Poetry Types Gham

Hum Ne Kati Hain Teri Yaad Mein Raaten Aksar..

Hum Ne Kati Hain Teri Yaad Mein Raaten Aksar.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Hum ne kati hain teri yaad mein raaten aksar,
Dil se guzri hain sitaron ki baraaten aksar.

Aur to kaun hai jo mujh ko tasalli deta,
Haath rakh deti hain dil par teri baaten aksar.

Husn shaista-e-tahzib-e-alam hai shayed,
Gham-zada lagti hain kyun chandni raaten aksar.

Haal kahna hai kisi se to mukhatab hai koi,
Kitni dilchasp hua karti hain baaten aksar.

Ishq rahzan na sahi ishq ke hathon phir bhi,
Hum ne lutti hui dekhi hain baraten aksar.

Hum se ek bar bhi jita hai na jitega koi,
Wo to hum jaan ke kha lete hain maten aksar.

Un se puchho kabhi chehre bhi padhe hain tum ne,
Jo kitabon ki kiya karte hain baaten aksar.

Hum ne un tund-hawaon mein jalaye hain charagh,
Jin hawaon ne ulat di hain bisaten aksar. !!

हम ने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर.. “जान निसार अख्तर” कविता हिंदी में !

हम ने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर,
दिल से गुज़री हैं सितारों की बरातें अक्सर !

और तो कौन है जो मुझ को तसल्ली देता,
हाथ रख देती हैं दिल पर तेरी बातें अक्सर !

हुस्न शाइस्ता-ए-तहज़ीब-ए-अलम है शायद,
ग़म-ज़दा लगती हैं क्यूँ चाँदनी रातें अक्सर !

हाल कहना है किसी से तो मुख़ातब है कोई,
कितनी दिलचस्प हुआ करती हैं बातें अक्सर !

इश्क़ रहज़न न सही इश्क़ के हाथों फिर भी,
हम ने लुटती हुई देखी हैं बरातें अक्सर !

हम से एक बार भी जीता है न जीतेगा कोई,
वो तो हम जान के खा लेते हैं मातें अक्सर !

उन से पूछो कभी चेहरे भी पढ़े हैं तुम ने,
जो किताबों की किया करते हैं बातें अक्सर !

हम ने उन तुंद-हवाओं में जलाए हैं चराग़,
जिन हवाओं ने उलट दी हैं बिसातें अक्सर !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Achchha Hai Un Se Koi Taqaza Kiya Na Jaye..

Achchha Hai Un Se Koi Taqaza Kiya Na Jaye.. Jan Nisar Akhtar Poetry

Achchha hai un se koi taqaza kiya na jaye,
Apni nazar mein aap ko ruswa kiya na jaye.

Hum hain tera khayal hai tera jamal hai,
Ek pal bhi apne aap ko tanha kiya na jaye.

Uthne ko uth to jayen teri anjuman se hum,
Par teri anjuman ko bhi suna kiya na jaye.

Un ki rawish juda hai hamari rawish juda,
Hum se to baat baat pe jhagda kiya na jaye.

Har-chand aitbar mein dhokhe bhi hain magar,
Ye to nahi kisi pe bharosa kiya na jaye.

Lahja bana ke baat karen un ke samne,
Hum se to is tarah ka tamasha kiya na jaye.

Inam ho khitab ho waise mile kahan,
Jab tak sifarishon ko ikattha kiya na jaye.

Is waqt hum se puchh na gham rozgar ke,
Hum se har ek ghunt ko kadwa kiya na jaye. !!

अच्छा है उन से कोई तक़ाज़ा किया न जाए,
अपनी नज़र में आप को रुस्वा किया न जाए !

हम हैं तेरा ख़याल है तेरा जमाल है,
एक पल भी अपने आप को तन्हा किया न जाए !

उठने को उठ तो जाएँ तेरी अंजुमन से हम,
पर तेरी अंजुमन को भी सूना किया न जाए !

उन की रविश जुदा है हमारी रविश जुदा,
हम से तो बात बात पे झगड़ा किया न जाए !

