Thursday , September 24 2020

Nazms

Nazm (Urdu نظم) is a major part of the Urdu poetry, that is normally written in rhymed verse and also in modern prose style poems.

While writing Nazm, it is not important to follow any rules as it depends on the writer himself. A Nazm can be long or short and even there are no considerations being taken into account, specifically about its size or rhyming scheme. All the verses written in a Nazm are interlinked together. In simple words, Nazm is a form of a descriptive poetry.

Waqt Ki Aankh Pe Patti Bandh Ke Khel Rahe The Aankh Micholi..

Waqt Ki Aankh Pe Patti Bandh Ke Khel Rahe The Aankh Micholi.. { Waqt 2 – Gulzar Nazm } !

Waqt ki aankh pe patti bandh ke khel rahe the aankh micholi
Raat aur din aur chaand aur main
Jaane kaise kainat mein atka panv
Dur gira ja kar main jaise
Raushni se dhakka kha ke parchhain zameen par girti hai. !

Dhayya chhune se pahle hi
Waqt ne chor kaha aur aankhen khol ke mujh ko pakad liya. !! -Gulzar Nazm

वक़्त की आँख पे पट्टी बाँध के खेल रहे थे आँख मिचोली
रात और दिन और चाँद और मैं
जाने कैसे काएनात में अटका पाँव
दूर गिरा जा कर मैं जैसे
रौशनी से धक्का खा के परछाईं ज़मीं पर गिरती है !

धय्या छूने से पहले ही
वक़्त ने चोर कहा और आँखें खोल के मुझ को पकड़ लिया !! -गुलज़ार नज़्म

 

Raat Ko Aksar Hota Hai Parwane Aa Kar..

Raat Ko Aksar Hota Hai Parwane Aa Kar.. { Ghalib – Gulzar Nazm } !

Raat ko aksar hota hai parwane aa kar
Table lamp ke gard ikatthe ho jate hain
Sunte hain sar dhunte hain
Sun ke sab ashaar ghazal ke
Jab bhi main diwan-e-ghalib khol ke padhne baithta hun
Subah phir diwan ke raushan safhon se
Parwanon ki rakh uthani padti hai. !! -Gulzar Nazm

रात को अक्सर होता है परवाने आ कर
टेबल लैम्प के गर्द इकट्ठे हो जाते हैं
सुनते हैं सर धुनते हैं
सुन के सब अशआर ग़ज़ल के
जब भी मैं दीवान-ए-ग़ालिब खोल के पढ़ने बैठता हूँ
सुबह फिर दीवान के रौशन सफ़्हों से
परवानों की राख उठानी पड़ती है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Ek Pashemani Rahti Hai..

Ek Pashemani Rahti Hai.. { Uljhan – Gulzar Nazm } !

Ek pashemani rahti hai
Uljhan aur girani bhi
Aao phir se lad kar dekhen
Shayad us se behtar koi aur sabab mil jaye humko
Phir se alag ho jaane ka. !! Gulzar Nazm

एक पशेमानी रहती है
उलझन और गिरानी भी
आओ फिर से लड़ कर देखें
शायद उस से बेहतर कोई और सबब मिल जाए हमको
फिर से अलग हो जाने का !! -गुलज़ार नज़्म

 

Main Bhi Us Hall Mein Baitha Tha..

Main Bhi Us Hall Mein Baitha Tha.. Gulzar Nazm !

Main bhi us hall mein baitha tha
Jahan parde pe ek film ke kirdar
Zinda-jawed nazar aate the
Unki har baat badi, soch badi, karm bade
Unka har ek amal
Ek tamsil thi bas dekhne walon ke liye
Main adakar tha us mein
Tum adakara thi
Apne mahbub ka jab haath pakad kar tumne
Zindagi ek nazar mein bhar ke
Uske sine pe bas ek aansoo se likh kar de di

Kitne sachche the wo kirdar
Jo parde par the
Kitne farzi the wo do haal mein baithe saye. !! -Gulzar Nazm

मैं भी उस हॉल में बैठा था
जहाँ पर्दे पे एक फ़िल्म के किरदार
ज़िंदा-जावेद नज़र आते थे
उनकी हर बात बड़ी, सोच बड़ी, कर्म बड़े
उनका हर एक अमल
एक तमसील थी बस देखने वालों के लिए
मैं अदाकार था उस में
तुम अदाकारा थीं
अपने महबूब का जब हाथ पकड़ कर तुमने
ज़िंदगी एक नज़र में भर के
उसके सीने पे बस एक आँसू से लिख कर दे दी

कितने सच्चे थे वो किरदार
जो पर्दे पर थे
कितने फ़र्ज़ी थे वो दो हाल में बैठे साए !! -गुलज़ार नज़्म

 

Tumhaare Honton Ki Thandi Thandi Tilawaten..

