikte hain,
Hum ko bhi bech de hum bhi usi bazaar se hain.

Jab se wo ahl-e-siyasat mein hue hain shamil,
Kuch adu ke hain to kuch mere taraf-dar se hain. !! -Gulzar Poetry

पेड़ के पत्तों में हलचल है ख़बर-दार से हैं,
शाम से तेज़ हवा चलने के आसार से हैं !

नाख़ुदा देख रहा है कि मैं गिर्दाब में हूँ,
और जो पुल पे खड़े लोग हैं अख़बार से हैं !

चढ़ते सैलाब में साहिल ने तो मुँह ढाँप लिया,
लोग पानी का कफ़न लेने को तय्यार से हैं !

कल तवारीख़ में दफ़नाए गए थे जो लोग,
उन के साए अभी दरवाज़ों पे बेदार से हैं !

वक़्त के तीर तो सीने पे सँभाले हम ने,
और जो नील पड़े हैं तेरी गुफ़्तार से हैं !

रूह से छीले हुए जिस्म जहाँ बिकते हैं,
हम को भी बेच दे हम भी उसी बाज़ार से हैं !

जब से वो अहल-ए-सियासत में हुए हैं शामिल,
कुछ अदू के हैं तो कुछ मेरे तरफ़-दार से हैं !! -गुलज़ार कविता

 

Khuli Kitab Ke Safhe Ulatte Rahte Hain..

Khuli Kitab Ke Safhe Ulatte Rahte Hain.. Gulzar Poetry !

Khuli kitab ke safhe ulatte rahte hain,
Hawa chale na chale din palatte rahte hain.

Bas ek wahshat-e-manzil hai aur kuch bhi nahi,
Ki chand sidhiyan chadhte utarte rahte hain.

Mujhe to roz kasauti pe dard kasta hai,
Ki jaan se jism ke bakhiye udhadte rahte hain.

Kabhi ruka nahi koi maqam-e-sahra mein,
Ki tile panv tale se sarakte rahte hain.

Ye rotiyan hain ye sikke hain aur daere hain,
Ye ek duje ko din bhar pakadte rahte hain.

Bhare hain raat ke reze kuch aise aankhon mein,
Ujala ho to hum aankhen jhapakte rahte hain. !! -Gulzar Poetry

खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं,
हवा चले न चले दिन पलटते रहते हैं !

बस एक वहशत-ए-मंज़िल है और कुछ भी नहीं,
कि चंद सीढ़ियाँ चढ़ते उतरते रहते हैं !

मुझे तो रोज़ कसौटी पे दर्द कसता है,
कि जाँ से जिस्म के बख़िये उधड़ते रहते हैं !

कभी रुका नहीं कोई मक़ाम-ए-सहरा में,
कि टीले पाँव तले से सरकते रहते हैं !

ये रोटियाँ हैं ये सिक्के हैं और दाएरे हैं,
ये एक दूजे को दिन भर पकड़ते रहते हैं !

भरे हैं रात के रेज़े कुछ ऐसे आँखों में,
उजाला हो तो हम आँखें झपकते रहते हैं !! -गुलज़ार कविता

 

Hawa Ke Sing Na Pakdo Khaded Deti Hai..

Hawa Ke Sing Na Pakdo Khaded Deti Hai.. Gulzar Poetry !

Hawa ke sing na pakdo khaded deti hai,
Zameen se pedon ke tanke udhed deti hai.

Main chup karaata hun har shab umadti barish ko,
Magar ye roz gayi baat chhed deti hai.

Zameen sa dusra koi sakhi kahan hoga,
Zara sa bij utha le to ped deti hai.

Rundhe gale ki duaon se bhi nahi khulta,
Dar-e-hayat jise maut bhed deti hai. !! -Gulzar Poetry

हवा के सींग न पकड़ो खदेड़ देती है,
ज़मीं से पेड़ों के टाँके उधेड़ देती है !

मैं चुप कराता हूँ हर शब उमडती बारिश को,
मगर ये रोज़ गई बात छेड़ देती है !

ज़मीं सा दूसरा कोई सख़ी कहाँ होगा,
ज़रा सा बीज उठा ले तो पेड़ देती है !

रुँधे गले की दुआओं से भी नहीं खुलता,
दर-ए-हयात जिसे मौत भेड़ देती है !! -गुलज़ार कविता

 

Kahin To Gard Ude Ya Kahin Ghubar Dikhe..

Kahin To Gard Ude Ya Kahin Ghubar Dikhe.. Gulzar Poetry !

Kahin to gard ude ya kahin ghubar dikhe,
Kahin se aata hua koi shahsawar dikhe.

Khafa thi shakh se shayad ki jab hawa guzri,
Zameen pe girte hue phool be-shumar dikhe.

Rawan hain phir bhi ruke hain wahin pe sadiyon se,
Bade udaas lage jab bhi aabshaar dikhe.

