Poetry Types Gham

Tum Itna Jo Muskura Rahe Ho..

Tum itna jo muskura rahe ho,
Kya gham hai jis ko chhupa rahe ho.

Aankhon mein nami hansi labon par,
Kya haal hai kya dikha rahe ho.

Ban jayenge zahr peete-peete,
Ye ashk jo peete ja rahe ho.

Jin zakhmon ko waqt bhar chala hai,
Tum kyun unhen chhede ja rahe ho.

Rekhaaon ka khel hai muqaddar,
Rekhaaon se mat kha rahe ho. !!

तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो,
क्या ग़म है जिस को छुपा रहे हो !

आँखों में नमी हँसी लबों पर,
क्या हाल है क्या दिखा रहे हो !

बन जाएँगे ज़हर पीते-पीते,
ये अश्क जो पीते जा रहे हो !

जिन ज़ख़्मों को वक़्त भर चला है,
तुम क्यूँ उन्हें छेड़े जा रहे हो !

रेखाओं का खेल है मुक़द्दर,
रेखाओं से मात खा रहे हो !!

-Kaifi Azmi Ghazal / Poetry

 

Wo Kagaz Ki Kashti Wo Barish Ka Pani

Wo Kagaz Ki Kashti Wo Barish Ka Pani..

Ye daulat bhi le lo ye shohrat bhi le lo
Bhale chhin lo mujh se meri jawani
Magar mujh ko lota do wo bachpan ka sawan
Wo kagaz ki kashti wo barish ka pani.

Mohalle ki sab se nishani purani
Wo budiya jise bachche kahte the nani
Wo nani ki baaton mein pariyon ka dhera
Wo chehre ki jhuriyon mein sadiyon ka phera
Bhulaye nahi bhul sakta hai koi
Wo choti si raatein wo lambi kahani
Wo kagaz ki kashti wo barish ka pani.

Kadi dhup mein apne ghar se nikalna
Wo chidiyan wo bulbul wo titli pakadna
Wo gudiyon ki shadi mein ladna-jhagadna
Wo jhulon se girna wo girte sambhlna
Wo pital ke chhallon ke pyare se tohfe
Wo tuti hui chudiyon ki nishani
Wo kagaz ki kashti wo barish ka pani.

Kabhi ret ke unche tilon pe jaana
Gharaunde banana bana ke mitana
Wo masum chahat ki taswir apni
Wo khwabon khilonon ki jagir apni
Na duniya ka gham tha na rishton ke bandhan
Badi khubsurat thi wo zindgani.

Ye daulat bhi le lo ye shohrat bhi le lo
Bhale chhin lo mujh se meri jawani
Magar mujh ko lota do wo bachpan ka saawan
Wo kagaz ki kashti wo barish ka pani.

ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो
भले छीन लो मुझ से मेरी जवानी
मगर मुझको लौटा दो वो बचपन का सावन
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी !

मोहल्ले की सबसे निशानी पुरानी
वो बुढ़िया जिसे बच्चे कहते थे नानी
वो नानी की बातों में परियों का डेरा
वो चेहरे की झुरिर्यों में सदियों का फेरा
भुलाए नहीं भूल सकता है कोई
वो छोटी सी रातें वो लम्बी कहानी
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी !

कड़ी धूप में अपने घर से निकलना
वो चिड़िया वो बुलबुल वो तितली पकड़ना
वो गुड़ियों की शादी में लड़ना झगड़ना
वो झूलों से गिरना वो गिरते सम्भलना
वो पीतल के छलों के प्यारे से तोहफ़े
वो टूटी हुई चूड़ियों की निशानी
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी !

कभी रेत के ऊँचे टीलों पे जाना
घरौंदे बनाना बनाके मिटाना
वो मासूम चाहत की तस्वीर अपनी
वो ख़्वाबों खिलौनों की जागीर अपनी
न दुनिया का ग़म था न रिश्तों के बंधन
बड़ी खूबसूरत थी वो ज़िंदगानी !

