Monday , September 28 2020

Poetry Types Dil

Dil Mein Aise Thahar Gaye Hain Gham..

Dil Mein Aise Thahar Gaye Hain Gham.. Gulzar Nazm !

Dil mein aise thahar gaye hain gham

Dil mein aise thahar gaye hain gham
Jaise jangal mein shaam ke saye
Jate jate sahm ke ruk jayen
Mar ke dekhen udaas rahon par
Kaise bujhte hue ujalon mein
Dur tak dhul hi dhul udti hai !! -Gulzar Nazm

दिल में ऐसे ठहर गए हैं ग़म
जैसे जंगल में शाम के साए
जाते जाते सहम के रुक जाएँ
मर के देखें उदास राहों पर
कैसे बुझते हुए उजालों में
दूर तक धूल ही धूल उड़ती है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Koi Atka Hua Hai Pal Shayad..

Koi Atka Hua Hai Pal Shayad.. Gulzar Poetry !

Koi atka hua hai pal shayad,
Waqt mein pad gaya hai bal shayad.

Lab pe aayi meri ghazal shayad,
Wo akele hain aaj-kal shayad.

Dil agar hai to dard bhi hoga,
Is ka koi nahi hai hal shayad.

Jaante hain sawab-e-rahm-o-karam,
Un se hota nahi amal shayad.

Aa rahi hai jo chhap qadmon ki,
Khil rahe hain kahin kanwal shayad.

Rakh ko bhi kured kar dekho,
Abhi jalta ho koi pal shayad.

Chaand dube to chaand hi nikle,
Aap ke paas hoga hal shayad. !! -Gulzar Poetry

कोई अटका हुआ है पल शायद,
वक़्त में पड़ गया है बल शायद !

लब पे आई मेरी ग़ज़ल शायद,
वो अकेले हैं आज-कल शायद !

दिल अगर है तो दर्द भी होगा,
इस का कोई नहीं है हल शायद !

जानते हैं सवाब-ए-रहम-ओ-करम,
उन से होता नहीं अमल शायद !

आ रही है जो छाप क़दमों की,
खिल रहे हैं कहीं कँवल शायद !

राख को भी कुरेद कर देखो,
अभी जलता हो कोई पल शायद !

चाँद डूबे तो चाँद ही निकले,
आप के पास होगा हल शायद !! -गुलज़ार कविता

 

Gulon Ko Sunna Zara Tum Sadayen Bheji Hain..

Gulon Ko Sunna Zara Tum Sadayen Bheji Hain.. Gulzar Poetry !

Gulon ko sunna zara tum sadayen bheji hain,
Gulon ke haath bahut si duayen bheji hain.

Jo aaftab kabhi bhi ghurub hota nahi,
Hamara dil hai usi ki shuayen bheji hain.

Agar jalaye tumhein bhi shifa mile shayad,
Ek aise dard ki tum ko shuayen bheji hain.

Tumhaari khushk si aankhen bhali nahi lagtin,
Wo sari chizen jo tum ko rulayen bheji hain.

Siyah rang chamakti hui kanari hai,
Pahan lo achchhi lagengi ghatayen bheji hain.

Tumhaare khwaab se har shab lipat ke sote hain,
Sazayen bhej do hum ne khatayen bheji hain.

Akela patta hawa mein bahut buland uda,
Zameen se panv uthao hawayen bheji hain. !! -Gulzar Poetry

गुलों को सुनना ज़रा तुम सदाएँ भेजी हैं,
गुलों के हाथ बहुत सी दुआएँ भेजी हैं !

जो आफ़्ताब कभी भी ग़ुरूब होता नहीं,
हमारा दिल है उसी की शुआएँ भेजी हैं !

अगर जलाए तुम्हें भी शिफ़ा मिले शायद,
इक ऐसे दर्द की तुम को शुआएँ भेजी हैं !

तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं,
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ भेजी हैं !

सियाह रंग चमकती हुई कनारी है,
पहन लो अच्छी लगेंगी घटाएँ भेजी हैं !

तुम्हारे ख़्वाब से हर शब लिपट के सोते हैं,
सज़ाएँ भेज दो हम ने ख़ताएँ भेजी हैं !

अकेला पत्ता हवा में बहुत बुलंद उड़ा,
ज़मीं से पाँव उठाओ हवाएँ भेजी हैं !! -गुलज़ार कविता

 

Phool Ne Tahni Se Udne Ki Koshish Ki..

Phool Ne Tahni Se Udne Ki Koshish Ki.. Gulzar Poetry !

Phool ne tahni se udne ki koshish ki,
Ek tair ka dil rakhne ki koshish ki.

Kal phir chaand ka khanjar ghonp ke sine mein,
Raat ne meri jaan lene ki koshish ki.

Koi na koi rahbar rasta kat gaya,
Jab bhi apni rah chalne ki koshish ki.

Kitni lambi khamoshi se guzra hun,
Un se kitna kuch kahne ki koshish ki.

Ek hi khwaab ne sari raat jagaya hai,
Main ne har karwat sone ki koshish ki.

