Poetry Types Gali

Na Humsafar Na Kisi Humnasheen Se Niklega..

Na humsafar na kisi humnasheen se niklega,
Hamare panw ka kanta hameen se niklega.

Main janta tha ki zahrila saanp ban ban kar,
Tera khulus meri aastin se niklega.

Isi gali mein wo bhukha faqir rahta tha,
Talash kije khazana yahin se niklega.

Buzurg kahte the ek waqt aayega jis din,
Jahan pe dubega sooraj wahin se niklega.

Guzishta sal ke zakhmon hare-bhare rahna,
Julus ab ke baras bhi yahin se niklega. !!

न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा,
हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा !

मैं जानता था कि ज़हरीला साँप बन बन कर,
तिरा ख़ुलूस मिरी आस्तीं से निकलेगा !

इसी गली में वो भूखा फ़क़ीर रहता था,
तलाश कीजे ख़ज़ाना यहीं से निकलेगा !

बुज़ुर्ग कहते थे इक वक़्त आएगा जिस दिन,
जहाँ पे डूबेगा सूरज वहीं से निकलेगा !

गुज़िश्ता साल के ज़ख़्मों हरे-भरे रहना,
जुलूस अब के बरस भी यहीं से निकलेगा !! -Rahat Indori Ghazal

 

Suna Hai Log Use Aankh Bhar Ke Dekhte Hain..

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain,
So us ke shehar mein kuchh din thahar ke dekhte hain.

Suna hai rabt hai us ko kharab-haalon se,
So apne aap ko barbaad kar ke dekhte hain.

Suna hai dard ki gahak hai chashm-e-naz us ki,
So hum bhi us ki gali se guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ko bhi hai shair-o-shayari se shaghaf,
So hum bhi moajize apne hunar ke dekhte hain.

Suna hai bole to baaton se phool jhadte hain,
Ye baat hai to chalo baat kar ke dekhte hain.

Suna hai raat use chand takta rahta hai,
Sitare baam-e-falak se utar ke dekhte hain.

Suna hai din ko use titliyan satati hain,
Suna hai raat ko jugnu thahar ke dekhte hain.

Suna hai hashr hain us ki ghazal si aankhen,
Suna hai us ko hiran dasht bhar ke dekhte hain.

Suna hai raat se badh kar hain kakulen us ki,
Suna hai sham ko saye guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ki siyah-chashmagi qayamat hai,
So us ko surma-farosh aah bhar ke dekhte hain.

Suna hai us ke labon se gulab jalte hain,
So hum bahaar pe ilzam dhar ke dekhte hain.

Suna hai aaina timsal hai jabin us ki,
Jo sada dil hain use ban-sanwar ke dekhte hain.

Suna hai jab se hamail hain us ki gardan mein,
Mizaj aur hi lal o guhar ke dekhte hain.

Suna hai chashm-e-tasawwur se dasht-e-imkan mein,
Palang zawiye us ki kamar ke dekhte hain.

Suna hai us ke badan ki tarash aisi hai,
Ki phool apni qabayen katar ke dekhte hain.

Wo sarw-qad hai magar be-gul-e-murad nahi,
Ki us shajar pe shagufe samar ke dekhte hain.

Bas ek nigah se lutta hai qafila dil ka,
So rah-rawan-e-tamanna bhi dar ke dekhte hain.

Suna hai us ke shabistan se muttasil hai bahisht,
Makin udhar ke bhi jalwe idhar ke dekhte hain.

Ruke to gardishen us ka tawaf karti hain,
Chale to us ko zamane thahar ke dekhte hain.

Kise nasib ki be-pairahan use dekhe,
Kabhi kabhi dar o diwar ghar ke dekhte hain.

Kahaniyan hi sahi sab mubaalghe hi sahi,
Agar wo khwab hai tabir kar ke dekhte hain.

Ab us ke shehar mein thahren ki kuch kar jayen,
Faraz” aao sitare safar ke dekhte hain. !!

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं,
सो उस के शहर में कुछ दिन ठहर के देखते हैं !

सुना है रब्त है उस को ख़राब-हालों से,
सो अपने आप को बरबाद कर के देखते हैं !

सुना है दर्द की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उस की,
सो हम भी उस की गली से गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस को भी है शेर-ओ-शायरी से शग़फ़,
सो हम भी मोजिज़े अपने हुनर के देखते हैं !

सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते हैं,
ये बात है तो चलो बात कर के देखते हैं !