ये दौलत भी ले लो ये शोहरत भी ले लो
भले छीन लो मुझ से मेरी जवानी
मगर मुझ को लौटा दो बचपन का सावन
वो काग़ज़ की कश्ती वो बारिश का पानी !!

-Sudarshan Faakir Ghazal

 

Intezamat Naye Sire Se Sambhale Jayen..

Intezamat naye sire se sambhale jayen,
Jitane kamzarf hain mehfil se nikale jayen.

Mera ghar aag ki lapaton mein chupa hai lekin,
Jab maza hai tere angan mein ujale jayen.

Gham salamat hai to pite hi rahenge lekin,
Pehale maikhane ki halat sambhali jayen.

Khaali waqton mein kahin baith ke rolen yaron,
Fursaten hain to samandar hi khangale jayen.

Khak mein yun na mila zabt ki tauhin na kar,
Ye wo aansoo hain jo duniya ko baha le jayen.

Hum bhi pyase hain ye ehasas to ho saaqi ko,
Khaali shishe hi hawaon mein uchale jayen.

Aao shahr mein naye dost banayen “Rahat“,
Astinon mein chalo saanp hi paale jayen. !!

इन्तेज़ामात नए सिरे से संभाले जाएँ,
जितने कमजर्फ हैं महफ़िल से निकाले जाएँ !

मेरा घर आग की लपटों में छुपा हैं लेकिन,
जब मज़ा हैं तेरे आँगन में उजाला जाएँ !

गम सलामत हैं तो पीते ही रहेंगे लेकिन,
पहले मयखाने की हालात तो संभाली जाए !

खाली वक्तों में कहीं बैठ के रोलें यारों,
फुरसतें हैं तो समंदर ही खंगाले जाए !

खाक में यु ना मिला ज़ब्त की तौहीन ना कर,
ये वो आसूं हैं जो दुनिया को बहा ले जाएँ !

हम भी प्यासे हैं ये अहसास तो हो साकी को,
खाली शीशे ही हवाओं में उछाले जाए !

आओ शहर में नए दोस्त बनाएं “राहत”,
आस्तीनों में चलो साँप ही पाले जाए !!

 

Gham Hai Ya Khushi Hai Tu..

Gham hai ya khushi hai tu,
Meri zindagi hai tu.

Aafaton ke daur mein,
Chain ki ghadi hai tu.

Meri raat ka charagh,
Meri nind bhi hai tu.

Main khizan ki sham hun,
Rut bahaar ki hai tu.

Doston ke darmiyan,
Wajh-e-dosti hai tu.

Meri sari umar mein,
Ek hi kami hai tu.

Main to wo nahi raha,
Han magar wahi hai tu.

Nasir” is dayar mein,
Kitna ajnabi hai tu. !!

ग़म है या ख़ुशी है तू ,
मेरी ज़िंदगी है तू !

आफ़तों के दौर में,
चैन की घड़ी है तू !

मेरी रात का चराग़,
मेरी नींद भी है तू !

मैं ख़िज़ाँ की शाम हूँ,
रुत बहार की है तू !

दोस्तों के दरमियाँ,
वज्ह-ए-दोस्ती है तू !

मेरी सारी उम्र में,
एक ही कमी है तू !

मैं तो वो नहीं रहा,
हाँ मगर वही है तू !

नासिर” इस दयार में,
कितना अजनबी है तू !!

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bhai भाई)

1.
Main itani bebasi mein qaid-e-dushman mein nahi marta,
Agar mera bhi ek Bhai ladkpan mein nahi marta.

मैं इतनी बेबसी में क़ैद-ए-दुश्मन में नहीं मरता,
अगर मेरा भी एक भाई लड़कपन में नहीं मरता !

2.
Kanton se bach gaya tha magar phool chubh gaya,
Mere badan mein Bhai ka trishool chubh gaya.

काँटों से बच गया था मगर फूल चुभ गया,
मेरे बदन में भाई का त्रिशूल चुभ गया !

