Tuesday , August 3 2021

Poetry Types Aankh

Garm Lashen Girin Fasilon Se..

Garm Lashen Girin Fasilon Se.. Gulzar Poetry !

Garm lashen girin fasilon se,
Aasman bhar gaya hai chilon se.

Suli chadhne lagi hai khamoshi,
Log aaye hain sun ke milon se.

Kan mein aise utri sargoshi,
Barf phisli ho jaise tilon se.

Gunj kar aise lautti hai sada,
Koi puchhe hazaron milon se.

Pyas bharti rahi mere andar,
Aankh hatti nahi thi jhilon se.

Log kandhe badal badal ke chale,
Ghat pahunche bade wasilon se. !! -Gulzar Poetry

गर्म लाशें गिरीं फ़सीलों से,
आसमाँ भर गया है चीलों से !

सूली चढ़ने लगी है ख़ामोशी,
लोग आए हैं सुन के मीलों से !

कान में ऐसे उतरी सरगोशी,
बर्फ़ फिसली हो जैसे टीलों से !

गूँज कर ऐसे लौटती है सदा,
कोई पूछे हज़ारों मीलों से !

प्यास भरती रही मिरे अंदर,
आँख हटती नहीं थी झीलों से !

लोग कंधे बदल बदल के चले,
घाट पहुँचे बड़े वसीलों से !! -गुलज़ार कविता

 

Sham Se Aankh Mein Nami Si Hai..

Sham Se Aankh Mein Nami Si Hai.. Gulzar Ghazal !

Sham Se Aankh Mein Nami Si Hai

 

Sham se aankh mein nami si hai,
Aaj phir aap ki kami si hai.

Dafan kar do hamein ki sans aaye,
Nabz kuch der se thami si hai.

Waqt rahta nahi kahin thamkar,
Is ki aadat bhi aadmi si hai.

Koi rishta nahi raha phir bhi,
Ek taslim laazmi si hai.

Kaun pathra gaya hai aankhon mein,
Barf palkon pe kyun jami si hai.

Aaiye raste alag kar len,
Ye zarurat bhi bahami si hai. !!

शाम से आँख में नमी सी है,
आज फिर आप की कमी सी है !

दफ़्न कर दो हमें कि साँस आए,
नब्ज़ कुछ देर से थमी सी है !

वक़्त रहता नहीं कहीं थमकर,
इस की आदत भी आदमी सी है !

कोई रिश्ता नहीं रहा फिर भी,
एक तस्लीम लाज़मी सी है !

कौन पथरा गया है आँखों में,
बर्फ़ पलकों पे क्यूँ जमी सी है !

आइए रास्ते अलग कर लें,
ये ज़रूरत भी बाहमी सी है !!

– Gulzar Poetry / Ghazal / Shayari / Nazm

 

Khud-Ba-Khud Mai Hai Ki Shishe Mein Bhari Aawe Hai..

Khud-Ba-Khud Mai Hai Ki Shishe Mein Bhari Aawe Hai.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Khud-ba-khud mai hai ki shishe mein bhari aawe hai,
Kis bala ki tumhein jadu-nazari aawe hai.

Dil mein dar aawe hai har subh koi yaad aise,
Jun dabe-panw nasim-e-sahari aawe hai.

Aur bhi zakhm hue jate hain gahre dil ke,
Hum to samjhe the tumhein chaaragari aawe hai.

Ek qatra bhi lahu jab na rahe sine mein,
Tab kahin ishq mein kuch be-jigari aawe hai.

Chaak-e-daman-o-gireban ke bhi aadab hain kuch,
Har diwane ko kahan jama-dari aawe hai.

Shajar-e-ishq to mange hai lahu ke aansoo,
Tab kahin ja ke koi shakh hari aawe hai.

Tu kabhi rag kabhi rang kabhi khushbu hai,
Kaisi kaisi na tujhe ishwa-gari aawe hai.

Aap-apne ko bhulana koi aasan nahi,
Badi mushkil se miyan be-khabari aawe hai.

Aye mere shehar-e-nigaran tera kya haal hua,
Chappe chappe pe mere aankh bhari aawe hai.

Sahibo husn ki pahchan koi khel nahi,
Dil lahu ho to kahin dida-wari aawe hai. !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Meri Taqdir Muafiq Na Thi Tadbir Ke Sath..

