Tuesday , November 24 2020

Nazms

Nazm (Urdu نظم) is a major part of the Urdu poetry, that is normally written in rhymed verse and also in modern prose style poems.

While writing Nazm, it is not important to follow any rules as it depends on the writer himself. A Nazm can be long or short and even there are no considerations being taken into account, specifically about its size or rhyming scheme. All the verses written in a Nazm are interlinked together. In simple words, Nazm is a form of a descriptive poetry.

Kandhe Jhuk Jate Hain Jab Bojh Se Is Lambe Safar Ke..

Kandhe Jhuk Jate Hain Jab Bojh Se Is Lambe Safar Ke.. Gulzar Nazm !

Kandhe jhuk jate hain jab bojh se is lambe safar ke
Hanp jata hun main jab chadhte hue tez chadhanen
Sansen rah jati hain jab sine mein ek guchcha sa ho kar
Aur lagta hai ki dam tut hi jayega yahin par

Ek nannhi si meri nazm samne aa kar
Mujhse kahti hai mera haath pakad kar mere shayar
La mere kandhon par rakh de, main tera bojh utha lun. !! -Gulzar Nazm

कंधे झुक जाते हैं जब बोझ से इस लम्बे सफ़र के
हाँप जाता हूँ मैं जब चढ़ते हुए तेज़ चढ़ानें
साँसें रह जाती हैं जब सीने में एक गुच्छा सा हो कर
और लगता है कि दम टूट ही जाएगा यहीं पर

एक नन्ही सी मेरी नज़्म सामने आ कर
मुझसे कहती है मेरा हाथ पकड़ कर, मेरे शायर
ला मेरे कंधों पर रख दे, मैं तेरा बोझ उठा लूँ !! -गुलज़ार नज़्म

 

Subah Se Shaam Hui Aur Hiran Mujhko Chhalawe Deta..

Subah Se Shaam Hui Aur Hiran Mujhko Chhalawe Deta.. Gulzar Nazm !

Subah se shaam hui aur hiran mujhko chhalawe deta
Sare jangal mein pareshan kiye ghum raha hai ab tak
Uski gardan ke bahut pas se guzre hain kai tir mere
Wo bhi ab utna hi hushyar hai jitna main hun
Ek jhalak de ke jo gum hota hai wo pedon mein
Main wahan pahunchun to tile pe kabhi chashme ke us par nazar aata hai
Wo nazar rakhta hai mujh par
Main use aankh se ojhal nahi hone deta

Kaun daudaye hue hai kisko
Kaun ab kis ka shikari hai pata hi nahi chalta

Subah utra tha main jangal mein
To socha tha ki us shokh hiran ko
Neze ki nok pe parcham ki tarah tan ke main shehar mein dakhil hunga
Din magar dhalne laga hai
Dil mein ek khauf sa ab baith raha hai
Ki bil-akhir ye hiran hi
Mujhe singon par uthaye hue ek ghaar mein dakhil hoga. !! -Gulzar Nazm

सुबह से शाम हुई और हिरन मुझ को छलावे देता
सारे जंगल में परेशान किए घूम रहा है अब तक
उसकी गर्दन के बहुत पास से गुज़रे हैं कई तीर मेरे
वो भी अब उतना ही हुश्यार है जितना मैं हूँ
एक झलक दे के जो गुम होता है वो पेड़ों में
मैं वहाँ पहुँचूँ तो टीले पे कभी चश्मे के उस पार नज़र आता है
वो नज़र रखता है मुझ पर
मैं उसे आँख से ओझल नहीं होने देता

कौन दौड़ाए हुए है किसको
कौन अब किस का शिकारी है पता ही नहीं चलता

सुबह उतरा था मैं जंगल में
तो सोचा था कि उस शोख़ हिरन को
नेज़े की नोक पे परचम की तरह तान के मैं शहर में दाख़िल हूँगा
दिन मगर ढलने लगा है
दिल में एक ख़ौफ़ सा अब बैठ रहा है
कि बिल-आख़िर ये हिरन ही
मुझे सींगों पर उठाए हुए एक ग़ार में दाख़िल होगा !! -गुलज़ार नज़्म

 

Waqt Ko Aate Na Jate Na Guzarte Dekha..