हर-चंद ऐतबार में धोखे भी हैं मगर,
ये तो नहीं किसी पे भरोसा किया न जाए !

लहजा बना के बात करें उन के सामने,
हम से तो इस तरह का तमाशा किया न जाए !

ईनाम हो ख़िताब हो वैसे मिले कहाँ,
जब तक सिफ़ारिशों को इकट्ठा किया न जाए !

इस वक़्त हम से पूछ न ग़म रोज़गार के,
हम से हर एक घूँट को कड़वा किया न जाए !!

-Jan Nisar Akhtar Ghazals / Poetry

 

Hum Se Bhaga Na Karo Dur Ghazalon Ki Tarah..

Hum Se Bhaga Na Karo Dur Ghazalon Ki Tarah..  Jan Nisar Akhtar Poetry

Hum se bhaga na karo dur ghazalon ki tarah,
Hum ne chaha hai tumhein chahne walon ki tarah.

Khud-ba-khud nind si aankhon mein ghuli jati hai,
Mahki mahki hai shab-e-gham tere baalon ki tarah.

Tere bin raat ke hathon pe ye taron ke ayagh,
Khub-surat hain magar zahar ke pyalon ki tarah.

Aur kya is se ziyaada koi narmi bartun,
Dil ke zakhmon ko chhua hai tere galon ki tarah.

Gungunate hue aur aa kabhi un sinon mein,
Teri khatir jo mahakte hain shiwalon ki tarah.

Teri zulfen teri aankhen tere abru tere lab,
Ab bhi mashhur hain duniya mein misalon ki tarah.

Hum se mayus na ho aye shab-e-dauran ki abhi,
Dil mein kuch dard chamakte hain ujalon ki tarah.

Mujh se nazren to milao ki hazaron chehre,
Meri aankhon mein sulagte hain sawalon ki tarah.

Aur to mujh ko mila kya meri mehnat ka sila,
Chand sikke hain mere hath mein chhaalon ki tarah.

Justuju ne kisi manzil pe thaharne na diya,
Hum bhatakte rahe aawara khayalon ki tarah.

Zindagi jis ko tera pyar mila wo jaane,
Hum to nakaam rahe chahne walon ki tarah. !!

Hum Se Bhaga Na Karo Dur Ghazalon Ki Tarah..  Jan Nisar Akhtar Poetry In Hindi Language

हम से भागा न करो दूर ग़ज़ालों की तरह,
हम ने चाहा है तुम्हें चाहने वालों की तरह !

ख़ुद-ब-ख़ुद नींद सी आँखों में घुली जाती है,
महकी महकी है शब-ए-ग़म तेरे बालों की तरह !

तेरे बिन रात के हाथों पे ये तारों के अयाग़,
ख़ूब-सूरत हैं मगर ज़हर के प्यालों की तरह !

और क्या इस से ज़ियादा कोई नरमी बरतूँ,
दिल के ज़ख़्मों को छुआ है तेरे गालों की तरह !

गुनगुनाते हुए और आ कभी उन सीनों में,
तेरी ख़ातिर जो महकते हैं शिवालों की तरह !

तेरी ज़ुल्फ़ें तेरी आँखें तेरे अबरू तेरे लब,
अब भी मशहूर हैं दुनिया में मिसालों की तरह !

हम से मायूस न हो ऐ शब-ए-दौराँ कि अभी,
दिल में कुछ दर्द चमकते हैं उजालों की तरह !

मुझ से नज़रें तो मिलाओ कि हज़ारों चेहरे,
मेरी आँखों में सुलगते हैं सवालों की तरह !

और तो मुझ को मिला क्या मेरी मेहनत का सिला,
चंद सिक्के हैं मेरे हाथ में छालों की तरह !

जुस्तुजू ने किसी मंज़िल पे ठहरने न दिया,
हम भटकते रहे आवारा ख़यालों की तरह !

