Thursday , September 24 2020

Nazms

Nazm (Urdu نظم) is a major part of the Urdu poetry, that is normally written in rhymed verse and also in modern prose style poems.

While writing Nazm, it is not important to follow any rules as it depends on the writer himself. A Nazm can be long or short and even there are no considerations being taken into account, specifically about its size or rhyming scheme. All the verses written in a Nazm are interlinked together. In simple words, Nazm is a form of a descriptive poetry.

Saans Lena Bhi Kaisi Aadat Hai.. {Aadat Gulzar Nazm}

Saans lena bhi kaisi aadat hai
Jiye jaana bhi kya riwayat hai
Koi aahat nahi badan mein kahin
Koi saya nahi hai aaankhon mein
Paanv behis hain chalte jate hain
Ek safar hai jo bahta rahta hai
Kitne barson se kitni sadiyon se
Jiye jate hain jiye jate hain

Aadaten bhi ajib hoti hain.. !!

साँस लेना भी कैसी आदत है
जीये जाना भी क्या रवायत है
कोई आहट नहीं बदन में कहीं
कोई साया नहीं है आँखों में
पाँव बेहिस हैं, चलते जाते हैं
इक सफ़र है जो बहता रहता है
कितने बरसों से, कितनी सदियों से
जिये जाते हैं, जिये जाते हैं

आदतें भी अजीब होती हैं..!! – Gulzar

 

Raat-Bhar Sard Hawa Chalti Rahi.. {Alaav- Gulzar Nazm}

Raat-bhar sard hawa chalti rahi
Raat-bhar hum ne alaav taapa

Main ne maazi se kai khushk si shakhen katin
Tum ne bhi guzre hue lamhon ke patte tode
Main ne jebon se nikalin sabhi sukhi nazmen
Tum ne bhi hathon se murjhaye hue khat khole
Apni in aankhon se main ne kai manje tode
Aur hathon se kai baasi lakiren phenkin
Tum ne palkon pe nami sukh gai thi so gira di
Raat bhar jo bhi mila ugte badan par hum ko
Kat ke dal diya jalte alaav mein use

Raat-bhar phukon se har lau ko jagaye rakkha
Aur do jismon ke indhan ko jalaye rakkha
Raat-bhar bujhte hue rishte ko taapa hum ne..!!

रात-भर सर्द हवा चलती रही
रात-भर हम ने अलाव तापा

मैं ने माज़ी से कई ख़ुश्क सी शाख़ें काटीं
तुम ने भी गुज़रे हुए लम्हों के पत्ते तोड़े
मैं ने जेबों से निकालीं सभी सूखी नज़्में
तुम ने भी हाथों से मुरझाए हुए ख़त खोले
अपनी इन आँखों से मैं ने कई माँजे तोड़े
और हाथों से कई बासी लकीरें फेंकीं
तुम ने पलकों पे नमी सूख गई थी सो गिरा दी
रात भर जो भी मिला उगते बदन पर हम को
काट के डाल दिया जलते अलाव में उसे

रात-भर फूँकों से हर लौ को जगाए रक्खा
और दो जिस्मों के ईंधन को जलाए रक्खा
रात-भर बुझते हुए रिश्ते को तापा हम ने.. !! – Gulzar

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

 

Aadmi Bulbula Hai Paani Ka..

Aadmi bulbula hai paani ka
Aur paani ki behti satah par
Toot’ta bhi hai dubta bhi hai
Phir ubharta hai phir se behta hai
Na samundar nigal saka iss ko
Na tawarikh tod paayi hai
Waqt ki hatheli par behta
Aadmi bulbula hai paani ka.. !!

आदमी बुलबुला है पानी का
और पानी की बहती सतहा पर
टूटता भी है डूबता भी है
फिर उभरता है, फिर से बहता है
न समुंदर निगल सका इस को
न तवारीख़ तोड़ पाई है
वक़्त की हथेली पर बहता
आदमी बुलबुला है पानी का.. !! – Gulzar

 

Ek Nazm-Danish War Kahlane Walo..

Ek Nazm-Danish war kahlane walo,
Tum kya samjho,
Mubham chizen kya hoti hain,
Thal ke registan mein rahne wale logo..

Tum kya jaano,
Sawan kya hai,
Apne badan ko,
Raat mein andhi tariki se..

Din mein khud apne hathon se,
Dhanpne walo,
Uryan logo,
Tum kya jaano..

