Thursday , September 24 2020

Nazms

Nazm (Urdu نظم) is a major part of the Urdu poetry, that is normally written in rhymed verse and also in modern prose style poems.

While writing Nazm, it is not important to follow any rules as it depends on the writer himself. A Nazm can be long or short and even there are no considerations being taken into account, specifically about its size or rhyming scheme. All the verses written in a Nazm are interlinked together. In simple words, Nazm is a form of a descriptive poetry.

Mujhko Bhi Tarkeeb Sikha Koi Yaar Julahe..

Mujhko Bhi Tarkeeb Sikha Koi Yaar Julahe.. Girhen – Gulzar Nazm !

Mujhko Bhi Tarkeeb Sikha Koi Yaar Julahe

Mujhko bhi tarkeeb sikha koi yaar julahe
Aksar tujhko dekha hai ki tana bunte
Jab koi taga tut gaya ya khatm hua
Phir se bandh ke
Aur sira koi jod ke us mein
Aage bunne lagte ho
Tere is tane mein lekin
Ek bhi ganth girah buntar ki
Dekh nahi sakta hai koi
Maine to ek bar buna tha ek hi rishta
Lekin us ki sari girhen
Saaf nazar aati hain mere yaar julahe. !! -Gulzar Nazm

मुझको भी तरकीब सिखा कोई यार जुलाहे
अक्सर तुझको देखा है कि ताना बुनते
जब कोई तागा टूट गया या ख़तम हुआ
फिर से बाँध के
और सिरा कोई जोड़ के उसमें
आगे बुनने लगते हो
तेरे इस ताने में लेकिन
एक भी गाँठ गिरह बुनतर की
देख नहीं सकता है कोई
मैंने तो एक बार बुना था एक ही रिश्ता
लेकिन उसकी सारी गिरहें
साफ़ नज़र आती हैं मेरे यार जुलाहे !! -गुलज़ार नज़्म

 

Nazm Uljhi Hui Hai Seene Mein..

Nazm Uljhi Hui Hai Seene Mein.. Gulzar Nazm !

Nazm uljhi hui hai seene mein
Misre atke hue hain honton par
Udte-phirte hain titliyon ki tarah
Lafz kaghaz pe baithte hi nahi

Kab se baitha hua hun main jaanam
Sada kaghaz pe likh ke naam tera
Bas tera naam hi mukammal hai
Is se behtar bhi nazm kya hogi. !! -Gulzar Nazm

नज़्म उलझी हुई है सीने में
मिसरे अटके हुए हैं होठों पर
उड़ते-फिरते हैं तितलियों की तरह
लफ़्ज़ काग़ज़ पे बैठते ही नहीं

कब से बैठा हुआ हूँ मैं जानम
सादे काग़ज़ पे लिखके नाम तेरा
बस तेरा नाम ही मुकम्मल है
इससे बेहतर भी नज़्म क्या होगी !! -गुलज़ार नज़्म

 

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai..

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai.. { Diary – Gulzar’s Nazm }

Na jaane kis ki ye Diary hai
Na naam hai na pata hai koi:
“Har ek karwat main yaad karta hun tum ko lekin
Ye karwaten lete raat din yun masal rahe hain mere badan ko
Tumhaari yaadon ke jism par nil pad gaye hain”

Ek aur safhe pe yun likha hai:
“Kabhi kabhi raat ki siyahi,
Kuch aisi chehre pe jam si jati hai
Lakh ragdun,
Sahar ke pani se lakh dhoun
Magar wo kalak nahi utarti
Milogi jab tum pata chalega
Main aur bhi kala ho gaya hun
Ye hashiye mein likha hua hai:
“Main dhoop mein jal ke itna kala nahi hua tha
Ki jitna is raat main sulag ke siyah hua hun”