Ek sitara jaldi jaldi dub gaya,
Main ne jab tare ginne ki koshish ki.

Naam mera tha aur pata apne ghar ka,
Us ne mujh ko khat likhne ki koshish ki.

Ek dhuen ka marghola sa nikla hai,
Mitti mein jab dil bone ki koshish ki. !! -Gulzar Poetry

फूल ने टहनी से उड़ने की कोशिश की,
एक ताइर का दिल रखने की कोशिश की !

कल फिर चाँद का ख़ंजर घोंप के सीने में,
रात ने मेरी जाँ लेने की कोशिश की !

कोई न कोई रहबर रस्ता काट गया,
जब भी अपनी रह चलने की कोशिश की !

कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ,
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की !

एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है,
मैं ने हर करवट सोने की कोशिश की !

एक सितारा जल्दी जल्दी डूब गया,
मैं ने जब तारे गिनने की कोशिश की !

नाम मेरा था और पता अपने घर का,
उस ने मुझ को ख़त लिखने की कोशिश की !

एक धुएँ का मर्ग़ोला सा निकला है,
मिट्टी में जब दिल बोने की कोशिश की !! -गुलज़ार कविता

 

Khud-Ba-Khud Mai Hai Ki Shishe Mein Bhari Aawe Hai..

Khud-Ba-Khud Mai Hai Ki Shishe Mein Bhari Aawe Hai.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Khud-ba-khud mai hai ki shishe mein bhari aawe hai,
Kis bala ki tumhein jadu-nazari aawe hai.

Dil mein dar aawe hai har subh koi yaad aise,
Jun dabe-panw nasim-e-sahari aawe hai.

Aur bhi zakhm hue jate hain gahre dil ke,
Hum to samjhe the tumhein chaaragari aawe hai.

Ek qatra bhi lahu jab na rahe sine mein,
Tab kahin ishq mein kuch be-jigari aawe hai.

Chaak-e-daman-o-gireban ke bhi aadab hain kuch,
Har diwane ko kahan jama-dari aawe hai.

Shajar-e-ishq to mange hai lahu ke aansoo,
Tab kahin ja ke koi shakh hari aawe hai.

Tu kabhi rag kabhi rang kabhi khushbu hai,
Kaisi kaisi na tujhe ishwa-gari aawe hai.

Aap-apne ko bhulana koi aasan nahi,
Badi mushkil se miyan be-khabari aawe hai.

Aye mere shehar-e-nigaran tera kya haal hua,
Chappe chappe pe mere aankh bhari aawe hai.

Sahibo husn ki pahchan koi khel nahi,
Dil lahu ho to kahin dida-wari aawe hai. !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Tulu-E-Subh Hai Nazren Utha Ke Dekh Zara..

Tulu-E-Subh Hai Nazren Utha Ke Dekh Zara.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Tulu-e-subh hai nazren utha ke dekh zara,
Shikast-e-zulmat-e-shab muskura ke dekh zara.

Gham-e-bahaar o gham-e-yaar hi nahi sab kuch,
Gham-e-jahan se bhi dil ko laga ke dekh zara.

Bahaar kaun si saughat le ke aayi hai,
Hamare zakhm-e-tamanna tu aa ke dekh zara.

Har ek samt se ek aaftab ubhrega,
Charagh-e-dair-o-haram to bujha ke dekh zara.

Wajud-e-ishq ki tarikh ka pata to chale,
Waraq ulat ke tu arz o sama ke dekh zara.

Mile to tu hi mile aur kuch qubul nahi,
Jahan mein hausle ahl-e-wafa ke dekh zara.

Teri nazar se hai rishta mere gireban ka,
Kidhar hai meri taraf muskura ke dekh zara. !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Zara Si Baat Pe Har Rasm Tod Aaya Tha..

Zara Si Baat Pe Har Rasm Tod Aaya Tha.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Zara si baat pe har rasm tod aaya tha,
Dil-e-tabah ne bhi kya mizaj paya tha.

Guzar gaya hai koi lamha-e-sharar ki tarah,
Abhi to main use pahchan bhi na paya tha.

Muaf kar na saki meri zindagi mujh ko,
Wo ek lamha ki main tujh se tang aaya tha.

Shagufta phool simat kar kali bane jaise,
Kuch is kamal se tu ne badan churaya tha.

Pata nahi ki mere baad un pe kya guzri,
Main chand khwab zamane mein chhod aaya tha. !!

ज़रा सी बात पे हर रस्म तोड़ आया था.. “जान निसार अख्तर” कविता हिंदी में !

ज़रा सी बात पे हर रस्म तोड़ आया था,
दिल-ए-तबाह ने भी क्या मिज़ाज पाया था !

गुज़र गया है कोई लम्हा-ए-शरर की तरह,
अभी तो मैं उसे पहचान भी न पाया था !

मुआफ़ कर न सकी मेरी ज़िंदगी मुझ को,
वो एक लम्हा कि मैं तुझ से तंग आया था !

शगुफ़्ता फूल सिमट कर कली बने जैसे,
कुछ इस कमाल से तू ने बदन चुराया था !