Choli kya hai daman kya hai,
Shahr-badar ho jaane walo,
Footpathon par sone walo,
Tum kya samjho..

Chhat kya hai diwaren kya hain,
Aangan kya hai,
Ek ladki ka khizan-rasida bazu thame,
Nabz ke upar hath jamaye..

Ek sada par kan lagaye,
Dhadkan sansen ginne walo,
Tum kya jaano,
Mubham chizen kya hoti hain..

Dhadkan kya hai jiwan kya hai,
Sattarah-number ke bistar par,
Apni qaid ka lamha lamha ginne wali,
Ye ladki jo..

Barson ki bimar nazar aati hai tum ko,
Sola sal ki ek bewa hai,
Hanste hanste ro padti hai,
Andar tak se bhig chuki hai..

Jaan chuki hai,
Sawan kya hai,
Is se puchho,
Kanch ka bartan kya hota hai..

Is se puchho,
Mubham chizen kya hoti hain,
Suna aangan tanha,
Jiwan kya hota hai..

दानिश-वर कहलाने वालो,
तुम क्या समझो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं,
थल के रेगिस्तान में रहने वाले लोगो..

तुम क्या जानो,
सावन क्या है,
अपने बदन को,
रात में अंधी तारीकी से..

दिन में ख़ुद अपने हाथों से,
ढाँपने वालो,
उर्यां लोगो,
तुम क्या जानो..

चोली क्या है दामन क्या है,
शहर-बदर हो जाने वालो,
फ़ुटपाथों पर सोने वालो,
तुम क्या समझो..

छत क्या है दीवारें क्या हैं,
आँगन क्या है,
एक लड़की का ख़िज़ाँ-रसीदा बाज़ू थामे,
नब्ज़ के ऊपर हाथ जमाए..

एक सदा पर कान लगाए,
धड़कन साँसें गिनने वालो,
तुम क्या जानो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं..

धड़कन क्या है जीवन क्या है,
सत्तरह-नंबर के बिस्तर पर,
अपनी क़ैद का लम्हा लम्हा गिनने वाली,
ये लड़की जो..

बरसों की बीमार नज़र आती है तुम को,
सोला साल की एक बेवा है,
हँसते हँसते रो पड़ती है,
अंदर तक से भीग चुकी है..

जान चुकी है,
सावन क्या है,
इस से पूछो,
काँच का बर्तन क्या होता है..

इस से पूछो,
मुबहम चीज़ें क्या होती हैं,
सूना आँगन तन्हा,
जीवन क्या होता है.. !!

-Aanis Moin Nazm

 

Tu Mera Hai..

Tu mera hai,
Tere man mein chhupe hue sab dukh mere hain,
Teri aankh ke aansu mere,
Tere labon pe nachne wali ye masum hansi bhi meri..

Tu mera hai,
Har wo jhonka,
Jis ke lams ko,
Apne jism pe tu ne bhi mahsus kiya hai..

Pahle mere hathon ko,
Chhu kar guzra tha,
Tere ghar ke darwaze par,
Dastak dene wala..

Har wo lamha jis mein,
Tujh ko apni tanhai ka,
Shiddat se ehsas hua tha,
Pahle mere ghar aaya tha..

Tu mera hai,
Tera mazi bhi mera tha,
Aane wali har saat bhi meri hogi,
Tere tapte aariz ki dopahar hai meri..

Sham ki tarah gahre gahre ye palkon saye hain mere,
Tere siyah baalon ki shab se dhup ki surat,
Wo subhen jo kal jagengi,
Meri hongi..

Tu mera hai,
Lekin tere sapnon mein bhi aate hue ye dar lagta hai,
Mujh se kahin tu puchh na baithe,
Kyun aaye ho,
Mera tum se kya nata hai.. !!

तू मेरा है,
तेरे मन में छुपे हुए सब दुख मेरे हैं,
तेरी आँख के आँसू मेरे,
तेरे लबों पे नाचने वाली ये मासूम हँसी भी मेरी..

तू मेरा है,
हर वो झोंका,
जिस के लम्स को,
अपने जिस्म पे तू ने भी महसूस किया है..

पहले मेरे हाथों को,
छू कर गुज़रा था,
तेरे घर के दरवाज़े पर,
दस्तक देने वाला..