Kabhi to chaunk ke dekhe koi hamari taraf,
Kisi ki aankh mein hum ko bhi intezaar dikhe.

Koi tilismi sifat thi jo is hujum mein wo,
Hue jo aankh se ojhal to bar bar dikhe. !! -Gulzar Poetry

कहीं तो गर्द उड़े या कहीं ग़ुबार दिखे,
कहीं से आता हुआ कोई शहसवार दिखे !

ख़फ़ा थी शाख़ से शायद कि जब हवा गुज़री,
ज़मीं पे गिरते हुए फूल बे-शुमार दिखे !

रवाँ हैं फिर भी रुके हैं वहीं पे सदियों से,
बड़े उदास लगे जब भी आबशार दिखे !

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ़,
किसी की आँख में हम को भी इंतिज़ार दिखे !

कोई तिलिस्मी सिफ़त थी जो इस हुजूम में वो,
हुए जो आँख से ओझल तो बार बार दिखे !! -गुलज़ार कविता

 

Gulon Ko Sunna Zara Tum Sadayen Bheji Hain..

Gulon Ko Sunna Zara Tum Sadayen Bheji Hain.. Gulzar Poetry !

Gulon ko sunna zara tum sadayen bheji hain,
Gulon ke haath bahut si duayen bheji hain.

Jo aaftab kabhi bhi ghurub hota nahi,
Hamara dil hai usi ki shuayen bheji hain.

Agar jalaye tumhein bhi shifa mile shayad,
Ek aise dard ki tum ko shuayen bheji hain.

Tumhaari khushk si aankhen bhali nahi lagtin,
Wo sari chizen jo tum ko rulayen bheji hain.

Siyah rang chamakti hui kanari hai,
Pahan lo achchhi lagengi ghatayen bheji hain.

Tumhaare khwaab se har shab lipat ke sote hain,
Sazayen bhej do hum ne khatayen bheji hain.

Akela patta hawa mein bahut buland uda,
Zameen se panv uthao hawayen bheji hain. !! -Gulzar Poetry

गुलों को सुनना ज़रा तुम सदाएँ भेजी हैं,
गुलों के हाथ बहुत सी दुआएँ भेजी हैं !

जो आफ़्ताब कभी भी ग़ुरूब होता नहीं,
हमारा दिल है उसी की शुआएँ भेजी हैं !

अगर जलाए तुम्हें भी शिफ़ा मिले शायद,
इक ऐसे दर्द की तुम को शुआएँ भेजी हैं !

तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं,
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ भेजी हैं !

सियाह रंग चमकती हुई कनारी है,
पहन लो अच्छी लगेंगी घटाएँ भेजी हैं !

तुम्हारे ख़्वाब से हर शब लिपट के सोते हैं,
सज़ाएँ भेज दो हम ने ख़ताएँ भेजी हैं !

अकेला पत्ता हवा में बहुत बुलंद उड़ा,
ज़मीं से पाँव उठाओ हवाएँ भेजी हैं !! -गुलज़ार कविता

 

Rahat Indori Two Line Shayari In Hindi

Rahat Indori Two Line Shayari In Hindi

Rahat Indori Two Line Shayari In Hindi

राहत इंदौरी की मशहूर शायरियां हिंदी में : –

उर्दू भाषा के विशव प्रसिद्ध शायर डॉ राहत इंदौरी हमारे समय के सबसे प्रतिष्ठित कवि, शायर और हिंदी फिल्म गीतकार में से एक हैं। वो एक महान शायर हैं। ग़ज़ल अगर इशारों की कला है तो मान लीजिए कि राहत इंदौरी वो कलाकार हैं जो अपने अंदाज में झूमकर इस कला को बखूबी अंजाम देते हैं। डाॅ. राहत इंदौरी के शेर हर लफ्ज के साथ मोहब्बत की नई शुरुआत करते हैं, यही नहीं वो अपनी ग़ज़लों के जरिए हस्तक्षेप भी करते हैं। व्यवस्था को आइना भी दिखाते हैं। वह मुशायरा के विश्व स्तर पर ज्ञात शायर हैं | राहत इन्दौरी जी कॉलेज टाइम से ही शायरी का शौक रखते थे और यही शौक इन्हे आज बुलंदियों पे ले गया |पेश हैं डाॅ. राहत इंदौरी के कुछ चुनिंदा शेर-

♥♥ Rahat Indori Two Line Shayari In Hindi !
♥♥ Rahat Indori Sher !
♥♥ Rahat Indori Romantic Shayari In Hindi !
♥♥ Rahat Indori Shayari In Urdu !
♥♥ Rahat Indori Poetry In Urdu !
♥♥ Rahat Indori Famous Ghazal !
♥♥ Rahat Indori Status In Hindi !
♥♥ Rahat Indori Shayari On Politics In Hindi !
♥♥ Rahat Indori Two Line Status In Hindi !
♥♥ Rahat Indori Sad Shayari 2 Line In English !
♥♥ Rahat Indori Motivational Shayari !
♥♥ Rahat Indori Kavita !
♥♥ Rahat Indori Mushaira !
♥♥ Rahat Indori Bulati Hai Magar !

