Tuesday , March 9 2021

Poetry Types Farishte

Yun Sada Dete Hue Tere Khayal Aate Hain..

Yun Sada Dete Hue Tere Khayal Aate Hain.. Rahat Indori Shayari !

Yun sada dete hue tere khayal aate hain,
Jaise kabe ki khuli chhat pe bilal aate hain.

Roz hum ashkon se dho aate hain diwar-e-haram,
Pagdiyan roz farishton ki uchhaal aate hain.

Haath abhi pichhe bandhe rahte hain chup rahte hain,
Dekhna ye hai tujhe kitne kamal aate hain.

Chaand sooraj meri chaukhat pe kai sadiyon se,
Roz likkhe hue chehre pe sawal aate hain.

Be-hisi muda-dili raqs sharaben naghme,
Bas isi rah se qaumon pe zawal aate hain. !!

यूँ सदा देते हुए तेरे ख़याल आते हैं,
जैसे काबे की खुली छत पे बिलाल आते हैं !

रोज़ हम अश्कों से धो आते हैं दीवार-ए-हरम,
पगड़ियाँ रोज़ फ़रिश्तों की उछाल आते हैं !

हाथ अभी पीछे बंधे रहते हैं चुप रहते हैं,
देखना ये है तुझे कितने कमाल आते हैं !

चाँद सूरज मेरी चौखट पे कई सदियों से,
रोज़ लिक्खे हुए चेहरे पे सवाल आते हैं !

बे-हिसी मुर्दा-दिली रक़्स शराबें नग़्मे,
बस इसी राह से क़ौमों पे ज़वाल आते हैं !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Andhere Chaaron Taraf Sayen Sayen Karne Lage..

Andhere Chaaron Taraf Sayen Sayen Karne Lage.. Rahat Indori Shayari !

Andhere chaaron taraf sayen sayen karne lage,
Charagh haath utha kar duayen karne lage.

Taraqqi kar gaye bimariyon ke saudagar,
Ye sab mariz hain jo ab dawayen karne lage.

Lahu-luhan pada tha zameen par ek suraj,
Parinde apne paron se hawayen karne lage.

Zameen par aa gaye aankhon se tut kar aansoo,
Buri khabar hai farishte khatayen karne lage.

Jhulas rahe hain yahan chhanv bantne wale,
Wo dhoop hai ki shajar iltijayen karne lage.

Ajib rang tha majlis ka khub mehfil thi,
Safed posh uthe kayen kayen karne lage. !!

अंधेरे चारों तरफ़ साएँ साएँ करने लगे,
चराग़ हाथ उठा कर दुआएँ करने लगे !

तरक़्क़ी कर गए बीमारियों के सौदागर,
ये सब मरीज़ हैं जो अब दवाएँ करने लगे !

लहू-लुहान पड़ा था ज़मीं पर इक सूरज,
परिंदे अपने परों से हवाएँ करने लगे !

ज़मीं पर आ गए आँखों से टूट कर आँसू ,
बुरी ख़बर है फ़रिश्ते ख़ताएँ करने लगे !

झुलस रहे हैं यहाँ छाँव बाँटने वाले,
वो धूप है कि शजर इल्तिजाएँ करने लगे !

अजीब रंग था मज्लिस का ख़ूब महफ़िल थी,
सफ़ेद पोश उठे काएँ काएँ करने लगे !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Dilon Mein Aag Labon Par Gulab Rakhte Hain..

Dilon Mein Aag Labon Par Gulab Rakhte Hain.. Rahat Indori Shayari

Dilon mein aag labon par gulab rakhte hain,
Sab apne chehron pe dohri naqab rakhte hain.

Hamein charagh samajh kar bujha na paoge,
Hum apne ghar mein kai aaftab rakhte hain.

Bahut se log ki jo harf-ashna bhi nahi,
Isi mein khush hain ki teri kitab rakhte hain.

Ye mai-kada hai wo masjid hai wo hai but-khana,
Kahin bhi jao farishte hisab rakhte hain.

Hamare shehar ke manzar na dekh payenge,
Yahan ke log to aankhon mein khwaab rakhte hain. !!