3.
Aye khuda thodi karam farmaai hona chahiye,
Itani Behane hai to phir ek Bhai hona chahiye.

ऐ ख़ुदा थोड़ी करम फ़रमाई होना चाहिए,
इतनी बहनें हैं तो फिर एक भाई होना चाहिए !

4.
Baap ki daulat se yun dono ne hissa le liya,
Bhai ne dastaar le lee maine juta le liya.

बाप की दौलत से यूँ दोनों ने हिस्सा ले लिया,
भाई ने दस्तार ले ली मैंने जूता ले लिया !

5.
Nihatha dekh kar mujhko ladaai karta hai,
Jo kaam usne kiya hai wo Bhai karta hai.

निहत्था देख कर मुझको लड़ाई करता है,
जो काम उसने किया है वो भाई करता है !

6.
Yahi tha ghar jahan mil-jul ke sab ek sath rehate the,
Yahi hai ghar alag Bhai ki aftaari nikalti hai.

यही था घर जहाँ मिल-जुल के सब एक साथ रहते थे,
यही है घर अलग भाई की अफ़्तारी निकलती है !

7.
Wah apne ghar mein raushan saari shmayein ginata rehta hai,
Akela Bhai khamoshi se Behane ginta rehata hai.

वह अपने घर में रौशन सारी शमएँ गिनता रहता है,
अकेला भाई ख़ामोशी से बहनें गिनता रहता है !

8.
Main apne Bhaiyon ke sath jab ghar se bahar nikalata hun,
Mujhe Yusuf ke jani dushmano ki yaad aati hai.

मैं अपने भाइयों के साथ जब बाहर निकलता हूँ,
मुझे यूसुफ़ के जानी दुश्मनों की याद आती है !

9.
Mere Bhai wahan paani se roza kholte honge,
Hata lo saamne se mujhse aftaari nahi hogi.

मेरे भाई वहाँ पानी से रोज़ा खोलते होंगे,
हटा लो सामने से मुझसे अफ़्तारी नहीं होगी !

10.
Jahan par gin ke roti Bhaiyon ko bhai dete ho,
Sabhi chizein wahin dekhi magar barkat nahi dekhi.

जहाँ पर गिन के रोटी भाइयों को भाई देते हों,
सभी चीज़ें वहाँ देखीं मगर बरकत नहीं देखी !

11.
Raat dekha hai bahaaron pe khizaan ko hanste,
Koi tohafaa mujhe shayad mera Bhai dega.

रात देखा है बहारों पे खिज़ाँ को हँसते,
कोई तोहफ़ा मुझे शायद मेरा भाई देगा !

12.
Tumhein aye Bhaiyon yun chhodna achcha nahi lekin,
Humein ab shaam se pehale thikaana dhund lena hai.

तुम्हें ऐ भाइयो यूँ छोड़ना अच्छा नहीं लेकिन,
हमें अब शाम से पहले ठिकाना ढूँढ लेना है !

13.
Gham se Lakshman ki tarah Bhai ka rishta hai mera,
Mujhko jangal mein akela nahi rehane deta.

ग़म से लछमन की तरह भाई का रिश्ता है मेरा,
मुझको जंगल में अकेला नहीं रहने देता !

14.
Jo log kam ho to kaandha jaroor de dena,
Sarhaane aake magar Bhai-Bhai na kehana.

जो लोग कम हों तो काँधा ज़रूर दे देना,
सरहाने आके मगर भाई-भाई मत कहना !

15.
Mohabbat ka ye jajba khuda ki den hai Bhai,
To mere raaste se kyun ye duniya hat nahi jati.

मोहब्बत का ये जज़्बा ख़ुदा की देन है भाई,
तो मेरे रास्ते से क्यूँ ये दुनिया हट नहीं जाती !

16.
Ye kurbe-qyaamat hai lahu kaisa “Munawwar”,
Paani bhi tujhe tera biraadar nahi dega.

ये कुर्बे-क़यामत है लहू कैसा “मुनव्वर”,
पानी भी तुझे तेरा बिरादर नहीं देगा !

