Poetry Types Gham

Wo Baaten Teri Wo Fasane Tere..

Wo baaten teri wo fasane tere,
Shagufta shagufta bahane tere.

Bas ek dagh-e-sajda meri kayenat,
Babinen teri aastane tere.

Mazalim tere aafiyat-afrin,
Marasim suhane suhane tere.

Faqiron ki jholi na hogi tahi,
Hain bharpur jab tak khazane tere.

Dilon ko jarahat ka lutf aa gaya,
Lage hain kuchh aise nishane tere.

Asiron ki daulat asiri ka gham,
Naye dam tere purane tere.

Bas ek zakhm-e-nazzara hissa mera,
Bahaaren teri aashiyane tere.

Faqiron ka jamghat ghadi-do-ghadi,
Sharaben teri baada-khane tere.

Zamir-e-sadaf mein kiran ka maqam,
Anokhe anokhe thikane tere.

Bahaar o khizan kam-nigahon ke wahm,
Bure ya bhale sab zamane tere.

Adam” bhi hai tera hikayat-kada,
Kahan tak gaye hain fasane tere. !!

वो बातें तेरी वो फ़साने तेरे,
शगुफ़्ता शगुफ़्ता बहाने तेरे !

बस एक दाग़-ए-सज्दा मेरी काएनात,
जबीनें तेरी आस्ताने तेरे !

मज़ालिम तेरे आफ़ियत-आफ़रीं,
मरासिम सुहाने सुहाने तेरे !

फ़क़ीरों की झोली न होगी तही,
हैं भरपूर जब तक ख़ज़ाने तेरे !

दिलों को जराहत का लुत्फ़ आ गया,
लगे हैं कुछ ऐसे निशाने तेरे !

असीरों की दौलत असीरी का ग़म,
नए दाम तेरे पुराने तेरे !

बस एक ज़ख़्म-ए-नज़्ज़ारा हिस्सा मेरा,
बहारें तेरी आशियाने तेरे !

फ़क़ीरों का जमघट घड़ी-दो-घड़ी,
शराबें तेरी बादा-ख़ाने तेरे !

ज़मीर-ए-सदफ़ में किरन का मक़ाम,
अनोखे अनोखे ठिकाने तेरे !

बहार ओ ख़िज़ाँ कम-निगाहों के वहम,
बुरे या भले सब ज़माने तेरे !

अदम” भी है तेरा हिकायत-कदा,
कहाँ तक गए हैं फ़साने तेरे !!

 

Wo Jo Tere Faqir Hote Hain..

Wo jo tere faqir hote hain,
Aadmi be-nazir hote hain.

Dekhne wala ek nahi milta,
Aankh wale kasir hote hain.

Jin ko daulat haqir lagti hai,
Uff ! wo kitne amir hote hain.

Jin ko kudrat ne husan bakhsha ho,
Kudratan kuchh sharir hote hain.

Zindagi ke hasin tarkash mein,
Kitne be-rahm tir hote hain.

Wo parinde jo aankh rakhte hain,
Sab se pahle asir hote hain.

Phool daman mein chand rakh lije,
Raste mein faqir hote hain.

Hai khushi bhi ajib shai lekin,
Gham bade dil-pazir hote hain.

Aye “Adam” ehtiyat logon se,
Log munkir-nakir hote hain. !!

वो जो तेरे फ़क़ीर होते हैं,
आदमी बे-नज़ीर होते हैं !

देखने वाला एक नहीं मिलता,
आँख वाले कसीर होते हैं

जिन को दौलत हक़ीर लगती है,
उफ़ ! वो कितने अमीर होते हैं !

जिन को क़ुदरत ने हुस्न बख़्शा हो,
क़ुदरतन कुछ शरीर होते हैं !

ज़िंदगी के हसीन तरकश में,
कितने बे-रहम तीर होते हैं !

वो परिंदे जो आँख रखते हैं,
सब से पहले असीर होते हैं !

फूल दामन में चंद रख लीजे,
रास्ते में फ़क़ीर होते हैं !

है ख़ुशी भी अजीब शय लेकिन,
ग़म बड़े दिल-पज़ीर होते हैं !

ऐ “अदम” एहतियात लोगों से,
लोग मुनकिर-नकीर होते हैं !!

 

Zakhm Dil Ke Agar Siye Hote..

Zakhm dil ke agar siye hote,
Ahl-e-dil kis tarah jiye hote.

Wo mile bhi to ek jhijhak si rahi,
Kash thodi si hum piye hote.

Aarzoo mutmain to ho jati,
Aur bhi kuchh sitam kiye hote.

Lazzat-e-gham to bakhsh di us ne,
Hausle bhi “Adam” diye hote. !!

ज़ख़्म दिल के अगर सिए होते,
अहल-ए-दिल किस तरह जिए होते !

