Poetry Types Aawaz

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka..

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka.. { Urdu Zaban – Gulzar’s Nazm }

Yeh kaisa ishq hai urdu zaban ka
Maza ghulta hai lafzon ka zaban par
Ki jaise pan mein mahnga qimam ghulta hai

Yeh kaisa ishq hai urdu zaban ka
Nasha aata hai urdu bolne mein
Gilauri ki tarah hain munh lagi sab istelahen
Lutf deti hai, halaq chhuti hai urdu to, halaq se jaise mai ka ghont utarta hai

Badi aristocracy hai zaban mein
Faqiri mein nawabi ka maza deti hai urdu
Agarche mani kam hote hai urdu mein
Alfaz ki ifraat hoti hai
Magar phir bhi, buland aawaz padhiye to bahut hi motbar lagti hain baaten

Kahin kuch dur se kanon mein padti hai agar urdu
To lagta hai ki din jadon ke hain khidki khuli hai, dhoop andar aa rahi hai
Ajab hai ye zaban, urdu
Kabhi kahin safar karte agar koi musafir sher padh de “Mir”, “Ghalib” ka
Wo chahe ajnabi ho, yahi lagta hai wo mere watan ka hai

Badi shaista lahje mein kisi se urdu sun kar
Kya nahi lagta ki ek tahzib ki aawaz hai Urdu. !! -Gulzar’s Nazm

ये कैसा इश्क़ है उर्दू ज़बाँ का
मज़ा घुलता है लफ़्ज़ों का ज़बाँ पर
कि जैसे पान में महँगा क़िमाम घुलता है

ये कैसा इश्क़ है उर्दू ज़बाँ का
नशा आता है उर्दू बोलने में
गिलौरी की तरह हैं मुँह लगी सब इस्तेलाहें
लुत्फ़ देती है, हलक़ छूती है उर्दू तो, हलक़ से जैसे मय का घोंट उतरता है

बड़ी अरिस्टोकरेसी है ज़बाँ में
फ़क़ीरी में नवाबी का मज़ा देती है उर्दू
अगरचे मअनी कम होते हैं उर्दू में
अल्फ़ाज़ की इफ़रात होती है
मगर फिर भी, बुलंद आवाज़ पढ़िए तो बहुत ही मोतबर लगती हैं बातें

कहीं कुछ दूर से कानों में पड़ती है अगर उर्दू
तो लगता है कि दिन जाड़ों के हैं खिड़की खुली है, धूप अंदर आ रही है
अजब है ये ज़बाँ, उर्दू
कभी कहीं सफ़र करते अगर कोई मुसाफ़िर शेर पढ़ दे “मीर”, “ग़ालिब” का
वो चाहे अजनबी हो, यही लगता है वो मेरे वतन का है

बड़ी शाइस्ता लहजे में किसी से उर्दू सुन कर
क्या नहीं लगता कि एक तहज़ीब की आवाज़ है, उर्दू !! -गुलज़ार नज़्म

 

Tujh Ko Dekha Hai Jo Dariya Ne Idhar Aate Hue..

Tujh Ko Dekha Hai Jo Dariya Ne Idhar Aate Hue.. Gulzar Poetry !

Tujh ko dekha hai jo dariya ne idhar aate hue,
Kuch bhanwar dub gaye pani mein chakraate hue.

Hum ne to raat ko danton se pakad kar rakha,
Chhina jhapti mein ufuq khulta gaya jate hue.

Main na hunga to khizan kaise kategi teri,
Shokh patte ne kaha shakh se murjhate hue.

Hasraten apni bilaktin na yatimon ki tarah,
Hum ko aawaz hi de lete zara jate hue.

Si liye honth wo pakiza nigahen sun kar,
Maili ho jati hai aawaz bhi dohraate hue. !! -Gulzar Poetry

तुझ को देखा है जो दरिया ने इधर आते हुए,
कुछ भँवर डूब गए पानी में चकराते हुए !

हम ने तो रात को दाँतों से पकड़ कर रखा,
छीना झपटी में उफ़ुक़ खुलता गया जाते हुए !

मैं न हूँगा तो ख़िज़ाँ कैसे कटेगी तेरी,
शोख़ पत्ते ने कहा शाख़ से मुरझाते हुए !