ज़िंदगी जिस को तेरा प्यार मिला वो जाने,
हम तो नाकाम रहे चाहने वालों की तरह !!

-Jan Nisar Akhtar Ghazal / Urdu Poetry

 

Agar Dil Waqif-E-Nairangi-E-Tab-E-Sanam Hota

Agar dil waqif-e-nairangi-e-tab-e-sanam hota,
Zamane ki do-rangi ka use hargiz na gham hota.

Ye paband-e-musibat dil ke hathon hum to rahte hain,
Nahi to chain se kati na dil hota na gham hota.

Unhin ki bewafai ka ye hai aathon pahar sadma,
Wahi hote jo qabu mein to phir kahe ko gham hota.

Lab-o-chashm-e-sanam gar dekhne pate kahin shair,
Koi shirin-sukhan hota koi jadu-raqam hota.

Bahut achchha hua aaye na wo meri ayaadat ko,
Jo wo aate to ghair aate jo ghair aate to gham hota.

Agar qabren nazar aatin na dara-o-sikandar ki,
Mujhe bhi ishtiyaq-e-daulat-o-jah-o-hasham hota.

Liye jata hai josh-e-shauq hum ko rah-e-ulfat mein,
Nahi to zoaf se dushwar chalna do-qadam hota.

Na rahne paye diwaron mein rauzan shukr hai warna,
Tumhein to dil-lagi hoti gharibon par sitam hota. !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Khushi Hai Sab Ko Ki Operation Mein Khub Nishtar Ye Chal Raha Hai

Khushi hai sab ko ki operation mein khub nishtar ye chal raha hai,
Kisi ko is ki khabar nahi hai mariz ka dam nikal raha hai.

Fana isi rang par hai qaim falak wahi chaal chal raha hai,
Shikasta o muntashir hai wo kal jo aaj sanche mein dhal raha hai.

Ye dekhte ho jo kasa-e-sar ghurur-e-ghaflat se kal tha mamlu,
Yahi badan naz se pala tha jo aaj mitti mein gal raha hai.

Samajh ho jis ki baligh samjhe nazar ho jis ki wasia dekhe,
Abhi yahan khak bhi udegi jahan ye qulzum ubal raha hai.

Kahan ka sharqi kahan ka gharbi tamam dukh sukh hai ye masawi,
Yahan bhi ek ba-murad khush hai wahan bhi ek gham se jal raha hai.

Uruj-e-qaumi zawal-e-qaumi khuda ki qudrat ke hain karishme,
Hamesha radd-o-badal ke andar ye amr political raha hai.

Maza hai speech ka dinner mein khabar ye chhapti hai pioneer mein,
Falak ki gardish ke sath hi sath kaam yaron ka chal raha hai. !!

ख़ुशी है सब को कि ऑपरेशन में ख़ूब निश्तर ये चल रहा है,
किसी को इस की ख़बर नहीं है मरीज़ का दम निकल रहा है !

फ़ना इसी रंग पर है क़ाइम फ़लक वही चाल चल रहा है,
शिकस्ता ओ मुंतशिर है वो कल जो आज साँचे में ढल रहा है !

ये देखते हो जो कासा-ए-सर ग़ुरूर-ए-ग़फ़लत से कल था ममलू,
यही बदन नाज़ से पला था जो आज मिट्टी में गल रहा है !

समझ हो जिस की बलीग़ समझे नज़र हो जिस की वसीअ देखे,
अभी यहाँ ख़ाक भी उड़ेगी जहाँ ये क़ुल्ज़ुम उबल रहा है !

कहाँ का शर्क़ी कहाँ का ग़र्बी तमाम दुख सुख है ये मसावी,
यहाँ भी इक बा-मुराद ख़ुश है वहाँ भी इक ग़म से जल रहा है !

उरूज-ए-क़ौमी ज़वाल-ए-क़ौमी ख़ुदा की क़ुदरत के हैं करिश्मे,
हमेशा रद्द-ओ-बदल के अंदर ये अम्र पोलिटिकल रहा है !

