Wednesday , September 30 2020

Mehfil Shayari

Sisakti Rut Ko Mahakta Gulab Kar Dunga..

Sisakti Rut Ko Mahakta Gulab Kar Dunga.. Rahat Indori Shayari !

Sisakti Rut Ko Mahakta Gulab Kar Dunga

Sisakti rut ko mahakta gulab kar dunga,
Main is bahaar mein sab ka hisaab kar dunga.

Hazaar pardon mein khud ko chhupa ke baith magar,
Tujhe kabhi na kabhi be-naqaab kar dunga.

Mujhe yaqeen hai ki mehfil ki raushni hun main,
Unhein ye khauf ki mehfil kharaab kar dunga.

Mujhe gilaas ke andar hi qaid rakh warna,
Main sare shehar ka pani sharaab kar dunga.

Main intezaar mein hun tu koi sawal to kar,
Yaqeen rakh main tujhe lajawaab kar dunga.

Mahajanon se kaho thoda intezaar karen,
Sharaab-khane se aa kar hisaab kar dunga. !!

सिसकती रुत को महकता गुलाब कर दूँगा,
मैं इस बहार में सब का हिसाब कर दूँगा !

हज़ार पर्दों में ख़ुद को छुपा के बैठ मगर,
तुझे कभी न कभी बे-नक़ाब कर दूँगा !

मुझे यक़ीन है कि महफ़िल की रौशनी हूँ मैं,
उन्हें ये ख़ौफ़ कि महफ़िल ख़राब कर दूँगा !

मुझे गिलास के अंदर ही क़ैद रख वर्ना,
मैं सारे शहर का पानी शराब कर दूँगा !

मैं इंतज़ार में हूँ तू कोई सवाल तो कर,
यक़ीन रख मैं तुझे ला-जवाब कर दूँगा !

महाजनों से कहो थोड़ा इंतज़ार करें,
शराब-ख़ाने से आ कर हिसाब कर दूँगा !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

Us Ke Dushman Hain Bahut Aadmi Achchha Hoga

Us ke dushman hain bahut aadmi achchha hoga,
Wo bhi meri hi tarah shehar mein tanha hoga.

Itna sach bol ki honton ka tabassum na bujhe,
Raushni khatm na kar aage andhera hoga.

Pyas jis nahr se takrai wo banjar nikli,
Jis ko pichhe kahin chhod aaye wo dariya hoga.

Mere bare mein koi raye to hogi us ki,
Us ne mujh ko bhi kabhi tod ke dekha hoga.

Ek mehfil mein kai mehfilen hoti hain sharik,
Jis ko bhi pas se dekhoge akela hoga. !!

उस के दुश्मन हैं बहुत आदमी अच्छा होगा,
वो भी मेरी ही तरह शहर में तन्हा होगा !

इतना सच बोल कि होंटों का तबस्सुम न बुझे,
रौशनी ख़त्म न कर आगे अँधेरा होगा !

प्यास जिस नहर से टकराई वो बंजर निकली,
जिस को पीछे कहीं छोड़ आए वो दरिया होगा !

मेरे बारे में कोई राय तो होगी उस की,
उस ने मुझ को भी कभी तोड़ के देखा होगा !

एक महफ़िल में कई महफ़िलें होती हैं शरीक,
जिस को भी पास से देखोगे अकेला होगा !!

-Nida Fazli Ghazal / Sad Poetry

 

Tanha Tanha Dukh Jhelenge Mahfil Mahfil gayenge

Tanha tanha dukh jhelenge mahfil mahfil gayenge,
Jab tak aansoo pas rahenge tab tak geet sunayenge.

Tum jo socho wo tum jaano hum to apni kahte hain,
Der na karna ghar aane mein warna ghar kho jayenge.

Bachchon ke chhote hathon ko chand sitare chhune do,
Chaar kitaben padh kar ye bhi hum jaise ho jayenge.

Achchhi surat wale sare patthar-dil hon mumkin hai,
Hum to us din raye denge jis din dhokha khayenge.

Kin rahon se safar hai aasan kaun sa rasta mushkil hai,
Hum bhi jab thak kar baithenge auron ko samjhayenge. !!

तन्हा तन्हा दुख झेलेंगे महफ़िल महफ़िल गाएँगे,
जब तक आँसू पास रहेंगे तब तक गीत सुनाएँगे !

