Thursday , September 24 2020

Poetry Types Dhoop

Dhoop Lage Aakash Pe Jab..

Dhoop Lage Aakash Pe Jab.. Gulzar Nazm !

Dhoop lage aakash pe jab
Din mein chaand nazar aaya tha
Dak se aaya mohr laga
Ek purana sa tera chitthi ka lifafa yaad aaya
Chitthi gum hue to arsa bit chuka
Mohr laga bas matiyala sa
Us ka lifafa rakha hai. !! -Gulzar Nazm

धूप लगे आकाश पे जब
दिन में चाँद नज़र आया था
डाक से आया मोहर लगा
एक पुराना सा तेरा चिट्ठी का लिफ़ाफ़ा याद आया
चिट्ठी गुम हुए तो अर्सा बीत चुका
मोहर लगा बस मटियाला सा
उस का लिफ़ाफ़ा रखा है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai..

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai.. { Diary – Gulzar’s Nazm }

Na jaane kis ki ye Diary hai
Na naam hai na pata hai koi:
“Har ek karwat main yaad karta hun tum ko lekin
Ye karwaten lete raat din yun masal rahe hain mere badan ko
Tumhaari yaadon ke jism par nil pad gaye hain”

Ek aur safhe pe yun likha hai:
“Kabhi kabhi raat ki siyahi,
Kuch aisi chehre pe jam si jati hai
Lakh ragdun,
Sahar ke pani se lakh dhoun
Magar wo kalak nahi utarti
Milogi jab tum pata chalega
Main aur bhi kala ho gaya hun
Ye hashiye mein likha hua hai:
“Main dhoop mein jal ke itna kala nahi hua tha
Ki jitna is raat main sulag ke siyah hua hun”

Mahin lafzon mein ek jagah yun likha hai is ne:
“Tumhen bhi to yaad hogi wo raat sardiyon ki
Jab aundhi kashti ke niche hum ne
Badan ke chulhe jala ke tape the, din kiya tha
Ye pattharon ka bichhauna hargiz na sakht lagta jo tum bhi hotin
Tumhein bichhata bhi odhta bhi”

Ek aur safhe pe phir usi raat ka bayan hai:
“Tum ek takiye mein gile baalon ki bhar ke khushboo,
Jo aaj bhejo
To neend aa jaye, so hi jaun”

Kuch aisa lagta hai jis ne bhi Diary likhi hai
Wo shehar aaya hai ganv mein chhod kar kisi ko
Talaash mein kaam hi ke shayad:
“Main shehar ki is machine mein fit hun jaise dhibri,
Zaruri hai ye zara sa purza
Aham bhi hai kyun ki roz ke roz tel de kar
Ise zara aur kas ke jata hai chief mera
Wo roz kasta hai,
Roz ek pech aur chadhta hai jab nason par,
To ji mein aata hai zehar kha lun
Ya bhag jaun”

Kuch ukhde ukhde, kate hue se ajib jumle,
“Kahani wo jis mein ek shahzadi chat leti hai
Apni angushtari ka hira,
Wo tum ne puri nahi sunai”

“Kadon mein sona nahi hai,
Un par sunahri pani chadha hua hai”
Ek aur zewar ka zikr bhi hai:
“Wo nak ki nath na bechna tum
Wo jhutha moti hai, tum se sachcha kaha tha main ne,
Sunar ke pas ja ke sharmindagi si hogi”

Ye waqt ka than khulta rahta hai pal ba pal,
Aur log poshaken kat kar,
Apne apne andaz se pahante hain waqt lekin
Jo main ne kati thi than se ek qamiz
Wo tang ho rahi hai”

Kabhi kabhi is pighalte lohe ki garm bhatti mein kaam karte,
Thithurne lagta hai ye badan jaise sakht sardi mein bhun raha ho,
Bukhar rahta hai kuch dinon se

Magar ye satren badi ajab hain
Kahin tawazun bigad gaya hai
Ya koi siwan udhad gayi hai:
“Farar hun main kai dinon se
Jo ghup-andhere ki tir jaisi surang ek kan se
Shurua ho ke dusre kan tak gayi hai,
Main us nali mein chhupa hua hun,
Tum aa ke tinke se mujh ko bahar nikal lena”

“Koi nahi aayega ye kide nikalne ab
Ki un ko to shehar mein dhuan de ke mara jata hai naliyon mein” !! -Gulzar’s Nazm