17.
Aapne khul ke mohabbat nahi ki hai humse,
Aapn Bhai nahi kehate hai Miyaan kehate hain.

आपने खुल के मोहब्बत नहीं की है हमसे,
आप भाई नहीं कहते हैं मियाँ कहते हैं !

 

Hamare Kuch Gunaho Ki Saza Bhi Saath Chalti Hai

1.
Hamare kuch gunahon ki saza bhi saath chalti hai,
Hum ab tanha nahi chalte dawa bhi saath chalti hai.

हमारे कुछ गुनाहों की सज़ा भी साथ चलती है,
हम अब तन्हा नहीं चलते दवा भी साथ चलती है !

2.
Kachche samar shzar se alag kar diye gaye,
Hum kamsini mein ghar se alag kar diye gaye.

कच्चे समर शजर से अलग कर दिये गये,
हम कमसिनी में घर से अलग कर दिये गये !

3.
Gautam ki tarah ghar se nikal kar nahi jate,
Hum raat mein chhup kar kahin baahar nahi jate.

गौतम की तरह घर से निकल कर नहीं जाते,
हम रात में छुप कर कहीं बाहर नहीं जाते !

4.
Humare saath chal kar dekh lein ye bhi chaman wale,
Yahan ab koyla chunte hain phoolon se badan wale.

हमारे साथ चल कर देख लें ये भी चमन वाले,
यहाँ अब कोयला चुनते हैं फूलों-से बदन वाले !

5.
Itna roye the lipat kar dar-o-deewar se hum,
Shehar mein aa ke bahut din rahe bimar se hum.

इतना रोये थे लिपट कर दर-ओ-दीवार से हम,
शहर में आके बहुत दिन रहे बीमार-से हम !

6.
Main apne bachchon se aankhen mila nahi sakta,
Main khali jeb liye apne ghar na jaunga.

मैं अपने बच्चों से आँखें मिला नहीं सकता,
मैं ख़ाली जेब लिए अपने घर न जाऊँगा !

7.
Hum ek titali ki khatir bhatkte firte the,
Kabhi na aayenge wo din shararton wale.

हम एक तितली की ख़ातिर भटकते फिरते थे,
कभी न आयेंगे वो दिन शरारतों वाले !

8.
Mujhe sabhalne wala kahan se aayega,
Main gir raha hun purani imaarton ki tarah.

मुझे सँभालने वाला कहाँ से आयेगा,
मैं गिर रहा हूँ पुरानी इमारतों की तरह !

9.
Pairon ko mere deeda-e-tar banndhe hue hai,
Zanjeer ki surat mujhe ghar baandhe hue hai.

पैरों को मेरे दीदा-ए-तर बाँधे हुए है,
ज़ंजीर की सूरत मुझे घर बाँधे हुए है !

10.
Dil aisa ki sidhe kiye jute bhi badon ke,
Jid itani ki khud taj utha kar nahi pehana.

दिल ऐसा कि सीधे किए जूते भी बड़ों के,
ज़िद इतनी कि खुद ताज उठा कर नहीं पहना !

11.
Chamak aise nahi aati hai khuddari ke chehare par,
Ana ko humne do-do waqt ka faaka karaaya hai.

चमक ऐसे नहीं आती है ख़ुद्दारी के चेहरे पर,
अना को हमने दो-दो वक़्त का फ़ाक़ा कराया है !

12.
Zara si baat par aankhein barsne lagti thi,
Kahan chale gaye mausam wo chahaton wale.

ज़रा-सी बात पे आँखें बरसने लगती थीं,
कहाँ चले गये मौसम वो चाहतों वाले !

13.
Main is khyaal se jata nahi hun gaon kabhi,
Wahan ke logon ne dekha hai bachpan mera.

मैं इस ख़याल से जाता नहीं हूँ गाँव कभी,
वहाँ के लोगों ने देखा है बचपना मेरा !

14.
Hum na Dilli the na majdur ki beti lekin,
Qaafile jo bhi idhar aaye humein lut gaye.

हम न दिल्ली थे न मज़दूर की बेटी लेकिन,
क़ाफ़िले जो भी इधर आये हमें लूट गये !

