Poetry Types Dariya

Dil-E-Mayus Mein Wo Shorishen Barpa Nahi Hotin

Dil-e-mayus mein wo shorishen barpa nahi hotin,
Umiden is qadar tutin ki ab paida nahi hoti.

Meri betabiyan bhi juzw hain ek meri hasti ki,
Ye zahir hai ki maujen kharij az dariya nahi hotin.

Wahi pariyan hain ab bhi raja indar ke akhade mein,
Magar shahzada-e-gulfam par shaida nahi hotin.

Yahan ki auraton ko ilm ki parwa nahi beshak,
Magar ye shauharon se apne beparwa nahi hotin.

Talluq dil ka kya baqi main rakkhun bazm-e-duniya se,
Wo dilkash suraten ab anjuman-ara nahi hotin.

Hua hun is qadar afsurda rang-e-bagh-e-hasti se,
Hawayen fasl-e-gul ki bhi nashat-afza nahi hotin.

Qaza ke samne bekar hote hain hawas “Akbar“,
Khuli hoti hain go aankhen magar bina nahi hotin. !!

 

Likha Hai Mujh Ko Bhi Likhna Pada Hai

Likha hai mujh ko bhi likhna pada hai,
Jahan se hashiya chhoda gaya hai.

Agar manus hai tum se parinda,
To phir udne ko par kyun tolta hai.

Kahin kuch hai kahin kuch hai kahin kuch,
Mera saman sab bikhra hua hai.

Main ja baithun kisi bargad ke niche,
Sukun ka bas yahi ek rasta hai.

Qayamat dekhiye meri nazar se,
Sawa neze pe suraj aa gaya hai.

Shajar jaane kahan ja kar lagega,
Jise dariya baha kar le gaya hai.

Abhi to ghar nahi chhoda hai maine,
Ye kis ka naam takhti par likha hai.

Bahut roka hai is ko pattharon ne,
Magar pani ko rasta mil gaya hai. !!

लिखा है मुझ को भी लिखना पड़ा है,
जहाँ से हाशिया छोड़ा गया है !

अगर मानूस है तुम से परिंदा ,
तो फिर उड़ने को पर क्यूँ तोलता है !

कहीं कुछ है कहीं कुछ है कहीं कुछ,
मेरा सामान सब बिखरा हुआ है !

मैं जा बैठूँ किसी बरगद के नीचे,
सुकूँ का बस यही एक रास्ता है !

क़यामत देखिए मेरी नज़र से,
सवा नेज़े पे सूरज आ गया है !

शजर जाने कहाँ जा कर लगेगा,
जिसे दरिया बहा कर ले गया है !

अभी तो घर नहीं छोड़ा है मैंने,
ये किस का नाम तख़्ती पर लिखा है !

बहुत रोका है इस को पत्थरों ने,
मगर पानी को रास्ता मिल गया है !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

Dariya Ho Ya Pahad Ho Takrana Chahiye

Dariya ho ya pahad ho takrana chahiye,
Jab tak na sans tute jiye jana chahiye.

Yun to qadam qadam pe hai diwar samne,
Koi na ho to khud se ulajh jana chahiye.

Jhukti hui nazar ho ki simta hua badan,
Har ras-bhari ghata ko baras jana chahiye.

Chaurahe bagh buildingen sab shehar to nahi,
Kuch aise waise logon se yarana chahiye.

Apni talash apni nazar apna tajraba,
Rasta ho chahe saf bhatak jana chahiye.

Chup chup makan raste gum-sum nidhaal waqt,
Is shehar ke liye koi diwana chahiye.

Bijli ka qumquma na ho kala dhuan to ho,
Ye bhi agar nahi ho to bujh jana chahiye. !!

दरिया हो या पहाड़ हो टकराना चाहिए,
जब तक न साँस टूटे जिए जाना चाहिए !

यूँ तो क़दम क़दम पे है दीवार सामने,
कोई न हो तो ख़ुद से उलझ जाना चाहिए !

झुकती हुई नज़र हो कि सिमटा हुआ बदन,
हर रस-भरी घटा को बरस जाना चाहिए !

चौराहे बाग़ बिल्डिंगें सब शहर तो नहीं,
कुछ ऐसे वैसे लोगों से याराना चाहिए !