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है,
सितारे बाम-ए-फ़लक से उतर के देखते हैं !

सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती हैं,
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते हैं !

सुना है हश्र हैं उस की ग़ज़ाल सी आँखें,
सुना है उस को हिरन दश्त भर के देखते हैं !

सुना है रात से बढ़ कर हैं काकुलें उस की,
सुना है शाम को साए गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस की सियह-चश्मगी क़यामत है,
सो उस को सुरमा-फ़रोश आह भर के देखते हैं !

सुना है उस के लबों से गुलाब जलते हैं,
सो हम बहार पे इल्ज़ाम धर के देखते हैं !

सुना है आइना तिमसाल है जबीं उस की,
जो सादा दिल हैं उसे बन-सँवर के देखते हैं !

सुना है जब से हमाइल हैं उस की गर्दन में,
मिज़ाज और ही लाल ओ गुहर के देखते हैं !

सुना है चश्म-ए-तसव्वुर से दश्त-ए-इम्काँ में,
पलंग ज़ाविए उस की कमर के देखते हैं !

सुना है उस के बदन की तराश ऐसी है,
कि फूल अपनी क़बाएँ कतर के देखते हैं !

वो सर्व-क़द है मगर बे-गुल-ए-मुराद नहीं,
कि उस शजर पे शगूफ़े समर के देखते हैं !

बस एक निगाह से लुटता है क़ाफ़िला दिल का,
सो रह-रवान-ए-तमन्ना भी डर के देखते हैं !

सुना है उस के शबिस्ताँ से मुत्तसिल है बहिश्त,
मकीं उधर के भी जल्वे इधर के देखते हैं !

रुके तो गर्दिशें उस का तवाफ़ करती हैं,
चले तो उस को ज़माने ठहर के देखते हैं !

किसे नसीब कि बे-पैरहन उसे देखे,
कभी कभी दर ओ दीवार घर के देखते हैं !

कहानियाँ ही सही सब मुबालग़े ही सही,
अगर वो ख़्वाब है ताबीर कर के देखते हैं !

अब उस के शहर में ठहरें कि कूच कर जाएँ,
फ़राज़” आओ सितारे सफ़र के देखते हैं !!

 

Hans Ke Bola Karo Bulaya Karo..

Hans ke bola karo bulaya karo,
Aap ka ghar hai aaya jaya karo.

Muskurahat hai husn ka zewar,
Muskurana na bhul jaya karo.

Had se badh kar hasin lagte ho,
Jhuthi kasmein zarur khaya karo.

Hukm karna bhi ek skhawat hai,
Humko khidmat koi bataya karo.

Baat karna bhi badshahat hai,
Baat karna na bhul jaya karo.

Taki duniya ki dil-kashi na ghate,
Nit-nae pairahan mein aaya karo.

Kitne sada-mizaj ho tum “Adam“,
Us gali mein bahut na jaya karo. !!

हंस के बोला करो बुलाया करो,
आप का घर है आया जाया करो !

मुस्कराहट है हुस्न का जेवर,
रूप बढ़ता है मुस्कुराया करो !

हद से बढ़ कर हसीन लगते हो,
झूठी कसमें जरूर खाया करो !

हुक्म करना भी एक सखावत है,
हमको खिदमत कोई बताया करो !

बात करना भी बादशाहत है,
बात करना न भूल जाया करो !

ताकि दुनिया की दिल-कशी न घटे,
नित-नए पैरहन में आया करो !

कितने सदा मिज़ाज हो तुम “अदम“,
उस गली में बहुत न जाया करो !!

 

Girte Hain Log Garmi-E-Bazar Dekh Kar..

Girte hain log garmi-e-bazar dekh kar,
Sarkar dekh kar meri sarkar dekh kar.

Aawargi ka shouk bhadakta hai aur bhi,
Teri gali ka saya-e-diwar dekh kar.

Taskin-e-dil ki ek hi tadbir hai faqat,
Sar phod lijiye koi diwar dekh kar.

Hum bhi gaye hain hosh se saqi kabhi kabhi,
Lekin teri nigah ke atwar dekh kar.

Kya mustaqil ilaj kiya dil ke dard ka,
Wo muskura diye mujhe bimar dekh kar.

Dekha kisi ki samt to kya ho gaya “Adam“,
Chalte hain rah-rau sar-e-bazar dekh kar. !!

गिरते हैं लोग गर्मी-ए-बाजार देख कर,
सरकार देख कर मेरी सरकार देख कर !

