Poetry Types Gali

Unhe Nigah Hai Apne Jamal Hi Ki Taraf

Unhe nigah hai apne jamal hi ki taraf – A Ghazal By Akbar Allahabadi

Unhe nigah hai apne jamal hi ki taraf,
Nazar utha ke nahi dekhte kisi ki taraf.

Tawajjoh apni ho kya fann-e-shairi ki taraf,
Nazar har ek ki jati hai aib hi ki taraf.

Likha hua hai jo rona mere muqaddar mein,
Khayal tak nahi jata kabhi hansi ki taraf.

Tumhaara saya bhi jo log dekh lete hain,
Wo aankh utha ke nahi dekhte pari ki taraf.

Bala mein phansta hai dil muft jaan jati hai,
Khuda kisi ko na le jaye us gali ki taraf.

Kabhi jo hoti hai takrar ghair se hum se,
To dil se hote ho dar-parda tum usi ki taraf.

Nigah padti hai un par tamam mehfil ki,
Wo aankh utha ke nahi dekhte kisi ki taraf.

Nigah us but-e-khud-bin ki hai mere dil par,
Na aaine ki taraf hai na aarsi ki taraf.

Qubul kijiye lillah tohfa-e-dil ko,
Nazar na kijiye is ki shikastagi ki taraf.

Yahi nazar hai jo ab qatil-e-zamana hui,
Yahi nazar hai ki uthti na thi kisi ki taraf.

Gharib-khana mein lillah do-ghadi baitho,
Bahut dinon mein tum aaye ho is gali ki taraf.

Zara si der hi ho jayegi to kya hoga,
Ghadi ghadi na uthao nazar ghadi ki taraf.

Jo ghar mein puchhe koi khauf kya hai kah dena,
Chale gaye the tahalte hue kisi ki taraf.

Hazar jalwa-e-husn-e-butan ho aye “Akbar“,
Tum apna dhyan lagaye raho usi ki taraf. !!

Unhe nigah hai apne jamal hi ki taraf In Hindi Language

उन्हें निगाह है अपने जमाल ही की तरफ़,
नज़र उठा के नहीं देखते किसी की तरफ़ !

तवज्जोह अपनी हो क्या फ़न्न-ए-शाइरी की तरफ़,
नज़र हर एक की जाती है ऐब ही की तरफ़ !

लिखा हुआ है जो रोना मेरे मुक़द्दर में,
ख़याल तक नहीं जाता कभी हँसी की तरफ़ !

तुम्हारा साया भी जो लोग देख लेते हैं,
वो आँख उठा के नहीं देखते परी की तरफ़ !

बला में फँसता है दिल मुफ़्त जान जाती है,
ख़ुदा किसी को न ले जाए उस गली की तरफ़ !

कभी जो होती है तकरार ग़ैर से हम से,
तो दिल से होते हो दर-पर्दा तुम उसी की तरफ़ !

निगाह पड़ती है उन पर तमाम महफ़िल की,
वो आँख उठा के नहीं देखते किसी की तरफ़ !

निगाह उस बुत-ए-ख़ुद-बीं की है मेरे दिल पर,
न आइने की तरफ़ है न आरसी की तरफ़ !

क़ुबूल कीजिए लिल्लाह तोहफ़ा-ए-दिल को,
नज़र न कीजिए इस की शिकस्तगी की तरफ़ !

यही नज़र है जो अब क़ातिल-ए-ज़माना हुई,
यही नज़र है कि उठती न थी किसी की तरफ़ !

ग़रीब-ख़ाना में लिल्लाह दो-घड़ी बैठो,
बहुत दिनों में तुम आए हो इस गली की तरफ़ !

ज़रा सी देर ही हो जाएगी तो क्या होगा,
घड़ी घड़ी न उठाओ नज़र घड़ी की तरफ़ !

जो घर में पूछे कोई ख़ौफ़ क्या है कह देना,
चले गए थे टहलते हुए किसी की तरफ़ !

हज़ार जल्वा-ए-हुस्न-ए-बुताँ हो ऐ “अकबर“,
तुम अपना ध्यान लगाए रहो उसी की तरफ़ !!

 

Wo Hawa Na Rahi Wo Chaman Na Raha Wo Gali Na Rahi Wo Hasin Na Rahe

Wo hawa na rahi wo chaman na raha wo gali na rahi wo hasin na rahe,
Wo falak na raha wo saman na raha wo makan na rahe wo makin na rahe.

