Poetry Types Baat

Hum Ne Kati Hain Teri Yaad Mein Raaten Aksar..

Hum Ne Kati Hain Teri Yaad Mein Raaten Aksar.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Hum ne kati hain teri yaad mein raaten aksar,
Dil se guzri hain sitaron ki baraaten aksar.

Aur to kaun hai jo mujh ko tasalli deta,
Haath rakh deti hain dil par teri baaten aksar.

Husn shaista-e-tahzib-e-alam hai shayed,
Gham-zada lagti hain kyun chandni raaten aksar.

Haal kahna hai kisi se to mukhatab hai koi,
Kitni dilchasp hua karti hain baaten aksar.

Ishq rahzan na sahi ishq ke hathon phir bhi,
Hum ne lutti hui dekhi hain baraten aksar.

Hum se ek bar bhi jita hai na jitega koi,
Wo to hum jaan ke kha lete hain maten aksar.

Un se puchho kabhi chehre bhi padhe hain tum ne,
Jo kitabon ki kiya karte hain baaten aksar.

Hum ne un tund-hawaon mein jalaye hain charagh,
Jin hawaon ne ulat di hain bisaten aksar. !!

हम ने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर.. “जान निसार अख्तर” कविता हिंदी में !

हम ने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर,
दिल से गुज़री हैं सितारों की बरातें अक्सर !

और तो कौन है जो मुझ को तसल्ली देता,
हाथ रख देती हैं दिल पर तेरी बातें अक्सर !

हुस्न शाइस्ता-ए-तहज़ीब-ए-अलम है शायद,
ग़म-ज़दा लगती हैं क्यूँ चाँदनी रातें अक्सर !

हाल कहना है किसी से तो मुख़ातब है कोई,
कितनी दिलचस्प हुआ करती हैं बातें अक्सर !

इश्क़ रहज़न न सही इश्क़ के हाथों फिर भी,
हम ने लुटती हुई देखी हैं बरातें अक्सर !

हम से एक बार भी जीता है न जीतेगा कोई,
वो तो हम जान के खा लेते हैं मातें अक्सर !

उन से पूछो कभी चेहरे भी पढ़े हैं तुम ने,
जो किताबों की किया करते हैं बातें अक्सर !

हम ने उन तुंद-हवाओं में जलाए हैं चराग़,
जिन हवाओं ने उलट दी हैं बिसातें अक्सर !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Achchha Hai Un Se Koi Taqaza Kiya Na Jaye..

Achchha Hai Un Se Koi Taqaza Kiya Na Jaye.. Jan Nisar Akhtar Poetry

Achchha hai un se koi taqaza kiya na jaye,
Apni nazar mein aap ko ruswa kiya na jaye.

Hum hain tera khayal hai tera jamal hai,
Ek pal bhi apne aap ko tanha kiya na jaye.

Uthne ko uth to jayen teri anjuman se hum,
Par teri anjuman ko bhi suna kiya na jaye.

Un ki rawish juda hai hamari rawish juda,
Hum se to baat baat pe jhagda kiya na jaye.

Har-chand aitbar mein dhokhe bhi hain magar,
Ye to nahi kisi pe bharosa kiya na jaye.

Lahja bana ke baat karen un ke samne,
Hum se to is tarah ka tamasha kiya na jaye.

Inam ho khitab ho waise mile kahan,
Jab tak sifarishon ko ikattha kiya na jaye.

Is waqt hum se puchh na gham rozgar ke,
Hum se har ek ghunt ko kadwa kiya na jaye. !!

अच्छा है उन से कोई तक़ाज़ा किया न जाए,
अपनी नज़र में आप को रुस्वा किया न जाए !

हम हैं तेरा ख़याल है तेरा जमाल है,
एक पल भी अपने आप को तन्हा किया न जाए !

उठने को उठ तो जाएँ तेरी अंजुमन से हम,
पर तेरी अंजुमन को भी सूना किया न जाए !

