Poetry Types Aaina

Use Ab Ke Wafaon Se Guzar Jaane Ki Jaldi Thi..

Use Ab Ke Wafaon Se Guzar Jaane Ki Jaldi Thi.. Rahat Indori Shayari !

Use ab ke wafaon se guzar jaane ki jaldi thi,
Magar is bar mujh ko apne ghar jaane ki jaldi thi.

Irada tha ki main kuch der tufan ka maza leta,
Magar bechaare dariya ko utar jaane ki jaldi thi.

Main apni mutthiyon mein qaid kar leta zameenon ko,
Magar mere qabile ko bikhar jaane ki jaldi thi.

Main aakhir kaun sa mausam tumhaare naam kar deta,
Yahan har ek mausam ko guzar jaane ki jaldi thi.

Wo shakhon se juda hote hue patton pe hanste the,
Bade zinda-nazar the jin ko mar jaane ki jaldi thi.

Main sabit kis tarah karta ki har aaina jhutha hai,
Kai kam-zarf chehron ko utar jaane ki jaldi thi. !!

उसे अब के वफ़ाओं से गुज़र जाने की जल्दी थी,
मगर इस बार मुझ को अपने घर जाने की जल्दी थी !

इरादा था कि मैं कुछ देर तूफ़ाँ का मज़ा लेता,
मगर बेचारे दरिया को उतर जाने की जल्दी थी !

मैं अपनी मुट्ठियों में क़ैद कर लेता ज़मीनों को,
मगर मेरे क़बीले को बिखर जाने की जल्दी थी !

मैं आख़िर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता,
यहाँ हर एक मौसम को गुज़र जाने की जल्दी थी !

वो शाख़ों से जुदा होते हुए पत्तों पे हँसते थे,
बड़े ज़िंदा-नज़र थे जिन को मर जाने की जल्दी थी !

मैं साबित किस तरह करता कि हर आईना झूठा है,
कई कम-ज़र्फ़ चेहरों को उतर जाने की जल्दी थी !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Baithe Baithe Koi Khayal Aaya..

Baithe Baithe Koi Khayal Aaya.. Rahat Indori Shayari !

Baithe Baithe Koi Khayal Aaya

Baithe baithe koi khayal aaya,
Zinda rahne ka phir sawaal aaya.

Kaun dariyaon ka hisaab rakhe,
Nekiyaan nekiyon mein dal aaya.

Zindagi kis tarah guzaari jaaye,
Zindagi bhar na ye kamal aaya.

Jhooth bola hai koi aaina warna,
Patthar mein kaise baal aaya.

Wo jo do gaz zameen thi mere naam,
Aasmaan ki taraf uchhaal aaya.

Kyun ye sailaab sa hai aankhon mein,
Muskuraya tha main khayaal aaya. !!

बैठे बैठे कोई ख़याल आया,
ज़िंदा रहने का फिर सवाल आया !

कौन दरियाओं का हिसाब रखे,
नेकियाँ नेकियों में डाल आया !

ज़िंदगी किस तरह गुज़ारी जाये,
ज़िंदगी भर न ये कमाल आया !

झूठ बोला है कोई आईना वर्ना,
पत्थर में कैसे बाल आया !

वो जो दो-गज़ ज़मीं थी मेरे नाम,
आसमाँ की तरफ़ उछाल आया !

क्यूँ ये सैलाब सा है आँखों में,
मुस्कुराए था मैं ख़याल आया !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

Tum Ne Bimar-E-Mohabbat Ko Abhi Kya Dekha..

Tum Ne Bimar-E-Mohabbat Ko Abhi Kya Dekha.. Akbar Allahabadi Poetry

Tum ne bimar-e-mohabbat ko abhi kya dekha,
Jo ye kahte hue jate ho ki dekha dekha.

Tifl-e-dil ko mere kya jaane lagi kis ki nazar,
Main ne kambakht ko do din bhi na achchha dekha.

Le gaya tha taraf-e-gor-e-ghariban dil-e-zar,
Kya kahen tum se jo kuch wan ka tamasha dekha.

Wo jo the raunaq-e-abaadi-e-gulzar-e-jahan,
Sar se pa tak unhen khak-e-rah-e-sahra dekha.

Kal talak mehfil-e-ishrat mein jo the sadr-nashin,
Qabr mein aaj unhen be-kas-o-tanha dekha.

Bas-ki nairangi-e-alam pe use hairat thi,
Aaina khak-e-sikandar ko sarapa dekha.

Sar-e-jamshed ke kase mein bhari thi hasrat,
Yas ko moatakif-e-turbat-e-dara dekha. !!