हर वो लम्हा जिस में,
तुझ को अपनी तन्हाई का,
शिद्दत से एहसास हुआ था,
पहले मेरे घर आया था..

तू मेरा है,
तेरा माज़ी भी मेरा था,
आने वाली हर साअत भी मेरी होगी,
तेरे तपते आरिज़ की दोपहर है मेरी..

शाम की तरह गहरे गहरे ये पलकों साए हैं मेरे,
तेरे सियाह बालों की शब से धूप की सूरत,
वो सुब्हें जो कल जागेंगी,
मेरी होंगी..

तू मेरा है ,
लेकिन तेरे सपनों में भी आते हुए ये डर लगता है,
मुझ से कहीं तू पूछ न बैठे,
क्यूँ आए हो,
मेरा तुम से क्या नाता है.. !!

-Aanis Moin Nazm

 

Uth Meri Jaan Mere Saath Hi Chalna Hai Tujhe..

Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe

           Aurat

Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe
Qalb-e-maahaul mein larzaan sharar-e-jung hain aaj
Hausle waqt ke aur ziist ke yak-rang hain aaj
Aabginon mein tapan walwala-e- sang hain aaj
Husn aur ishq hum-awaz-o-hum-ahang hain aaj
Jis mein jalta hun usi aag mein jalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे
क़ल्ब-ए-माहौल में लर्ज़ां शरर-ए-जंग हैं आज
हौसले वक़्त के और ज़ीस्त के यक-रंग हैं आज
आबगीनों में तपाँ वलवला-ए-संग हैं आज
हुस्न और इश्क़ हम-आवाज़ ओ हम-आहंग हैं आज
जिस में जलता हूँ उसी आग में जलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tere qadmon mein hai firdaus-e-tamaddun ki bahaar
Teri nazron pe hai tehzib-o-taraqqi ka madar
Teri aaghosh hai gahwara-e-nafs-o-kirdar
Taa-ba-kai gird tere wehm-o-tayyun ka hisar
Kaund kar majlis-e-khalwat se nikalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तेरे क़दमों में है फ़िरदौस-ए-तमद्दुन की बहार
तेरी नज़रों पे है तहज़ीब-ओ-तरक़्क़ी का मदार
तेरी आग़ोश है गहवारा-ए-नफ़्स-ओ-किरदार
ता-ब-कै गिर्द तेरे वहम-ओ-तअय्युन का हिसार
कौंद कर मज्लिस-ए-ख़ल्वत से निकलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tu ki be-jaan khilaunon se bahal jati hai
Tapti sanson ki hararat se pighal jati hai
Panw jis raah mein rakhti hai phisal jati hai
Ban ke simab har ek zarf mein dhal jati hai
Zist ke aahani sanche mein bhi dhalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तू कि बे-जान खिलौनों से बहल जाती है
तपती साँसों की हरारत से पिघल जाती है
पाँव जिस राह में रखती है फिसल जाती है
बन के सीमाब हर एक ज़र्फ़ में ढल जाती है
ज़ीस्त के आहनी साँचे में भी ढलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Zindagi jehd mein hai sabr ke qabu mein nahin
Nabz-e-hasti ka lahu kanpte aansu mein nahin
Udne khulne mein hai nikhat kham-e-gesu mein nahin
Jannat ek aur hai jo mard ke pahlu mein nahin
Us ki aazad rawish par bhi machalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

ज़िंदगी जेहद में है सब्र के क़ाबू में नहीं
नब्ज़-ए-हस्ती का लहू काँपते आँसू में नहीं
उड़ने खुलने में है निकहत ख़म-ए-गेसू में नहीं
जन्नत एक और है जो मर्द के पहलू में नहीं
उस की आज़ाद रविश पर भी मचलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Goshe-goshe mein sulagti hai chita tere liye
Farz ka bhes badalti hai qaza tere liye
Qahar hai teri har ek narm ada tere liye
Zehr hi zehr hai duniya ki hawa tere liye
Rut badal dal agar phulna-phalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

गोशे-गोशे में सुलगती है चिता तेरे लिए
फ़र्ज़ का भेस बदलती है क़ज़ा तेरे लिए
क़हर है तेरी हर एक नर्म अदा तेरे लिए
ज़हर ही ज़हर है दुनिया की हवा तेरे लिए
रुत बदल डाल अगर फूलना-फलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Qadr ab tak teri tarikh ne jaani hi nahin
Tujh mein shoale bhi hain bas ashk-fishani hi nahin
Tu haqiqat bhi hai dilchasp kahani hi nahin
Teri hasti bhi hai ek chiz jawani hi nahin
Apni tarikh ka unwan badalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

