Wednesday , September 30 2020

Muddat Hui Hai Yaar Ko Mehman Kiye Hue

Muddat hui hai yaar ko mehman kiye hue,
Josh-e-qadah se bazm charaghan kiye hue.

Karta hun jama phir jigar-e-lakht-lakht ko,
Arsa hua hai dawat-e-mizhgan kiye hue.

Phir waz-e-ehtiyat se rukne laga hai dam,
Barson hue hain chaak gareban kiye hue.

Phir garm-nala-ha-e-sharar-bar hai nafas,
Muddat hui hai sair-e-charaghan kiye hue.

Phir pursish-e-jarahat-e-dil ko chala hai ishq,
Saman-e-sad-hazar namak-dan kiye hue.

Phir bhar raha hun khama-e-mizhgan ba-khun-e-dil,
Saz-e-chaman taraazi-e-daman kiye hue.

Baham-digar hue hain dil o dida phir raqib,
Nazzara o khayal ka saman kiye hue.

Dil phir tawaf-e-ku-e-malamat ko jaye hai,
Pindar ka sanam-kada viran kiye hue.

Phir shauq kar raha hai kharidar ki talab,
Arz-e-mata-e-aql-o-dil-o-jaan kiye hue.

Daude hai phir har ek gul-o-lala par khayal,
Sad-gulistan nigah ka saman kiye hue.

Phir chahta hun nama-e-dildar kholna,
Jaan nazr-e-dil-farebi-e-unwan kiye hue.

Mange hai phir kisi ko lab-e-baam par hawas,
Zulf-e-siyah rukh pe pareshan kiye hue.

Chahe hai phir kisi ko muqabil mein aarzu,
Surme se tez dashna-e-mizhgan kiye hue.

Ek nau-bahaar-e-naz ko take hai phir nigah,
Chehra farogh-e-mai se gulistan kiye hue.

Phir ji mein hai ki dar pe kisi ke pade rahen,
Sar zer-bar-e-minnat-e-darban kiye hue.

Ji dhundta hai phir wahi fursat ki raat din,
Baithe rahen tasawwur-e-jaanan kiye hue.

Ghalib” hamein na chhed ki phir josh-e-ashk se,
Baithe hain hum tahayya-e-tufan kiye hue. !!

मुद्दत हुई है यार को मेहमाँ किए हुए,
जोश-ए-क़दह से बज़्म चराग़ाँ किए हुए !

करता हूँ जमा फिर जिगर-ए-लख़्त-लख़्त को,
अर्सा हुआ है दावत-ए-मिज़्गाँ किए हुए !

फिर वज़-ए-एहतियात से रुकने लगा है दम,
बरसों हुए हैं चाक गरेबाँ किए हुए !

फिर गर्म-नाला-हा-ए-शरर-बार है नफ़स,
मुद्दत हुई है सैर-ए-चराग़ाँ किए हुए !

फिर पुर्सिश-ए-जराहत-ए-दिल को चला है इश्क़,
सामान-ए-सद-हज़ार नमक-दाँ किए हुए !

फिर भर रहा हूँ ख़ामा-ए-मिज़्गाँ ब-ख़ून-ए-दिल,
साज़-ए-चमन तराज़ी-ए-दामाँ किए हुए !

बाहम-दिगर हुए हैं दिल ओ दीदा फिर रक़ीब,
नज़्ज़ारा ओ ख़याल का सामाँ किए हुए !

दिल फिर तवाफ़-ए-कू-ए-मलामत को जाए है,
पिंदार का सनम-कदा वीराँ किए हुए !

फिर शौक़ कर रहा है ख़रीदार की तलब,
अर्ज़-ए-मता-ए-अक़्ल-ओ-दिल-ओ-जाँ किए हुए !

दौड़े है फिर हर एक गुल-ओ-लाला पर ख़याल,
सद-गुलिस्ताँ निगाह का सामाँ किए हुए !

फिर चाहता हूँ नामा-ए-दिलदार खोलना,
जाँ नज़्र-ए-दिल-फ़रेबी-ए-उनवाँ किए हुए !

माँगे है फिर किसी को लब-ए-बाम पर हवस,
ज़ुल्फ़-ए-सियाह रुख़ पे परेशाँ किए हुए !

चाहे है फिर किसी को मुक़ाबिल में आरज़ू,
सुरमे से तेज़ दश्ना-ए-मिज़्गाँ किए हुए !

इक नौ-बहार-ए-नाज़ को ताके है फिर निगाह,
चेहरा फ़रोग़-ए-मय से गुलिस्ताँ किए हुए !

फिर जी में है कि दर पे किसी के पड़े रहें,
सर ज़ेर-बार-ए-मिन्नत-ए-दरबाँ किए हुए !

जी ढूँडता है फिर वही फ़ुर्सत कि रात दिन,
बैठे रहें तसव्वुर-ए-जानाँ किए हुए !

ग़ालिब” हमें न छेड़ कि फिर जोश-ए-अश्क से,
बैठे हैं हम तहय्या-ए-तूफ़ाँ किए हुए !!

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka..

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka.. { Urdu Zaban – Gulzar’s Nazm } Yeh …

Tinka Tinka Kante Tode Sari Raat Katai Ki..

Tinka Tinka Kante Tode Sari Raat Katai Ki.. Gulzar Poetry ! Tinka tinka kante tode …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

12 + 14 =