Poetry Types Duniya

Hum Se Bhaga Na Karo Dur Ghazalon Ki Tarah..

Hum Se Bhaga Na Karo Dur Ghazalon Ki Tarah..  Jan Nisar Akhtar Poetry

Hum se bhaga na karo dur ghazalon ki tarah,
Hum ne chaha hai tumhein chahne walon ki tarah.

Khud-ba-khud nind si aankhon mein ghuli jati hai,
Mahki mahki hai shab-e-gham tere baalon ki tarah.

Tere bin raat ke hathon pe ye taron ke ayagh,
Khub-surat hain magar zahar ke pyalon ki tarah.

Aur kya is se ziyaada koi narmi bartun,
Dil ke zakhmon ko chhua hai tere galon ki tarah.

Gungunate hue aur aa kabhi un sinon mein,
Teri khatir jo mahakte hain shiwalon ki tarah.

Teri zulfen teri aankhen tere abru tere lab,
Ab bhi mashhur hain duniya mein misalon ki tarah.

Hum se mayus na ho aye shab-e-dauran ki abhi,
Dil mein kuch dard chamakte hain ujalon ki tarah.

Mujh se nazren to milao ki hazaron chehre,
Meri aankhon mein sulagte hain sawalon ki tarah.

Aur to mujh ko mila kya meri mehnat ka sila,
Chand sikke hain mere hath mein chhaalon ki tarah.

Justuju ne kisi manzil pe thaharne na diya,
Hum bhatakte rahe aawara khayalon ki tarah.

Zindagi jis ko tera pyar mila wo jaane,
Hum to nakaam rahe chahne walon ki tarah. !!

Hum Se Bhaga Na Karo Dur Ghazalon Ki Tarah..  Jan Nisar Akhtar Poetry In Hindi Language

हम से भागा न करो दूर ग़ज़ालों की तरह,
हम ने चाहा है तुम्हें चाहने वालों की तरह !

ख़ुद-ब-ख़ुद नींद सी आँखों में घुली जाती है,
महकी महकी है शब-ए-ग़म तेरे बालों की तरह !

तेरे बिन रात के हाथों पे ये तारों के अयाग़,
ख़ूब-सूरत हैं मगर ज़हर के प्यालों की तरह !

और क्या इस से ज़ियादा कोई नरमी बरतूँ,
दिल के ज़ख़्मों को छुआ है तेरे गालों की तरह !

गुनगुनाते हुए और आ कभी उन सीनों में,
तेरी ख़ातिर जो महकते हैं शिवालों की तरह !

तेरी ज़ुल्फ़ें तेरी आँखें तेरे अबरू तेरे लब,
अब भी मशहूर हैं दुनिया में मिसालों की तरह !

हम से मायूस न हो ऐ शब-ए-दौराँ कि अभी,
दिल में कुछ दर्द चमकते हैं उजालों की तरह !

मुझ से नज़रें तो मिलाओ कि हज़ारों चेहरे,
मेरी आँखों में सुलगते हैं सवालों की तरह !

और तो मुझ को मिला क्या मेरी मेहनत का सिला,
चंद सिक्के हैं मेरे हाथ में छालों की तरह !

जुस्तुजू ने किसी मंज़िल पे ठहरने न दिया,
हम भटकते रहे आवारा ख़यालों की तरह !

ज़िंदगी जिस को तेरा प्यार मिला वो जाने,
हम तो नाकाम रहे चाहने वालों की तरह !!

-Jan Nisar Akhtar Ghazal / Urdu Poetry

 

Dil Ho Kharab Din Pe Jo Kuch Asar Pade

Dil ho kharab din pe jo kuch asar pade,
Ab kar-e-ashiqi to bahar-kaif kar pade.

Ishq-e-butan ka din pe jo kuch asar pade,
Ab to nibahna hai jab ek kaam kar pade.

Mazhab chhudaya ishwa-e-duniya ne shaikh se,
Dekhi jo rail unt se aakhir utar pade.

Betabiyan nasib na thin warna ham-nashin,
Ye kya zarur tha ki unhin par nazar pade.