पता नहीं कि मेरे बाद उन पे क्या गुज़री,
मैं चंद ख़्वाब ज़माने में छोड़ आया था !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

इश्क़, वफा और ईमान का मिश्रण ही नहीं है, बेवफ़ाई के किरदार भी प्रेम कहानियों में कई मोड़ देते है। उर्दू और हिंदी शायरी अग़र मोहब्बत के हर्फों से फटी पड़ी है तो बेवफ़ाई की मौजूदगी को भी शायरों ने नज़र अंदाज नहीं किया है। दोस्तों आज का यह पोस्ट खास उन दोस्तों के लिए जिन्हे वफ़ा के बदले बेवफाई मिली हैं। प्यार के बदले सिर्फ और सिर्फ रुस्वाई मिली हैं।

Bewafa Shayari In Hindi

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line का यह कलेक्शन आपको जरूर पसंद आएगा इसमें मिलेगा Bewafa Shayari In Hindi ! Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend ! Bewafa Poetry In Hindi ! Bewafa Poetry SMS ! Bewafa Poetry In Urdu 2 Lines ! Bewafa Shayari Status ! Hindi Shayari Bewafa Sanam ! Dard Bhari Bewafa Shayari ! Bewafa Quotes ! Bewafa Shayari Images जो आपके दर्द को ज्यादा कम तो नहीं कर सकता लेकिन आराम जरूर देगा ।

 

पेश है “बेवफा शायरी” पर शायरों के अल्फ़ाज़ हिंदी में…

 

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

 

Kuch to majburiyan rahi hongi,
Yun koi bewafa nahi hota.

कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी,
यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता !

 

Tum ne kiya na yaad kabhi bhul kar humein,
Hum ne tumhari yaad mein sab kuch bhula diya.

तुम ने किया न याद कभी भूल कर हमें,
हम ने तुम्हारी याद में सब कुछ भुला दिया !

 

Hum se kya ho saka mohabbat mein,
Khair tum ne to bewafai ki.

हम से क्या हो सका मोहब्बत में,
ख़ैर तुम ने तो बेवफ़ाई की !

 

Ek ajab haal hai ki ab us ko,
Yaad karna bhi bewafai hai.

एक अजब हाल है कि अब उस को,
याद करना भी बेवफ़ाई है !

 

Kaam aa saki na apni wafayein to kya karein,
Us bewafa ko bhul na jayein to kya karein.

काम आ सकीं ना अपनी वफ़ाएं तो क्या करें,
उस बेवफा को भूल ना जाएं तो क्या करें !

 

Dil bhi gustakh ho chala tha bahut,
Shukr hai ki yaar hi bewafa nikla.

दिल भी गुस्ताख हो चला था बहुत,
शुक्र है की यार ही बेवफा निकला !

 

Sirf ek hi baat sikhi in husan walon se humne,
Haseen jis ki jitni adaa hai woh utna hi bewafa hai.

सिर्फ एक ही बात सीखी इन हुस्न वालों से हमने​​,
हसीन जिसकी जितनी अदा है वो उतना ही बेवफा है !

 

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

Band kar dena khuli aankhon ko meri aa ke tum,
Aks tera dekh kar kah de na koi bewafa.

बंद कर देना खुली आँखों को मेरी आ के तुम,
अक्स तेरा देख कर कह दे न कोई बेवफा !

 

Is kadr musalsal thi shidatein judaai ki,
Aaj pahli bar us se maine bewafai ki.

इस क़दर मुसलसल थीं शिद्दतें जुदाई की,
आज पहली बार उस से मैं ने बेवफ़ाई की !

 

Mil hi jayega koi na koi tut ke chahne wala,
Ab shehar ka shehar to bewafa ho nahi sakta.

मिल ही जाएगा कोई ना कोई टूट के चाहने वाला,
अब शहर का शहर तो बेवफा हो नहीं सकता !

 

Roye kuch is tarah se mere jism se lipat ke,
Aisa laga ke jaise kabhi bewafa na the wo.

रोये कुछ इस तरह से मेरे जिस्म से लिपट के,
ऐसा लगा के जैसे कभी बेवफा न थे वो !

 

Bewafa Shayari Status

Chala tha zikr zamane ki bewafai ka,
Sau aa gaya hai tumhara khayal waise hi.

चला था ज़िक्र ज़माने की बेवफ़ाई का,
सो आ गया है तुम्हारा ख़याल वैसे ही !

 

Mohabbat ka natija duniya mein humne bura dekha,
Jinhe dava tha wafa ka unhen bhi humne bewafa dekha.

मोहब्बत का नतीजा दुनिया में हमने बुरा देखा,
जिन्हें दावा था वफ़ा का उन्हें भी हमने बेवफा देखा !

 

Tera khayal dil se mitaya nahi abhi,
Bewafa maine tujhko bhulaya nahi abhi.

तेरा ख्याल दिल से मिटाया नहीं अभी,
बेवफा मैंने तुझको भुलाया नहीं अभी !

 

Aashiqi mein bahut zaruri hai,
Bewafai kabhi kabhi karna.