आवारगी का शौक भडकता है और भी,
तेरी गली का साया-ए-दीवार देख कर !

तस्कीन-ए-दिल की एक ही तद्बीर है फ़क़त,
सर फोड़ लीजिए कोई दीवार देख कर !

हम भी गए हैं होश से साक़ी कभी कभी,
लेकिन तेरी निग़ाह के ऐतवार देख कर !

क्या मुश्तकिल इलाज किया दिल के दर्द का,
वो मुस्कुरा दिए मुझे बीमार देख कर !

देखा किसी की सिम्त तो क्या हो गया “अदम“,
चलते हैं राह-रो सर-ए-बाजार देख कर !!

 

Tumhein Jine Mein Aasani Bahut Hai..

Tumhein jine mein aasani bahut hai,
Tumhare khoon mein pani bahut hai.

Kabutar ishq ka utre to kaise,
Tumhari chhat pe nigarani bahut hai.

Irada kar liya gar khud-kushi ka,
To khud ki aankh ka pani bahut hai.

Zahar suli ne gali goliyon ne,
Hamari zat pahchani bahut hai.

Tumhare dil ki man-mani meri jaan,
Hamare dil ne bhi mani bahut hai. !!

तुम्हें जीने में आसानी बहुत है,
तुम्हारे ख़ून में पानी बहुत है !

कबूतर इश्क़ का उतरे तो कैसे,
तुम्हारी छत पे निगरानी बहुत है !

इरादा कर लिया गर ख़ुद-कुशी का,
तो ख़ुद की आँख का पानी बहुत है !

ज़हर सूली ने गाली गोलियों ने,
हमारी ज़ात पहचानी बहुत है !

तुम्हारे दिल की मन-मानी मेरी जान,
हमारे दिल ने भी मानी बहुत है !!

-Kumar Vishwas Poem

 

Ek Pagli Ladki Ke Bin..

Ek Pagli Ladki Ke Bin

Ek Pagli Ladki Ke Bin..

Amawas ki kaali raaton mein dil ka darwaja khulta hai,
Jab dard ki kaali raaton mein gham ansoon ke sang ghulta hain,
Jab pichwade ke kamre mein hum nipat akele hote hain,
Jab ghadiyan tik-tik chalti hain, sab sote hain, Hum rote hain,
Jab baar baar dohrane se sari yaadein chuk jati hain,
Jab unch-nich samjhane mein mathe ki nas dukh jati hain
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai..

अमावस की काली रातों में दिल का दरवाजा खुलता है,
जब दर्द की काली रातों में गम आंसू के संग घुलता है,
जब पिछवाड़े के कमरे में हम निपट अकेले होते हैं,
जब घड़ियाँ टिक-टिक चलती हैं, सब सोते हैं, हम रोते हैं,
जब बार-बार दोहराने से सारी यादें चुक जाती हैं,
जब ऊँच-नीच समझाने में माथे की नस दुःख जाती है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Jab pothe khali hote hain, jab harf sawali hote hain,
Jab ghazalein ras nahi aati, afsane gali hote hain
Jab basi fiki dhoop sametein din jaldi dhal jta hai,
Jab sooraj ka laskhar chhat se galiyon mein der se jata hai,
Jab jaldi ghar jane ki ichha man hi man ghut jati hai,
Jab college se ghar lane wali pahli bus chhut jati hai,
Jab be-man se khana khane par maa gussa ho jati hai,
Jab lakh mana karne par bhi paaro padhne aa jati hai,
Jab apna har man-chaha kaam koi lachari lagta hai,
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai..

जब पोथे खाली होते है, जब हर्फ़ सवाली होते हैं,
जब गज़लें रास नही आती, अफ़साने गाली होते हैं,
जब बासी फीकी धूप समेटे दिन जल्दी ढल जता है,
जब सूरज का लश्कर छत से गलियों में देर से जाता है,
जब जल्दी घर जाने की इच्छा मन ही मन घुट जाती है,
जब कालेज से घर लाने वाली पहली बस छुट जाती है,
जब बे-मन से खाना खाने पर माँ गुस्सा हो जाती है,
जब लाख मन करने पर भी पारो पढ़ने आ जाती है,
जब अपना हर मन-चाहा काम कोई लाचारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Jab kamre mein sannate ki aawaz sunai deti hai,
Jab darpan mein aankhon ke niche jhai dikhai deti hai
Jab badki bhabhi kahti hai, kuchh sehat ka bhi dhyan karo,
Kya likhte ho din-bhar, kuchh sapnon ka bhi samman karo,
Jab baba wali baithak mein kuchh rishte wale aate hain,
Jab baba hamein bulate hain, hum jate mein ghabrate hain,
Jab saari pahne ek ladki ka ek photo laya jata hai,
Jab bhabhi hamein manati hai, photo dikhlaya jata hai,
Jab sarein ghar ka samjhana humko fankari lagta hai,
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhaari lagta hai..

