Monday , September 28 2020

Poetry Types Duniya

Bulati hai magar jaane ka nahi..

Bulati hai magar jaane ka nahi.. Rahat Indori Shayari !

Bulati Hai Magar Jaane Ka Nahi

Bulati hai magar jaane ka nahi,
Wo duniya hai udhar jaane ka nahi.

Zameen rakhna pade sar par to rakho,
Chalo ho to thahar jaane ka nahi.

Hai duniya chhodna manzur lekin,
Watan ko chhod kar jaane ka nahi.

Janaze hi janaze hain sadak par,
Abhi mahaul mar jaane ka nahi.

Sitare noch kar le jaunga,
Main khali haath ghar jaane ka nahi.

Mere bete kisi se ishq kar,
Magar had se guzar jaane ka nahi.

Wo gardan napta hai nap le,
Magar zalim se dar jaane ka nahi.

Sadak par arthiyan hi arthiyan hain,
Abhi mahaul mar jaane ka nahi.

Waba phaili hui hai har taraf,
Abhi mahaul mar jaane ka nahi. !!

बुलाती है मगर जाने का नहीं,
वो दुनिया है उधर जाने का नहीं !

ज़मीं रखना पड़े सर पर तो रखो,
चलो हो तो ठहर जाने का नहीं !

है दुनिया छोड़ना मंज़ूर लेकिन,
वतन को छोड़ कर जाने का नहीं !

जनाज़े ही जनाज़े हैं सड़क पर,
अभी माहौल मर जाने का नहीं !

सितारे नोच कर ले जाऊँगा,
मैं ख़ाली हाथ घर जाने का नहीं !

मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर,
मगर हद से गुज़र जाने का नहीं !

वो गर्दन नापता है नाप ले,
मगर ज़ालिम से डर जाने का नहीं !

सड़क पर अर्थियाँ ही अर्थियाँ हैं,
अभी माहौल मर जाने का नहीं !

वबा फैली हुई है हर तरफ़,
अभी माहौल मर जाने का नहीं !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Wo Ek Ek Baat Pe Rone Laga Tha..

Wo Ek Ek Baat Pe Rone Laga Tha.. Rahat Indori Shayari

Wo Ek Ek Baat Pe Rone Laga Tha

Wo ek ek baat pe rone laga tha,
Samundar aabru khone laga tha.

Lage rahte the sab darwaze phir bhi,
Main aankhen khol kar sone laga tha.

Churaata hun ab aankhen aainon se,
Khuda ka samna hone laga tha.

Wo ab aaine dhota phir raha hai,
Use chehre pe shak hone laga tha.

Mujhe ab dekh kar hansti hai duniya,
Main sab ke samne rone laga tha. !!

वो एक एक बात पे रोने लगा था,
समुंदर आबरू खोने लगा था !

लगे रहते थे सब दरवाज़े फिर भी,
मैं आँखें खोल कर सोने लगा था !

चुराता हूँ अब आँखें आइनों से,
ख़ुदा का सामना होने लगा था !

वो अब आईने धोता फिर रहा है,
उसे चेहरे पे शक होने लगा था !

मुझे अब देख कर हँसती है दुनिया,
मैं सब के सामने रोने लगा था !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Chaunk Chaunk Uthti Hai Mahlon Ki Faza Raat Gaye..

Chaunk Chaunk Uthti Hai Mahlon Ki Faza Raat Gaye.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Chaunk chaunk uthti hai mahlon ki faza raat gaye,
Kaun deta hai ye galiyon mein sada raat gaye.

Ye haqaeq ki chatanon se tarashi duniya,
Odh leti hai tilismon ki rida raat gaye.

Chubh ke rah jati hai sine mein badan ki khushbu,
Khol deta hai koi band-e-qaba raat gaye.

Aao hum jism ki shamon se ujala kar len,
Chaand nikla bhi to niklega zara raat gaye.

Tu na ab aaye to kya aaj talak aati hai,
Sidhiyon se tere qadmon ki sada raat gaye. !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Mauj-E-Gul Mauj-E-Saba Mauj-E-Sahar Lagti Hai..

Mauj-E-Gul Mauj-E-Saba Mauj-E-Sahar Lagti Hai.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Mauj-e-gul mauj-e-saba mauj-e-sahar lagti hai,
Sar se pa tak wo saman hai ki nazar lagti hai.

Hum ne har gam pe sajdon ke jalaye hain charagh,
Ab hamein teri gali rahguzar lagti hai.

Lamhe lamhe mein basi hai teri yaadon ki mahak,
Aaj ki raat to khushbu ka safar lagti hai.

Jal gaya apna nasheman to koi baat nahi,
Dekhna ye hai ki ab aag kidhar lagti hai.

Sari duniya mein gharibon ka lahu bahta hai,
Har zamin mujh ko mere khun se tar lagti hai.