-Akbar Allahabadi Poetry / Ghazals

 

Jab Se Kareeb Hoke Chale Zindagi Se Hum

Jab se kareeb hoke chale zindagi se hum,
Khud apne aaine ko lage ajnabi se hum.

Kuch dur chal ke raste sab ek se lage,
Milne gaye kisi se mil aaye kisi se hum.

Achchhe bure ke farq ne basti ujad di,
Majbur ho ke milne lage har kisi se hum.

Shaista mahfilon ki fazaon mein zehar tha,
Zinda bache hain zehn ki aawargi se hum.

Achchhi bhali thi duniya guzare ke waste,
Uljhe hue hain apni hi khud-agahi se hum.

Jangal mein dur tak koi dushman na koi dost,
Manus ho chale hain magar bambai se hum. !!

जब से क़रीब हो के चले ज़िंदगी से हम,
ख़ुद अपने आइने को लगे अजनबी से हम !

कुछ दूर चल के रास्ते सब एक से लगे,
मिलने गए किसी से मिल आए किसी से हम !

अच्छे बुरे के फ़र्क़ ने बस्ती उजाड़ दी,
मजबूर हो के मिलने लगे हर किसी से हम !

शाइस्ता महफ़िलों की फ़ज़ाओं में ज़हर था,
ज़िंदा बचे हैं ज़ेहन की आवारगी से हम !

अच्छी भली थी दुनिया गुज़ारे के वास्ते,
उलझे हुए हैं अपनी ही ख़ुद-आगही से हम !

जंगल में दूर तक कोई दुश्मन न कोई दोस्त,
मानूस हो चले हैं मगर बम्बई से हम !!

-Nida Fazli Sad Poetry/Ghazal

 

Aaina Dekh Apna Sa Munh Le Ke Rah Gaye

Aaina dekh apna sa munh le ke rah gaye,
Sahab ko dil na dene pe kitna ghurur tha.

Qasid ko apne hath se gardan na mariye,
Us ki khata nahi hai ye mera qusur tha.

Zof-e-junun ko waqt-e-tapish dar bhi dur tha,
Ek ghar mein mukhtasar bayaban zarur tha.

Aye wae-ghaflat-e-nigah-e-shauq warna yan,
Har para sang lakht-e-dil-e-koh-e-tur tha.

Dars-e-tapish hai barq ko ab jis ke naam se,
Wo dil hai ye ki jis ka takhallus subur tha.

Har rang mein jala asad-e-fitna-intizar,
Parwana-e-tajalli-e-sham-e-zuhur tha.

Shayad ki mar gaya tere rukhsar dekh kar,
Paimana raat mah ka labrez-e-nur tha.

Jannat hai teri tegh ke kushton ki muntazir,
Jauhar sawad-e-jalwa-e-mizhgan-e-hur tha. !!

आईना देख अपना सा मुँह ले के रह गए,
साहब को दिल न देने पे कितना ग़ुरूर था !

क़ासिद को अपने हाथ से गर्दन न मारिए,
उस की ख़ता नहीं है ये मेरा क़ुसूर था !

ज़ोफ़-ए-जुनूँ को वक़्त-ए-तपिश दर भी दूर था,
इक घर में मुख़्तसर बयाबाँ ज़रूर था !

ऐ वाए-ग़फ़लत-ए-निगह-ए-शौक़ वर्ना याँ,
हर पारा संग लख़्त-ए-दिल-ए-कोह-ए-तूर था !

दर्स-ए-तपिश है बर्क़ को अब जिस के नाम से,
वो दिल है ये कि जिस का तख़ल्लुस सुबूर था !

हर रंग में जला असद-ए-फ़ित्ना-इन्तिज़ार,
परवाना-ए-तजल्ली-ए-शम-ए-ज़ुहूर था !

शायद कि मर गया तिरे रुख़्सार देख कर,
पैमाना रात माह का लबरेज़-ए-नूर था !

जन्नत है तेरी तेग़ के कुश्तों की मुंतज़िर,
जौहर सवाद-ए-जल्वा-ए-मिज़्गान-ए-हूर था !!

-Mirza Ghalib Ghazal Poetry

 

Aaina Kyun Na Dun Ki Tamasha Kahen Jise

Aaina kyun na dun ki tamasha kahen jise,
Aisa kahan se laun ki tujh sa kahen jise.

Hasrat ne la rakha teri bazm-e-khayal mein,
Gul-dasta-e-nigah suwaida kahen jise.

Phunka hai kis ne gosh-e-mohabbat mein aye khuda,
Afsun-e-intizar tamanna kahen jise.

Sar par hujum-e-dard-e-gharibi se daliye,
Wo ek musht-e-khak ki sahra kahen jise.

