Munawwar Rana “Maa” Part 3

1.
Ab dekhiye kaun aaye janaze ko uthane,
Yun taar to mere sabhi beton ko milega.

अब देखिये कौन आए जनाज़े को उठाने,
यूँ तार तो मेरे सभी बेटों को मिलेगा !

2.
Ab andhera mustaqil rehta hai is dehleez par,
Jo humari muntazir rehti thi aankhen bujh gayi.

अब अँधेरा मुस्तक़िल रहता है इस दहलीज़ पर,
जो हमारी मुन्तज़िर रहती थीं आँखें बुझ गईं !

3.
Agar kisi ki dua mein asar nahi hota,
To mere paas se kyon teer aa ke laut gaya.

अगर किसी की दुआ में असर नहीं होता,
तो मेरे पास से क्यों तीर आ के लौट गया !

4.
Abhi zinda hai Maa meri mujhe kuch bhi nahi hoga,
Main jab ghar se nikalta hun dua bhi saath chalti hai.

अभी ज़िन्दा है माँ मेरी मुझे कु्छ भी नहीं होगा,
मैं जब घर से निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है !

5.
Kahin benoor na ho jayen wo budhi aankhen,
Ghar mein darte the khabar bhi mere bhai dete.

कहीं बे्नूर न हो जायें वो बूढ़ी आँखें,
घर में डरते थे ख़बर भी मेरे भाई देते !

6.
Kya jane kahan hote mere phool-se bachche,
Wirse mein agar maa ki dua bhi nahi milti.

क्या जाने कहाँ होते मेरे फूल-से बच्चे,
विरसे में अगर माँ की दुआ भी नहीं मिलती !

7.
Kuch nahi hoga to aanchal mein chhupa legi mujhe,
Maa kabhi sar pe khuli chhat nahi rahne degi.

कुछ नहीं होगा तो आँचल में छुपा लेगी मुझे,
माँ कभी सर पे खुली छत नहीं रहने देगी !

8.
Kadamon mein laa ke daal di sab nematen magar,
Sauteli Maa ko bachche se nafarat wahi rahi.

क़दमों में ला के डाल दीं सब नेमतें मगर,
सौतेली माँ को बच्चे से नफ़रत वही रही !

9.
Dhnsati hui qabron ki taraf dekh liya tha,
Maa-Baap ke chehron ki taraf dekh liya tha.

धँसती हुई क़ब्रों की तरफ़ देख लिया था,
माँ बाप के चेहरों की तरफ़ देख लिया था !

10.
Koi dukhi ho kabhi kehna nahi padta uss se,
Wo zaroorat ko talabagaar se pehchanta hai.

कोई दुखी हो कभी कहना नहीं पड़ता उससे,
वो ज़रूरत को तलबगार से पहचानता है !

11.
Kisi ko dekh kar rote hue hansna nahi achha,
Ye wo aansoo hain jinse takhte-sultaani palatata hai.

किसी को देख कर रोते हुए हँसना नहीं अच्छा,
ये वो आँसू हैं जिनसे तख़्ते-सुल्तानी पलटता है !

12.
Din bhar ki mashkkat se badan chur hain lekin,
Maa ne mujhe dekha to thakan bhool gayi.

दिन भर की मशक़्क़त से बदन चूर है लेकिन,
माँ ने मुझे देखा तो थकन भूल गई है !

13.
Duayen Maa ki pahunchane ko milon meel jati hain.
Ki jab pardesh jane ke liye beta nikalata hai,

दुआएँ माँ की पहुँचाने को मीलों मील जाती हैं,
कि जब परदेस जाने के लिए बेटा निकलता है !

14.
Diya hai Maa ne mujhe dudh bhi wajoo karke,
Mahaaze-jang se main laut kar na jaunga.

दिया है माँ ने मुझे दूध भी वज़ू करके,
महाज़े-जंग से मैं लौट कर न जाऊँगा !

15.
Khilaunon ki taraf bachhe ko Maa jane nahi deti,
Magar aage khilono ki dukaan jane nahi deti.

खिलौनों की तरफ़ बच्चे को माँ जाने नहीं देती,
मगर आगे खिलौनों की दुकाँ जाने नहीं देती !

16.
Dikhate hai padosi mulk aankhen to dikhane do,
Kahin bachhon ke bose se bhi Maa ka gaal katata hai.

दिखाते हैं पड़ोसी मुल्क आँखें तो दिखाने दो,
कहीं बच्चों के बोसे से भी माँ का गाल कटता है !

17.
Bahan ka pyar Maa ki mamta do chikhti aankhen,
Yahi tohafein the wo jinko main aksar yaad karta tha.

बहन का प्यार माँ की मामता दो चीखती आँखें,
यही तोहफ़े थे वो जिनको मैं अक्सर याद करता था !

18.
Barbaad kar diya humen pardesh ne magar,
Maa sabse keh rahi hai ki beta maje mein hai.

बरबाद कर दिया हमें परदेस ने मगर,
माँ सबसे कह रही है कि बेटा मज़े में है !

19.
Badi bechaaragi se lauti baaraat taqte hain,
Bahadur ho ke bhi majboor hote hain dulhan wale.

बड़ी बेचारगी से लौटती बारात तकते हैं,
बहादुर हो के भी मजबूर होते हैं दुल्हन वाले !

20.
Khane ki cheezein Maa ne jo bheji hain gaon se,
Baasi bhi ho gayi hain to lazzat wahi rahi.

खाने की चीज़ें माँ ने जो भेजी हैं गाँव से,
बासी भी हो गई हैं तो लज़्ज़त वही रही !

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Kahin To Gard Ude Ya Kahin Ghubar Dikhe..

Kahin To Gard Ude Ya Kahin Ghubar Dikhe.. Gulzar Poetry ! Kahin to gard ude …

Sahma Sahma Dara Sa Rahta Hai..

Sahma Sahma Dara Sa Rahta Hai.. Gulzar Poetry ! Sahma sahma dara sa rahta hai, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × three =