Wo gulon mein gulon ki si bu na rahi wo azizon mein lutf ki khu na rahi,
Wo hasinon mein rang-e-wafa na raha kahen aur ki kya wo hamin na rahe.

Na wo aan rahi na umang rahi na wo rindi o zohd ki jang rahi,
Su-e-qibla nigahon ke rukh na rahe aur dar pe naqsh-e-jabin na rahe.

Na wo jam rahe na wo mast rahe na fidai-e-ahd-e-alast rahe,
Wo tariqa-e-kar-e-jahan na raha wo mashaghil-e-raunaq-e-din na rahe.

Hamein lakh zamana lubhaye to kya naye rang jo charkh dikhaye to kya,
Ye muhaal hai ahl-e-wafa ke liye gham-e-millat o ulfat-e-din na rahe.

Tere kucha-e-zulf mein dil hai mera ab use main samajhta hun dam-e-bala,
Ye ajib sitam hai ajib jafa ki yahan na rahe to kahin na rahe.

Ye tumhaare hi dam se hai bazm-e-tarab abhi jao na tum na karo ye ghazab,
Koi baith ke lutf uthayega kya ki jo raunaq-e-bazm tumhin na rahe.

Jo thin chashm-e-falak ki bhi nur-e-nazar wahi jin pe nisar the shams o qamar,
So ab aisi miti hain wo anjumanen ki nishan bhi un ke kahin na rahe.

Wahi suraten rah gain pesh-e-nazar jo zamane ko pheren idhar se udhar,
Magar aise jamal-e-jahan-ara jo the raunaq-e-ru-e-zamin na rahe.

Gham o ranj mein “Akbar” agar hai ghira to samajh le ki ranj ko bhi hai fana,
Kisi shai ko nahi hai jahan mein baqa wo ziyaada malul o hazin na rahe. !!

वो हवा न रही वो चमन न रहा वो गली न रही वो हसीं न रहे,
वो फ़लक न रहा वो समाँ न रहा वो मकाँ न रहे वो मकीं न रहे !

वो गुलों में गुलों की सी बू न रही वो अज़ीज़ों में लुत्फ़ की ख़ू न रही,
वो हसीनों में रंग-ए-वफ़ा न रहा कहें और की क्या वो हमीं न रहे !

न वो आन रही न उमंग रही न वो रिंदी ओ ज़ोहद की जंग रही,
सू-ए-क़िबला निगाहों के रुख़ न रहे और दर पे नक़्श-ए-जबीं न रहे !

न वो जाम रहे न वो मस्त रहे न फ़िदाई-ए-अहद-ए-अलस्त रहे,
वो तरीक़ा-ए-कार-ए-जहाँ न रहा वो मशाग़िल-ए-रौनक़-ए-दीं न रहे !

हमें लाख ज़माना लुभाए तो क्या नए रंग जो चर्ख़ दिखाए तो क्या,
ये मुहाल है अहल-ए-वफ़ा के लिए ग़म-ए-मिल्लत ओ उल्फ़त-ए-दीं न रहे !

तेरे कूचा-ए-ज़ुल्फ़ में दिल है मेरा अब उसे मैं समझता हूँ दाम-ए-बला,
ये अजीब सितम है अजीब जफ़ा कि यहाँ न रहे तो कहीं न रहे !

ये तुम्हारे ही दम से है बज़्म-ए-तरब अभी जाओ न तुम न करो ये ग़ज़ब,
कोई बैठ के लुत्फ़ उठाएगा क्या कि जो रौनक़-ए-बज़्म तुम्हीं न रहे !

जो थीं चश्म-ए-फ़लक की भी नूर-ए-नज़र वही जिन पे निसार थे शम्स ओ क़मर,
सो अब ऐसी मिटी हैं वो अंजुमनें कि निशान भी उन के कहीं न रहे !

वही सूरतें रह गईं पेश-ए-नज़र जो ज़माने को फेरें इधर से उधर,
मगर ऐसे जमाल-ए-जहाँ-आरा जो थे रौनक़-ए-रू-ए-ज़मीं न रहे !

ग़म ओ रंज में “अकबर” अगर है घिरा तो समझ ले कि रंज को भी है फ़ना,
किसी शय को नहीं है जहाँ में बक़ा वो ज़ियादा मलूल ओ हज़ीं न रहे !!