Mahin lafzon mein ek jagah yun likha hai is ne:
“Tumhen bhi to yaad hogi wo raat sardiyon ki
Jab aundhi kashti ke niche hum ne
Badan ke chulhe jala ke tape the, din kiya tha
Ye pattharon ka bichhauna hargiz na sakht lagta jo tum bhi hotin
Tumhein bichhata bhi odhta bhi”

Ek aur safhe pe phir usi raat ka bayan hai:
“Tum ek takiye mein gile baalon ki bhar ke khushboo,
Jo aaj bhejo
To neend aa jaye, so hi jaun”

Kuch aisa lagta hai jis ne bhi Diary likhi hai
Wo shehar aaya hai ganv mein chhod kar kisi ko
Talaash mein kaam hi ke shayad:
“Main shehar ki is machine mein fit hun jaise dhibri,
Zaruri hai ye zara sa purza
Aham bhi hai kyun ki roz ke roz tel de kar
Ise zara aur kas ke jata hai chief mera
Wo roz kasta hai,
Roz ek pech aur chadhta hai jab nason par,
To ji mein aata hai zehar kha lun
Ya bhag jaun”

Kuch ukhde ukhde, kate hue se ajib jumle,
“Kahani wo jis mein ek shahzadi chat leti hai
Apni angushtari ka hira,
Wo tum ne puri nahi sunai”

“Kadon mein sona nahi hai,
Un par sunahri pani chadha hua hai”
Ek aur zewar ka zikr bhi hai:
“Wo nak ki nath na bechna tum
Wo jhutha moti hai, tum se sachcha kaha tha main ne,
Sunar ke pas ja ke sharmindagi si hogi”

Ye waqt ka than khulta rahta hai pal ba pal,
Aur log poshaken kat kar,
Apne apne andaz se pahante hain waqt lekin
Jo main ne kati thi than se ek qamiz
Wo tang ho rahi hai”

Kabhi kabhi is pighalte lohe ki garm bhatti mein kaam karte,
Thithurne lagta hai ye badan jaise sakht sardi mein bhun raha ho,
Bukhar rahta hai kuch dinon se

Magar ye satren badi ajab hain
Kahin tawazun bigad gaya hai
Ya koi siwan udhad gayi hai:
“Farar hun main kai dinon se
Jo ghup-andhere ki tir jaisi surang ek kan se
Shurua ho ke dusre kan tak gayi hai,
Main us nali mein chhupa hua hun,
Tum aa ke tinke se mujh ko bahar nikal lena”

“Koi nahi aayega ye kide nikalne ab
Ki un ko to shehar mein dhuan de ke mara jata hai naliyon mein” !! -Gulzar’s Nazm

न जाने किस की ये डायरी है
न नाम है, न पता है कोई:
”हर एक करवट मैं याद करता हूँ तुम को लेकिन
ये करवटें लेते रात दिन यूँ मसल रहे हैं मेरे बदन को
तुम्हारी यादों के जिस्म पर नील पड़ गए हैं”

एक और सफ़्हे पे यूँ लिखा है:
”कभी कभी रात की सियाही,
कुछ ऐसी चेहरे पे जम सी जाती है
लाख रगड़ूँ,
सहर के पानी से लाख धोऊँ
मगर वो कालक नहीं उतरती
मिलोगी जब तुम पता चलेगा
मैं और भी काला हो गया हूँ
ये हाशिए में लिखा हुआ है:
”मैं धूप में जल के इतना काला नहीं हुआ था
कि जितना इस रात मैं सुलग के सियह हुआ हूँ”

महीन लफ़्ज़ों में एक जगह यूँ लिखा है इस ने:
”तुम्हें भी तो याद होगी वो रात सर्दियों की
जब औंधी कश्ती के नीचे हम ने
बदन के चूल्हे जला के तापे थे, दिन किया था
ये पत्थरों का बिछौना हरगिज़ न सख़्त लगता जो तुम भी होतीं
तुम्हें बिछाता भी ओढ़ता भी”

एक और सफ़्हे पे फिर उसी रात का बयाँ है:
”तुम एक तकिए में गीले बालों की भर के ख़ुशबू,
जो आज भेजो
तो नींद आ जाए, सो ही जाऊँ”