क़द्र अब तक तेरी तारीख़ ने जानी ही नहीं
तुझ में शोले भी हैं बस अश्क-फ़िशानी ही नहीं
तू हक़ीक़त भी है दिलचस्प कहानी ही नहीं
तेरी हस्ती भी है एक चीज़ जवानी ही नहीं
अपनी तारीख़ का उन्वान बदलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tod kar rasm ke but band-e-qadamat se nikal
Zof-e-ishrat se nikal wahm-e-nazakat se nikal
Nafs ke khinche hue halqa-e-azmat se nikal
Qaid ban jaye mohabbat to mohabbat se nikal
Raah ka khar hi kya gul bhi kuchalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तोड़ कर रस्म का बुत बंद-ए-क़दामत से निकल
ज़ोफ़-ए-इशरत से निकल वहम-ए-नज़ाकत से निकल
नफ़्स के खींचे हुए हल्क़ा-ए-अज़्मत से निकल
क़ैद बन जाए मोहब्बत तो मोहब्बत से निकल
राह का ख़ार ही क्या गुल भी कुचलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tod ye azm-shikan daghdagha-e-pand bhi tod
Teri khatir hai jo zanjir woh saugand bhi tod
Tauq ye bhi zamurrad ka gulu-band bhi tod
Tod paimana-e-mardan-e-khird-mand bhi tod
Ban ke tufan chhalakna hai ubalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe..

तोड़ ये अज़्म-शिकन दग़दग़ा-ए-पंद भी तोड़
तेरी ख़ातिर है जो ज़ंजीर वो सौगंद भी तोड़
तौक़ ये भी है ज़मुर्रद का गुलू-बंद भी तोड़
तोड़ पैमाना-ए-मर्दान-ए-ख़िरद-मंद भी तोड़
बन के तूफ़ान छलकना है उबलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे..

Tu falatun-o-arastu hai tu zehra parwin
Tere qabze mein hai gardun teri thokar mein zamin
Han utha jald utha paa-e-muqqadar se jabin
Main bhi rukne ka nahin waqt bhi rukne ka nahin
Ladkhadayegi kahan tak ki sambhalna hai tujhe
Uth meri jaan mere saath hi chalna hai tujhe.. !!

तू फ़लातून-ओ-अरस्तू है तू ज़हरा परवीन
तेरे क़ब्ज़े में है गर्दूं तेरी ठोकर में ज़मीन
हाँ उठा जल्द उठा पा-ए-मुक़द्दर से जबीन
मैं भी रुकने का नहीं वक़्त भी रुकने का नहीं
लड़खड़ाएगी कहाँ तक कि सँभलना है तुझे
उठ मेरी जान मेरे साथ ही चलना है तुझे.. !!

-Kaifi Azmi Nazm

 

Aakhiri Mulaqat..

Aakhiri Mulaqat By Jan Nisar Akhtar

Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Do panv bane hariyali par
Ek titli baithi dali par
Kuch jagmag jugnu jangal se
Kuch jhumte hathi baadal se
Ye ek kahani nind bhari
Ek takht pe baithi ek pari
Kuch gin gin karte parwane
Do nanhe nanhe dastane
Kuch udte rangin ghubare
Babbu ke dupatte ke tare
Ye chehra banno budhi ka
Ye tukda maa ki chudi ka
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Alsai hui rut sawan ki
Kuch saundhi khushbu aangan ki
Kuch tuti rassi jhule ki
Ek chot kasakti kulhe ki
Sulgi si angithi jadon mein
Ek chehra kitni aadon mein
Kuch chandni raatein garmi ki
Ek lab par baaten narmi ki
Kuch rup hasin kashanon ka
Kuch rang hare maidanon ka
Kuch haar mahakti kaliyon ke
Kuch nasm watan ki galiyon ke
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch chand chamakte galon ke
Kuch bhanwre kale baalon ke
Kuch nazuk shiknen aanchal ki
Kuch narm lakiren kajal ki
Ek khoi kadi afsanon ki
Do aankhein raushan-danon ki
Ek surkh dulai got lagi
Kya jaane kab ki chot lagi
Ek chhalla phiki rangat ka
Ek loket dil ki surat ka
Rumal kayi resham se kadhe
Wo khat jo kabhi main ne na padhe
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch ujdi mangen shamon ki
Aawaz shikasta jamon ki
Kuch tukde khali botal ke
Kuch ghungru tuti pael ke
Kuch bikhre tinke chilman ke
Kuch purze apne daman ke
Ye tare kuch tharraye hue
Ye git kabhi ke gaye hue
Kuch sher purani ghazlon ke
Unwan adhuri nazmon ke
Tuti huyi ek ashkon ki ladi
Ek khushk qalam ek band ghadi
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch rishte tute tute se
Kuch sathi chhute chhute se
Kuch bigdi bigdi taswirein
Kuch dhundli dhundli tahrirein
Kuch aansu chhalke chhalke se
Kuch moti dhalke dhalke se
Kuch naqsh ye hairan hairan se
Kuch aks ye larzan larzan se
Kuch ujdi ujdi duniya mein
Kuch bhatki bhatki aashaein
Kuch bikhre bikhre sapne hain
Ye ghair nahi sab apne hain
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain. !!

मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

दो पाँव बने हरियाली पर
एक तितली बैठी डाली पर
कुछ जगमग जुगनू जंगल से
कुछ झूमते हाथी बादल से
ये एक कहानी नींद भरी
इक तख़्त पे बैठी एक परी
कुछ गिन गिन करते परवाने
दो नन्हे नन्हे दस्ताने
कुछ उड़ते रंगीं ग़ुबारे
बब्बू के दुपट्टे के तारे
ये चेहरा बन्नो बूढ़ी का
ये टुकड़ा माँ की चूड़ी का
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

अलसाई हुई रुत सावन की
कुछ सौंधी ख़ुश्बू आँगन की
कुछ टूटी रस्सी झूले की
इक चोट कसकती कूल्हे की
सुलगी सी अँगीठी जाड़ों में
इक चेहरा कितनी आड़ों में
कुछ चाँदनी रातें गर्मी की
इक लब पर बातें नरमी की
कुछ रूप हसीं काशानों का
कुछ रंग हरे मैदानों का
कुछ हार महकती कलियों के
कुछ नाम वतन की गलियों के
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ चाँद चमकते गालों के
कुछ भँवरे काले बालों के
कुछ नाज़ुक शिकनें आँचल की
कुछ नर्म लकीरें काजल की
इक खोई कड़ी अफ़्सानों की
दो आँखें रौशन-दानों की
इक सुर्ख़ दुलाई गोट लगी
क्या जाने कब की चोट लगी
इक छल्ला फीकी रंगत का
इक लॉकेट दिल की सूरत का
रूमाल कई रेशम से कढ़े
वो ख़त जो कभी मैंने न पढ़े
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
में ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ उजड़ी माँगें शामों की
आवाज़ शिकस्ता जामों की
कुछ टुकड़े ख़ाली बोतल के
कुछ घुँगरू टूटी पायल के
कुछ बिखरे तिनके चिलमन के
कुछ पुर्ज़े अपने दामन के
ये तारे कुछ थर्राए हुए
ये गीत कभी के गाए हुए
कुछ शेर पुरानी ग़ज़लों के
उनवान अधूरी नज़्मों के
टूटी हुई इक अश्कों की लड़ी
इक ख़ुश्क क़लम इक बंद घड़ी
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ रिश्ते टूटे टूटे से
कुछ साथी छूटे छूटे से
कुछ बिगड़ी बिगड़ी तस्वीरें
कुछ धुँदली धुँदली तहरीरें
कुछ आँसू छलके छलके से
कुछ मोती ढलके ढलके से
कुछ नक़्श ये हैराँ हैराँ से
कुछ अक्स ये लर्ज़ां लर्ज़ां से
कुछ उजड़ी उजड़ी दुनिया में
कुछ भटकी भटकी आशाएँ
कुछ बिखरे बिखरे सपने हैं
ये ग़ैर नहीं सब अपने हैं
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं !!

-Jan Nisar Akhtar Nazm / Poetry

Na Mera Makan Hi Badal Gaya Na Tera Pata Koi Aur Hai..

Na mera makan hi badal gaya na tera pata koi aur hai,
Meri rah phir bhi hai mukhtalif tera rasta koi aur hai.