 

Aaj Zara Fursat Pai Thi Aaj Use Phir Yaad Kiya

Aaj zara fursat pai thi aaj use phir yaad kiya,
Band gali ke aakhiri ghar ko khol ke phir aabaad kiya,

Khol ke khidki chand hansa phir chand ne donon hathon se,
Rang udaye phool khilaye chidiyon ko aazad kiya.

Bade bade gham khade hue the rasta roke rahon mein,
Chhoti chhoti khushiyon se hi hum ne dil ko shad kiya.

Baat bahut mamuli si thi ulajh gayi takraron mein,
Ek zara si zid ne aakhir donon ko barbaad kiya.

Danaon ki baat na mani kaam aai nadani hi,
Suna hawa ko padha nadi ko mausam ko ustad kiya. !!

आज ज़रा फ़ुर्सत पाई थी आज उसे फिर याद किया,
बंद गली के आख़िरी घर को खोल के फिर आबाद किया !

खोल के खिड़की चाँद हँसा फिर चाँद ने दोनों हाथों से,
रंग उड़ाए फूल खिलाए चिड़ियों को आज़ाद किया !

बड़े बड़े ग़म खड़े हुए थे रस्ता रोके राहों में,
छोटी छोटी ख़ुशियों से ही हम ने दिल को शाद किया !

बात बहुत मामूली सी थी उलझ गई तकरारों में,
एक ज़रा सी ज़िद ने आख़िर दोनों को बरबाद किया !

दानाओं की बात न मानी काम आई नादानी ही,
सुना हवा को पढ़ा नदी को मौसम को उस्ताद किया !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Pura Dukh Aur Aadha Chand..

Pura dukh aur aadha chand

 

Pura dukh aur aadha chand,
Hijr ki shab aur aisa chand.

Din mein wahshat bahal gayi,
Raat hui aur nikla chand.

Kis maqtal se guzra hoga,
Itna sahma sahma chand.

Yaadon ki aabaad gali mein,
Ghum raha hai tanha chand.

Meri karwat par jag utthe,
Nind ka kitna kachcha chand.

Mere munh ko kis hairat se,
Dekh raha hai bhola chand.

Itne ghane baadal ke pichhe,
Kitna tanha hoga chand.

Aansoo roke nur nahaye,
Dil dariya tan sahra chand.

Itne raushan chehre par bhi,
Sooraj ka hai saya chand.

Jab pani mein chehra dekha,
Tu ne kis ko socha chand ?

Bargad ki ek shakh hata kar,
Jaane kis ko jhanka chand.

Baadal ke resham jhule mein,
Bhor samay tak soya chand.

Raat ke shane par sar rakkhe,
Dekh raha hai sapna chand.

Sukhe patton ke jhurmut par,
Shabnam thi ya nanha chand.

Hath hila kar rukhsat hoga,
Us ki surat hijr ka chand.

Sahra sahra bhatak raha hai,
Apne ishq mein sachcha chand.

Raat ke shayad ek baje hain,
Sota hoga mera chand. !!

पूरा दुख और आधा चाँद,
हिज्र की शब और ऐसा चाँद !

दिन में वहशत बहल गई,
रात हुई और निकला चाँद !

किस मक़्तल से गुज़रा होगा,
इतना सहमा सहमा चाँद !

यादों की आबाद गली में,
घूम रहा है तन्हा चाँद !

मेरी करवट पर जाग उठ्ठे,
नींद का कितना कच्चा चाँद !

मेरे मुँह को किस हैरत से,
देख रहा है भोला चाँद !

इतने घने बादल के पीछे,
कितना तन्हा होगा चाँद !

आँसू रोके नूर नहाए,
दिल दरिया तन सहरा चाँद !

इतने रौशन चेहरे पर भी,
सूरज का है साया चाँद !

जब पानी में चेहरा देखा,
तू ने किस को सोचा चाँद ?

बरगद की एक शाख़ हटा कर,
जाने किस को झाँका चाँद !

बादल के रेशम झूले में,
भोर समय तक सोया चाँद !

रात के शाने पर सर रक्खे,
देख रहा है सपना चाँद !

सूखे पत्तों के झुरमुट पर,
शबनम थी या नन्हा चाँद !

हाथ हिला कर रुख़्सत होगा,
उस की सूरत हिज्र का चाँद !

सहरा सहरा भटक रहा है,
अपने इश्क़ में सच्चा चाँद !

रात के शायद एक बजे हैं,
सोता होगा मेरा चाँद !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Kabhi To Aasman Se Chaand Utre Jaam Ho Jaye..

