Tuesday , August 3 2021

Poetry Types Faqat

Tere Jaisa Mera Bhi Haal Tha Na Sukun Tha Na Qarar Tha

Tere jaisa mera bhi haal tha na sukun tha na qarar tha,
Yahi umar thi mere ham-nashin ki kisi se mujh ko bhi pyar tha.

Main samajh raha hun teri kasak tera mera dard hai mushtarak,
Isi gham ka tu bhi asir hai isi dukh ka main bhi shikar tha.

Faqat ek dhun thi ki raat-din isi khwab-zar mein gum rahen,
Wo surur aisa surur tha wo khumar aisa khumar tha.

Kabhi lamha-bhar ki bhi guftugu meri us ke sath na ho saki,
Mujhe fursaten nahi mil sakin wo hawa ke rath par sawar tha.

Hum ajib tarz ke log the ki hamare aur hi rog the,
Main khizan mein us ka tha muntazir use intizar-e-bahaar tha.

Use padh ke tum na samajh sake ki meri kitab ke rup mein,
Koi qarz tha kai sal ka kai rat-jagon ka udhaar tha. !!

तेरे जैसा मेरा भी हाल था न सुकून था न क़रार था,
यही उम्र थी मेरे हम-नशीं कि किसी से मुझ को भी प्यार था !

मैं समझ रहा हूँ तेरी कसक तेरा मेरा दर्द है मुश्तरक,
इसी ग़म का तू भी असीर है इसी दुख का मैं भी शिकार था !

फ़क़त एक धुन थी कि रात-दिन इसी ख़्वाब-ज़ार में गुम रहें,
वो सुरूर ऐसा सुरूर था वो ख़ुमार ऐसा ख़ुमार था !

कभी लम्हा-भर की भी गुफ़्तुगू मेरी उस के साथ न हो सकी,
मुझे फ़ुर्सतें नहीं मिल सकीं वो हवा के रथ पर सवार था !

हम अजीब तर्ज़ के लोग थे कि हमारे और ही रोग थे,
मैं ख़िज़ाँ में उस का था मुंतज़िर उसे इंतिज़ार-ए-बहार था !

उसे पढ़ के तुम न समझ सके कि मेरी किताब के रूप में,
कोई क़र्ज़ था कई साल का कई रत-जगों का उधार था !!

-Aitbar Sajid Ghazal / Urdu Poetry

 

Girte Hain Log Garmi-E-Bazar Dekh Kar..

Girte hain log garmi-e-bazar dekh kar,
Sarkar dekh kar meri sarkar dekh kar.

Aawargi ka shouk bhadakta hai aur bhi,
Teri gali ka saya-e-diwar dekh kar.

Taskin-e-dil ki ek hi tadbir hai faqat,
Sar phod lijiye koi diwar dekh kar.

Hum bhi gaye hain hosh se saqi kabhi kabhi,
Lekin teri nigah ke atwar dekh kar.

Kya mustaqil ilaj kiya dil ke dard ka,
Wo muskura diye mujhe bimar dekh kar.

Dekha kisi ki samt to kya ho gaya “Adam“,
Chalte hain rah-rau sar-e-bazar dekh kar. !!

गिरते हैं लोग गर्मी-ए-बाजार देख कर,
सरकार देख कर मेरी सरकार देख कर !

आवारगी का शौक भडकता है और भी,
तेरी गली का साया-ए-दीवार देख कर !

तस्कीन-ए-दिल की एक ही तद्बीर है फ़क़त,
सर फोड़ लीजिए कोई दीवार देख कर !

हम भी गए हैं होश से साक़ी कभी कभी,
लेकिन तेरी निग़ाह के ऐतवार देख कर !

क्या मुश्तकिल इलाज किया दिल के दर्द का,
वो मुस्कुरा दिए मुझे बीमार देख कर !

देखा किसी की सिम्त तो क्या हो गया “अदम“,
चलते हैं राह-रो सर-ए-बाजार देख कर !!

 

Hawayen Tez Thin Ye To Faqat Bahane The..

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the,
Safine yun bhi kinare pe kab lagane the.

Khayal aata hai rah-rah ke laut jaane ka,
Safar se pahle humein apne ghar jalane the.

Guman tha ki samajh lenge mausamon ka mizaj,
Khuli jo aankh to zad pe sabhi thikane the.

Humein bhi aaj hi karna tha intezaar us ka,
Use bhi aaj hi sab wade bhul jaane the.

Talash jin ko hamesha buzurg karte rahe,
Na jaane kaun si duniya mein wo khazane the.

Chalan tha sab ke ghamon mein sharik rahne ka,
Ajib din the ajab sar-phire zamane the. !!

हवाएँ तेज़ थीं ये तो फ़क़त बहाने थे,
सफ़ीने यूँ भी किनारे पे कब लगाने थे !

ख़याल आता है रह-रह के लौट जाने का,
सफ़र से पहले हमें अपने घर जलाने थे !

गुमान था कि समझ लेंगे मौसमों का मिज़ाज,
खुली जो आँख तो ज़द पे सभी ठिकाने थे !

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का,
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे !

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे !

चलन था सब के ग़मों में शरीक रहने का,
अजीब दिन थे अजब सर-फिरे ज़माने थे !!

-Aashufta Changezi Ghazal / Poetry