अपनी तलाश अपनी नज़र अपना तजरबा,
रस्ता हो चाहे साफ़ भटक जाना चाहिए !

चुप चुप मकान रास्ते गुम-सुम निढाल वक़्त,
इस शहर के लिए कोई दीवाना चाहिए !

बिजली का क़ुमक़ुमा न हो काला धुआँ तो हो,
ये भी अगर नहीं हो तो बुझ जाना चाहिए !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Us Ke Dushman Hain Bahut Aadmi Achchha Hoga

Us ke dushman hain bahut aadmi achchha hoga,
Wo bhi meri hi tarah shehar mein tanha hoga.

Itna sach bol ki honton ka tabassum na bujhe,
Raushni khatm na kar aage andhera hoga.

Pyas jis nahr se takrai wo banjar nikli,
Jis ko pichhe kahin chhod aaye wo dariya hoga.

Mere bare mein koi raye to hogi us ki,
Us ne mujh ko bhi kabhi tod ke dekha hoga.

Ek mehfil mein kai mehfilen hoti hain sharik,
Jis ko bhi pas se dekhoge akela hoga. !!

उस के दुश्मन हैं बहुत आदमी अच्छा होगा,
वो भी मेरी ही तरह शहर में तन्हा होगा !

इतना सच बोल कि होंटों का तबस्सुम न बुझे,
रौशनी ख़त्म न कर आगे अँधेरा होगा !

प्यास जिस नहर से टकराई वो बंजर निकली,
जिस को पीछे कहीं छोड़ आए वो दरिया होगा !

मेरे बारे में कोई राय तो होगी उस की,
उस ने मुझ को भी कभी तोड़ के देखा होगा !

एक महफ़िल में कई महफ़िलें होती हैं शरीक,
जिस को भी पास से देखोगे अकेला होगा !!

-Nida Fazli Ghazal / Sad Poetry

 

Aaina Kyun Na Dun Ki Tamasha Kahen Jise

Aaina kyun na dun ki tamasha kahen jise,
Aisa kahan se laun ki tujh sa kahen jise.

Hasrat ne la rakha teri bazm-e-khayal mein,
Gul-dasta-e-nigah suwaida kahen jise.

Phunka hai kis ne gosh-e-mohabbat mein aye khuda,
Afsun-e-intizar tamanna kahen jise.

Sar par hujum-e-dard-e-gharibi se daliye,
Wo ek musht-e-khak ki sahra kahen jise.

Hai chashm-e-tar mein hasrat-e-didar se nihan,
Shauq-e-inan gusekhta dariya kahen jise.

Darkar hai shaguftan-e-gul-ha-e-aish ko,
Subh-e-bahaar pumba-e-mina kahen jise.

Ghalib” bura na man jo waiz bura kahe,
Aisa bhi koi hai ki sab achchha kahen jise.

Ya rab hamein to khwab mein bhi mat dikhaiyo,
Ye mahshar-e-khayal ki duniya kahen jise.

Hai intizar se sharar aabaad rustakhez,
Mizhgan-e-koh-kan rag-e-khara kahen jise.

Kis fursat-e-visal pe hai gul ko andalib,
Zakhm-e-firaq khanda-e-be-ja kahen jise. !!

आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहें जिसे,
ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझ सा कहें जिसे !

हसरत ने ला रखा तिरी बज़्म-ए-ख़याल में,
गुल-दस्ता-ए-निगाह सुवैदा कहें जिसे !

फूँका है किस ने गोश-ए-मोहब्बत में ऐ ख़ुदा,
अफ़्सून-ए-इंतिज़ार तमन्ना कहें जिसे !

सर पर हुजूम-ए-दर्द-ए-ग़रीबी से डालिए,
वो एक मुश्त-ए-ख़ाक कि सहरा कहें जिसे !

है चश्म-ए-तर में हसरत-ए-दीदार से निहाँ,
शौक़-ए-इनाँ गुसेख़्ता दरिया कहें जिसे !

दरकार है शगुफ़्तन-ए-गुल-हा-ए-ऐश को,
सुब्ह-ए-बहार पुम्बा-ए-मीना कहें जिसे !