वो मिले भी तो इक झिझक सी रही,
काश थोड़ी सी हम पिए होते !

आरज़ू मुतमइन तो हो जाती,
और भी कुछ सितम किए होते !

लज़्ज़त-ए-ग़म तो बख़्श दी उस ने,
हौसले भी “अदम” दिए होते !!

 

Saqi Sharab La Ki Tabiat Udas Hai..

Saqi sharab la ki tabiat udas hai,
Mutrib rubab utha ki tabiat udas hai.

Ruk ruk ke saz chhed ki dil mutmain nahi,
Tham tham ke mai pila ki tabiat udas hai.

Chubhti hai qalb o jaan mein sitaron ki raushni,
Aye chand dub ja ki tabiat udas hai.

Mujh se nazar na pher ki barham hai zindagi,
Mujh se nazar mila ki tabiat udas hai.

Shayad tere labon ki chatak se ho ji bahaal,
Aye dost muskura ki tabiat udas hai.

Hai husn ka fusun bhi ilaj-e-fasurdagi,
Rukh se naqab utha ki tabiat udas hai.

Main ne kabhi ye zid to nahi ki par aaj shab,
Aye mah-jabin na ja ki tabiat udas hai.

Imshab gurez-o-ram ka nahi hai koi mahal,
Aaghosh mein dar aa ki tabiat udas hai.

Kaifiyyat-e-sukut se badhta hai aur gham,
Kissa koi suna ki tabiat udas hai.

Yunhi durust hogi tabiat teri “Adam”,
Kam-bakht bhul ja ki tabiat udas hai.

Tauba to kar chuka hun magar phir bhi aye “Adam“,
Thoda sa zahr la ki tabiat udas hai. !!

साक़ी शराब ला कि तबीअत उदास है,
मुतरिब रुबाब उठा कि तबीअत उदास है !

रुक रुक के साज़ छेड़ कि दिल मुतमइन नहीं,
थम थम के मय पिला कि तबीअत उदास है !

चुभती है क़ल्ब ओ जाँ में सितारों की रौशनी,
ऐ चाँद डूब जा कि तबीअत उदास है !

मुझ से नज़र न फेर कि बरहम है ज़िंदगी,
मुझ से नज़र मिला कि तबीअत उदास है !

शायद तेरे लबों की चटक से हो जी बहाल,
ऐ दोस्त मुस्कुरा कि तबीअत उदास है !

है हुस्न का फ़ुसूँ भी इलाज-ए-फ़सुर्दगी,
रुख़ से नक़ाब उठा कि तबीअत उदास है !

मैं ने कभी ये ज़िद तो नहीं की पर आज शब,
ऐ मह-जबीं न जा कि तबीअत उदास है !

इमशब गुरेज़-ओ-रम का नहीं है कोई महल,
आग़ोश में दर आ कि तबीअत उदास है !

कैफ़िय्यत-ए-सुकूत से बढ़ता है और ग़म,
क़िस्सा कोई सुना कि तबीअत उदास है !

यूँही दुरुस्त होगी तबीअत तेरी “अदम”,
कम-बख़्त भूल जा कि तबीअत उदास है !

तौबा तो कर चुका हूँ मगर फिर भी ऐ “अदम“,
थोड़ा सा ज़हर ला कि तबीअत उदास है !!

 

Ab Ye Sochun To Bhanwar Zehn Mein Pad Jate Hain..

Ab ye sochun to bhanwar zehn mein pad jate hain,
Kaise chehre hain jo milte hi bichhad jate hain.

Kyun tere dard ko den tohmat-e-virani-e-dil,
Zalzalon mein to bhare shehar ujad jate hain.

Mausam-e-zard mein ek dil ko bachaun kaise,
Aisi rut mein to ghane ped bhi jhad jate hain.

Ab koi kya mere qadmon ke nishan dhundega,
Tez aandhi mein to kheme bhi ukhad jate hain.

Shaghl-e-arbab-e-hunar puchhte kya ho ki ye log,
Pattharon mein bhi kabhi aaine jad jati hain.

Soch ka aaina dhundla ho to phir waqt ke sath,
Chand chehron ke khad-o-khyal bigad jate hain.

Shiddat-e-gham mein bhi zinda hun to hairat kaisi,
Kuchh diye tund hawaon se bhi lad jate hain.

Wo bhi kya log hain “Mohsin” jo wafa ki khatir,
Khud-tarashida usulon pe bhi ad jate hain. !!

अब ये सोचूँ तो भँवर ज़ेहन में पड़ जाते हैं,
कैसे चेहरे हैं जो मिलते ही बिछड़ जाते हैं !

क्यूँ तेरे दर्द को दें तोहमत-ए-वीरानी-ए-दिल,
ज़लज़लों में तो भरे शहर उजड़ जाते हैं !