आशिक़ी में बहुत ज़रूरी है,
बेवफ़ाई कभी कभी करना !

 

Dard Bhari Bewafa Shayari

Rushwa kyu karte ho tum ishq ko aye duniya walo,
Mehboob tumhara bewafa hai to ishq ka kya gunah.

रुशवा क्यों करते हो तुम इश्क़ को ए दुनिया वालो,
मेहबूब तुम्हारा बेवफा है तो इश्क़ का क्या गनाह !

 

Woh mili bhi to kya mili ban ke bewafa mili,
Itane to mere gunah na the jitni mujhe saza mili.

वो मिली भी तो क्या मिली बन के बेवफा मिली,
इतने तो मेरे गुनाह ना थे जितनी मुझे सजा मिली !

 

Khuda nee puchha kya saza dun us bewafa ko,
Dil ne kaha mohabbat ho jaye use bhi.

खुदा ने पूछा क्या सज़ा दूँ उस बेवफ़ा को,
दिल ने कहा मोहब्बत हो जाए उसे भी !

 

Bewafaon ki is duniya mein sanbhalkar chalna,
Yhan mohabbat se bhi barbaad kar dete hain log.

बेवफाओं की इस दुनियां में संभलकर चलना,
यहाँ मुहब्बत से भी बर्बाद कर देते हैं लोग !

 

Bewafai pe teri jo hai fida,
Kahar hota jo ba-wafa hota.

बेवफ़ाई पे तेरी जी है फ़िदा,
क़हर होता जो बा-वफ़ा होता !

 

Kisi ka ruth jana aur achanak bewafa hona,
Mohabbat mein yehi lamha qayamat ki nishani hai.

किसी का रूठ जाना और अचानक बेवफा होना,
मोहब्बत में यही लम्हा क़यामत की निशानी है !

 

Fir se niklenge talash-e-zindagi mein,
Dua karna is baar koi bewafa na mile.

फिर से निकलेंगे तलाश-ए-ज़िन्दगी में,
दुआ करना इस बार कोई बेवफा न मिले !

 

Itni mushkil bhi na thi raah meri mohabbat ki,
Kuch zamana khilaaf hua kuch woh bewafa huye.

इतनी मुश्किल भी न थी राह मेरी मोहब्बत की,
कुछ ज़माना खिलाफ हुआ कुछ वो बेवफा हुए !

 

Hindi Shayari Bewafa Sanam

Suno ek baar mohabbat karni hai tumse,
Lekin is baar bewafai hum karenge.

सुनो एक बार और मोहब्बत करनी है तुमसे,
लेकिन इस बार बेवफाई हम करेंगे !

 

Uski bewafai pe bhi fida hoti hai jaan apni,
Agar us mein wafa hoti to kya hota khuda jane.

उसकी बेवफाई पे भी फ़िदा होती है जान अपनी,
अगर उसमे वफ़ा होती तो क्या होता खुदा जाने !

 

Meri mohabbat sachchi hai is liye teri yaad aati hai,
Agar teri bewafai sachchi hai to ab yaad mat aana.

मेरी मोहब्बत सच्ची है इसलिए तेरी याद आती है,
अगर तेरी बेवफाई सच्ची है तो अब याद मत आना !

 

Jab tak na lage bewafai ki thhokar dost,
Har kisi ko apni pasand par naaz hota hai.

जब तक न लगे बेवफ़ाई की ठोकर दोस्त,
हर किसी को अपनी पसंद पर नाज़ होता है !

 

Meri aankho se behne wala ye awara sa aansoo,
Punchh raha hai palkon se teri bewafai ki wajah.

मेरी आँखों से बहने वाला ये आवारा सा आसूँ,
पूंछ रहा है पलकों से तेरी बेवफाई की वजह !

 

Tujhe hai mashq-e-sitam ka malaal waise hi,
Humari jaan hain jaan par wabaal waise hi.

तुझे है मशक-ए-सितम का मलाल वैसे ही,
हमारी जान थी, जान पर वबाल वैसे ही !

 

Na koi majburi hai na to lachari hai,
Bewafai uski paidayshi bimari hai.

न कोई मज़बूरी है न तो लाचारी है,
बेवफाई उसकी पैदायशी बीमारी है !

 

Dil bhi toda to saliqe se na toda tum ne,
Bewafai ke bhi aadab hua karte hain.

दिल भी तोड़ा तो सलीक़े से न तोड़ा तुम ने,
बेवफ़ाई के भी आदाब हुआ करते हैं !

 

Bewafa Quotes

Mohabbat se bhari koi ghazal use pasand Nnhi,
Bewafai ke har sher pe wo daad diya karte hain.

मोहब्बत से भरी कोई गजल उसे पसंद नहीं,
बेवफाई के हर शेर पे वो दाद दिया करते हैं !

 

Har bhul teri maaf ki teri har khata ko Bhula diya,
Gham hai ki mere pyar ka tu ne bewafai sila diya.

हर भूल तेरी माफ़ की तेरी हर खता को भुला दिया,
गम है कि मेरे प्यार का तूने बेवफाई सिला दिया !

