Khuda Poetry

Sans Lete Hue Bhi Darta Hun

Sans lete hue bhi darta hun,
Ye na samjhen ki aah karta hun.

Bahr-e-hasti mein hun misal-e-habab,
Mit hi jata hun jab ubharta hun.

Itni aazadi bhi ghanimat hai,
Sans leta hun baat karta hun.

Shaikh sahab khuda se darte hon,
Main to angrezon hi se darta hun.

Aap kya puchhte hain mera mizaj,
Shukr allah ka hai marta hun.

Ye bada aib mujh mein hai “Akbar“,
Dil mein jo aaye kah guzarta hun. !!

साँस लेते हुए भी डरता हूँ,
ये न समझें कि आह करता हूँ !

बहर-ए-हस्ती में हूँ मिसाल-ए-हबाब,
मिट ही जाता हूँ जब उभरता हूँ !

इतनी आज़ादी भी ग़नीमत है,
साँस लेता हूँ बात करता हूँ !

शैख़ साहब ख़ुदा से डरते हों,
मैं तो अंग्रेज़ों ही से डरता हूँ !

आप क्या पूछते हैं मेरा मिज़ाज,
शुक्र अल्लाह का है मरता हूँ !

ये बड़ा ऐब मुझ में है “अकबर“,
दिल में जो आए कह गुज़रता हूँ !!

 

Ek Bosa Dijiye Mera Iman Lijiye

Ek bosa dijiye mera iman lijiye,
Go but hain aap bahr-e-khuda man lijiye.

Dil le ke kahte hain teri khatir se le liya,
Ulta mujhi pe rakhte hain ehsan lijiye.

Ghairon ko apne hath se hans kar khila diya,
Mujh se kabida ho ke kaha pan lijiye.

Marna qubul hai magar ulfat nahi qubul,
Dil to na dunga aap ko main jaan lijiye.

Hazir hua karunga main akasr huzur mein,
Aaj achchhi tarah se mujhe pahchan lijiye. !!

एक बोसा दीजिए मेरा ईमान लीजिए,
गो बुत हैं आप बहर-ए-ख़ुदा मान लीजिए !

दिल ले के कहते हैं तेरी ख़ातिर से ले लिया,
उल्टा मुझी पे रखते हैं एहसान लीजिए !

ग़ैरों को अपने हाथ से हँस कर खिला दिया,
मुझ से कबीदा हो के कहा पान लीजिए !

मरना क़ुबूल है मगर उल्फ़त नहीं क़ुबूल,
दिल तो न दूँगा आप को मैं जान लीजिए !

हाज़िर हुआ करूँगा मैं अक्सर हुज़ूर में,
आज अच्छी तरह से मुझे पहचान लीजिए !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Gale Lagaen Karen Pyar Tum Ko Eid Ke Din

Gale lagaen karen pyar tum ko eid ke din,
Idhar to aao mere gul-ezar eid ke din.

Ghazab ka husn hai aaraishen qayamat ki,
Ayan hai qudrat-e-parwardigar eid ke din.

Sambhal saki na tabiat kisi tarah meri,
Raha na dil pe mujhe ikhtiyar eid ke din.

Wo sal bhar se kudurat bhari jo thi dil mein,
Wo dur ho gayi bas ek bar eid ke din.

Laga liya unhen sine se josh-e-ulfat mein,
Gharaz ki aa hi gaya mujh ko pyar eid ke din.

Kahin hai naghma-e-bulbul kahin hai khanda-e-gul,
Ayan hai josh-e-shabab-e-bahaar eid ke din.

Siwayyan dudh shakar mewa sab muhayya hai,
Magar ye sab hai mujhe nagawar eid ke din.

Mile agar lab-e-shirin ka tere ek bosa,
To lutf ho mujhe albatta yaar eid ke din. !!

गले लगाएँ करें प्यार तुम को ईद के दिन,
इधर तो आओ मेरे गुल-एज़ार ईद के दिन !

ग़ज़ब का हुस्न है आराइशें क़यामत की,
अयाँ है क़ुदरत-ए-परवरदिगार ईद के दिन !

सँभल सकी न तबीअत किसी तरह मेरी,
रहा न दिल पे मुझे इख़्तियार ईद के दिन !

वो साल भर से कुदूरत भरी जो थी दिल में,
वो दूर हो गई बस एक बार ईद के दिन !

लगा लिया उन्हें सीने से जोश-ए-उल्फ़त में,
ग़रज़ कि आ ही गया मुझ को प्यार ईद के दिन !