Meri Taqdir Muafiq Na Thi Tadbir Ke Sath.. Akbar Allahabadi Poetry

Meri taqdir muafiq na thi tadbir ke sath,
Khul gayi aankh nigahban ki bhi zanjir ke sath.

Khul gaya mushaf-e-rukhsar-e-butan-e-maghrib,
Ho gaye shaikh bhi hazir nai tafsir ke sath.

Na-tawani meri dekhi to musawwir ne kaha,
Dar hai tum bhi kahin khinch aao na taswir ke sath.

Ho gaya tair-e-dil said-e-nigah-e-be-qasd,
Sai-e-bazu ki yahan shart na thi tir ke sath.

Lahza lahza hai taraqqi pe tera husn-o-jamal,
Jis ko shak ho tujhe dekhe teri taswir ke sath.

Baad sayyad ke main collage ka karun kya darshan,
Ab mohabbat na rahi is but-e-be-pir ke sath.

Main hun kya cheez jo us tarz pe jaun “Akbar“,
“Nasikh” o “zauq” bhi jab chal na sake “Mir” ke sath. !!

-Akbar Allahabadi Poetry / Ghazals

 

Unhe Nigah Hai Apne Jamal Hi Ki Taraf

Unhe nigah hai apne jamal hi ki taraf – A Ghazal By Akbar Allahabadi

Unhe nigah hai apne jamal hi ki taraf,
Nazar utha ke nahi dekhte kisi ki taraf.

Tawajjoh apni ho kya fann-e-shairi ki taraf,
Nazar har ek ki jati hai aib hi ki taraf.

Likha hua hai jo rona mere muqaddar mein,
Khayal tak nahi jata kabhi hansi ki taraf.

Tumhaara saya bhi jo log dekh lete hain,
Wo aankh utha ke nahi dekhte pari ki taraf.

Bala mein phansta hai dil muft jaan jati hai,
Khuda kisi ko na le jaye us gali ki taraf.

Kabhi jo hoti hai takrar ghair se hum se,
To dil se hote ho dar-parda tum usi ki taraf.

Nigah padti hai un par tamam mehfil ki,
Wo aankh utha ke nahi dekhte kisi ki taraf.

Nigah us but-e-khud-bin ki hai mere dil par,
Na aaine ki taraf hai na aarsi ki taraf.

Qubul kijiye lillah tohfa-e-dil ko,
Nazar na kijiye is ki shikastagi ki taraf.

Yahi nazar hai jo ab qatil-e-zamana hui,
Yahi nazar hai ki uthti na thi kisi ki taraf.

Gharib-khana mein lillah do-ghadi baitho,
Bahut dinon mein tum aaye ho is gali ki taraf.

Zara si der hi ho jayegi to kya hoga,
Ghadi ghadi na uthao nazar ghadi ki taraf.

Jo ghar mein puchhe koi khauf kya hai kah dena,
Chale gaye the tahalte hue kisi ki taraf.

Hazar jalwa-e-husn-e-butan ho aye “Akbar“,
Tum apna dhyan lagaye raho usi ki taraf. !!

Unhe nigah hai apne jamal hi ki taraf In Hindi Language

उन्हें निगाह है अपने जमाल ही की तरफ़,
नज़र उठा के नहीं देखते किसी की तरफ़ !

तवज्जोह अपनी हो क्या फ़न्न-ए-शाइरी की तरफ़,
नज़र हर एक की जाती है ऐब ही की तरफ़ !

लिखा हुआ है जो रोना मेरे मुक़द्दर में,
ख़याल तक नहीं जाता कभी हँसी की तरफ़ !

तुम्हारा साया भी जो लोग देख लेते हैं,
वो आँख उठा के नहीं देखते परी की तरफ़ !

बला में फँसता है दिल मुफ़्त जान जाती है,
ख़ुदा किसी को न ले जाए उस गली की तरफ़ !

कभी जो होती है तकरार ग़ैर से हम से,
तो दिल से होते हो दर-पर्दा तुम उसी की तरफ़ !

निगाह पड़ती है उन पर तमाम महफ़िल की,
वो आँख उठा के नहीं देखते किसी की तरफ़ !

निगाह उस बुत-ए-ख़ुद-बीं की है मेरे दिल पर,
न आइने की तरफ़ है न आरसी की तरफ़ !

