Manzar Poetry

Aankhon Ke Samne Koi Manzar Naya Na Tha..

Aankhon ke samne koi manzar naya na tha,
Bas wo zara sa fasla baqi raha na tha.

Ab is safar ka silsila shayad hi khatm ho,
Sab apni apni rah len hum ne kaha na tha.

Darwaze aaj band samajhiye suluk ke,
Ye chalne wala dur talak silsila na tha.

Unchi udan ke liye par taulte the hum,
Unchaiyon pe sans ghutegi pata na tha.

Koshish hazar karti rahen tez aandhiyan,
Lekin wo ek patta abhi tak hila na tha.

Sab hi shikar-gah mein the khema-zan magar,
Koi shikar karne ko ab tak utha na tha.

Achchha hua ki gosha-nashini ki ikhtiyar,
Aashufta” aur is ke siwa rasta na tha. !!

आँखों के सामने कोई मंज़र नया न था,
बस वो ज़रा सा फ़ासला बाक़ी रहा न था !

अब इस सफ़र का सिलसिला शायद ही ख़त्म हो,
सब अपनी अपनी राह लें हम ने कहा न था !

दरवाज़े आज बंद समझिए सुलूक के,
ये चलने वाला दूर तलक सिलसिला न था !

ऊँची उड़ान के लिए पर तौलते थे हम,
ऊँचाइयों पे साँस घुटेगी पता न था !

कोशिश हज़ार करती रहें तेज़ आँधियाँ,
लेकिन वो एक पत्ता अभी तक हिला न था !

सब ही शिकार-गाह में थे ख़ेमा-ज़न मगर,
कोई शिकार करने को अब तक उठा न था !

अच्छा हुआ कि गोशा-नशीनी की इख़्तियार,
आशुफ़्ता” और इस के सिवा रास्ता न था !!

 

Bhadkaye Meri Pyas Ko Aksar Teri Aankhen..

Bhadkaye meri pyas ko aksar teri aankhen,
Sahra mera chehra hai samundar teri aankhen.

Phir kaun bhala dad-e-tabassum unhen dega,
Roengi bahut mujh se bichhad kar teri aankhen.

Khali jo hui sham-e-ghariban ki hatheli,
Kya-kya na lutati rahin gauhar teri aankhen.

Bojhal nazar aati hain ba-zahir mujhe lekin,
Khulti hain bahut dil mein utar kar teri aankhen.

Ab tak meri yaadon se mitaye nahi mitta,
Bhigi hui ek sham ka manzar teri aankhen.

Mumkin ho to ek taza ghazal aur bhi kah lun,
Phir odh na len khwab ki chadar teri aankhen.

Main sang-sifat ek hi raste mein khada hun,
Shayad mujhe dekhengi palat kar teri aankhen.

Yun dekhte rahna use achchha nahi “Mohsin“,
Wo kanch ka paikar hai to patthar teri aankhen. !!

भड़काएँ मेरी प्यास को अक्सर तेरी आँखें,
सहरा मेरा चेहरा है समुंदर तेरी आँखें !

फिर कौन भला दाद-ए-तबस्सुम उन्हें देगा,
रोएँगी बहुत मुझ से बिछड़ कर तेरी आँखें !

ख़ाली जो हुई शाम-ए-ग़रीबाँ की हथेली,
क्या-क्या न लुटाती रहीं गौहर तेरी आँखें !

बोझल नज़र आती हैं ब-ज़ाहिर मुझे लेकिन,
खुलती हैं बहुत दिल में उतर कर तेरी आँखें !

अब तक मेरी यादों से मिटाए नहीं मिटता,
भीगी हुई एक शाम का मंज़र तेरी आँखें !

मुमकिन हो तो एक ताज़ा ग़ज़ल और भी कह लूँ,
फिर ओढ़ न लें ख़्वाब की चादर तेरी आँखें !

मैं संग-सिफ़त एक ही रस्ते में खड़ा हूँ,
शायद मुझे देखेंगी पलट कर तेरी आँखें !

यूँ देखते रहना उसे अच्छा नहीं “मोहसिन“,
वो काँच का पैकर है तो पत्थर तेरी आँखें !!