कहीं है नग़्मा-ए-बुलबुल कहीं है ख़ंदा-ए-गुल,
अयाँ है जोश-ए-शबाब-ए-बहार ईद के दिन !

सिवय्याँ दूध शकर मेवा सब मुहय्या है,
मगर ये सब है मुझे नागवार ईद के दिन !

मिले अगर लब-ए-शीरीं का तेरे एक बोसा,
तो लुत्फ़ हो मुझे अलबत्ता यार ईद के दिन !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Haya Se Sar Jhuka Lena Ada Se Muskura Dena..

Haya Se Sar Jhuka Lena Ada Se Muskura Dena

Haya se sar jhuka lena ada se muskura dena,
Hasinon ko bhi kitna sahl hai bijli gira dena.

Ye tarz ehsan karne ka tumhin ko zeb deta hai,
Maraz mein mubtala kar ke marizon ko dawa dena.

Balayen lete hain un ki hum un par jaan dete hain,
Ye sauda did ke qabil hai kya lena hai kya dena.

Khuda ki yaad mein mahwiyat-e-dil baadshahi hai,
Magar aasan nahi hai sari duniya ko bhula dena. !!

हया से सर झुका लेना अदा से मुस्कुरा देना,
हसीनों को भी कितना सहल है बिजली गिरा देना !

ये तर्ज़ एहसान करने का तुम्हीं को ज़ेब देता है,
मरज़ में मुब्तला कर के मरीज़ों को दवा देना !

बलाएँ लेते हैं उन की हम उन पर जान देते हैं,
ये सौदा दीद के क़ाबिल है क्या लेना है क्या देना !

ख़ुदा की याद में महवियत-ए-दिल बादशाही है,
मगर आसाँ नहीं है सारी दुनिया को भुला देना !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Falsafi Ko Behas Ke Andar Khuda Milta Nahi

Falsafi ko behas ke andar khuda milta nahi,
Dor ko suljha raha hai aur sira milta nahi.

Marifat khaliq ki aalam mein bahut dushwar hai,
Shehar-e-tan mein jab ki khud apna pata milta nahi.

Ghafilon ke lutf ko kafi hai duniyawi khushi,
Aaqilon ko be-gham-e-uqba maza milta nahi.

Kashti-e-dil ki ilahi bahr-e-hasti mein ho khair,
Nakhuda milte hain lekin ba-khuda milta nahi.

Ghafilon ko kya sunaun dastan-e-ishq-e-yar,
Sunne wale milte hain dard-ashna milta nahi.

Zindagani ka maza milta tha jin ki bazm mein,
Un ki qabron ka bhi ab mujh ko pata milta nahi.

Sirf zahir ho gaya sarmaya-e-zeb-o-safa,
Kya tajjub hai jo baatin ba-safa milta nahi.

Pukhta tabaon par hawadis ka nahi hota asar,
Kohsaron mein nishan-e-naqsh-e-pa milta nahi.

Shaikh-sahib barhaman se lakh barten dosti,
Be-bhajan gaye to mandir se tika milta nahi.

Jis pe dil aaya hai wo shirin-ada milta nahi,
Zindagi hai talkh jine ka maza milta nahi.

Log kahte hain ki bad-nami se bachna chahiye,
Keh do be us ke jawani ka maza milta nahi.

Ahl-e-zahir jis qadar chahen karen bahs-o-jidal,
Main ye samjha hun khudi mein to khuda milta nahi.

Chal base wo din ki yaron se bhari thi anjuman,
Haye afsos aaj surat-ashna milta nahi.

Manzil-e-ishq-o-tawakkul manzil-e-ezaz hai,
Shah sab baste hain yan koi gada milta nahi.

Bar taklifon ka mujh par bar-e-ehsan se hai sahl,
Shukr ki ja hai agar hajat-rawa milta nahi.

Chandni raaten bahaar apni dikhati hain to kya,
Be tere mujh ko to lutf aye mah-laqa milta nahi.

Mani-e-dil ka kare izhaar “Akbar” kis tarah,
Lafz mauzun bahr-e-kashf-e-mudda milta nahi. !!

फ़लसफ़ी को बहस के अंदर ख़ुदा मिलता नहीं,
डोर को सुलझा रहा है और सिरा मिलता नहीं !

मारिफ़त ख़ालिक़ की आलम में बहुत दुश्वार है,
शहर-ए-तन में जब कि ख़ुद अपना पता मिलता नहीं !

ग़ाफ़िलों के लुत्फ़ को काफ़ी है दुनियावी ख़ुशी,
आक़िलों को बे-ग़म-ए-उक़्बा मज़ा मिलता नहीं !