Waqt Ko Aate Na Jate Na Guzarte Dekha.. { Boski – Gulzar Nazm } !

Waqt ko aate na jate na guzarte dekha
Na utarte hue dekha kabhi ilham ki surat
Jama hote hue ek jagah magar dekha hai

Shayad aaya tha wo khwabon se dabe panv hi
Aur jab aaya khayalon ko bhi ehsas na tha
Aankh ka rang tulua hote hue dekha jis din
Maine chuma tha magar waqt ko pahchana na tha

Chand tutlaye hue bolon mein aahat bhi suni
Dudh ka dant gira tha to wahan bhi dekha
Boski beti meri chikni si resham ki dali
Lipti-liptai hui reshmi tangon mein padi thi
Mujhko ehsaas nahi tha ki wahan waqt pada hai
Palna khol ke jab maine utara tha use bistar par
Lori ke bolon se ek bar chhua tha usko
Badhte nakhunon mein har bar tarasha bhi tha

Chudiyan chadhti utarti thin kalai pe musalsal
Aur hathon se utarti kabhi chadhti thin kitaben
Mujhko malum nahi tha ki wahan waqt likha hai
Waqt ko aate na jate na guzarte dekha
Jama hote hue dekha magar usko maine
Is baras boski athaarah baras ki hogi. !! -Gulzar Nazm

वक़्त को आते न जाते न गुज़रते देखा
न उतरते हुए देखा कभी इल्हाम की सूरत
जमा होते हुए एक जगह मगर देखा है

शायद आया था वो ख़्वाबों से दबे पाँव ही
और जब आया ख़यालों को भी एहसास न था
आँख का रंग तुलुआ होते हुए देखा जिस दिन
मैंने चूमा था मगर वक़्त को पहचाना न था

चंद तुतलाए हुए बोलों में आहट भी सुनी
दूध का दाँत गिरा था तो वहाँ भी देखा
बोसकी बेटी मेरी चिकनी सी रेशम की डली
लिपटी-लिपटाई हुई रेशमी टांगों में पड़ी थी
मुझको एहसास नहीं था कि वहाँ वक़्त पड़ा है
पालना खोल के जब मैंने उतारा था उसे बिस्तर पर
लोरी के बोलों से एक बार छुआ था उसको
बढ़ते नाख़ूनों में हर बार तराशा भी था

चूड़ियाँ चढ़ती उतरती थीं कलाई पे मुसलसल
और हाथों से उतरती कभी चढ़ती थीं किताबें
मुझको मालूम नहीं था कि वहाँ वक़्त लिखा है
वक़्त को आते न जाते न गुज़रते देखा
जमा होते हुए देखा मगर उसको मैंने
इस बरस बोसकी अठारह बरस की होगी !! -गुलज़ार नज़्म

 

Dil Mein Aise Thahar Gaye Hain Gham..

Dil Mein Aise Thahar Gaye Hain Gham.. Gulzar Nazm !

Dil mein aise thahar gaye hain gham

Dil mein aise thahar gaye hain gham
Jaise jangal mein shaam ke saye
Jate jate sahm ke ruk jayen
Mar ke dekhen udaas rahon par
Kaise bujhte hue ujalon mein
Dur tak dhul hi dhul udti hai !! -Gulzar Nazm

दिल में ऐसे ठहर गए हैं ग़म
जैसे जंगल में शाम के साए
जाते जाते सहम के रुक जाएँ
मर के देखें उदास राहों पर
कैसे बुझते हुए उजालों में
दूर तक धूल ही धूल उड़ती है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Tukda Ek Nazm Ka..

Tukda Ek Nazm Ka.. Gulzar Nazm !

