Tuesday , August 3 2021

Poetry Types Ashk

Char Tinke Utha Ke Jangal Se..

Char Tinke Utha Ke Jangal Se.. { Khana-Ba-Dosh – Gulzar Nazm } !

Char tinke utha ke jangal se
Ek baali anaj ki le kar
Chand qatre bilakte ashkon ke
Chand faqe bujhe hue lab par
Mutthi bhar apni qabr ki mitti
Mutthi bhar aarzuon ka gara
Ek tamir ki, liye hasrat
Tera khana-ba-dosh be-chaara
Shehar mein dar-ba-dar bhatakta hai

Tera kandha mile to sar tekun. !! -Gulzar Nazm

चार तिनके उठा के जंगल से
एक बाली अनाज की ले कर
चंद क़तरे बिलकते अश्कों के
चंद फ़ाक़े बुझे हुए लब पर
मुट्ठी भर अपनी क़ब्र की मिट्टी
मुट्ठी भर आरज़ूओं का गारा
एक तामीर की, लिए हसरत
तेरा ख़ाना-ब-दोश बे-चारा
शहर में दर-ब-दर भटकता है

तेरा कांधा मिले तो सर टेकूँ !! -गुलज़ार नज़्म

 

Jab Bhi Aankhon Mein Ashk Bhar Aaye..

Jab Bhi Aankhon Mein Ashk Bhar Aaye.. Gulzar Poetry !

Jab bhi aankhon mein ashk bhar aaye,
Log kuch dubte nazar aaye.

Apna mehwar badal chuki thi zameen,
Hum khala se jo laut kar aaye.

Chaand jitne bhi gum hue shab ke,
Sab ke ilzam mere sar aaye.

Chand lamhe jo laut kar aaye,
Raat ke aakhiri pahar aaye.

Ek goli gayi thi su-e-falak,
Ek parinde ke baal-o-par aaye.

Kuch charaghon ki sans tut gayi,
Kuch ba-mushkil dam-e-sahar aaye.

Mujh ko apna pata-thikana mile,
Wo bhi ek bar mere ghar aaye. !! -Gulzar Poetry

जब भी आँखों में अश्क भर आए,
लोग कुछ डूबते नज़र आए !

अपना मेहवर बदल चुकी थी ज़मीं,
हम ख़ला से जो लौट कर आए !

चाँद जितने भी गुम हुए शब के,
सब के इल्ज़ाम मेरे सर आए !

चंद लम्हे जो लौट कर आए,
रात के आख़िरी पहर आए !

एक गोली गई थी सू-ए-फ़लक,
इक परिंदे के बाल-ओ-पर आए !

कुछ चराग़ों की साँस टूट गई,
कुछ ब-मुश्किल दम-ए-सहर आए !

मुझ को अपना पता-ठिकाना मिले,
वो भी इक बार मेरे घर आए !! -गुलज़ार कविता

 

Mere Ashkon Ne Kai Aankhon Mein Jal-Thal Kar Diya..

Mere Ashkon Ne Kai Aankhon Mein Jal-Thal Kar Diya.. Rahat Indori Shayari !

Mere ashkon ne kai aankhon mein jal-thal kar diya,
Ek pagal ne bahut logon ko pagal kar diya.

Apni palkon par saja kar mere aansoo aap ne,
Raste ki dhul ko aankhon ka kajal kar diya.

Main ne dil de kar use ki thi wafa ki ibtida,
Us ne dhokha de ke ye qissa mukammal kar diya.

Ye hawayen kab nigahen pher len kis ko khabar,
Shohraton ka takht jab tuta to paidal kar diya.

Dewtaon aur khudaon ki lagai aag ne,
Dekhte hi dekhte basti ko jangal kar diya.

Zakhm ki surat nazar aate hain chehron ke nuqush,
Hum ne aainon ko tahzibon ka maqtal kar diya.