Tumhaare Honton Ki Thandi Thandi Tilawaten.. { Takhliq – Gulzar Nazm } !

Tumhaare honton ki thandi thandi tilawaten
Jhuk ke meri aankhon ko chhu rahi hain
Main apne honton se chun raha hun tumhaari sanson ki aayaton ko
Ki jism ke is hasin kabe pe rooh sajde bichha rahi hai
Wo ek lamha bada muqaddas tha jis mein tum janm le rahi thi
Wo ek lamha bada muqaddas tha jis mein main janm le raha tha
Ye ek lamha bada muqaddas hai jis ko hum janm de rahe hain
Khuda ne aise hi ek lamhe mein socha hoga
Hayat takhliq kar ke lamhe ke lams ko jawedan bhi kar de. !! -Gulzar Nazm

तुम्हारे होंटों की ठंडी ठंडी तिलावतें
झुक के मेरी आँखों को छू रही हैं
मैं अपने होंटों से चुन रहा हूँ तुम्हारी साँसों की आयतों को
कि जिस्म के इस हसीन काबे पे रूह सज्दे बिछा रही है
वो एक लम्हा बड़ा मुक़द्दस था जिस में तुम जन्म ले रही थीं
वो एक लम्हा बड़ा मुक़द्दस था जिस में मैं जन्म ले रहा था
ये एक लम्हा बड़ा मुक़द्दस है जिस को हम जन्म दे रहे हैं
ख़ुदा ने ऐसे ही एक लम्हे में सोचा होगा
हयात तख़्लीक़ कर के लम्हे के लम्स को जावेदाँ भी कर दे !! -गुलज़ार नज़्म

 

Raat Kal Gahri Nind Mein Thi Jab..

Raat Kal Gahri Nind Mein Thi Jab.. Gulzar Nazm !

Raat kal gahri nind mein thi jab
Ek taza safed canwas par
Aatishin lal surkh rangon se
Maine raushan kiya tha ek sooraj…

Subh tak jal gaya tha wo canwas
Rakh bikhri hui thi kamre mein. !! -Gulzar Nazm

रात कल गहरी नींद में थी जब
एक ताज़ा सफ़ेद कैनवस पर
आतिशीं लाल सुर्ख़ रंगों से
मैंने रौशन किया था इक सूरज…

सुबह तक जल गया था वो कैनवस
राख बिखरी हुई थी कमरे में !! -गुलज़ार नज़्म

 

Main Kaenat Mein Sayyaron Mein Bhatakta Tha..

Main Kaenat Mein Sayyaron Mein Bhatakta Tha.. Gulzar Nazm !

Main kaenat mein sayyaron mein bhatakta tha
Dhuen mein dhul mein uljhi hui kiran ki tarah
Main is zameen pe bhatakta raha hun sadiyon tak
Gira hai waqt se kat kar jo lamha us ki tarah

Watan mila to gali ke liye bhatakta raha
Gali mein ghar ka nishan dhundta raha barson
Tumhaari rooh mein ab jism mein bhatakta hun

Labon se chum lo aankhon se tham lo mujhko
Tumhaari kokh se janmun to phir panah mile. !! -Gulzar Nazm

मैं काएनात में सय्यारों में भटकता था
धुएँ में धूल में उलझी हुई किरन की तरह
मैं इस ज़मीं पे भटकता रहा हूँ सदियों तक
गिरा है वक़्त से कट कर जो लम्हा उस की तरह

वतन मिला तो गली के लिए भटकता रहा
गली में घर का निशाँ ढूँडता रहा बरसों
तुम्हारी रूह में अब जिस्म में भटकता हूँ

लबों से चूम लो आँखों से थाम लो मुझको
तुम्हारी कोख से जन्मूँ तो फिर पनाह मिले !! -गुलज़ार नज़्म

 

Chaand Kyun Abr Ki Us Maili Si Gathri Mein Chhupa Tha..

Chaand Kyun Abr Ki Us Maili Si Gathri Mein Chhupa Tha.. { Ek Daur – Gulzar Nazm } !

Chaand kyun abr ki us maili si gathri mein chhupa tha
Us ke chhupte hi andheron ke nikal aaye the nakhun
Aur jangal se guzarte hue masum musafir
Apne chehron ko kharonchon se bachane ke liye chikh pade the

Chaand kyun abr ki us maili si gathri mein chhupa tha
Us ke chhupte hi utar aaye the shakhon se latakte hue
Aaseb the jitne
Aur jangal se guzarte hue rahgiron ne gardan mein utarte
Hue danton se suna tha
Par jaana hai to pine ko lahu dena padega

Chaand kyun abr ki us maili si gathri mein chhupa tha
Khun se luthdi hui raat ke rahgiron ne do zanu pa gir kar,
Raushni, raushni ! chillaya tha, dekha tha falak ki jaanib,
Chaand ne gathri se ek haath nikala tha, dikhaya tha chamakta hua khanjar. !! -Gulzar Nazm

