Tuesday , September 22 2020

Munawwar Rana “Maa” Part 2

1.
Gale milne ko aapas mein duayein roz aati hain,
Abhi masjid ke darwaze pe maayen roz aati hain.

गले मिलने को आपस में दुआयें रोज़ आती हैं,
अभी मस्जिद के दरवाज़े पे माएँ रोज़ आती हैं !

2.
Kabhi-kabhi mujhe yun bhi azaan bulaati hai,
Shareer bachche ko jis tarah Maa bulaati hai.

कभी-कभी मुझे यूँ भी अज़ाँ बुलाती है,
शरीर बच्चे को जिस तरह माँ बुलाती है !

3.
Kisi ko ghar mila hisse mein ya koi dukaan aayi,
Main ghar mein sab se chhota tha mere hisse mein Maa aayi.

किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकाँ आई,
मैं घर में सब से छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई !

4.
Aye andhere ! dekh le munh tera kala ho gaya,
Maa ne aankhen khol di ghar mein ujala ho gaya.

ऐ अँधेरे ! देख ले मुँह तेरा काला हो गया,
माँ ने आँखें खोल दीं घर में उजाला हो गया !

5.
Is tarah mere gunahon ko wo dho deti hai,
Maa bahut gusse mein hoti hai to ro deti hai.

इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है,
माँ बहुत ग़ुस्से में होती है तो रो देती है !

6.
Meri khwaahish hai ki main phir se farishta ho jaun,
Maa se is tarah lipat jaun ki bachcha ho jaun.

मेरी ख़्वाहिश है कि मैं फिर से फ़रिश्ता हो जाऊँ,
माँ से इस तरह लिपट जाऊँ कि बच्चा हो जाऊँ !

7.
Mera khuloos to purab ke gaaon jaisa hai,
Sulooq duniya ka sauteli Maaon jaisa hai.

मेरा खुलूस तो पूरब के गाँव जैसा है,
सुलूक दुनिया का सौतेली माओं जैसा है !

8.
Roshni deti hui sab laltenen bujh gayi,
Khat nahi aaya jo beton ka to Maayen bujh gayi.

रौशनी देती हुई सब लालटेनें बुझ गईं,
ख़त नहीं आया जो बेटों का तो माएँ बुझ गईं !

9.
Wo maila sa boseeda sa aanchal nahi dekha,
Barason huye humne koi pipal nahi dekha.

वो मैला-सा बोसीदा-सा आँचल नहीं देखा,
बरसों हुए हमने कोई पीपल नहीं देखा !

10.
Kayi batein mohabbat sabko buniyadi batati hai,
Jo pardadi batati thi wahi dadi batati hai.

कई बातें मुहब्बत सबको बुनियादी बताती है,
जो परदादी बताती थी वही दादी बताती है !

11.
Haadson ki gard se khud ko bachane ke liye,
Maa ! hum apne sath bas teri dua le jayenge.

हादसों की गर्द से ख़ुद को बचाने के लिए,
माँ ! हम अपने साथ बस तेरी दुआ ले जायेंगे !

12.
Hawa udaye liye ja rahi hai har chaadar,
Purane log sabhi inteqal karne lage.

हवा उड़ाए लिए जा रही है हर चादर,
पुराने लोग सभी इन्तेक़ाल करने लगे !

13.
Aye khuda ! phool-se bachchon ki hifaazat karna,
Muflisi chaah rahi hai mere ghar mein rahna.

ऐ ख़ुदा ! फूल-से बच्चों की हिफ़ाज़त करना,
मुफ़लिसी चाह रही है मेरे घर में रहना !

14.
Humen hareefon ki tadaad kyon batate ho,
Humare saath bhi beta jawan rehta hai.

हमें हरीफ़ों की तादाद क्यों बताते हो,
हमारे साथ भी बेटा जवान रहता है !

15.
Khud ko is bhid mein tanha nahi hone denge,
Maa tujhe hum abhi budha nahi hone denge.

ख़ुद को इस भीड़ में तन्हा नहीं होने देंगे,
माँ तुझे हम अभी बूढ़ा नहीं होने देंगे !

16.
Jab bhi dekha mere kirdaar pe dhabba koi,
Der tak baith ke tanhai mein roya koi.

जब भी देखा मेरे किरदार पे धब्बा कोई,
देर तक बैठ के तन्हाई में रोया कोई !

17.
Khuda kare ki ummidon ke hath pile hon,
Abhi talak to guzari hai iddaton ki tarah.

ख़ुदा करे कि उम्मीदों के हाथ पीले हों,
अभी तलक तो गुज़ारी है इद्दतों की तरह !

18.
Ghar ki dehleez pe roshan hain wo bujhti aankhein,
Mujhko mat rok mujhe laut ke ghar jana hai.

घर की दहलीज़ पे रौशन हैं वो बुझती आँखें,
मुझको मत रोक मुझे लौट के घर जाना है !

19.
Yahin rahunga kahin umar bhar na jaunga,
Zameen Maa hai ise chhod kar na jaunga.

यहीं रहूँगा कहीं उम्र भर न जाउँगा,
ज़मीन माँ है इसे छोड़ कर न जाऊँगा !

20.
Station se waapas aa kar budhi aankhen sochti hain,
Pattey dehaati rahte hain phal shehri ho jate hain.

स्टेशन से वापस आकर बूढ़ी आँखें सोचती हैं,
पत्ते देहाती रहते हैं फल शहरी हो जाते हैं !

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen..

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen.. Gulzar Poetry ! Zikr aaye to mere …

Phoolon Ki Tarah Lab Khol Kabhi..

Phoolon Ki Tarah Lab Khol Kabhi.. Gulzar Poetry ! Phoolon ki tarah lab khol kabhi, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eight − 6 =