ग़ालिब” बुरा न मान जो वाइज़ बुरा कहे,
ऐसा भी कोई है कि सब अच्छा कहें जिसे !

या रब हमें तो ख़्वाब में भी मत दिखाइयो,
ये महशर-ए-ख़याल कि दुनिया कहें जिसे !

है इंतिज़ार से शरर आबाद रुस्तख़ेज़,
मिज़्गान-ए-कोह-कन रग-ए-ख़ारा कहें जिसे !

किस फ़ुर्सत-ए-विसाल पे है गुल को अंदलीब,
ज़ख़्म-ए-फ़िराक़ ख़ंदा-ए-बे-जा कहें जिसे !!

 

Ishq Hai To Ishq Ka Izhaar Hona Chahiye..

Ishq hai to ishq ka izhaar hona chahiye

Ishq hai to ishq ka izhaar hona chahiye,
Aap ko chehre se bhi bimar hona chahiye.

Aap dariya hain to is waqt hum khatre mein hain,
Aap kashti hain to hum ko paar hona chahiye.

Aire-gaire log bhi padhne lage hain in dino,
Aap ko aurat nahi akhbar hona chahiye.

Zindagi kab talak dar-dar phirayegi hamein,
Tuta phuta hi sahi ghar bar hona chahiye.

Apni yaadon se kaho ek din ki chhutti de mujhe.
Ishq ke hisse mein bhi itwaar hona chahiye. !!

आप को चेहरे से भी बीमार होना चाहिए,
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए !

आप दरिया हैं तो फिर इस वक़्त हम ख़तरे में हैं,
आप कश्ती हैं तो हम को पार होना चाहिए !

ऐरे-ग़ैरे लोग भी पढ़ने लगे हैं इन दिनों,
आप को औरत नहीं अख़बार होना चाहिए !

ज़िंदगी तू कब तलक दर-दर फिराएगी हमें,
टूटा-फूटा ही सही घर-बार होना चाहिए !

अपनी यादों से कहो इक दिन की छुट्टी दे मुझे,
इश्क़ के हिस्से में भी इतवार होना चाहिए !!

Munawwar Rana All Poetry, Ghazal, Ishq Shayari & Nazms Collection

 

Wo To Khushbu Hai Hawaon Mein Bikhar Jayega..

Wo to khushbu hai hawaon mein bikhar jayega,
Masla phool ka hai phool kidhar jayega.

Hum to samjhe the ki ek zakhm hai bhar jayega,
Kya khabar thi ki rag-e-jaan mein utar jayega.

Wo hawaon ki tarah khana-ba-jaan phirta hai,
Ek jhonka hai jo aayega guzar jayega.

Wo jab aayega to phir us ki rifaqat ke liye,
Mausam-e-gul mere aangan mein thahar jayega.

Aakhirash wo bhi kahin ret pe baithi hogi,
Tera ye pyar bhi dariya hai utar jayega.

Mujh ko tahzib ke barzakh ka banaya waris,
Jurm ye bhi mere ajdad ke sar jayega. !!

वो तो ख़ुशबू है हवाओं में बिखर जाएगा,
मसअला फूल का है फूल किधर जाएगा !

हम तो समझे थे कि एक ज़ख़्म है भर जाएगा,
क्या ख़बर थी कि रग-ए-जाँ में उतर जाएगा !

वो हवाओं की तरह ख़ाना-ब-जाँ फिरता है,
एक झोंका है जो आएगा गुज़र जाएगा !

वो जब आएगा तो फिर उस की रिफ़ाक़त के लिए,
मौसम-ए-गुल मेरे आँगन में ठहर जाएगा !

आख़िरश वो भी कहीं रेत पे बैठी होगी,
तेरा ये प्यार भी दरिया है उतर जाएगा !

मुझ को तहज़ीब के बर्ज़ख़ का बनाया वारिस,
जुर्म ये भी मेरे अज्दाद के सर जाएगा !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Aaj Ki Raat Bhi Guzri Hai Meri Kal Ki Tarah..

Aaj ki raat bhi guzri hai meri kal ki tarah,
Hath aaye na sitare tere aanchal ki tarah.

Hadsa koi to guzra hai yakinan yaro,
Ek sannata hai mujh mein kisi maqtal ki tarah.