कश्ती-ए-दिल की इलाही बहर-ए-हस्ती में हो ख़ैर,
नाख़ुदा मिलते हैं लेकिन बा-ख़ुदा मिलता नहीं !

ग़ाफ़िलों को क्या सुनाऊँ दास्तान-ए-इश्क़-ए-यार,
सुनने वाले मिलते हैं दर्द-आश्ना मिलता नहीं !

ज़िंदगानी का मज़ा मिलता था जिन की बज़्म में,
उन की क़ब्रों का भी अब मुझ को पता मिलता नहीं !

सिर्फ़ ज़ाहिर हो गया सरमाया-ए-ज़ेब-ओ-सफ़ा,
क्या तअज्जुब है जो बातिन बा-सफ़ा मिलता नहीं !

पुख़्ता तबओं पर हवादिस का नहीं होता असर,
कोहसारों में निशान-ए-नक़्श-ए-पा मिलता नहीं !

शैख़-साहिब बरहमन से लाख बरतें दोस्ती,
बे-भजन गाए तो मंदिर से टिका मिलता नहीं !

जिस पे दिल आया है वो शीरीं-अदा मिलता नहीं,
ज़िंदगी है तल्ख़ जीने का मज़ा मिलता नहीं !

लोग कहते हैं कि बद-नामी से बचना चाहिए,
कह दो बे उस के जवानी का मज़ा मिलता नहीं !

अहल-ए-ज़ाहिर जिस क़दर चाहें करें बहस-ओ-जिदाल,
मैं ये समझा हूँ ख़ुदी में तो ख़ुदा मिलता नहीं !

चल बसे वो दिन कि यारों से भरी थी अंजुमन,
हाए अफ़्सोस आज सूरत-आश्ना मिलता नहीं !

मंज़िल-ए-इशक़-ओ-तवक्कुल मंज़िल-ए-एज़ाज़ है,
शाह सब बस्ते हैं याँ कोई गदा मिलता नहीं !

बार तकलीफों का मुझ पर बार-ए-एहसाँ से है सहल,
शुक्र की जा है अगर हाजत-रवा मिलता नहीं !

चाँदनी रातें बहार अपनी दिखाती हैं तो क्या,
बे तेरे मुझ को तो लुत्फ़ ऐ मह-लक़ा मिलता नहीं !

मानी-ए-दिल का करे इज़हार “अकबर” किस तरह,
लफ़्ज़ मौज़ूँ बहर-ए-कश्फ़-ए-मुद्दआ मिलता नहीं !!

 

Hangama Hai Kyon Barpa Thodi Si Jo Pi Li Hai

Hangama hai kyon barpa thodi si jo pi li hai,
Daka to nahi mara chori to nahi ki hai.

Na-tajraba-kari se waiz ki ye hain baaten,
Is rang ko kya jaane puchho to kabhi pi hai.

Us mai se nahi matlab dil jis se hai begana,
Maqsud hai us mai se dil hi mein jo khinchti hai.

Aye shauq wahi mai pi aye hosh zara so ja,
Mehman-e-nazar is dam ek barq-e-tajalli hai.

Wan dil mein ki sadme do yan ji mein ki sab sah lo,
Un ka bhi ajab dil hai mera bhi ajab ji hai.

Har zarra chamakta hai anwar-e-ilahi se,
Har sans ye kahti hai hum hain to khuda bhi hai.

Sooraj mein lage dhabba fitrat ke karishme hain,
But hum ko kahen kafir allah ki marzi hai.

Talim ka shor aisa tahzib ka ghul itna,
Barakat jo nahi hoti niyyat ki kharabi hai.

Sach kahte hain shaikh “Akbar” hai taat-e-haq lazim,
Han tark-e-mai-o-shahid ye un ki buzurgi hai. !!

हंगामा है क्यूँ बरपा थोड़ी सी जो पी ली है,
डाका तो नहीं मारा चोरी तो नहीं की है !

ना-तजरबा-कारी से वाइज़ की ये हैं बातें,
इस रंग को क्या जाने पूछो तो कभी पी है !

उस मय से नहीं मतलब दिल जिस से है बेगाना,
मक़्सूद है उस मय से दिल ही में जो खिंचती है !

ऐ शौक़ वही मय पी ऐ होश ज़रा सो जा,
मेहमान-ए-नज़र इस दम एक बर्क़-ए-तजल्ली है !

वाँ दिल में कि सदमे दो याँ जी में कि सब सह लो,
उन का भी अजब दिल है मेरा भी अजब जी है !

