Wednesday , September 30 2020

Poetry Types Chaand

Dhoop Lage Aakash Pe Jab..

Dhoop Lage Aakash Pe Jab.. Gulzar Nazm !

Dhoop lage aakash pe jab
Din mein chaand nazar aaya tha
Dak se aaya mohr laga
Ek purana sa tera chitthi ka lifafa yaad aaya
Chitthi gum hue to arsa bit chuka
Mohr laga bas matiyala sa
Us ka lifafa rakha hai. !! -Gulzar Nazm

धूप लगे आकाश पे जब
दिन में चाँद नज़र आया था
डाक से आया मोहर लगा
एक पुराना सा तेरा चिट्ठी का लिफ़ाफ़ा याद आया
चिट्ठी गुम हुए तो अर्सा बीत चुका
मोहर लगा बस मटियाला सा
उस का लिफ़ाफ़ा रखा है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Waqt Ki Aankh Pe Patti Bandh Ke Khel Rahe The Aankh Micholi..

Waqt Ki Aankh Pe Patti Bandh Ke Khel Rahe The Aankh Micholi.. { Waqt 2 – Gulzar Nazm } !

Waqt ki aankh pe patti bandh ke khel rahe the aankh micholi
Raat aur din aur chaand aur main
Jaane kaise kainat mein atka panv
Dur gira ja kar main jaise
Raushni se dhakka kha ke parchhain zameen par girti hai. !

Dhayya chhune se pahle hi
Waqt ne chor kaha aur aankhen khol ke mujh ko pakad liya. !! -Gulzar Nazm

वक़्त की आँख पे पट्टी बाँध के खेल रहे थे आँख मिचोली
रात और दिन और चाँद और मैं
जाने कैसे काएनात में अटका पाँव
दूर गिरा जा कर मैं जैसे
रौशनी से धक्का खा के परछाईं ज़मीं पर गिरती है !

धय्या छूने से पहले ही
वक़्त ने चोर कहा और आँखें खोल के मुझ को पकड़ लिया !! -गुलज़ार नज़्म

 

Chaand Kyun Abr Ki Us Maili Si Gathri Mein Chhupa Tha..

Chaand Kyun Abr Ki Us Maili Si Gathri Mein Chhupa Tha.. { Ek Daur – Gulzar Nazm } !

Chaand kyun abr ki us maili si gathri mein chhupa tha
Us ke chhupte hi andheron ke nikal aaye the nakhun
Aur jangal se guzarte hue masum musafir
Apne chehron ko kharonchon se bachane ke liye chikh pade the

Chaand kyun abr ki us maili si gathri mein chhupa tha
Us ke chhupte hi utar aaye the shakhon se latakte hue
Aaseb the jitne
Aur jangal se guzarte hue rahgiron ne gardan mein utarte
Hue danton se suna tha
Par jaana hai to pine ko lahu dena padega

Chaand kyun abr ki us maili si gathri mein chhupa tha
Khun se luthdi hui raat ke rahgiron ne do zanu pa gir kar,
Raushni, raushni ! chillaya tha, dekha tha falak ki jaanib,
Chaand ne gathri se ek haath nikala tha, dikhaya tha chamakta hua khanjar. !! -Gulzar Nazm

चाँद क्यूँ अब्र की उस मैली सी गठरी में छुपा था
उस के छुपते ही अंधेरों के निकल आए थे नाख़ुन
और जंगल से गुज़रते हुए मासूम मुसाफ़िर
अपने चेहरों को खरोंचों से बचाने के लिए चीख़ पड़े थे

चाँद क्यूँ अब्र की उस मैली सी गठरी में छुपा था
उस के छुपते ही उतर आए थे शाख़ों से लटकते हुए
आसेब थे जितने
और जंगल से गुज़रते हुए राहगीरों ने गर्दन में उतरते
हुए दाँतों से सुना था
पार जाना है तो पीने को लहू देना पड़ेगा

चाँद क्यूँ अब्र की उस मैली सी गठरी में छुपा था
ख़ून से लुथड़ी हुई रात के राहगीरों ने दो ज़ानू प गिर कर,
रौशनी, रौशनी ! चिल्लाया था, देखा था फ़लक की जानिब,
चाँद ने गठरी से एक हाथ निकाला था, दिखाया था चमकता हुआ ख़ंजर !! -गुलज़ार नज़्म

 

Pure Ka Pura Aakash Ghuma Kar Bazi Dekhi Maine..