कुछ ऐसा लगता है जिस ने भी डायरी लिखी है
वो शहर आया है गाँव में छोड़ कर किसी को
तलाश में काम ही के शायद:
”मैं शहर की इस मशीन में फ़िट हूँ जैसे ढिबरी,
ज़रूरी है ये ज़रा सा पुर्ज़ा
अहम भी है क्यूँ कि रोज़ के रोज़ तेल दे कर
इसे ज़रा और कस के जाता है चीफ़ मेरा
वो रोज़ कसता है,
रोज़ एक पेच और चढ़ता है जब नसों पर,
तो जी में आता है ज़हर खा लूँ
या भाग जाऊँ”

कुछ उखड़े उखड़े, कटे हुए से अजीब जुमले,
”कहानी वो जिस में एक शहज़ादी चाट लेती है
अपनी अंगुश्तरी का हीरा,
वो तुम ने पूरी नहीं सुनाई”

”कड़ों में सोना नहीं है,
उन पर सुनहरी पानी चढ़ा हुआ है”
एक और ज़ेवर का ज़िक्र भी है:
”वो नाक की नथ न बेचना तुम
वो झूठा मोती है, तुम से सच्चा कहा था मैं ने,
सुनार के पास जा के शर्मिंदगी सी होगी”

ये वक़्त का थान खुलता रहता है पल ब पल,
और लोग पोशाकें काट कर,
अपने अपने अंदाज़ से पहनते हैं वक़्त लेकिन
जो मैं ने काटी थी थान से एक क़मीज़
वो तंग हो रही है”

कभी कभी इस पिघलते लोहे की गर्म भट्टी में काम करते,
ठिठुरने लगता है ये बदन जैसे सख़्त सर्दी में भुन रहा हो,
बुख़ार रहता है कुछ दिनों से

मगर ये सतरें बड़ी अजब हैं
कहीं तवाज़ुन बिगड़ गया है
या कोई सीवन उधड़ गई है:
”फ़रार हूँ मैं कई दिनों से
जो घुप-अँधेरे की तीर जैसी सुरंग एक कान से
शुरूअ हो के दूसरे कान तक गई है,
मैं उस नली में छुपा हुआ हूँ,
तुम आ के तिनके से मुझ को बाहर निकाल लेना

”कोई नहीं आएगा ये कीड़े निकालने अब
कि उन को तो शहर में धुआँ दे के मारा जाता है नालियों में” !! -गुलज़ार नज़्म

 

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka..

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka.. { Urdu Zaban – Gulzar’s Nazm }

Yeh kaisa ishq hai urdu zaban ka
Maza ghulta hai lafzon ka zaban par
Ki jaise pan mein mahnga qimam ghulta hai

Yeh kaisa ishq hai urdu zaban ka
Nasha aata hai urdu bolne mein
Gilauri ki tarah hain munh lagi sab istelahen
Lutf deti hai, halaq chhuti hai urdu to, halaq se jaise mai ka ghont utarta hai

Badi aristocracy hai zaban mein
Faqiri mein nawabi ka maza deti hai urdu
Agarche mani kam hote hai urdu mein
Alfaz ki ifraat hoti hai
Magar phir bhi, buland aawaz padhiye to bahut hi motbar lagti hain baaten

Kahin kuch dur se kanon mein padti hai agar urdu
To lagta hai ki din jadon ke hain khidki khuli hai, dhoop andar aa rahi hai
Ajab hai ye zaban, urdu
Kabhi kahin safar karte agar koi musafir sher padh de “Mir”, “Ghalib” ka
Wo chahe ajnabi ho, yahi lagta hai wo mere watan ka hai

Badi shaista lahje mein kisi se urdu sun kar
Kya nahi lagta ki ek tahzib ki aawaz hai Urdu. !! -Gulzar’s Nazm