Hai chashm-e-tar mein hasrat-e-didar se nihan,
Shauq-e-inan gusekhta dariya kahen jise.

Darkar hai shaguftan-e-gul-ha-e-aish ko,
Subh-e-bahaar pumba-e-mina kahen jise.

Ghalib” bura na man jo waiz bura kahe,
Aisa bhi koi hai ki sab achchha kahen jise.

Ya rab hamein to khwab mein bhi mat dikhaiyo,
Ye mahshar-e-khayal ki duniya kahen jise.

Hai intizar se sharar aabaad rustakhez,
Mizhgan-e-koh-kan rag-e-khara kahen jise.

Kis fursat-e-visal pe hai gul ko andalib,
Zakhm-e-firaq khanda-e-be-ja kahen jise. !!

आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहें जिसे,
ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझ सा कहें जिसे !

हसरत ने ला रखा तिरी बज़्म-ए-ख़याल में,
गुल-दस्ता-ए-निगाह सुवैदा कहें जिसे !

फूँका है किस ने गोश-ए-मोहब्बत में ऐ ख़ुदा,
अफ़्सून-ए-इंतिज़ार तमन्ना कहें जिसे !

सर पर हुजूम-ए-दर्द-ए-ग़रीबी से डालिए,
वो एक मुश्त-ए-ख़ाक कि सहरा कहें जिसे !

है चश्म-ए-तर में हसरत-ए-दीदार से निहाँ,
शौक़-ए-इनाँ गुसेख़्ता दरिया कहें जिसे !

दरकार है शगुफ़्तन-ए-गुल-हा-ए-ऐश को,
सुब्ह-ए-बहार पुम्बा-ए-मीना कहें जिसे !

ग़ालिब” बुरा न मान जो वाइज़ बुरा कहे,
ऐसा भी कोई है कि सब अच्छा कहें जिसे !

या रब हमें तो ख़्वाब में भी मत दिखाइयो,
ये महशर-ए-ख़याल कि दुनिया कहें जिसे !

है इंतिज़ार से शरर आबाद रुस्तख़ेज़,
मिज़्गान-ए-कोह-कन रग-ए-ख़ारा कहें जिसे !

किस फ़ुर्सत-ए-विसाल पे है गुल को अंदलीब,
ज़ख़्म-ए-फ़िराक़ ख़ंदा-ए-बे-जा कहें जिसे !!

 

Apne Hamrah Khud Chala Karna..

Apne hamrah khud chala karna,
Kaun aayega mat ruka karna.

Khud ko pahchanne ki koshish mein,
Der tak aaina taka karna.

Rukh agar bastiyon ki jaanib hai,
Har taraf dekh kar chala karna.

Wo payambar tha bhul jata tha,
Sirf apne liye dua karna.

Yaar kya zindagi hai sooraj ki,
Subh se sham tak jala karna.

Kuch to apni khabar mile mujh ko,
Mere bare mein kuch kaha karna.

Main tumhein aazmaunga ab ke,
Tum mohabbat ki inteha karna.

Us ne sach bol kar bhi dekha hai,
Jis ki aadat hai chup raha karna. !!

अपने हमराह ख़ुद चला करना,
कौन आएगा मत रुका करना !

ख़ुद को पहचानने की कोशिश में,
देर तक आइना तका करना !

रुख़ अगर बस्तियों की जानिब है,
हर तरफ़ देख कर चला करना !

वो पयम्बर था भूल जाता था,
सिर्फ़ अपने लिए दुआ करना !

यार क्या ज़िंदगी है सूरज की,
सुब्ह से शाम तक जला करना !

कुछ तो अपनी ख़बर मिले मुझ को,
मेरे बारे में कुछ कहा करना !

मैं तुम्हें आज़माऊँगा अब के,
तुम मोहब्बत की इंतिहा करना !

उस ने सच बोल कर भी देखा है,
जिस की आदत है चुप रहा करना !!

Amir Qazalbash All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Ek Parinda Abhi Udaan Me Hai..

Ek parinda abhi udaan me hai,
Tir har shakhs ki kaman mein hai.

Jis ko dekho wahi hai chup chup sa,
Jaise har shakhs imtihan mein hai.

Kho chuke hum yakin jaisi shai,
Tu abhi tak kisi guman mein hai.

Zindagi sang-dil sahi lekin,
Aaina bhi isi chatan mein hai.

Sar-bulandi nasib ho kaise,
Sar-nigun hai ki sayeban mein hai.

Khauf hi khauf jagte sote,
Koi aaseb is makan mein hai.

Aasra dil ko ek umid ka hai,
Ye hawa kab se baadban mein hai.

Khud ko paya na umar bhar hum ne,
Kaun hai jo hamare dhyan mein hai. !!

एक परिंदा अभी उड़ान में है,
तीर हर शख़्स की कमान में है !

जिस को देखो वही है चुप चुप सा,
जैसे हर शख़्स इम्तिहान में है !

खो चुके हम यक़ीन जैसी शय,
तू अभी तक किसी गुमान में है !

ज़िंदगी संग-दिल सही लेकिन,
आईना भी इसी चटान में है !

सर-बुलंदी नसीब हो कैसे,
सर-निगूँ है कि साएबान में है !

ख़ौफ़ ही ख़ौफ़ जागते सोते,
कोई आसेब इस मकान में है !

आसरा दिल को एक उमीद का है,
ये हवा कब से बादबान में है !

ख़ुद को पाया न उम्र भर हम ने,
कौन है जो हमारे ध्यान में है !!

Amir Qazalbash All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Parakhna Mat Parakhne Mein Koi Apna Nahi Rahta

Parakhna mat parakhne mein koi apna nahi rahta,
Kisi bhi aaine mein der tak chehra nahi rahta.

Bade logon se milne mein hamesha fasla rakhna,
Jahan dariya samandar me mile dariya nahi rahta.

Hazaron sher mere so gaye kaghaz ki qabron mein,
Ajab maa hun koi baccha mera zinda nahi rahta.

Tumhara shehar to bilkul naye andaz wala hai,
Humare shehar mein bhi koi hum sa nahi rahta.

Mohabbat ek khushbu hai hamesha sath chalti hai,
Koi insan tanhai mein bhi tanha nahi rahta.

Koi badal hare mausam ka phir elaan karta hai,
Khizan ke baagh mein jab ek bhi patta nahi rahta. !!

परखना मत परखने में कोई अपना नहीं रहता,
किसी भी आईने में देर तक चेहरा नहीं रहता !

बडे लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना,
जहां दरिया समन्दर में मिले दरिया नहीं रहता !

हजारों शेर मेरे सो गये कागज की कब्रों में,
अजब मां हूं कोई बच्चा मेरा ज़िन्दा नहीं रहता !

तुम्हारा शहर तो बिल्कुल नये अन्दाज वाला है,
हमारे शहर में भी अब कोई हम सा नहीं रहता !

मोहब्बत एक खुशबू है हमेशा साथ रहती है,
कोई इन्सान तन्हाई में भी कभी तन्हा नहीं रहता !

कोई बादल हरे मौसम का फ़िर ऐलान करता है,
ख़िज़ा के बाग में जब एक भी पत्ता नहीं रहता !! -Bashir Badr Ghazal

 

Main Lakh Kah Dun Ki Aakash Hun Zamin Hun Main..

Main lakh kah dun ki aakash hun zamin hun main,
Magar use to khabar hai ki kuch nahin hun main.

Ajib log hain meri talash mein mujh ko,
Wahan pe dhund rahe hain jahan nahin hun main.

Main aainon se to mayus laut aaya tha,
Magar kisi ne bataya bahut hasin hun main.

Wo zarre zarre mein maujud hai magar main bhi,
Kahin kahin hun kahan hun kahin nahin hun main.

Wo ek kitab jo mansub tere naam se hai,
Usi kitab ke andar kahin kahin hun main.

Sitaro aao meri raah mein bikhar jao,
Ye mera hukm hai haalanki kuch nahi hun main.

Yahin husain bhi guzre yahin yazid bhi tha,
Hazar rang mein dubi hui zamin hun main.

Ye budhi qabren tumhein kuch nahin batayengi,
Mujhe talash karo doston yahin hun main. !!

मैं लाख कह दूँ कि आकाश हूँ ज़मीं हूँ मैं,
मगर उसे तो ख़बर है कि कुछ नहीं हूँ मैं !

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझ को,
वहाँ पे ढूँड रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं !

मैं आइनों से तो मायूस लौट आया था,
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं !

वो ज़र्रे ज़र्रे में मौजूद है मगर मैं भी,
कहीं कहीं हूँ कहाँ हूँ कहीं नहीं हूँ मैं !

वो इक किताब जो मंसूब तेरे नाम से है,
उसी किताब के अंदर कहीं कहीं हूँ मैं !

सितारो आओ मिरी राह में बिखर जाओ,
ये मेरा हुक्म है हालाँकि कुछ नहीं हूँ मैं !

यहीं हुसैन भी गुज़रे यहीं यज़ीद भी था,
हज़ार रंग में डूबी हुई ज़मीं हूँ मैं !

ये बूढ़ी क़ब्रें तुम्हें कुछ नहीं बताएँगी,
मुझे तलाश करो दोस्तो यहीं हूँ मैं !! -Rahat Indori Ghazal