Thursday , September 24 2020

Poetry Types Aangan

Subah Subah Ek Khwab Ki Dastak Par Darwaza Khula Dekha..

Subah Subah Ek Khwab Ki Dastak Par Darwaza Khula Dekha.. { Dastak – Gulzar’s Nazm }

Subah subah ek khwab ki dastak par darwaza khula dekha

Subah subah ek khwab ki dastak par darwaza khula dekha
Sarhad ke us par se kuch mehman aaye hain
Aankhon se manus the sare
Chehre sare sune sunaye
Panv dhoye haath dhulaye
Aangan mein aasan lagwaye
Aur tandur pe makki ke kuch mote mote rot pakaye
Potli mein mehman mere
Pichhle salon ki faslon ka gud laye the

Aankh khuli to dekha ghar mein koi nahi tha
Haath laga kar dekha to tandur abhi tak bujha nahi tha
Aur honton par mithe gud ka zaiqa ab tak chipak raha tha

Khwab tha shayad !

Khwab hi hoga !!

Sarhad par kal raat suna hai chali thi goli
Sarhad par kal raat suna hai
Kuch khwabon ka khun hua hai.

Subah subah ek khwab ki dastak par darwaza khula dekha. !! -Gulzar’s Nazm

सुबह सुबह एक ख़्वाब की दस्तक पर दरवाज़ा खुला देखा
सरहद के उस पार से कुछ मेहमान आए हैं
आँखों से मानूस थे सारे
चेहरे सारे सुने सुनाए
पाँव धोए हाथ धुलाए
आँगन में आसन लगवाए
और तंदूर पे मक्की के कुछ मोटे मोटे रोट पकाए
पोटली में मेहमान मेरे
पिछले सालों की फ़सलों का गुड़ लाए थे

आँख खुली तो देखा घर में कोई नहीं था
हाथ लगा कर देखा तो तंदूर अभी तक बुझा नहीं था
और होंटों पर मीठे गुड़ का ज़ाइक़ा अब तक चिपक रहा था

ख़्वाब था शायद!

ख़्वाब ही होगा!!

सरहद पर कल रात सुना है चली थी गोली
सरहद पर कल रात सुना है
कुछ ख़्वाबों का ख़ून हुआ है

सुबह सुबह एक ख़्वाब की दस्तक पर दरवाज़ा खुला देखा.. !! -गुलज़ार नज़्म

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

 

Ise Saman-E-Safar Jaan Ye Jugnu Rakh Le..

Ise Saman-E-Safar Jaan Ye Jugnu Rakh Le.. Rahat Indori Shayari !

Ise saman-e-safar jaan ye jugnu rakh le,
Rah mein tirgi hogi mere aansoo rakh le.

Tu jo chahe to tera jhuth bhi bik sakta hai,
Shart itni hai ki sone ki taraazu rakh le.

Wo koi jism nahi hai ki use chhu bhi saken,
Han agar naam hi rakhna hai to khushbu rakh le.

Tujh ko an-dekhi bulandi mein safar karna hai,
Ehtiyatan meri himmat mere bazu rakh le.

Meri khwahish hai ki aangan mein na diwar uthe,
Mere bhai mere hisse ki zameen tu rakh le. !!

इसे सामान-ए-सफ़र जान ये जुगनू रख ले,
राह में तीरगी होगी मेरे आँसू रख ले !

तू जो चाहे तो तेरा झूठ भी बिक सकता है,
शर्त इतनी है कि सोने की तराज़ू रख ले !

वो कोई जिस्म नहीं है कि उसे छू भी सकें,
हाँ अगर नाम ही रखना है तो ख़ुश्बू रख ले !

तुझ को अन-देखी बुलंदी में सफ़र करना है,
एहतियातन मेरी हिम्मत मेरे बाज़ू रख ले !

मेरी ख़्वाहिश है कि आँगन में न दीवार उठे,
मेरे भाई मेरे हिस्से की ज़मीं तू रख ले !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Raat Ki Dhadkan Jab Tak Jari Rahti Hai..

Raat Ki Dhadkan Jab Tak Jari Rahti Hai.. Rahat Indori Shayari !

Raat ki dhadkan jab tak jari rahti hai,
Sote nahi hum zimmedari rahti hai.

Jab se tu ne halki halki baaten kin,
Yaar tabiat bhaari bhaari rahti hai.

Panw kamar tak dhans jate hain dharti mein,
Haath pasare jab khuddari rahti hai.

Wo manzil par aksar der se pahunche hain,
Jin logon ke pas sawari rahti hai.

Chhat se us ki dhoop ke neze aate hain,
Jab aangan mein chhanv hamari rahti hai.

Ghar ke bahar dhundhta rahta hun duniya,
Ghar ke andar duniya-dari rahti hai. !!