Kabhi to aasman se chaand utre jaam ho jaye,
Tumhare naam ki ek khoobsurat shaam ho jaye.

Humara dil sawere ka sunehra jaam ho jaye,
Charaaghon ki tarah aankhein jalein jab shaam ho jaye.

Ajab halaat the yun dil ka sauda ho gaya aakhir,
Mohabbat ki haveli jis tarah neelam ho jaye.

Samandar ke safar mein iss tarah aawaaz do humko,
Hawaayein tez hon aur kashtiyon mein shaam ho jaye.

Main khud bhi ehtiyaatan uss gali se kam guzarta hun,
Koi masoom kyun mere liye badnaam ho jaye.

Mujhe malum hai uss ka thikana phir kahan hoga,
Parinda aasmaan chhune mein jab nakaam ho jaye,

Ujaale apni yaadon ke humare saath rahne do,
Na jane kis gali mein zindagi ki shaam ho jaye. !!

कभी तो आसमाँ से चांद उतरे जाम हो जाये,
तुम्हारे नाम की एक ख़ूबसूरत शाम हो जाये !

हमारा दिल सवेरे का सुनहरा जाम हो जाये,
चराग़ों की तरह आँखें जलें जब शाम हो जाये !

अजब हालात थे यूँ दिल का सौदा हो गया आख़िर,
मोहब्बत की हवेली जिस तरह नीलाम हो जाये !

समंदर के सफ़र में इस तरह आवाज़ दो हमको,
हवाएँ तेज़ हों और कश्तियों में शाम हो जाये !

मैं ख़ुद भी एहतियातन उस गली से कम गुज़रता हूँ,
कोई मासूम क्यों मेरे लिये बदनाम हो जाये !

मुझे मालूम है उस का ठिकाना फिर कहाँ होगा,
परिंदा आसमाँ छूने में जब नाकाम हो जाये !

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो,
न जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाये !! -Bashir Badr Ghazal

 

Aansuon Se Dhuli Khushi Ki Tarah..

Aansuon se dhuli khushi ki tarah,
Rishte hote hain shayari ki tarah.

Hum khuda ban ke aayenge warna,
Hum se mil jao aadmi ki tarah.

Barf seene ki jaise jaise gali,
Aankh khulti gayi kali ki tarah.

Jab kabhi badlon mein ghirta hai,
Chaand lagta hai aadmi ki tarah.

Kisi rozan kisi dariche se,
Samne aao roshni ki tarah.

Sab nazar ka fareb hai warna,
Koi hota nahi kisi ki tarah.

Khubsurat udaas Khaufzada,
Woh bhi hai biswin sadi ki tarah.

Janta hun ki ek din mujhko,
Wo badal dega diary ki tarah. !!

आंसुओं से धूलि ख़ुशी कि तरह,
रिश्ते होते है शायरी कि तरह !

हम खुदा बन के आयेंगे वरना,
हम से मिल जाओ आदमी कि तरह !

बर्फ सीने कि जैसे-जैसे गली,
आँख खुलती गयी कली कि तरह !

जब कभी बादलों में घिरता हैं,
चाँद लगता है आदमी कि तरह !

किसी रोज़ किसी दरीचे से,
सामने आओ रोशनी कि तरह !

सब नज़र का फरेब है वरना,
कोई होता नहीं किसी कि तरह !

ख़ूबसूरत उदास ख़ौफ़ज़दा,
वो भी है बीसवीं सदी कि तरह !

जानता हूँ कि एक दिन मुझको
वो बदल देगा डायरी की तरह !! -Bashir Badr Ghazal

 

Hoton Pe Mohabbat Ke Fasane Nahi Aate..

Hoton pe mohabbat ke fasane nahi aate

 

Hoton pe mohabbat ke fasane nahi aate,
Sahil pe samandar ke khazane nahi aate.

Palken bhi chamk uthti hain sote mein humaari,
Aankhon ko abhi khawab chhupane nahi aate.

Dil ujadi huyi ek saraye ki tarah hai,
Ab log yahan raat jagane nahi aate.

Udne do parindon ko abhi shokh hawa mein,
Phir laut ke bachpan ke zamane nahi aate.

Is shehar ke badal teri zulfon ki tarah hain,
Ye aag lagate hain bujhane nahi aate.

Kya soch ke aaye ho mohabbat ki gali mein,
Jab naaz hasino ke uthaane nahi aate.