क़ुबूल कीजिए लिल्लाह तोहफ़ा-ए-दिल को,
नज़र न कीजिए इस की शिकस्तगी की तरफ़ !

यही नज़र है जो अब क़ातिल-ए-ज़माना हुई,
यही नज़र है कि उठती न थी किसी की तरफ़ !

ग़रीब-ख़ाना में लिल्लाह दो-घड़ी बैठो,
बहुत दिनों में तुम आए हो इस गली की तरफ़ !

ज़रा सी देर ही हो जाएगी तो क्या होगा,
घड़ी घड़ी न उठाओ नज़र घड़ी की तरफ़ !

जो घर में पूछे कोई ख़ौफ़ क्या है कह देना,
चले गए थे टहलते हुए किसी की तरफ़ !

हज़ार जल्वा-ए-हुस्न-ए-बुताँ हो ऐ “अकबर“,
तुम अपना ध्यान लगाए रहो उसी की तरफ़ !!

 

Ghamza Nahi Hota Ki Ishaara Nahi Hota

Ghamza nahi hota ki ishaara nahi hota,
Aankh un se jo milti hai to kya kya nahi hota.

Jalwa na ho mani ka to surat ka asar kya,
Bulbul gul-e-taswir ka shaida nahi hota.

Allah bachaye maraz-e-ishq se dil ko,
Sunte hain ki ye aariza achchha nahi hota.

Tashbih tere chehre ko kya dun gul-e-tar se,
Hota hai shagufta magar itna nahi hota.

Main naza mein hun aayen to ehsan hai un ka,
Lekin ye samajh len ki tamasha nahi hota.

Hum aah bhi karte hain to ho jate hain badnaam,
Wo qatl bhi karte hain to charcha nahi hota. !!

ग़म्ज़ा नहीं होता कि इशारा नहीं होता,
आँख उन से जो मिलती है तो क्या क्या नहीं होता !

जल्वा न हो मानी का तो सूरत का असर क्या,
बुलबुल गुल-ए-तस्वीर का शैदा नहीं होता !

अल्लाह बचाए मरज़-ए-इश्क़ से दिल को,
सुनते हैं कि ये आरिज़ा अच्छा नहीं होता !

तश्बीह तेरे चेहरे को क्या दूँ गुल-ए-तर से,
होता है शगुफ़्ता मगर इतना नहीं होता !

मैं नाज़ा में हूँ आएँ तो एहसान है उन का,
लेकिन ये समझ लें कि तमाशा नहीं होता !

हम आह भी करते हैं तो हो जाते हैं बदनाम,
वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Aansuon Se Dhuli Khushi Ki Tarah..

Aansuon se dhuli khushi ki tarah,
Rishte hote hain shayari ki tarah.

Hum khuda ban ke aayenge warna,
Hum se mil jao aadmi ki tarah.

Barf seene ki jaise jaise gali,
Aankh khulti gayi kali ki tarah.

Jab kabhi badlon mein ghirta hai,
Chaand lagta hai aadmi ki tarah.

Kisi rozan kisi dariche se,
Samne aao roshni ki tarah.

Sab nazar ka fareb hai warna,
Koi hota nahi kisi ki tarah.

Khubsurat udaas Khaufzada,
Woh bhi hai biswin sadi ki tarah.

Janta hun ki ek din mujhko,
Wo badal dega diary ki tarah. !!

आंसुओं से धूलि ख़ुशी कि तरह,
रिश्ते होते है शायरी कि तरह !

हम खुदा बन के आयेंगे वरना,
हम से मिल जाओ आदमी कि तरह !

बर्फ सीने कि जैसे-जैसे गली,
आँख खुलती गयी कली कि तरह !

जब कभी बादलों में घिरता हैं,
चाँद लगता है आदमी कि तरह !

किसी रोज़ किसी दरीचे से,
सामने आओ रोशनी कि तरह !

सब नज़र का फरेब है वरना,
कोई होता नहीं किसी कि तरह !

ख़ूबसूरत उदास ख़ौफ़ज़दा,
वो भी है बीसवीं सदी कि तरह !

जानता हूँ कि एक दिन मुझको
वो बदल देगा डायरी की तरह !! -Bashir Badr Ghazal

 

Aankh Se Dur Na Ho Dil Se Utar Jayega..