न जाने किस की ये डायरी है
न नाम है, न पता है कोई:
”हर एक करवट मैं याद करता हूँ तुम को लेकिन
ये करवटें लेते रात दिन यूँ मसल रहे हैं मेरे बदन को
तुम्हारी यादों के जिस्म पर नील पड़ गए हैं”

एक और सफ़्हे पे यूँ लिखा है:
”कभी कभी रात की सियाही,
कुछ ऐसी चेहरे पे जम सी जाती है
लाख रगड़ूँ,
सहर के पानी से लाख धोऊँ
मगर वो कालक नहीं उतरती
मिलोगी जब तुम पता चलेगा
मैं और भी काला हो गया हूँ
ये हाशिए में लिखा हुआ है:
”मैं धूप में जल के इतना काला नहीं हुआ था
कि जितना इस रात मैं सुलग के सियह हुआ हूँ”

महीन लफ़्ज़ों में एक जगह यूँ लिखा है इस ने:
”तुम्हें भी तो याद होगी वो रात सर्दियों की
जब औंधी कश्ती के नीचे हम ने
बदन के चूल्हे जला के तापे थे, दिन किया था
ये पत्थरों का बिछौना हरगिज़ न सख़्त लगता जो तुम भी होतीं
तुम्हें बिछाता भी ओढ़ता भी”

एक और सफ़्हे पे फिर उसी रात का बयाँ है:
”तुम एक तकिए में गीले बालों की भर के ख़ुशबू,
जो आज भेजो
तो नींद आ जाए, सो ही जाऊँ”

कुछ ऐसा लगता है जिस ने भी डायरी लिखी है
वो शहर आया है गाँव में छोड़ कर किसी को
तलाश में काम ही के शायद:
”मैं शहर की इस मशीन में फ़िट हूँ जैसे ढिबरी,
ज़रूरी है ये ज़रा सा पुर्ज़ा
अहम भी है क्यूँ कि रोज़ के रोज़ तेल दे कर
इसे ज़रा और कस के जाता है चीफ़ मेरा
वो रोज़ कसता है,
रोज़ एक पेच और चढ़ता है जब नसों पर,
तो जी में आता है ज़हर खा लूँ
या भाग जाऊँ”

कुछ उखड़े उखड़े, कटे हुए से अजीब जुमले,
”कहानी वो जिस में एक शहज़ादी चाट लेती है
अपनी अंगुश्तरी का हीरा,
वो तुम ने पूरी नहीं सुनाई”

”कड़ों में सोना नहीं है,
उन पर सुनहरी पानी चढ़ा हुआ है”
एक और ज़ेवर का ज़िक्र भी है:
”वो नाक की नथ न बेचना तुम
वो झूठा मोती है, तुम से सच्चा कहा था मैं ने,
सुनार के पास जा के शर्मिंदगी सी होगी”

ये वक़्त का थान खुलता रहता है पल ब पल,
और लोग पोशाकें काट कर,
अपने अपने अंदाज़ से पहनते हैं वक़्त लेकिन
जो मैं ने काटी थी थान से एक क़मीज़
वो तंग हो रही है”

कभी कभी इस पिघलते लोहे की गर्म भट्टी में काम करते,
ठिठुरने लगता है ये बदन जैसे सख़्त सर्दी में भुन रहा हो,
बुख़ार रहता है कुछ दिनों से

मगर ये सतरें बड़ी अजब हैं
कहीं तवाज़ुन बिगड़ गया है
या कोई सीवन उधड़ गई है:
”फ़रार हूँ मैं कई दिनों से
जो घुप-अँधेरे की तीर जैसी सुरंग एक कान से
शुरूअ हो के दूसरे कान तक गई है,
मैं उस नली में छुपा हुआ हूँ,
तुम आ के तिनके से मुझ को बाहर निकाल लेना

”कोई नहीं आएगा ये कीड़े निकालने अब
कि उन को तो शहर में धुआँ दे के मारा जाता है नालियों में” !! -गुलज़ार नज़्म

 

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka..

