Tuesday , August 3 2021

Poetry Types Guman

Ek Parinda Abhi Udaan Me Hai..

Ek parinda abhi udaan me hai,
Tir har shakhs ki kaman mein hai.

Jis ko dekho wahi hai chup chup sa,
Jaise har shakhs imtihan mein hai.

Kho chuke hum yakin jaisi shai,
Tu abhi tak kisi guman mein hai.

Zindagi sang-dil sahi lekin,
Aaina bhi isi chatan mein hai.

Sar-bulandi nasib ho kaise,
Sar-nigun hai ki sayeban mein hai.

Khauf hi khauf jagte sote,
Koi aaseb is makan mein hai.

Aasra dil ko ek umid ka hai,
Ye hawa kab se baadban mein hai.

Khud ko paya na umar bhar hum ne,
Kaun hai jo hamare dhyan mein hai. !!

एक परिंदा अभी उड़ान में है,
तीर हर शख़्स की कमान में है !

जिस को देखो वही है चुप चुप सा,
जैसे हर शख़्स इम्तिहान में है !

खो चुके हम यक़ीन जैसी शय,
तू अभी तक किसी गुमान में है !

ज़िंदगी संग-दिल सही लेकिन,
आईना भी इसी चटान में है !

सर-बुलंदी नसीब हो कैसे,
सर-निगूँ है कि साएबान में है !

ख़ौफ़ ही ख़ौफ़ जागते सोते,
कोई आसेब इस मकान में है !

आसरा दिल को एक उमीद का है,
ये हवा कब से बादबान में है !

ख़ुद को पाया न उम्र भर हम ने,
कौन है जो हमारे ध्यान में है !!

Amir Qazalbash All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Hawayen Tez Thin Ye To Faqat Bahane The..

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the,
Safine yun bhi kinare pe kab lagane the.

Khayal aata hai rah-rah ke laut jaane ka,
Safar se pahle humein apne ghar jalane the.

Guman tha ki samajh lenge mausamon ka mizaj,
Khuli jo aankh to zad pe sabhi thikane the.

Humein bhi aaj hi karna tha intezaar us ka,
Use bhi aaj hi sab wade bhul jaane the.

Talash jin ko hamesha buzurg karte rahe,
Na jaane kaun si duniya mein wo khazane the.

Chalan tha sab ke ghamon mein sharik rahne ka,
Ajib din the ajab sar-phire zamane the. !!

हवाएँ तेज़ थीं ये तो फ़क़त बहाने थे,
सफ़ीने यूँ भी किनारे पे कब लगाने थे !

ख़याल आता है रह-रह के लौट जाने का,
सफ़र से पहले हमें अपने घर जलाने थे !

गुमान था कि समझ लेंगे मौसमों का मिज़ाज,
खुली जो आँख तो ज़द पे सभी ठिकाने थे !

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का,
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे !

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे !

चलन था सब के ग़मों में शरीक रहने का,
अजीब दिन थे अजब सर-फिरे ज़माने थे !!

-Aashufta Changezi Ghazal / Poetry

 

Ab Ke Barish Mein To Ye Kar-E-Ziyan Hona Hi Tha..

Ab ke barish mein to ye kar-e-ziyan hona hi tha,
Apni kachchi bastiyon ko be-nishan hona hi tha.

Kis ke bas mein tha hawa ki wahshaton ko rokna,
Barg-e-gul ko khak shoale ko dhuan hona hi tha.

Jab koi samt-e-safar tai thi na hadd-e-rahguzar,
Aye mere rah-rau safar to raegan hona hi tha.

Mujh ko rukna tha use jaana tha agle mod tak,
Faisla ye us ke mere darmiyan hona hi tha.

Chand ko chalna tha bahti sipiyon ke sath-sath,
Moajiza ye bhi tah-e-ab-e-rawan hona hi tha.

Main naye chehron pe kahta tha nayi ghazlein sada,
Meri is aadat se us ko bad-guman hona hi tha.

Shehar se bahar ki virani basana thi mujhe,
Apni tanhai pe kuchh to mehrban hona hi tha.

Apni aankhen dafn karna thi ghubar-e-khak mein,
Ye sitam bhi hum pe zer-e-asman hona hi tha.

Be-sada basti ki rasmein thi yahi “Mohsin” mere,
Main zaban rakhta tha mujh ko be-zaban hona hi tha. !!