जब कमरे में सन्नाटे की आवाज़ सुनाई देती है,
जब दर्पण में आंखों के नीचे झाई दिखाई देती है,
जब बड़की भाभी कहती हैं, कुछ सेहत का भी ध्यान करो,
क्या लिखते हो दिन-भर, कुछ सपनों का भी सम्मान करो,
जब बाबा वाली बैठक में कुछ रिश्ते वाले आते हैं,
जब बाबा हमें बुलाते है, हम जाते में घबराते हैं,
जब साड़ी पहने एक लड़की का फोटो लाया जाता है,
जब भाभी हमें मनाती हैं, फोटो दिखलाया जाता है,
जब सारे घर का समझाना हमको फनकारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Didi kahti hai us pagli ladki ki kuchh aukat nahi,
Uske dil mein bhaiiya tere jaise pyare jazbat nahi,
Woh pagli ladki meri khatir nau din bhukhi rahti hai,
Chup-chup sare warat karti hai, magar mujhse kuchh na kahti hai,
Jo pagli ladki kahti hai, main pyar tumhi se karti hoon,
Lekin main hun majbur bahut, amma-baba se darti hun,
Us pagli ladki par apna kuchh bhi adhikar nahi baba,
Sab katha-kahani kisse hai, kuchh bhi to saar nahi baba
Bas us pagli ladki ke sang jina fulwari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai.. !!

दीदी कहती हैं उस पगली लडकी की कुछ औकात नहीं,
उसके दिल में भैया तेरे जैसे प्यारे जज़्बात नहीं,
वो पगली लड़की मेरी खातिर नौ दिन भूखी रहती है,
चुप चुप सारे व्रत करती है, मगर मुझसे कुछ ना कहती है,
जो पगली लडकी कहती है, मैं प्यार तुम्ही से करती हूँ,
लेकिन मैं हूँ मजबूर बहुत, अम्मा-बाबा से डरती हूँ,
उस पगली लड़की पर अपना कुछ भी अधिकार नहीं बाबा,
सब कथा-कहानी-किस्से हैं, कुछ भी तो सार नहीं बाबा,
बस उस पगली लडकी के संग जीना फुलवारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..!!

-Kumar Vishwas Poem

 

Laayi Phir Ek Laghzish-E-Mastana Tere Shehar Mein..

Laayi phir ek laghzish-e-mastana tere shehar mein,
Phir banengi masjiden mai-khana tere shehar mein.

Aaj phir tutengi tere ghar ki nazuk khidkiyan,
Aaj phir dekha gaya diwana tere shehar mein.

Jurm hai teri gali se sar jhuka kar lautna,
Kufr hai pathrav se ghabrana tere shehar mein.

Shah-name likhe hain khandaraat ki har int par,
Har jagah hai dafn ek afsana tere shehar mein.

Kuchh kanizen jo harim-e-naz mein hain baryad,
Mangti hain jaan-o-dil nazrana tere shehar mein.

Nangi sadkon par bhatak kar dekh jab marti hai raat,
Rengta hai har taraf virana tere shehar mein. !!

लाई फिर इक लग़्ज़िश-ए-मस्ताना तेरे शहर में,
फिर बनेंगी मस्जिदें मय-ख़ाना तेरे शहर में !

आज फिर टूटेंगी तेरे घर की नाज़ुक खिड़कियाँ,
आज फिर देखा गया दीवाना तेरे शहर में !

जुर्म है तेरी गली से सर झुका कर लौटना,
कुफ़्र है पथराव से घबराना तेरे शहर में !

शाह-नामे लिक्खे हैं खंडरात की हर ईंट पर,
हर जगह है दफ़्न एक अफ़्साना तेरे शहर में !

कुछ कनीज़ें जो हरीम-ए-नाज़ में हैं बारयाब,
माँगती हैं जान-ओ-दिल नज़राना तेरे शहर में !

