Motivational Shayari

Khol De Pankh Mere Kehta Hai Parinda Abhi Aur Udaan Baki Hai

Khol de pankh mere kehta hai parinda

 

Khol de pankh mere kehta hai parinda abhi aur udaan baki hai,
Zameen nahi hai manzil meri abhi pura aasman baki hai,
Lahron ki khamoshi ko samandar ki bebasi mat samjh aye nadan,
Jitni gehrai andar hai bahar utna tufan baki hai. !!

खोल दे पंख मेरे कहता है परिंदा अभी और उड़ान बाकी है,
जमीं नहीं है मंजिल मेरी अभी पूरा आसमान बाकी है,
लहरों की ख़ामोशी को समंदर की बेबसी मत समझ ऐ नादाँ,
जितनी गहराई अन्दर है बाहर उतना तूफ़ान बाकी है !!

-Parinda Shayari Collection