रात की धड़कन जब तक जारी रहती है,
सोते नहीं हम ज़िम्मेदारी रहती है !

जब से तू ने हल्की हल्की बातें कीं,
यार तबीअत भारी भारी रहती है !

पाँव कमर तक धँस जाते हैं धरती में,
हाथ पसारे जब ख़ुद्दारी रहती है !

वो मंज़िल पर अक्सर देर से पहुँचे हैं,
जिन लोगों के पास सवारी रहती है !

छत से उस की धूप के नेज़े आते हैं,
जब आँगन में छाँव हमारी रहती है !

घर के बाहर ढूँढता रहता हूँ दुनिया,
घर के अंदर दुनिया-दारी रहती है !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Wo To Khushbu Hai Hawaon Mein Bikhar Jayega..

Wo to khushbu hai hawaon mein bikhar jayega,
Masla phool ka hai phool kidhar jayega.

Hum to samjhe the ki ek zakhm hai bhar jayega,
Kya khabar thi ki rag-e-jaan mein utar jayega.

Wo hawaon ki tarah khana-ba-jaan phirta hai,
Ek jhonka hai jo aayega guzar jayega.

Wo jab aayega to phir us ki rifaqat ke liye,
Mausam-e-gul mere aangan mein thahar jayega.

Aakhirash wo bhi kahin ret pe baithi hogi,
Tera ye pyar bhi dariya hai utar jayega.

Mujh ko tahzib ke barzakh ka banaya waris,
Jurm ye bhi mere ajdad ke sar jayega. !!

वो तो ख़ुशबू है हवाओं में बिखर जाएगा,
मसअला फूल का है फूल किधर जाएगा !

हम तो समझे थे कि एक ज़ख़्म है भर जाएगा,
क्या ख़बर थी कि रग-ए-जाँ में उतर जाएगा !

वो हवाओं की तरह ख़ाना-ब-जाँ फिरता है,
एक झोंका है जो आएगा गुज़र जाएगा !

वो जब आएगा तो फिर उस की रिफ़ाक़त के लिए,
मौसम-ए-गुल मेरे आँगन में ठहर जाएगा !

आख़िरश वो भी कहीं रेत पे बैठी होगी,
तेरा ये प्यार भी दरिया है उतर जाएगा !

मुझ को तहज़ीब के बर्ज़ख़ का बनाया वारिस,
जुर्म ये भी मेरे अज्दाद के सर जाएगा !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Ek Nazm-Danish War Kahlane Walo..

Ek Nazm-Danish war kahlane walo,
Tum kya samjho,
Mubham chizen kya hoti hain,
Thal ke registan mein rahne wale logo..

Tum kya jaano,
Sawan kya hai,
Apne badan ko,
Raat mein andhi tariki se..

Din mein khud apne hathon se,
Dhanpne walo,
Uryan logo,
Tum kya jaano..

Choli kya hai daman kya hai,
Shahr-badar ho jaane walo,
Footpathon par sone walo,
Tum kya samjho..

Chhat kya hai diwaren kya hain,
Aangan kya hai,
Ek ladki ka khizan-rasida bazu thame,
Nabz ke upar hath jamaye..

Ek sada par kan lagaye,
Dhadkan sansen ginne walo,
Tum kya jaano,
Mubham chizen kya hoti hain..

Dhadkan kya hai jiwan kya hai,
Sattarah-number ke bistar par,
Apni qaid ka lamha lamha ginne wali,
Ye ladki jo..

Barson ki bimar nazar aati hai tum ko,
Sola sal ki ek bewa hai,
Hanste hanste ro padti hai,
Andar tak se bhig chuki hai..

Jaan chuki hai,
Sawan kya hai,
Is se puchho,
Kanch ka bartan kya hota hai..

Is se puchho,
Mubham chizen kya hoti hain,
Suna aangan tanha,
Jiwan kya hota hai..

दानिश-वर कहलाने वालो,
तुम क्या समझो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं,
थल के रेगिस्तान में रहने वाले लोगो..

तुम क्या जानो,
सावन क्या है,
अपने बदन को,
रात में अंधी तारीकी से..

दिन में ख़ुद अपने हाथों से,
ढाँपने वालो,
उर्यां लोगो,
तुम क्या जानो..

चोली क्या है दामन क्या है,
शहर-बदर हो जाने वालो,
फ़ुटपाथों पर सोने वालो,
तुम क्या समझो..

छत क्या है दीवारें क्या हैं,
आँगन क्या है,
एक लड़की का ख़िज़ाँ-रसीदा बाज़ू थामे,
नब्ज़ के ऊपर हाथ जमाए..

एक सदा पर कान लगाए,
धड़कन साँसें गिनने वालो,
तुम क्या जानो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं..