Behtar yahi hai qasd udhar ka karen na wo,
Aisa na ho ki rah mein dushman ka ghar pade.

Hum chahte hain mel wajud-o-adam mein ho,
Mumkin to hai jo beach mein un ki kamar pade.

Dana wahi hai dil jo kare aap ka khayal,
Bina wahi nazar hai ki jo aap par pade.

Honi na chahiye thi mohabbat magar hui,
Padna na chahiye tha ghazab mein magar pade.

Shaitan ki na man jo rahat-nasib ho,
Allah ko pukar musibat agar pade.

Aye shaikh un buton ki ye chaalakiyan to dekh,
Nikle agar haram se to “Akbar” ke ghar pade. !!

 

Rang-E-Sharab Se Meri Niyyat Badal Gayi

Rang-e-sharab se meri niyyat badal gayi,
Waiz ki baat rah gayi saqi ki chal gayi.

Tayyar the namaz pe hum sun ke zikr-e-hur,
Jalwa buton ka dekh ke niyyat badal gayi.

Machhli ne dhil payi hai luqme pe shad hai,
Sayyaad mutmain hai ki kanta nigal gayi.

Chamka tera jamal jo mehfil mein waqt-e-sham,
Parwana be-qarar hua shama jal gayi.

Uqba ki baz-purs ka jata raha khayal,
Duniya ki lazzaton mein tabiat bahal gayi.

Hasrat bahut taraqqi-e-dukhtar ki thi unhen,
Parda jo uth gaya to wo aakhir nikal gayi. !!

रंग-ए-शराब से मेरी निय्यत बदल गई,
वाइज़ की बात रह गई साक़ी की चल गई !

तय्यार थे नमाज़ पे हम सुन के ज़िक्र-ए-हूर,
जल्वा बुतों का देख के निय्यत बदल गई !

मछली ने ढील पाई है लुक़्मे पे शाद है,
सय्याद मुतमइन है कि काँटा निगल गई !

चमका तेरा जमाल जो महफ़िल में वक़्त-ए-शाम,
परवाना बे-क़रार हुआ शमा जल गई !

उक़्बा की बाज़-पुर्स का जाता रहा ख़याल,
दुनिया की लज़्ज़तों में तबीअत बहल गई !

हसरत बहुत तरक़्क़ी-ए-दुख़्तर की थी उन्हें,
पर्दा जो उठ गया तो वो आख़िर निकल गई !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Teri Zulfon Mein Dil Uljha Hua Hai

Teri zulfon mein dil uljha hua hai

 

Teri zulfon mein dil uljha hua hai,
Bala ke pech mein aaya hua hai.

Na kyunkar bu-e-khun name se aaye,
Usi jallad ka likkha hua hai.

Chale duniya se jis ki yaad mein hum,
Ghazab hai wo hamein bhula hua hai.

Kahun kya haal agli ishraton ka,
Wo tha ek khwab jo bhula hua hai.

Jafa ho ya wafa hum sab mein khush hain,
Karen kya ab to dil atka hua hai.

Hui hai ishq hi se husn ki qadr,
Hamin se aap ka shohra hua hai.

Buton par rahti hai mail hamesha,
Tabiat ko khudaya kya hua hai.

Pareshan rahte ho din raat “Akbar“,
Ye kis ki zulf ka sauda hua hai. !!

तेरी ज़ुल्फ़ों में दिल उलझा हुआ है,
बला के पेच में आया हुआ है !

न क्यूँकर बू-ए-ख़ूँ नामे से आए,
उसी जल्लाद का लिक्खा हुआ है !

चले दुनिया से जिस की याद में हम,
ग़ज़ब है वो हमें भूला हुआ है !

कहूँ क्या हाल अगली इशरतों का,
वो था इक ख़्वाब जो भूला हुआ है !

जफ़ा हो या वफ़ा हम सब में ख़ुश हैं,
करें क्या अब तो दिल अटका हुआ है !