Phir na nikla koi ghar se ki hawa phirti thi,
Sang hathon mein uthaye kisi pagal ki tarah.

Tu ki dariya hai magar meri tarah pyasa hai,
Main tere pas chala aaunga baadal ki tarah.

Raat jalti hui ek aisi chita hai jis par,
Teri yaaden hain sulagte hue sandal ki tarah.

Main hun ek khwab magar jagti aankhon ka “Amir“,
Aaj bhi log ganwa den na mujhe kal ki tarah. !!

आज की रात भी गुज़री है मेरी कल की तरह,
हाथ आए न सितारे तेरे आँचल की तरह !

हादसा कोई तो गुज़रा है यक़ीनन यारो,
एक सन्नाटा है मुझ में किसी मक़्तल की तरह !

फिर न निकला कोई घर से कि हवा फिरती थी,
संग हाथों में उठाए किसी पागल की तरह !

तू कि दरिया है मगर मेरी तरह प्यासा है,
मैं तेरे पास चला आऊँगा बादल की तरह !

रात जलती हुई एक ऐसी चिता है जिस पर,
तेरी यादें हैं सुलगते हुए संदल की तरह !

मैं हूँ एक ख़्वाब मगर जागती आँखों का “अमीर“,
आज भी लोग गँवा दें न मुझे कल की तरह !!

 

Parakhna Mat Parakhne Mein Koi Apna Nahi Rahta

Parakhna mat parakhne mein koi apna nahi rahta,
Kisi bhi aaine mein der tak chehra nahi rahta.

Bade logon se milne mein hamesha fasla rakhna,
Jahan dariya samandar me mile dariya nahi rahta.

Hazaron sher mere so gaye kaghaz ki qabron mein,
Ajab maa hun koi baccha mera zinda nahi rahta.

Tumhara shehar to bilkul naye andaz wala hai,
Humare shehar mein bhi koi hum sa nahi rahta.

Mohabbat ek khushbu hai hamesha sath chalti hai,
Koi insan tanhai mein bhi tanha nahi rahta.

Koi badal hare mausam ka phir elaan karta hai,
Khizan ke baagh mein jab ek bhi patta nahi rahta. !!

परखना मत परखने में कोई अपना नहीं रहता,
किसी भी आईने में देर तक चेहरा नहीं रहता !

बडे लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना,
जहां दरिया समन्दर में मिले दरिया नहीं रहता !

हजारों शेर मेरे सो गये कागज की कब्रों में,
अजब मां हूं कोई बच्चा मेरा ज़िन्दा नहीं रहता !

तुम्हारा शहर तो बिल्कुल नये अन्दाज वाला है,
हमारे शहर में भी अब कोई हम सा नहीं रहता !

मोहब्बत एक खुशबू है हमेशा साथ रहती है,
कोई इन्सान तन्हाई में भी कभी तन्हा नहीं रहता !

कोई बादल हरे मौसम का फ़िर ऐलान करता है,
ख़िज़ा के बाग में जब एक भी पत्ता नहीं रहता !! -Bashir Badr Ghazal

 

Ghazlon Ka Hunar Apni Aankhon Ko Sikhayenge..

Ghazlon ka hunar apni aankhon ko sikhayenge,
Royenge bahut lekin aansoo nahi aayenge.

Keh dena samundar se hum os ke moti hain,
Dariya ki tarah tujh se milne nahi aayenge.

Wo dhup ke chhappar hon ya chhanw ki diwarein,
Ab jo bhi uthayenge mil jul ke uthayenge.

Jab sath na de koi aawaz hamein dena,
Hum phool sahi lekin patthar bhi uthayenge. !!

ग़ज़लों का हुनर अपनी आँखों को सिखाएंगे,
रोयेंगे बहुत लेकिन आंसू नहीं आयेंगे !

कह देना समंदर से हम ओस के मोती है,
दरिया कि तरह तुझ से मिलने नहीं आयेंगे !

वो धुप के छप्पर हों या छाँव कि दीवारें,
अब जो भी उठाएंगे मिल जुल के उठाएंगे !

जब साथ न दे कोई आवाज़ हमे देना,
हम फूल सही लेकिन पत्थर भी उठाएंगे !! -Bashir Badr Ghazal