हर ज़र्रा चमकता है अनवार-ए-इलाही से,
हर साँस ये कहती है हम हैं तो ख़ुदा भी है !

सूरज में लगे धब्बा फ़ितरत के करिश्मे हैं,
बुत हम को कहें काफ़िर अल्लाह की मर्ज़ी है !

तालीम का शोर ऐसा तहज़ीब का ग़ुल इतना,
बरकत जो नहीं होती निय्यत की ख़राबी है !

सच कहते हैं शैख़ “अकबर” है ताअत-ए-हक़ लाज़िम,
हाँ तर्क-ए-मय-ओ-शाहिद ये उन की बुज़ुर्गी है !!

 

Sans Lena Bhi Saza Lagta Hai

Sans lena bhi saza lagta hai,
Ab to marna bhi rawa lagta hai.

Koh-e-gham par se jo dekhun to mujhe,
Dasht aaghosh-e-fana lagta hai.

Sar-e-bazar hai yaron ki talash,
Jo guzarta hai khafa lagta hai.

Mausam-e-gul mein sar-e-shakh-e-gul,
Shoala bhadke to baja lagta hai.

Muskuraata hai jo is aalam mein,
Ba-khuda mujh ko khuda lagta hai.

Itna manus hun sannate se,
Koi bole to bura lagta hai.

Un se mil kar bhi na kafur hua,
Dard ye sab se juda lagta hai.

Nutq ka sath nahi deta zehn,
Shukr karta hun gila lagta hai.

Is qadar tund hai raftar-e-hayat,
Waqt bhi rishta-bapa lagta hai. !!

साँस लेना भी सज़ा लगता है,
अब तो मरना भी रवा लगता है !

कोह-ए-ग़म पर से जो देखूँ तो मुझे,
दश्त आग़ोश-ए-फ़ना लगता है !

सर-ए-बाज़ार है यारों की तलाश,
जो गुज़रता है ख़फ़ा लगता है !

मौसम-ए-गुल में सर-ए-शाख़-ए-गुलाब,
शोला भड़के तो बजा लगता है !

मुस्कुराता है जो इस आलम में,
ब-ख़ुदा मुझ को ख़ुदा लगता है !

इतना मानूस हूँ सन्नाटे से,
कोई बोले तो बुरा लगता है !

उन से मिल कर भी न काफ़ूर हुआ,
दर्द ये सब से जुदा लगता है !

नुत्क़ का साथ नहीं देता ज़ेहन,
शुक्र करता हूँ गिला लगता है !

इस क़दर तुंद है रफ़्तार-ए-हयात,
वक़्त भी रिश्ता-बपा लगता है !!

-Ahmad Nadeem Qasmi Ghazal

 

Na Tha Kuch To Khuda Tha Kuch Na Hota To Khuda Hota

Na tha kuch to khuda tha kuch na hota to khuda hota,
Duboya mujh ko hone ne na hota main to kya hota.

Hua jab gham se yun be-his to gham kya sar ke katne ka,
Na hota gar juda tan se to zanu par dhara hota.

Hui muddat ki “Ghalib” mar gaya par yaad aata hai,
Wo har ek baat par kahna ki yun hota to kya hota. !!

न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता,
डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता !

हुआ जब ग़म से यूँ बे-हिस तो ग़म क्या सर के कटने का,
न होता गर जुदा तन से तो ज़ानू पर धरा होता !

हुई मुद्दत कि “ग़ालिब” मर गया पर याद आता है,
वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता !!

 

Aisa Bana Diya Tujhe Qudrat Khuda Ki Hai..

Aisa bana diya tujhe qudrat khuda ki hai,
Kis husan ka hai husan ada kis ada ki hai.

Chashm-e-siyah-e-yaar se sazish haya ki hai,
Laila ke sath mein ye saheli bala ki hai.

Taswir kyun dikhayen tumhein naam kyun batayen,
Laye hain hum kahin se kisi bewafa ki hai.

Andaz mujh se aur hain dushman se aur dhang,
Pahchan mujh ko apni parai qaza ki hai.

Maghrur kyun hain aap jawani par is qadar,
Ye mere naam ki hai ye meri dua ki hai.

Dushman ke ghar se chal ke dikha do juda juda,
Ye bankpan ki chaal ye naz-o-ada ki hai.

Rah rah ke le rahi hai mere dil mein chutkiyan,
Phisli hui girah tere band-e-qaba ki hai.

Gardan mudi nigah ladi baat kuchh na ki,
Shokhi to khair aap ki tamkin bala ki hai.