Pure Ka Pura Aakash Ghuma Kar Bazi Dekhi Maine.. { Khuda – Gulzar Nazm } !

Pure ka pura aakash ghuma kar bazi dekhi maine !

Kale ghar mein sooraj chalke
Tum ne shayad socha tha mere sab mohre pit jayenge
Maine ek charagh jala kar roshani kar lee
Apna rasta khol liya

Tumne ek samundar haath mein le kar mujhpe dhel diya
Maine nuh ki kashti us ke upar rakh di

Kaal chala tumne aur meri jaanib dekha
Maine kaal ko tod kar lamha lamha jina sikh liya

Meri khudi ko marna chaha tumne chand chamatkaron se
Aur mere ek payaade ne chalte-chalte tera chaand ka mohara mar liya

Maut ko shah dekar tumne samjha tha ab to mat hui
Maine jism ka khol utar sonp diya aur ruh bacha lee

Poore ka poora aakash ghuma kar ab tum dekho bazi. !! -Gulzar Nazm

पूरे का पूरा आकाश घुमा कर बाज़ी देखी मैने,

काले घर में सूरज चलके
तुमने शायद सोचा था मेरे सब मोहरे पिट जायेंगे
मैने एक चराग जलाकर रोशनी कर ली
अपना रस्ता खोल लिया

तुमने एक समन्दर हाथ में लेकर मुझपे ढेल दिया,
मैने नोह की कश्ति उस के ऊपर रख दी

काल चला तुमने और मेरी जानिब देखा
मैने काल को तोड़कर लम्हा लम्हा जीना सीख लिया

मेरी खुदी को मारना चाहा तुमने चन्द चमत्कारों से
और मेरे एक प्यादे ने चलते चलते तेरा चांद का मोहरा मार लिया

मौत की शह देकर तुमने समझा था अब तो मात हुई
मैने जिस्म का खोल उतारकर सौंप दिया और रूह बचा ली

पूरे का पूरा आकाश घुमा कर अब तुम देखो बाज़ी !! -गुलज़ार नज़्म

 

Raat Chup-Chaap Dabe Paon Chali Jati Hai..

Raat Chup-Chaap Dabe Paon Chali Jati Hai.. { Ek Aur Raat – Gulzar Nazm } !

Raat chup-chaap dabe paon chali jati hai
Raat khamosh hai roti nahi hansti bhi nahi

Kanch ka nila sa gumbad hai uda jata hai
Khali khali koi bajra sa baha jata hai

Chaand ki kirnon mein wo roz sa resham bhi nahi
Chaand ki chikni dali hai ki ghuli jati hai

Aur sannaton ki ek dhul udi jati hai
Kash ek bar kabhi neend se uth kar tum bhi
Hijr ki raaton mein ye dekho to kya hota hai. !! -Gulzar Nazm

रात चुपचाप दबे पाँव चली जाती है
रात ख़ामोश है रोती नहीं हँसती भी नहीं

कांच का नीला सा गुम्बद है, उड़ा जाता है
ख़ाली-ख़ाली कोई बजरा सा बहा जाता है

चाँद की किरणों में वो रोज़ सा रेशम भी नहीं
चाँद की चिकनी डली है कि घुली जाती है

और सन्नाटों की इक धूल सी उड़ी जाती है
काश इक बार कभी नींद से उठकर तुम भी
हिज्र की रातों में ये देखो तो क्या होता है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Wo Jo Shayar Tha..

Wo Jo Shayar Tha.. Gulzar Nazm !

