Parinda Shayari

Khol De Pankh Mere Kehta Hai Parinda Abhi Aur Udaan Baki Hai

Khol de pankh mere kehta hai parinda

 

Khol de pankh mere kehta hai parinda abhi aur udaan baki hai,
Zameen nahi hai manzil meri abhi pura aasman baki hai,
Lahron ki khamoshi ko samandar ki bebasi mat samjh aye nadan,
Jitni gehrai andar hai bahar utna tufan baki hai. !!

खोल दे पंख मेरे कहता है परिंदा अभी और उड़ान बाकी है,
जमीं नहीं है मंजिल मेरी अभी पूरा आसमान बाकी है,
लहरों की ख़ामोशी को समंदर की बेबसी मत समझ ऐ नादाँ,
जितनी गहराई अन्दर है बाहर उतना तूफ़ान बाकी है !!

-Parinda Shayari Collection

 

Likha Hai Mujh Ko Bhi Likhna Pada Hai

Likha hai mujh ko bhi likhna pada hai,
Jahan se hashiya chhoda gaya hai.

Agar manus hai tum se parinda,
To phir udne ko par kyun tolta hai.

Kahin kuch hai kahin kuch hai kahin kuch,
Mera saman sab bikhra hua hai.

Main ja baithun kisi bargad ke niche,
Sukun ka bas yahi ek rasta hai.

Qayamat dekhiye meri nazar se,
Sawa neze pe suraj aa gaya hai.

Shajar jaane kahan ja kar lagega,
Jise dariya baha kar le gaya hai.

Abhi to ghar nahi chhoda hai maine,
Ye kis ka naam takhti par likha hai.

Bahut roka hai is ko pattharon ne,
Magar pani ko rasta mil gaya hai. !!

लिखा है मुझ को भी लिखना पड़ा है,
जहाँ से हाशिया छोड़ा गया है !

अगर मानूस है तुम से परिंदा ,
तो फिर उड़ने को पर क्यूँ तोलता है !

कहीं कुछ है कहीं कुछ है कहीं कुछ,
मेरा सामान सब बिखरा हुआ है !

मैं जा बैठूँ किसी बरगद के नीचे,
सुकूँ का बस यही एक रास्ता है !

क़यामत देखिए मेरी नज़र से,
सवा नेज़े पे सूरज आ गया है !

शजर जाने कहाँ जा कर लगेगा,
जिसे दरिया बहा कर ले गया है !

अभी तो घर नहीं छोड़ा है मैंने,
ये किस का नाम तख़्ती पर लिखा है !

बहुत रोका है इस को पत्थरों ने,
मगर पानी को रास्ता मिल गया है !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

Ek Parinda Abhi Udaan Me Hai..

Ek parinda abhi udaan me hai,
Tir har shakhs ki kaman mein hai.

Jis ko dekho wahi hai chup chup sa,
Jaise har shakhs imtihan mein hai.

Kho chuke hum yakin jaisi shai,
Tu abhi tak kisi guman mein hai.

Zindagi sang-dil sahi lekin,
Aaina bhi isi chatan mein hai.

Sar-bulandi nasib ho kaise,
Sar-nigun hai ki sayeban mein hai.

Khauf hi khauf jagte sote,
Koi aaseb is makan mein hai.

Aasra dil ko ek umid ka hai,
Ye hawa kab se baadban mein hai.

Khud ko paya na umar bhar hum ne,
Kaun hai jo hamare dhyan mein hai. !!

एक परिंदा अभी उड़ान में है,
तीर हर शख़्स की कमान में है !

जिस को देखो वही है चुप चुप सा,
जैसे हर शख़्स इम्तिहान में है !

खो चुके हम यक़ीन जैसी शय,
तू अभी तक किसी गुमान में है !

ज़िंदगी संग-दिल सही लेकिन,
आईना भी इसी चटान में है !

सर-बुलंदी नसीब हो कैसे,
सर-निगूँ है कि साएबान में है !

ख़ौफ़ ही ख़ौफ़ जागते सोते,
कोई आसेब इस मकान में है !

आसरा दिल को एक उमीद का है,
ये हवा कब से बादबान में है !

ख़ुद को पाया न उम्र भर हम ने,
कौन है जो हमारे ध्यान में है !!

Amir Qazalbash All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Hai Ajib Shehar Ki Zindagi Na Safar Raha Na Qayam Hai

Hai ajib shehar ki zindagi na safar raha na qayam hai,
Kahin karobar si dopehar kahin bad-mizaj si shaam hai.

Kahan ab duaon ki barkatein wo nasihatein wo hidayatein,
Ye matalbon ka khulus hai ye zaruraton ka salam hai.

Yun hi roz milne ki aarzoo badi rakh rakhaw ki guftugu,
Ye sharafatein nahin be gharaz ise aap se koi kaam hai.

