Tuesday , September 29 2020

Abhi Maujood Hai Is Gaon Ki Mitti Mein Khuddari

1.
Abhi maujood hai is gaon ki mitti mein khuddari,
Abhi bewa ki gairat se mahajan haar jata hai.

अभी मौजूद है इस गाँव की मिट्टी में ख़ुद्दारी,
अभी बेवा की ग़ैरत से महाजन हार जाता है !

2.
Maa ki mamta ghane badalon ki tarah sar pe saya kiye sath chalti rahi,
Ek bachcha kitaabein liye hath mein khamoshi se sadak paar karte hue.

माँ की ममता घने बादलों की तरह सर पे साया किए साथ चलती रही,
एक बच्चा किताबें लिए हाथ में ख़ामुशी से सड़क पार करते हुए !

3.
Dukh bugurgon ne kaafi uthaye magar mera bachpan bahut hi suhana raha,
Umar bhar dhoop mein ped jalte rahe apni shaakhe samardaar karte hue.

दुख बुज़ुर्गों ने काफ़ी उठाए मगर मेरा बचपन बहुत ही सुहाना रहा,
उम्र भर धूप में पेड़ जलते रहे अपनी शाख़ें-समरदार करते हुए !

4.
Chalo mana ki shahnaai masarat ki nishani hai,
Magar wo shakhs jiski aa ke beti baith jati hai.

चलो माना कि शहनाई मसर्रत की निशानी है,
मगर वो शख़्स जिसकी आ के बेटी बैठ जाती है !

5.
Maloom nahi kaise jaroorat nikal aayi,
Sar kholte hue ghar se sharafat nikal aayi.

मालूम नहीं कैसे ज़रूरत निकल आई,
सर खोले हुए घर से शराफ़त निकल आई !

6.
Ismein bachchon ki jali laashon ki tasvirein hain,
Dekhna hath se akhbaar na girne paye.

इसमें बच्चों की जली लाशों की तस्वीरें हैं,
देखना हाथ से अख़बार न गिरने पाये !

7.
Odhe hue badan pe gareebi chale gaye,
Bahano ko rota chhod ke bhai chale gaye.

ओढ़े हुए बदन पे ग़रीबी चले गये,
बहनों को रोता छोड़ के भाई चले गये !

8.
Kisi budhe ki laathi chhin gayi hai,
Wo dekho ik janaja jaa raha hai.

किसी बूढ़े की लाठी छिन गई है,
वो देखो एक जनाज़ा जा रहा है !

9.
Aangan ki taksim ka kissa,
Mein jaanu ya baba jane.

आँगन की तक़सीम का क़िस्सा,
मैं जानूँ या बाबा जानें !

10.
Humari cheekhti aankhon ne jalte shehar dekhe hain.
Bure lagte hain ab kisse humein Bhai-Bahan wale.

हमारी चीखती आँखों ने जलते शहर देखे हैं,
बुरे लगते हैं अब क़िस्से हमें भाई-बहन वाले !

11.
Isliye maine bujurgon ki zameene chhod di,
Mera ghar jis din basega tera ghar gir jayega.

इसलिए मैंने बुज़ुर्गों की ज़मीनें छोड़ दीं,
मेरा घर जिस दिन बसेगा तेरा घर गिर जाएगा !

12.
Bachpan mein kisi baat pe hum ruth gaye the,
Us din se isi shehar mein hain ghar nahi jate.

बचपन में किसी बात पे हम रूठ गये थे,
उस दिन से इसी शहर में हैं घर नहीं जाते !

13.
Bichhad ke tujh se teri yaad bhi nahi aayi,
Humare kaam ye aulaad bhi nahi aayi.

बिछड़ के तुझ से तेरी याद भी नहीं आई,
हमारे काम ये औलाद भी नहीं आई !

14.
Mujhko har haal mein bkhshega ujala apna,
Chand rishte mein nahi lagta hai mama apna.

मुझको हर हाल में बख़्शेगा उजाला अपना,
चाँद रिश्ते में नहीं लगता है मामा अपना !

15.
Main narm mitti hun tum raund kar gujar jaao,
Ki mere naaz to bas kujagar uthata hai.

मैं नर्म मिट्टी हूँ तुम रौंद कर गुज़र जाओ,
कि मेरे नाज़ तो बस क़ूज़ागर उठाता है !

16.
Masaayal ne humein budha kya hai waqt se pahale,
Gharelu uljhane aksar jawani chhin leti hain.

मसायल नें हमें बूढ़ा किया है वक़्त से पहले,
घरेलू उलझनें अक्सर जवानी छीन लेती हैं !

17.
Uchhale-khelte bachpan mein beta dhundti hogi,
Tabhi to dekh kar pote ko dadi muskurati hai.

उछलते-खेलते बचपन में बेटा ढूँढती होगी,
तभी तो देख कर पोते को दादी मुस्कुराती है !

18.
Kuch khilaune kabhi aangan mein dikhaai dete,
Kash hum bhi kisi bachche ko mithaai dete.

कुछ खिलौने कभी आँगन में दिखाई देते,
काश हम भी किसी बच्चे को मिठाई देते !

19.
Daulat se mohabbat to nahi thi mujhe lekin,
Bachchon ne khilaunon ki taraf dekh liya tha.

दौलत से मुहब्बत तो नहीं थी मुझे लेकिन,
बच्चों ने खिलौनों की तरफ़ देख लिया था !

20.
Jism par mere bahut shffaaf kapde the magar,
Dhul mitti mein aata beta bahut achcha laga.

जिस्म पर मेरे बहुत शफ़्फ़ाफ़ कपड़े थे मगर,
धूल मिट्टी में आता बेटा बहुत अच्छा लगा !

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Main Kaenat Mein Sayyaron Mein Bhatakta Tha..

Main Kaenat Mein Sayyaron Mein Bhatakta Tha.. Gulzar Nazm ! Main kaenat mein sayyaron mein …

Dhundlai Hui Sham Thi..

Dhundlai Hui Sham Thi.. { Hirasat – Gulzar Nazm } ! Dhundlai hui sham thi …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

10 + 6 =