अब के बारिश में तो ये कार-ए-ज़ियाँ होना ही था,
अपनी कच्ची बस्तियों को बे-निशाँ होना ही था !

किस के बस में था हवा की वहशतों को रोकना,
बर्ग-ए-गुल को ख़ाक शोले को धुआँ होना ही था !

जब कोई सम्त-ए-सफ़र तय थी न हद्द-ए-रहगुज़र,
ऐ मेरे रह-रौ सफ़र तो राएगाँ होना ही था !

मुझ को रुकना था उसे जाना था अगले मोड़ तक,
फ़ैसला ये उस के मेरे दरमियाँ होना ही था !

चाँद को चलना था बहती सीपियों के साथ-साथ,
मोजिज़ा ये भी तह-ए-आब-ए-रवाँ होना ही था !

मैं नए चेहरों पे कहता था नई ग़ज़लें सदा,
मेरी इस आदत से उस को बद-गुमाँ होना ही था !

शहर से बाहर की वीरानी बसाना थी मुझे,
अपनी तन्हाई पे कुछ तो मेहरबाँ होना ही था !

अपनी आँखें दफ़्न करना थीं ग़ुबार-ए-ख़ाक में,
ये सितम भी हम पे ज़ेर-ए-आसमाँ होना ही था !

बे-सदा बस्ती की रस्में थीं यही “मोहसिन” मेरे,
मैं ज़बाँ रखता था मुझ को बे-ज़बाँ होना ही था !!

 

Umar Guzregi Imtihan Mein Kya..

Umar guzregi imtihan mein kya,
Dagh hi denge mujhko dan mein kya.

Meri har baat be-asar hi rahi,
Naqs hai kuchh mere bayan mein kya.

Mujhko to koi tokta bhi nahi,
Yahi hota hai khandan mein kya.

Apni mahrumiyan chhupate hain,
Hum gharibon ki aan-ban mein kya.

Khud ko jana juda zamane se,
Aa gaya tha mere guman mein kya.

Sham hi se dukan-e-did hai band,
Nahi nuqsan tak dukaan mein kya.

Aye mere subh-o-sham-e-dil ki shafaq,
Tu nahati hai ab bhi ban mein kya.

Bolte kyun nahi mere haq mein,
Aable pad gaye zaban mein kya.

Khamoshi kah rahi hai kan mein kya,
Aa raha hai mere guman mein kya.

Dil ki aate hain jis ko dhyan bahut,
Khud bhi aata hai apne dhyan mein kya.

Wo mile to ye puchhna hai mujhe,
Ab bhi hun main teri aman mein kya.

Yun jo takta hai aasman ko tu,
Koi rahta hai aasman mein kya.

Hai nasim-e-bahaar gard-alud,
Khak udti hai us makan mein kya.

Ye mujhe chain kyun nahi padta,
Ek hi shakhs tha jahan mein kya. !!

उम्र गुज़रेगी इम्तिहान में क्या,
दाग़ ही देंगे मुझको दान में क्या !

मेरी हर बात बे-असर ही रही,
नक़्स है कुछ मेरे बयान में क्या !

मुझको तो कोई टोकता भी नहीं,
यही होता है ख़ानदान में क्या !

अपनी महरूमियाँ छुपाते हैं,
हम ग़रीबों की आन-बान में क्या !

ख़ुद को जाना जुदा ज़माने से,
आ गया था मेरे गुमान में क्या !

शाम ही से दुकान-ए-दीद है बंद,
नहीं नुक़सान तक दुकान में क्या !

ऐ मेरे सुब्ह-ओ-शाम-ए-दिल की शफ़क़,
तू नहाती है अब भी बान में क्या !

बोलते क्यूँ नहीं मेरे हक़ में,
आबले पड़ गए ज़बान में क्या !

ख़ामुशी कह रही है कान में क्या,
आ रहा है मेरे गुमान में क्या !

दिल कि आते हैं जिस को ध्यान बहुत,
ख़ुद भी आता है अपने ध्यान में क्या !

वो मिले तो ये पूछना है मुझे,
अब भी हूँ मैं तेरी अमान में क्या !

यूँ जो तकता है आसमान को तू,
कोई रहता है आसमान में क्या !

है नसीम-ए-बहार गर्द-आलूद,
ख़ाक उड़ती है उस मकान में क्या !

ये मुझे चैन क्यूँ नहीं पड़ता,
एक ही शख़्स था जहान में क्या !!

-Jaun Elia Ghazal / Poetry