Koi aasuda nahi ahl-e-siyasat ke siwa,
Ye sadi dushman-e-arbab-e-hunar lagti hai.

Waqia shehar mein kal to koi aisa na hua,
Ye to akhbar ke daftar ki khabar lagti hai.

Lucknow kya teri galiyon ka muqaddar tha yahi,
Har gali aaj teri khak-basar lagti hai. !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Jism Ki Har Baat Hai Aawargi Ye Mat Kaho..

Jism Ki Har Baat Hai Aawargi Ye Mat Kaho.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Jism ki har baat hai aawargi ye mat kaho,
Hum bhi kar sakte hain aisi shayari ye mat kaho.

Us nazar ki us badan ki gungunahat to suno,
Ek si hoti hai har ek ragni ye mat kaho.

Hum se diwanon ke bin duniya sanwarti kis tarah,
Aql ke aage hai kya diwangi ye mat kaho.

Kat saki hain aaj tak sone ki zanjiren kahan,
Hum bhi ab aazad hain yaro abhi ye mat kaho.

Panw itne tez hain uthte nazar aate nahi,
Aaj thak kar rah gaya hai aadmi ye mat kaho.

Jitne wade kal the utne aaj bhi maujud hain,
Un ke wadon mein hui hai kuch kami ye mat kaho.

Dil mein apne dard ki chhitki hui hai chandni,
Har taraf phaili hui hai tirgi ye mat kaho. !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Tum Pe Kya Beet Gayi Kuch To Batao Yaro..

Tum Pe Kya Beet Gayi Kuch To Batao Yaro.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Tum pe kya beet gayi kuch to batao yaro,
Main koi ghair nahi hun ki chhupao yaro.

In andheron se nikalne ki koi rah karo,
Khun-e-dil se koi mishal hi jalao yaro.

Ek bhi khwab na ho jin mein wo aankhen kya hain,
Ek na ek khwab to aankhon mein basao yaro.

Bojh duniya ka uthaunga akela kab tak,
Ho sake tum se to kuch haath batao yaro.

Zindagi yun to na banhon mein chali aayegi,
Gham-e-dauran ke zara naz uthao yaro.

Umar bhar qatl hua hun main tumhari khatir,
Aakhiri waqt to suli na chadhao yaro.

Aur kuch der tumhein dekh ke ji lun thahro,
Meri baalin se abhi uth ke na jao yaro. !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Mujhe Malum Hai Main Sari Duniya Ki Amanat Hun..

Mujhe Malum Hai Main Sari Duniya Ki Amanat Hun.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Mujhe malum hai main sari duniya ki amanat hun,
Magar wo lamha jab main sirf apna ho sa jata hun.

Main tum se dur rahta hun to mere sath rahti ho,
Tumhare pas aata hun to tanha ho sa jata hun.

Main chahe sach hi bolun har tarah se apne bare mein,
Magar tum muskuraati ho to jhuta ho sa jata hun.

Tere gul-rang honton se dahakti zindagi pi kar,
Main pyasa aur pyasa aur pyasa ho sa jata hun.

Tujhe banhon mein bhar lene ki khwahish yun ubharti hai,
Ki main apni nazar mein aap ruswa ho sa jata hun. !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi

अकबर इलाहाबादी की मशहूर शायरियां हिंदी में : –

अकबर इलाहाबादी मिलनसार इंसान थे उनके द्वारा लिखी हास्य रचना हास्य शायरी अपने आप में बेमिशाल हैं उन्हें कविताओं से भी लगाव था, वो चाहे ग़ज़ल हो या नज़्म हो या फिर शायरी की कोई भी विधा हो, अकबर इलाहाबादी का अपना ही एक अलग अन्दाज़ था। उर्दू में हास्य-व्यंग और मोहब्बत के लाज़वाब शायर थे और पेशे से इलाहाबाद में सेशन जज थे। अकबर इलाहाबादी का जन्म 1846 में इलाहाबाद के निकट बारा में हुआ था।

 

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi ! Akbar Allahabadi Poetry In english ! Akbar Allahabadi Famous Ghazal ! Akbar Allahabadi Nazm ! Akbar Allahabadi Quotes ! Akbar Allahabadi Poetry In Urdu ! Akbar Allahabadi Sher-O-Shayari In Urdu !

 

पेश है अकबर इलाहाबादी द्वारा लिखी गयी कुछ मशहूर शायरी जो दिल को छू ले

 

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi

Aayi hogi kisi ko hijr mein maut,
Mujh ko to nind bhi nahi aati.

आई होगी किसी को हिज्र में मौत,
मुझ को तो नींद भी नहीं आती !

 

Aah jo dil se nikali jayegi,
Kya samjhte ho ki khali jayegi.

आह जो दिल से निकाली जाएगी,
क्या समझते हो कि ख़ाली जाएगी !