Ahbab bhi Ghairon ki ada seekh gaye hain,
Aate hain magar dil ko dukhane nahi aate. !!

होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते,
साहिल पे समंदर के ख़ज़ाने नहीं आते !

पलके भी चमक उठती हैं सोते में हमारी,
आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते !

दिल उजडी हुई एक सराय की तरह है,
अब लोग यहां रात बिताने नहीं आते !

उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में,
फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते !

इस शहर के बादल तेरी जुल्फ़ों की तरह है,
ये आग लगाते है बुझाने नहीं आते !

क्या सोचकर आए हो मुहब्बत की गली में,
जब नाज़ हसीनों के उठाने नहीं आते !

अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये है,
आते है मगर दिल को दुखाने नहीं आते !! -Bashir Badr Ghazal

 

Na Humsafar Na Kisi Humnasheen Se Niklega..

Na humsafar na kisi humnasheen se niklega,
Hamare panw ka kanta hameen se niklega.

Main janta tha ki zahrila saanp ban ban kar,
Tera khulus meri aastin se niklega.

Isi gali mein wo bhukha faqir rahta tha,
Talash kije khazana yahin se niklega.

Buzurg kahte the ek waqt aayega jis din,
Jahan pe dubega sooraj wahin se niklega.

Guzishta sal ke zakhmon hare-bhare rahna,
Julus ab ke baras bhi yahin se niklega. !!

न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा,
हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा !

मैं जानता था कि ज़हरीला साँप बन बन कर,
तिरा ख़ुलूस मिरी आस्तीं से निकलेगा !

इसी गली में वो भूखा फ़क़ीर रहता था,
तलाश कीजे ख़ज़ाना यहीं से निकलेगा !

बुज़ुर्ग कहते थे इक वक़्त आएगा जिस दिन,
जहाँ पे डूबेगा सूरज वहीं से निकलेगा !

गुज़िश्ता साल के ज़ख़्मों हरे-भरे रहना,
जुलूस अब के बरस भी यहीं से निकलेगा !! -Rahat Indori Ghazal

 

Suna Hai Log Use Aankh Bhar Ke Dekhte Hain..

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain,
So us ke shehar mein kuchh din thahar ke dekhte hain.

Suna hai rabt hai us ko kharab-haalon se,
So apne aap ko barbaad kar ke dekhte hain.

Suna hai dard ki gahak hai chashm-e-naz us ki,
So hum bhi us ki gali se guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ko bhi hai shair-o-shayari se shaghaf,
So hum bhi moajize apne hunar ke dekhte hain.

Suna hai bole to baaton se phool jhadte hain,
Ye baat hai to chalo baat kar ke dekhte hain.

Suna hai raat use chand takta rahta hai,
Sitare baam-e-falak se utar ke dekhte hain.

Suna hai din ko use titliyan satati hain,
Suna hai raat ko jugnu thahar ke dekhte hain.

Suna hai hashr hain us ki ghazal si aankhen,
Suna hai us ko hiran dasht bhar ke dekhte hain.

Suna hai raat se badh kar hain kakulen us ki,
Suna hai sham ko saye guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ki siyah-chashmagi qayamat hai,
So us ko surma-farosh aah bhar ke dekhte hain.

Suna hai us ke labon se gulab jalte hain,
So hum bahaar pe ilzam dhar ke dekhte hain.

Suna hai aaina timsal hai jabin us ki,
Jo sada dil hain use ban-sanwar ke dekhte hain.

Suna hai jab se hamail hain us ki gardan mein,
Mizaj aur hi lal o guhar ke dekhte hain.

Suna hai chashm-e-tasawwur se dasht-e-imkan mein,
Palang zawiye us ki kamar ke dekhte hain.

Suna hai us ke badan ki tarash aisi hai,
Ki phool apni qabayen katar ke dekhte hain.

Wo sarw-qad hai magar be-gul-e-murad nahi,
Ki us shajar pe shagufe samar ke dekhte hain.

Bas ek nigah se lutta hai qafila dil ka,
So rah-rawan-e-tamanna bhi dar ke dekhte hain.

Suna hai us ke shabistan se muttasil hai bahisht,
Makin udhar ke bhi jalwe idhar ke dekhte hain.

Ruke to gardishen us ka tawaf karti hain,
Chale to us ko zamane thahar ke dekhte hain.