मौसम-ए-ज़र्द में एक दिल को बचाऊँ कैसे,
ऐसी रुत में तो घने पेड़ भी झड़ जाते हैं !

अब कोई क्या मेरे क़दमों के निशाँ ढूँडेगा,
तेज़ आँधी में तो ख़ेमे भी उखड़ जाते हैं !

शग़्ल-ए-अर्बाब-ए-हुनर पूछते क्या हो कि ये लोग,
पत्थरों में भी कभी आइने जड़ जाती हैं !

सोच का आइना धुँदला हो तो फिर वक़्त के साथ,
चाँद चेहरों के ख़द-ओ-ख़ाल बिगड़ जाते हैं !

शिद्दत-ए-ग़म में भी ज़िंदा हूँ तो हैरत कैसी,
कुछ दिए तुंद हवाओं से भी लड़ जाते हैं !

वो भी क्या लोग हैं “मोहसिन” जो वफ़ा की ख़ातिर,
ख़ुद-तराशीदा उसूलों पे भी अड़ जाते हैं !!

 

Aap Ki Aankh Se Gahra Hai Meri Ruh Ka Zakhm..

Aap ki aankh se gahra hai meri ruh ka zakhm,
Aap kya soch sakenge meri tanhai ko.

Main to dam tod raha tha magar afsurda hayat,
Khud chali aai meri hausla-afzai ko.

Lazzat-e-gham ke siwa teri nigahon ke baghair,
Kaun samjha hai mere zakhm ki gahrai ko.

Main badhaunga teri shohrat-e-khush-bu ka nikhaar,
Tu dua de mere afsana-e-ruswai ko.

Wo to yun kahiye ki ek qaus-e-quzah phail gayi,
Warna main bhul gaya tha teri angdai ko. !!

आप की आँख से गहरा है मेरी रूह का ज़ख़्म,
आप क्या सोच सकेंगे मेरी तन्हाई को !

मैं तो दम तोड़ रहा था मगर अफ़्सुर्दा हयात,
ख़ुद चली आई मेरी हौसला-अफ़ज़ाई को !

लज़्ज़त-ए-ग़म के सिवा तेरी निगाहों के बग़ैर,
कौन समझा है मेरे ज़ख़्म की गहराई को !

मैं बढ़ाऊँगा तेरी शोहरत-ए-ख़ुश्बू का निखार,
तू दुआ दे मेरे अफ़्साना-ए-रुसवाई को !

वो तो यूँ कहिए कि एक क़ौस-ए-क़ुज़ह फैल गई,
वर्ना मैं भूल गया था तेरी अंगड़ाई को !!

-Mohsin Naqvi Ghazal / Poetry

 

Ye Dil Ye Pagal Dil Mera Kyun Bujh Gaya Aawargi..

Ye dil ye pagal dil mera kyun bujh gaya aawargi,
Is dasht mein ek shehar tha wo kya hua aawargi.

Kal shab mujhe be-shakl ki aawaz ne chaunka diya,
Main ne kaha tu kaun hai us ne kaha aawargi.

Logo bhala is shehar mein kaise jiyenge hum jahan,
Ho jurm tanha sochna lekin saza aawargi.

Ye dard ki tanhaiyan ye dasht ka viran safar,
Hum log to ukta gaye apni suna aawargi.

Ek ajnabi jhonke ne jab puchha mere gham ka sabab,
Sahra ki bhigi ret par main ne likha aawargi.

Us samt wahshi khwahishon ki zad mein paiman-e-wafa,
Us samt lahron ki dhamak kachcha ghada aawargi.

Kal raat tanha chand ko dekha tha main ne khwab mein,
Mohsin” mujhe ras aayegi shayad sada aawargi. !!

ये दिल ये पागल दिल मेरा क्यूँ बुझ गया आवारगी,
इस दश्त में एक शहर था वो क्या हुआ आवारगी !

कल शब मुझे बे-शक्ल की आवाज़ ने चौंका दिया,
मैं ने कहा तू कौन है उस ने कहा आवारगी !

लोगो भला इस शहर में कैसे जिएँगे हम जहाँ,
हो जुर्म तन्हा सोचना लेकिन सज़ा आवारगी !

ये दर्द की तन्हाइयाँ ये दश्त का वीराँ सफ़र,
हम लोग तो उक्ता गए अपनी सुना आवारगी !

एक अजनबी झोंके ने जब पूछा मेरे ग़म का सबब,
सहरा की भीगी रेत पर मैं ने लिखा आवारगी !

उस सम्त वहशी ख़्वाहिशों की ज़द में पैमान-ए-वफ़ा,
उस सम्त लहरों की धमक कच्चा घड़ा आवारगी !

कल रात तन्हा चाँद को देखा था मैं ने ख़्वाब में,
मोहसिन” मुझे रास आएगी शायद सदा आवारगी !!