तुम जो सोचो वो तुम जानो हम तो अपनी कहते हैं
देर न करना घर आने में वर्ना घर खो जाएँगे !

बच्चों के छोटे हाथों को चाँद सितारे छूने दो,
चार किताबें पढ़ कर ये भी हम जैसे हो जाएँगे !

अच्छी सूरत वाले सारे पत्थर-दिल हों मुमकिन है,
हम तो उस दिन राय देंगे जिस दिन धोखा खाएँगे !

किन राहों से सफ़र है आसाँ कौन सा रस्ता मुश्किल है,
हम भी जब थक कर बैठेंगे औरों को समझाएँगे !!

-Nida Fazli Sad Poetry/Ghazal

 

Connect With Us On Social Pages >>

All Poets Facebook Pic Connect Us On Social

Like Us On Facebook

All Poets Twitter Pic Connect Us On Social

Follow Us On Twitter

All Poets Pinterest Pic Connect Us On Social

Follow Us On Pinterest

All Poets Instagram Pic Connect Us On Social

Follow Us On Instagram

 

Ghair Len Mahfil Mein Bose Jaam Ke

Ghair len mahfil mein bose jaam ke,
Hum rahen yun tishna-lab paigham ke.

Khastagi ka tum se kya shikwa ki ye,
Hathkande hain charkh-e-nili-fam ke.

Khat likhenge garche matlab kuch na ho,
Hum to aashiq hain tumhare naam ke.

Raat pi zamzam pe mai aur subh-dam,
Dhoe dhabbe jama-e-ehram ke.

Dil ko aankhon ne phansaya kya magar,
Ye bhi halqe hain tumhare dam ke.

Shah ke hai ghusl-e-sehhat ki khabar,
Dekhiye kab din phiren hammam ke.

Ishq ne “Ghalib” nikamma kar diya,
Warna hum bhi aadmi the kaam ke. !!

ग़ैर लें महफ़िल में बोसे जाम के,
हम रहें यूँ तिश्ना-लब पैग़ाम के !

ख़स्तगी का तुम से क्या शिकवा कि ये,
हथकण्डे हैं चर्ख़-ए-नीली-फ़ाम के !

ख़त लिखेंगे गरचे मतलब कुछ न हो,
हम तो आशिक़ हैं तुम्हारे नाम के !

रात पी ज़मज़म पे मय और सुब्ह-दम,
धोए धब्बे जामा-ए-एहराम के !

दिल को आँखों ने फँसाया क्या मगर,
ये भी हल्क़े हैं तुम्हारे दाम के !

शाह के है ग़ुस्ल-ए-सेह्हत की ख़बर,
देखिए कब दिन फिरें हम्माम के !

इश्क़ ने “ग़ालिब” निकम्मा कर दिया,
वर्ना हम भी आदमी थे काम के !!

 

Aam Ho Faiz-E-Bahaaran To Maza Aa Jaye..

Aam ho faiz-e-bahaaran to maza aa jaye,
Chaak hon sab ke gareban to maza aa jaye.

Waizo main bhi tumhaari hi tarah masjid mein,
Bech dun daulat-e-iman to maza aa jaye.

Kaisi kaisi hai shab-e-tar yahan chin-ba-jabin,
Subh ek roz ho khandan to maza aa jaye.

Saqiya hai teri mehfil mein khudaon ka hujum,
Mahfil-afroz ho inshan to maza aa jaye. !!

आम हो फ़ैज़-ए-बहाराँ तो मज़ा आ जाए,
चाक हों सब के गरेबाँ तो मज़ा आ जाए !

वाइज़ो मैं भी तुम्हारी ही तरह मस्जिद में,
बेच दूँ दौलत-ए-ईमाँ तो मज़ा आ जाए !

कैसी कैसी है शब-ए-तार यहाँ चीं-ब-जबीं,
सुब्ह इक रोज़ हो ख़ंदाँ तो मज़ा आ जाए !

साक़िया है तिरी महफ़िल में ख़ुदाओं का हुजूम,
महफ़िल-अफ़रोज़ हो इंसाँ तो मज़ा आ जाए !!

Abid Ali Abid All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Ab Ke Tajdid-E-Wafa Ka Nahi Imkan Jaanan..

Ab ke tajdid-e-wafa ka nahi imkan jaanan,
Yaad kya tujh ko dilayen tera paiman jaanan.