हुई है इश्क़ ही से हुस्न की क़द्र,
हमीं से आप का शोहरा हुआ है !

बुतों पर रहती है माइल हमेशा,
तबीअत को ख़ुदाया क्या हुआ है !

परेशाँ रहते हो दिन रात “अकबर“,
ये किस की ज़ुल्फ़ का सौदा हुआ है !!

 

Haya Se Sar Jhuka Lena Ada Se Muskura Dena..

Haya Se Sar Jhuka Lena Ada Se Muskura Dena

Haya se sar jhuka lena ada se muskura dena,
Hasinon ko bhi kitna sahl hai bijli gira dena.

Ye tarz ehsan karne ka tumhin ko zeb deta hai,
Maraz mein mubtala kar ke marizon ko dawa dena.

Balayen lete hain un ki hum un par jaan dete hain,
Ye sauda did ke qabil hai kya lena hai kya dena.

Khuda ki yaad mein mahwiyat-e-dil baadshahi hai,
Magar aasan nahi hai sari duniya ko bhula dena. !!

हया से सर झुका लेना अदा से मुस्कुरा देना,
हसीनों को भी कितना सहल है बिजली गिरा देना !

ये तर्ज़ एहसान करने का तुम्हीं को ज़ेब देता है,
मरज़ में मुब्तला कर के मरीज़ों को दवा देना !

बलाएँ लेते हैं उन की हम उन पर जान देते हैं,
ये सौदा दीद के क़ाबिल है क्या लेना है क्या देना !

ख़ुदा की याद में महवियत-ए-दिल बादशाही है,
मगर आसाँ नहीं है सारी दुनिया को भुला देना !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Bahut Raha Hai Kabhi Lutf-E-Yaar Hum Par Bhi

Bahut raha hai kabhi lutf-e-yaar hum par bhi,
Guzar chuki hai ye fasl-e-bahaar hum par bhi.

Urus-e-dahr ko aaya tha pyar hum par bhi,
Ye beswa thi kisi shab nisar hum par bhi.

Bitha chuka hai zamana hamein bhi masnad par,
Hua kiye hain jawahir nisar hum par bhi.

Adu ko bhi jo banaya hai tum ne mahram-e-raaz,
To fakhr kya jo hua aitbar hum par bhi.

Khata kisi ki ho lekin khuli jo un ki zaban,
To ho hi jate hain do ek war hum par bhi.

Hum aise rind magar ye zamana hai wo ghazab,
Ki dal hi diya duniya ka bar hum par bhi.

Hamein bhi aatish-e-ulfat jala chuki “Akbar“,
Haram ho gayi dozakh ki nar hum par bhi. !!

बहुत रहा है कभी लुत्फ़-ए-यार हम पर भी,
गुज़र चुकी है ये फ़स्ल-ए-बहार हम पर भी !

उरूस-ए-दहर को आया था प्यार हम पर भी,
ये बेसवा थी किसी शब निसार हम पर भी !

बिठा चुका है ज़माना हमें भी मसनद पर,
हुआ किए हैं जवाहिर निसार हम पर भी !

अदू को भी जो बनाया है तुम ने महरम-ए-राज़,
तो फ़ख़्र क्या जो हुआ एतिबार हम पर भी !

ख़ता किसी की हो लेकिन खुली जो उन की ज़बाँ,
तो हो ही जाते हैं दो एक वार हम पर भी !

हम ऐसे रिंद मगर ये ज़माना है वो ग़ज़ब,
कि डाल ही दिया दुनिया का बार हम पर भी !

हमें भी आतिश-ए-उल्फ़त जला चुकी “अकबर“,
हराम हो गई दोज़ख़ की नार हम पर भी !!

 

Duniya Mein Hun Duniya Ka Talabgar Nahi Hun

Duniya mein hun duniya ka talabgar nahi hun,
Bazaar se guzra hun kharidar nahi hun.

Zinda hun magar zist ki lazzat nahi baqi,
Har-chand ki hun hosh mein hushyar nahi hun.

Is khana-e-hasti se guzar jaunga be-laus,
Saya hun faqat naqsh-ba-diwar nahi hun.