हसरतें अपनी बिलक्तीं न यतीमों की तरह,
हम को आवाज़ ही दे लेते ज़रा जाते हुए !

सी लिए होंठ वो पाकीज़ा निगाहें सुन कर,
मैली हो जाती है आवाज़ भी दोहराते हुए !! -गुलज़ार कविता

 

Ghazlon Ka Hunar Apni Aankhon Ko Sikhayenge..

Ghazlon ka hunar apni aankhon ko sikhayenge,
Royenge bahut lekin aansoo nahi aayenge.

Keh dena samundar se hum os ke moti hain,
Dariya ki tarah tujh se milne nahi aayenge.

Wo dhup ke chhappar hon ya chhanw ki diwarein,
Ab jo bhi uthayenge mil jul ke uthayenge.

Jab sath na de koi aawaz hamein dena,
Hum phool sahi lekin patthar bhi uthayenge. !!

ग़ज़लों का हुनर अपनी आँखों को सिखाएंगे,
रोयेंगे बहुत लेकिन आंसू नहीं आयेंगे !

कह देना समंदर से हम ओस के मोती है,
दरिया कि तरह तुझ से मिलने नहीं आयेंगे !

वो धुप के छप्पर हों या छाँव कि दीवारें,
अब जो भी उठाएंगे मिल जुल के उठाएंगे !

जब साथ न दे कोई आवाज़ हमे देना,
हम फूल सही लेकिन पत्थर भी उठाएंगे !! -Bashir Badr Ghazal

 

Hath Chhuten Bhi To Rishte Nahi Chhoda Karte

Hath chhuten bhi to rishte nahi chhoda karte,
Waqt ki shakh se lamhe nahi toda karte.

Jis ki aawaz mein silwat ho nigahon mein shikan,
Aisi taswir ke tukde nahi joda karte.

Lag ke sahil se jo bahta hai use bahne do,
Aise dariya ka kabhi rukh nahi moda karte.

Jagne par bhi nahi aankh se girtin kirchen,
Is tarah khwabon se aankhen nahi phoda karte.

Shahd jine ka mila karta hai thoda thoda,
Jaane walon ke liye dil nahi thoda karte.

Ja ke kohsar se sar maro ki aawaz to ho,
Khasta diwaron se matha nahi phoda karte. !!

हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते,
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते !

जिस की आवाज़ में सिलवट हो निगाहों में शिकन,
ऐसी तस्वीर के टुकड़े नहीं जोड़ा करते !

लग के साहिल से जो बहता है उसे बहने दो,
ऐसे दरिया का कभी रुख़ नहीं मोड़ा करते !

जागने पर भी नहीं आँख से गिरतीं किर्चें,
इस तरह ख़्वाबों से आँखें नहीं फोड़ा करते !

शहद जीने का मिला करता है थोड़ा थोड़ा,
जाने वालों के लिए दिल नहीं थोड़ा करते !

जा के कोहसार से सर मारो कि आवाज़ तो हो,
ख़स्ता दीवारों से माथा नहीं फोड़ा करते !!

-Gulzar Shayari Ghazal / Poetry

 

Ab Ke Tajdid-E-Wafa Ka Nahi Imkan Jaanan..

Ab ke tajdid-e-wafa ka nahi imkan jaanan,
Yaad kya tujh ko dilayen tera paiman jaanan.

Yunhi mausam ki ada dekh ke yaad aaya hai,
Kis qadar jald badal jate hain insan jaanan.

Zindagi teri ata thi so tere naam ki hai,
Hum ne jaise bhi basar ki tera ehsan jaanan.

Dil ye kahta hai ki shayad hai fasurda tu bhi,
Dil ki kya baat karen dil to hai nadan jaanan.

Awwal awwal ki mohabbat ke nashe yaad to kar,
Be-piye bhi tera chehra tha gulistan jaanan.

Aakhir aakhir to ye aalam hai ki ab hosh nahi,
Rag-e-mina sulag utthi ki rag-e-jaan jaanan.

Muddaton se yahi aalam na tawaqqo na umid,
Dil pukare hi chala jata hai jaanan jaanan.

Hum bhi kya sada the hum ne bhi samajh rakkha tha,
Gham-e-dauran se juda hai gham-e-jaanan jaanan.