पेश है राहत इंदौरी द्वारा लिखी गयी कुछ मशहूर शायरी जो दिल को छू ले 

♥♥1♥♥

Ab hum makaan ke tala lagaane wale hain,
Pata chala hain ki mehaman aane wale hain.

अब हम मकान में ताला लगाने वाले हैं,
पता चला हैं की मेहमान आने वाले हैं !

♥♥2♥♥

Ankhon mein paani rakho, hothon pe chingaari rakho,
Jinda rahna hai to tarkibe bahut saari rakho.

आँखों में पानी रखों, होंठो पे चिंगारी रखो,
जिंदा रहना है तो तरकीबे बहुत सारी रखो !

♥♥3♥♥

Raah ke patthar se badh ke kuch nahi hain manzilen,
Raaste aawaz dete hain safar jaari rakho.

राह के पत्थर से बढ के, कुछ नहीं हैं मंजिलें,
रास्ते आवाज़ देते हैं, सफ़र जारी रखो !

♥♥4♥♥

Jagne ki bhi jagane ki bhi aadat ho jaye,
Kash tujh ko bhi kisi shayar se mohabbat ho jaye.

जागने की भी, जगाने की भी, आदत हो जाए,
काश तुझको किसी शायर से मोहब्बत हो जाए !

♥♥5♥♥

Dur hum kitne dinno se hain ye kabhi gaur kiya,
Fir na kehna jo ayanat me khayanat ho jaye.

दूर हम कितने दिन से हैं, ये कभी गौर किया,
फिर न कहना जो अमानत में खयानत हो जाए !

♥♥6♥♥

Suraj, sitaare, chaand mere saath mein rahe,
Jab tak tumhare haath mere haath mein rahe.

सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहें,
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहें !

♥♥7♥♥

Shakhon se tut jaye wo patte nahi hain hum,
Aandhi se koi kah de ki aukaat mein rahe.

शाखों से टूट जाए वो पत्ते नहीं हैं हम,
आंधी से कोई कह दे की औकात में रहें !

♥♥8♥♥

Gulaab, khwab, dawa, jahar, jaam, kya kya hain,
Main aa gaya hun bata intzaam kya kya hain.

गुलाब, ख्वाब, दवा, ज़हर, जाम क्या क्या हैं,
में आ गया हु बता इंतज़ाम क्या क्या हैं !

♥♥9♥♥

Fakir, shaah, kalndar, imaam, kya kya hain,
Tujhe pata nahi tera gulam kya kya hain.

फ़क़ीर, शाह, कलंदर, इमाम क्या क्या हैं,
तुझे पता नहीं तेरा गुलाम क्या क्या हैं !

♥♥10♥♥

Kabhi mahak ki tarah hum gulon se udate hain,
kabhi dhuyen ki tarah parvaton se udate hain.

कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते हैं,
कभी धुएं की तरह पर्वतों से उड़ते हैं !

♥♥11♥♥

Ye kechiyan hume udne se khaak rokengi,
Ki hum paron se nahi housalon se udate hain.

ये केचियाँ हमें उड़ने से खाक रोकेंगी,
की हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं !

♥♥12♥♥

Har ek harf ka andaaz badal rakha hain,
Aaj se humne tera naam ghazal rakha hain.

हर एक हर्फ़ का अंदाज़ बदल रखा हैं,
आज से हमने तेरा नाम ग़ज़ल रखा हैं !

♥♥13♥♥

Maine shaahon ki mohabbat ka bharm tod diya,
Mere kamre mein bhi ek Tajmahal rakha hain.

मैंने शाहों की मोहब्बत का भरम तोड़ दिया,
मेरे कमरे में भी एक ताजमहल रखा हैं !

♥♥14♥♥

Jawaniyon mein jawani ko dhul karte hain,
Jo log bhul nahi karte, bhul karte hain.

जवानिओं में जवानी को धुल करते हैं,
जो लोग भूल नहीं करते भूल करते हैं !

♥♥15♥♥

Agar Anaarkali hain sabab bagawat ka,
Salim hum teri sharten kabul karte hain.

अगर अनारकली हैं सबब बगावत का,
सलीम हम तेरी शर्ते कबूल करते हैं !

♥♥16♥♥

Naye safar ka naya intzaam kah denge,
Hawa ko dhup, charaagon ko shaam kah denge.

नए सफ़र का नया इंतज़ाम कह देंगे,
हवा को धुप, चरागों को शाम कह देंगे !

♥♥17♥♥

Kisi se hatth bhi chhupa kar milaiye,
Warna maulvi sahab ise bhi haram kah denge.