 

Koi Deewana Kehta Hain Koi Pagal Samjhta Hai..

Koi deewana kehta hain koi pagal samjhta hai,
Magar dharti ki bechani ko bas badal samjhta hai,
Main tujhse dur kaisa hu, tu mujhse dur kaisi hai,
Yeh tera dil samjhta hain ya mera dil samjhta hai.

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है,
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है,
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर कैसी है,
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है !

Mohobbat ek ehsaason ki paawan si kahani hain,
Kabhi kabira deewana tha kabhi meera deewani hain,
Yahaan sab log kehte hain meri aakho mein aansoo hain,
Jo tu samjhe toh moti hain jo na samjhe toh paani hain.

मोहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है,
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है,
यहाँ सब लोग कहते हैं, मेरी आंखों में आँसू हैं,
जो तू समझे तो मोती है, जो ना समझे तो पानी है !

Badalne ko toh in aankhon ke manzar kam nahi badle,
Tumhari yaad ke mausam humhare gham nahi badle,
Tu agle janm mein humse milogi tab toh manogi,
Jamane aur sadi ki is badal mein hum nahi badle.

बदलने को तो इन आंखों के मंजर कम नहीं बदले,
तुम्हारी याद के मौसम हमारे गम नहीं बदले,
तुम अगले जन्म में हमसे मिलोगी तब तो मानोगी,
जमाने और सदी की इस बदल में हम नहीं बदले !

Humein maloom hai do dil judaai seh nahi sakte,
Magar rasmein-wafa ye hai ki ye bhi kah nahi sakte,
Zara kuchh der tum un sahilon ki chikh sun bhar lo,
Jo lahron mein toh dube hai magar sang bah nahi sakte.

हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते,
मगर रस्मे-वफ़ा ये है कि ये भी कह नहीं सकते,
जरा कुछ देर तुम उन साहिलों कि चीख सुन भर लो,
जो लहरों में तो डूबे हैं, मगर संग बह नहीं सकते !

Samandar peer ka andar hain lekin ro nahi sakta,
Yeh aansu pyaar ka moti hain isko kho nahi sakta,
Meri chahat ko dulhan tu bana lena magar sun le,
Jo mera ho nahi paya woh tera ho nahi sakta.

समंदर पीर का अन्दर है, लेकिन रो नही सकता,
यह आँसू प्यार का मोती है, इसको खो नही सकता,
मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना, मगर सुन ले,
जो मेरा हो नही पाया, वो तेरा हो नही सकता !

Mile har zakhm ko muskan ko sina nahi aaya,
Amrta chahte the par zahr pina nahi aaya,
Tumhari aur meri dastan mein fark itna hai,
Mujhe marna nahi aaya tumhe jina nahi aaya.

मिले हर जख्म को मुस्कान को सीना नहीं आया,
अमरता चाहते थे पर ज़हर पीना नहीं आया,
तुम्हारी और मेरी दस्ता में फर्क इतना है,
मुझे मरना नहीं आया तुम्हे जीना नहीं आया !

Panahon mein jo aaya ho to us par war karna kya,
Jo dil hara hua ho us par phir adhikar karna kya,
Mohabbat ka maza toh dubne ki kshamkash mein hai,
Ho gar maloom gahraai toh dariya par karna kya.

पनाहों में जो आया हो तो उस पर वार करना क्या,
जो दिल हारा हुआ हो उस पर फिर अधिकार करना क्या,
मोहब्बत का मज़ा तो डूबने की कश्मकश में है,
हो गर मालूम गहराई तो दरिया पार करना क्या !

Jahan har din siskana hai jahan har raat gaana hai,
Humhari zindagi bhi ek tawayef ka gharana hai,
Bahut majbur hokar geet roti ke likhe humne,
Tumhari yaad ka kya hai use toh roz aana hai.

जहाँ हर दिन सिसकना है जहाँ हर रात गाना है,
हमारी ज़िन्दगी भी इक तवायफ़ का घराना है,
बहुत मजबूर होकर गीत रोटी के लिखे हमने,
तुम्हारी याद का क्या है उसे तो रोज़ आना है !

Tumhare paas hun lekin jo duri hai samjta hun,
Tumhare bin meri hasti adhuri hai samjta hun,
Tumhein main bhul jaunga ye mumkin hai nahi lekin,
Tumhin ko bhulna sabse jaruri hai samjta hun.

तुम्हारे पास हूँ लेकिन जो दूरी है समझता हूँ,
तुम्हारे बिन मेरी हस्ती अधूरी है समझता हूँ,
तुम्हे मैं भूल जाऊँगा ये मुमकिन है नहीं लेकिन,
तुम्ही को भूलना सबसे ज़रूरी है समझता हूँ !

Main jab bhi tez chalta hun nazaarein chutt jate hai,
Koi jab roop gadhta hun to sanche tut jate hai,
Main rota hun to aakar log kandha thapthapate hai,
Main hansta hun to aksar log mujhse ruth jate hai.