15.
Ab mujhe apne hareefo se zara bhi dar nahi,
Mere kapde bhaiyon ke jism par aane lage.

अब मुझे अपने हरीफ़ों से ज़रा भी डर नहीं,
मेरे कपड़े भाइयों के जिस्म पर आने लगे !

16.
Tanha mujhe kabhi na samjhana mere hareef,
Ek bhai mar chuka hai magar ek ghar mein hai.

तन्हा मुझे कभी न समझना मेरे हरीफ़,
इक भाई मर चुका है मगर एक घर में है !

17.
Maidaan se ab laut ke jana bhi dushwaar,
Kis mod pe dushman se karaabat nikal gayi.

मैदान से अब लौट के जाना भी है दुश्वार,
किस मोड़ पे दुश्मन से क़राबत निकल गई !

18.
Muqaddar mein likha kar laye hain hum dar-b-dar firna,
Parinde koi mausam ho pareshani mein rehate hai.

मुक़द्दर में लिखा कर लाये हैं हम दर-ब-दर फिरना,
परिंदे कोई मौसम हो परेशानी में रहते हैं !

19.
Main patriyon ki tarah zameen par pada raha,
Seene se gham gujarte rahe rail ki tarah.

मैं पटरियों की तरह ज़मीं पर पड़ा रहा,
सीने से ग़म गुज़रते रहे रेल की तरह !

20.
Main hun mitti to mujhe kuzagaron tak pahuncha,
Main khilauna hun to bachchon ke hawale kar de.

मैं हूँ मिट्टी तो मुझे कूज़ागरों तक पहुँचा,
मैं खिलौना हूँ तो बच्चों के हवाले कर दे !

21.
Humari zindagi ka is tarah har saal katata hai,
Kabhi gaadi paltati hai kabhi tirpaal katata hai.

हमारी ज़िन्दगी का इस तरह हर साल कटता है,
कभी गाड़ी पलटती है कभी तिरपाल कटता है !

22.
Shayad humare paanv mein til hai ki aaj tak,
Ghar mein kabhi sukoon se do din nahi rahe.

शायद हमारे पाँव में तिल है कि आज तक,
घर में कभी सुकून से दो दिन नहीं रहे !

23.
Main wasiyat kar na saka na koi wada le saka,
Maine socha bhi nahi tha haadasa ho jayega.

मैं वसीयत कर सका न कोई वादा ले सका,
मैंने सोचा भी नहीं था हादसा हो जायेगा !

24.
Hum thak haar ke laute the lekin jane kyon,
Rengti badhti sarkti chitiyaan achchi lagi.

हम बहुत थक हार के लौटे थे लेकिन जाने क्यों,
रेंगती बढ़ती सरकती चीटियां अच्छी लगीं !

25.
Muddaton baad koi shakhs hai aane wala,
Aye mere aansuon ! tum deeda-e-tar mein rehana.

मुद्दतों बाद कोई शख्स है आने वाला,
ऐ मेरे आँसुओ ! तुम दीदा-ए-तर में रहना !

26.
Takllufaat ne zakhmon ko kar diya nasur,
Kabhi mujhe kabhi takhir chaaragar ko huyi.

तक़ल्लुफ़ात ने ज़ख़्मों को कर दिया नासूर,
कभी मुझे कभी ताख़ीर चारागर को हुई !

27.
Apne bikane ka bahut dukh hai humein bhi lekin,
Muskurate huye milte hai kharidar se hum.

अपने बिकने का बहुत दुख है हमें भी लेकिन,
मुस्कुराते हुए मिलते हैं ख़रीदार से हम !

28.
Humein din tarikh to yaad nahi bas isse andaza kar lo,
Hum us mausam mein bichhade the jab gaon mein jhula padta hai.

हमें दिन तारीख़ तो याद नहीं बस इससे अंदाज़ा कर लो,
हम उस मौसम में बिछ्ड़े थे जब गाँव में झूला पड़ता है !