Aankh se dur na ho dil se utar jayega,
Waqt ka kya hai guzarta hai guzar jayega.

Itna manus na ho khalwat-e-gham se apni,
Tu kabhi khud ko bhi dekhega to dar jayega.

Dubte dubte kashti ko uchhaala de dun,
Main nahi koi to sahil pe utar jayega.

Zindagi teri ata hai to ye jaane wala,
Teri bakhshish teri dahliz pe dhar jayega.

Zabt lazim hai magar dukh hai qayamat ka “Faraz“,
Zalim ab ke bhi na royega to mar jayega. !!

आँख से दूर न हो दिल से उतर जाएगा,
वक़्त का क्या है गुज़रता है गुज़र जाएगा !

इतना मानूस न हो ख़ल्वत-ए-ग़म से अपनी,
तू कभी ख़ुद को भी देखेगा तो डर जाएगा !

डूबते डूबते कश्ती को उछाला दे दूँ,
मैं नहीं कोई तो साहिल पे उतर जाएगा !

ज़िंदगी तेरी अता है तो ये जाने वाला,
तेरी बख़्शिश तेरी दहलीज़ पे धर जाएगा !

ज़ब्त लाज़िम है मगर दुख है क़यामत का “फ़राज़“,
ज़ालिम अब के भी न रोएगा तो मर जाएगा !!

 

Suna Hai Log Use Aankh Bhar Ke Dekhte Hain..

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain,
So us ke shehar mein kuchh din thahar ke dekhte hain.

Suna hai rabt hai us ko kharab-haalon se,
So apne aap ko barbaad kar ke dekhte hain.

Suna hai dard ki gahak hai chashm-e-naz us ki,
So hum bhi us ki gali se guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ko bhi hai shair-o-shayari se shaghaf,
So hum bhi moajize apne hunar ke dekhte hain.

Suna hai bole to baaton se phool jhadte hain,
Ye baat hai to chalo baat kar ke dekhte hain.

Suna hai raat use chand takta rahta hai,
Sitare baam-e-falak se utar ke dekhte hain.

Suna hai din ko use titliyan satati hain,
Suna hai raat ko jugnu thahar ke dekhte hain.

Suna hai hashr hain us ki ghazal si aankhen,
Suna hai us ko hiran dasht bhar ke dekhte hain.

Suna hai raat se badh kar hain kakulen us ki,
Suna hai sham ko saye guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ki siyah-chashmagi qayamat hai,
So us ko surma-farosh aah bhar ke dekhte hain.

Suna hai us ke labon se gulab jalte hain,
So hum bahaar pe ilzam dhar ke dekhte hain.

Suna hai aaina timsal hai jabin us ki,
Jo sada dil hain use ban-sanwar ke dekhte hain.

Suna hai jab se hamail hain us ki gardan mein,
Mizaj aur hi lal o guhar ke dekhte hain.

Suna hai chashm-e-tasawwur se dasht-e-imkan mein,
Palang zawiye us ki kamar ke dekhte hain.

Suna hai us ke badan ki tarash aisi hai,
Ki phool apni qabayen katar ke dekhte hain.

Wo sarw-qad hai magar be-gul-e-murad nahi,
Ki us shajar pe shagufe samar ke dekhte hain.

Bas ek nigah se lutta hai qafila dil ka,
So rah-rawan-e-tamanna bhi dar ke dekhte hain.

Suna hai us ke shabistan se muttasil hai bahisht,
Makin udhar ke bhi jalwe idhar ke dekhte hain.

Ruke to gardishen us ka tawaf karti hain,
Chale to us ko zamane thahar ke dekhte hain.

Kise nasib ki be-pairahan use dekhe,
Kabhi kabhi dar o diwar ghar ke dekhte hain.

Kahaniyan hi sahi sab mubaalghe hi sahi,
Agar wo khwab hai tabir kar ke dekhte hain.

Ab us ke shehar mein thahren ki kuch kar jayen,
Faraz” aao sitare safar ke dekhte hain. !!

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं,
सो उस के शहर में कुछ दिन ठहर के देखते हैं !

सुना है रब्त है उस को ख़राब-हालों से,
सो अपने आप को बरबाद कर के देखते हैं !