 

Aashiqi ka ho bura us ne bigade sare kaam,
Hum to AB mein rahe ageyaar B.A. ho gaye.

आशिक़ी का हो बुरा उस ने बिगाड़े सारे काम,
हम तो ए.बी में रहे अग़्यार बी.ए हो गए !

 

Ab to hai ishq -e-butaa mein zindgaani ka maza,
Jab khuda ka samna hoga to dekha jayega.

अब तो है इश्क़-ए-बुताँ में ज़िंदगानी का मज़ा,
जब ख़ुदा का सामना होगा तो देखा जाएगा !

 

Akbar dabe nahi kisi sulatan ki fauj se,
Lekin shaheed ho gaye biwi ki nouj se.

अकबर दबे नहीं किसी सुल्ताँ की फ़ौज से,
लेकिन शहीद हो गए बीवी की नौज से !

 

Akal mein jo ghir gaya la-intiha kyukar hua,
Jo samaa mein aa gaya phir wo khuda kyukar hua.

अक़्ल में जो घिर गया ला-इंतिहा क्यूँकर हुआ,
जो समा में आ गया फिर वो ख़ुदा क्यूँकर हुआ !

 

Asar ye tere anfaas-e-masihai ka hai “Akbar”,
Allahabad se langda chala Lahore tak pahuncha.

असर ये तेरे अन्फ़ास-ए-मसीहाई का है “अकबर”,
इलाहाबाद से लंगड़ा चला लाहौर तक पहुँचा !

 

B.A. bhi paas hon mile B-B bhi dil-pasand,
Mehnat ki hai wo baat ye kismat ki baat hai.

बी.ए भी पास हों मिले बी-बी भी दिल-पसंद,
मेहनत की है वो बात ये क़िस्मत की बात है !

 

Bas jaan gaya main teri pahchan yahi hai,
Tu dil mein to aata hai samjh mein nahi aata.

बस जान गया मैं तिरी पहचान यही है,
तू दिल में तो आता है समझ में नहीं आता !

 

Bataun aap ko marne ke baad kya hoga,
Polaao khayenge ahbab fatiha hoga.

बताऊँ आप को मरने के बाद क्या होगा,
पोलाओ खाएँगे अहबाब फ़ातिहा होगा !

 

अकबर इलाहाबादी की मशहूर शायरियां हिंदी में

Bole ki tujh ko deen ki islaah farz hai,
Main chal diya ye kah ke ki aadab arz hai.

बोले कि तुझ को दीन की इस्लाह फ़र्ज़ है,
मैं चल दिया ये कह के कि आदाब अर्ज़ है !

 

But-kade mein shor hai “Akbar” musalman ho gaya,
Be-wafaon se koi kah de ki han han ho gaya.

बुत-कदे में शोर है ‘अकबर’ मुसलमाँ हो गया,
बे-वफ़ाओं से कोई कह दे कि हाँ हाँ हो गया !

 

Budhon ke saath log kanha tak wafa karein,
Budhon ko bhi jo maut na aaye to kya karein.

बूढ़ों के साथ लोग कहाँ तक वफ़ा करें,
बूढ़ों को भी जो मौत न आए तो क्या करें !

 

Coat aur patlun jo pahna to mister ban gaya,
Jab koi taqrir ki jalse mein leeder ban gaya.

कोट और पतलून जब पहना तो मिस्टर बन गया,
जब कोई तक़रीर की जलसे में लीडर बन गया !

 

Dam labon par tha dil-e-jar ke ghabrane se,
Aa gayi jaan mein jaan aap ke aa jane se.

दम लबों पर था दिल-ए-ज़ार के घबराने से,
आ गई जान में जान आप के आ जाने से !

 

Dil wo hai ki fariyaad se labrez hai har waqt,
Hum wo hain ki munh se nikalne nahi dete.

दिल वो है कि फ़रियाद से लबरेज़ है हर वक़्त,
हम वो हैं कि कुछ मुँह से निकलने नहीं देते !

 

Duniya mein hun duniya ka talabgaar nahi hun,
Bazaar se guzra hun kharidar nahi hun.

दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ,
बाज़ार से गुज़रा हूँ ख़रीदार नहीं हूँ !

 

Ek Qafir par tabiat aa gayi,
Paarsai par bhi aafat aa gayi.

एक काफ़िर पर तबीअत आ गई,
पारसाई पर भी आफ़त आ गई !

 

Falsafi ko behask ke andar khuda milta nahi,
Dor ko suljha raha hai aur sira milta nahi.

फ़लसफ़ी को बहस के अंदर ख़ुदा मिलता नहीं,
डोर को सुलझा रहा है और सिरा मिलता नहीं !

 

Ghamza nahi hota ki ishaara nahi hota,
Aankh un se jo milti hai to kya kya nahi hota.

ग़म्ज़ा नहीं होता कि इशारा नहीं होता,
आँख उन से जो मिलती है तो क्या क्या नहीं होता !