29.
Main ek faqeer ke honthon ki muskurahat hun,
Kisi se bhi meri kimat ada nahi hoti.

मैं इक फ़क़ीर के होंठों की मुस्कुराहट हूँ,
किसी से भी मेरी क़ीमत अदा नहीं होती !

30.
Hum to ek akhbaar se kati huyi tasvir hai,
Jisko kagaz chunne wale kal utha le jayenge.

हम तो एक अख़बार से काटी हुई तस्वीर हैं,
जिसको काग़ज़ चुनने वाले कल उठा ले जाएँगे !

31.
Ana ne mere bachchon ki hansi bhi chhin li mujhse,
Yaha jane nahi deti wahn jane nahi deti.

अना ने मेरे बच्चों की हँसी भी छीन ली मुझसे,
यहाँ जाने नहीं देती वहाँ जाने नहीं देती !

32.
Jane ab kitna safar baaki bacha hai umar ka,
Zindagi ubale huye khane talak to aa gayi.

जाने अब कितना सफ़र बाक़ी बचा है उम्र का,
ज़िन्दगी उबले हुए खाने तलक तो आ गई !

33.
Hume bachchon ka mustkabil liye firta hai sadkon par,
Nahi to garmiyon mein kab koi ghar se nikalta hai.

हमें बच्चों का मुस्तक़बिल लिए फिरता है सड़कों पर,
नहीं तो गर्मियों में कब कोई घर से निकलता है !

34.
Sone ke kharidaar na dhundo ki yahan par,
Ek umar huyi logo ne pital nahi dekha.

सोने के ख़रीदार न ढूँढो कि यहाँ पर,
एक उम्र हुई लोगों ने पीतल नहीं देखा !

35.
Main apne gaon ka mukhiya bhi hun bachcho ka qaatil bhi,
Jala kar dudh kuch logo ki khatir ghee banata hun.

मैं अपने गाँव का मुखिया भी हूँ बच्चों का क़ातिल भी,
जला कर दूध कुछ लोगों की ख़ातिर घी बनाता हूँ !

 

Munawwar Rana “Maa” Part 1

1.
Hanste hue Maa-Baap ki gaali nahi khaate,
Bachche hain to kyon shauq se mitti nahi khaate.

हँसते हुए माँ-बाप की गाली नहीं खाते,
बच्चे हैं तो क्यों शौक़ से मिट्टी नहीं खाते !

2.
Ho chaahe jis ilaaqe ki zaban bachche samajhte hain,
Sagi hai ya ki sauteli hai Maa bachche samajhte hain.

हो चाहे जिस इलाक़े की ज़बाँ बच्चे समझते हैं,
सगी है या कि सौतेली है माँ बच्चे समझते हैं !

3.
Hawa dukhon ki jab aayi kabhi khizaan ki tarah,
Mujhe chhupa liya mitti ne meri Maa ki tarah.

हवा दुखों की जब आई कभी ख़िज़ाँ की तरह,
मुझे छुपा लिया मिट्टी ने मेरी माँ की तरह !

4.
Sisakiyaan uski na dekhi gayi mujhse “Rana”,
Ro pada main bhi use pehli kamaayi dete.

सिसकियाँ उसकी न देखी गईं मुझसे “राना”,
रो पड़ा मैं भी उसे पहली कमाई देते !

5.
Sar-phire log humein dushman-e-jaan kehte hain,
Hum jo is mulk ki mitti ko bhi Maa kehte hain.

सर फिरे लोग हमें दुश्मन-ए-जाँ कहते हैं,
हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी माँ कहते हैं !

6.
Mujhe bas is liye achchhi bahaar lagati hai,
Ki ye bhi Maa ki tarah khush-gawaar lagati hai.

मुझे बस इस लिए अच्छी बहार लगती है,
कि ये भी माँ की तरह ख़ुशगवार लगती है !

7.
Maine rote hue ponchhe the kisi din aansoo,
Muddaton Maa ne nahi dhoya dupatta apna.

मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आँसू,
मुद्दतों माँ ने नहीं धोया दुपट्टा अपना !