Shehar mein charcha hai aakhir aisi ladki kaun hai,
Jis ne achchhe-khase ek shayar ko pagal kar diya. !!

मेरे अश्कों ने कई आँखों में जल-थल कर दिया,
एक पागल ने बहुत लोगों को पागल कर दिया !

अपनी पलकों पर सजा कर मेरे आँसू आप ने,
रास्ते की धूल को आँखों का काजल कर दिया !

मैं ने दिल दे कर उसे की थी वफ़ा की इब्तिदा,
उस ने धोखा दे के ये क़िस्सा मुकम्मल कर दिया !

ये हवाएँ कब निगाहें फेर लें किस को ख़बर,
शोहरतों का तख़्त जब टूटा तो पैदल कर दिया !

देवताओं और ख़ुदाओं की लगाई आग ने,
देखते ही देखते बस्ती को जंगल कर दिया !

ज़ख़्म की सूरत नज़र आते हैं चेहरों के नुक़ूश,
हम ने आईनों को तहज़ीबों का मक़्तल कर दिया !

शहर में चर्चा है आख़िर ऐसी लड़की कौन है,
जिस ने अच्छे-ख़ासे एक शायर को पागल कर दिया !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Na Bahte Ashk To Tasir Mein Siwa Hote

Na bahte ashk to tasir mein siwa hote,
Sadaf mein rahte ye moti to be-baha hote.

Mujh aise rind se rakhte zarur hi ulfat,
Janab-e-shaikh agar aashiq-e-khuda hote.

Gunahgaron ne dekha jamal-e-rahmat ko,
Kahan nasib ye hota jo be-khata hote.

Janab-e-hazrat-e-naseh ka wah kya kahna,
Jo ek baat na hoti to auliya hote.

Mazaq-e-ishq nahi shekh mein ye hai afsos,
Ye chashni bhi jo hoti to kya se kya hote.

Mahall-e-shukr hain “Akbar” ye darafshan nazmen,
Har ek zaban ko ye moti nahi ata hote. !!

 

Muddat Hui Hai Yaar Ko Mehman Kiye Hue

Muddat hui hai yaar ko mehman kiye hue,
Josh-e-qadah se bazm charaghan kiye hue.

Karta hun jama phir jigar-e-lakht-lakht ko,
Arsa hua hai dawat-e-mizhgan kiye hue.

Phir waz-e-ehtiyat se rukne laga hai dam,
Barson hue hain chaak gareban kiye hue.

Phir garm-nala-ha-e-sharar-bar hai nafas,
Muddat hui hai sair-e-charaghan kiye hue.

Phir pursish-e-jarahat-e-dil ko chala hai ishq,
Saman-e-sad-hazar namak-dan kiye hue.

Phir bhar raha hun khama-e-mizhgan ba-khun-e-dil,
Saz-e-chaman taraazi-e-daman kiye hue.

Baham-digar hue hain dil o dida phir raqib,
Nazzara o khayal ka saman kiye hue.

Dil phir tawaf-e-ku-e-malamat ko jaye hai,
Pindar ka sanam-kada viran kiye hue.

Phir shauq kar raha hai kharidar ki talab,
Arz-e-mata-e-aql-o-dil-o-jaan kiye hue.

Daude hai phir har ek gul-o-lala par khayal,
Sad-gulistan nigah ka saman kiye hue.

Phir chahta hun nama-e-dildar kholna,
Jaan nazr-e-dil-farebi-e-unwan kiye hue.

Mange hai phir kisi ko lab-e-baam par hawas,
Zulf-e-siyah rukh pe pareshan kiye hue.

Chahe hai phir kisi ko muqabil mein aarzu,
Surme se tez dashna-e-mizhgan kiye hue.

Ek nau-bahaar-e-naz ko take hai phir nigah,
Chehra farogh-e-mai se gulistan kiye hue.