धड़कन क्या है जीवन क्या है,
सत्तरह-नंबर के बिस्तर पर,
अपनी क़ैद का लम्हा लम्हा गिनने वाली,
ये लड़की जो..

बरसों की बीमार नज़र आती है तुम को,
सोला साल की एक बेवा है,
हँसते हँसते रो पड़ती है,
अंदर तक से भीग चुकी है..

जान चुकी है,
सावन क्या है,
इस से पूछो,
काँच का बर्तन क्या होता है..

इस से पूछो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं,
सूना आँगन तन्हा,
जीवन क्या होता है.. !!

-Aanis Moin Nazm

 

Rang Duniya Ne Dikhaya Hai Nirala Dekhun..

Rang duniya ne dikhaya hai nirala dekhun,
Hai andhere mein ujala to ujala dekhun.

Aaina rakh de mere samne aakhir main bhi,
Kaisa lagta hai tera chahne wala dekhun.

Kal talak wo jo mere sar ki qasam khata tha,
Aaj sar us ne mera kaise uchhaala dekhun.

Mujh se mazi mera kal raat simat kar bola,
Kis tarah main ne yahan khud ko sambhala dekhun.

Jis ke aangan se khule the mere sare raste,
Us haweli pe bhala kaise main tala dekhun. !!

रंग दुनिया ने दिखाया है निराला देखूँ,
है अँधेरे में उजाला तो उजाला देखूँ !

आइना रख दे मेरे सामने आख़िर मैं भी,
कैसा लगता है तेरा चाहने वाला देखूँ !

कल तलक वो जो मेरे सर की क़सम खाता था,
आज सर उस ने मेरा कैसे उछाला देखूँ !

मुझ से माज़ी मेरा कल रात सिमट कर बोला,
किस तरह मैं ने यहाँ ख़ुद को सँभाला देखूँ !

जिस के आँगन से खुले थे मेरे सारे रस्ते,
उस हवेली पे भला कैसे मैं ताला देखूँ !!

-Kumar Vishwas Poem

 

Zehan Mein Pani Ke Badal Agar Aaye Hote..

Zehan mein pani ke badal agar aaye hote,
Maine mitti ke gharaunde na banaye hote.

Dhup ke ek hi mausam ne jinhen tod diya,
Itne nazuk bhi ye rishte na banaye hote.

Dubte shehar mein mitti ka makan girta hi,
Tum ye sab soch ke meri taraf aaye hote.

Dhup ke shehar mein ek umar na jalna padta,
Hum bhi aye kash kisi pedd ke saye hote.

Phal padosi ke darakhton pe na pakte toh “Wasim“,
Mere aangan mein ye patther bhi na aaye hote. !!

ज़हन में पानी के बादल अगर आये होते,
मैंने मिटटी के घरोंदे ना बनाये होते !

धूप के एक ही मौसम ने जिन्हें तोड़ दिया,
इतने नाज़ुक भी ये रिश्ते न बनाये होते !

डूबते शहर मैं मिटटी का मकान गिरता ही,
तुम ये सब सोच के मेरी तरफ आये होते !

धूप के शहर में इक उम्र ना जलना पड़ता,
हम भी ए काश किसी पेड के साये होते !

फल पडोसी के दरख्तों पे ना पकते तो “वसीम“,
मेरे आँगन में ये पत्थर भी ना आये होते !!

 

Intezamat Naye Sire Se Sambhale Jayen..

Intezamat naye sire se sambhale jayen,
Jitane kamzarf hain mehfil se nikale jayen.

Mera ghar aag ki lapaton mein chupa hai lekin,
Jab maza hai tere angan mein ujale jayen.

Gham salamat hai to pite hi rahenge lekin,
Pehale maikhane ki halat sambhali jayen.

Khaali waqton mein kahin baith ke rolen yaron,
Fursaten hain to samandar hi khangale jayen.

Khak mein yun na mila zabt ki tauhin na kar,
Ye wo aansoo hain jo duniya ko baha le jayen.

Hum bhi pyase hain ye ehasas to ho saaqi ko,
Khaali shishe hi hawaon mein uchale jayen.

Aao shahr mein naye dost banayen “Rahat“,
Astinon mein chalo saanp hi paale jayen. !!

इन्तेज़ामात नए सिरे से संभाले जाएँ,
जितने कमजर्फ हैं महफ़िल से निकाले जाएँ !

मेरा घर आग की लपटों में छुपा हैं लेकिन,
जब मज़ा हैं तेरे आँगन में उजाला जाएँ !

गम सलामत हैं तो पीते ही रहेंगे लेकिन,
पहले मयखाने की हालात तो संभाली जाए !

खाली वक्तों में कहीं बैठ के रोलें यारों,
फुरसतें हैं तो समंदर ही खंगाले जाए !

