Monday , September 28 2020

Munawwar Rana “Maa” Part 5

1.
Wo ja raha hai ghar se janaza bujurg ka,
Aangan mein ek darkhat purana nahi raha.

वो जा रहा है घर से जनाज़ा बुज़ुर्ग का,
आँगन में एक दरख़्त पुराना नहीं रहा !

2.
Wo to likha ke layi hai kismat mein jagana,
Maa kaise so sakegi ki beta safar mein hai.

वो तो लिखा के लाई है क़िस्मत में जागना,
माँ कैसे सो सकेगी कि बेटा सफ़र में है !

3.
Shahzaade ko ye maloom nahi hai shayad,
Maa nahi janti dastaar ka bosa lena.

शाहज़ादे को ये मालूम नहीं है शायद,
माँ नहीं जानती दस्तार का बोसा लेना !

4.
Aankhon se mangane lage paani wajoo ka hum,
Kagaz pe jab bhi dekh liya Maa likha hua.

आँखों से माँगने लगे पानी वज़ू का हम,
काग़ज़ पे जब भी देख लिया माँ लिखा हुआ !

5.
Abhi to meri jaroorat hai mere bachchon ko,
Bade hue to ye khud intezaam kar lenge.

अभी तो मेरी ज़रूरत है मेरे बच्चों को,
बड़े हुए तो ये ख़ुद इन्त्ज़ाम कर लेंगे !

6.
Main hun mera bachcha hai khilauno ki dukaan hai,
Ab koi mere paas bahana bhi nahi hai.

मैं हूँ मेरा बच्चा है खिलौनों की दुकाँ है,
अब कोई मेरे पास बहाना भी नहीं है !

7.
Aye khuda ! tu fees ke paise ataa kar de mujhe,
Mere bachchon ko bhi University achchi lagi.

ऐ ख़ुदा ! तू फ़ीस के पैसे अता कर दे मुझे,
मेरे बच्चों को भी यूनिवर्सिटी अच्छी लगी !

8.
Bhikh se to bhukh achchi gaon ko waapas chalo,
Shehar mein rehane se ye bachcha bura ho jayega.

भीख से तो भूख अच्छी गाँव को वापस चलो,
शहर में रहने से ये बच्चा बुरा हो जाएगा !

9.
Khilaunon ke liye bachche abhi tak jagte honge,
Tujhe aye muflisi koi bahana dhund lena hai.

खिलौनों के लिए बच्चे अभी तक जागते होंगे,
तुझे ऐ मुफ़्लिसी कोई बहाना ढूँढ लेना है !

10.
Mamata ki aabroo ko bachaaya hai neend ne,
Bachcha Zameen pe so bhi gaya khelte hue.

ममता की आबरू को बचाया है नींद ने,
बच्चा ज़मीं पे सो भी गया खेलते हुए !

11.
Mere bachche naamuraadi mein jawaan bhi ho gaye,
Meri khwaahish sirf baazaaron ki taaqat rah gayi.

मेरे बच्चे नामुरादी में जवाँ भी हो गये,
मेरी ख़्वाहिश सिर्फ़ बाज़ारों को तकती रह गई !

12.
Bachchon ki fees unki kitaabein kalam dawaat,
Meri gareeb aankhon mein school chubh gaya.

बच्चों की फ़ीस उनकी किताबें क़लम दवात,
मेरी ग़रीब आँखों में स्कूल चुभ गया !

13.
Wo samjhate hi nahi hain meri majboori ko,
Isliye bachchon pe gussa bhi nahi aata hai.

वो समझते ही नहीं हैं मेरी मजबूरी को,
इसलिए बच्चों पे ग़ुस्सा भी नहीं आता है !

14.
Kisi bhi rang ko pehchanana mushqil nahi hota,
Mere bachche ki soorat dekh isko jard kehate hain.

किसी भी रंग को पहचानना मुश्किल नहीं होता,
मेरे बच्चे की सूरत देख इसको ज़र्द कहते हैं !

15.
Dhoop se mil gaye hain ped humare ghar ke,
Main samjhati thi ki kaam aayega beta apna.

धूप से मिल गये हैं पेड़ हमारे घर के,
मैं समझती थी कि काम आएगा बेटा अपना !

16.
Phir usko mar ke bhi khud se juda hone nahi deti,
Ye mitti jab kisi ko apna beta maan leti hai.

फिर उसको मर के भी ख़ुद से जुदा होने नहीं देती,
यह मिट्टी जब किसी को अपना बेटा मान लेती है !

17.
Tamaam umar salaamat rahein dua hai meri,
Humare sar pe hain jo haath barkaton wale.

तमाम उम्र सलामत रहें दुआ है मेरी,
हमारे सर पे हैं जो हाथ बरकतों वाले !

18.
Humari muflisi humko izaazat to nahi deti,
Magar hum teri khaatir koi shahzaada bhi dekhenge.

हमारी मुफ़्लिसी हमको इजाज़त तो नहीं देती,
मगर हम तेरी ख़ातिर कोई शहज़ादा भी देखेंगे !

19.
Maa-Baap ki budhi aankhon mein ek fikr-si chaai rehati hai,
Jis kambal mein sab sote the ab wo bhi chhota padta hai.

माँ-बाप की बूढ़ी आँखों में एक फ़िक़्र-सी छाई रहती है,
जिस कम्बल में सब सोते थे अब वो भी छोटा पड़ता है !

20.
Dosti dushmani dono shaamil rahin doston ki nawaazish thi kuch is tarah,
Kaat le shookh bachcha koi jis tarah Maa ke rukhsaar par pyar karte hue.

दोस्ती दुश्मनी दोनों शामिल रहीं दोस्तों की नवाज़िश थी कुछ इस तरह,
काट ले शोख़ बच्चा कोई जिस तरह माँ के रुख़सार पर प्यार करते हुए !

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Rahat Indori Two Line Shayari In Hindi

Rahat Indori Two Line Shayari In Hindi राहत इंदौरी की मशहूर शायरियां हिंदी में : …

Sath Manzil Thi Magar Khauf-O-Khatar Aisa Tha..

Sath Manzil Thi Magar Khauf-O-Khatar Aisa Tha.. Rahat Indori Shayari ! Sath manzil thi magar …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11 − three =