Afsurda hun ibrat se dawa ki nahi hajat,
Gham ka mujhe ye zoaf hai bimar nahi hun.

Wo gul hun khizan ne jise barbaad kiya hai,
Uljhun kisi daman se main wo khar nahi hun.

Ya rab mujhe mahfuz rakh us but ke sitam se,
Main us ki inayat ka talabgar nahi hun.

Go dawa-e-taqwa nahi dargah-e-khuda mein,
But jis se hon khush aisa gunahgar nahi hun.

Afsurdagi o zoaf ki kuch had nahi “Akbar“,
Kafir ke muqabil mein bhi din-dar nahi hun. !!

दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ,
बाज़ार से गुज़रा हूँ ख़रीदार नहीं हूँ !

ज़िंदा हूँ मगर ज़ीस्त की लज़्ज़त नहीं बाक़ी,
हर-चंद कि हूँ होश में हुश्यार नहीं हूँ !

इस ख़ाना-ए-हस्ती से गुज़र जाऊँगा बे-लौस,
साया हूँ फ़क़त नक़्श-ब-दीवार नहीं हूँ !

अफ़्सुर्दा हूँ इबरत से दवा की नहीं हाजत,
ग़म का मुझे ये ज़ोफ़ है बीमार नहीं हूँ !

वो गुल हूँ ख़िज़ाँ ने जिसे बर्बाद किया है,
उलझूँ किसी दामन से मैं वो ख़ार नहीं हूँ !

या रब मुझे महफ़ूज़ रख उस बुत के सितम से,
मैं उस की इनायत का तलबगार नहीं हूँ !

गो दावा-ए-तक़्वा नहीं दरगाह-ए-ख़ुदा में,
बुत जिस से हों ख़ुश ऐसा गुनहगार नहीं हूँ !

अफ़्सुर्दगी ओ ज़ोफ़ की कुछ हद नहीं “अकबर
काफ़िर के मुक़ाबिल में भी दीं-दार नहीं हूँ !!

 

Dhup Mein Niklo Ghataon Mein Naha Kar Dekho

Dhup mein niklo ghataon mein naha kar dekho,
Zindagi kya hai kitabon ko hata kar dekho.

Sirf aankhon se hi duniya nahi dekhi jati,
Dil ki dhadkan ko bhi binai bana kar dekho.

Pattharon mein bhi zaban hoti hai dil hote hain,
Apne ghar ke dar-o-diwar saja kar dekho.

Wo sitara hai chamakne do yunhi aankhon mein,
Kya zaruri hai use jism bana kar dekho.

Fasla nazron ka dhokha bhi to ho sakta hai,
Wo mile ya na mile hath badha kar dekho. !!

धूप में निकलो घटाओं में नहा कर देखो,
ज़िंदगी क्या है किताबों को हटा कर देखो !

सिर्फ़ आँखों से ही दुनिया नहीं देखी जाती,
दिल की धड़कन को भी बीनाई बना कर देखो !

पत्थरों में भी ज़बाँ होती है दिल होते हैं,
अपने घर के दर-ओ-दीवार सजा कर देखो !

वो सितारा है चमकने दो यूँही आँखों में,
क्या ज़रूरी है उसे जिस्म बना कर देखो !

फ़ासला नज़रों का धोखा भी तो हो सकता है,
वो मिले या न मिले हाथ बढ़ा कर देखो !!

-Nida Fazli Ghazal / Safar Shayari

 

Jab Se Kareeb Hoke Chale Zindagi Se Hum

Jab se kareeb hoke chale zindagi se hum,
Khud apne aaine ko lage ajnabi se hum.

Kuch dur chal ke raste sab ek se lage,
Milne gaye kisi se mil aaye kisi se hum.

Achchhe bure ke farq ne basti ujad di,
Majbur ho ke milne lage har kisi se hum.

Shaista mahfilon ki fazaon mein zehar tha,
Zinda bache hain zehn ki aawargi se hum.