 

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi

Gajab hai wo ziddi bade ho gaye,
Main leta to uth ke khade ho gaye.

ग़ज़ब है वो ज़िद्दी बड़े हो गए,
मैं लेटा तो उठ के खड़े हो गए !

 

Hangama hai kyun barpa thodi si jo pee li hai,
Daaka to nahi mara chori to nahi ki hai.

हंगामा है क्यूँ बरपा थोड़ी सी जो पी ली है,
डाका तो नहीं मारा चोरी तो नहीं की है !

 

Hum aah bhi karte hain to ho jate hai badnaam,
Wo qatl bhi karte hain to charcha nahi hota.

हम आह भी करते हैं तो हो जाते हैं बदनाम,
वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता !

 

Hum kya kahein ahbaab kya car-e-numayan kar gaye,
B.A. huye nokar huye penshan mili phir mar gaye.

हम क्या कहें अहबाब क्या कार-ए-नुमायाँ कर गए,
बी-ए हुए नौकर हुए पेंशन मिली फिर मर गए !

 

Har zarra chamkta hai anwar-e-ilaahi se,
Har saans ye kahti hai hum hain to khuda bhi hai.

हर ज़र्रा चमकता है अनवार-ए-इलाही से,
हर साँस ये कहती है हम हैं तो ख़ुदा भी है !

 

Haya se sar jhuka lena ada se muskura dena,
Hasinon ko bhi kitana sahal hai bijali gira dena.

हया से सर झुका लेना अदा से मुस्कुरा देना,
हसीनों को भी कितना सहल है बिजली गिरा देना !

 

Illahi kaisi kaisi suratein tu ne banai hain,
Ki har surat kaleje se laga lene ke qabil hai.

इलाही कैसी कैसी सूरतें तू ने बनाई हैं,
कि हर सूरत कलेजे से लगा लेने के क़ाबिल है !

 

Is gulistan mein bahut kaliyan mujhe tadpa gayi,
Kyun lagi thi shaakh mein kyun be-khile murjha gayi.

इस गुलिस्ताँ में बहुत कलियाँ मुझे तड़पा गईं,
क्यूँ लगी थीं शाख़ में क्यूँ बे-खिले मुरझा गईं !

 

Ishq ke izhaar mein har-chand ruswai to hai,
Par karun kya ab tabiyat aap par aayi to hai.

इश्क़ के इज़हार में हर-चंद रुस्वाई तो है,
पर करूँ क्या अब तबीअत आप पर आई तो है !

 

Ishq nazuk-mizaj hai behad,
Aqal ka bojh utha nahi sakta.

इश्क़ नाज़ुक-मिज़ाज है बेहद,
अक़्ल का बोझ उठा नहीं सकता !

 

अकबर इलाहाबादी की मशहूर शायरियां हिंदी में

Jab gham hua chadha lin do botalen ikathi,
Mullah ki doad masjid “Akbar” ki doad bhathee.

जब ग़म हुआ चढ़ा लीं दो बोतलें इकट्ठी,
मुल्ला की दौड़ मस्जिद “अकबर” की दौड़ भट्टी !

 

Jab main kahta hun ki ya allah mera haal dekh,
Huqam hota hai ki apna nama-e-aamaal dekh.

जब मैं कहता हूँ कि या अल्लाह मेरा हाल देख,
हुक्म होता है कि अपना नामा-ए-आमाल देख !

 

Jawani ki hai aamad sharm se jhuk sakti hai aankhein,
Magar sine ka fitna ruk nahi sakta ubharne se.

जवानी की है आमद शर्म से झुक सकती हैं आँखें,
मगर सीने का फ़ित्ना रुक नहीं सकता उभरने से !

 

Jis tarf uth gayi hain aanhein hain,
Chashm-e-bad-dur kya nigahein hain.

जिस तरफ़ उठ गई हैं आहें हैं,
चश्म-ए-बद-दूर क्या निगाहें हैं !

 

Jo kaha main ne ki pyar aata hai mujh ko tum par,
Hans ke kahane laga aur aap ko aata kya hai.

जो कहा मैं ने कि प्यार आता है मुझ को तुम पर,
हँस के कहने लगा और आप को आता क्या है !

 

Khincho na kamanon ko na talwar nikalo,
Jab top muqabil ho to akhbar nikalo.

खींचो न कमानों को न तलवार निकालो,
जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो !

 

Khuda se mang jo kuch mangna hai aye “Akbar”,
Yahi wo dar hai ki jillat nahi sawal ke baad.

ख़ुदा से माँग जो कुछ माँगना है ऐ “अकबर”,
यही वो दर है कि ज़िल्लत नहीं सवाल के बाद !

 

Kuch tarz-e-sitam bhi hai kuch andaz-e-wafa bhi,
Khulta nahi haal un ki tabiyat ka zara bhi.