8.
Bheje gaye farishte humaare bachaav ko,
Jab haadsaat Maa ki dua se ulajh pade.

भेजे गए फ़रिश्ते हमारे बचाव को,
जब हादसात माँ की दुआ से उलझ पड़े !

9.
Labon pe us ke kabhi bad-dua nahi hoti,
Bas ek Maa hai jo mujh se khafa nahi hoti.

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती,
बस एक माँ है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती !

10.
Taar par bathi hui chidiyon ko sota dekh kar,
Farsh par sota hua beta bahut achchha laga.

तार पर बैठी हुई चिड़ियों को सोता देख कर,
फ़र्श पर सोता हुआ बेटा बहुत अच्छा लगा !!

11.
Is chehre mein poshida hai ek kaum ka chehra,
Chehre ka utar jana munasib nahi hoga.

इस चेहरे में पोशीदा है इक क़ौम का चेहरा,
चेहरे का उतर जाना मुनासिब नहीं होगा !

12.
Ab bhi chalti hai jab aandhi kabhi gham ki “Rana”,
Maa ki mamta mujhe baahon mein chhupa leti hai.

अब भी चलती है जब आँधी कभी ग़म की “राना”,
माँ की ममता मुझे बाहों में छुपा लेती है !

13.
Musibat ke dinon mein humesha sath rahti hai,
Payambar kya pareshaani mein ummat chhod sakta hai ?

मुसीबत के दिनों में हमेशा साथ रहती है,
पयम्बर क्या परेशानी में उम्मत छोड़ सकता है ?

14.
Puraana ped buzurgon ki tarah hota hai,
Yahi bahut hai ki taaza hawayen deta hai.

पुराना पेड़ बुज़ुर्गों की तरह होता है,
यही बहुत है कि ताज़ा हवाएँ देता है !

15.
Kisi ke paas aate hain to dariya sukh jate hain,
Kisi ke ediyon se ret ka chashma nikalta hai.

किसी के पास आते हैं तो दरिया सूख जाते हैं,
किसी के एड़ियों से रेत का चश्मा निकलता है !

16.
Jab tak raha hun dhoop mein chadar bana raha,
Main apni Maa ka aakhiri jevar bana raha.

जब तक रहा हूँ धूप में चादर बना रहा,
मैं अपनी माँ का आखिरी ज़ेवर बना रहा !

17.
Dekh le zalim shikaari ! Maa ki mamata dekh le,
Dekh le chidiya tere daane talak to aa gayi.

देख ले ज़ालिम शिकारी ! माँ की ममता देख ले,
देख ले चिड़िया तेरे दाने तलक तो आ गई !

18.
Mujhe bhi us ki judai satate rehti hai,
Use bhi khwaab mein beta dikhaayi deta hai.

मुझे भी उसकी जुदाई सताती रहती है,
उसे भी ख़्वाब में बेटा दिखाई देता है !

19.
Muflisi ghar mein theharne nahi deti usko,
Aur pardesh mein beta nahi rahne deta.

मुफ़लिसी घर में ठहरने नहीं देती उसको,
और परदेस में बेटा नहीं रहने देता !

20.
Agar school mein bachche hon ghar achchha nahi lagta,
Parindon ke na hone par shajar achchha nahi lagta.

अगर स्कूल में बच्चे हों घर अच्छा नहीं लगता,
परिन्दों के न होने पर शजर अच्छा नहीं लगता !

Hamare Shauq Ki Ye Intiha Thi..

Hamare shauq ki ye intiha thi,
Qadam rakkha ki manzil rasta thi.

Bichhad ke Dar se ban ban phira wo,
Hiran ko apni kasturi saza thi.

Kabhi jo khwab tha wo pa liya hai,
Magar jo kho gayi wo chiz kya thi.

Main bachpan mein khilaune todta tha,
Mere anjam ki wo ibtida thi.

Mohabbat mar gayi mujh ko bhi gham hai,
Mere achchhe dinon ki aashna thi.

Jise chhu lun main wo ho jaye sona,
Tujhe dekha to jaana bad-dua thi.