Yunhi mausam ki ada dekh ke yaad aaya hai,
Kis qadar jald badal jate hain insan jaanan.

Zindagi teri ata thi so tere naam ki hai,
Hum ne jaise bhi basar ki tera ehsan jaanan.

Dil ye kahta hai ki shayad hai fasurda tu bhi,
Dil ki kya baat karen dil to hai nadan jaanan.

Awwal awwal ki mohabbat ke nashe yaad to kar,
Be-piye bhi tera chehra tha gulistan jaanan.

Aakhir aakhir to ye aalam hai ki ab hosh nahi,
Rag-e-mina sulag utthi ki rag-e-jaan jaanan.

Muddaton se yahi aalam na tawaqqo na umid,
Dil pukare hi chala jata hai jaanan jaanan.

Hum bhi kya sada the hum ne bhi samajh rakkha tha,
Gham-e-dauran se juda hai gham-e-jaanan jaanan.

Ab ke kuchh aisi saji mehfil-e-yaran jaanan,
Sar-ba-zanu hai koi sar-ba-gareban jaanan.

Har koi apni hi aawaz se kanp uthta hai,
Har koi apne hi saye se hirasan jaanan.

Jis ko dekho wahi zanjir-ba-pa lagta hai,
Shehar ka shahr hua dakhil-e-zindan jaanan.

Ab tera zikr bhi shayad hi ghazal mein aaye,
Aur se aur hue dard ke unwan jaanan.

Hum ki ruthi hui rut ko bhi mana lete the,
Hum ne dekha hi na tha mausam-e-hijran jaanan.

Hosh aaya to sabhi khwab the reza reza,
Jaise udte hue auraq-e-pareshan jaanan. !!

अब के तजदीद-ए-वफ़ा का नहीं इम्काँ जानाँ,
याद क्या तुझ को दिलाएँ तेरा पैमाँ जानाँ !

यूँही मौसम की अदा देख के याद आया है,
किस क़दर जल्द बदल जाते हैं इंसाँ जानाँ !

ज़िंदगी तेरी अता थी सो तेरे नाम की है,
हम ने जैसे भी बसर की तेरा एहसाँ जानाँ !

दिल ये कहता है कि शायद है फ़सुर्दा तू भी,
दिल की क्या बात करें दिल तो है नादाँ जानाँ !

अव्वल अव्वल की मोहब्बत के नशे याद तो कर,
बे-पिए भी तेरा चेहरा था गुलिस्ताँ जानाँ !

आख़िर आख़िर तो ये आलम है कि अब होश नहीं,
रग-ए-मीना सुलग उट्ठी कि रग-ए-जाँ जानाँ !

मुद्दतों से यही आलम न तवक़्क़ो न उमीद,
दिल पुकारे ही चला जाता है जानाँ जानाँ !

हम भी क्या सादा थे हम ने भी समझ रक्खा था,
ग़म-ए-दौराँ से जुदा है ग़म-ए-जानाँ जानाँ !

अब के कुछ ऐसी सजी महफ़िल-ए-याराँ जानाँ,
सर-ब-ज़ानू है कोई सर-ब-गरेबाँ जानाँ !

हर कोई अपनी ही आवाज़ से काँप उठता है,
हर कोई अपने ही साए से हिरासाँ जानाँ !

जिस को देखो वही ज़ंजीर-ब-पा लगता है,
शहर का शहर हुआ दाख़िल-ए-ज़िंदाँ जानाँ !

अब तेरा ज़िक्र भी शायद ही ग़ज़ल में आए,
और से और हुए दर्द के उनवाँ जानाँ !

हम कि रूठी हुई रुत को भी मना लेते थे,
हम ने देखा ही न था मौसम-ए-हिज्राँ जानाँ !

होश आया तो सभी ख़्वाब थे रेज़ा रेज़ा,
जैसे उड़ते हुए औराक़-ए-परेशाँ जानाँ !!

-Ahmad Faraz Ghazal / Urdu Poetry

 

Abhi Kuchh Aur Karishme Ghazal Ke Dekhte Hain..

Abhi kuchh aur karishme ghazal ke dekhte hain,
Faraz” ab zara lahja badal ke dekhte hain.

Judaiyan to muqaddar hain phir bhi jaan-e-safar,
Kuchh aur dur zara sath chal ke dekhte hain.