उन की रविश जुदा है हमारी रविश जुदा,
हम से तो बात बात पे झगड़ा किया न जाए !

हर-चंद ऐतबार में धोखे भी हैं मगर,
ये तो नहीं किसी पे भरोसा किया न जाए !

लहजा बना के बात करें उन के सामने,
हम से तो इस तरह का तमाशा किया न जाए !

ईनाम हो ख़िताब हो वैसे मिले कहाँ,
जब तक सिफ़ारिशों को इकट्ठा किया न जाए !

इस वक़्त हम से पूछ न ग़म रोज़गार के,
हम से हर एक घूँट को कड़वा किया न जाए !!

-Jan Nisar Akhtar Ghazals / Poetry

 

Sau Chaand Bhi Chamkenge To Kya Baat Banegi

Sau Chaand Bhi Chamkenge To Kya Baat Banegi.. Jan Nisar Akhtar Ghazal

Sau chaand bhi chamkenge to kya baat banegi,
Tum aaye to is raat ki auqat banegi.

Un se yahi kah aayen ki ab hum na milenge,
Aakhir koi taqrib-e-mulaqat banegi.

Aye nawak-e-gham dil mein hai ek bund lahu ki,
Kuch aur to kya hum se mudaraat banegi.

Ye hum se na hoga ki kisi ek ko chahen,
Aye ishq hamari na tere sat banegi.

Ye kya hai ki badhte chalo badhte chalo aage,
Jab baith ke sochenge to kuch baat banegi. !!

Sau Chaand Bhi Chamkenge To Kya Baat Banegi.. Jan Nisar Akhtar Ghazal In Hindi Language

सौ चाँद भी चमकेंगे तो क्या बात बनेगी,
तुम आए तो इस रात की औक़ात बनेगी !

उन से यही कह आएँ कि अब हम न मिलेंगे,
आख़िर कोई तक़रीब-ए-मुलाक़ात बनेगी !

ऐ नावक-ए-ग़म दिल में है एक बूँद लहू की,
कुछ और तो क्या हम से मुदारात बनेगी !

ये हम से न होगा कि किसी एक को चाहें,
ऐ इश्क़ हमारी न तेरे सात बनेगी !

ये क्या है कि बढ़ते चलो बढ़ते चलो आगे,
जब बैठ के सोचेंगे तो कुछ बात बनेगी !!

-Jan Nisar Akhtar Ghazals / Poetry

 

Sans Lete Hue Bhi Darta Hun

Sans lete hue bhi darta hun,
Ye na samjhen ki aah karta hun.

Bahr-e-hasti mein hun misal-e-habab,
Mit hi jata hun jab ubharta hun.

Itni aazadi bhi ghanimat hai,
Sans leta hun baat karta hun.

Shaikh sahab khuda se darte hon,
Main to angrezon hi se darta hun.

Aap kya puchhte hain mera mizaj,
Shukr allah ka hai marta hun.

Ye bada aib mujh mein hai “Akbar“,
Dil mein jo aaye kah guzarta hun. !!

साँस लेते हुए भी डरता हूँ,
ये न समझें कि आह करता हूँ !

बहर-ए-हस्ती में हूँ मिसाल-ए-हबाब,
मिट ही जाता हूँ जब उभरता हूँ !

इतनी आज़ादी भी ग़नीमत है,
साँस लेता हूँ बात करता हूँ !

शैख़ साहब ख़ुदा से डरते हों,
मैं तो अंग्रेज़ों ही से डरता हूँ !

आप क्या पूछते हैं मेरा मिज़ाज,
शुक्र अल्लाह का है मरता हूँ !

ये बड़ा ऐब मुझ में है “अकबर“,
दिल में जो आए कह गुज़रता हूँ !!

 

Tark-E-Wafa Ki Baat Kahen Kya..

Tark-e-wafa ki baat kahen kya,
Dil mein ho to lab tak aaye.