 

Mere fan ko tarasha hai sabhi ke nek iraadon ne,
Kisi ki bewafai ne kisi ke jhuthhe wadon ne.

मेरे फन को तराशा है सभी के नेक इरादों ने,
किसी की बेवफाई ने किसी के झूठे वादों ने !

 

Hum use yaad bahut aayenge,
Jab use bhi koi thukrayega.

हम उसे याद बहुत आएँगे,
जब उसे भी कोई ठुकराएगा !

Udh gayi yun wafa zamane se,
Kabhi goya kisi mein thi hi nahi.

उड़ गई यूँ वफ़ा ज़माने से,
कभी गोया किसी में थी ही नहीं !

 

Mere baad wafa ka dhokha aur kisi se mat karna,
Gaali degi duniya tujh ko sar mera jhuk jayega.

मेरे बाद वफ़ा का धोखा और किसी से मत करना,
गाली देगी दुनिया तुझ को सर मेरा झुक जाएगा !

 

Bewafa Poetry In Hindi

Tum kisi ke bhi ho nahi sakte,
Tum ko apna bana ke dekh liya.

तुम किसी के भी हो नहीं सकते,
तुम को अपना बना के देख लिया !

 

Ye kya ki tum ne jafa se bhi haath khinch liya,
Meri wafaon ka kuch to sila diya hota !

ये क्या कि तुम ने जफ़ा से भी हाथ खींच लिया,
मेरी वफ़ाओं का कुछ तो सिला दिया होता !

 

Wafa ki khair manata hun bewafai mein bhi,
Main us ki qaid mein hun qaid se rihai mein bhi.

वफ़ा की ख़ैर मनाता हूँ बेवफ़ाई में भी,
मैं उस की क़ैद में हूँ क़ैद से रिहाई में भी !

 

Hum ne to khud ko bhi mita dala,
Tum ne to sirf bewafai ki.

हम ने तो ख़ुद को भी मिटा डाला,
तुम ने तो सिर्फ़ बेवफ़ाई की !

 

Gila likhun main agar teri bewafai ka,
Lahu mein gark safina ho aasnai ka.

गिला लिखूँ मैं अगर तेरी बेवफ़ाई का,
लहू में ग़र्क़ सफ़ीना हो आश्नाई का !

 

Jo mila us ne bewafai ki,
Kuch ajab rang hai zamane ka

जो मिला उस ने बेवफ़ाई की,
कुछ अजब रंग है ज़माने का !

 

Umeed un se wafa ki to khair kije,
Jafa bhi karte nahi wo kabhi jafa ki trah.

उमीद उन से वफ़ा की तो ख़ैर क्या कीजे,
जफ़ा भी करते नहीं वो कभी जफ़ा की तरह !

 

Tum jafa par bhi to nahi qayem,
Hum wafa umar bhar karein kyun kar.

तुम जफ़ा पर भी तो नहीं क़ाएम,
हम वफ़ा उम्र भर करें क्यूँ-कर !

 

Bewafa Shayari / Poetry / Status / Quotes / Sms

 

2 Line Dua Poetry In Hindi

2 Line Dua Poetry In HIndi

2 Line Dua Poetry In Hindi

2 Line Dua Poetry In Hindi बेहतरीन और चुनिंदा शायरी का संग्रह जो की दुआ शब्द को बहुत ही शानदार तरीके से वर्णित करता है ! दुआ पर हिंदी के ये शेर, आपके प्यार और भावनाओं को वक़्त करने में आपकी मदद कर सकते हैं ! यहाँ आप हर तरह की शायरी को पढ़ सकते है और अपने चाहने वालों को शेरे कर सकते हैं !

2 Line Dua Poetry In Hindi ! 2 Line Dua Shayari In Hindi ! Dua Poetry ! Dua Shayari ! Dua Status Hindi ! Dua Quotes In Hindi ! Dua Shayari Image ! Meri Dua Shayari ! Poem On Blessing In Hindi !

Enjoy Our Famous And Latest Collection Of Dua Poetry In Hindi On The Whatsapp , Web , Facebook And Blogs.

Famous Dua Poetry In Hindi.

Auron ki burai na dekhun wo nazar de,
Haan apni burai ko parakhne ka hunar de.

औरों की बुराई को न देखूँ वो नज़र दे,
हाँ अपनी बुराई को परखने का हुनर दे !

_________________________________________________________

Main kya karun mere qatil na chahne par bhi,
Tere liye mere dil se dua niklati hai.

मैं क्या करूँ मेरे क़ातिल न चाहने पर भी,
तेरे लिए मेरे दिल से दुआ निकलती है !

_________________________________________________________

Abhi raah mein kai mod hain koi aayega koi jayega,
Tumein jis ne dil se bhula diya usse bhulne ki dua karo.

अभी राह में कई मोड़ हैं कोई आएगा कोई जायेगा,
तुम्हें जिस ने दिल से भुला दिया उसे भूलने की दुआ करो !