Wo dilo mein aag lagayega main dilon ki aag bujhaunga,
Use apne kaam se kaam hai mujhe apne kaam se kaam hai.

Na udas ho na malal kar kisi baat ka na khyal kar,
Kayi saal baad mile hain hum tere naam aaj ki sham hai.

Koi naghma dhup ke ganw sa koi naghma sham ki chhanw sa,
Zara in parindon se puchhna ye kalam kis ka kalam hai. !!

है अजीब शहर कि ज़िंदगी न सफ़र रहा न क़याम है,
कहीं कारोबार सी दोपहर कहीं बदमिज़ाज सी शाम है !

कहाँ अब दुआओं कि बरकतें वो नसीहतें वो हिदायतें,
ये मतलबों का ख़ुलूस है या ज़रूरतों का सलाम है !

यूँ ही रोज़ मिलने कि आरज़ू बड़ी रख रखाव कि गुफ्तगू,
ये शराफ़ातें नहीं बे ग़रज़ इसे आपसे कोई काम है !

वो दिलों में आग लगायेगा में दिलों कि आग बुझाऊंगा,
उसे अपने काम से काम है मुझे अपने काम से काम है !

न उदास हो न मलाल कर किसी बात का न ख्याल कर,
कई साल बाद मिले है हम तेरे नाम आज कि शाम कर !

कोई नग्मा धुप के गॉँव सा कोई नग़मा शाम कि छाँव सा,
ज़रा इन परिंदों से पूछना ये कलाम किस का कलाम है !! -Bashir Badr Ghazal

 

Ajnabi Khwahishen Seene Mein Daba Bhi Na Sakun..

Ajnabi khwahishen seene mein daba bhi na sakun,
Aise ziddi hain parinde ki uda bhi na sakun.

Phunk dalunga kisi roz main dil ki duniya,
Ye tera khat to nahin hai ki jala bhi na sakun.

Meri ghairat bhi koi shai hai ki mehfil mein mujhe,
Us ne is tarah bulaya hai ki ja bhi na sakun.

Phal to sab mere darakhton ke pake hain lekin,
Itni kamzor hain shakhen ki hila bhi na sakun.

Ek na ek roz kahin dhund hi lunga tujh ko,
Thokaren zahar nahi hain ki main kha bhi na sakun. !!

अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ,
ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ !

फूँक डालूँगा किसी रोज़ मैं दिल की दुनिया,
ये तेरा ख़त तो नहीं है कि जला भी न सकूँ !

मेरी ग़ैरत भी कोई शय है कि महफ़िल में मुझे,
उस ने इस तरह बुलाया है कि जा भी न सकूँ !

फल तो सब मेरे दरख़्तों के पके हैं लेकिन,
इतनी कमज़ोर हैं शाख़ें कि हिला भी न सकूँ !

एक न एक रोज़ कहीं ढूँड ही लूँगा तुझ को,
ठोकरें ज़हर नहीं हैं कि मैं खा भी न सकूँ !! -Rahat Indori Ghazal

 

Wo Jo Tere Faqir Hote Hain..

Wo jo tere faqir hote hain,
Aadmi be-nazir hote hain.

Dekhne wala ek nahi milta,
Aankh wale kasir hote hain.

Jin ko daulat haqir lagti hai,
Uff ! wo kitne amir hote hain.

Jin ko kudrat ne husan bakhsha ho,
Kudratan kuchh sharir hote hain.

Zindagi ke hasin tarkash mein,
Kitne be-rahm tir hote hain.

Wo parinde jo aankh rakhte hain,
Sab se pahle asir hote hain.

Phool daman mein chand rakh lije,
Raste mein faqir hote hain.

Hai khushi bhi ajib shai lekin,
Gham bade dil-pazir hote hain.

Aye “Adam” ehtiyat logon se,
Log munkir-nakir hote hain. !!

वो जो तेरे फ़क़ीर होते हैं,
आदमी बे-नज़ीर होते हैं !

देखने वाला एक नहीं मिलता,
आँख वाले कसीर होते हैं

जिन को दौलत हक़ीर लगती है,
उफ़ ! वो कितने अमीर होते हैं !

जिन को क़ुदरत ने हुस्न बख़्शा हो,
क़ुदरतन कुछ शरीर होते हैं !

ज़िंदगी के हसीन तरकश में,
कितने बे-रहम तीर होते हैं !

वो परिंदे जो आँख रखते हैं,
सब से पहले असीर होते हैं !

फूल दामन में चंद रख लीजे,
रास्ते में फ़क़ीर होते हैं !

है ख़ुशी भी अजीब शय लेकिन,
ग़म बड़े दिल-पज़ीर होते हैं !

ऐ “अदम” एहतियात लोगों से,
लोग मुनकिर-नकीर होते हैं !!