Ab ke kuchh aisi saji mehfil-e-yaran jaanan,
Sar-ba-zanu hai koi sar-ba-gareban jaanan.

Har koi apni hi aawaz se kanp uthta hai,
Har koi apne hi saye se hirasan jaanan.

Jis ko dekho wahi zanjir-ba-pa lagta hai,
Shehar ka shahr hua dakhil-e-zindan jaanan.

Ab tera zikr bhi shayad hi ghazal mein aaye,
Aur se aur hue dard ke unwan jaanan.

Hum ki ruthi hui rut ko bhi mana lete the,
Hum ne dekha hi na tha mausam-e-hijran jaanan.

Hosh aaya to sabhi khwab the reza reza,
Jaise udte hue auraq-e-pareshan jaanan. !!

अब के तजदीद-ए-वफ़ा का नहीं इम्काँ जानाँ,
याद क्या तुझ को दिलाएँ तेरा पैमाँ जानाँ !

यूँही मौसम की अदा देख के याद आया है,
किस क़दर जल्द बदल जाते हैं इंसाँ जानाँ !

ज़िंदगी तेरी अता थी सो तेरे नाम की है,
हम ने जैसे भी बसर की तेरा एहसाँ जानाँ !

दिल ये कहता है कि शायद है फ़सुर्दा तू भी,
दिल की क्या बात करें दिल तो है नादाँ जानाँ !

अव्वल अव्वल की मोहब्बत के नशे याद तो कर,
बे-पिए भी तेरा चेहरा था गुलिस्ताँ जानाँ !

आख़िर आख़िर तो ये आलम है कि अब होश नहीं,
रग-ए-मीना सुलग उट्ठी कि रग-ए-जाँ जानाँ !

मुद्दतों से यही आलम न तवक़्क़ो न उमीद,
दिल पुकारे ही चला जाता है जानाँ जानाँ !

हम भी क्या सादा थे हम ने भी समझ रक्खा था,
ग़म-ए-दौराँ से जुदा है ग़म-ए-जानाँ जानाँ !

अब के कुछ ऐसी सजी महफ़िल-ए-याराँ जानाँ,
सर-ब-ज़ानू है कोई सर-ब-गरेबाँ जानाँ !

हर कोई अपनी ही आवाज़ से काँप उठता है,
हर कोई अपने ही साए से हिरासाँ जानाँ !

जिस को देखो वही ज़ंजीर-ब-पा लगता है,
शहर का शहर हुआ दाख़िल-ए-ज़िंदाँ जानाँ !

अब तेरा ज़िक्र भी शायद ही ग़ज़ल में आए,
और से और हुए दर्द के उनवाँ जानाँ !

हम कि रूठी हुई रुत को भी मना लेते थे,
हम ने देखा ही न था मौसम-ए-हिज्राँ जानाँ !

होश आया तो सभी ख़्वाब थे रेज़ा रेज़ा,
जैसे उड़ते हुए औराक़-ए-परेशाँ जानाँ !!

-Ahmad Faraz Ghazal / Urdu Poetry

 

Barson Ke Baad Dekha Ek Shakhs Dilruba Sa..

Barson ke baad dekha ek shakhs dilruba sa

Barson ke baad dekha ek shakhs dilruba sa,
Ab zehan mein nahi hai par naam tha bhala sa.

Abro khinche khinche se aankhen jhuki jhuki si,
Baaten ruki ruki si lehja thaka thaka sa.

Alfaaz the ki jugnu aawaz ke safar mein,
Ban jaaye jungalon mein jis tarah rasta sa.

Khwabon mein khwab uske yaadon mein yaad uski,
Nindon mein ghul gaya ho jaise ki rat-jaga sa.

Pahle bhi log aaye kitne hi zindagi mein,
Woh har tarah se lekin auron se tha juda sa.

Kuch ye ki muddaton se hum bhi nahi the roye,
Kuch zahar mein ghula tha ahbaab ka dilasa.

Phir yun hua ki sawan aankhon mein aa base the,
Phir yun hua ki jaise dil bhi tha aablaa sa.

Ab sach kahen to yaaro hum ko khabar nahi thi,
Ban jayega qayaamat ek waaqiya zara sa.

Tewar the be-rukhi ke andaaz dosti ka,
Woh ajnabi tha lekin lagta tha aashna sa.