किसी से हाथ भी छुप कर मिलाइए,
वरना इसे भी मौलवी साहब हराम कह देंगे !

♥♥18♥♥

Jawan aankhon ke jugnu chamak rahe honge,
Ab apne gaonv mein amrud pak rahe honge.

जवान आँखों के जुगनू चमक रहे होंगे,
अब अपने गाँव में अमरुद पक रहे होंगे !

♥♥19♥♥

Bhulade mujhko magar, meri ungaliyon ke nishan,
Tere badan pe abhi tak chamak rahe honge.

भुलादे मुझको मगर, मेरी उंगलियों के निशान,
तेरे बदन पे अभी तक चमक रहे होंगे !

♥♥20♥♥

Ishq ne guthe the jo gajre nukile ho gaye,
Tere haathon mein to ye kangan bhi dheele ho gaye.

इश्क ने गूथें थे जो गजरे नुकीले हो गए,
तेरे हाथों में तो ये कंगन भी ढीले हो गए !

♥♥21♥♥

Phool bechare akele rah gaye hain shaakh par,
Gaaon ki sab titaliyon ke haath peele ho gaye.

फूल बेचारे अकेले रह गए है शाख पर,
गाँव की सब तितलियों के हाथ पीले हो गए !

♥♥22♥♥

Sheharon mein to baarudon ka mausam hain,
Gaaon chalo amrudon ka mausam hain.

शहरों में तो बारूदो का मौसम हैं,
गाँव चलों अमरूदो का मौसम हैं !

♥♥23♥♥

Sarhadon par tanaav hai kya,
Zara pata to karo chunaav hain kya. ?

सरहदों पर तनाव है क्या,
ज़रा पता तो करो चुनाव हैं क्या !

♥♥24♥♥

Aap ki nazaron mein sooraj ki hai jitni ajmat,
Hum charaagon ka bhi utna hi adab karte hain.

आप की नज़रों मैं सूरज की है जितनी अजमत,
हम चरागों का भी उतना ही अदब करते हैं !

♥♥25♥♥

Kaam sab gair-jaruri hain jo sab karte hain,
Aur hum kuch nahi karte gajab karte hain.

काम सब गैर-जरूरी हैं जो सब करते हैं,
और हम कुछ नहीं करते हैं गजब करते हैं !

♥♥26♥♥

Ye kuch log fariston se bane firte hain,
Mere hatthe kabhi chad jaye to insaan ho jaye.

ये कुछ लोग फरिस्तों से बने फिरते हैं,
मेरे हत्थे कभी चढ़ जाये तो इन्सां हो जाए !

♥♥27♥♥

Ye sahara jo na ho to preshaan ho jaye,
Mushkilen jaan hi lele agar aasan ho jaye !

ये सहारा जो न हो तो परेशां हो जाए,
मुश्किलें जान ही लेले अगर आसान हो जाए !

♥♥28♥♥

Uski yaad aayi hain saanson zara dhire chalo,
Dhadknon se bhi ibaadat mein khalal padta hain.

उसकी याद आई हैं सांसों जरा धीरे चलो,
धडकनों से भी इबादत में खलल पड़ता हैं !

♥♥29♥♥

Roz taaron ko numaish mein khalal padta hain,
Chaand pagal hain andhere mein nikal padta hain.

रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं,
चाँद पागल हैं अन्धेरें में निकल पड़ता हैं !

♥♥30♥♥

Main noor ban ke zamane mein fel jaunga,
Tum aaftaab mein kide nikalte rahna.

मैं नूर बन के ज़माने में फ़ैल जाऊँगा,
तुम आफताब में कीड़े निकालते रहना !

♥♥31♥♥

Lave diyon ki hawa mein uchhalte rahna,
Gulon ke rang pe tezab daalte rahna.

लवे दीयों की हवा में उछालते रहना,
गुलों के रंग पे तेजाब डालते रहना !

♥♥32♥♥

Juba to khol nazar to mila jawaab to de,
Main kitni baar luta hun mujhe hisaab to de.

जुबा तो खोल नज़र तो मिला जवाब तो दे,
मैं कितनी बार लुटा हूँ मुझे हिसाब तो दे !

♥♥33♥♥

Tere badan ki likhawat mein hain utaar chadhav,
Main tujhko kaise padhunga mujhe kitaab to de.

तेरे बदन की लिखावट में हैं उतार चढाव,
मैं तुझको कैसे पढूंगा मुझे किताब तो दे !

♥♥34♥♥

Safar ki had hain wahan tak ki kuch nishaan rahe,
Chale chalon ki jaha tak ye aasaman rahe.

सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे,
चले चलो की जहाँ तक ये आसमान रहे !

♥♥35♥♥

Ye kya uthaaye kadam aur aa gayi manzil,
Maza to tab hai ke paeron mein kuch thakaan rahe.