Tukda ek nazm ka
Din bhar meri sanson mein sarakta hi raha
Lab pe aaya to zaban katne lagi
Dant se pakda to lab chhilne lage
Na to phenka hi gaya munh se, na nigla hi gaya
Kanch ka tukda atak jaye halaq mein jaise

Tukda wo nazm ka sanson mein sarakta hi raha. !! -Gulzar Nazm

टुकड़ा इक नज़्म का
दिन भर मेरी साँसों में सरकता ही रहा
लब पे आया तो ज़बाँ कटने लगी
दाँत से पकड़ा तो लब छिलने लगे
न तो फेंका ही गया मुँह से, न निगला ही गया
काँच का टुकड़ा अटक जाए हलक़ में जैसे

टुकड़ा वो नज़्म का साँसों में सरकता ही रहा !! -गुलज़ार नज़्म

 

Ghutan Gulzar Nazm

Ghutan Gulzar Nazm !

Ji mein aata hai ki is kan se surakh karun
Khinch kar dusri jaanib se nikalun usko
Sari ki sari nichodun ye ragen, saf karun
Bhar dun resham ki jalai hui bukki in mein

Qahqahati hui is bhid mein shamil ho kar
Main bhi ek bar hansun, khub hansun, khub hansun. !! -Gulzar Nazm

जी में आता है कि इस कान से सूराख़ करूँ
खींच कर दूसरी जानिब से निकालूँ उसको
सारी की सारी निचोड़ूँ ये रगें, साफ़ करूँ
भर दूँ रेशम की जलाई हुई बुक्की इन में

क़हक़हाती हुई इस भीड़ में शामिल हो कर
मैं भी इक बार हँसूँ, ख़ूब हँसूँ, ख़ूब हँसूँ !! -गुलज़ार नज़्म

 

Barish Hoti Hai To Pani Ko Bhi Lag Jate Hain Panw..

Barish Hoti Hai To Pani Ko Bhi Lag Jate Hain Panw.. Gulzar Nazm !

Barish hoti hai to pani ko bhi lag jate hain panw
Dar-o-diwar se takra ke guzarta hai gali se
Aur uchhalta hai chhapakon mein
Kisi match mein jite hue ladkon ki tarah

Jeet kar aate hain jab match gali ke ladke
Jute pahne hue canwas ke uchhalte hue gendon ki tarah
Dar-o-diwar se takra ke guzarte hain
Wo pani ke chhapakon ki tarah. !! -Gulzar Nazm

बारिश होती है तो पानी को भी लग जाते हैं पाँव
दर-ओ-दीवार से टकरा के गुज़रता है गली से
और उछलता है छपाकों में
किसी मैच में जीते हुए लड़कों की तरह

जीत कर आते हैं जब मैच गली के लड़के
जूते पहने हुए कैनवस के उछलते हुए गेंदों की तरह
दर-ओ-दीवार से टकरा के गुज़रते हैं
वो पानी के छपाकों की तरह !! -गुलज़ार नज़्म

 

Dhundlai Hui Sham Thi..

Dhundlai Hui Sham Thi.. { Hirasat – Gulzar Nazm } !

Dhundlai hui sham thi
Alsai hui si
Aur waqt bhi basi tha main jab shehar mein aaya
Har shakh se lipte hue sannate khade the
Diwaron se chipki hui khamoshi padi thi
Rahon mein nafas koi na parchhain na saya
Un galiyon mein kuchon mein, andhera na ujala
Darwazon ke pat band the, khali the dariche
Bas waqt ke kuch basi se tukde the, pade the

Main ghumta phirta tha sar-e-shehar akela
Darwazon pe aawaz lagata tha koi hai ?
Har mod pe ruk jaata tha shayad koi aaye
Lekin koi aahat, koi saya bhi na aaya

Ye shehar achanak hi magar jag pada hai
Aawazen hirasat mein liye mujh ko khadi hain
Aawazon ke is shehar mein main qaid pada hun. !! -Gulzar Nazm