Kise nasib ki be-pairahan use dekhe,
Kabhi kabhi dar o diwar ghar ke dekhte hain.

Kahaniyan hi sahi sab mubaalghe hi sahi,
Agar wo khwab hai tabir kar ke dekhte hain.

Ab us ke shehar mein thahren ki kuch kar jayen,
Faraz” aao sitare safar ke dekhte hain. !!

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं,
सो उस के शहर में कुछ दिन ठहर के देखते हैं !

सुना है रब्त है उस को ख़राब-हालों से,
सो अपने आप को बरबाद कर के देखते हैं !

सुना है दर्द की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उस की,
सो हम भी उस की गली से गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस को भी है शेर-ओ-शायरी से शग़फ़,
सो हम भी मोजिज़े अपने हुनर के देखते हैं !

सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते हैं,
ये बात है तो चलो बात कर के देखते हैं !

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है,
सितारे बाम-ए-फ़लक से उतर के देखते हैं !

सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती हैं,
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते हैं !

सुना है हश्र हैं उस की ग़ज़ाल सी आँखें,
सुना है उस को हिरन दश्त भर के देखते हैं !

सुना है रात से बढ़ कर हैं काकुलें उस की,
सुना है शाम को साए गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस की सियह-चश्मगी क़यामत है,
सो उस को सुरमा-फ़रोश आह भर के देखते हैं !

सुना है उस के लबों से गुलाब जलते हैं,
सो हम बहार पे इल्ज़ाम धर के देखते हैं !

सुना है आइना तिमसाल है जबीं उस की,
जो सादा दिल हैं उसे बन-सँवर के देखते हैं !

सुना है जब से हमाइल हैं उस की गर्दन में,
मिज़ाज और ही लाल ओ गुहर के देखते हैं !

सुना है चश्म-ए-तसव्वुर से दश्त-ए-इम्काँ में,
पलंग ज़ाविए उस की कमर के देखते हैं !

सुना है उस के बदन की तराश ऐसी है,
कि फूल अपनी क़बाएँ कतर के देखते हैं !

वो सर्व-क़द है मगर बे-गुल-ए-मुराद नहीं,
कि उस शजर पे शगूफ़े समर के देखते हैं !

बस एक निगाह से लुटता है क़ाफ़िला दिल का,
सो रह-रवान-ए-तमन्ना भी डर के देखते हैं !

सुना है उस के शबिस्ताँ से मुत्तसिल है बहिश्त,
मकीं उधर के भी जल्वे इधर के देखते हैं !

रुके तो गर्दिशें उस का तवाफ़ करती हैं,
चले तो उस को ज़माने ठहर के देखते हैं !

किसे नसीब कि बे-पैरहन उसे देखे,
कभी कभी दर ओ दीवार घर के देखते हैं !

कहानियाँ ही सही सब मुबालग़े ही सही,
अगर वो ख़्वाब है ताबीर कर के देखते हैं !

अब उस के शहर में ठहरें कि कूच कर जाएँ,
फ़राज़” आओ सितारे सफ़र के देखते हैं !!

 

Hans Ke Bola Karo Bulaya Karo..

Hans ke bola karo bulaya karo,
Aap ka ghar hai aaya jaya karo.

Muskurahat hai husn ka zewar,
Muskurana na bhul jaya karo.

Had se badh kar hasin lagte ho,
Jhuthi kasmein zarur khaya karo.

Hukm karna bhi ek skhawat hai,
Humko khidmat koi bataya karo.

Baat karna bhi badshahat hai,
Baat karna na bhul jaya karo.

Taki duniya ki dil-kashi na ghate,
Nit-nae pairahan mein aaya karo.

Kitne sada-mizaj ho tum “Adam“,
Us gali mein bahut na jaya karo. !!

हंस के बोला करो बुलाया करो,
आप का घर है आया जाया करो !

मुस्कराहट है हुस्न का जेवर,
रूप बढ़ता है मुस्कुराया करो !

हद से बढ़ कर हसीन लगते हो,
झूठी कसमें जरूर खाया करो !

हुक्म करना भी एक सखावत है,
हमको खिदमत कोई बताया करो !

बात करना भी बादशाहत है,
बात करना न भूल जाया करो !

ताकि दुनिया की दिल-कशी न घटे,
नित-नए पैरहन में आया करो !

कितने सदा मिज़ाज हो तुम “अदम“,
उस गली में बहुत न जाया करो !!