Phir ji mein hai ki dar pe kisi ke pade rahen,
Sar zer-bar-e-minnat-e-darban kiye hue.

Ji dhundta hai phir wahi fursat ki raat din,
Baithe rahen tasawwur-e-jaanan kiye hue.

Ghalib” hamein na chhed ki phir josh-e-ashk se,
Baithe hain hum tahayya-e-tufan kiye hue. !!

मुद्दत हुई है यार को मेहमाँ किए हुए,
जोश-ए-क़दह से बज़्म चराग़ाँ किए हुए !

करता हूँ जमा फिर जिगर-ए-लख़्त-लख़्त को,
अर्सा हुआ है दावत-ए-मिज़्गाँ किए हुए !

फिर वज़-ए-एहतियात से रुकने लगा है दम,
बरसों हुए हैं चाक गरेबाँ किए हुए !

फिर गर्म-नाला-हा-ए-शरर-बार है नफ़स,
मुद्दत हुई है सैर-ए-चराग़ाँ किए हुए !

फिर पुर्सिश-ए-जराहत-ए-दिल को चला है इश्क़,
सामान-ए-सद-हज़ार नमक-दाँ किए हुए !

फिर भर रहा हूँ ख़ामा-ए-मिज़्गाँ ब-ख़ून-ए-दिल,
साज़-ए-चमन तराज़ी-ए-दामाँ किए हुए !

बाहम-दिगर हुए हैं दिल ओ दीदा फिर रक़ीब,
नज़्ज़ारा ओ ख़याल का सामाँ किए हुए !

दिल फिर तवाफ़-ए-कू-ए-मलामत को जाए है,
पिंदार का सनम-कदा वीराँ किए हुए !

फिर शौक़ कर रहा है ख़रीदार की तलब,
अर्ज़-ए-मता-ए-अक़्ल-ओ-दिल-ओ-जाँ किए हुए !

दौड़े है फिर हर एक गुल-ओ-लाला पर ख़याल,
सद-गुलिस्ताँ निगाह का सामाँ किए हुए !

फिर चाहता हूँ नामा-ए-दिलदार खोलना,
जाँ नज़्र-ए-दिल-फ़रेबी-ए-उनवाँ किए हुए !

माँगे है फिर किसी को लब-ए-बाम पर हवस,
ज़ुल्फ़-ए-सियाह रुख़ पे परेशाँ किए हुए !

चाहे है फिर किसी को मुक़ाबिल में आरज़ू,
सुरमे से तेज़ दश्ना-ए-मिज़्गाँ किए हुए !

इक नौ-बहार-ए-नाज़ को ताके है फिर निगाह,
चेहरा फ़रोग़-ए-मय से गुलिस्ताँ किए हुए !

फिर जी में है कि दर पे किसी के पड़े रहें,
सर ज़ेर-बार-ए-मिन्नत-ए-दरबाँ किए हुए !

जी ढूँडता है फिर वही फ़ुर्सत कि रात दिन,
बैठे रहें तसव्वुर-ए-जानाँ किए हुए !

ग़ालिब” हमें न छेड़ कि फिर जोश-ए-अश्क से,
बैठे हैं हम तहय्या-ए-तूफ़ाँ किए हुए !!

 

Gulon Mein Rang Bhare Baad-E-Nau-Bahaar Chale..

Gulon mein rang bhare baad-e-nau-bahaar chale,
Chale bhi aao ki gulshan ka karobar chale.

Qafas udas hai yaro saba se kuchh to kaho,
Kahin to bahr-e-khuda aaj zikr-e-yar chale.

Kabhi to subh tere kunj-e-lab se ho aaghaz,
Kabhi to shab sar-e-kakul se mushk-bar chale.

Bada hai dard ka rishta ye dil gharib sahi,
Tumhare naam pe aayenge gham-gusar chale.

Jo hum pe guzri so guzri magar shab-e-hijran,
Humare ashk teri aaqibat sanwar chale.