Achchhi bhali thi duniya guzare ke waste,
Uljhe hue hain apni hi khud-agahi se hum.

Jangal mein dur tak koi dushman na koi dost,
Manus ho chale hain magar bambai se hum. !!

जब से क़रीब हो के चले ज़िंदगी से हम,
ख़ुद अपने आइने को लगे अजनबी से हम !

कुछ दूर चल के रास्ते सब एक से लगे,
मिलने गए किसी से मिल आए किसी से हम !

अच्छे बुरे के फ़र्क़ ने बस्ती उजाड़ दी,
मजबूर हो के मिलने लगे हर किसी से हम !

शाइस्ता महफ़िलों की फ़ज़ाओं में ज़हर था,
ज़िंदा बचे हैं ज़ेहन की आवारगी से हम !

अच्छी भली थी दुनिया गुज़ारे के वास्ते,
उलझे हुए हैं अपनी ही ख़ुद-आगही से हम !

जंगल में दूर तक कोई दुश्मन न कोई दोस्त,
मानूस हो चले हैं मगर बम्बई से हम !!

-Nida Fazli Sad Poetry/Ghazal

 

Aaina Kyun Na Dun Ki Tamasha Kahen Jise

Aaina kyun na dun ki tamasha kahen jise,
Aisa kahan se laun ki tujh sa kahen jise.

Hasrat ne la rakha teri bazm-e-khayal mein,
Gul-dasta-e-nigah suwaida kahen jise.

Phunka hai kis ne gosh-e-mohabbat mein aye khuda,
Afsun-e-intizar tamanna kahen jise.

Sar par hujum-e-dard-e-gharibi se daliye,
Wo ek musht-e-khak ki sahra kahen jise.

Hai chashm-e-tar mein hasrat-e-didar se nihan,
Shauq-e-inan gusekhta dariya kahen jise.

Darkar hai shaguftan-e-gul-ha-e-aish ko,
Subh-e-bahaar pumba-e-mina kahen jise.

Ghalib” bura na man jo waiz bura kahe,
Aisa bhi koi hai ki sab achchha kahen jise.

Ya rab hamein to khwab mein bhi mat dikhaiyo,
Ye mahshar-e-khayal ki duniya kahen jise.

Hai intizar se sharar aabaad rustakhez,
Mizhgan-e-koh-kan rag-e-khara kahen jise.

Kis fursat-e-visal pe hai gul ko andalib,
Zakhm-e-firaq khanda-e-be-ja kahen jise. !!

आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहें जिसे,
ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझ सा कहें जिसे !

हसरत ने ला रखा तिरी बज़्म-ए-ख़याल में,
गुल-दस्ता-ए-निगाह सुवैदा कहें जिसे !

फूँका है किस ने गोश-ए-मोहब्बत में ऐ ख़ुदा,
अफ़्सून-ए-इंतिज़ार तमन्ना कहें जिसे !

सर पर हुजूम-ए-दर्द-ए-ग़रीबी से डालिए,
वो एक मुश्त-ए-ख़ाक कि सहरा कहें जिसे !

है चश्म-ए-तर में हसरत-ए-दीदार से निहाँ,
शौक़-ए-इनाँ गुसेख़्ता दरिया कहें जिसे !

दरकार है शगुफ़्तन-ए-गुल-हा-ए-ऐश को,
सुब्ह-ए-बहार पुम्बा-ए-मीना कहें जिसे !

ग़ालिब” बुरा न मान जो वाइज़ बुरा कहे,
ऐसा भी कोई है कि सब अच्छा कहें जिसे !

या रब हमें तो ख़्वाब में भी मत दिखाइयो,
ये महशर-ए-ख़याल कि दुनिया कहें जिसे !

है इंतिज़ार से शरर आबाद रुस्तख़ेज़,
मिज़्गान-ए-कोह-कन रग-ए-ख़ारा कहें जिसे !

किस फ़ुर्सत-ए-विसाल पे है गुल को अंदलीब,
ज़ख़्म-ए-फ़िराक़ ख़ंदा-ए-बे-जा कहें जिसे !!