ये क्या उठाये कदम और आ गयी मंजिल,
मज़ा तो तब है के पैरों में कुछ थकान रहे !

♥♥36♥♥

Tufanon se aankh milao sailabon pe war karo,
Mallahon ka chakkar chhodo tair kar dariya paar karo.

तूफानों से आँख मिलाओ सैलाबों पे वार करो,
मल्लाहों का चक्कर छोडो तैर कर दरिया पार करो !

♥♥37♥♥

Phoolon ki dukaanen kholo khushboo ka vyaapar karo,
Ishq khata hain to ye khata ek baar nahi sau baar karo.

फूलों की दुकानें खोलो खुशबू का व्यापार करो,
इश्क खता हैं तो ये खता एक बार नहीं सौ बार करो !

♥♥38♥♥

Uski kathai aankhon mein jantar-mantar sab,
Chaaku-waaku, chhuriyan-wuriyan, khanjar-wanjar sab.

उसकी कत्थई आंखों में जंतर-मंतर सब,
चाक़ू-वाक़ू, छुरियां-वुरियां, ख़ंजर-वंजर सब !

♥♥39♥♥

Jis din se tum ruthi mujhse ruthe hain,
Chaadar-waadar, takiya-wakiya, bistar-wistar sab.

जिस दिन से तुम रूठीं मुझ से रूठे हैं,
चादर-वादर, तकिया-वकिया, बिस्तर-विस्तर सब !

♥♥40♥♥

Mujhse bichhad ke wo kahan pahle jaisi hai,
Dhile pad gaye kapde-wapre, zewar-webar sab.

मुझसे बिछड़ कर वह भी कहां अब पहले जैसी है,
ढीले पड़ गए कपड़े-वपड़े, ज़ेवर-वेवर सब !

♥♥41♥♥

Badshahon se bhi feken hue sikke na liye,
Humne khairaat bhi mangi hain to khuddari se.

बादशाहों से भी फेकें हुए सिक्के न लिए,
हमने खैरात भी मांगी हैं तो खुद्दारी से !

♥♥42♥♥

Ja ke koi kah de sholon se chingari se,
Phool is bar khile hain badi taiyari se.

जा के कोई कह दे शोलों से चिंगारी से,
फूल इस बार खिले हैं बड़ी तैय्यारी से !

♥♥43♥♥

Ban ke ek hadasa bazaar mein aa jayega,
Jo nahi hoga wo akhbaar mein aa jayega.

बन के इक हादसा बाज़ार में आ जाएगा,
जो नहीं होगा वो अखबार में आ जाएगा !

♥♥44♥♥

Chor uchkkon ki karo kadr ki maloom nahi,
Kaun kab kon si sarkaar mein aa jayega.

चोर उचक्कों की करो कद्र, की मालूम नहीं,
कौन कब कौन सी सरकार में आ जाएगा !

♥♥45♥♥

Nayi hawaon ki sohabat bigaad deti hai,
Kabutron ko khuli chhat bigaad deti hai.

नयी हवाओं की सोहबत बिगाड़ देती है,
कबूतरों को खुली छत बिगाड़ देती है !

♥♥46♥♥

Jo jurm karte hain itne bure nahi hote,
Saza na de ke adaalat bigaad deti hain.

जो जुर्म करते है इतने बुरे नहीं होते,
सज़ा न देके अदालत बिगाड़ देती हैं !

♥♥47♥♥

Log har mod pe ruk ruk ke sambhalte kyon hain,
Itna darte hain to ghar se nikalte kyon hain.

लोग हर मोड़ पे रुक रुक के सँभालते क्यों हैं,
इतना डरते हैं तो घर से निकलते क्यों हैं !

♥♥48♥♥

Mod hota hain jawani ka sambhalne ke liye,
Aur sab log yahin aa ke fisalte kyon hain.

मोड़ होता हैं जवानी का संभलने के लिए,
और सब लोग यहीं आ के फिसलते क्यों हैं !

♥♥49♥♥

Saanson ki seedhiyon se utar aayi zindagi,
Bhujte hue diye ki tarah jal rahe hain hum.

साँसों की सीढ़ियों से उतर आई जिंदगी
बुझते हुए दिए की तरह जल रहे हैं हम !

♥♥50♥♥

Umaron ki dhoop jism ka dariya sukha gayi,
Hain hum bhi aaftaab magar dhal rahe hain hum.

उम्रों की धुप जिस्म का दरिया सूखा गयी,
हैं हम भी आफ़ताब मगर ढल रहे हैं हम !

♥♥51♥♥

Ishq mein pit ke aane ke liye kafi hoon,
Main nihattha hi zamane ke liye kaafi hoon.

इश्क में पीट के आने के लिए काफी हूँ,
मैं निहत्था ही ज़माने के लिए काफी हूँ !

♥♥52♥♥

Har haqeeqat ko meri khak samjhne wale,
Main teri neend udaane ke liye kaafi hoon.