Huzur-e-yar hui daftar-e-junun ki talab,
Girah mein le ke gareban ka tar tar chale.

Maqam “Faiz” koi rah mein jacha hi nahi,
Jo ku-e-yar se nikle to su-e-dar chale. !!

गुलों में रंग भरे बाद-ए-नौ-बहार चले,
चले भी आओ कि गुलशन का कारोबार चले !

क़फ़स उदास है यारो सबा से कुछ तो कहो,
कहीं तो बहर-ए-ख़ुदा आज ज़िक्र-ए-यार चले !

कभी तो सुब्ह तेरे कुंज-ए-लब से हो आग़ाज़,
कभी तो शब सर-ए-काकुल से मुश्क-बार चले !

बड़ा है दर्द का रिश्ता ये दिल ग़रीब सही,
तुम्हारे नाम पे आएँगे ग़म-गुसार चले !

जो हम पे गुज़री सो गुज़री मगर शब-ए-हिज्राँ,
हमारे अश्क तेरी आक़िबत सँवार चले !

हुज़ूर-ए-यार हुई दफ़्तर-ए-जुनूँ की तलब,
गिरह में ले के गरेबाँ का तार तार चले !

मक़ाम “फ़ैज़” कोई राह में जचा ही नहीं,
जो कू-ए-यार से निकले तो सू-ए-दार चले !!

 

Mai-Khana-E-Hasti Mein Aksar Hum Apna Thikana Bhul Gaye..

Mai-khana-e-hasti mein aksar hum apna thikana bhul gaye,
Ya hosh mein jaana bhul gaye ya hosh mein aana bhul gaye.

Asbab to ban hi jaate hain taqdir ki zid ko kya kahiye,
Ek jaam lo pahuncha tha hum tak hum jaam uthana bhul gaye.

Aaye the bikhere zulfon ko ek roz humare marqad par,
Do ashk to tapke aankhon se do phool chadhana bhul gaye.

Chaha tha ki un ki aankhon se kuch rang-e-bahaaran le jiye,
Taqrib to achchhi thi lekin do aankh milana bhul gaye.

Malum nahi aaine mein chupke se hansaa tha kaun “Adam“,
Hum jaam uthana bhul gaye wo saaz bajana bhul gaye. !!

मय-खाना-ए-हस्ति में अक्सर हम अपना ठिकाना भूल गए,
या होश में जाना भूल गए या होश में आना भूल गए !

अस्बाब तो बन ही जाते हैं तक़दीर की ज़िद को क्या कहिये,
एक जाम लो पहुंचा था हम तक हम जाम उठाना भूल गए !

आये थे बिखरे ज़ुल्फ़ों को एक रोज़ हमारे मरक़द पर,
दो अश्क तो टपके आँखों से, दो फूल चढ़ाना भूल गए !

चाहा था कि उन की आँखों से कुछ रंग-ए-बहारां ले लीजे,
तक़रीब तो अच्छी थी लेकिन दो आँख मिलाना भूल गए.

मालूम नहीं आईने में चुपके से हँसा था कौन “अदम“,
हम जाम उठाना भूल गए, वो साज़ बजाना भूल गए !!

 

Ashk Apna Ki Tumhara Nahi Dekha Jata..

Ashk apna ki tumhara nahi dekha jata,
Abr ki zad mein sitara nahi dekha jata.

Apni shah-e-rag ka lahu tan mein rawan hai jab tak,
Zer-e-khanjar koi pyara nahi dekha jata.

Mauj-dar-mauj ulajhne ki hawas be-mani,
Dubta ho to sahaara nahi dekha jata.

Tere chehre ki kashish thi ki palat kar dekha,
Warna suraj to dobara nahi dekha jata.

Aag ki zid pe na ja phir se bhadak sakti hai,
Rakh ki tah mein sharara nahi dekha jata.