Pas-e-marg khak huye badan wo kafan mein hon ki hon be-kafan,
Na meri lahad koi aur hai na teri chita koi aur hai.

Wo jo mahr bahr-e-nikah tha wo dulhan ka mujh se mizah tha,
Ye to ghar pahunch ke pata chala meri ahliya koi aur hai.

Meri qatila meri lash se ye bayan lene ko aayi thi,
Na de mulzima ko saza police meri qatila koi aur hai.

Jo sajai jati hai raat ko wo hamari bazm-e-khayal hai,
Jo sadak pe hota hai raat din wo mushaera koi aur hai.

Kabhi “mir”-o-“dagh” ki shayari bhi moamla se hasin thi,
Magar ab jo sher mein hota hai wo moamla koi aur hai.

Tujhe kya khabar ki main kis liye tujhe dekhta hun kan-ankhiyon se,
Ki barah-e-rast nazare mein mujhe dekhta koi aur hai.

Ye jo titar aur chakor hain wahi pakden un ko jo chor hain,
Main chakor-akor ka kya karun meri fakhta koi aur hai.

Mujhe man ka pyar nahi mila magar is ka bap se kya gila,
Meri walida to ye kahti hai teri walida koi aur hai. !!

न मेरा मकाँ ही बदल गया न तेरा पता कोई और है,
मेरी राह फिर भी है मुख़्तलिफ़ तेरा रास्ता कोई और है !

पस-ए-मर्ग ख़ाक हुए बदन वो कफ़न में हों कि हों बे-कफ़न,
न मेरी लहद कोई और है न तेरी चिता कोई और है !

वो जो महर बहर-ए-निकाह था वो दुल्हन का मुझ से मिज़ाह था,
ये तो घर पहुँच के पता चला मिरी अहलिया कोई और है !

मेरी क़ातिला मेरी लाश से ये बयान लेने को आई थी,
न दे मुलज़िमा को सज़ा पुलिस मेरी क़ातिला कोई और है !

जो सजाई जाती है रात को वो हमारी बज़्म-ए-ख़याल है,
जो सड़क पे होता है रात दिन वो मुशाएरा कोई और है !

कभी “मीर”-ओ-“दाग़” की शायरी भी मोआ’मला से हसीन थी,
मगर अब जो शेर में होता है वो मोआ’मला कोई और है !

तुझे क्या ख़बर कि मैं किस लिए तुझे देखता हूँ कन-अँखियों से,
कि बराह-ए-रास्त नज़ारे में मुझे देखता कोई और है !

ये जो तीतर और चकोर हैं वही पकड़ें उन को जो चोर हैं,
मैं चकोर-अकोर का क्या करूँ मिरी फ़ाख़्ता कोई और है !

मुझे माँ का प्यार नहीं मिला मगर इस का बाप से क्या गिला,
मेरी वालिदा तो ये कहती है तेरी वालिदा कोई और है !!

-Dilawar Figar Ghazal / Shayari

 

Agar Kabhi Meri Yaad Aaye..

Agar kabhi meri yaad aaye

Agar kabhi meri yaad aaye,
Toh chaand raaton ki naram dil geer roshni mein,
Kisi sitaarey ko dekh lena,
Agar woh nakhl-e-falak se udd kar tumhare qadmon mein aa gire toh,
Ye jaan lena woh istaara tha mere dil ka,
Agar na aaye..

Magar ye mumkin hi kis tarah hai ki tum kisi par nigaah daalo,
Toh uski deewar-e-jaan na tootey,
Woh apni hasti na bhool jaaye,
Agar kabhi meri yaad aaye..

Gureiz karti hawaa ki lehron pe haath rakhna,
Main khushbuon mein tumhein miloonga,
Mujhe gulaabon ki patiyon mein talash karna,
Main oss qatron ke aainon mein tumhein miloonga,
Agar sitaaron mein, oss qatron mein, khushbuon mein na paao mujhko,
Toh apne qadmon mein dekh lena..

Main gard karti masaafton mein tumhein miloonga,
Kahin pe roshan chiraag dekho toh jaan lena,
Ki har patange ke saath main bhi bikhar chuka hoon,
Tum apne haathon se un patangon ki khaak dariya mein daal dena,
Main khaak ban kar samandaron mein safar karunga,
Kisi na dekhe huye jazeere pe ruk ke tum ko sadaayein dunga,
Samandaron ke safar pe niklo toh us jazeere pe bhi utarna,
Agar kabhi meri yaad aaye..