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka.. { Urdu Zaban – Gulzar’s Nazm }

Yeh kaisa ishq hai urdu zaban ka
Maza ghulta hai lafzon ka zaban par
Ki jaise pan mein mahnga qimam ghulta hai

Yeh kaisa ishq hai urdu zaban ka
Nasha aata hai urdu bolne mein
Gilauri ki tarah hain munh lagi sab istelahen
Lutf deti hai, halaq chhuti hai urdu to, halaq se jaise mai ka ghont utarta hai

Badi aristocracy hai zaban mein
Faqiri mein nawabi ka maza deti hai urdu
Agarche mani kam hote hai urdu mein
Alfaz ki ifraat hoti hai
Magar phir bhi, buland aawaz padhiye to bahut hi motbar lagti hain baaten

Kahin kuch dur se kanon mein padti hai agar urdu
To lagta hai ki din jadon ke hain khidki khuli hai, dhoop andar aa rahi hai
Ajab hai ye zaban, urdu
Kabhi kahin safar karte agar koi musafir sher padh de “Mir”, “Ghalib” ka
Wo chahe ajnabi ho, yahi lagta hai wo mere watan ka hai

Badi shaista lahje mein kisi se urdu sun kar
Kya nahi lagta ki ek tahzib ki aawaz hai Urdu. !! -Gulzar’s Nazm

ये कैसा इश्क़ है उर्दू ज़बाँ का
मज़ा घुलता है लफ़्ज़ों का ज़बाँ पर
कि जैसे पान में महँगा क़िमाम घुलता है

ये कैसा इश्क़ है उर्दू ज़बाँ का
नशा आता है उर्दू बोलने में
गिलौरी की तरह हैं मुँह लगी सब इस्तेलाहें
लुत्फ़ देती है, हलक़ छूती है उर्दू तो, हलक़ से जैसे मय का घोंट उतरता है

बड़ी अरिस्टोकरेसी है ज़बाँ में
फ़क़ीरी में नवाबी का मज़ा देती है उर्दू
अगरचे मअनी कम होते हैं उर्दू में
अल्फ़ाज़ की इफ़रात होती है
मगर फिर भी, बुलंद आवाज़ पढ़िए तो बहुत ही मोतबर लगती हैं बातें

कहीं कुछ दूर से कानों में पड़ती है अगर उर्दू
तो लगता है कि दिन जाड़ों के हैं खिड़की खुली है, धूप अंदर आ रही है
अजब है ये ज़बाँ, उर्दू
कभी कहीं सफ़र करते अगर कोई मुसाफ़िर शेर पढ़ दे “मीर”, “ग़ालिब” का
वो चाहे अजनबी हो, यही लगता है वो मेरे वतन का है

बड़ी शाइस्ता लहजे में किसी से उर्दू सुन कर
क्या नहीं लगता कि एक तहज़ीब की आवाज़ है, उर्दू !! -गुलज़ार नज़्म

 

Os Padi Thi Raat Bahut Aur Kohra Tha Garmaish Par..

Os Padi Thi Raat Bahut Aur Kohra Tha Garmaish Par.. Gulzar Poetry !

Os padi thi raat bahut aur kohra tha garmaish par,
Saili si khamoshi mein aawaz suni farmaish par.

Fasle hain bhi aur nahi bhi napa taula kuch bhi nahi,
Log ba-zid rahte hain phir bhi rishton ki paimaish par.

Munh moda aur dekha kitni dur khade the hum donon,
Aap lade the hum se bas ek karwat ki gunjaish par.

Kaghaz ka ek chaand laga kar raat andheri khidki par,
Dil mein kitne khush the apni furqat ki aaraish par.

Dil ka hujra kitni bar ujda bhi aur basaya bhi,
Sari umar kahan thahra hai koi ek rihaish par.

Dhoop aur chhanv bant ke tum ne aangan mein diwar chuni,
Kya itna aasan hai zinda rahna is aasaish par.

Shayad tin nujumi meri maut pe aa kar pahunchenge,
Aisa hi ek bar hua tha isa ki paidaish par. !! -Gulzar Poetry

ओस पड़ी थी रात बहुत और कोहरा था गर्माइश पर,
सैली सी ख़ामोशी में आवाज़ सुनी फ़रमाइश पर !

फ़ासले हैं भी और नहीं भी नापा तौला कुछ भी नहीं,
लोग ब-ज़िद रहते हैं फिर भी रिश्तों की पैमाइश पर !

मुँह मोड़ा और देखा कितनी दूर खड़े थे हम दोनों,
आप लड़े थे हम से बस एक करवट की गुंजाइश पर !

काग़ज़ का एक चाँद लगा कर रात अँधेरी खिड़की पर,
दिल में कितने ख़ुश थे अपनी फ़ुर्क़त की आराइश पर !