कुछ तर्ज़-ए-सितम भी है कुछ अंदाज़-ए-वफ़ा भी,
खुलता नहीं हाल उन की तबीअत का ज़रा भी !

 

Kya hi rah rah ke tabiyat meri ghabraati hai,
Maut aati hai shab-e-hijr na nind aati hai.

क्या ही रह रह के तबीअत मेरी घबराती है,
मौत आती है शब-ए-हिज्र न नींद आती है !

 

Kya wo khawahish ki jise dil bhi samjhta ho haqir,
Aarzoo wo hai jo sine mein rahe naaz ke saath.

क्या वो ख़्वाहिश कि जिसे दिल भी समझता हो हक़ीर,
आरज़ू वो है जो सीने में रहे नाज़ के साथ !

 

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi

Lagawat ki ada se un ka kahna paan hazir hai,
Qayamat hai sitam hai dil fida hai jaan hazir hai.

लगावट की अदा से उन का कहना पान हाज़िर है,
क़यामत है सितम है दिल फ़िदा है जान हाज़िर है !

 

Log kahte hain badalta hai zamana sab ko,
Mard wo hai jo zamane ko badal dete hai.

लोग कहते हैं बदलता है ज़माना सब को,
मर्द वो हैं जो ज़माने को बदल देते हैं !

 

Log kahte hain ki ba-naami se bachna chahiye,
Kah do be is ke jawani ka maza milta nahi.

लोग कहते हैं कि बद-नामी से बचना चाहिए,
कह दो बे इस के जवानी का मज़ा मिलता नहीं !

 

Maut aayi ishq mein to hamein nind aa gayi,
Nikali badan se jaan to kanta nikal gaya.

मौत आई इश्क़ में तो हमें नींद आ गई,
निकली बदन से जान तो काँटा निकल गया !

 

Mazhabi bahas main ne ki hi nahi,
Faaltu aqal mujh mein thi hi nahi.

मज़हबी बहस मैं ने की ही नहीं,
फ़ालतू अक़्ल मुझ में थी ही नहीं !

 

Mere hawas ishq mein kya kam hain muntshir,
Majanun ka naam ho gaya kismat ki baat hai.

मेरे हवास इश्क़ में क्या कम हैं मुंतशिर,
मजनूँ का नाम हो गया क़िस्मत की बात है !

 

Meri ye baicheniya aur un ka kahna naaz se,
Hans ke tum se bol to lete hain aur hum kya karien.

मेरी ये बेचैनियाँ और उन का कहना नाज़ से,
हँस के तुम से बोल तो लेते हैं और हम क्या करें !

 

Mohabbat Ka tum se asar kya kahun,
Nazar mil gayi dil dhadkne laga.

मोहब्बत का तुम से असर क्या कहूँ,
नज़र मिल गई दिल धड़कने लगा !

 

Publik mein zara haath mila lijiye mujh se,
Sahab mere imaan ki kimat hai to ye hai.

पब्लिक में ज़रा हाथ मिला लीजिए मुझ से,
साहब मेरे ईमान की क़ीमत है तो ये है !

 

Pucha “Akbar” hai aadmi kaisa,
Hans ke bole wo aadmi hi nahi.

पूछा “अकबर” है आदमी कैसा,
हँस के बोले वो आदमी ही नहीं !

 

Talluk aashiq o maashuk ka to lutf rakhta tha,
Maze ab wo kahan baaki rahe biwi miyan ho kar.

तअल्लुक़ आशिक़ ओ माशूक़ का तो लुत्फ़ रखता था,
मज़े अब वो कहाँ बाक़ी रहे बीवी मियाँ हो कर !

 

Akbar Allahabadi Shayari /Poetry /Ghazal

 

Meaning Of Urdu Words : –

Urdu

Hindi

English

जर्रा कण Particle
वस्ल
जोड़, मिलन, मिलान, प्रेमी और प्रेमिका का संयोग Meeting, Connection, Union
सहल
आसान Easy, Simple
हक़ीर
तुच्छ, कमीना, अत्यल्प, बहुत छोटा, बहुत थोड़ा Despicable, Contemptible, Mean
आरजू
तमन्ना ,इच्छा, ख़्वाहिश, मनोकामना, चाहत Desire, Wish, Longing
आशिक़
प्रेमी Lover
माशूक़
प्रेमिका Beloved
ग़म्ज़ा
शोख नज़र, कामुक नज़र Coquetry
तअल्लुक़
सम्बन्ध Relationship
अहबाब
मित्र, दोस्त, प्रिय जन Friends, Lovers, Dear Ones
मुखालिफ
दुशमन, विरोधी, शत्रु Opposite, An Opponent, Unfavorable, Enemy
कार-ए-नुमायाँ
विशिष्ट कार्य, उपलब्धि Prominent Action, Bold Action
शब-ए-वस्ल
मिलन की रात Night Of Union
अनवार-ए-इलाही
भगवान की रौशनी Radiance Of God

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi ! Akbar Allahabadi Poetry In english ! Akbar Allahabadi Famous Ghazal ! Akbar Allahabadi Nazm ! Akbar Allahabadi Quotes ! Akbar Allahabadi Poetry In Urdu ! Akbar Allahabadi Sher-O-Shayari In Urdu !