ये कैसा इश्क़ है उर्दू ज़बाँ का
मज़ा घुलता है लफ़्ज़ों का ज़बाँ पर
कि जैसे पान में महँगा क़िमाम घुलता है

ये कैसा इश्क़ है उर्दू ज़बाँ का
नशा आता है उर्दू बोलने में
गिलौरी की तरह हैं मुँह लगी सब इस्तेलाहें
लुत्फ़ देती है, हलक़ छूती है उर्दू तो, हलक़ से जैसे मय का घोंट उतरता है

बड़ी अरिस्टोकरेसी है ज़बाँ में
फ़क़ीरी में नवाबी का मज़ा देती है उर्दू
अगरचे मअनी कम होते हैं उर्दू में
अल्फ़ाज़ की इफ़रात होती है
मगर फिर भी, बुलंद आवाज़ पढ़िए तो बहुत ही मोतबर लगती हैं बातें

कहीं कुछ दूर से कानों में पड़ती है अगर उर्दू
तो लगता है कि दिन जाड़ों के हैं खिड़की खुली है, धूप अंदर आ रही है
अजब है ये ज़बाँ, उर्दू
कभी कहीं सफ़र करते अगर कोई मुसाफ़िर शेर पढ़ दे “मीर”, “ग़ालिब” का
वो चाहे अजनबी हो, यही लगता है वो मेरे वतन का है

बड़ी शाइस्ता लहजे में किसी से उर्दू सुन कर
क्या नहीं लगता कि एक तहज़ीब की आवाज़ है, उर्दू !! -गुलज़ार नज़्म

 

Subah Subah Ek Khwab Ki Dastak Par Darwaza Khula Dekha..

Subah Subah Ek Khwab Ki Dastak Par Darwaza Khula Dekha.. { Dastak – Gulzar’s Nazm }

Subah subah ek khwab ki dastak par darwaza khula dekha

Subah subah ek khwab ki dastak par darwaza khula dekha
Sarhad ke us par se kuch mehman aaye hain
Aankhon se manus the sare
Chehre sare sune sunaye
Panv dhoye haath dhulaye
Aangan mein aasan lagwaye
Aur tandur pe makki ke kuch mote mote rot pakaye
Potli mein mehman mere
Pichhle salon ki faslon ka gud laye the

Aankh khuli to dekha ghar mein koi nahi tha
Haath laga kar dekha to tandur abhi tak bujha nahi tha
Aur honton par mithe gud ka zaiqa ab tak chipak raha tha

Khwab tha shayad !

Khwab hi hoga !!

Sarhad par kal raat suna hai chali thi goli
Sarhad par kal raat suna hai
Kuch khwabon ka khun hua hai.

Subah subah ek khwab ki dastak par darwaza khula dekha. !! -Gulzar’s Nazm

सुबह सुबह एक ख़्वाब की दस्तक पर दरवाज़ा खुला देखा
सरहद के उस पार से कुछ मेहमान आए हैं
आँखों से मानूस थे सारे
चेहरे सारे सुने सुनाए
पाँव धोए हाथ धुलाए
आँगन में आसन लगवाए
और तंदूर पे मक्की के कुछ मोटे मोटे रोट पकाए
पोटली में मेहमान मेरे
पिछले सालों की फ़सलों का गुड़ लाए थे

आँख खुली तो देखा घर में कोई नहीं था
हाथ लगा कर देखा तो तंदूर अभी तक बुझा नहीं था
और होंटों पर मीठे गुड़ का ज़ाइक़ा अब तक चिपक रहा था

ख़्वाब था शायद!

ख़्वाब ही होगा!!

सरहद पर कल रात सुना है चली थी गोली
सरहद पर कल रात सुना है
कुछ ख़्वाबों का ख़ून हुआ है

सुबह सुबह एक ख़्वाब की दस्तक पर दरवाज़ा खुला देखा.. !! -गुलज़ार नज़्म

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

 

Kis Qadar Sidha Sahal Saf Hai Rasta Dekho..