मज़ा है स्पीच का डिनर में ख़बर ये छपती है पाइनियर में,
फ़लक की गर्दिश के साथ ही साथ काम यारों का चल रहा है !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Na Ruh-E-Mazhab Na qalb-E-Arif Na Shairana Zaban Baqi

Na ruh-e-mazhab na qalb-e-arif na shairana zaban baqi,
Zameen hamari badal gayi hai agarche hai aasman baqi.

Shab-e-guzishta ke saz o saman ke ab kahan hain nishan baqi,
Zaban-e-shama-e-sahar pe hasrat ki rah gayi dastan baqi.

Jo zikr aata hai aakhirat ka to aap hote hain saf munkir,
Khuda ki nisbat bhi dekhta hun yakin rukhsat guman baqi.

Fuzul hai un ki bad-dimaghi kahan hai fariyaad ab labon par,
Ye war par war ab abas hain kahan badan mein hai jaan baqi.

Main apne mitne ke gham mein nalan udhar zamana hai shad o khandan,
Ishaara karti hai chashm-e-dauran jo aan baqi jahan baqi.

Isi liye rah gayi hain aankhen ki mere mitne ka rang dekhen,
Sunun wo baaten jo hosh udayen isi liye hain ye kan baqi.

Tajjub aata hai tifl-e-dil par ki ho gaya mast-e-nazm-e-“Akbar“,
Abhi middle pas tak nahi hai bahut se hain imtihan baqi. !!

 

Hun Main Parwana Magar Shama To Ho Raat To Ho

Hun main parwana magar shama to ho raat to ho,
Jaan dene ko hun maujud koi baat to ho.

Dil bhi hazir sar-e-taslim bhi kham ko maujud,
Koi markaz ho koi qibla-e-hajat to ho.

Dil to bechain hai izhaar-e-iradat ke liye,
Kisi jaanib se kuch izhaar-e-karamat to ho.

Dil-kusha baada-e-safi ka kise zauq nahi,
Baatin-afroz koi pir-e-kharabaat to ho.

Guftani hai dil-e-pur-dard ka qissa lekin,
Kis se kahiye koi mustafsir-e-haalat to ho.

Dastan-e-gham-e-dil kaun kahe kaun sune,
Bazm mein mauqa-e-izhaar-e-khayalat to ho.

Wade bhi yaad dilate hain gile bhi hain bahut,
Wo dikhai bhi to den un se mulaqat to ho.

Koi waiz nahi fitrat se balaghat mein siwa,
Magar insan mein kuch fahm-e-ishaaraat to ho. !!

हूँ मैं परवाना मगर शम्मा तो हो रात तो हो,
जान देने को हूँ मौजूद कोई बात तो हो !

दिल भी हाज़िर सर-ए-तस्लीम भी ख़म को मौजूद,
कोई मरकज़ हो कोई क़िबला-ए-हाजात तो हो !

दिल तो बेचैन है इज़हार-ए-इरादत के लिए,
किसी जानिब से कुछ इज़हार-ए-करामात तो हो !

दिल-कुशा बादा-ए-साफ़ी का किसे ज़ौक़ नहीं,
बातिन-अफ़रोज़ कोई पीर-ए-ख़राबात तो हो !

गुफ़्तनी है दिल-ए-पुर-दर्द का क़िस्सा लेकिन,
किस से कहिए कोई मुस्तफ़्सिर-ए-हालात तो हो !

दास्तान-ए-ग़म-ए-दिल कौन कहे कौन सुने,
बज़्म में मौक़ा-ए-इज़हार-ए-ख़यालात तो हो !

वादे भी याद दिलाते हैं गिले भी हैं बहुत,
वो दिखाई भी तो दें उन से मुलाक़ात तो हो !

कोई वाइज़ नहीं फ़ितरत से बलाग़त में सिवा,
मगर इंसान में कुछ फ़हम-ए-इशारात तो हो !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Wo Hawa Na Rahi Wo Chaman Na Raha Wo Gali Na Rahi Wo Hasin Na Rahe

Wo hawa na rahi wo chaman na raha wo gali na rahi wo hasin na rahe,
Wo falak na raha wo saman na raha wo makan na rahe wo makin na rahe.