सुना है दर्द की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उस की,
सो हम भी उस की गली से गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस को भी है शेर-ओ-शायरी से शग़फ़,
सो हम भी मोजिज़े अपने हुनर के देखते हैं !

सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते हैं,
ये बात है तो चलो बात कर के देखते हैं !

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है,
सितारे बाम-ए-फ़लक से उतर के देखते हैं !

सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती हैं,
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते हैं !

सुना है हश्र हैं उस की ग़ज़ाल सी आँखें,
सुना है उस को हिरन दश्त भर के देखते हैं !

सुना है रात से बढ़ कर हैं काकुलें उस की,
सुना है शाम को साए गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस की सियह-चश्मगी क़यामत है,
सो उस को सुरमा-फ़रोश आह भर के देखते हैं !

सुना है उस के लबों से गुलाब जलते हैं,
सो हम बहार पे इल्ज़ाम धर के देखते हैं !

सुना है आइना तिमसाल है जबीं उस की,
जो सादा दिल हैं उसे बन-सँवर के देखते हैं !

सुना है जब से हमाइल हैं उस की गर्दन में,
मिज़ाज और ही लाल ओ गुहर के देखते हैं !

सुना है चश्म-ए-तसव्वुर से दश्त-ए-इम्काँ में,
पलंग ज़ाविए उस की कमर के देखते हैं !

सुना है उस के बदन की तराश ऐसी है,
कि फूल अपनी क़बाएँ कतर के देखते हैं !

वो सर्व-क़द है मगर बे-गुल-ए-मुराद नहीं,
कि उस शजर पे शगूफ़े समर के देखते हैं !

बस एक निगाह से लुटता है क़ाफ़िला दिल का,
सो रह-रवान-ए-तमन्ना भी डर के देखते हैं !

सुना है उस के शबिस्ताँ से मुत्तसिल है बहिश्त,
मकीं उधर के भी जल्वे इधर के देखते हैं !

रुके तो गर्दिशें उस का तवाफ़ करती हैं,
चले तो उस को ज़माने ठहर के देखते हैं !

किसे नसीब कि बे-पैरहन उसे देखे,
कभी कभी दर ओ दीवार घर के देखते हैं !

कहानियाँ ही सही सब मुबालग़े ही सही,
अगर वो ख़्वाब है ताबीर कर के देखते हैं !

अब उस के शहर में ठहरें कि कूच कर जाएँ,
फ़राज़” आओ सितारे सफ़र के देखते हैं !!

 

Wo Jo Tere Faqir Hote Hain..

Wo jo tere faqir hote hain,
Aadmi be-nazir hote hain.

Dekhne wala ek nahi milta,
Aankh wale kasir hote hain.

Jin ko daulat haqir lagti hai,
Uff ! wo kitne amir hote hain.

Jin ko kudrat ne husan bakhsha ho,
Kudratan kuchh sharir hote hain.

Zindagi ke hasin tarkash mein,
Kitne be-rahm tir hote hain.

Wo parinde jo aankh rakhte hain,
Sab se pahle asir hote hain.

Phool daman mein chand rakh lije,
Raste mein faqir hote hain.

Hai khushi bhi ajib shai lekin,
Gham bade dil-pazir hote hain.

Aye “Adam” ehtiyat logon se,
Log munkir-nakir hote hain. !!

वो जो तेरे फ़क़ीर होते हैं,
आदमी बे-नज़ीर होते हैं !

देखने वाला एक नहीं मिलता,
आँख वाले कसीर होते हैं

जिन को दौलत हक़ीर लगती है,
उफ़ ! वो कितने अमीर होते हैं !

जिन को क़ुदरत ने हुस्न बख़्शा हो,
क़ुदरतन कुछ शरीर होते हैं !

ज़िंदगी के हसीन तरकश में,
कितने बे-रहम तीर होते हैं !

वो परिंदे जो आँख रखते हैं,
सब से पहले असीर होते हैं !

फूल दामन में चंद रख लीजे,
रास्ते में फ़क़ीर होते हैं !

है ख़ुशी भी अजीब शय लेकिन,
ग़म बड़े दिल-पज़ीर होते हैं !

ऐ “अदम” एहतियात लोगों से,
लोग मुनकिर-नकीर होते हैं !!