 

 

Mehrbani Hai Ayaadat Ko Jo Aate Hain Magar..

Mehrbani Hai Ayaadat Ko Jo Aate Hain Magar.. Akbar Allahabadi Poetry

Mehrbani hai ayaadat ko jo aate hain magar,
Kis tarah un se hamara haal dekha jayega.

Daftar-e-duniya ulat jayega baatil yak-qalam,
Zarra zarra sab ka asli haal dekha jayega.

Official aamal-nama ki na hogi kuch sanad,
Hashr mein to nama-e-amal dekha jayega.

Bach rahe taun se to ahl-e-ghaflat bol uthe,
Ab to mohlat hai phir agle sal dekha jayega.

Tah karo sahab nasb-nami wo waqt aaya hai ab,
Be-asar hogi sharafat mal dekha jayega.

Rakh qadam sabit na chhod “Akbar” siraat-e-mustaqim,
Khair chal jaane de un ki chaal dekha jayega. !!

-Akbar Allahabadi Poetry / Ghazals

 

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

इश्क़, वफा और ईमान का मिश्रण ही नहीं है, बेवफ़ाई के किरदार भी प्रेम कहानियों में कई मोड़ देते है। उर्दू और हिंदी शायरी अग़र मोहब्बत के हर्फों से फटी पड़ी है तो बेवफ़ाई की मौजूदगी को भी शायरों ने नज़र अंदाज नहीं किया है। दोस्तों आज का यह पोस्ट खास उन दोस्तों के लिए जिन्हे वफ़ा के बदले बेवफाई मिली हैं। प्यार के बदले सिर्फ और सिर्फ रुस्वाई मिली हैं।

Bewafa Shayari In Hindi

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line का यह कलेक्शन आपको जरूर पसंद आएगा इसमें मिलेगा Bewafa Shayari In Hindi ! Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend ! Bewafa Poetry In Hindi ! Bewafa Poetry SMS ! Bewafa Poetry In Urdu 2 Lines ! Bewafa Shayari Status ! Hindi Shayari Bewafa Sanam ! Dard Bhari Bewafa Shayari ! Bewafa Quotes ! Bewafa Shayari Images जो आपके दर्द को ज्यादा कम तो नहीं कर सकता लेकिन आराम जरूर देगा ।

 

पेश है “बेवफा शायरी” पर शायरों के अल्फ़ाज़ हिंदी में…

 

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

 

Kuch to majburiyan rahi hongi,
Yun koi bewafa nahi hota.

कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी,
यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता !

 

Tum ne kiya na yaad kabhi bhul kar humein,
Hum ne tumhari yaad mein sab kuch bhula diya.

तुम ने किया न याद कभी भूल कर हमें,
हम ने तुम्हारी याद में सब कुछ भुला दिया !

 

Hum se kya ho saka mohabbat mein,
Khair tum ne to bewafai ki.

हम से क्या हो सका मोहब्बत में,
ख़ैर तुम ने तो बेवफ़ाई की !

 

Ek ajab haal hai ki ab us ko,
Yaad karna bhi bewafai hai.

एक अजब हाल है कि अब उस को,
याद करना भी बेवफ़ाई है !

 

Kaam aa saki na apni wafayein to kya karein,
Us bewafa ko bhul na jayein to kya karein.

काम आ सकीं ना अपनी वफ़ाएं तो क्या करें,
उस बेवफा को भूल ना जाएं तो क्या करें !

 

Dil bhi gustakh ho chala tha bahut,
Shukr hai ki yaar hi bewafa nikla.

दिल भी गुस्ताख हो चला था बहुत,
शुक्र है की यार ही बेवफा निकला !

 

Sirf ek hi baat sikhi in husan walon se humne,
Haseen jis ki jitni adaa hai woh utna hi bewafa hai.

सिर्फ एक ही बात सीखी इन हुस्न वालों से हमने​​,
हसीन जिसकी जितनी अदा है वो उतना ही बेवफा है !

 

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

Band kar dena khuli aankhon ko meri aa ke tum,
Aks tera dekh kar kah de na koi bewafa.

बंद कर देना खुली आँखों को मेरी आ के तुम,
अक्स तेरा देख कर कह दे न कोई बेवफा !

 

Is kadr musalsal thi shidatein judaai ki,
Aaj pahli bar us se maine bewafai ki.

इस क़दर मुसलसल थीं शिद्दतें जुदाई की,
आज पहली बार उस से मैं ने बेवफ़ाई की !

