Thursday , January 28 2021

Nazms

Nazm (Urdu نظم) is a major part of the Urdu poetry, that is normally written in rhymed verse and also in modern prose style poems.

While writing Nazm, it is not important to follow any rules as it depends on the writer himself. A Nazm can be long or short and even there are no considerations being taken into account, specifically about its size or rhyming scheme. All the verses written in a Nazm are interlinked together. In simple words, Nazm is a form of a descriptive poetry.

Dekh Kaise Baras Raha Hai Udas Pani..

Dekh Kaise Baras Raha Hai Udas Pani.. { Silan – Gulzar Nazm }

Bas ek hi sur mein ek hi lai pe subh se dekh
Dekh kaise baras raha hai udas pani
Phuhaar ke malmalin dupatte se ud rahe hain
Tamam mousam tapak raha hai

Palak palak ris rahi hai ye kayenat sari
Har ek shai bhig bhig kar
Dekh kaisi bojhal si ho gayi hai

Dimagh ki gili gili sochon se
Bhigi bhigi udas yaadein
Tapak rahi hain

Thake thake se badan mein
Bas dhire dhire
Sanson ka garm duban jal raha hai. !! -Gulzar Nazm

बस एक ही सुर में एक ही लय पे सुबह से देख
देख कैसे बरस रहा है उदास पानी
फुहार के मलमली दुपट्टे से उड़ रहे हैं
तमाम मौसम टपक रहा है

पलक-पलक रिस रही है ये कायनात सारी
हर एक शय भीग-भीग कर
देख कैसी बोझल सी हो गयी है

दिमाग की गीली-गीली सोचों से
भीगी-भीगी उदास यादें
टपक रही हैं

थके-थके से बदन में
बस धीरे-धीरे साँसों का
गरम डुबान चल रहा है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Main Udte Hue Panchhiyon Ko Daraata Hua..

Main Udte Hue Panchhiyon Ko Daraata Hua.. { Waqt 1 – Gulzar Nazm } !

Main udte hue panchhiyon ko daraata hua
Kuchalta hua ghas ki kalghiyan
Giraata hua gardanen in darakhton ki chhupta hua
Jin ke pichhe se
Nikla chala ja raha tha wo sooraj
Taaqub mein tha uske main
Giraftar karne gaya tha use
Jo le ke meri umar ka ek din bhagta ja raha tha. !! -Gulzar Nazm

मैं उड़ते हुए पंछियों को डराता हुआ
कुचलता हुआ घास की कलगियाँ
गिराता हुआ गर्दनें इन दरख्तों की,छुपता हुआ
जिनके पीछे से
निकला चला जा रहा था वह सूरज
तआकुब में था उसके मैं
गिरफ्तार करने गया था उसे
जो ले के मेरी उम्र का एक दिन भागता जा रहा था !! -गुलज़ार नज़्म

 

Dur Sunsan Se Sahil Ke Qarib..

Dur Sunsan Se Sahil Ke Qarib.. { Landscape – Gulzar Nazm } !

Dur sunsan se sahil ke qarib
Ek jawan ped ke pas
Umar ke dard liye, waqt ka matiyala dushaala odhe
Budha sa pam ka ek ped, khada hai kab se
Saikdon salon ki tanhaai ke baad
Jhuk ke kahta hai jawan ped se yaar
Sard sannata hai
Tanhaai hai kuch baat karo. !! -Gulzar Nazm

दूर सुनसान से साहिल के क़रीब
एक जवाँ पेड़ के पास
उम्र के दर्द लिए, वक़्त का मटियाला दुशाला ओढ़े
बूढ़ा सा पाम का इक पेड़, खड़ा है कब से
सैकड़ों सालों की तन्हाई के बाद
झुक के कहता है जवाँ पेड़ से यार
सर्द सन्नाटा है
तन्हाई है कुछ बात करो ” !! -गुलज़ार नज़्म

 

Faza Ye Budhi Lagti Hai..

Faza Ye Budhi Lagti Hai.. { Faza – Gulzar Nazm } !