Dil bechaara sidha sada,
Khud ruthe khud man bhi jaye.

Chalte rahiye manzil manzil,
Is aanchal ke saye saye.

Dur nahi tha shehar-e-tamanna,
Aap hi mere sath na aaye.

Aaj ka din bhi yaad rahega,
Aaj wo mujh ko yaad na aaye. !!

तर्क-ए-वफ़ा की बात कहें क्या,
दिल में हो तो लब तक आए !

दिल बेचारा सीधा सादा,
ख़ुद रूठे ख़ुद मान भी जाए !

चलते रहिए मंज़िल मंज़िल,
इस आँचल के साए साए !

दूर नहीं था शहर-ए-तमन्ना,
आप ही मेरे साथ न आए !

आज का दिन भी याद रहेगा,
आज वो मुझ को याद न आए !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

 

Kuch Bhi Bacha Na Kehne Ko Har Baat Ho Gayi

Kuch bhi bacha na kehne ko har baat ho gayi,
Aao kahin sharaab piyen raat ho gayi.

Phir yun hua ki waqt ka pansa palat gaya,
Ummid jeet ki thi magar mat ho gayi.

Sooraj ko chonch mein liye murgha khada raha,
Khidki ke parde khinch diye raat ho gayi.

Wo aadmi tha kitna bhala kitna pur-khulus,
Us se bhi aaj lije mulaqat ho gayi.

Raste mein wo mila tha main bach kar guzar gaya,
Us ki phati qamis mere sath ho gayi.

Naqsha utha ke koi naya shehar dhundhiye,
Is shehar mein to sab se mulaqat ho gayi. !!

कुछ भी बचा न कहने को हर बात हो गई,
आओ कहीं शराब पिएँ रात हो गई !

फिर यूँ हुआ कि वक़्त का पाँसा पलट गया,
उम्मीद जीत की थी मगर मात हो गई !

सूरज को चोंच में लिए मुर्ग़ा खड़ा रहा,
खिड़की के पर्दे खींच दिए रात हो गई !

वो आदमी था कितना भला कितना पुर-ख़ुलूस,
उस से भी आज लीजे मुलाक़ात हो गई !

रस्ते में वो मिला था मैं बच कर गुज़र गया,
उस की फटी क़मीस मेरे साथ हो गई !

नक़्शा उठा के कोई नया शहर ढूँढिए,
इस शहर में तो सब से मुलाक़ात हो गई !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Benaam Sa Ye Dard Thahar Kyun Nahi Jata

Benaam sa ye dard thahar kyun nahi jata,
Jo bit gaya hai wo guzar kyun nahi jata.

Sab kuch to hai kya dhundhti rahti hain nigahen,
Kya baat hai main waqt pe ghar kyun nahi jata.

Wo ek hi chehra to nahi sare jahan mein,
Jo dur hai wo dil se utar kyun nahi jata.

Main apni hi uljhi hui rahon ka tamasha,
Jate hain jidhar sab main udhar kyun nahi jata.

Wo khwab jo barson se na chehra na badan hai,
Wo khwab hawaon mein bikhar kyun nahi jata. !!

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता,
जो बीत गया है वो गुज़र क्यूँ नहीं जाता !

सब कुछ तो है क्या ढूँढती रहती हैं निगाहें,
क्या बात है मैं वक़्त पे घर क्यूँ नहीं जाता !

वो एक ही चेहरा तो नहीं सारे जहाँ में,
जो दूर है वो दिल से उतर क्यूँ नहीं जाता !

मैं अपनी ही उलझी हुई राहों का तमाशा,
जाते हैं जिधर सब मैं उधर क्यूँ नहीं जाता !

वो ख़्वाब जो बरसों से न चेहरा न बदन है,
वो ख़्वाब हवाओं में बिखर क्यूँ नहीं जाता !!