 

Mil hi jayega koi na koi tut ke chahne wala,
Ab shehar ka shehar to bewafa ho nahi sakta.

मिल ही जाएगा कोई ना कोई टूट के चाहने वाला,
अब शहर का शहर तो बेवफा हो नहीं सकता !

 

Roye kuch is tarah se mere jism se lipat ke,
Aisa laga ke jaise kabhi bewafa na the wo.

रोये कुछ इस तरह से मेरे जिस्म से लिपट के,
ऐसा लगा के जैसे कभी बेवफा न थे वो !

 

Bewafa Shayari Status

Chala tha zikr zamane ki bewafai ka,
Sau aa gaya hai tumhara khayal waise hi.

चला था ज़िक्र ज़माने की बेवफ़ाई का,
सो आ गया है तुम्हारा ख़याल वैसे ही !

 

Mohabbat ka natija duniya mein humne bura dekha,
Jinhe dava tha wafa ka unhen bhi humne bewafa dekha.

मोहब्बत का नतीजा दुनिया में हमने बुरा देखा,
जिन्हें दावा था वफ़ा का उन्हें भी हमने बेवफा देखा !

 

Tera khayal dil se mitaya nahi abhi,
Bewafa maine tujhko bhulaya nahi abhi.

तेरा ख्याल दिल से मिटाया नहीं अभी,
बेवफा मैंने तुझको भुलाया नहीं अभी !

 

Aashiqi mein bahut zaruri hai,
Bewafai kabhi kabhi karna.

आशिक़ी में बहुत ज़रूरी है,
बेवफ़ाई कभी कभी करना !

 

Dard Bhari Bewafa Shayari

Rushwa kyu karte ho tum ishq ko aye duniya walo,
Mehboob tumhara bewafa hai to ishq ka kya gunah.

रुशवा क्यों करते हो तुम इश्क़ को ए दुनिया वालो,
मेहबूब तुम्हारा बेवफा है तो इश्क़ का क्या गनाह !

 

Woh mili bhi to kya mili ban ke bewafa mili,
Itane to mere gunah na the jitni mujhe saza mili.

वो मिली भी तो क्या मिली बन के बेवफा मिली,
इतने तो मेरे गुनाह ना थे जितनी मुझे सजा मिली !

 

Khuda nee puchha kya saza dun us bewafa ko,
Dil ne kaha mohabbat ho jaye use bhi.

खुदा ने पूछा क्या सज़ा दूँ उस बेवफ़ा को,
दिल ने कहा मोहब्बत हो जाए उसे भी !

 

Bewafaon ki is duniya mein sanbhalkar chalna,
Yhan mohabbat se bhi barbaad kar dete hain log.

बेवफाओं की इस दुनियां में संभलकर चलना,
यहाँ मुहब्बत से भी बर्बाद कर देते हैं लोग !

 

Bewafai pe teri jo hai fida,
Kahar hota jo ba-wafa hota.

बेवफ़ाई पे तेरी जी है फ़िदा,
क़हर होता जो बा-वफ़ा होता !

 

Kisi ka ruth jana aur achanak bewafa hona,
Mohabbat mein yehi lamha qayamat ki nishani hai.

किसी का रूठ जाना और अचानक बेवफा होना,
मोहब्बत में यही लम्हा क़यामत की निशानी है !

 

Fir se niklenge talash-e-zindagi mein,
Dua karna is baar koi bewafa na mile.

फिर से निकलेंगे तलाश-ए-ज़िन्दगी में,
दुआ करना इस बार कोई बेवफा न मिले !

 

Itni mushkil bhi na thi raah meri mohabbat ki,
Kuch zamana khilaaf hua kuch woh bewafa huye.

इतनी मुश्किल भी न थी राह मेरी मोहब्बत की,
कुछ ज़माना खिलाफ हुआ कुछ वो बेवफा हुए !

 

Hindi Shayari Bewafa Sanam

Suno ek baar mohabbat karni hai tumse,
Lekin is baar bewafai hum karenge.

सुनो एक बार और मोहब्बत करनी है तुमसे,
लेकिन इस बार बेवफाई हम करेंगे !

 

Uski bewafai pe bhi fida hoti hai jaan apni,
Agar us mein wafa hoti to kya hota khuda jane.

उसकी बेवफाई पे भी फ़िदा होती है जान अपनी,
अगर उसमे वफ़ा होती तो क्या होता खुदा जाने !

 

Meri mohabbat sachchi hai is liye teri yaad aati hai,
Agar teri bewafai sachchi hai to ab yaad mat aana.

मेरी मोहब्बत सच्ची है इसलिए तेरी याद आती है,
अगर तेरी बेवफाई सच्ची है तो अब याद मत आना !

 

Jab tak na lage bewafai ki thhokar dost,
Har kisi ko apni pasand par naaz hota hai.