दिल का हुज्रा कितनी बार उजड़ा भी और बसाया भी,
सारी उम्र कहाँ ठहरा है कोई एक रिहाइश पर !

धूप और छाँव बाँट के तुम ने आँगन में दीवार चुनी,
क्या इतना आसान है ज़िंदा रहना इस आसाइश पर !

शायद तीन नुजूमी मेरी मौत पे आ कर पहुँचेंगे,
ऐसा ही एक बार हुआ था ईसा की पैदाइश पर !! -गुलज़ार कविता

 

Be-Sabab Muskura Raha Hai Chand..

Be-Sabab Muskura Raha Hai Chand.. Gulzar Poetry !

Be-sabab muskura raha hai chand,
Koi sazish chhupa raha hai chand.

Jaane kis ki gali se nikla hai,
Jhenpa jhenpa sa aa raha hai chand.

Kitna ghaza lagaya hai munh par,
Dhul hi dhul uda raha hai chand.

Kaisa baitha hai chhup ke patton mein,
Baghban ko sata raha hai chand.

Sidha sada ufuq se nikla tha,
Sar pe ab chadhta ja raha hai chand.

Chhu ke dekha to garm tha matha,
Dhoop mein khelta raha hai chand. !! -Gulzar Poetry

बे-सबब मुस्कुरा रहा है चाँद,
कोई साज़िश छुपा रहा है चाँद !

जाने किस की गली से निकला है,
झेंपा झेंपा सा आ रहा है चाँद !

कितना ग़ाज़ा लगाया है मुँह पर,
धूल ही धूल उड़ा रहा है चाँद !

कैसा बैठा है छुप के पत्तों में,
बाग़बाँ को सता रहा है चाँद !

सीधा सादा उफ़ुक़ से निकला था,
सर पे अब चढ़ता जा रहा है चाँद !

छू के देखा तो गर्म था माथा,
धूप में खेलता रहा है चाँद !! -गुलज़ार कविता

 

Khushboo Jaise Log Mile Afsane Mein..

Khushboo Jaise Log Mile Afsane Mein.. Gulzar Poetry

Khushboo jaise log mile afsane mein,
Ek purana khat khola anjaane mein.

Sham ke saye baalishton se nape hain,
Chaand ne kitni der laga di aane mein.

Raat guzarte shayad thoda waqt lage,
Dhoop undelo thodi si paimane mein.

Jaane kis ka zikar hai is afsane mein,
Dard maze leta hai jo dohrane mein.

Dil par dastak dene kaun aa nikla hai,
Kis ki aahat sunta hun virane mein.

Hum is mod se uth kar agle mod chale,
Un ko shayad umar lagegi aane mein. !! -Gulzar Poetry

ख़ुशबू जैसे लोग मिले अफ़्साने में,
एक पुराना ख़त खोला अनजाने में !

शाम के साए बालिश्तों से नापे हैं,
चाँद ने कितनी देर लगा दी आने में !

रात गुज़रते शायद थोड़ा वक़्त लगे,
धूप उन्डेलो थोड़ी सी पैमाने में !

जाने किस का ज़िक्र है इस अफ़्साने में,
दर्द मज़े लेता है जो दोहराने में !

दिल पर दस्तक देने कौन आ निकला है,
किस की आहट सुनता हूँ वीराने में !

हम इस मोड़ से उठ कर अगले मोड़ चले,
उन को शायद उम्र लगेगी आने में !! -गुलज़ार कविता

 

Jo Ye Har Su Falak Manzar Khade Hain..

Jo Ye Har Su Falak Manzar Khade Hain.. Rahat Indori Shayari !

Jo ye har su falak manzar khade hain,
Na jaane kis ke pairon par khade hain.

Tula hai dhoop barsane pe sooraj,
Shajar bhi chhatriyan le kar khade hain.

Unhen naamon se main pahchanta hun,
Mere dushman mere andar khade hain.

Kisi din chaand nikla tha yahan se,
Ujale aaj tak chhat par khade hain.

Ujala sa hai kuch kamre ke andar,
Zameen-o-asman bahar khade hain. !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Sath Manzil Thi Magar Khauf-O-Khatar Aisa Tha..

Sath Manzil Thi Magar Khauf-O-Khatar Aisa Tha.. Rahat Indori Shayari !

Sath manzil thi magar khauf-o-khatar aisa tha,
Umar bhar chalte rahe log safar aisa tha.