Kis Qadar Sidha Sahal Saf Hai Rasta Dekho.. { Akele – Gulzar’s Nazm }

Kis qadar sidha sahal saf hai rasta dekho
Na kisi shakh ka saya hai na diwar ki tek
Na kisi aankh ki aahat, na kisi chehre ka shor
Dur tak koi nahi koi nahi koi nahi

Chand qadamon ke nishan han kabhi milte hain kahin
Saath chalte hain jo kuch dur faqat chand qadam
Aur phir tut ke gir jate hain ye kahte hue
Apni tanhaai liye aap chalo tanha akele
Saath aaye jo yahan koi nahi koi nahi

Kis qadar sidha sahal saf hai rasta dekho.. !! -Gulzar’s Nazm

किस क़दर सीधा सहल साफ़ है रस्ता देखो
न किसी शाख़ का साया है न दीवार की टेक
न किसी आँख की आहट न किसी चेहरे का शोर
दूर तक कोई नहीं कोई नहीं कोई नहीं

चंद क़दमों के निशाँ हाँ कभी मिलते हैं कहीं
साथ चलते हैं जो कुछ दूर फ़क़त चंद क़दम
और फिर टूट के गिर जाते हैं ये कहते हुए
अपनी तन्हाई लिए आप चलो, तन्हा अकेले
साथ आए जो यहाँ कोई नहीं कोई नहीं

किस क़दर सीधा सहल साफ़ है रस्ता देखो.. !! -गुलज़ार नज़्म

 

Bol Ki Lab Aazad Hain Tere..

Bol Ki Lab Aazad Hain Tere.. Faiz Ahmad Faiz Nazm !

Bol Ke Lab Aazad Hain Tere

Bol ki lab aazad hain tere
Bol zaban ab tak teri hai

Tera sutwan jism hai tera
Bol ki jaan ab tak teri hai

Dekh ki aahangar ki dukan mein
Tund hain shoale surkh hai aahan
Khulne lage quflon ke dahane
Phaila har ek zanjir ka daman

Bol ye thoda waqt bahut hai
Jism-o-zaban ki maut se pahle

Bol ki sach zinda hai ab tak
Bol jo kuch kahna hai kah le. !!

Faiz Ahmad Faiz Nazm

 

बोल कि लब आज़ाद हैं तेरे
बोल ज़बाँ अब तक तेरी है

तेरा सुतवाँ जिस्म है तेरा
बोल कि जाँ अब तक् तेरी है

देख के आहंगर की दुकाँ में
तुंद हैं शोले सुर्ख़ है आहन
खुलने लगे क़ुफ़्फ़लों के दहाने
फैला हर एक ज़न्जीर का दामन

बोल ये थोड़ा वक़्त बहोत है
जिस्म-ओ-ज़बाँ की मौत से पहले

बोल कि सच ज़िंदा है अब तक
बोल जो कुछ कहने है कह ले !!

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ नज़्म

 

Main Rozgaar Ke Silsile Mein..

Main Rozgaar Ke Silsile Mein.. Gulzar’s Nazm !

Main Rozgaar Ke Silsile Mein

Main rozgaar ke silsile mein
Kabhi kabhi uske shehar jata hun
To guzarta hun us gali se..

Wo neem taariq si gali
Aur usike nukkad pe unghata sa purana khambha
Usi ke niche tamam shab intezaar karke
Main chhod aaya tha shehar uska..

Bahot hi khasta si roshni ki chhadi ko teke
Wo khambha ab bhi wahi khada hai..

Phitur hai ye magar
Main khambhe ke paas jakar
Nazar bachake mohalle walon ki
Puch leta hun aaj bhi ye..

Wo mere jaane ke bad bhi aayi to nahi thi
Wo aayi thi kya.. ??

मैं रोजगार के सिलसिले में
कभी कभी उसके शहर जाता हूँ
तो गुज़रता हूँ उस गली से..