नंगी सड़कों पर भटक कर देख जब मरती है रात,
रेंगता है हर तरफ़ वीराना तेरे शहर में !!

-Kaifi Azmi Ghazal / Poetry

 

Aakhiri Baar Aah Kar Li Hai..

Aakhiri baar aah kar li hai,
Maine khud se nibaah kar li hai.

Apne sar ek bala to leni thi,
Maine wo zulf apne sar li hai.

Din bhala kis tarah guzaroge,
Wasl ki shab bhi ab guzar li hai.

Jaan-nisaron pe war kya karna,
Maine bas haath mein sipar li hai.

Jo bhi mango udhaar dunga main,
Us gali mein dukaan kar li hai.

Mera kashkol kab se khali tha,
Maine is mein sharab bhar li hai.

Aur to kuchh nahi kiya maine,
Apni haalat tabaah kar li hai.

Shaikh aaya tha mohtasib ko liye,
Maine bhi un ki wo khabar li hai. !!

आख़िरी बार आह कर ली है,
मैंने ख़ुद से निबाह कर ली है !

अपने सर इक बला तो लेनी थी,
मैंने वो ज़ुल्फ़ अपने सर ली है !

दिन भला किस तरह गुज़ारोगे,
वस्ल की शब भी अब गुज़र ली है !

जाँ-निसारों पे वार क्या करना,
मैंने बस हाथ में सिपर ली है !

जो भी माँगो उधार दूँगा मैं,
उस गली में दुकान कर ली है !

मेरा कश्कोल कब से ख़ाली था,
मैंने इस में शराब भर ली है !

और तो कुछ नहीं किया मैंने,
अपनी हालत तबाह कर ली है !

शैख़ आया था मोहतसिब को लिए,
मैंने भी उन की वो ख़बर ली है !!

-Jaun Elia Ghazal / Poetry

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Wah वह)

1.
Kisi bhi mod par tumse wafadari nahi hogi,
Humein maalum hai tum ko ye bimari nahi hogi.

किसी भी मोड़ पर तुमसे वफ़ादारी नहीं होगी,
हमें मालूम है तुम को ये बीमारी नहीं होगी !

2.
Neem ka ped tha barsaat thi aur jhula tha,
Gaon mein gujara jamana bhi ghazal jaisa tha.

नीम का पेड़ था बरसात थी और झूला था,
गाँव में गुज़रा ज़माना भी ग़ज़ल जैसा था !

3.
Hum kuch ase tere didar mein kho jate hain,
Jaise bachche bhare bazar mein kho jate hain.

हम कुछ ऐसे तेरे दीदार में खो जाते हैं,
जैसे बच्चे भरे बाज़ार में खो जाते हैं !

4.
Tujhe akele padhoon koi hum sabak na rahe,
Main chahata hun ki tujh par kisi ka haq na rahe.

तुझे अकेले पढ़ूँ कोई हम सबक न रहे,
मैं चाहता हूँ कि तुझ पर किसी का हक़ न रहे !

5.
Wo apne kandhon pe kunbe ka bojh rakhta hai,
Isiliye to qadam soch kar uthata hai.

वो अपने काँधों पे कुन्बे का बोझ रखता है,
इसीलिए तो क़दम सोच कर उठाता है !

6.
Aankhein to usko ghar se nikalne nahi deti,
Aansoo hai ki saamaan-e-safar baandhe hue hain.

आँखें तो उसको घर से निकलने नहीं देतीं,
आँसू हैं कि सामान-ए-सफ़र बाँधे हुए हैं !

7.
Safedi aa gayi baalon mein uske,
Wo baaizzat ghrana chahata tha.

सफ़ेदी आ गई बालों में उसके,
वो बाइज़्ज़त घराना चाहता था !

8.
Na jaane kaun si majburiyan pardes layi thi,
Wah jitni der tak zinda raha ghar yaad karta tha.

न जाने कौन सी मजबूरियाँ परदेस लाई थीं,
वह जितनी देर तक ज़िन्दा रहा घर याद करता था !

9.
Talash karte hain unko jaruraton wale,
Kahan gaye wo purane sharafaton wale.

तलाश करते हैं उनको ज़रूरतों वाले,
कहाँ गये वो पुराने शराफ़तों वाले !

10.
Wo khush hai ki bazar mein gali de di,
Main khush hun ehsan ki kimat nikal aayi.

वो ख़ुश है कि बाज़ार में गाली मुझे दे दी,
मैं ख़ुश हूँ एहसान की क़ीमत निकल आई !