Jab wo aaye to main khush bhi hua sharminda bhi,
Meri taqdir thi aisi mera ghar aisa tha.

Hifz thi mujh ko bhi chehron ki kitabein kya kya,
Dil shikasta tha magar tez nazar aisa tha.

Aag odhe tha magar bant raha tha saaya,
Dhoop ke shehar mein ek tanha shajar aisa tha.

Log khud apne charaghon ko bujha kar soye,
Shehar mein tez hawaon ka asar aisa tha. !!

साथ मंज़िल थी मगर ख़ौफ़-ओ-ख़तर ऐसा था,
उम्र भर चलते रहे लोग सफ़र ऐसा था !

जब वो आए तो मैं ख़ुश भी हुआ शर्मिंदा भी,
मेरी तक़दीर थी ऐसी मेरा घर ऐसा था !

हिफ़्ज़ थीं मुझ को भी चेहरों की किताबें क्या क्या,
दिल शिकस्ता था मगर तेज़ नज़र ऐसा था !

आग ओढ़े था मगर बाँट रहा था साया,
धूप के शहर में एक तन्हा शजर ऐसा था !

लोग ख़ुद अपने चराग़ों को बुझा कर सोए,
शहर में तेज़ हवाओं का असर ऐसा था !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Chehron Ki Dhoop Aankhon Ki Gahrai Le Gaya..

Chehron Ki Dhoop Aankhon Ki Gahrai Le Gaya.. Rahat Indori Shayari !

Chehron ki dhoop aankhon ki gahrai le gaya,
Aaina sare shehar ki binai le gaya.

Dube hue jahaz pe kya tabsira karen,
Ye hadisa to soch ki gahrai le gaya.

Haalanki bezuban tha lekin ajib tha,
Jo shakhs mujh se chhin ke goyai le gaya.

Is waqt to main ghar se nikalne na paunga,
Bas ek qamis thi jo mera bhai le gaya.

Jhuthe qaside likhe gaye us ki shaan mein,
Jo motion se chhin ke sachchai le gaya.

Yaadon ki ek bhid mere saath chod kar,
Kya jane wo kahan meri tanhaai le gaya.

Ab asad tumhare liye kuch nahi raha,
Galiyon ke sare sang to sodai le gaya.

Ab to khud apni sansein bhi lagti hain bojh si,
Umaron ka dev sari tavnai le gaya. !!

चेहरों की धूप आँखों की गहराई ले गया,
आईना सारे शहर की बीनाई ले गया !

डूबे हुए जहाज़ पे क्या तब्सरा करें,
ये हादसा तो सोच की गहराई ले गया !

हालाँकि बेज़ुबान था लेकिन अजीब था,
जो शख़्स मुझ से छीन के गोयाई ले गया !

इस वक़्त तो मैं घर से निकलने न पाऊँगा,
बस एक कमीज़ थी जो मेरा भाई ले गया !

झूठे क़सीदे लिखे गये उस की शान में,
जो मोतीयों से छीन के सच्चाई ले गया !

यादों की एक भीड़ मेरे साथ छोड़ कर,
क्या जाने वो कहाँ मेरी तन्हाई ले गया !

अब असद तुम्हारे लिये कुछ नहीं रहा,
गलियों के सारे संग तो सौदाई ले गया !

अब तो ख़ुद अपनी साँसें भी लगती हैं बोझ सी,
उमरों का देव सारी तवनाई ले गया !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Sirf Sach Aur Jhut Ki Mizan Mein Rakkhe Rahe..

Sirf Sach Aur Jhut Ki Mizan Mein Rakkhe Rahe.. Rahat Indori Shayari !

Sirf sach aur jhut ki mizan mein rakkhe rahe,
Hum bahadur the magar maidan mein rakkhe rahe.

Jugnuon ne phir andheron se ladai jeet li,
Chaand sooraj ghar ke raushan-dan mein rakkhe rahe.

Dhire dhire sari kirnen khud-kushi karne lagi,
Hum sahifa the magar juzdan mein rakkhe rahe.

Band kamre khol kar sachchaiyan rahne lagi,
Khwaab kachchi dhoop the dalan mein rakkhe rahe.

Sirf itna fasla hai zindagi se maut ka,
Shakh se tode gaye gul-dan mein rakkhe rahe.

Zindagi bhar apni gungi dhadkanon ke saath saath,
Hum bhi ghar ke qimti saman mein rakkhe rahe. !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty