Patthar Shayari

Baithe Baithe Koi Khayal Aaya..

Baithe Baithe Koi Khayal Aaya.. Rahat Indori Shayari !

Baithe Baithe Koi Khayal Aaya

Baithe baithe koi khayal aaya,
Zinda rahne ka phir sawaal aaya.

Kaun dariyaon ka hisaab rakhe,
Nekiyaan nekiyon mein dal aaya.

Zindagi kis tarah guzaari jaaye,
Zindagi bhar na ye kamal aaya.

Jhooth bola hai koi aaina warna,
Patthar mein kaise baal aaya.

Wo jo do gaz zameen thi mere naam,
Aasmaan ki taraf uchhaal aaya.

Kyun ye sailaab sa hai aankhon mein,
Muskuraya tha main khayaal aaya. !!

बैठे बैठे कोई ख़याल आया,
ज़िंदा रहने का फिर सवाल आया !

कौन दरियाओं का हिसाब रखे,
नेकियाँ नेकियों में डाल आया !

ज़िंदगी किस तरह गुज़ारी जाये,
ज़िंदगी भर न ये कमाल आया !

झूठ बोला है कोई आईना वर्ना,
पत्थर में कैसे बाल आया !

वो जो दो-गज़ ज़मीं थी मेरे नाम,
आसमाँ की तरफ़ उछाल आया !

क्यूँ ये सैलाब सा है आँखों में,
मुस्कुराए था मैं ख़याल आया !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

Kab Logon Ne Alfaz Ke Patthar Nahi Phenke

Kab logon ne alfaz ke patthar nahi phenke,
Wo khat bhi magar main ne jala kar nahi phenke.

Thahre hue pani ne ishaara to kiya tha,
Kuch soch ke khud main ne hi patthar nahi phenke.

Ek tanz hai kaliyon ka tabassum bhi magar kyun,
Main ne to kabhi phool masal kar nahi phenke.

Waise to irada nahi tauba-shikani ka,
Lekin abhi tute hue saghar nahi phenke.

Kya baat hai us ne meri taswir ke tukde,
Ghar mein hi chhupa rakkhe hain bahar nahi phenke.

Darwazon ke shishe na badalwaiye “Nazmi“,
Logon ne abhi hath se patthar nahi phenke. !!

कब लोगों ने अल्फ़ाज़ के पत्थर नहीं फेंके,
वो ख़त भी मगर मैं ने जला कर नहीं फेंके !

ठहरे हुए पानी ने इशारा तो किया था,
कुछ सोच के ख़ुद मैं ने ही पत्थर नहीं फेंके !

एक तंज़ है कलियों का तबस्सुम भी मगर क्यूँ,
मैं ने तो कभी फूल मसल कर नहीं फेंके !

वैसे तो इरादा नहीं तौबा-शिकनी का,
लेकिन अभी टूटे हुए साग़र नहीं फेंके !

क्या बात है उस ने मेरी तस्वीर के टुकड़े,
घर में ही छुपा रक्खे हैं बाहर नहीं फेंके !

दरवाज़ों के शीशे न बदलवाइए “नज़मी“,
लोगों ने अभी हाथ से पत्थर नहीं फेंके !!

 

Likha Hai Mujh Ko Bhi Likhna Pada Hai

Likha hai mujh ko bhi likhna pada hai,
Jahan se hashiya chhoda gaya hai.

Agar manus hai tum se parinda,
To phir udne ko par kyun tolta hai.

Kahin kuch hai kahin kuch hai kahin kuch,
Mera saman sab bikhra hua hai.

Main ja baithun kisi bargad ke niche,
Sukun ka bas yahi ek rasta hai.

Qayamat dekhiye meri nazar se,
Sawa neze pe suraj aa gaya hai.

Shajar jaane kahan ja kar lagega,
Jise dariya baha kar le gaya hai.

Abhi to ghar nahi chhoda hai maine,
Ye kis ka naam takhti par likha hai.

Bahut roka hai is ko pattharon ne,
Magar pani ko rasta mil gaya hai. !!

लिखा है मुझ को भी लिखना पड़ा है,
जहाँ से हाशिया छोड़ा गया है !

अगर मानूस है तुम से परिंदा ,
तो फिर उड़ने को पर क्यूँ तोलता है !

कहीं कुछ है कहीं कुछ है कहीं कुछ,
मेरा सामान सब बिखरा हुआ है !

मैं जा बैठूँ किसी बरगद के नीचे,
सुकूँ का बस यही एक रास्ता है !

क़यामत देखिए मेरी नज़र से,
सवा नेज़े पे सूरज आ गया है !

शजर जाने कहाँ जा कर लगेगा,
जिसे दरिया बहा कर ले गया है !

अभी तो घर नहीं छोड़ा है मैंने,
ये किस का नाम तख़्ती पर लिखा है !

बहुत रोका है इस को पत्थरों ने,
मगर पानी को रास्ता मिल गया है !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

Dhup Mein Niklo Ghataon Mein Naha Kar Dekho

Dhup mein niklo ghataon mein naha kar dekho,
Zindagi kya hai kitabon ko hata kar dekho.

Sirf aankhon se hi duniya nahi dekhi jati,
Dil ki dhadkan ko bhi binai bana kar dekho.

Pattharon mein bhi zaban hoti hai dil hote hain,
Apne ghar ke dar-o-diwar saja kar dekho.

Wo sitara hai chamakne do yunhi aankhon mein,
Kya zaruri hai use jism bana kar dekho.

Fasla nazron ka dhokha bhi to ho sakta hai,
Wo mile ya na mile hath badha kar dekho. !!

धूप में निकलो घटाओं में नहा कर देखो,
ज़िंदगी क्या है किताबों को हटा कर देखो !

सिर्फ़ आँखों से ही दुनिया नहीं देखी जाती,
दिल की धड़कन को भी बीनाई बना कर देखो !

पत्थरों में भी ज़बाँ होती है दिल होते हैं,
अपने घर के दर-ओ-दीवार सजा कर देखो !

वो सितारा है चमकने दो यूँही आँखों में,
क्या ज़रूरी है उसे जिस्म बना कर देखो !

फ़ासला नज़रों का धोखा भी तो हो सकता है,
वो मिले या न मिले हाथ बढ़ा कर देखो !!

-Nida Fazli Ghazal / Safar Shayari

 

De Mohabbat To Mohabbat Mein Asar Paida Kar..

De mohabbat to mohabbat mein asar paida kar,
Jo idhar dil mein hai ya rab wo udhar paida kar.

Dud-e-dil ishq mein itna to asar paida kar,
Sar kate shama ki manind to sar paida kar.

Phir hamara dil-e-gum-gashta bhi mil jayega,
Pahle tu apna dahan apni kamar paida kar.

Kaam lene hain mohabbat mein bahut se ya rab,
Aur dil de hamein ek aur jigar paida kar.

Tham zara aye adam-abaad ke jane wale,
Rah ke duniya mein abhi zad-e-safar paida kar.

Jhut jab bolte hain wo to dua hoti hai,
Ya ilahi meri baaton mein asar paida kar.

Aaina dekhna is husan pe aasan nahin,
Pesh-tar aankh meri meri nazar paida kar.

Subh-e-furqat to qayamat ki sahar hai ya rab,
Apne bandon ke liye aur sahar paida kar.

Mujh ko rota hua dekhen to jhulas jayen raqib,
Aag pani mein bhi aye soz-e-jigar paida kar.

Mit ke bhi duri-e-gulshan nahin bhati ya rab,
Apni qudrat se meri khak mein par paida kar.

Shikwa-e-dard-e-judai pe wo farmate hain,
Ranj sahne ko hamara sa jigar paida kar.

Din nikalne ko hai rahat se guzar jane de,
Ruth kar tu na qayamat ki sahar paida kar.

Hum ne dekha hai ki mil jate hain ladne wale,
Sulh ki khu bhi to aye bani-e-shar paida kar.

Mujh se ghar aane ke wade par bigad kar bole,
Kah diya ghair ke dil mein abhi ghar paida kar.

Mujh se kahti hai kadak kar ye kaman qatil ki,
Tir ban jaye nishana wo jigar paida kar.

Kya qayamat mein bhi parda na uthayega rukh se,
Ab to meri shab-e-yalda ki sahar paida kar.

Dekhna khel nahin jalwa-e-didar tera,
Pahle musa sa koi ahl-e-nazar paida kar.

Dil mein bhi milta hai wo kaba bhi us ka hai maqam,
Rah nazdik ki aye azm-e-safar paida kar.

Zof ka hukm ye hai hont na hilne payen,
Dil ye kahta hai ki nale mein asar paida kar.

Nale ‘Bekhud’ ke qayamat hain tujhe yaad rahe,
Zulm karna hai to patthar ka jigar paida kar. !!

दे मोहब्बत तो मोहब्बत में असर पैदा कर,
जो इधर दिल में है या रब वो उधर पैदा कर !

दूद-ए-दिल इश्क़ में इतना तो असर पैदा कर,
सर कटे शम्अ की मानिंद तो सर पैदा कर !

फिर हमारा दिल-ए-गुम-गश्ता भी मिल जाएगा,
पहले तू अपना दहन अपनी कमर पैदा कर !

काम लेने हैं मोहब्बत में बहुत से या रब,
और दिल दे हमें इक और जिगर पैदा कर !

थम ज़रा ऐ अदम-आबाद के जाने वाले,
रह के दुनिया में अभी ज़ाद-ए-सफ़र पैदा कर !

झूट जब बोलते हैं वो तो दुआ होती है,
या इलाही मिरी बातों में असर पैदा कर !

आईना देखना इस हुस्न पे आसान नहीं,
पेश-तर आँख मिरी मेरी नज़र पैदा कर !

सुब्ह-ए-फ़ुर्क़त तो क़यामत की सहर है या रब,
अपने बंदों के लिए और सहर पैदा कर !

मुझ को रोता हुआ देखें तो झुलस जाएँ रक़ीब,
आग पानी में भी ऐ सोज़-ए-जिगर पैदा कर !

मिट के भी दूरी-ए-गुलशन नहीं भाती या रब,
अपनी क़ुदरत से मिरी ख़ाक में पर पैदा कर !

शिकवा-ए-दर्द-ए-जुदाई पे वो फ़रमाते हैं,
रंज सहने को हमारा सा जिगर पैदा कर !

दिन निकलने को है राहत से गुज़र जाने दे,
रूठ कर तू न क़यामत की सहर पैदा कर !

हम ने देखा है कि मिल जाते हैं लड़ने वाले,
सुल्ह की ख़ू भी तो ऐ बानी-ए-शर पैदा कर !

मुझ से घर आने के वादे पर बिगड़ कर बोले,
कह दिया ग़ैर के दिल में अभी घर पैदा कर !

मुझ से कहती है कड़क कर ये कमाँ क़ातिल की,
तीर बन जाए निशाना वो जिगर पैदा कर !

क्या क़यामत में भी पर्दा न उठेगा रुख़ से,
अब तो मेरी शब-ए-यलदा की सहर पैदा कर !

देखना खेल नहीं जल्वा-ए-दीदार तिरा,
पहले मूसा सा कोई अहल-ए-नज़र पैदा कर !

दिल में भी मिलता है वो काबा भी उस का है मक़ाम,
राह नज़दीक की ऐ अज़्म-ए-सफ़र पैदा कर !

ज़ोफ़ का हुक्म ये है होंट न हिलने पाएँ,
दिल ये कहता है कि नाले में असर पैदा कर !

नाले ‘बेख़ुद’ के क़यामत हैं तुझे याद रहे,
ज़ुल्म करना है तो पत्थर का जिगर पैदा कर !! -Bekhud Dehlvi Ghazal

 

Charaghon Ko Uchhala Ja Raha Hai..

Charaghon ko uchhala ja raha hai,
Hawa par raub dala ja raha hai.

Na haar apni na apni jeet hogi,
Magar sikka uchhala ja raha hai.

Woh dekho maikade ke raste mein,
Koi allaah wala ja raha hai.

The pehle hi kayi saanp aastin mein,
Ab ek bichchhu bhi pala ja raha hai.

Mere jhute gilason ki chhaka kar,
Behakton ko sambhaala ja raha hai.

Hamin buniyaad ka patthar hain lekin,
Hamein ghar se nikala ja raha hai.

Janaze par mere likh dena yaro,
Mohabbat karne wala ja raha hai. !!

चराग़ों को उछाला जा रहा है,
हवा पर रोब डाला जा रहा है !

न हार अपनी न अपनी जीत होगी,
मगर सिक्का उछाला जा रहा है !

वो देखो मय-कदे के रास्ते में,
कोई अल्लाह-वाला जा रहा है !

थे पहले ही कई साँप आस्तीं में,
अब इक बिच्छू भी पाला जा रहा है !

मेरे झूटे गिलासों की छका कर,
बहकतों को सँभाला जा रहा है !

हमीं बुनियाद का पत्थर हैं लेकिन,
हमें घर से निकाला जा रहा है !

जनाज़े पर मेरे लिख देना यारो
मोहब्बत करने वाला जा रहा है !! -Rahat Indori Ghazal

 

Din Kuchh Aise Guzarta Hai Koi..

Din kuchh aise guzarta hai koi,
Jaise ehsan utarta hai koi.

Dil mein kuchh yun sambhaalta hun gham,
Jaise zewar sambhaalta hai koi.

Aaina dekh kar tasalli hui,
Hum ko is ghar mein jaanta hai koi.

Ped par pak gaya hai phal shayad,
Phir se patthar uchhaalta hai koi.

Der se gunjte hain sannate,
Jaise hum ko pukarta hai koi. !!

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई,
जैसे एहसाँ उतारता है कोई !

दिल में कुछ यूँ सँभालता हूँ ग़म,
जैसे ज़ेवर सँभालता है कोई !

आइना देख कर तसल्ली हुई,
हम को इस घर में जानता है कोई !

पेड़ पर पक गया है फल शायद,
फिर से पत्थर उछालता है कोई !

देर से गूँजते हैं सन्नाटे,
जैसे हम को पुकारता है कोई !!

-Gulzar Shayari / Ghazal / Poetry

 

Is Se Pahle Ki Bewafa Ho Jayen..

Is se pahle ki bewafa ho jayen,
Kyun na aye dost hum juda ho jayen.

Tu bhi hire se ban gaya patthar,
Hum bhi kal jaane kya se kya ho jayen.

Tu ki yakta tha be-shumar hua,
Hum bhi tuten to ja-ba-ja ho jayen.

Hum bhi majburiyon ka uzr karen,
Phir kahin aur mubtala ho jayen.

Hum agar manzilen na ban paye,
Manzilon tak ka rasta ho jayen.

Der se soch mein hain parwane,
Rakh ho jayen ya hawa ho jayen.

Ishq bhi khel hai nasibon ka,
Khak ho jayen kimiya ho jayen.

Ab ke gar tu mile to hum tujh se,
Aise lipten teri qaba ho jayen.

Bandagi hum ne chhod di hai “Faraz“,
Kya karen log jab khuda ho jayen. !!

इस से पहले कि बे-वफ़ा हो जाएँ,
क्यूँ न ऐ दोस्त हम जुदा हो जाएँ !

तू भी हीरे से बन गया पत्थर,
हम भी कल जाने क्या से क्या हो जाएँ !

तू कि यकता था बे-शुमार हुआ,
हम भी टूटें तो जा-ब-जा हो जाएँ !

हम भी मजबूरियों का उज़्र करें,
फिर कहीं और मुब्तला हो जाएँ !

हम अगर मंज़िलें न बन पाए,
मंज़िलों तक का रास्ता हो जाएँ !

देर से सोच में हैं परवाने,
राख हो जाएँ या हवा हो जाएँ !

इश्क़ भी खेल है नसीबों का,
ख़ाक हो जाएँ कीमिया हो जाएँ !

अब के गर तू मिले तो हम तुझ से,
ऐसे लिपटें तेरी क़बा हो जाएँ !

बंदगी हम ने छोड़ दी है “फ़राज़“,
क्या करें लोग जब ख़ुदा हो जाएँ !!

 

Bahut Se Logon Ko Gham Ne Jila Ke Mar Diya..

Bahut se logon ko gham ne jila ke mar diya,
Jo bach rahe the unhen mai pila ke mar diya.

Ye kya ada hai ki jab un ki barhami se hum,
Na mar sake to humein muskura ke mar diya.

Na jate aap to aaghosh kyun tahi hoti,
Gaye to aap ne pahlu se ja ke mar diya.

Mujhe gila to nahi aap ke taghaful se,
Magar huzur ne himmat badha ke mar diya.

Na aap aas bandhate na ye sitam hota,
Humein to aap ne amrit pila ke mar diya.

Kisi ne husn-e-taghaful se jaan talab kar li,
Kisi ne lutf ke dariya baha ke mar diya.

Jise bhi main ne ziyada tapak se dekha,
Usi hasin ne patthar utha ke mar diya.

Wo log mangenge ab zist kis ke aanchal se,
Jinhen huzur ne daman chhuda ke mar diya.

Chale to khanda-mizaji se ja rahe the hum,
Kisi hasin ne raste mein aa ke mar diya.

Rah-e-hayat mein kuchh aise pech-o-kham to na the,
Kisi hasin ne raste mein aa ke mar diya.

Karam ki surat-e-awwal to jaan-gudaz na thi,
Karam ka dusra pahlu dikha ke mar diya.

Ajib ras-bhara rahzan tha jis ne logon ko,
Tarah tarah ki adayen dikha ke mar diya.

Ajib khulq se ek ajnabi musafir ne,
Humein khilaf-e-tawaqqoa bula ke mar diya.

Adam” bade adab-adab se hasinon ne,
Humein sitam ka nishana bana ke mar diya.

Tayyunat ki had tak to ji raha tha “Adam“,
Tayyunat ke parde utha ke mar diya. !!

बहुत से लोगों को ग़म ने जिला के मार दिया,
जो बच रहे थे उन्हें मय पिला के मार दिया !

ये क्या अदा है कि जब उन की बरहमी से हम,
न मर सके तो हमें मुस्कुरा के मार दिया !

न जाते आप तो आग़ोश क्यूँ तही होती,
गए तो आप ने पहलू से जा के मार दिया !

मुझे गिला तो नहीं आप के तग़ाफ़ुल से,
मगर हुज़ूर ने हिम्मत बढ़ा के मार दिया !

न आप आस बँधाते न ये सितम होता,
हमें तो आप ने अमृत पिला के मार दिया !

किसी ने हुस्न-ए-तग़ाफ़ुल से जाँ तलब कर ली,
किसी ने लुत्फ़ के दरिया बहा के मार दिया !

जिसे भी मैं ने ज़ियादा तपाक से देखा,
उसी हसीन ने पत्थर उठा के मार दिया !

वो लोग माँगेंगे अब ज़ीस्त किस के आँचल से,
जिन्हें हुज़ूर ने दामन छुड़ा के मार दिया !

चले तो ख़ंदा-मिज़ाजी से जा रहे थे हम,
किसी हसीन ने रस्ते में आ के मार दिया !

रह-ए-हयात में कुछ ऐसे पेच-ओ-ख़म तो न थे,
किसी हसीन ने रस्ते में आ के मार दिया !

करम की सूरत-ए-अव्वल तो जाँ-गुदाज़ न थी,
करम का दूसरा पहलू दिखा के मार दिया !

अजीब रस-भरा रहज़न था जिस ने लोगों को,
तरह तरह की अदाएँ दिखा के मार दिया !

अजीब ख़ुल्क़ से एक अजनबी मुसाफ़िर ने,
हमें ख़िलाफ़-ए-तवक़्क़ो बुला के मार दिया !

अदम” बड़े अदब-आदाब से हसीनों ने,
हमें सितम का निशाना बना के मार दिया !

तअय्युनात की हद तक तो जी रहा था “अदम“,
तअय्युनात के पर्दे उठा के मार दिया !!

 

Sabhi Ko Apna Samajhta Hun Kya Hua Hai Mujhe..

Sabhi ko apna samajhta hun kya hua hai mujhe,
Bichhad ke tujh se ajab rog lag gaya hai mujhe.

Jo mud ke dekha to ho jayega badan patthar,
Kahaniyon mein suna tha so bhogna hai mujhe.

Main tujh ko bhul na paya yahi ghanimat hai,
Yahan to is ka bhi imkan lag raha hai mujhe.

Main sard jang ki aadat na dal paunga,
Koi mahaz pe wapas bula raha hai mujhe.

Sadak pe chalte hue aankhen band rakhta hun,
Tere jamal ka aisa maza pada hai mujhe.

Abhi talak to koi wapsi ki rah na thi,
Kal ek rah-guzar ka pata laga hai mujhe. !!

सभी को अपना समझता हूँ क्या हुआ है मुझे,
बिछड़ के तुझ से अजब रोग लग गया है मुझे !

जो मुड़ के देखा तो हो जाएगा बदन पत्थर,
कहानियों में सुना था सो भोगना है मुझे !

मैं तुझ को भूल न पाया यही ग़नीमत है,
यहाँ तो इस का भी इम्कान लग रहा है मुझे !

मैं सर्द जंग की आदत न डाल पाऊँगा,
कोई महाज़ पे वापस बुला रहा है मुझे !

सड़क पे चलते हुए आँखें बंद रखता हूँ,
तेरे जमाल का ऐसा मज़ा पड़ा है मुझे !

अभी तलक तो कोई वापसी की राह न थी,
कल एक राह-गुज़र का पता लगा है मुझे !!

-Aashufta Changezi Ghazal / Poetry