Wo jo shayar tha chup sa rahta tha
Bahki-bahki si baaten karta tha
Aankhen kanon pe rakh ke sunta tha
Gungi khamoshiyon ki aawazen

Jama karta tha chaand ke saye
Aur gili si nur ki bunden
Rukhe rukhe se raat ke patte
Ok mein bhar ke khadkhadata tha

Waqt ke is ghanere jangal mein
Kachche-pakke se lamhe chunta tha
Han, wahi, wo ajib sa shayar
Raat ko uth ke kuhniyon ke bal
Chaand ki thodi chuma karta tha

Chaand se gir ke mar gaya hai wo
Log kahte hain khudkhushi ki hai. !! -Gulzar Nazm

वो जो शायर था चुप-सा रहता था
बहकी-बहकी-सी बातें करता था
आँखें कानों पे रख के सुनता था
गूँगी खामोशियों की आवाज़ें

जमा करता था चाँद के साए
और गीली सी नूर की बूँदें
रूखे-रूखे से रात के पत्ते
ओक में भर के खरखराता था

वक़्त के इस घनेरे जंगल में
कच्चे-पक्के से लम्हे चुनता था
हाँ वही, वो अजीब सा शायर
रात को उठ के कोहनियों के बल
चाँद की ठोड़ी चूमा करता था

चाँद से गिर के मर गया है वो
लोग कहते हैं खुदखुशी की है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Ruh Dekhi Hai Kabhi..

Ruh Dekhi Hai Kabhi.. Gulzar Nazm !

Ruh dekhi hai ?
Kabhi ruh ko mahsus kiya hai ?
Jagte jite hue dudhiya kohre se lipat kar
Sans lete hue us kohre ko mahsus kiya hai ?

Ya shikare mein kisi jhil pe jab raat basar ho
Aur pani ke chhpakon mein baja karti hain tullian
Subkiyan leti hawaon ke bhi bain sune hain ?

Chaudhwin-raat ke barfab se ek chaand ko jab
Dher se saye pakadne ke liye bhagte hain
Tum ne sahil pe khade girje ki diwar se lag kar
Apni gahnati hui kokh ko mahsus kiya hai ?

Jism sau bar jale tab bhi wahi mitti hai
Ruh ek bar jalegi to wo kundan hogi
Ruh dekhi hai, kabhi ruh ko mahsus kiya hai ?? -Gulzar Nazm

रूह देखी है ?
कभी रूह को महसूस किया है ?
जागते जीते हुए दूधिया कोहरे से लिपट कर
साँस लेते हुए उस कोहरे को महसूस किया है ?

या शिकारे में किसी झील पे जब रात बसर हो
और पानी के छपाकों में बजा करती हैं टुल्लियाँ
सुबकियाँ लेती हवाओं के भी बैन सुने हैं ?

चौदहवीं-रात के बर्फ़ाब से इक चाँद को जब
ढेर से साए पकड़ने के लिए भागते हैं
तुम ने साहिल पे खड़े गिरजे की दीवार से लग कर
अपनी गहनाती हुई कोख को महसूस किया है ?

जिस्म सौ बार जले तब भी वही मिट्टी है
रूह इक बार जलेगी तो वो कुंदन होगी
रूह देखी है, कभी रूह को महसूस किया है ?? -गुलज़ार नज़्म

 

Tinka Tinka Kante Tode Sari Raat Katai Ki..

Tinka Tinka Kante Tode Sari Raat Katai Ki.. Gulzar Poetry !

Tinka tinka kante tode sari raat katai ki,
Kyun itni lambi hoti hai chandni raat judai ki.

Neend mein koi apne aap se baaten karta rahta hai,
Kal-kunen mein gunjti hai aawaz kisi saudai ki.

Sine mein dil ki aahat jaise koi jasus chale,
Har saye ka pichha karna aadat hai harjai ki.

Aankhon aur kanon mein kuch sannate se bhar jate hain,
Kya tum ne udti dekhi hai ret kabhi tanhaai ki.

Taaron ki raushan faslen aur chaand ki ek daranti thi,
Sahu ne girwi rakh li thi meri raat katai ki. !! -Gulzar Poetry

तिनका तिनका काँटे तोड़े सारी रात कटाई की,
क्यूँ इतनी लम्बी होती है चाँदनी रात जुदाई की !

नींद में कोई अपने आप से बातें करता रहता है,
काल-कुएँ में गूँजती है आवाज़ किसी सौदाई की !

सीने में दिल की आहट जैसे कोई जासूस चले,
हर साए का पीछा करना आदत है हरजाई की !