Hoti hai roz baada-kashon ki dua qubul,
Aye mohtasib ye shan-e-karimi khuda ki hai.

Jitne gile the un ke wo sab dil se dhul gaye,
Jhepi hui nigah talafi jafa ki hai.

Chhupta hai khun bhi kahin mutthi to kholiye,
Rangat yahi hina ki yahi bu hina ki hai.

Kah do ki be-wazu na chhuye us ko mohtasib,
Botal mein band ruh kisi parsa ki hai.

Main imtihan de ke unhen kyun na mar gaya,
Ab ghair se bhi un ko tamanna wafa ki hai.

Dekho to ja ke hazrat-e-‘Bekhud’ na hun kahin,
Dawat sharab-khane mein ek parsa ki hai. !!

ऐसा बना दिया तुझे क़ुदरत ख़ुदा की है,
किस हुस्न का है हुस्न अदा किस अदा की है !

चश्म-ए-सियाह-ए-यार से साज़िश हया की है,
लैला के साथ में ये सहेली बला की है !

तस्वीर क्यूँ दिखाएँ तुम्हें नाम क्यूँ बताएँ,
लाए हैं हम कहीं से किसी बेवफ़ा की है !

अंदाज़ मुझ से और हैं दुश्मन से और ढंग,
पहचान मुझ को अपनी पराई क़ज़ा की है !

मग़रूर क्यूँ हैं आप जवानी पर इस क़दर,
ये मेरे नाम की है ये मेरी दुआ की है !

दुश्मन के घर से चल के दिखा दो जुदा जुदा,
ये बाँकपन की चाल ये नाज़-ओ-अदा की है !

रह रह के ले रही है मिरे दिल में चुटकियाँ,
फिसली हुई गिरह तिरे बंद-ए-क़बा की है !

गर्दन मुड़ी निगाह लड़ी बात कुछ न की,
शोख़ी तो ख़ैर आप की तम्कीं बला की है !

होती है रोज़ बादा-कशों की दुआ क़ुबूल,
ऐ मोहतसिब ये शान-ए-करीमी ख़ुदा की है !

जितने गिले थे उन के वो सब दिल से धुल गए,
झेपी हुई निगाह तलाफ़ी जफ़ा की है !

छुपता है ख़ून भी कहीं मुट्ठी तो खोलिए,
रंगत यही हिना की यही बू हिना की है !

कह दो कि बे-वज़ू न छुए उस को मोहतसिब,
बोतल में बंद रूह किसी पारसा की है !

मैं इम्तिहान दे के उन्हें क्यूँ न मर गया,
अब ग़ैर से भी उन को तमन्ना वफ़ा की है !

देखो तो जा के हज़रत-ए-‘बेख़ुद’ न हूँ कहीं,
दावत शराब-ख़ाने में इक पारसा की है !! -Bekhud Dehlvi Ghazal

 

Aansuon Se Dhuli Khushi Ki Tarah..

Aansuon se dhuli khushi ki tarah,
Rishte hote hain shayari ki tarah.

Hum khuda ban ke aayenge warna,
Hum se mil jao aadmi ki tarah.

Barf seene ki jaise jaise gali,
Aankh khulti gayi kali ki tarah.

Jab kabhi badlon mein ghirta hai,
Chaand lagta hai aadmi ki tarah.

Kisi rozan kisi dariche se,
Samne aao roshni ki tarah.

Sab nazar ka fareb hai warna,
Koi hota nahi kisi ki tarah.

Khubsurat udaas Khaufzada,
Woh bhi hai biswin sadi ki tarah.

Janta hun ki ek din mujhko,
Wo badal dega diary ki tarah. !!

आंसुओं से धूलि ख़ुशी कि तरह,
रिश्ते होते है शायरी कि तरह !

हम खुदा बन के आयेंगे वरना,
हम से मिल जाओ आदमी कि तरह !

बर्फ सीने कि जैसे-जैसे गली,
आँख खुलती गयी कली कि तरह !

जब कभी बादलों में घिरता हैं,
चाँद लगता है आदमी कि तरह !

किसी रोज़ किसी दरीचे से,
सामने आओ रोशनी कि तरह !

सब नज़र का फरेब है वरना,
कोई होता नहीं किसी कि तरह !

ख़ूबसूरत उदास ख़ौफ़ज़दा,
वो भी है बीसवीं सदी कि तरह !

जानता हूँ कि एक दिन मुझको
वो बदल देगा डायरी की तरह !! -Bashir Badr Ghazal