वो नीम तारीक सी गली
और उसी के नुक्कड़ पे ऊंघता सा पुराना खम्भा
उसी के नीचे तमाम सब इंतज़ार कर के
मैं छोड़ आया था शहर उसका..

बहुत ही खस्ता सी रौशनी की छड़ी को टेके
वो खम्बा अब भी वही खड़ा है..

फितूर है ये मगर
मैं खम्बे के पास जा कर
नज़र बचा के मोहल्ले वालों की
पूछ लेता हूँ आज भी ये..

वो मेरे जाने के बाद भी आई तो नहीं थी
वो आई थी क्या.. ??

– Gulzar Poetry / Ghazal / Shayari / Nazm

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

Kabhi Kabhi Mere Dil Mein Khayal Aata Hai..

Kabhi kabhi mere dil mein khayal aata hai…

Ki zindagi teri zulfon ki narm chhanw mein
Guzarne pati to shadab ho bhi sakti thi
Ye tirgi jo meri zist ka muqaddar hai
Teri nazar ki shuaon mein kho bhi sakti thi..

Ajab na tha ki main begana-e-alam ho kar
Tere jamal ki ranaiyon mein kho rahta
Tera gudaz-badan teri nim-baz aankhen
Inhi hasin fasanon mein mahw ho rahta..

Pukartin mujhe jab talkhiyan zamane ki
Tere labon se halawat ke ghunt pi leta
Hayat chikhti phirti barahna sar aur main
Ghaneri zulfon ke saye mein chhup ke ji leta..

Magar ye ho na saka aur ab ye aalam hai
Ki tu nahin tera gham teri justuju bhi nahin
Guzar rahi hai kuchh is tarah zindagi jaise
Ise kisi ke sahaare ki aarzoo bhi nahin..

Zamane bhar ke dukhon ko laga chuka hun gale
Guzar raha hun kuchh an-jaani rahguzaron se
Muhib saye meri samt badhte aate hain
Hayat o maut ke pur-haul kharzaron se..

Na koi jada-e-manzil na raushni ka suragh
Bhatak rahi hai khalaon mein zindagi meri
Inhi khalaon mein rah jaunga kabhi kho kar
Main janta hun meri ham-nafas magar yunhi..

Kabhi kabhi mere dil mein khayal aata hai…

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है…

कि ज़िंदगी तेरी ज़ुल्फ़ों की नर्म छाँव में
गुज़रने पाती तो शादाब हो भी सकती थी
ये तीरगी जो मेरी ज़ीस्त का मुक़द्दर है
तेरी नज़र की शुआ’ओं में खो भी सकती थी..

अजब न था कि मैं बेगाना-ए-अलम हो कर
तेरे जमाल की रानाइयों में खो रहता
तेरा गुदाज़-बदन तेरी नीम-बाज़ आँखें
इन्ही हसीन फ़सानों में महव हो रहता..

पुकारतीं मुझे जब तल्ख़ियाँ ज़माने की
तेरे लबों से हलावत के घूँट पी लेता
हयात चीख़ती फिरती बरहना सर और मैं
घनेरी ज़ुल्फ़ों के साए में छुप के जी लेता..

मगर ये हो न सका और अब ये आलम है
कि तू नहीं तेरा ग़म तेरी जुस्तुजू भी नहीं
गुज़र रही है कुछ इस तरह ज़िंदगी जैसे
इसे किसी के सहारे की आरज़ू भी नहीं..

ज़माने भर के दुखों को लगा चुका हूँ गले
गुज़र रहा हूँ कुछ अन-जानी रहगुज़ारों से
मुहीब साए मेरी सम्त बढ़ते आते हैं
हयात ओ मौत के पुर-हौल ख़ारज़ारों से..

न कोई जादा-ए-मंज़िल न रौशनी का सुराग़
भटक रही है ख़लाओं में ज़िंदगी मेरी
इन्ही ख़लाओं में रह जाऊँगा कभी खो कर
मैं जानता हूँ मेरी हम-नफ़स मगर यूँही..