_________________________________________________________

Aakhir dua karein bhi to kis mudda ke saath,
Kaise zmeen ki baat kahein aasman se hum.

आखिर दुआ करें भी तो किस मुद्दे के साथ,
कैसे ज़मीन की बात कहें आसमान से हम !

_________________________________________________________

Abhi jinda hai maa meri mujhe kuch bhi nahi hoga,
Main ghar se jab nikalta hun dua bhi saath chalti hain.

अभी ज़िंदा है माँ मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा,
मैं घर से जब निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती हैं !

_________________________________________________________

Dua ko haath uthate huye larjta hun,
Kabhi dua nahi mangi thi maa ke hote huye.

दुआ को हाथ उठाते हुए लरजता हूँ,
कभी दुआ नहीं मांगी थी माँ के होते हुए !

_________________________________________________________

Jab bhi kashti meri selaab mein aa jati hai,
Maa dua karti huyi khwaab mein aa jati hai.

जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है,
माँ दुआ करती हुई ख्वाब में आ जाती है !

_________________________________________________________

Jate ho khuda hafeez haan itni guzarish hai,
Jab yaad hum aa jayein milne ki dua karna.

जाते हो ख़ुदा हाफ़िज़ हाँ इतनी गुज़ारिश है,
जब याद हम आ जाएं मिलने की दुआ करना !

_________________________________________________________

Kyun mang rahe ho kisi baarish ki duayein,
Tum apne shiksta dar-o-deewar to dekho.

क्यों मांग रहे हो किसी बारिश की दुआएं,
तुम अपने शिकस्ता दर-ओ-दीवार तो देखो !

_________________________________________________________

Mang lun tujhse tujhi ko ki sabhi kuch mil jaye,
Sau sawalon se yahi ek sawal achcha hai.

मांग लूं तुझसे तुझी को की सभी कुछ मिल जाये,
सौ सवालों से यही एक सवाल अच्छा है !

_________________________________________________________

Mujhe zindagi ki dua dene wale,
Hansi aa rahi hai teri sadgi par.

मुझे ज़िन्दगी की दुआ देने वाले,
हंसी आ रही है तेरी सादगी पर !

_________________________________________________________

Koi charaah nahi dua ke siwa,
Koi suna nahi khuda ke siwa.

कोई चराह नहीं दुआ के सिवा,
कोई सुना नहीं खुदा के सिवा !

_________________________________________________________

Hazar bar jo manga karo kya hasil,
Dua wahi hai jo dil se kabhi nikalti hai.

हज़ार बार जो माँगा करो क्या हासिल,
दुआ वही है जो दिल से कभी निकलती है !

_________________________________________________________

Dua karo ki ye paudha hara hi lage,
Udasiyon mein bhi chehra khila hi lage.

दुआ करो कि ये पौधा हरा ही लगे,
उदासियों में भी चेहरा खिला ही लगे !

_________________________________________________________

Dua karo ki main us ke liye dua ho jaun,
Wo ek shakhas jo dil ko dua sa lagta hai.

दुआ करो कि मैं उस के लिए दुआ हो जाऊं,
वो एक शख्स जो दिल को दुआ सा लगता है !

_________________________________________________________

Mangi thi ek bar dua hum ne maut ki,
Sharminda aaj tak hain miyan zindagi se hum.

मांगी थी एक बार दुआ हम ने मौत की,
शर्मिंदा आज तक हैं मियां ज़िन्दगी से हम !

_________________________________________________________

Marz-e-ishq jise ho usse kya yaad rahe,
Na dawa yaad rahe aur na dua yaad rahe.

मर्ज़-ए-इश्क़ जिसे हो उससे क्या याद रहे,
न दवा याद रहे और न दुआ याद रहे !

_________________________________________________________

Maine din raat khuda se ye dua mangi thi,
Koi aahat na ho dar par mere jab tu aaye.

मैंने दिन रात खुदा से ये दुआ मांगी थी,
कोई आहट ना हो दर पर मेरे जब तू आये !

_________________________________________________________

Dur rahti hain sada un se balayein sahil,
Apne maa-baap ki jo roz dua lete hain.

दूर रहती हैं सदा उन से बलायें साहिल,
अपने माँ-बाप की जो रोज़ दुआ लेते हैं !

_________________________________________________________

Kisi ne chum ke aankhon ko ye dua di thi,
Zameen teri khuda motiyon se num kar de.

किसी ने चुम के आँखों को ये दुआ दी थी,
ज़मीन तेरी खुदा मोतियों से नुम कर दे !

_________________________________________________________

Tu salamat raho qayamat tak,
Aur qayamat kabhi na aaye “Shad”.

तू सलामत रहो क़यामत तक,
और क़यामत कभी न आये “शाद” !

_________________________________________________________

Wo bada rahim o qareem hai mujhe ye sifat bhi ataa kare,
Tujhe bhulne ki dua karun to meri dua mein asar na ho.

वो बड़ा रहीम ओ करीम है मुझे ये सिफ़त भी अता करे,
तुझे भूलने की दुआ करूँ तो मेरी दुआ में असर न हो !