Wo gulon mein gulon ki si bu na rahi wo azizon mein lutf ki khu na rahi,
Wo hasinon mein rang-e-wafa na raha kahen aur ki kya wo hamin na rahe.

Na wo aan rahi na umang rahi na wo rindi o zohd ki jang rahi,
Su-e-qibla nigahon ke rukh na rahe aur dar pe naqsh-e-jabin na rahe.

Na wo jam rahe na wo mast rahe na fidai-e-ahd-e-alast rahe,
Wo tariqa-e-kar-e-jahan na raha wo mashaghil-e-raunaq-e-din na rahe.

Hamein lakh zamana lubhaye to kya naye rang jo charkh dikhaye to kya,
Ye muhaal hai ahl-e-wafa ke liye gham-e-millat o ulfat-e-din na rahe.

Tere kucha-e-zulf mein dil hai mera ab use main samajhta hun dam-e-bala,
Ye ajib sitam hai ajib jafa ki yahan na rahe to kahin na rahe.

Ye tumhaare hi dam se hai bazm-e-tarab abhi jao na tum na karo ye ghazab,
Koi baith ke lutf uthayega kya ki jo raunaq-e-bazm tumhin na rahe.

Jo thin chashm-e-falak ki bhi nur-e-nazar wahi jin pe nisar the shams o qamar,
So ab aisi miti hain wo anjumanen ki nishan bhi un ke kahin na rahe.

Wahi suraten rah gain pesh-e-nazar jo zamane ko pheren idhar se udhar,
Magar aise jamal-e-jahan-ara jo the raunaq-e-ru-e-zamin na rahe.

Gham o ranj mein “Akbar” agar hai ghira to samajh le ki ranj ko bhi hai fana,
Kisi shai ko nahi hai jahan mein baqa wo ziyaada malul o hazin na rahe. !!

वो हवा न रही वो चमन न रहा वो गली न रही वो हसीं न रहे,
वो फ़लक न रहा वो समाँ न रहा वो मकाँ न रहे वो मकीं न रहे !

वो गुलों में गुलों की सी बू न रही वो अज़ीज़ों में लुत्फ़ की ख़ू न रही,
वो हसीनों में रंग-ए-वफ़ा न रहा कहें और की क्या वो हमीं न रहे !

न वो आन रही न उमंग रही न वो रिंदी ओ ज़ोहद की जंग रही,
सू-ए-क़िबला निगाहों के रुख़ न रहे और दर पे नक़्श-ए-जबीं न रहे !

न वो जाम रहे न वो मस्त रहे न फ़िदाई-ए-अहद-ए-अलस्त रहे,
वो तरीक़ा-ए-कार-ए-जहाँ न रहा वो मशाग़िल-ए-रौनक़-ए-दीं न रहे !

हमें लाख ज़माना लुभाए तो क्या नए रंग जो चर्ख़ दिखाए तो क्या,
ये मुहाल है अहल-ए-वफ़ा के लिए ग़म-ए-मिल्लत ओ उल्फ़त-ए-दीं न रहे !

तेरे कूचा-ए-ज़ुल्फ़ में दिल है मेरा अब उसे मैं समझता हूँ दाम-ए-बला,
ये अजीब सितम है अजीब जफ़ा कि यहाँ न रहे तो कहीं न रहे !

ये तुम्हारे ही दम से है बज़्म-ए-तरब अभी जाओ न तुम न करो ये ग़ज़ब,
कोई बैठ के लुत्फ़ उठाएगा क्या कि जो रौनक़-ए-बज़्म तुम्हीं न रहे !

जो थीं चश्म-ए-फ़लक की भी नूर-ए-नज़र वही जिन पे निसार थे शम्स ओ क़मर,
सो अब ऐसी मिटी हैं वो अंजुमनें कि निशान भी उन के कहीं न रहे !