दिलों में आग लबों पर गुलाब रखते हैं,
सब अपने चेहरों पे दोहरी नक़ाब रखते हैं !

हमें चराग़ समझ कर बुझा न पाओगे,
हम अपने घर में कई आफ़्ताब रखते हैं !

बहुत से लोग कि जो हर्फ़-आशना भी नहीं,
इसी में ख़ुश हैं कि तेरी किताब रखते हैं !

ये मय-कदा है वो मस्जिद है वो है बुत-ख़ाना,
कहीं भी जाओ फ़रिश्ते हिसाब रखते हैं !

हमारे शहर के मंज़र न देख पाएँगे,
यहाँ के लोग तो आँखों में ख़्वाब रखते हैं !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Ab Ke Hum Bichhde To Shayad Kabhi Khwabon Mein Milen..

Ab ke hum bichhde to shayad kabhi khwabon mein milen,
Jis tarah sukhe hue phool kitabon mein milen

Dhundh ujde hue logon mein wafa ke moti,
Ye khazane tujhe mumkin hai kharabon mein milen,

Gham-e-duniya bhi gham-e-yar mein shamil kar lo,
Nashsha badhta hai sharaben jo sharabon mein milen.

Tu khuda hai na mera ishq farishton jaisa,
Donon insan hain to kyun itne hijabon mein milen.

Aaj hum dar pe khinche gaye jin baaton par,
Kya ajab kal wo zamane ko nisabon mein milen.

Ab na wo main na wo tu hai na wo mazi hai “Faraz“,
Jaise do shakhs tamanna ke sarabon mein milen. !!

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें,
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें !

ढूँढ उजड़े हुए लोगों में वफ़ा के मोती,
ये ख़ज़ाने तुझे मुमकिन है ख़राबों में मिलें !

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो,
नश्शा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें !

तू ख़ुदा है न मेरा इश्क़ फ़रिश्तों जैसा,
दोनों इंसाँ हैं तो क्यूँ इतने हिजाबों में मिलें !

आज हम दार पे खींचे गए जिन बातों पर,
क्या अजब कल वो ज़माने को निसाबों में मिलें !

अब न वो मैं न वो तू है न वो माज़ी है “फ़राज़“,
जैसे दो शख़्स तमन्ना के सराबों में मिलें !!

 

Sarakti Jaye Hai Rukh Se Naqab Aahista Aahista..

Sarakti jaye hai rukh se naqab aahista aahista,
Nikalta aa raha hai aaftaab aahista aahista.

Jawan hone lage jab wo to hum se kar liya pardaa,
Haya yakalakht aayi aur shabaab aahista aahista.

Shab-e-furkat ka jaga hun farishton ab to sone do,
Kabhi fursat mein kar lena hisaab aahista aahista.

Sawal-e-wasl par unko udu ka Khauf hai itna,
Dabe honthon se dete hain jawaab aahista aahista.

Humare aur tumhare pyar mein bas fark hai itna,
Idhar toh jaldi jaldi hai udhar aahista aahista.

Wo bedardi se sar kaate “Ameer” aur main kahun unse,
Huzur aahista aahista, janaab aahista aahista. !!

सरकती जाए है रुख से नकाब आहिस्ता आहिस्ता,
निकलता आ रहा है आफताब आहिस्ता आहिस्ता !

जवान होने लगे जब वो तो हम से कर लिया पर्दा,
हया यकलख्त आई और शबाब आहिस्ता आहिस्ता !

शब्-इ-फुरक़त का जागा हूँ फरिश्तों अब तो सोने दो,
कभी फुर्सत में कर लेना हिसाब आहिस्ता आहिस्ता !

सवाल-ए-वस्ल पर उनको उदू का खौफ है इतना,
दबे होंठों से देते हैं जवाब आहिस्ता आहिस्ता !

हमारे और उम्हारे प्यार में बस फर्क है इतना,
इधर तो जल्दी जल्दी है उधर आहिस्ता आहिस्ता !

वो बेदर्दी से सर काटे “अमीर” और मैं कहूं उन से,
हुज़ूर आहिस्ता, आहिस्ता जनाब, आहिस्ता आहिस्ता !!

-Ameer Minai Ghazal / Poetry