आँखों और कानों में कुछ सन्नाटे से भर जाते हैं,
क्या तुम ने उड़ती देखी है रेत कभी तन्हाई की !

तारों की रौशन फ़सलें और चाँद की एक दरांती थी,
साहू ने गिरवी रख ली थी मेरी रात कटाई की !! -गुलज़ार कविता

 

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen..

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen.. Gulzar Poetry !

Zikr aaye to mere lab se duaen niklen,
Shama jalti hai to lazim hai shuaen niklen.

Waqt ki zarb se kat jate hain sab ke sine,
Chaand ka chhalka utar jaye to qashen niklen.

Dafn ho jayen ki zarkhez zameen lagti hai,
Kal isi mitti se shayad meri shakhen niklen.

Chand ummiden nichodi thin to aahen tapkin,
Dil ko pighlaen to ho sakta hai sansen niklen.

Gaar ke munh pe rakha rahne do sang-e-khurshid,
Gaar mein haath na dalo kahin raaten niklen. !! -Gulzar Poetry

ज़िक्र आए तो मेरे लब से दुआएँ निकलें,
शमा जलती है तो लाज़िम है शुआएँ निकलें !

वक़्त की ज़र्ब से कट जाते हैं सब के सीने,
चाँद का छलका उतर जाए तो क़ाशें निकलें !

दफ़्न हो जाएँ कि ज़रख़ेज़ ज़मीं लगती है,
कल इसी मिट्टी से शायद मेरी शाख़ें निकलें !

चंद उम्मीदें निचोड़ी थीं तो आहें टपकीं,
दिल को पिघलाएँ तो हो सकता है साँसें निकलें !

ग़ार के मुँह पे रखा रहने दो संग-ए-ख़ुर्शीद,
ग़ार में हाथ न डालो कहीं रातें निकलें !! -गुलज़ार कविता

 

Os Padi Thi Raat Bahut Aur Kohra Tha Garmaish Par..

Os Padi Thi Raat Bahut Aur Kohra Tha Garmaish Par.. Gulzar Poetry !

Os padi thi raat bahut aur kohra tha garmaish par,
Saili si khamoshi mein aawaz suni farmaish par.

Fasle hain bhi aur nahi bhi napa taula kuch bhi nahi,
Log ba-zid rahte hain phir bhi rishton ki paimaish par.

Munh moda aur dekha kitni dur khade the hum donon,
Aap lade the hum se bas ek karwat ki gunjaish par.

Kaghaz ka ek chaand laga kar raat andheri khidki par,
Dil mein kitne khush the apni furqat ki aaraish par.

Dil ka hujra kitni bar ujda bhi aur basaya bhi,
Sari umar kahan thahra hai koi ek rihaish par.

Dhoop aur chhanv bant ke tum ne aangan mein diwar chuni,
Kya itna aasan hai zinda rahna is aasaish par.

Shayad tin nujumi meri maut pe aa kar pahunchenge,
Aisa hi ek bar hua tha isa ki paidaish par. !! -Gulzar Poetry

ओस पड़ी थी रात बहुत और कोहरा था गर्माइश पर,
सैली सी ख़ामोशी में आवाज़ सुनी फ़रमाइश पर !

फ़ासले हैं भी और नहीं भी नापा तौला कुछ भी नहीं,
लोग ब-ज़िद रहते हैं फिर भी रिश्तों की पैमाइश पर !

मुँह मोड़ा और देखा कितनी दूर खड़े थे हम दोनों,
आप लड़े थे हम से बस एक करवट की गुंजाइश पर !

काग़ज़ का एक चाँद लगा कर रात अँधेरी खिड़की पर,
दिल में कितने ख़ुश थे अपनी फ़ुर्क़त की आराइश पर !

दिल का हुज्रा कितनी बार उजड़ा भी और बसाया भी,
सारी उम्र कहाँ ठहरा है कोई एक रिहाइश पर !

धूप और छाँव बाँट के तुम ने आँगन में दीवार चुनी,
क्या इतना आसान है ज़िंदा रहना इस आसाइश पर !

शायद तीन नुजूमी मेरी मौत पे आ कर पहुँचेंगे,
ऐसा ही एक बार हुआ था ईसा की पैदाइश पर !! -गुलज़ार कविता