वही सूरतें रह गईं पेश-ए-नज़र जो ज़माने को फेरें इधर से उधर,
मगर ऐसे जमाल-ए-जहाँ-आरा जो थे रौनक़-ए-रू-ए-ज़मीं न रहे !

ग़म ओ रंज में “अकबर” अगर है घिरा तो समझ ले कि रंज को भी है फ़ना,
किसी शय को नहीं है जहाँ में बक़ा वो ज़ियादा मलूल ओ हज़ीं न रहे !!

 

Aah Jo Dil Se Nikali Jayegi..

Aah jo dil se nikali jayegi,
Kya samajhte ho ki khali jayegi.

Is nazakat par ye shamshir-e-jafa,
Aap se kyonkar sambhaali jayegi.

Kya gham-e-duniya ka dar mujh rind ko,
Aur ek botal chadha li jayegi.

Shaikh ki dawat mein mai ka kaam kya,
Ehtiyatan kuch manga li jayegi.

Yaad-e-abru mein hai “Akbar” mahw yun,
Kab teri ye kaj-khayali jayegi. !!

आह जो दिल से निकाली जाएगी,
क्या समझते हो कि ख़ाली जाएगी !

इस नज़ाकत पर ये शमशीर-ए-जफ़ा,
आप से क्यूँकर सँभाली जाएगी !

क्या ग़म-ए-दुनिया का डर मुझ रिंद को,
और एक बोतल चढ़ा ली जाएगी !

शैख़ की दावत में मय का काम क्या,
एहतियातन कुछ मँगा ली जाएगी !

याद-ए-अबरू में है “अकबर” महव यूँ,
कब तेरी ये कज-ख़याली जाएगी !!

 

Tere Jaisa Mera Bhi Haal Tha Na Sukun Tha Na Qarar Tha

Tere jaisa mera bhi haal tha na sukun tha na qarar tha,
Yahi umar thi mere ham-nashin ki kisi se mujh ko bhi pyar tha.

Main samajh raha hun teri kasak tera mera dard hai mushtarak,
Isi gham ka tu bhi asir hai isi dukh ka main bhi shikar tha.

Faqat ek dhun thi ki raat-din isi khwab-zar mein gum rahen,
Wo surur aisa surur tha wo khumar aisa khumar tha.

Kabhi lamha-bhar ki bhi guftugu meri us ke sath na ho saki,
Mujhe fursaten nahi mil sakin wo hawa ke rath par sawar tha.

Hum ajib tarz ke log the ki hamare aur hi rog the,
Main khizan mein us ka tha muntazir use intizar-e-bahaar tha.

Use padh ke tum na samajh sake ki meri kitab ke rup mein,
Koi qarz tha kai sal ka kai rat-jagon ka udhaar tha. !!

तेरे जैसा मेरा भी हाल था न सुकून था न क़रार था,
यही उम्र थी मेरे हम-नशीं कि किसी से मुझ को भी प्यार था !

मैं समझ रहा हूँ तेरी कसक तेरा मेरा दर्द है मुश्तरक,
इसी ग़म का तू भी असीर है इसी दुख का मैं भी शिकार था !

फ़क़त एक धुन थी कि रात-दिन इसी ख़्वाब-ज़ार में गुम रहें,
वो सुरूर ऐसा सुरूर था वो ख़ुमार ऐसा ख़ुमार था !

कभी लम्हा-भर की भी गुफ़्तुगू मेरी उस के साथ न हो सकी,
मुझे फ़ुर्सतें नहीं मिल सकीं वो हवा के रथ पर सवार था !

हम अजीब तर्ज़ के लोग थे कि हमारे और ही रोग थे,
मैं ख़िज़ाँ में उस का था मुंतज़िर उसे इंतिज़ार-ए-बहार था !

उसे पढ़ के तुम न समझ सके कि मेरी किताब के रूप में,
कोई क़र्ज़ था कई साल का कई रत-जगों का उधार था !!

-Aitbar Sajid Ghazal / Urdu Poetry