Hum dasht the ki dariya hum zahar the ki amrit,
Na haq the jaam hum ko jab wo nahi tha pyasa.

Humne bhi usko dekha kal shaam ittefaqan,
Apna bhi haal hai ab logo “Faraz” ka sa .

बरसों के बाद देखा एक शख्स दिलरुबा सा,
अब ज़हन में नहीं है पर नाम था भला सा !

अबरो खिंचे खिंचे से आखें झुकी झुकी सी,
बातें रुकी रुकी सी, लहजा थका थका सा !

अलफ़ाज़ थे की जुगनु आवाज़ के सफ़र में,
बन जाए जंगलों में जिस तरह रास्ता सा !

ख़्वाबों में ख्वाब उसके यादों में याद उसकी,
नींदों में घुल गया हो जैसे की रात-जगा सा !

पहले भी लोग आये कितने ही ज़िन्दगी में,
वह हर तरह से लेकिन औरों से था जुदा सा !

कुछ ये की मुद्दतों से हम भी नहीं थे रोये,
कुछ ज़हर में घुला था अहबाब का दिलासा !

फिर यूँ हुआ कि सावन आँखों में आ बसे थे,
फिर यूँ हुआ कि जैसे दिल भी था अबला सा !

अब सच कहें तो यारो हम को खबर नहीं थी,
बन जायेगा क़यामत एक वाकिया ज़रा सा !

तेवर थे बे-रुखी के अंदाज़ दोस्ती का,
वह अजनबी था लेकिन लगता था आशना सा !

हम दश्त थे की दरिया हम ज़हर थे कि अमृत,
ना हक़ थे ज़ाम हम को जब वो नहीं था प्यासा !

हमने भी उसको देखा कल शाम इत्तेफ़ाक़न,
अपना भी हाल है अब लोगो “फ़राज़” का सा !!

 

Bahar Bhi Ab Andar Jaisa Sannata Hai..

Bahar bhi ab andar jaisa sannata hai,
Dariya ke us par bhi gehra sannata hai.

Shor thame to shayad sadiyan bit chuki hain,
Ab tak lekin sahma sahma sannata hai.

Kis se bolun ye to ek sahra hai jahan par,
Main hun ya phir gunga behra sannata hai.

Jaise ek tufan se pehle ki khamoshi,
Aaj meri basti mein aisa sannata hai.

Nayi sehar ki chap na jaane kab ubhregi,
Chaaron jaanib raat ka gahra sannata hai.

Soch rahe ho socho lekin bol na padna,
Dekh rahe ho shehar mein kitna sannata hai.

Mehv-e-khwab hain sari dekhne wali aankhen,
Jagne wala bas ek andha sannata hai.

Darna hai to anjaani aawaaz se darna,
Ye to “Aanis” dekha-bhaala sannata hai. !!

बाहर भी अब अंदर जैसा सन्नाटा है,
दरिया के उस पार भी गहरा सन्नाटा है !

शोर थमे तो शायद सदियाँ बीत चुकी हैं,
अब तक लेकिन सहमा सहमा सन्नाटा है !

किस से बोलूँ ये तो एक सहरा है जहाँ पर,
मैं हूँ या फिर गूँगा बहरा सन्नाटा है !

जैसे एक तूफ़ान से पहले की ख़ामोशी,
आज मेरी बस्ती में ऐसा सन्नाटा है !

नई सहर की चाप न जाने कब उभरेगी,
चारों जानिब रात का गहरा सन्नाटा है !

सोच रहे हो सोचो लेकिन बोल न पड़ना,
देख रहे हो शहर में कितना सन्नाटा है !

महव-ए-ख़्वाब हैं सारी देखने वाली आँखें,
जागने वाला बस एक अंधा सन्नाटा है !

डरना है तो अन-जानी आवाज़ से डरना,
ये तो “आनिस” देखा-भाला सन्नाटा है !!

 

Zaban Rakhta Hun Lekin Chup Khada Hun..

Zaban rakhta hun lekin chup khada hun,
Main aawazon ke ban mein ghir gaya hun.

Mere ghar ka daricha puchhta hai,
Main sara din kahan phirta raha hun.

Mujhe mere siwa sab log samjhen,
Main apne aap se kam bolta hun.