Faza ye budhi lagti hai
Purana lagta hai makan
Samundaron ke paniyon se nil ab utar chuka
Hawa ke jhonke chhute hain to khurdure se lagte hain
Bujhe hue bahut se tukde aaftab ke
Jo girte hain zameen ki taraf to aisa lagta hai
Ki dant girne lag gaye hain buddhe aasman ke

Faza ye budhi lagti hai
Purana lagta hai makan. !! -Gulzar Nazm

फ़ज़ा ये बूढ़ी लगती है
पुराना लगता है मकाँ
समुंदरों के पानियों से नील अब उतर चुका
हवा के झोंके छूते हैं तो खुरदुरे से लगते हैं
बुझे हुए बहुत से टुकड़े आफ़्ताब के
जो गिरते हैं ज़मीन की तरफ़ तो ऐसा लगता है
कि दाँत गिरने लग गए हैं बुड्ढे आसमान के

फ़ज़ा ये बूढ़ी लगती है
पुराना लगता है मकाँ !! -गुलज़ार नज़्म

 

Siddharth Ki Ek Raat..

Siddharth Ki Ek Raat.. Gulzar Nazm !

Koi patta bhi nahi hilta, na pardon mein hai jumbish
Phir bhi kanon mein bahut tez hawaon ki sada hai

Kitne unche hain ye mehrab mahal ke
Aur mehrabon se uncha wo sitaron se bhara thaal falak ka
Kitna chhota hai mera qad
Farsh par jaise kisi harf se ek nuqta gira ho
Sainkadon samton mein bhatka hua man thahre zara
Dil dhadakta hai to bas daudti tapon ki sada aati hai

Raushni band bhi kar dene se kya hoga andhera ?
Sirf aankhen hi nahi dekh sakengi ye chaugarda, main agar kanon mein kuch thuns bhi lun
Raushni chinta ki to zehn se ab bujh nahi sakti
Khud-kashi ek andhera hai, upaye to nahi
Khidkiyan sari khuli hain to hawa kyun nahi aati ?
Niche sardi hai bahut aur hawa tund hai shayad
Dur darwaze ke bahar khade wo santari donon
Shaam se aag mein bas sukhi hui tahniyon ko jhonk rahe hain

Meri aankhon se wo sukha hua dhancha nahi girta
Jism hi jism to tha, ruh kahan thi us mein
Kodh tha us ko tap-e-diq tha ? na jaane kya tha ?
Ya budhapa hi tha shayad
Pisliyan sukhe hue kekaron ke shakhche jaise
Rath pe jate hue dekha tha
Chatanon se udhar
Apni lathi pe gire ped ki manind khada tha

Phir yaka-yak ye hua
Sarthi rok nahi paya tha munh-zor samay ki tapen
Rath ke pahiye ke tale dekha tadap kar ise thanda hote
Khud-kashi thi ? wo samarpan tha ? wo durghatna thi ?
Kya tha ?

Sabz shadab darakhton ke wajud
Apne mausam mein to bin mange bhi phal dete hain
Sukh jate hain to sab kat ke
Is aag mein hi jhonk diye jate hain

Jaise darwaze pe aamal ke wo donon farishte
Shaam se aag mein bas
Sukhi hui tahniyon ko jhonk rahe hain. !! -Gulzar Nazm

कोई पत्ता भी नहीं हिलता, न पर्दों में है जुम्बिश
फिर भी कानों में बहुत तेज़ हवाओं की सदा है

कितने ऊँचे हैं ये मेहराब महल के
और मेहराबों से ऊँचा वो सितारों से भरा थाल फ़लक का
कितना छोटा है मेरा क़द
फ़र्श पर जैसे किसी हर्फ़ से इक नुक़्ता गिरा हो
सैंकड़ों सम्तों में भटका हआ मन ठहरे ज़रा
दिल धड़कता है तो बस दौड़ती टापों की सदा आती है