हर हकीकत को मेरी खाक समझने वाले,
मैं तेरी नींद उड़ाने के लिए काफी हूँ !

♥♥53♥♥

Ek akhbaar hoon aukaat hi kya meri,
Magar shehar mein aag lagaane ke liye kaafi hoon.

एक अख़बार हूँ औकात ही क्या मेरी,
मगर शहर में आग लगाने के लिए काफी हूँ !

♥♥54♥♥

Dilon mein aag labon par gulaab rakhte hain,
Sab apne chheron par dohari naqaab rakhte hain.

दिलों में आग लबों पर गुलाब रखते हैं,
सब अपने चहेरों पर दोहरी नकाब रखते हैं !

♥♥55♥♥

Hamein charaag samjh kar bujha na paaoge,
Hum apne ghar mein kai aaftaab rakhte hain.

हमें चराग समझ कर बुझा न पाओगे,
हम अपने घर में कई आफ़ताब रखते हैं !

♥♥56♥♥

Raaz jo kuch ho ishaaron mein bata bhi dena,
Haath jab usse milaao dabaa bhi dena.

राज़ जो कुछ हो इशारों में बता देना,
हाथ जब उससे मिलाओ दबा भी देना !

♥♥57♥♥

Nashaa vese to buri she hai magar,
“Rahat” se sunani ho to thodi si pilaa bhi dena.

नशा वैसे तो बुरी शै है मगर,
“राहत” से सुननी हो तो थोड़ी सी पिला भी देना !

♥♥58♥♥

Intezamat naye sire se sambhale jaye,
Jitne kamjarf hai mehfil se nikale jaye.

इन्तेज़ामात नए सिरे से संभाले जाएँ,
जितने कमजर्फ हैं महफ़िल से निकाले जाएँ !

♥♥59♥♥

Mera ghar aag ki lapton mein chupa hai lekin,
Jab maza hai tere aangan mein ujaala jaye.

मेरा घर आग की लपटों में छुपा हैं लेकिन
जब मज़ा हैं तेरे आँगन में उजाला जाएँ !

♥♥60♥♥

Ye haadsaa to kisi din gujarne wala tha,
Main bach bhi jata to marne wala tha.

ये हादसा तो किसी दिन गुजरने वाला था,
मैं बच भी जाता तो मरने वाला था !

♥♥61♥♥

Mera nasib mere haath kat gaye,
Warnaa main teri maang mein sindoor bharne wala tha.

मेरा नसीब मेरे हाथ कट गए,
वरना में तेरी मांग में सिन्दूर भरने वाला था !

♥♥62♥♥

Is se pahle ki hawa shor machane lag jaye,
Mere “Allaha” meri khak thikane lag jaye.

इस से पहले की हवा शोर मचाने लग जाए,
मेरे “अल्लाह” मेरी ख़ाक ठिकाने लग जाए !

♥♥63♥♥

Ghere rahte hai khali khwaab meri aankhon ko,
Kash kuch der mujhe neend bhi aane lag jaye.

घेरे रहते हैं खाली ख्वाब मेरी आँखों को,
काश कुछ देर मुझे नींद भी आने लग जाए !

♥♥64♥♥

Saal bhar eid ka raasta nahi dekha jata,
Wo gale mujh se kisi aur baahne se lag jaye.

साल भर ईद का रास्ता नहीं देखा जाता,
वो गले मुझ से किसी और बहाने लग जाए !

♥♥65♥♥

Dosti jab kisi se ki jaye,
Dushmanon ki bhi raay li jaye.

दोस्ती जब किसी से की जाये,
दुश्मनों की भी राय ली जाए !

♥♥66♥♥

Botlein khol ke to pee barson,
Aaj dil khol ke pee jaye.

बोतलें खोल के तो पी बरसों,
आज दिल खोल के पी जाए !

♥♥67♥♥

Faisla jo kuch bhi ho hamein manjur hona chahiye,
Jung ho ya ishq ho bharpur hona chahiye.

फैसला जो कुछ भी हो हमें मंजूर होना चाहिए,
जंग हो या इश्क हो भरपूर होना चाहिए !

♥♥68♥♥

Bhulna bhi hai jaruri yaad rakhne ke liye,
Paas rahna hai to thoda door hona chahiye.

भूलना भी हैं जरुरी याद रखने के लिए,
पास रहना है तो थोडा दूर होना चाहिए !

♥♥69♥♥

Yahin imaan likhte hain yahin imaan padhte hain,
Hamein kuch aur mat padhwao hum kuran padhte hain.

यहीं ईमान लिखते हैं यहीं ईमान पढ़ते हैं,
हमें कुछ और मत पढवाओ हम कुरान पढ़ते हैं !

♥♥70♥♥

Yahi ke sare manzar hain yahin ke sare mausam hain,
Wo andhe hain jo in aankhon mein Pakistan padhte hain.