Sitaron se hasad ki intiha hai,
Main qabron par charaghan kar raha hun.

Sambhal kar ab hawaon se ulajhna,
Main tujh se pesh-tar bujhne laga hun.

Meri qurbat se kyun khaif hai duniya,
Samundar hun main khud mein gunjta hun.

Mujhe kab tak sametega wo “Mohsin“,
Main andar se bahut tuta hua hun. !!

ज़बाँ रखता हूँ लेकिन चुप खड़ा हूँ,
मैं आवाज़ों के बन में घिर गया हूँ !

मेरे घर का दरीचा पूछता है,
मैं सारा दिन कहाँ फिरता रहा हूँ !

मुझे मेरे सिवा सब लोग समझें,
मैं अपने आप से कम बोलता हूँ !

सितारों से हसद की इंतिहा है,
मैं क़ब्रों पर चराग़ाँ कर रहा हूँ !

सँभल कर अब हवाओं से उलझना,
मैं तुझ से पेश-तर बुझने लगा हूँ !

मेरी क़ुर्बत से क्यूँ ख़ाइफ़ है दुनिया,
समुंदर हूँ मैं ख़ुद में गूँजता हूँ !

मुझे कब तक समेटेगा वो “मोहसिन“,
मैं अंदर से बहुत टूटा हुआ हूँ !!

 

Ek Pagli Ladki Ke Bin..

Ek Pagli Ladki Ke Bin

Ek Pagli Ladki Ke Bin..

Amawas ki kaali raaton mein dil ka darwaja khulta hai,
Jab dard ki kaali raaton mein gham ansoon ke sang ghulta hain,
Jab pichwade ke kamre mein hum nipat akele hote hain,
Jab ghadiyan tik-tik chalti hain, sab sote hain, Hum rote hain,
Jab baar baar dohrane se sari yaadein chuk jati hain,
Jab unch-nich samjhane mein mathe ki nas dukh jati hain
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai..

अमावस की काली रातों में दिल का दरवाजा खुलता है,
जब दर्द की काली रातों में गम आंसू के संग घुलता है,
जब पिछवाड़े के कमरे में हम निपट अकेले होते हैं,
जब घड़ियाँ टिक-टिक चलती हैं, सब सोते हैं, हम रोते हैं,
जब बार-बार दोहराने से सारी यादें चुक जाती हैं,
जब ऊँच-नीच समझाने में माथे की नस दुःख जाती है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Jab pothe khali hote hain, jab harf sawali hote hain,
Jab ghazalein ras nahi aati, afsane gali hote hain
Jab basi fiki dhoop sametein din jaldi dhal jta hai,
Jab sooraj ka laskhar chhat se galiyon mein der se jata hai,
Jab jaldi ghar jane ki ichha man hi man ghut jati hai,
Jab college se ghar lane wali pahli bus chhut jati hai,
Jab be-man se khana khane par maa gussa ho jati hai,
Jab lakh mana karne par bhi paaro padhne aa jati hai,
Jab apna har man-chaha kaam koi lachari lagta hai,
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai..

जब पोथे खाली होते है, जब हर्फ़ सवाली होते हैं,
जब गज़लें रास नही आती, अफ़साने गाली होते हैं,
जब बासी फीकी धूप समेटे दिन जल्दी ढल जता है,
जब सूरज का लश्कर छत से गलियों में देर से जाता है,
जब जल्दी घर जाने की इच्छा मन ही मन घुट जाती है,
जब कालेज से घर लाने वाली पहली बस छुट जाती है,
जब बे-मन से खाना खाने पर माँ गुस्सा हो जाती है,
जब लाख मन करने पर भी पारो पढ़ने आ जाती है,
जब अपना हर मन-चाहा काम कोई लाचारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Jab kamre mein sannate ki aawaz sunai deti hai,
Jab darpan mein aankhon ke niche jhai dikhai deti hai
Jab badki bhabhi kahti hai, kuchh sehat ka bhi dhyan karo,
Kya likhte ho din-bhar, kuchh sapnon ka bhi samman karo,
Jab baba wali baithak mein kuchh rishte wale aate hain,
Jab baba hamein bulate hain, hum jate mein ghabrate hain,
Jab saari pahne ek ladki ka ek photo laya jata hai,
Jab bhabhi hamein manati hai, photo dikhlaya jata hai,
Jab sarein ghar ka samjhana humko fankari lagta hai,
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhaari lagta hai..