रौशनी बंद भी कर देने से क्या होगा अंधेरा ?
सिर्फ़ आँखें ही नहीं देख सकेंगी ये चौगर्दा, मैं अगर कानों में कुछ ठूंस भी लूँ
रौशनी चिंता की तो ज़ेहन से अब बुझ नहीं सकती
ख़ुद-कशी एक अंधेरा है, उपाए तो नहीं
खिड़कियाँ सारी खुली हैं तो हवा क्यूँ नहीं आती ?
नीचे सर्दी है बहुत और हवा तुंद है शायद
दूर दरवाज़े के बाहर खड़े वो संतरी दोनों
शाम से आग में बस सूखी हुई टहनियों को झोंक रहे हैं

मेरी आँखों से वो सूखा हुआ ढाँचा नहीं गिरता
जिस्म ही जिस्म तो था, रूह कहाँ थी उस में
कोढ़ था उस को तप-ए-दिक़ था ? न जाने क्या था ?
या बुढ़ापा ही था शायद
पिसलियाँ सूखे हुए केकरों के शाख़चे जैसे
रथ पे जाते हुए देखा था
चटानों से उधर
अपनी लाठी पे गिरे पेड़ की मानिंद खड़ा था

फिर यका-यक ये हुआ
सारथी, रोक नहीं पाया था, मुँह-ज़ोर समय की टापें
रथ के पहिए के तले देखा तड़प कर इसे ठंडा होते
ख़ुद-कशी थी ? वो समर्पण था ? वो दुर्घटना थी ?
क्या था ?

सब्ज़ शादाब दरख़्तों के वजूद
अपने मौसम में तो बिन माँगे भी फल देते हैं
सूख जाते हैं तो सब काट के
इस आग में ही झोंक दिए जाते हैं

जैसे दरवाज़े पे आमाल के वो दोनों फ़रिश्ते
शाम से आग में बस
सूखी हुई टहनियों को झोंक रहे हैं !! -गुलज़ार नज़्म

 

Dhoop Lage Aakash Pe Jab..

Dhoop Lage Aakash Pe Jab.. Gulzar Nazm !

Dhoop lage aakash pe jab
Din mein chaand nazar aaya tha
Dak se aaya mohr laga
Ek purana sa tera chitthi ka lifafa yaad aaya
Chitthi gum hue to arsa bit chuka
Mohr laga bas matiyala sa
Us ka lifafa rakha hai. !! -Gulzar Nazm

धूप लगे आकाश पे जब
दिन में चाँद नज़र आया था
डाक से आया मोहर लगा
एक पुराना सा तेरा चिट्ठी का लिफ़ाफ़ा याद आया
चिट्ठी गुम हुए तो अर्सा बीत चुका
मोहर लगा बस मटियाला सा
उस का लिफ़ाफ़ा रखा है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Ek Adakar Hun Main..

Ek Adakar Hun Main.. Gulzar Nazm !

Ek adakar hun main
Main adakar hun nan
Jini padti hain kai zindagiyan ek hayati mein mujhe
Mera kirdar badal jata hai har roz nai seat par
Mere haalat badal jate hain
Mera chehra bhi badal jata hai afsana-o-manzar ke mutabiq
Meri aadat badal jati hain
Aur phir dagh nahi chhutte pahni hui poshakon ke
Khasta kirdaron ka kuch chura sa rah jata hai tah mein
Koi nokila sa kirdar guzarta hai ragon se to kharashon
Ke nishan der talak rahte hain dil par
Zindagi se ye uthaye hue kirdar khayali bhi nahi hain ki utar
Jayen wo pankhe ki hawa se
Siyahi rah jati hai sine mein adibon ke likhe jumlon ki
Simin parde pe likhi
Sans leti hui tahrir nazar aata hun
Main adakar hun lekin
Sirf adakar nahi
Waqt ki taswir bhi hun. !! -Gulzar Nazm