यहीं के सारे मंज़र हैं यहीं के सारे मौसम हैं,
वो अंधे हैं जो इन आँखों में पाकिस्तान पढ़ते हैं !

♥♥71♥♥

Chalte phirte hue mhhtaab dikhayenge tumhe,
Humse milna kabhi Punjab dikhayenge tumhe.

चलते फिरते हुए मेहताब दिखाएँगे तुम्हे,
हमसे मिलना कभी पंजाब दिखाएँगे तुम्हे !

♥♥72♥♥

Is duniya ne meri wafa ka kitna ooncha mol diya,
Baaton ke tezab mein mere man ka amrit ghol diya.

इस दुनिया ने मेरी वफ़ा का कितना ऊंचा मोल दिया,
बातों के तेज़ाब में मेरे मन का अमृत घोल दिया !

♥♥73♥♥

Jab bhi koi inam mila hai mera naam tak bhul gaye,
Jab bhi koi ilzam laga hai mujh par lakar dhol diya.

जब भी कोई इनाम मिला हैं मेरा नाम तक भूल गए,
जब भी कोई इलज़ाम लगा हैं मुझ पर लाकर ढोल दिया !

♥♥74♥♥

Kashti tera naseeb chamkadar kar diya,
Is paar ke thapedon ne us paar kar diya.

कश्ती तेरा नसीब चमकदार कर दिया,
इस पार के थपेड़ों ने उस पार कर दिया !

♥♥75♥♥

Afwah thi ki meri tabiyat khrab hai,
Logon ne puch puch ke bimar kar diya.

अफवाह थी की मेरी तबियत खराब है,
लोगों ने पूछ पूछ के बीमार कर दिया !

♥♥76♥♥

Mausamon ka khyal rakha karo,
Kuch lahoo mein ubaal rakha karo.

मौसमों का ख्याल रखा करो,
कुछ लहू में उबाल रखा करो !

♥♥77♥♥

Lakh sooraj se dostana ho,
Chaand jugnun bhi paal rakha karo.

लाख सूरज से दोस्ताना हो,
चाँद जुगनूं भी पाल रखा करो !

♥♥78♥♥

Aate jate hain kayi rang mere chehre par,
Log lete hain maza zikar tumhara kar ke.

आते जाते हैं कई रंग मेरे चेहरे पर,
लोग लेते हैं मजा ज़िक्र तुम्हारा कर के !

♥♥79♥♥

Bahut guroor hai dariya ko apne hone par,
Jo meri pyaas se uljhe toh dhajjiyan ud jayein.

बहुत गुरूर है दरिया को अपने होने पर,
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ !

♥♥80♥♥

Maine apni khushk aankhon se lahoo chalka diya,
Ek samandar keh raha tha mujhko paani chahiye.

मैंने अपनी खुश्क आँखों से लहू छलका दिया,
इक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए !

♥♥81♥♥

Haath khali hain tere shehar se jate jate,
Jaan hoti to meri jaan lutate jate.

हाथ खाली हैं तेरे शहर से जाते-जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते !

♥♥82♥♥

Ab to har hath ka patthar hamein pahchanta hai,
Umar guzri hai tere shahr mein aate jate.

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते !

♥♥83♥♥

Use ab ke wafaon se guzar jaane ki jaldi thi,
Magar is bar mujh ko apne ghar jaane ki jaldi thi.

उसे अब के वफ़ाओं से गुज़र जाने की जल्दी थी,
मगर इस बार मुझ को अपने घर जाने की जल्दी थी !

♥♥84♥♥

Main aakhir kaun sa mausam tumhaare naam kar deta,
Yahan har ek mausam ko guzar jaane ki jaldi thi.

मैं आख़िर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता,
यहाँ हर एक मौसम को गुज़र जाने की जल्दी थी !

♥♥85♥♥

Roz patthar ki himayat mein ghazal likhte hain,
Roz shishon se koi kaam nikal padta hai.

रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं,
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है !

♥♥86♥♥

Ajnabi khwahishen seene mein daba bhi na sakun,
Aise ziddi hain parinde ki uda bhi na sakun.

अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ,
ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ !

♥♥87♥♥

Phunk dalunga kisi roz main dil ki duniya,
Ye tera khat to nahin hai ki jala bhi na sakun.

फूँक डालूँगा किसी रोज़ मैं दिल की दुनिया,
ये तेरा ख़त तो नहीं है कि जला भी न सकूँ !

♥♥88♥♥

Ek na ek roz kahin dhund hi lunga tujh ko,
Thokaren zahar nahi hain ki main kha bhi na sakun.

एक न एक रोज़ कहीं ढूँड ही लूँगा तुझ को,
ठोकरें ज़हर नहीं हैं कि मैं खा भी न सकूँ !

♥♥89♥♥

Main aainon se to mayus laut aaya hun,
Magar kisi ne bataya bahut haseen hun main.