धुँदलाई हुई शाम थी
अलसाई हुई सी
और वक़्त भी बासी था मैं जब शहर में आया
हर शाख़ से लिपटे हुए सन्नाटे खड़े थे
दीवारों से चिपकी हुई ख़ामोशी पड़ी थी
राहों में नफ़्स कोई न परछाईं न साया
उन गलियों में कूचों में, अंधेरा न उजाला
दरवाज़ों के पट बंद थे, ख़ाली थे दरीचे
बस वक़्त के कुछ बासी से टुकड़े थे, पड़े थे

मैं घूमता फिरता था सर-ए-शहर अकेला
दरवाज़ों पे आवाज़ लगाता था, कोई है ?
हर मोड़ पे रुक जाता था शायद कोई आए
लेकिन कोई आहट, कोई साया भी न आया

ये शहर अचानक ही मगर जाग पड़ा है
आवाज़ें हिरासत में लिए मुझ को खड़ी हैं
आवाज़ों के इस शहर में मैं क़ैद पड़ा हूँ !! -गुलज़ार नज़्म

 

Khalaon Mein Tairte Jaziron Pe Champai Dhup..

Khalaon Mein Tairte Jaziron Pe Champai Dhup.. Gulzar Nazm !

Khalaon mein tairte jaziron pe champai dhup
Dekh kaise baras rahi hai !
Mahin kohra simat raha hai
Hatheliyon mein abhi talak
Tere narm chehre ka lams aise chhalak raha hai
Ki jaise subah ko ok mein bhar liya ho maine
Bas ek maddham si raushni
Mere haathon pairon mein bah rahi hai

Tere labon pe zaban rakh kar
Main nur ka wo hasin qatra bhi pi gaya hun
Jo teri ujli dhuli hui ruh se phisal kar tere labon par
Thahar gaya tha. !! -Gulzar Nazm

ख़लाओं में तैरते जज़ीरों पे चम्पई धूप
देख कैसे बरस रही है !
महीन कोहरा सिमट रहा है
हथेलियों में अभी तलक
तेरे नर्म चेहरे का लम्स ऐसे छलक रहा है
कि जैसे सुब्ह को ओक में भर लिया हो मैंने
बस एक मद्धम सी रौशनी
मेरे हाथों पैरों में बह रही है

तेरे लबों पे ज़बान रख कर
मैं नूर का वो हसीन क़तरा भी पी गया हूँ
जो तेरी उजली धुली हुई रूह से फिसल कर तेरे लबों पर
ठहर गया था !! -गुलज़ार नज़्म

 

Apni Marzi Se To Mazhab Bhi Nahi Usne Chuna Tha..

Apni Marzi Se To Mazhab Bhi Nahi Usne Chuna Tha.. { Wirasat – Gulzar Nazm } !

Apni marzi se to mazhab bhi nahi usne chuna tha
Uska mazhab tha jo maa-bap se hi usne wirasat mein liya tha

Apne maa-bap chune koi ye mumkin hi kahan hai ?
Us pe ye mulk bhi lazim tha ki maa-bap ka ghar tha is mein
Ye watan uska chunav to nahi tha

Wo to kal nau hi baras ka tha use kyun chun kar
Firqa-warana fasadat ne kal qatal kiya, !! -Gulzar Nazm

अपनी मर्ज़ी से तो मज़हब भी नहीं उसने चुना था
उसका मज़हब था जो माँ-बाप से ही उसने विरासत में लिया था

अपने माँ बाप चुने कोई ये मुमकिन ही कहाँ है ?
उस पे ये मुल्क भी लाज़िम था कि माँ-बाप का घर था इस में
ये वतन उसका चुनाव तो नहीं था

वो तो कल नौ ही बरस का था उसे क्यूँ चुन कर
फ़िर्का-वाराना फ़सादात ने कल क़त्ल किया !! -गुलज़ार नज़्म