मैं जब भी तेज़ चलता हूँ नज़ारे छूट जाते हैं,
कोई जब रूप गढ़ता हूँ तो साँचे टूट जाते हैं,
मैं रोता हूँ तो आकर लोग कँधा थपथपाते हैं,
मैं हँसता हूँ तो अक़्सर लोग मुझसे रूठ जाते हैं !

Sada to dhoop ke haathon mein hi parcham nahi hota,
Khushi ke ghar mein bhi bolon kabhi kya gham nahi hota,
Fakt ek aadmi ke vastein jag chodne walo,
Fakt us aadmi se ye zamana kam nahi hota.

सदा तो धूप के हाथों में ही परचम नहीं होता,
खुशी के घर में भी बोलों कभी क्या गम नहीं होता,
फ़क़त इक आदमी के वास्तें जग छोड़ने वालो,
फ़क़त उस आदमी से ये ज़माना कम नहीं होता !

Humhare vaste koi dua mange asar to ho,
Haqiqat mein kahin par ho na ho aankhon mein ghar to ho,
Tumhare pyaar ki baatein sunate hai zamane ko,
Tumhein khabron mein rkhate hai magar tumko khabar to ho.

हमारे वास्ते कोई दुआ मांगे, असर तो हो,
हकीकत में कहीं पर हो न हो आँखों में घर तो हो,
तुम्हारे प्यार की बातें सुनाते हैं ज़माने को,
तुम्हें खबरों में रखते हैं मगर तुमको खबर तो हो !

Bataun kya mujhe aise sahaaron ne sataya hai,
Nadi to kuchh nahi boli kinaron ne sataya hai,
Sada hi shul meri raah se khud hat gaye lekin,
Mujhe to har ghadi har pal baharon ne sataya hai.

बताऊँ क्या मुझे ऐसे सहारों ने सताया है,
नदी तो कुछ नहीं बोली किनारों ने सताया है,
सदा ही शूल मेरी राह से खुद हट गये लेकिन,
मुझे तो हर घड़ी हर पल बहारों ने सताया है !

Har ek nadiya ke honthon pe samndar ka tarana hai,
Yahan farhaad ke aage sada koi bahana hai,
Wahin baatein purani thi wahi kissa purana hai,
Tumhare aur mere bich mein phir se zamana hai.

हर एक नदिया के होंठों पे समंदर का तराना है,
यहाँ फरहाद के आगे सदा कोई बहाना है,
वही बातें पुरानी थीं, वही किस्सा पुराना है,
तुम्हारे और मेरे बीच में फिर से जमाना है !

Mera partiman aanso mein bhigo kar gadh liya hota,
Akinchan panv tab aage tumhara badh liya hota,
Meri aankhon mein bhi ankit samrpan ki reechayein thi,
Unhein kuchh arth mil jata jo tumne padh liya hota.

मेरा प्रतिमान आंसू मे भिगो कर गढ़ लिया होता,
अकिंचन पाँव तब आगे तुम्हारा बढ़ लिया होता,
मेरी आँखों मे भी अंकित समर्पण की रिचाएँ थीं,
उन्हें कुछ अर्थ मिल जाता जो तुमने पढ़ लिया होता !

Koi khamosh hai itna bahane bhul aaya hun,
Kisi ki ek tarnum mein tarane bhul aaya hun,
Meri ab raah mat tkna kabhi-e-aasamaan walo,
Main ek chidiya ki aankh mein udaane bhul aaya hun.

कोई खामोश है इतना बहाने भूल आया हूँ,
किसी की इक तरनुम में तराने भूल आया हूँ,
मेरी अब राह मत तकना कभी ए आसमां वालो,
मैं इक चिड़िया की आँखों में उड़ाने भूल आया हूँ !

Humein do pal surure-ishq mein madhosh rahne do,
Jehan ki sidiyan utaaro aansman ye josh rahne do,
Tumhin kahte the ye maslein nazrein suljhi to suljenge,
Nazar ki baat hai to phir ye lab khamosh rahne do.

हमें दो पल सुरूरे-इश्क़ में मदहोश रहने दो,
ज़ेहन की सीढियाँ उतरो, अमां ये जोश रहने दो,
तुम्ही कहते थे ये मसले नज़र सुलझी तो सुलझेंगे,
नज़र की बात है तो फिर ये लब खामोश रहने दो !

Main uska hun wo is ehsaas se inkar karta hai,
Bhari mehfil mein bhi ruswah har baar karta hai,
Yakin hai saari duniya ko khafa hai mujhse wo lekin,
Mujhe maloom hai phir bhi mujhi se pyaar karta hai.