_________________________________________________________

Ye bastiyan hai ki maqlat dua kiye jaye,
Dua ke din hai musalsal dua kiye jaye.

ये बस्तियां है की मकलत दुआ किये जाये,
दुआ के दिन है मुसलसल दुआ किये जाये !

_________________________________________________________

Wo sarkhushi de ki zindagi ko sharaab se bahar yaab kar de,
Mere khayalon mein rang bhar mere lahu ko sharaab kar de.

वो सरखुशी दे की ज़िन्दगी को शराब से बाहर याब कर दे,
मेरे ख्यालों में रंग भर मेरे लहू को शराब कर दे !

_________________________________________________________

Jaban pe shikwa-e-mehri-e-khuda kyun hai,
Dua to mangiye “Aatish” kabhi dua ki tarah.

जबान पे शिकवा-ए-मेहरी-ए-खुदा क्यों है,
दुआ तो मांगिये “आतिश” कभी दुआ की तरह !

_________________________________________________________

Hijr ki shab nala-e-dil wo sada dene lage,
Sunane wale raat ktne ki dua dene lage.

हिज्र की शब् नाला-ए-दिल वो सदा देने लगे,
सुनने वाले रात कटने की दुआ देने लगे !

_________________________________________________________

Kya-kya duayein mangte hain sab magar “asar”,
Apni yahi dua hai koi mudda na ho.

क्या-क्या दुआएं मांगते हैं सब मगर “असर”,
अपनी यही दुआ है कोई मुद्दा न हो !

_________________________________________________________

Sahraa ka safar tha to shajar kyun nahi aaya,
Mangi thi duayein to asar kyun nahi aaya.

सहरा का सफर था तो शजर क्यों नहीं आया,
मांगी थी दुआयें तो असर क्यों नहीं आया !

_________________________________________________________

Dekh kar tul-e-shab-e-hijr dua karta hun,
Wasl ke roz se bhi umar meri kam ho jaye.

देख कर तूल-ए-शब्-ए-हिज्र दुआ करता हूँ,
वस्ल के रोज़ से भी उम्र मेरी कम हो जाये !

_________________________________________________________

Raah ka sajar hun main aur ek musafir tu,
De koi dua mujh ko le koi dua mujh se.

राह का सजर हूँ मैं और एक मुसाफिर तू,
दे कोई दुआ मुझ को ले कोई दुआ मुझ से !

_________________________________________________________

Bhul hi jayein hum ko ye to na ho,
Log mere liye dua na karein.

भूल ही जाएं हम को ये तो न हो,
लोग मेरे लिए दुआ न करें !

_________________________________________________________

Aate hain barg-o-baar darkhaton ke jism par,
Tum bhi uthao haath ki mausam dua ka hai.

आते हैं बर्ग-ओ-बार दरख़्तों के जिस्म पर,
तुम भी उठाओ हाथ कि मौसम दुआ का है !

_________________________________________________________

Na charagar ki jrurat na kuch dawa ki hai,
Dua ko haath uthao ki gham ki raat kate.

न चारागर की जरुरत न कुछ दवा की है,
दुआ को हाथ उठाओ की ग़म की रात कटे !

_________________________________________________________

Dushman-e-jaan hi sahi dost samjata hun usse,
Bad-dua jis ki mujhe ban ke dua lagti hai.

दुश्मन-ए-जाँ ही सही दोस्त समझता हूँ उसे,
बद-दुआ जिस की मुझे बन के दुआ लगती है !

_________________________________________________________

Kaun deta hai mohabbat ko parstish ka maqam,
Tum ye insaaf se socho to dua do hum ko.

कौन देता है मोहब्बत को परस्तिश का मक़ाम,
तुम ये इन्साफ से सोचो तो दुआ दो हम को !

_________________________________________________________

Us marz ko marz-e-ishq kaha karte hain,
Na dawa hoti hai jis ki na dua hoti hai.

उस मरज़ को मरज़-ए-इश्क़ कहा करते हैं,
न दवा होती है जिस की न दुआ होती है !

_________________________________________________________

Zameen ko aye khuda wo jaljala de,
Nishan tak sarhdon ke jo mita de.

ज़मीं को ऐ ख़ुदा वो ज़लज़ला दे,
निशाँ तक सरहदों के जो मिटा दे !

_________________________________________________________

Ek teri tamana ne kuch yesa nawaza hai,
Mangi hi nahi jati ab koi dua hum se.

एक तेरी तमन्ना ने कुछ ऐसा नवाज़ा है,
माँगी ही नहीं जाती अब कोई दुआ हम से !

_________________________________________________________

Maut mangi thi khudai to nahi mangi thi,
Le dua kar chuke ab tark-e-dua karte hain.

मौत माँगी थी ख़ुदाई तो नहीं माँगी थी,
ले दुआ कर चुके अब तर्क-ए-दुआ करते हैं !

_________________________________________________________

Haye koi dawa karo haye koi dua karo,
Haye jigar mein dard hai haye jigar ka kya karun.

हाए कोई दवा करो हाए कोई दुआ करो,
हाए जिगर में दर्द है हाए जिगर का क्या करूँ !

