Tuesday , August 3 2021

Poetry Types Buzurg

Dosti Jab Kisi Se Ki Jaye..

Dosti jab kisi se ki jaye,
Dushmanon ki bhi raye lee jaye.

Maut ka zahar hai fizaon mein,
Ab kahan ja ke sans lee jaye.

Bas isi soch mein hun duba hua,
Ye nadi kaise par ki jaye.

Mere mazi ke zakhm bharne lage,
Aaj phir koi bhul ki jaye.

Lafz dharti pe sar payakte hain,
Gumbadon mein sada na di jaye.

Kah do is ahd ke buzurgon se,
Zindagi ki dua na di jaye.

Botalen khol ke to pee barason,
Aaj dil khol ke bhi pee jaye. !!

दोस्ती जब किसी से की जाये,
दुश्मनों की भी राय ली जाए !

मौत का ज़हर हैं फिजाओं में,
अब कहा जा के सांस ली जाए !

बस इसी सोच में हु डूबा हुआ,
ये नदी कैसे पार की जाए !

मेरे माजी के ज़ख्म भरने लगे,
आज फिर कोई भूल की जाए !

लफ़्ज़ धरती पे सर पटकते हैं,
गुम्बदों में सदा न दी जाए !

कह दो इस अहद के बुज़ुर्गों से,
ज़िंदगी की दुआ न दी जाए !

बोतलें खोल के तो पी बरसों,
आज दिल खोल के पी जाए !! -Rahat Indori Ghazal

 

Hawayen Tez Thin Ye To Faqat Bahane The..

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the,
Safine yun bhi kinare pe kab lagane the.

Khayal aata hai rah-rah ke laut jaane ka,
Safar se pahle humein apne ghar jalane the.

Guman tha ki samajh lenge mausamon ka mizaj,
Khuli jo aankh to zad pe sabhi thikane the.

Humein bhi aaj hi karna tha intezaar us ka,
Use bhi aaj hi sab wade bhul jaane the.

Talash jin ko hamesha buzurg karte rahe,
Na jaane kaun si duniya mein wo khazane the.

Chalan tha sab ke ghamon mein sharik rahne ka,
Ajib din the ajab sar-phire zamane the. !!

हवाएँ तेज़ थीं ये तो फ़क़त बहाने थे,
सफ़ीने यूँ भी किनारे पे कब लगाने थे !

ख़याल आता है रह-रह के लौट जाने का,
सफ़र से पहले हमें अपने घर जलाने थे !

गुमान था कि समझ लेंगे मौसमों का मिज़ाज,
खुली जो आँख तो ज़द पे सभी ठिकाने थे !

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का,
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे !

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे !

चलन था सब के ग़मों में शरीक रहने का,
अजीब दिन थे अजब सर-फिरे ज़माने थे !!

-Aashufta Changezi Ghazal / Poetry

 

Khud Se Chalkar Nahi Ye Tarz-E-Sukhan Aaya Hai

1.
Khud se chalkar nahi ye tarz-e-sukhan aaya hai,
Paanv daabe hain buzargon ke to fan aaya hai.

ख़ुद से चलकर नहीं ये तर्ज़-ए-सुखन आया है,
पाँव दाबे हैं बुज़र्गों के तो फ़न आया है !

2.
Humein buzurgon ki shafkat kabhi na mil paai,
Natija yah hai ki hum lofaron ke bich rahe.

हमें बुज़ुर्गों की शफ़क़त कभी न मिल पाई,
नतीजा यह है कि हम लोफ़रों के बीच रहे !

3.
Humeen girti hui deewar ko thaame rahe warna,
Salike se buzurgon ki nishani kaun rakhta hai.

हमीं गिरती हुई दीवार को थामे रहे वरना,
सलीके से बुज़ुर्गों की निशानी कौन रखता है !

4.
Ravish buzurgon ki shamil hai meri ghutti mein,
Jarurtan bhi Sakhi ki taraf nahi dekha.

रविश बुज़ुर्गों की शामिल है मेरी घुट्टी में,
ज़रूरतन भी सख़ी की तरफ़ नहीं देखा !

5.
Sadak se gujarte hain to bachche ped ginte hain,
Bade budhe bhi ginte hain wo sukhe ped ginte hain.

सड़क से जब गुज़रते हैं तो बच्चे पेड़ गिनते हैं,
बड़े बूढ़े भी गिनते हैं वो सूखे पेड़ गिनते हैं !

6.
Haweliyon ki chhatein gir gayi magar ab tak,
Mere buzurgon ka nasha nahi utarta hai.

हवेलियों की छतें गिर गईं मगर अब तक,
मेरे बुज़ुर्गों का नश्शा नहीं उतरता है !

7.
Bilakh rahe hain zamino pe bhukh se bachche,
Mere buzurgon ki daulat khandr ke niche hai.

बिलख रहे हैं ज़मीनों पे भूख से बच्चे,
मेरे बुज़ुर्गों की दौलत खण्डर के नीचे है !

8.
Mere buzurgon ko iski khabar nahi shayad,
Panap nahi saka jo ped bargadon mein raha.

मेरे बुज़ुर्गों को इसकी ख़बर नहीं शायद,
पनप नहीं सका जो पेड़ बरगदों में रहा !

9.
Ishq mein raay buzurgon se nahi li jati,
Aag bujhte huye chulhon se nahi li jati.

इश्क़ में राय बुज़ुर्गों से नहीं ली जाती,
आग बुझते हुए चूल्हों से नहीं ली जाती !

10.
Mere buzurgon ka saya tha jab talak mujh par,
Main apni umar se chhota dikhaai deta tha.

मेरे बुज़ुर्गों का साया था जब तलक मुझ पर,
मैं अपनी उम्र से छोटा दिखाई देता था !

11.
Bade-budhe kuyen mein nekiyaan kyon fenk aate hain,
Kuyen mein chhup ke aakhir kyon ye neki baith jati hai.

बड़े-बूढ़े कुएँ में नेकियाँ क्यों फेंक आते हैं,
कुएँ में छुप के आख़िर क्यों ये नेकी बैठ जाती है !

12.
Mujhe itna sataya hai mere apne ajijon ne,
Ki ab jangle bhala lagta hai ghar achcha nahi lagta.

मुझे इतना सताया है मरे अपने अज़ीज़ों ने,
कि अब जंगल भला लगता है घर अच्छा नहीं लगता !