मैं उसका हूँ वो इस अहसास से इनकार करता है,
भरी महफ़िल में भी, रुसवा हर बार करता है,
यकीं है सारी दुनिया को, खफा है मुझसे वो लेकिन,
मुझे मालूम है फिर भी मुझी से प्यार करता है !

Abhi chalta hun raste ko manzil man lun kaise,
Masiha dil ko apni zid ka qatil man lun kaise,
Tumhari yaad ke aadim andhere mujh ko ghere hai,
Tumhare bin jo bite din unhein din man lun kaise.

अभी चलता हूँ, रस्ते को मैं मंजिल मान लूँ कैसे,
मसीहा दिल को अपनी जिद का कातिल मान लूँ कैसे,
तुम्हारी याद के आदिम अंधेरे मुझ को घेरे हैं,
तुम्हारे बिन जो बीते दिन उन्हें दिन मान लूँ कैसे !

Bharmr koi kumuduni par machal baitha to hangama,
Humhare dil mein koi khawab pal baitha to hangama,
Abhi tak dub kar sunte the sab ka kissa mohbbat ka,
Main kissa ko haqiqat mein badal baitha to hangama.

भ्रमर कोई कुमुदुनी पर मचल बैठा तो हंगामा,
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा,
अभी तक डूब कर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का,
मैं किस्से को हकीक़त में बदल बैठा तो हंगामा !

Kabhi koi jo khulkar hans liya do pal to hangama,
Koi khawabon mein aakar bas liya do pal to hangama
Main usse dur tha to shor tha sajish hai sajish hai,
Use bahon mein khulkar kas liya do pal to hangama.

कभी कोई जो खुलकर हंस लिया दो पल तो हंगामा,
कोई ख़्वाबों में आकर बस लिया दो पल तो हंगामा,
मैं उससे दूर था तो शोर था साजिश है, साजिश है,
उसे बाहों में खुलकर कस लिया दो पल तो हंगामा !

Jab aata hai jeewan mein khyalaton ka hangama,
Ye jazbaton mulaqaton hansi raaton ka hangama,
Jawani ke qayamat dor mein yeh sochate hai sab,
Ye hangame ki raatein hai ya raaton ka hangama.

जब आता है जीवन में खयालातों का हंगामा,
ये जज्बातों, मुलाकातों हंसी रातों का हंगामा,
जवानी के क़यामत दौर में यह सोचते हैं सब,
ये हंगामे की रातें हैं या है रातों का हंगामा !

Kalm ko khoon mein khud ke dubota hun to hangama,
Geereban apna aansoo mein bhigoota hun to hangama,
Nahi mujh par bhi jo khud ki khabar wo hai zamane par,
Main hansta hun to hangama main rota hun to hangama.

कल्म को खून में खुद के डुबोता हूँ तो हंगामा,
गिरेबां अपना आंसू में भिगोता हूँ तो हंगामा,
नही मुझ पर भी जो खुद की खबर वो है जमाने पर,
मैं हंसता हूँ तो हंगामा, मैं रोता हूँ तो हंगामा !

Ibarat se gunahon tak ki manzil mein hai hangama,
Zara si pee ke aaye bas to mehfil mein hai hangama,
Kabhi bachan jawani aur budhape mein hai hangama,
Jehan mein hai kabhi to phir kabhi dil mein hai hangama.

इबारत से गुनाहों तक की मंजिल में है हंगामा,
ज़रा-सी पी के आये बस तो महफ़िल में है हंगामा,
कभी बचपन, जवानी और बुढापे में है हंगामा,
जेहन में है कभी तो फिर कभी दिल में है हंगामा !

Huye paida to dharti par hua aabad hangama,
Jawani ko humhari kar gaya barbaad hangama,
Humhare bhal par takdir ne ye likh diya jaise,
Humhare samne hai aur humhare baad hangama.

हुए पैदा तो धरती पर हुआ आबाद हंगामा,
जवानी को हमारी कर गया बर्बाद हंगामा,
हमारे भाल पर तकदीर ने ये लिख दिया जैसे,
हमारे सामने है और हमारे बाद हंगामा !

Ye Urdu bazm hai aur main to Hindi maa ka jaya hun,
Jabanein mulk ki bahnen hai ye paigam laya hun,
Mujhe dugni mohabbat se suno Urdu jaban walon,
Main Hindi maa ka beta hun main ghar mosi ke aaya hun.

ये उर्दू बज़्म है और मैं तो हिंदी माँ का जाया हूँ,
ज़बानें मुल्क़ की बहनें हैं ये पैग़ाम लाया हूँ,
मुझे दुगनी मुहब्बत से सुनो उर्दू ज़बाँ वालों,
मैं हिंदी माँ का बेटा हूँ, मैं घर मौसी के आया हूँ !

Svayan se dur ho tum bhi svayan se dur hai hum bhi,
Bahut mashur ho tum bhi bahut mashur hai hum bhi,
Bade magrur ho tum bhi bade magrur hai hum bhi,
At majbur ho tum bhi at majbur hai hum bhi.