Rah-e-wafa mein harif-e-khiram koi to ho,
So apne aap se aage nikal ke dekhte hain.

Tu samne hai to phir kyun yaqin nahi aata,
Ye bar bar jo aankhon ko mal ke dekhte hain.

Ye kaun log hain maujud teri mehfil mein,
Jo lalachon se tujhe mujh ko jal ke dekhte hain.

Ye qurb kya hai ki yak-jaan hue na dur rahe,
Hazar ek hi qalib mein dhal ke dekhte hain.

Na tujh ko mat hui hai na mujh ko mat hui,
So ab ke donon hi chaalen badal ke dekhte hain.

Ye kaun hai sar-e-sahil ki dubne wale,
Samundaron ki tahon se uchhal ke dekhte hain.

Abhi talak to na kundan hue na rakh hue,
Hum apni aag mein har roz jal ke dekhte hain.

Bahut dinon se nahi hai kuchh us ki khair khabar,
Chalo “Faraz” ku-e-yar chal ke dekhte hain. !!

अभी कुछ और करिश्मे ग़ज़ल के देखते हैं,
फ़राज़” अब ज़रा लहजा बदल के देखते हैं !

जुदाइयाँ तो मुक़द्दर हैं फिर भी जान-ए-सफ़र,
कुछ और दूर ज़रा साथ चल के देखते हैं !

रह-ए-वफ़ा में हरीफ़-ए-ख़िराम कोई तो हो,
सो अपने आप से आगे निकल के देखते हैं !

तू सामने है तो फिर क्यूँ यक़ीं नहीं आता,
ये बार बार जो आँखों को मल के देखते हैं !

ये कौन लोग हैं मौजूद तेरी महफ़िल में,
जो लालचों से तुझे मुझ को जल के देखते हैं !

ये क़ुर्ब क्या है कि यक-जाँ हुए न दूर रहे,
हज़ार एक ही क़ालिब में ढल के देखते हैं !

न तुझ को मात हुई है न मुझ को मात हुई,
सो अब के दोनों ही चालें बदल के देखते हैं !

ये कौन है सर-ए-साहिल कि डूबने वाले,
समुंदरों की तहों से उछल के देखते हैं !

अभी तलक तो न कुंदन हुए न राख हुए,
हम अपनी आग में हर रोज़ जल के देखते हैं !

बहुत दिनों से नहीं है कुछ उस की ख़ैर ख़बर,
चलो “फ़राज़” कू-ए-यार चल के देखते हैं !!

 

Bura Mat Man Itna Hausla Achchha Nahi Lagta..

Bura mat man itna hausla achchha nahi lagta,
Ye uthte baithte zikr-e-wafa achchha nahi lagta.

Jahan le jaana hai le jaye aa kar ek phere mein,
Ki har dam ka taqaza-e-hawa achchha nahi lagta.

Samajh mein kuchh nahi aata samundar jab bulata hai,
Kisi sahil ka koi mashwara achchha nahi lagta.

Jo hona hai so donon jaante hain phir shikayat kya,
Ye be-masraf khaton ka silsila achchha nahi lagta.

Ab aise hone ko baaten to aisi roz hoti hain,
Koi jo dusra bole zara achchha nahi lagta.

Hamesha hans nahi sakte ye to hum bhi samajhte hain,
Har ek mahfil mein munh latka hua achchha nahi lagta. !!

बुरा मत मान इतना हौसला अच्छा नहीं लगता,
ये उठते बैठते ज़िक्र-ए-वफ़ा अच्छा नहीं लगता !

जहाँ ले जाना है ले जाए आ कर एक फेरे में,
कि हर दम का तक़ाज़ा-ए-हवा अच्छा नहीं लगता !

समझ में कुछ नहीं आता समुंदर जब बुलाता है,
किसी साहिल का कोई मशवरा अच्छा नहीं लगता !

जो होना है सो दोनों जानते हैं फिर शिकायत क्या,
ये बे-मसरफ़ ख़तों का सिलसिला अच्छा नहीं लगता !

अब ऐसे होने को बातें तो ऐसी रोज़ होती हैं,
कोई जो दूसरा बोले ज़रा अच्छा नहीं लगता !

हमेशा हँस नहीं सकते ये तो हम भी समझते हैं,
हर एक महफ़िल में मुँह लटका हुआ अच्छा नहीं लगता !!

-Aashufta Changezi Ghazal / Poetry