जब कमरे में सन्नाटे की आवाज़ सुनाई देती है,
जब दर्पण में आंखों के नीचे झाई दिखाई देती है,
जब बड़की भाभी कहती हैं, कुछ सेहत का भी ध्यान करो,
क्या लिखते हो दिन-भर, कुछ सपनों का भी सम्मान करो,
जब बाबा वाली बैठक में कुछ रिश्ते वाले आते हैं,
जब बाबा हमें बुलाते है, हम जाते में घबराते हैं,
जब साड़ी पहने एक लड़की का फोटो लाया जाता है,
जब भाभी हमें मनाती हैं, फोटो दिखलाया जाता है,
जब सारे घर का समझाना हमको फनकारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Didi kahti hai us pagli ladki ki kuchh aukat nahi,
Uske dil mein bhaiiya tere jaise pyare jazbat nahi,
Woh pagli ladki meri khatir nau din bhukhi rahti hai,
Chup-chup sare warat karti hai, magar mujhse kuchh na kahti hai,
Jo pagli ladki kahti hai, main pyar tumhi se karti hoon,
Lekin main hun majbur bahut, amma-baba se darti hun,
Us pagli ladki par apna kuchh bhi adhikar nahi baba,
Sab katha-kahani kisse hai, kuchh bhi to saar nahi baba
Bas us pagli ladki ke sang jina fulwari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai.. !!

दीदी कहती हैं उस पगली लडकी की कुछ औकात नहीं,
उसके दिल में भैया तेरे जैसे प्यारे जज़्बात नहीं,
वो पगली लड़की मेरी खातिर नौ दिन भूखी रहती है,
चुप चुप सारे व्रत करती है, मगर मुझसे कुछ ना कहती है,
जो पगली लडकी कहती है, मैं प्यार तुम्ही से करती हूँ,
लेकिन मैं हूँ मजबूर बहुत, अम्मा-बाबा से डरती हूँ,
उस पगली लड़की पर अपना कुछ भी अधिकार नहीं बाबा,
सब कथा-कहानी-किस्से हैं, कुछ भी तो सार नहीं बाबा,
बस उस पगली लडकी के संग जीना फुलवारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..!!

-Kumar Vishwas Poem

 

Kahin Se Laut Ke Hum Ladkhadaye Hain Kya-Kya..

Kahin se laut ke hum ladkhadaye hain kya-kya,
Sitare zer-e-qadam raat aaye hain kya-kya.

Nasheb-e-hasti se afsos hum ubhar na sake,
Faraaz-e-dar se paigham aaye hain kya-kya.

Jab uss ne haar ke khanjar zameen pe phenk diya,
Tamaam zakhm-e-jigar muskuraye hain kya-kya.

Chhata jahan se uss aawaz ka ghana badal,
Wahin se dhoop ne talve jalaye hain kya-kya.

Utha ke sar mujhe itna do dekh lene de,
Ki qatl-gaah mein diwane aaye hain kya-kya.

Kahin andhere se maanus ho na jaye adab,
charagh tez hawa ne bujhaye hain kya-kya. !!

कहीं से लौट के हम लड़खड़ाए हैं क्या-क्या,
सितारे ज़ेर-ए-क़दम रात आए हैं क्या-क्या !

नशेब-ए-हस्ती से अफ़्सोस हम उभर न सके,
फ़राज़-ए-दार से पैग़ाम आए हैं क्या-क्या !

जब उस ने हार के ख़ंजर ज़मीन पे फेंक दिया,
तमाम ज़ख़्म-ए-जिगर मुस्कुराए हैं क्या-क्या !

छटा जहाँ से उस आवाज़ का घना बादल,
वहीं से धूप ने तलवे जलाए हैं क्या-क्या !

उठा के सर मुझे इतना तो देख लेने दे,
कि क़त्ल-गाह में दीवाने आए हैं क्या-क्या !

कहीं अँधेरे से मानूस हो न जाए अदब,
चराग़ तेज़ हवा ने बुझाए हैं क्या-क्या !!

-Kaifi Azmi Ghazal / Poetry