स्वयं से दूर हो तुम भी, स्वयं से दूर हैं हम भी,
बहुत मशहुर हो तुम भी, बहुत मशहुर हैं हम भी,
बड़े मगरूर हो तुम भी, बड़े मगरूर हैं हम भी,
अत: मजबूर हो तुम भी, अत: मजबूर हैं हम भी !

Harek tutn udasi ub aawara hi hoti hai,
Isi aawaargi mein pyaar ki shuruaat hoti hai,
Mere hansne ko usne bhi gunahon mein gina jiske,
Harek aansoo ko maine yun sambhala jaise moti hai.

हरेक टूटन, उदासी, ऊब आवारा ही होती है,
इसी आवारगी में प्यार की शुरुआत होती है,
मेरे हँसने को उसने भी गुनाहों में गिना जिसके,
हरेक आँसू को मैंने यूँ संभाला जैसे मोती है !

Kahin par jag liye tum bin kahin par so liye tun bin,
Bhari mehfil mein bhi aksar akele ho liye tum bin,
Ye pichale chand warshon ki kamai saath hai apne,
Kabhi to hans liye tum bin kabhi to ro liye tum bin.

कहीं पर जग लिए तुम बिन, कहीं पर सो लिए तुम बिन,
भरी महफिल में भी अक्सर, अकेले हो लिए तुम बिन,
ये पिछले चंद वर्षों की कमाई साथ है अपने,
कभी तो हंस लिए तुम बिन, कभी तो रो लिए तुम बिन !

Humein dil mein basakar apne ghar jaye to acha ho,
Humari baat sunlein aur thahar jaye to acha ho,
Ye sari sham jab nazron hi nazron mein bita di hai,
Toh kuchh pal aur aankhon mein guzar jaye to acha ho.

हमें दिल में बसाकर अपने घर जाएं तो अच्छा हो,
हमारी बात सुनलें और ठहर जाएं तो अच्छा हो,
ये सारी शाम जाब नज़रों ही नज़रो में बिता दी है,
तो कुछ पल और आँखों में गुज़र जाएँ तो अच्छा हो !

Basti-basti ghor udasi parwat-parwat khalipan,
Man hira be-mol lut gaya rota ghis-ghis ri tatan chandan,
Is dharti se us ambar tak do hi chiz gajab ki hai,
Ek to tera bholapan hai ek mera deewanapan.

बस्ती-बस्ती घोर उदासी पर्वत-पर्वत खालीपन,
मन हीरा बे-मोल लुट गया रोता घिस-घिस री तातन चन्दन,
इस धरती से उस अम्बर तक दो ही चीज गजब की हैं,
एक तो तेरा भोलापन है एक मेरा दीवानापन !

-Kumar Vishwas Poem

 

Ek Pagli Ladki Ke Bin..

Ek Pagli Ladki Ke Bin

Ek Pagli Ladki Ke Bin..

Amawas ki kaali raaton mein dil ka darwaja khulta hai,
Jab dard ki kaali raaton mein gham ansoon ke sang ghulta hain,
Jab pichwade ke kamre mein hum nipat akele hote hain,
Jab ghadiyan tik-tik chalti hain, sab sote hain, Hum rote hain,
Jab baar baar dohrane se sari yaadein chuk jati hain,
Jab unch-nich samjhane mein mathe ki nas dukh jati hain
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai..

अमावस की काली रातों में दिल का दरवाजा खुलता है,
जब दर्द की काली रातों में गम आंसू के संग घुलता है,
जब पिछवाड़े के कमरे में हम निपट अकेले होते हैं,
जब घड़ियाँ टिक-टिक चलती हैं, सब सोते हैं, हम रोते हैं,
जब बार-बार दोहराने से सारी यादें चुक जाती हैं,
जब ऊँच-नीच समझाने में माथे की नस दुःख जाती है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Jab pothe khali hote hain, jab harf sawali hote hain,
Jab ghazalein ras nahi aati, afsane gali hote hain
Jab basi fiki dhoop sametein din jaldi dhal jta hai,
Jab sooraj ka laskhar chhat se galiyon mein der se jata hai,
Jab jaldi ghar jane ki ichha man hi man ghut jati hai,
Jab college se ghar lane wali pahli bus chhut jati hai,
Jab be-man se khana khane par maa gussa ho jati hai,
Jab lakh mana karne par bhi paaro padhne aa jati hai,
Jab apna har man-chaha kaam koi lachari lagta hai,
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai..