अगर कभी मेरी याद आये,
तो चाँद रातों की नर्म दिल गीर रौशनी में,
किसी सितारे को देख लेना,
अगर वो नख्ल-ए फलक से उड़ कर तुम्हारे क़दमों में आ गिरे तो,
ये जान लेना वो इस्तारा था,
मेरे दिल का अगर ना आये..

मगर ये मुमकिन ही किस तरह है कि तुम किसी पर निगाह डालो,
तो उसकी निग़ाह-ए जान ना टूटे,
वो अपनी हस्ती ना भूल जाए,
अगर कभी मेरी याद आये..

गुरेज़ करती हवा की लहरों पे हाथ रखना,
मैं खुशबुओं में तुम्हें मिलूंगा,
मुझे गुलाबों की पत्तियों में तलाश करना,
मैं ओस क़तरों के आइनों में तुम्हें मिलूंगा,
अगर सितारों में, ओस क़तरों में, खुशबुओं में ना पाओ मुझको,
तो अपने क़दमों में देख लेना..

मैं गर्द करती मसाफ़तों में तुम्हें मिलूंगा,
कहीं पे रौशन चिराग़ देखो तो जान लेना,
कि हर पतंगे के साथ मैं भी बिखर चुका हूं,
तुम अपने हाथों से उन पतंगों कि खाक दरिया में डाल देना,
मैं खाक बन कर समन्दरों में सफर करूंगा,
किसी ना देखे हुए जज़ीरे पे रुक के तुम को सदायें दूंगा,
समन्दरों के सफर पे निकलो तो उस जज़ीरे पे भी उतरना,
अगर कभी मेरी याद आये..

-Amjad Islam Amjad Ghazal / Poetry / Shayari

 

Mere Pahlu Mein Jo Bah Nikle Tumhare Aansoo..

Mere pahlu mein jo bah nikle tumhare aansoo,
Ban gaye shame-mohabbat ke sitare aansoo.

Dekh sakta hai bhala koun ye pyare aansoo,
Meri aankho mein na aa jayen tumhare aansoo.

Apna muh mere girebaan mein chhupati kyon ho,
Dil ki dhadkan kahi sunle na tumhare aansoo.

Meh ki bundo ki tarah ho gaye saste kyon aaj?
Motiyon se kahi mahnge the tumhare aansoo.

Saaf iqrare-mohabbat ho jabaan se kyokar,
Aankh mein aa gaye ye sharm ke mare aansoo.

Hijr abhi door hai main paas hun aye jane-wafa,
Kyon huye jaate hai baichen tumhare aansoo.

Subah-dam dekh na le koi ye bheega aanchal,
Meri chugli kahi kha de na tumhare aansoo.

Dame-rukhsat hai kareeb ae ghame-furkat khush ho,
Karne wale hai judai ke ishare aansoo.

Sadke us jaane-mohabbat ke main “Akhtar” jiske,
Raat bhar bahate rahe shouk ke mare aansoo. !!

मेरे पहलू में जो बह निकले तुम्हारे आंसू,
बन गए शामे-मोहब्बत के सितारे आंसू !

देख सकता है भला कौन ये प्यारे आंसू,
मेरी आँखों में न आ जाये तुम्हारे आंसू !

अपना मुह मेरे गिरेबान में छुपाती क्यों हो,
दिल की धड़कन कही सुनले न तुम्हारे आंसू !

मेह की बूंदो की तरह हो गए सस्ते क्यों आज?
मोतियों से कही महंगे थे तुम्हारे आंसू !

साफ़ इक़रारे-मोहब्बत हो जबान से क्योंकर,
आँख में आ गए ये शर्म के मारे आंसू !

हिज्र अभी दूर है मैं पास हूँ ऐ जाने-वफ़ा,
क्यों हुए जाते है बैचेन तुम्हारे आंसू !

सुबह-दम देख न ले कोई ये भीगा आँचल,
मेरी चुगली कही खा दे न तुम्हारे आंसू !

दमे-रुखसत है करीब ऐ गमे फुरकत खुश हो,
करने वाले है जुदाई के इशारे आंसू !

सदके उस जाने-मोहब्बत के मैं “अख्तर” जिसके,
रात भर बहते रहे शौक के मरे आंसू !!