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है…

Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Kitaben Jhankti Hain Band Almari Ke Sheeshon Se..

Kitaben jhankti hain band almari ke sheeshon se
Badi hasrat se takti hain
Mahinon ab mulaqaten nahi hotin
Jo shamen un ki sohbat mein kata karti thin, ab aksar
Guzar jati hain computer ke pardon par
Badi bechain rahti hain kitaben
Unhen ab nind mein chalne ki aadat ho gayi hai
Badi hasrat se takti hain
Jo qadren wo sunati thin
Ki jin ke cell kabhi marte nahin the
Wo qadren ab nazar aati nahin ghar mein
Jo rishte wo sunati thin
Wo sare udhde udhde hain..

Koi safha palatta hun to ek siski nikalti hai
Kai lafzon ke mani gir pade hain
Bina patton ke sukhe tund lagte hain wo sab alfaz
Jin par ab koi mani nahin ugte
Bahut si istelahen hain..

Jo mitti ke sakoron ki tarah bikhri padi hain
Gilason ne unhen matruk kar dala
Zaban par zaiqa aata tha jo safhe palatne ka
Ab ungli click karne se bas ek
Jhapki guzarti hai
Bahut kuchh tah-ba-tah khulta chala jata hai parde par..

Kitabon se jo zati rabta tha kat gaya hai
Kabhi sine pe rakh ke let jate the
Kabhi godi mein lete the
Kabhi ghutnon ko apne rehl ki surat bana kar
Nim sajde mein padha karte the chhute the jabin se..

Wo sara ilm to milta rahega aainda bhi
Magar wo jo kitabon mein mila karte the sukhe phool aur
Mahke hue ruqe
Kitaben mangne girne uthane ke bahane rishte bante the
Un ka kya hoga
Wo shayad ab nahin honge.. !!

किताबें झाँकती हैं बंद अलमारी के शीशों से
बड़ी हसरत से तकती हैं
महीनों अब मुलाक़ातें नहीं होतीं
जो शामें उन की सोहबत में कटा करती थीं, अब अक्सर
गुज़र जाती हैं कम्पयूटर के पर्दों पर
बड़ी बेचैन रहती हैं किताबें
उन्हें अब नींद में चलने की आदत हो गई है
बड़ी हसरत से तकती हैं
जो क़द्रें वो सुनाती थीं
कि जिन के सेल कभी मरते नहीं थे
वो क़द्रें अब नज़र आती नहीं घर में
जो रिश्ते वो सुनाती थीं
वो सारे उधड़े उधड़े हैं..

कोई सफ़्हा पलटता हूँ तो इक सिसकी निकलती है
कई लफ़्ज़ों के मअ’नी गिर पड़े हैं
बिना पत्तों के सूखे तुंड लगते हैं वो सब अल्फ़ाज़
जिन पर अब कोई मअ’नी नहीं उगते
बहुत सी इस्तेलाहें हैं..

जो मिट्टी के सकोरों की तरह बिखरी पड़ी हैं
गिलासों ने उन्हें मतरूक कर डाला
ज़बाँ पर ज़ाइक़ा आता था जो सफ़्हे पलटने का
अब उँगली क्लिक करने से बस इक
झपकी गुज़रती है
बहुत कुछ तह-ब-तह खुलता चला जाता है पर्दे पर..

किताबों से जो ज़ाती राब्ता था कट गया है
कभी सीने पे रख के लेट जाते थे
कभी गोदी में लेते थे
कभी घुटनों को अपने रेहल की सूरत बना कर
नीम सज्दे में पढ़ा करते थे छूते थे जबीं से..

वो सारा इल्म तो मिलता रहेगा आइंदा भी
मगर वो जो किताबों में मिला करते थे सूखे फूल और
महके हुए रुकए
किताबें माँगने गिरने उठाने के बहाने रिश्ते बनते थे
उन का क्या होगा
वो शायद अब नहीं होंगे.. !! – Gulzar