Mariz-e-khwab ko to ab shifa hai,
Magar duniya badi kadwi dawa thi. !!

हमारे शौक़ की ये इंतिहा थी,
क़दम रखा कि मंज़िल रास्ता थी !

बिछड़ के डार से बन बन फिरा वो,
हिरन को अपनी कस्तूरी सज़ा थी !

कभी जो ख़्वाब था वो पा लिया है,
मगर जो खो गई वो चीज़ क्या थी !

मैं बचपन में खिलौने तोड़ता था,
मेरे अंजाम की वो इब्तिदा थी !

मोहब्बत मर गई मुझ को भी ग़म है,
मेरे अच्छे दिनों की आश्ना थी !

जिसे छू लूँ मैं वो हो जाए सोना,
तुझे देखा तो जाना बद-दुआ थी !

मरीज़-ए-ख़्वाब को तो अब शिफ़ा है,
मगर दुनिया बड़ी कड़वी दवा थी !!

-Javed Akhtar Ghazal / Urdu Poetry

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

Kyun Kisi Aur Ko Dukh-Dard Sunaun Apne..

kyun kisi aur ko dukh sunaun apne

Kyun kisi aur ko dukh-dard sunaun apne,
Apni aankho mein bhi main zakhm chhupaun apne.

Main to qaem hun tere gham ki badaulat warna,
Yun bhikhar jaun ki khud ke haath na aaun apne.

Sher logon ko bahut yaad hai auron ke liye,
Tu mile to main tujhe sher sunaun apne.

Tere raste ka jo kanta bhi mayassar aaye,
Main use shauk se collar pe sajaun apne.

Sochta hun ki bujha dun main ye kamre ka diya,
Apne saye ko bhi kyon sath jagaun apne.

Us ki talwar ne wo chaal chali hai ab ke,
Panv kate hain agar haath bachaun apne.

Aakhiri baat mujhe yaad hai us ki “Anwar“,
Jaane wale ko gale se na lagaun apne. !!

क्यों किसी और को दुःख-दर्द सुनाओ अपने,
अपनी आँखों में भी मैं ज़ख़्म छुपाऊँ अपने !

मैं तो क़ायम हूँ तेरे गम की बदौलत वरना,
यूँ बिखर जाऊ की खुद के हाथ न आऊं अपने !

शेर लोगों को बहुत याद है औरों के लिए,
तू मिले तो मैं तुझे शेर सुनाऊ अपने !

तेरे रास्ते का जो कांटा भी मयससर आये,
मैं उसे शौक से कॉलर पे सजाऊँ अपने !

सोचता हूँ की बुझा दूँ मैं ये कमरे का दीया,
अपने साये को भी क्यों साथ जगाऊँ अपने !

उस की तलवार ने वो चाल चली है अब के,
पाँव कटते हैं अगर हाथ बचाऊँ अपने !

आख़िरी बात मुझे याद है उस की “अनवर“,
जाने वाले को गले से न लगाऊँ अपने !!

 

Khushi Ka Masla Kya Hai Jo Mujhse Khauf Khati Hai..

Khushi ka masla kya hai jo mujhse khauf khati hai,
Ise jab bhi bulata hun ghamon ko saath lati hai.

Chiragon kab hawa ki dogli fitrat ko samjhoge,
Jalaati hai yahi tumko yahi tumko bujhaati hai.

Mirashim ke shzar ko badazani ka ghun laga jabse,
Koi patta bhi jab khichein to dali toot jati hai.

ख़ुशी का मसला क्या है जो मुझसे खौफ खाती है,
इसे जब भी बुलाता हूँ ग़मों को साथ लती है !

चिरागों कब हवा की दोगली फितरत को समझोगे,
जलाती है यही तुमको यही तुमको बुझाती है !

मिराशिम के शज़र को बदज़नी का घुन लगा जबसे,
कोई पत्ता भी जब खीचें तो डाली टूट जाती है !!

-Anwar Jalalabadi Ghazal / Poetry / Shayari