_________________________________________________________

Us dushman-e-wafa ko dua de raha hun main,
Mera na ho saka wo kisi ka to ho gaya.

उस दुश्मन-ए-वफ़ा को दुआ दे रहा हूँ मैं,
मेरा न हो सका वो किसी का तो हो गया !

_________________________________________________________

Gham-e-dil ab kisi ke bas ka nahi,
Kya dawa kya dua kare koi.

ग़म-ए-दिल अब किसी के बस का नहीं,
क्या दवा क्या दुआ करे कोई !

_________________________________________________________

Ye mozja bhi kisi ki dua ka lagta hai
Ye shehar ab bhi usi bewafa ka lagta hai.

ये मोजज़ा भी किसी की दुआ का लगता है,
ये शहर अब भी उसी बे-वफ़ा का लगता है !

_________________________________________________________

Buland haathon mein zanjir dal dete hain,
Ajib rasm chali hai dua na mange koi.

बुलंद हाथों में जंजीर डाल देते हैं,
अजीब रस्म चली है दुआ ना मांगे कोई !

_________________________________________________________

Ye iltija dua ye tamana fuzul hai,
Sukhi nadi ke paas samundar na jayega.

ये इल्तिजा दुआ ये तमना फ़ुज़ूल है,
सूखी नदी के पास समुन्दर न जायेगा !

_________________________________________________________

Koi to phool khilaye dua ke lahze mein,
Ajab trah ki ghutan hai hawa ke lahze mein.

कोई तो फूल खिलाए दुआ के लहज़े में,
अजब तरह की घुटन है हवा के लहज़े में !

_________________________________________________________

Main zindagi ki dua mangne laga hun bahut,
Jo ho sake to duaon ko be-asar kar de.

मैं ज़िन्दगी की दुआ मांगने लगा हूँ बहुत,
जो हो सके तो दुआओं को बे-असर कर दे !

_________________________________________________________

Baki hi kya raha tujhe mangne ke baad,
Bas ek dua mein chut gaye dua se hum.

बाकी ही क्या रहा तुझे मांगने के बाद,
बस एक दुआ में छूट गए दुआ से हम !

_________________________________________________________

Na jane kon si manzil pe ishq aa pahuncha,
Dua bhi kaam na aaye koi dawa na lage.

न जाने कौन सी मंज़िल पे इश्क़ आ पहुंचा,
दुआ भी काम न आये कोई दवा न लगे !

_________________________________________________________

Manga kareinge ab se dua hijr-e-yaar ki,
Aakhir to dushmani hai asar ko dua ke saath.

माँगा करेंगे अब से दुआ हिज्र-ए-यार की,
आख़िर तो दुश्मनी है असर को दुआ के साथ !

_________________________________________________________

Duayein yaad kara di gayi thi bachpan mein,
So zakhm khate rahe aur dua diye gaye hum.

दुआएँ याद करा दी गई थीं बचपन में,
सो ज़ख़्म खाते रहे और दुआ दिए गए हम !

_________________________________________________________

Is liye chal na saka koi bhi khanjar mujh par,
Meri shah-rag pe meri maa ki dua rakkhi thi.

इस लिए चल न सका कोई भी ख़ंजर मुझ पर,
मेरी शह-रग पे मेरी माँ की दुआ रक्खी थी !

_________________________________________________________

Jab lagen zakhm to qatil ko dua di jaye,
Hai yahi rasm to ye rasm utha di jaye.

जब लगें ज़ख़्म तो क़ातिल को दुआ दी जाए,
है यही रस्म तो ये रस्म उठा दी जाए !

_________________________________________________________

-Dua Shayari / Poetry/ Status / Quotes

 

Tariq-E-Ishq Mein Mujh Ko Koi Kaamil Nahi Milta

Tariq-e-ishq mein mujh ko koi kaamil nahi milta,
Gaye farhad o majnun ab kisi se dil nahi milta.

Bhari hai anjuman lekin kisi se dil nahi milta,
Hamin mein aa gaya kuch naqs ya kaamil nahi milta.

Purani raushni mein aur nai mein farq itna hai,
Use kashti nahi milti ise sahil nahi milta.

Pahunchna dad ko mazlum ka mushkil hi hota hai,
Kabhi qazi nahi milte kabhi qatil nahi milta.

Harifon par khazane hain khule yan hijr-e-gesu hai,
Wahan pe bil hai aur yan sanp ka bhi bil nahi milta.

Ye husn o ishq hi ka kaam hai shubah karen kis par,
Mizaj un ka nahi milta hamara dil nahi milta.

Chhupa hai sina o rukh dil-sitan hathon se karwat mein,
Mujhe sote mein bhi wo husn se ghafil nahi milta.

Hawas-o-hosh gum hain bahr-e-irfan-e-ilahi mein,
Yahi dariya hai jis mein mauj ko sahil nahi milta.

Kitab-e-dil mujhe kafi hai “Akbar” dars-e-hikmat ko,
Main spencer se mustaghni hun mujh se mil nahi milta. !!