एक अदाकार हूँ मैं
मैं अदाकार हूँ नाँ
जीनी पड़ती हैं कई ज़िंदगियाँ एक हयाती में मुझे
मेरा किरदार बदल जाता है हर रोज़ नई सीट पर
मेरे हालात बदल जाते हैं
मेरा चेहरा भी बदल जाता है अफ़्साना-ओ-मंज़र के मुताबिक़
मेरी आदात बदल जाती हैं
और फिर दाग़ नहीं छूटते पहनी हुई पोशाकों के
ख़स्ता किरदारों का कुछ चूरा सा रह जाता है तह में
कोई नोकीला सा किरदार गुज़रता है रगों से तो ख़राशों
के निशाँ देर तलक रहते हैं दिल पर
ज़िंदगी से ये उठाए हुए किरदार ख़याली भी नहीं हैं कि उतर
जाएँ वो पंखे की हवा से
सियाही रह जाती है सीने में अदीबों के लिखे जुमलों की
सीमीं पर्दे पे लिखी
साँस लेती हुई तहरीर नज़र आता हूँ
मैं अदाकार हूँ लेकिन
सिर्फ़ अदाकार नहीं
वक़्त की तस्वीर भी हूँ !! -गुलज़ार नज़्म

 

Aath Hi Billion Umar Zameen Ki Hogi Shayad..

Aath Hi Billion Umar Zameen Ki Hogi Shayad.. Gulzar Nazm !

Aath hi billion umar zameen ki hogi shayad
Aisa hi andaza hai kuch science ka
Char eshaariya billion salon ki umar to bit chuki hai
Kitni der laga di tum ne aane mein
Aur ab mil kar
Kis duniya ki duniya-dari soch rahi ho
Kis mazhab aur zat aur pat ki fikar lagi hai
Aao chalen ab

Tin hi billion sal bache hain. !! -Gulzar Nazm

आठ ही बिलियन उम्र ज़मीं की होगी शायद
ऐसा ही अंदाज़ा है कुछ साइंस का
चार एशारिया बिलियन सालों की उम्र तो बीत चुकी है
कितनी देर लगा दी तुम ने आने में
और अब मिल कर
किस दुनिया की दुनिया-दारी सोच रही हो
किस मज़हब और ज़ात और पात की फ़िक्र लगी है
आओ चलें अब

तीन ही बिलियन साल बचे हैं !! -गुलज़ार नज़्म

 

Char Tinke Utha Ke Jangal Se..

Char Tinke Utha Ke Jangal Se.. { Khana-Ba-Dosh – Gulzar Nazm } !

Char tinke utha ke jangal se
Ek baali anaj ki le kar
Chand qatre bilakte ashkon ke
Chand faqe bujhe hue lab par
Mutthi bhar apni qabr ki mitti
Mutthi bhar aarzuon ka gara
Ek tamir ki, liye hasrat
Tera khana-ba-dosh be-chaara
Shehar mein dar-ba-dar bhatakta hai

Tera kandha mile to sar tekun. !! -Gulzar Nazm

चार तिनके उठा के जंगल से
एक बाली अनाज की ले कर
चंद क़तरे बिलकते अश्कों के
चंद फ़ाक़े बुझे हुए लब पर
मुट्ठी भर अपनी क़ब्र की मिट्टी
मुट्ठी भर आरज़ूओं का गारा
एक तामीर की, लिए हसरत
तेरा ख़ाना-ब-दोश बे-चारा
शहर में दर-ब-दर भटकता है

तेरा कांधा मिले तो सर टेकूँ !! -गुलज़ार नज़्म

 

Shahtut Ki Shakh Pe Baitha Koi..

Shahtut Ki Shakh Pe Baitha Koi.. Gulzar Nazm !

Shahtut ki shakh pe baitha koi
Bunta hai resham ke tage
Lamha lamha khol raha hai
Patta patta bin raha hai
Ek ek sans baja kar sunta hai saudai
Ek ek sans ko khol ke apne tan par liptata jata hai

Apni hi sanson ka qaidi
Resham ka ye shehar ek din
Apne hi tagon mein ghut kar mar jayega !! -Gulzar Nazm

शहतूत की शाख़ पे बैठा कोई
बुनता है रेशम के तागे
लम्हा लम्हा ख़ोल रहा है
पत्ता पत्ता बीन रहा है
एक एक साँस बजा कर सुनता है सौदाई
एक एक साँस को ख़ोल के अपने तन पर लिपटाता जाता है

अपनी ही साँसों का क़ैदी
रेशम का ये शायर एक दिन
अपने ही तागों में घुट कर मर जाएगा !! -गुलज़ार नज़्म