Zakhm aankhon ke bhi sahte the kabhi dil wale,
Ab to abru ka ishaara nahi dekha jata.

Kya qayamat hai ki dil jis ka nagar hai “Mohsin“,
Dil pe us ka bhi ijara nahi dekha jata. !!

अश्क अपना कि तुम्हारा नहीं देखा जाता,
अब्र की ज़द में सितारा नहीं देखा जाता !

अपनी शह-ए-रग का लहू तन में रवाँ है जब तक,
ज़ेर-ए-ख़ंजर कोई प्यारा नहीं देखा जाता !

मौज-दर-मौज उलझने की हवस बे-मानी,
डूबता हो तो सहारा नहीं देखा जाता !

तेरे चेहरे की कशिश थी कि पलट कर देखा,
वर्ना सूरज तो दोबारा नहीं देखा जाता !

आग की ज़िद पे न जा फिर से भड़क सकती है,
राख की तह में शरारा नहीं देखा जाता !

ज़ख़्म आँखों के भी सहते थे कभी दिल वाले,
अब तो अबरू का इशारा नहीं देखा जाता !

क्या क़यामत है कि दिल जिस का नगर है “मोहसिन“,
दिल पे उस का भी इजारा नहीं देखा जाता !!

 

Itna To Zindagi Mein Kisi Ke Khalal Pade..

Itna to zindagi mein kisi ke khalal pade,
Hansne se ho sukun na rone se kal pade.

Jis tarah hans raha hun main pi-pi ke garm ashk,
Yun dusra hanse to kaleja nikal pade.

Ek tum ki tum ko fikr-e-nasheb-o-faraaz hai,
Ek hum ki chal pade to bahar-haal chal pade.

Saqi sabhi ko hai gham-e-tishna-labi magar,
Mai hai usi ki naam pe jis ke ubal pade.

Muddat ke baad us ne jo ki lutf ki nigah,
Ji khush to ho gaya magar aansu nikal pade. !!

इतना तो ज़िंदगी में किसी के ख़लल पड़े,
हँसने से हो सुकून न रोने से कल पड़े !

जिस तरह हँस रहा हूँ मैं पी-पी के गर्म अश्क,
यूँ दूसरा हँसे तो कलेजा निकल पड़े !

एक तुम कि तुम को फ़िक्र-ए-नशेब-ओ-फ़राज़ है,
एक हम कि चल पड़े तो बहर-हाल चल पड़े !

साक़ी सभी को है ग़म-ए-तिश्ना-लबी मगर,
मय है उसी की नाम पे जिस के उबल पड़े !

मुद्दत के बाद उस ने जो की लुत्फ़ की निगाह,
जी ख़ुश तो हो गया मगर आँसू निकल पड़े !!

-Kaifi Azmi Ghazal / Poetry

 

Tum Itna Jo Muskura Rahe Ho..

Tum itna jo muskura rahe ho,
Kya gham hai jis ko chhupa rahe ho.

Aankhon mein nami hansi labon par,
Kya haal hai kya dikha rahe ho.

Ban jayenge zahr peete-peete,
Ye ashk jo peete ja rahe ho.

Jin zakhmon ko waqt bhar chala hai,
Tum kyun unhen chhede ja rahe ho.

Rekhaaon ka khel hai muqaddar,
Rekhaaon se mat kha rahe ho. !!

तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो,
क्या ग़म है जिस को छुपा रहे हो !

आँखों में नमी हँसी लबों पर,
क्या हाल है क्या दिखा रहे हो !

बन जाएँगे ज़हर पीते-पीते,
ये अश्क जो पीते जा रहे हो !

जिन ज़ख़्मों को वक़्त भर चला है,
तुम क्यूँ उन्हें छेड़े जा रहे हो !

रेखाओं का खेल है मुक़द्दर,
रेखाओं से मात खा रहे हो !!

-Kaifi Azmi Ghazal / Poetry