-Nida Fazli Sad Poetry/Ghazal

 

Har Ek Baat Pe Kehte Ho Tum Ki Tu Kya Hai

Har ek baat pe kehte ho tum ki tu kya hai,
Tumhin kaho ki ye andaz-e-guftugu kya hai.

Na shoale mein ye karishma na barq mein ye ada,
Koi batao ki wo shokh-e-tund-khu kya hai.

Ye rashk hai ki wo hota hai ham-sukhan tum se,
Wagarna khauf-e-bad-amozi-e-adu kya hai.

Chipak raha hai badan par lahu se pairahan,
Hamare jaib ko ab hajat-e-rafu kya hai.

Jala hai jism jahan dil bhi jal gaya hoga,
Kuredte ho jo ab rakh justuju kya hai.

Ragon mein daudte phirne ke hum nahi qail,
Jab aankh hi se na tapka to phir lahu kya hai.

Wo chiz jis ke liye hum ko ho bahisht aziz,
Siwae baada-e-gulfam-e-mushk-bu kya hai.

Piyun sharaab agar khum bhi dekh lun do-chaar,
Ye shisha o qadah o kuza o subu kya hai.

Rahi na taqat-e-guftar aur agar ho bhi,
To kis umid pe kahiye ki aarzu kya hai.

Hua hai shah ka musahib phire hai itraata,
Wagarna shahr mein “Ghalib” ki aabru kya hai. !!

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है,
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तुगू क्या है !

न शोले में ये करिश्मा न बर्क़ में ये अदा,
कोई बताओ कि वो शोख़-ए-तुंद-ख़ू क्या है !

ये रश्क है कि वो होता है हम-सुख़न तुम से,
वगर्ना ख़ौफ़-ए-बद-आमोज़ी-ए-अदू क्या है !

चिपक रहा है बदन पर लहू से पैराहन,
हमारे जैब को अब हाजत-ए-रफ़ू क्या है !

जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा,
कुरेदते हो जो अब राख जुस्तुजू क्या है !

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल,
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है !

वो चीज़ जिस के लिए हम को हो बहिश्त अज़ीज़,
सिवाए बादा-ए-गुलफ़ाम-ए-मुश्क-बू क्या है !

पियूँ शराब अगर ख़ुम भी देख लूँ दो-चार,
ये शीशा ओ क़दह ओ कूज़ा ओ सुबू क्या है !

रही न ताक़त-ए-गुफ़्तार और अगर हो भी,
तो किस उमीद पे कहिए कि आरज़ू क्या है !

हुआ है शह का मुसाहिब फिरे है इतराता,
वगर्ना शहर में “ग़ालिब” की आबरू क्या है !!

 

Koi Ummid Bar Nahi Aati..

Koi ummid bar nahi aati,
Koi surat nazar nahi aati.

Maut ka ek din muayyan hai,
Nind kyun raat bhar nahi aati.

Aage aati thi haal-e-dil pe hansi,
Ab kisi baat par nahi aati.

Jaanta hun sawab-e-taat-o-zohd,
Par tabiat idhar nahi aati.

Hai kuch aisi hi baat jo chup hun,
Warna kya baat kar nahi aati.

Kyun na chikhun ki yaad karte hain,
Meri aawaz gar nahi aati.

Dagh-e-dil gar nazar nahi aata,
Bu bhi aye chaaragar nahi aati.

Hum wahan hain jahan se hum ko bhi,
Kuch hamari khabar nahi aati.

Marte hain aarzu mein marne ki,
Maut aati hai par nahi aati.

Kaba kis munh se jaoge “Ghalib“,
Sharm tum ko magar nahi aati. !!

कोई उम्मीद बर नहीं आती,
कोई सूरत नज़र नहीं आती !

मौत का एक दिन मुअय्यन है,
नींद क्यूँ रात भर नहीं आती !

आगे आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी,
अब किसी बात पर नहीं आती !

जानता हूँ सवाब-ए-ताअत-ओ-ज़ोहद,
पर तबीअत इधर नहीं आती !