खाक में यु ना मिला ज़ब्त की तौहीन ना कर,
ये वो आसूं हैं जो दुनिया को बहा ले जाएँ !

हम भी प्यासे हैं ये अहसास तो हो साकी को,
खाली शीशे ही हवाओं में उछाले जाए !

आओ शहर में नए दोस्त बनाएं “राहत”,
आस्तीनों में चलो साँप ही पाले जाए !!

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Beti बेटी)

1.
Gharon mein yun sayani betiyan bechain rehati hain,
Ki jaise sahilon par kashtiyan bechain rehati hain.

घरों में यूँ सयानी बेटियाँ बेचैन रहती हैं,
कि जैसे साहिलों पर कश्तियाँ बेचैन रहती हैं !

2.
Ye chidiya bhi meri beti se kitani milati-julti hai,
Kahin bhi shakhe-gul dekhe to jhula daal deti hai.

ये चिड़िया भी मेरी बेटी से कितनी मिलती-जुलती है,
कहीं भी शाख़े-गुल देखे तो झूला डाल देती है !

3.
Ro rahe the sab to main bhi phoot ke rone laga,
Warna mujhko betiyon ki rukhsati achchi lagi.

रो रहे थे सब तो मैं भी फूट कर रोने लगा,
वरना मुझको बेटियों की रुख़सती अच्छी लगी !

4.
Badi hone ko hain ye muratein aangan mein mitti ki,
Bahut se kaam baaki hai sambhala le liya jaye.

बड़ी होने को हैं ये मूरतें आँगन में मिट्टी की,
बहुत से काम बाक़ी हैं सँभाला ले लिया जाये !

5.
To phir jakar kahin Maa-Baap ko kuch chain padta hai,
Ki jab sasuraal se ghar aa ke beti muskurati hai.

तो फिर जाकर कहीँ माँ-बाप को कुछ चैन पड़ता है,
कि जब ससुराल से घर आ के बेटी मुस्कुराती है !

6.
Ayesa lagta hai ki jaise khtam mela ho gaya,
Uad gayi aangan se chidiyaan ghar akela ho gaya.

ऐसा लगता है कि जैसे ख़त्म मेला हो गया,
उड़ गईं आँगन से चिड़ियाँ घर अकेला हो गया !

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Gurabat गुरबत)

1.
Ghar ki diwar pe kauve nahi achche lagte,
Muflisi mein ye tamashe nahi achche lagte.

घर की दीवार पे कौवे नहीं अच्छे लगते,
मुफ़लिसी में ये तमाशे नहीं अच्छे लगते !

2.
Muflisi ne sare aangan mein andhera kar diya,
Bhai khali hath laute aur Behane bujh gayi.

मुफ़लिसी ने सारे आँगन में अँधेरा कर दिया,
भाई ख़ाली हाथ लौटे और बहनें बुझ गईं !

3.
Amiri resham-o-kamkhwab mein nangi nazar aayi,
Garibi shaan se ek taat ke parde mein rehati hai.

अमीरी रेशम-ओ-कमख़्वाब में नंगी नज़र आई,
ग़रीबी शान से इक टाट के पर्दे में रहती है !

4.
Isi gali mein wo bhukha kisan rahata hai,
Ye wo zameen hai jahan aasman rahata hai.

इसी गली में वो भूखा किसान रहता है,
ये वो ज़मीं है जहाँ आसमान रहता है !

5.
Dehleez pe sar khole khadi hogi jarurat,
Ab ase ghar mein jana munasib nahi hoga.

दहलीज़ पे सर खोले खड़ी होगी ज़रूरत,
अब ऐसे घर में जाना मुनासिब नहीं होगा !

6.
Eid ke khauf ne rozon ka maza chhin liya,
Muflisi mein ye mahina bhi bura lagta hai.

ईद के ख़ौफ़ ने रोज़ों का मज़ा छीन लिया,
मुफ़लिसी में ये महीना भी बुरा लगता है !

7.
Apne ghar mein sar jhukaye is liye aaya hun main,
Itani majduri to bachchon ki dua kha jayegi.

अपने घर में सर झुकाये इस लिए आया हूँ मैं,
इतनी मज़दूरी तो बच्चे की दुआ खा जायेगी !

8.
Allaah gareebon ka madadgar hai “Rana”,
Hum logon ke bachche kabhi sardi nahi khate.

अल्लाह ग़रीबों का मददगार है “राना”,
हम लोगों के बच्चे कभी सर्दी नहीं खाते !

9.
Bojh uthana shauk kahan hai majburi ka suda hai,
Rehate-rehate station par log kuli ho jate hain.

बोझ उठाना शौक़ कहाँ है मजबूरी का सौदा है,
रहते-रहते स्टेशन पर लोग कुली हो जाते हैं !