मैं आईनों से तो मायूस लौट आया था,
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं !

♥♥90♥♥

Ek hi nadi ke hain yeh do kinare doston,
Dostana zindagi se maut se yaari rakho.

एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तों,
दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो !

♥♥91♥♥

Teri har baat mohabbat mein gawara kar ke,
Dil ke bazaar mein baithe hain khasara kar ke.

तेरी हर बात मोहब्बत में गवारा कर के,
दिल के बाज़ार में बैठे हैं ख़सारा कर के !

♥♥92♥♥

Main wo dariya hun ki har bund bhanwar hai jis ki,
Tum ne achchha hi kiya mujh se kinara kar ke.

मैं वो दरिया हूँ कि हर बूँद भँवर है जिस की,
तुम ने अच्छा ही किया मुझ से किनारा कर के !

♥♥93♥♥

Unka anjaam tujhe yaad nahi hai shayed,
Aur bhi log the jo khud ko khuda kehte the.

उनका अंजाम तुझे याद नही है शायद,
और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे !

♥♥94♥♥

Jarur woh mere baare mein raaye de lekin,
Ye puch lena kabhi mujhse woh mila bhi hai.

ज़रूर वो मेरे बारे में राय दे लेकिन,
ये पूछ लेना कभी मुझसे वो मिला भी है !

♥♥95♥♥

Mere bete kisi se ishq kar magar hadd se gujar jane ka nahi
Wo gardan naapta hai naap le magar jalim se dar jane ka nahi.

मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर मगर हद से गुजर जाने का नहीं,
वो गर्दन नापता है नाप ले मगर जालिम से डर जाने का नहीं !

♥♥96♥♥

Mujhse pehle woh kisi aur ki thi magar kuch shayarana chahaiye tha,
Chalo mana ye chooti baat hai par tumhe sab kuch batana chahaiye tha.

मुझसे पहले वो किसी और की थी मगर कुछ शायराना चाहिए था,
चलो माना ये छोटी बात है पर तुम्हें सब कुछ बताना चाहिए था !

♥♥97♥♥

Maine cheda to kis andaj se kaha,
Kuch sunoge meri zaban se aaj.

मैंने छेड़ा तो किस अंदाज से कहा,
कुछ सुनोगे मेरी ज़बान से आज !

♥♥98♥♥

Aisi sardi hai ki suraj bhi duhai mange,
Jo ho pardesh mein wo kis se razai mange.

ऐसी सर्दी है की सूरज भी दुहाई मांगे,
जो हो परदेश में वो किस से रज़ाई मांगे !

♥♥99♥♥

Na humsafar na kisi humnaseen se niklega,
Hamaare paanv ka kanta sirf hamin se niklega.

न हमसफ़र न किसी हमनशीं से निकलेगा,
हमारे पाँव का काँटा सिर्फ हमीं से निकलेगा !

♥♥100♥♥

Naye kirdar aate ja rahe hai,
Magar natak puranaa chal raha hai.

नए किरदार आते जा रहे हैं,
मगर नाटक पुराना चल रहा है !

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

100 Best Two Line Shayari Collection Of Rahat Indori In Hindi, Best Shayari Of Dr Rahat Indori, Rahat Indori Popular Shayari, 100 Best Poetry Of Rahat Indori, Rahat Indori Famous Shayari, Rahat Indori Best Shayri, Rahat Indori Best Lines, Rahat Indori Best Poetry, 100 Shayari, Top 100 Shayari, 100 Best Poems.

 

Aisa Khamosh To Manzar Na Fana Ka Hota..

Aisa Khamosh To Manzar Na Fana Ka Hota.. Gulzar Poetry !

Aisa khamosh to manzar na fana ka hota,
Meri tasvir bhi girti to chhanaka hota.

Yun bhi ek bar to hota ki samundar bahta,
Koi ehsaas to dariya ki ana ka hota.

Saans mausam ki bhi kuch der ko chalne lagti,
Koi jhonka teri palkon ki hawa ka hota.

Kanch ke par tere haath nazar aate hain,
Kash khushboo ki tarah rang hina ka hota.

Kyun meri shakl pahan leta hai chhupne ke liye,
Ek chehra koi apna bhi khuda ka hota. !! -Gulzar

ऐसा ख़ामोश तो मंज़र न फ़ना का होता,
मेरी तस्वीर भी गिरती तो छनाका होता !

यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता,
कोई एहसास तो दरिया की अना का होता !

साँस मौसम की भी कुछ देर को चलने लगती,
कोई झोंका तेरी पलकों की हवा का होता !

काँच के पार तेरे हाथ नज़र आते हैं,
काश ख़ुशबू की तरह रंग हिना का होता !

क्यूँ मेरी शक्ल पहन लेता है छुपने के लिए,
एक चेहरा कोई अपना भी ख़ुदा का होता !! -गुलज़ार