है कुछ ऐसी ही बात जो चुप हूँ,
वर्ना क्या बात कर नहीं आती !

क्यूँ न चीख़ूँ कि याद करते हैं,
मेरी आवाज़ गर नहीं आती !

दाग़-ए-दिल गर नज़र नहीं आता,
बू भी ऐ चारागर नहीं आती !

हम वहाँ हैं जहाँ से हम को भी,
कुछ हमारी ख़बर नहीं आती !

मरते हैं आरज़ू में मरने की,
मौत आती है पर नहीं आती !

काबा किस मुँह से जाओगे “ग़ालिब“,
शर्म तुम को मगर नहीं आती !!

 

Kuch To Hawa Bhi Sard Thi Kuch Tha Tera Khayal Bhi..

Kuch to hawa bhi sard thi kuch tha tera khayal bhi,
Dil ko khushi ke sath sath hota raha malal bhi.

Baat wo aadhi raat ki raat wo pure chaand ki,
Chaand bhi ain chait ka us pe tera jamal bhi.

Sab se nazar bacha ke wo mujh ko kuch aise dekhta,
Ek dafa to ruk gai gardish-e-mah-o-sal bhi.

Dil to chamak sakega kya phir bhi tarash ke dekh len,
Shisha-giran-e-shahr ke hath ka ye kamal bhi.

Us ko na pa sake the jab dil ka ajib haal tha,
Ab jo palat ke dekhiye baat thi kuch muhaal bhi.

Meri talab tha ek shakhs wo jo nahin mila to phir,
Hath dua se yun gira bhul gaya sawal bhi.

Us ki sukhan-taraaziyan mere liye bhi dhaal thi,
Us ki hansi mein chhup gaya apne ghamon ka haal bhi.

Gah qarib-e-shah-rag gah baid-e-wahm-o-khwab,
Us ki rafaqaton mein raat hijr bhi tha visal bhi.

Us ke hi bazuon mein aur us ko hi sochte rahe,
Jism ki khwahishon pe the ruh ke aur jal bhi.

Sham ki na-samajh hawa puch rahi hai ek pata,
Mauj-e-hawa-e-ku-e-yar kuch to mera khayal bhi. !!

कुछ तो हवा भी सर्द थी कुछ था तेरा ख़याल भी,
दिल को ख़ुशी के साथ साथ होता रहा मलाल भी !

बात वो आधी रात की रात वो पूरे चाँद की,
चाँद भी ऐन चैत का उस पे तेरा जमाल भी !

सब से नज़र बचा के वो मुझ को कुछ ऐसे देखता,
एक दफ़ा तो रुक गई गर्दिश-ए-माह-ओ-साल भी !

दिल तो चमक सकेगा क्या फिर भी तराश के देख लें,
शीशा-गिरान-ए-शहर के हाथ का ये कमाल भी !

उस को न पा सके थे जब दिल का अजीब हाल था,
अब जो पलट के देखिए बात थी कुछ मुहाल भी !

मेरी तलब था एक शख़्स वो जो नहीं मिला तो फिर,
हाथ दुआ से यूँ गिरा भूल गया सवाल भी !

उस की सुख़न-तराज़ियाँ मेरे लिए भी ढाल थीं,
उस की हँसी में छुप गया अपने ग़मों का हाल भी !

गाह क़रीब-ए-शाह-रग गाह बईद-ए-वहम-ओ-ख़्वाब,
उस की रफ़ाक़तों में रात हिज्र भी था विसाल भी !

उस के ही बाज़ुओं में और उस को ही सोचते रहे,
जिस्म की ख़्वाहिशों पे थे रूह के और जाल भी !

शाम की ना-समझ हवा पूछ रही है एक पता,
मौज-ए-हवा-ए-कू-ए-यार कुछ तो मिरा ख़याल भी !! -Parveen Shakir Ghazal