Tuesday , March 9 2021

Poetry Types Gulzar Nazm

Main Udte Hue Panchhiyon Ko Daraata Hua..

Main Udte Hue Panchhiyon Ko Daraata Hua.. { Waqt 1 – Gulzar Nazm } !

Main udte hue panchhiyon ko daraata hua
Kuchalta hua ghas ki kalghiyan
Giraata hua gardanen in darakhton ki chhupta hua
Jin ke pichhe se
Nikla chala ja raha tha wo sooraj
Taaqub mein tha uske main
Giraftar karne gaya tha use
Jo le ke meri umar ka ek din bhagta ja raha tha. !! -Gulzar Nazm

मैं उड़ते हुए पंछियों को डराता हुआ
कुचलता हुआ घास की कलगियाँ
गिराता हुआ गर्दनें इन दरख्तों की,छुपता हुआ
जिनके पीछे से
निकला चला जा रहा था वह सूरज
तआकुब में था उसके मैं
गिरफ्तार करने गया था उसे
जो ले के मेरी उम्र का एक दिन भागता जा रहा था !! -गुलज़ार नज़्म

 

Aath Hi Billion Umar Zameen Ki Hogi Shayad..

Aath Hi Billion Umar Zameen Ki Hogi Shayad.. Gulzar Nazm !

Aath hi billion umar zameen ki hogi shayad
Aisa hi andaza hai kuch science ka
Char eshaariya billion salon ki umar to bit chuki hai
Kitni der laga di tum ne aane mein
Aur ab mil kar
Kis duniya ki duniya-dari soch rahi ho
Kis mazhab aur zat aur pat ki fikar lagi hai
Aao chalen ab

Tin hi billion sal bache hain. !! -Gulzar Nazm

आठ ही बिलियन उम्र ज़मीं की होगी शायद
ऐसा ही अंदाज़ा है कुछ साइंस का
चार एशारिया बिलियन सालों की उम्र तो बीत चुकी है
कितनी देर लगा दी तुम ने आने में
और अब मिल कर
किस दुनिया की दुनिया-दारी सोच रही हो
किस मज़हब और ज़ात और पात की फ़िक्र लगी है
आओ चलें अब

तीन ही बिलियन साल बचे हैं !! -गुलज़ार नज़्म

 

Raat Kal Gahri Nind Mein Thi Jab..

Raat Kal Gahri Nind Mein Thi Jab.. Gulzar Nazm !

Raat kal gahri nind mein thi jab
Ek taza safed canwas par
Aatishin lal surkh rangon se
Maine raushan kiya tha ek sooraj…

Subh tak jal gaya tha wo canwas
Rakh bikhri hui thi kamre mein. !! -Gulzar Nazm

रात कल गहरी नींद में थी जब
एक ताज़ा सफ़ेद कैनवस पर
आतिशीं लाल सुर्ख़ रंगों से
मैंने रौशन किया था इक सूरज…

सुबह तक जल गया था वो कैनवस
राख बिखरी हुई थी कमरे में !! -गुलज़ार नज़्म

 

Tukda Ek Nazm Ka..

Tukda Ek Nazm Ka.. Gulzar Nazm !

Tukda ek nazm ka
Din bhar meri sanson mein sarakta hi raha
Lab pe aaya to zaban katne lagi
Dant se pakda to lab chhilne lage
Na to phenka hi gaya munh se, na nigla hi gaya
Kanch ka tukda atak jaye halaq mein jaise

Tukda wo nazm ka sanson mein sarakta hi raha. !! -Gulzar Nazm

टुकड़ा इक नज़्म का
दिन भर मेरी साँसों में सरकता ही रहा
लब पे आया तो ज़बाँ कटने लगी
दाँत से पकड़ा तो लब छिलने लगे
न तो फेंका ही गया मुँह से, न निगला ही गया
काँच का टुकड़ा अटक जाए हलक़ में जैसे

टुकड़ा वो नज़्म का साँसों में सरकता ही रहा !! -गुलज़ार नज़्म

 

Barish Hoti Hai To Pani Ko Bhi Lag Jate Hain Panw..

Barish Hoti Hai To Pani Ko Bhi Lag Jate Hain Panw.. Gulzar Nazm !

Barish hoti hai to pani ko bhi lag jate hain panw
Dar-o-diwar se takra ke guzarta hai gali se
Aur uchhalta hai chhapakon mein
Kisi match mein jite hue ladkon ki tarah

Jeet kar aate hain jab match gali ke ladke
Jute pahne hue canwas ke uchhalte hue gendon ki tarah
Dar-o-diwar se takra ke guzarte hain
Wo pani ke chhapakon ki tarah. !! -Gulzar Nazm

बारिश होती है तो पानी को भी लग जाते हैं पाँव
दर-ओ-दीवार से टकरा के गुज़रता है गली से
और उछलता है छपाकों में
किसी मैच में जीते हुए लड़कों की तरह

जीत कर आते हैं जब मैच गली के लड़के
जूते पहने हुए कैनवस के उछलते हुए गेंदों की तरह
दर-ओ-दीवार से टकरा के गुज़रते हैं
वो पानी के छपाकों की तरह !! -गुलज़ार नज़्म

 

Dekho Aahista Chalo Aur Bhi Aahista Zara..

Dekho Aahista Chalo Aur Bhi Aahista Zara.. Gulzar Nazm !

Dekho aahista chalo aur bhi aahista zara,
Dekhna soch sambhal kar zara panv rakhna,
Zor se baj na uthe pairon ki aawaz kahin…

Kanch ke khwaab hain bikhre hue tanhaai mein,
Khwaab tute na koi jag na jaye dekho,
Jag jayega koi khwaab to mar jayega. !! -Gulzar Nazm

देखो आहिस्ता चलो और भी आहिस्ता ज़रा,
देखना सोच सँभल कर ज़रा पाँव रखना,
ज़ोर से बज न उठे पैरों की आवाज़ कहीं…

कांच के ख़्वाब हैं बिखरे हुए तन्हाई में,
ख़्वाब टूटे न कोई जाग न जाए देखो,
जाग जाएगा कोई ख़्वाब तो मर जाएगा… !! -गुलज़ार नज़्म