11.
Use jali huyi lashein nazar nahi aati,
Magar wo sui se dhaga gujar deta hai.

उसे जली हुई लाशें नज़र नहीं आतीं,
मगर वो सूई से धागा गुज़ार देता है !

12.
Wo peharon baith kar tote se baatein karta rehta hai,
Chalo achcha hai ab nazarein badalna sikh jayega.

वो पहरों बैठ कर तोते से बातें करता रहता है,
चलो अच्छा है अब नज़रें बदलना सीख जायेगा !

13.
Use halat ne roka mujhe mere masayal ne,
Wafa ki rah mein dushwariyan dono taraf se hain.

उसे हालात ने रोका मुझे मेरे मसायल ने,
वफ़ा की राह में दुश्वारियाँ दोनों तरफ़ से हैं !

14.
Tujh se bichhada to pasand aa gayi betartibi,
Is se pehale mera kamara bhi ghazal jaisa tha.

तुझ से बिछड़ा तो पसंद आ गई बेतरतीबी,
इस से पहले मेरा कमरा भी ग़ज़ल जैसा था !

15.
Kahan ki hizaratein, kaisa safar, kaisa juda hona,
Kisi ki chah pairon mein duppata daal deti hai.

कहाँ की हिजरतें कैसा सफ़र कैसा जुदा होना,
किसी की चाह पैरों में दुपट्टा डाल देती है !

16.
Ghazal wo sinf-e-naajuk hai jise apni rafakat se,
Wo mahabuba bana leta hai main beti banata hun.

ग़ज़ल वो सिन्फ़-ए-नाज़ुक़ है जिसे अपनी रफ़ाक़त से,
वो महबूबा बना लेता है मैं बेटी बनाता हूँ !

17.
Wo ek gudiya jo mele mein kal dukan pe thi,
Dino ki baat hai pehale mere makan pe thi.

वो एक गुड़िया जो मेले में कल दुकान पे थी,
दिनों की बात है पहले मेरे मकान पे थी !

18.
Ladakpan mein kiye wade ki kimat kuch nahi hoti,
Anguthi hath mein rehti hai mangani tut jati hai.

लड़कपन में किए वादे की क़ीमत कुछ नहीं होती,
अँगूठी हाथ में रहती है मंगनी टूट जाती है !

19.
Wo jiske waaste pardesh ja raha hun main,
Bichhadte waqt usi ki taraf nahi dekha.

वो जिसके वास्ते परदेस जा रहा हूँ मैं,
बिछड़ते वक़्त उसी की तरफ़ नहीं देखा !

 

Phir Dil Se Aa Rahi Hai Sada Us Gali Mein Chal..

Phir dil se aa rahi hai sada us gali mein chal,
Shayad mile ghazal ka pata us gali mein chal.

Kab se nahi hua hai koi sher kaam ka,
Ye sher ki nahi hai faza us gali mein chal.

Woh baam-o-dar wo log wo ruswaiyon ke zakhm,
Hain sab ke sab aziz juda us gali mein chal.

Us phool ke baghair bahut ji udas hai,
Mujh ko bhi sath le ke saba us gali mein chal.

Duniya to chahti hai yunhi fasle rahen,
Duniya ke mashwaron pe na jaa us gali mein chal.

Be-nur o be-asar hai yahan ki sada-e-saz,
Tha us sukut mein bhi maza us gali mein chal.

Jalib” pukarti hain wo shola-nawaiyan,
Ye sard rut ye sard hawa us gali mein chal. !!

फिर दिल से आ रही है सदा उस गली में चल,
शायद मिले ग़ज़ल का पता उस गली में चल !

कब से नहीं हुआ है कोई शेर काम का,
ये शेर की नहीं है फ़ज़ा उस गली में चल !

वो बाम ओ दर वो लोग वो रुस्वाइयों के ज़ख़्म,
हैं सब के सब अज़ीज़ जुदा उस गली में चल !

उस फूल के बग़ैर बहुत जी उदास है,
मुझ को भी साथ ले के सबा उस गली में चल !

दुनिया तो चाहती है यूँही फ़ासले रहें,
दुनिया के मशवरों पे न जा उस गली में चल !

बे-नूर ओ बे-असर है यहाँ की सदा-ए-साज़,
था उस सुकूत में भी मज़ा उस गली में चल !

जालिब” पुकारती हैं वो शोला-नवाइयाँ,
ये सर्द रुत ये सर्द हवा उस गली में चल !!