जब तक न लगे बेवफ़ाई की ठोकर दोस्त,
हर किसी को अपनी पसंद पर नाज़ होता है !

 

Meri aankho se behne wala ye awara sa aansoo,
Punchh raha hai palkon se teri bewafai ki wajah.

मेरी आँखों से बहने वाला ये आवारा सा आसूँ,
पूंछ रहा है पलकों से तेरी बेवफाई की वजह !

 

Tujhe hai mashq-e-sitam ka malaal waise hi,
Humari jaan hain jaan par wabaal waise hi.

तुझे है मशक-ए-सितम का मलाल वैसे ही,
हमारी जान थी, जान पर वबाल वैसे ही !

 

Na koi majburi hai na to lachari hai,
Bewafai uski paidayshi bimari hai.

न कोई मज़बूरी है न तो लाचारी है,
बेवफाई उसकी पैदायशी बीमारी है !

 

Dil bhi toda to saliqe se na toda tum ne,
Bewafai ke bhi aadab hua karte hain.

दिल भी तोड़ा तो सलीक़े से न तोड़ा तुम ने,
बेवफ़ाई के भी आदाब हुआ करते हैं !

 

Bewafa Quotes

Mohabbat se bhari koi ghazal use pasand Nnhi,
Bewafai ke har sher pe wo daad diya karte hain.

मोहब्बत से भरी कोई गजल उसे पसंद नहीं,
बेवफाई के हर शेर पे वो दाद दिया करते हैं !

 

Har bhul teri maaf ki teri har khata ko Bhula diya,
Gham hai ki mere pyar ka tu ne bewafai sila diya.

हर भूल तेरी माफ़ की तेरी हर खता को भुला दिया,
गम है कि मेरे प्यार का तूने बेवफाई सिला दिया !

 

Mere fan ko tarasha hai sabhi ke nek iraadon ne,
Kisi ki bewafai ne kisi ke jhuthhe wadon ne.

मेरे फन को तराशा है सभी के नेक इरादों ने,
किसी की बेवफाई ने किसी के झूठे वादों ने !

 

Hum use yaad bahut aayenge,
Jab use bhi koi thukrayega.

हम उसे याद बहुत आएँगे,
जब उसे भी कोई ठुकराएगा !

Udh gayi yun wafa zamane se,
Kabhi goya kisi mein thi hi nahi.

उड़ गई यूँ वफ़ा ज़माने से,
कभी गोया किसी में थी ही नहीं !

 

Mere baad wafa ka dhokha aur kisi se mat karna,
Gaali degi duniya tujh ko sar mera jhuk jayega.

मेरे बाद वफ़ा का धोखा और किसी से मत करना,
गाली देगी दुनिया तुझ को सर मेरा झुक जाएगा !

 

Bewafa Poetry In Hindi

Tum kisi ke bhi ho nahi sakte,
Tum ko apna bana ke dekh liya.

तुम किसी के भी हो नहीं सकते,
तुम को अपना बना के देख लिया !

 

Ye kya ki tum ne jafa se bhi haath khinch liya,
Meri wafaon ka kuch to sila diya hota !

ये क्या कि तुम ने जफ़ा से भी हाथ खींच लिया,
मेरी वफ़ाओं का कुछ तो सिला दिया होता !

 

Wafa ki khair manata hun bewafai mein bhi,
Main us ki qaid mein hun qaid se rihai mein bhi.

वफ़ा की ख़ैर मनाता हूँ बेवफ़ाई में भी,
मैं उस की क़ैद में हूँ क़ैद से रिहाई में भी !

 

Hum ne to khud ko bhi mita dala,
Tum ne to sirf bewafai ki.

हम ने तो ख़ुद को भी मिटा डाला,
तुम ने तो सिर्फ़ बेवफ़ाई की !

 

Gila likhun main agar teri bewafai ka,
Lahu mein gark safina ho aasnai ka.

गिला लिखूँ मैं अगर तेरी बेवफ़ाई का,
लहू में ग़र्क़ सफ़ीना हो आश्नाई का !

 

Jo mila us ne bewafai ki,
Kuch ajab rang hai zamane ka

जो मिला उस ने बेवफ़ाई की,
कुछ अजब रंग है ज़माने का !

 

Umeed un se wafa ki to khair kije,
Jafa bhi karte nahi wo kabhi jafa ki trah.

उमीद उन से वफ़ा की तो ख़ैर क्या कीजे,
जफ़ा भी करते नहीं वो कभी जफ़ा की तरह !

 

Tum jafa par bhi to nahi qayem,
Hum wafa umar bhar karein kyun kar.

तुम जफ़ा पर भी तो नहीं क़ाएम,
हम वफ़ा उम्र भर करें क्यूँ-कर !

 

Bewafa Shayari / Poetry / Status / Quotes / Sms