जब पोथे खाली होते है, जब हर्फ़ सवाली होते हैं,
जब गज़लें रास नही आती, अफ़साने गाली होते हैं,
जब बासी फीकी धूप समेटे दिन जल्दी ढल जता है,
जब सूरज का लश्कर छत से गलियों में देर से जाता है,
जब जल्दी घर जाने की इच्छा मन ही मन घुट जाती है,
जब कालेज से घर लाने वाली पहली बस छुट जाती है,
जब बे-मन से खाना खाने पर माँ गुस्सा हो जाती है,
जब लाख मन करने पर भी पारो पढ़ने आ जाती है,
जब अपना हर मन-चाहा काम कोई लाचारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Jab kamre mein sannate ki aawaz sunai deti hai,
Jab darpan mein aankhon ke niche jhai dikhai deti hai
Jab badki bhabhi kahti hai, kuchh sehat ka bhi dhyan karo,
Kya likhte ho din-bhar, kuchh sapnon ka bhi samman karo,
Jab baba wali baithak mein kuchh rishte wale aate hain,
Jab baba hamein bulate hain, hum jate mein ghabrate hain,
Jab saari pahne ek ladki ka ek photo laya jata hai,
Jab bhabhi hamein manati hai, photo dikhlaya jata hai,
Jab sarein ghar ka samjhana humko fankari lagta hai,
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhaari lagta hai..

जब कमरे में सन्नाटे की आवाज़ सुनाई देती है,
जब दर्पण में आंखों के नीचे झाई दिखाई देती है,
जब बड़की भाभी कहती हैं, कुछ सेहत का भी ध्यान करो,
क्या लिखते हो दिन-भर, कुछ सपनों का भी सम्मान करो,
जब बाबा वाली बैठक में कुछ रिश्ते वाले आते हैं,
जब बाबा हमें बुलाते है, हम जाते में घबराते हैं,
जब साड़ी पहने एक लड़की का फोटो लाया जाता है,
जब भाभी हमें मनाती हैं, फोटो दिखलाया जाता है,
जब सारे घर का समझाना हमको फनकारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Didi kahti hai us pagli ladki ki kuchh aukat nahi,
Uske dil mein bhaiiya tere jaise pyare jazbat nahi,
Woh pagli ladki meri khatir nau din bhukhi rahti hai,
Chup-chup sare warat karti hai, magar mujhse kuchh na kahti hai,
Jo pagli ladki kahti hai, main pyar tumhi se karti hoon,
Lekin main hun majbur bahut, amma-baba se darti hun,
Us pagli ladki par apna kuchh bhi adhikar nahi baba,
Sab katha-kahani kisse hai, kuchh bhi to saar nahi baba
Bas us pagli ladki ke sang jina fulwari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai.. !!

दीदी कहती हैं उस पगली लडकी की कुछ औकात नहीं,
उसके दिल में भैया तेरे जैसे प्यारे जज़्बात नहीं,
वो पगली लड़की मेरी खातिर नौ दिन भूखी रहती है,
चुप चुप सारे व्रत करती है, मगर मुझसे कुछ ना कहती है,
जो पगली लडकी कहती है, मैं प्यार तुम्ही से करती हूँ,
लेकिन मैं हूँ मजबूर बहुत, अम्मा-बाबा से डरती हूँ,
उस पगली लड़की पर अपना कुछ भी अधिकार नहीं बाबा,
सब कथा-कहानी-किस्से हैं, कुछ भी तो सार नहीं बाबा,
बस उस पगली लडकी के संग जीना फुलवारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..!!

-Kumar Vishwas Poem

 

Kya Jaane Kis Ki Pyas Bujhane Kidhar Gayi..

Kya jaane kis ki pyas bujhane kidhar gayi,
Is sar pe jhum ke jo ghatayen guzar gayi.

Diwana puchhta hai ye lahron se bar-bar,
Kuchh bastiyan yahan thi batao kidhar gayi.

Ab jis taraf se chahe guzar jaye carvaan,
Viraniyan to sab mere dil mein utar gayi.

Paimana tutne ka koi gham nahi mujhe,
Gham hai to ye ki chandni raatein bikhar gayi.

Paya bhi un ko kho bhi diya chup bhi ho rahe,
Ek mukhtasar si raat mein sadiyan guzar gayi. !!

क्या जाने किस की प्यास बुझाने किधर गईं,
इस सर पे झूम के जो घटाएँ गुज़र गईं !

दीवाना पूछता है ये लहरों से बार-बार,
कुछ बस्तियाँ यहाँ थीं बताओ किधर गईं !

अब जिस तरफ़ से चाहे गुज़र जाए कारवाँ,
वीरानियाँ तो सब मेरे दिल में उतर गईं !

पैमाना टूटने का कोई ग़म नहीं मुझे,
ग़म है तो ये कि चाँदनी रातें बिखर गईं !

पाया भी उन को खो भी दिया चुप भी हो रहे,
एक मुख़्तसर सी रात में सदियाँ गुज़र गईं !!

-Kaifi Azmi Ghazal / Poetry