चाँद क्यूँ अब्र की उस मैली सी गठरी में छुपा था
उस के छुपते ही अंधेरों के निकल आए थे नाख़ुन
और जंगल से गुज़रते हुए मासूम मुसाफ़िर
अपने चेहरों को खरोंचों से बचाने के लिए चीख़ पड़े थे

चाँद क्यूँ अब्र की उस मैली सी गठरी में छुपा था
उस के छुपते ही उतर आए थे शाख़ों से लटकते हुए
आसेब थे जितने
और जंगल से गुज़रते हुए राहगीरों ने गर्दन में उतरते
हुए दाँतों से सुना था
पार जाना है तो पीने को लहू देना पड़ेगा

चाँद क्यूँ अब्र की उस मैली सी गठरी में छुपा था
ख़ून से लुथड़ी हुई रात के राहगीरों ने दो ज़ानू प गिर कर,
रौशनी, रौशनी ! चिल्लाया था, देखा था फ़लक की जानिब,
चाँद ने गठरी से एक हाथ निकाला था, दिखाया था चमकता हुआ ख़ंजर !! -गुलज़ार नज़्म

 

Kandhe Jhuk Jate Hain Jab Bojh Se Is Lambe Safar Ke..

Kandhe Jhuk Jate Hain Jab Bojh Se Is Lambe Safar Ke.. Gulzar Nazm !

Kandhe jhuk jate hain jab bojh se is lambe safar ke
Hanp jata hun main jab chadhte hue tez chadhanen
Sansen rah jati hain jab sine mein ek guchcha sa ho kar
Aur lagta hai ki dam tut hi jayega yahin par

Ek nannhi si meri nazm samne aa kar
Mujhse kahti hai mera haath pakad kar mere shayar
La mere kandhon par rakh de, main tera bojh utha lun. !! -Gulzar Nazm

कंधे झुक जाते हैं जब बोझ से इस लम्बे सफ़र के
हाँप जाता हूँ मैं जब चढ़ते हुए तेज़ चढ़ानें
साँसें रह जाती हैं जब सीने में एक गुच्छा सा हो कर
और लगता है कि दम टूट ही जाएगा यहीं पर

एक नन्ही सी मेरी नज़्म सामने आ कर
मुझसे कहती है मेरा हाथ पकड़ कर, मेरे शायर
ला मेरे कंधों पर रख दे, मैं तेरा बोझ उठा लूँ !! -गुलज़ार नज़्म

 

Subah Se Shaam Hui Aur Hiran Mujhko Chhalawe Deta..

Subah Se Shaam Hui Aur Hiran Mujhko Chhalawe Deta.. Gulzar Nazm !

Subah se shaam hui aur hiran mujhko chhalawe deta
Sare jangal mein pareshan kiye ghum raha hai ab tak
Uski gardan ke bahut pas se guzre hain kai tir mere
Wo bhi ab utna hi hushyar hai jitna main hun
Ek jhalak de ke jo gum hota hai wo pedon mein
Main wahan pahunchun to tile pe kabhi chashme ke us par nazar aata hai
Wo nazar rakhta hai mujh par
Main use aankh se ojhal nahi hone deta

Kaun daudaye hue hai kisko
Kaun ab kis ka shikari hai pata hi nahi chalta

Subah utra tha main jangal mein
To socha tha ki us shokh hiran ko
Neze ki nok pe parcham ki tarah tan ke main shehar mein dakhil hunga
Din magar dhalne laga hai
Dil mein ek khauf sa ab baith raha hai
Ki bil-akhir ye hiran hi
Mujhe singon par uthaye hue ek ghaar mein dakhil hoga. !! -Gulzar Nazm

सुबह से शाम हुई और हिरन मुझ को छलावे देता
सारे जंगल में परेशान किए घूम रहा है अब तक
उसकी गर्दन के बहुत पास से गुज़रे हैं कई तीर मेरे
वो भी अब उतना ही हुश्यार है जितना मैं हूँ
एक झलक दे के जो गुम होता है वो पेड़ों में
मैं वहाँ पहुँचूँ तो टीले पे कभी चश्मे के उस पार नज़र आता है
वो नज़र रखता है मुझ पर
मैं उसे आँख से ओझल नहीं होने देता

कौन दौड़ाए हुए है किसको
कौन अब किस का शिकारी है पता ही नहीं चलता

सुबह उतरा था मैं जंगल में
तो सोचा था कि उस शोख़ हिरन को
नेज़े की नोक पे परचम की तरह तान के मैं शहर में दाख़िल हूँगा
दिन मगर ढलने लगा है
दिल में एक ख़ौफ़ सा अब बैठ रहा है
कि बिल-आख़िर ये हिरन ही
मुझे सींगों पर उठाए हुए एक ग़ार में दाख़िल होगा !! -गुलज़ार नज़्म